#भारत की राजनीति

bolkar speaker

भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?

Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:44
आज आपका चलाने की भारत की अर्थव्यवस्था का निजी जाने का कारण लोटन है या सरकार की नीतियां पहले कभी नहीं हुआ था यह 7 महीने 9 महीने से ही मतलब हमने देखा है कि ना लॉकडाउन जैसे भी कुछ है जो चीज बंद हो गया था तो ऐसा नहीं कि साथ 8 महीने से ही हमारे भारत की जो अर्थव्यवस्था में गिरावट आई इससे पहले भी गिरावट आई है तो इसमें प्रॉब्लम कोई जिम्मेदार नहीं दे सकती लॉकडाउन भी एक मतलब जिम्मेदार हम कह सकते हैं कि वह भी एक रिस्पांसिबल है हमारे अर्थव्यवस्था के गिरावट में पहले भी बहुत सारी चीजें हैं जैसे कि भ्रष्टाचार जो करेक्शन हो गया कि लोगों को रिजर्वेशन के नाम पर उसके बाद ऐसी बहुत सारी चीजें जहां पर लोगों को वह मिली नहीं पाता उनको वजह से नौकरी नहीं करते बेरोजगारी हो गया गेम के नियम अच्छी नहीं है कि कोई भी लॉज और कानून नहीं है और कुछ हद तक हम भी इसके जिम्मेदार हैं क्योंकि हम भी हमें भी बहुत बार क्या होता है कि फैसिलिटी होने के बाद में पढ़ाई लिखाई ना करके गलत ट्रक में चले जाते तो आप सोचते कि सिर्फ आप अपने फैमिली को काहे नुकसान करे लेकिन ऐसे बहुत सारे फैमिली में से देखा जाता है तो ऐसे करके फिर से लेकर हम अपने देश की अर्थव्यवस्था को ही गिरावट उसमें लाते हैं तो हम लोग भी कुछ हद तक मतलब इसमें जिम्मेदार है और सरकार भी जिम्मेदार है सिर्फ लॉकडाउन को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते लोग सिर्फ एक हिस्सा है और एक जिम्मेदार और मतलब एक से एक छोटा सा पाठ कह सकते हमारी अर्थव्यवस्था की गिरावट है
Aaj aapaka chalaane kee bhaarat kee arthavyavastha ka nijee jaane ka kaaran lotan hai ya sarakaar kee neetiyaan pahale kabhee nahin hua tha yah 7 maheene 9 maheene se hee matalab hamane dekha hai ki na lokadaun jaise bhee kuchh hai jo cheej band ho gaya tha to aisa nahin ki saath 8 maheene se hee hamaare bhaarat kee jo arthavyavastha mein giraavat aaee isase pahale bhee giraavat aaee hai to isamen problam koee jimmedaar nahin de sakatee lokadaun bhee ek matalab jimmedaar ham kah sakate hain ki vah bhee ek rispaansibal hai hamaare arthavyavastha ke giraavat mein pahale bhee bahut saaree cheejen hain jaise ki bhrashtaachaar jo karekshan ho gaya ki logon ko rijarveshan ke naam par usake baad aisee bahut saaree cheejen jahaan par logon ko vah milee nahin paata unako vajah se naukaree nahin karate berojagaaree ho gaya gem ke niyam achchhee nahin hai ki koee bhee loj aur kaanoon nahin hai aur kuchh had tak ham bhee isake jimmedaar hain kyonki ham bhee hamen bhee bahut baar kya hota hai ki phaisilitee hone ke baad mein padhaee likhaee na karake galat trak mein chale jaate to aap sochate ki sirph aap apane phaimilee ko kaahe nukasaan kare lekin aise bahut saare phaimilee mein se dekha jaata hai to aise karake phir se lekar ham apane desh kee arthavyavastha ko hee giraavat usamen laate hain to ham log bhee kuchh had tak matalab isamen jimmedaar hai aur sarakaar bhee jimmedaar hai sirph lokadaun ko jimmedaar nahin thahara sakate log sirph ek hissa hai aur ek jimmedaar aur matalab ek se ek chhota sa paath kah sakate hamaaree arthavyavastha kee giraavat hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
1:22
देखी मुझे समझ में नहीं आ रहा कि आपने क्वेश्चन किस आधार पर पूछा हुआ है आपको या तो अर्थव्यवस्था की समझ नहीं आया आलोचनात्मक रूप से अपने प्रश्न पूछा हुआ है अब आते हैं मेन क्वेश्चन पर भारत की अर्थव्यवस्था लॉकडाउन के बाद लॉकडाउन में निश्चित तौर पर सभी देशों की अर्थव्यवस्था गिरी थी तो भारत भी उसी का एक भाग था अगर आप पिछले 4 से 5 महीने का लगातार ट्रैक रिकॉर्ड देखें तो भारत का अर्थव्यवस्था का इंडेक्स नापा जाता है वह फॉरेन रिजर्व से नापा जाता है और भारत ने अभी हाल में ही रसिया को भी पीछे कर दिया है इस मामले में तो आप समझ सकते हैं कि चौथे नंबर की जो अर्थव्यवस्था है वह भारत की उम्र के आई है बैंकिंग और एफएमसीजी सेक्टर के जो शेयर थे बहुत नीचे जा रहे थे लेकिन इधर भी लगभग डबल से भी ज्यादा उस पर उछाल देखने को मिला है तो यह कहा जा सकता है एक पॉजिटिव साइन है लगातार हमारे जो रक्षा क्षेत्र में भी हमारी आत्मनिर्भरता भरी है और अभी आपने तेजस और एम का तमाम ऐसी मिसाइलें लगभग 12 से अधिक मसालों का भी परीक्षण करके और तमाम ऐसे कंट्रीज हैं जो कि हमारे देश से इंपोर्ट एक्सपोर्ट को बढ़ाने में इंटरेस्ट ले रहे हैं तो इस तरह से अगर देखा जाए तो इंडिया आत्मनिर्भर भारत की तरफ बढ़ रहा है और साथ में अर्थव्यवस्था भी बहुत तेजी के साथ आगे गुरु कर रही है
Dekhee mujhe samajh mein nahin aa raha ki aapane kveshchan kis aadhaar par poochha hua hai aapako ya to arthavyavastha kee samajh nahin aaya aalochanaatmak roop se apane prashn poochha hua hai ab aate hain men kveshchan par bhaarat kee arthavyavastha lokadaun ke baad lokadaun mein nishchit taur par sabhee deshon kee arthavyavastha giree thee to bhaarat bhee usee ka ek bhaag tha agar aap pichhale 4 se 5 maheene ka lagaataar traik rikord dekhen to bhaarat ka arthavyavastha ka indeks naapa jaata hai vah phoren rijarv se naapa jaata hai aur bhaarat ne abhee haal mein hee rasiya ko bhee peechhe kar diya hai is maamale mein to aap samajh sakate hain ki chauthe nambar kee jo arthavyavastha hai vah bhaarat kee umr ke aaee hai bainking aur ephemaseejee sektar ke jo sheyar the bahut neeche ja rahe the lekin idhar bhee lagabhag dabal se bhee jyaada us par uchhaal dekhane ko mila hai to yah kaha ja sakata hai ek pojitiv sain hai lagaataar hamaare jo raksha kshetr mein bhee hamaaree aatmanirbharata bharee hai aur abhee aapane tejas aur em ka tamaam aisee misailen lagabhag 12 se adhik masaalon ka bhee pareekshan karake aur tamaam aise kantreej hain jo ki hamaare desh se import eksaport ko badhaane mein intarest le rahe hain to is tarah se agar dekha jae to indiya aatmanirbhar bhaarat kee taraph badh raha hai aur saath mein arthavyavastha bhee bahut tejee ke saath aage guru kar rahee hai

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:03
नमस्कार श्रोताओं आसान शब्दों में भारत के अर्थव्यवस्था का कारण लॉन्ग टर्म तो है लेकिन एक प्रकार की सरकार की नीतियां ही थी अगर सरकार थोड़ा ऑन चेंज करके लॉकडाउन को लगाती है थोड़े समय के बाद लगाती ताकि लोग घर पहुंच जाते हैं अपने या पहले से प्लानिंग कर लेते कि ऐसे चला देंगे अपना बिजनेस तो बेहतर रहता क्योंकि इंडिया में पूरे देश में लगा पूरी दुनिया में लगा और ऐसा नहीं है कि सभी की ग्रोथ रेट में कई ऐसी विद्या से वियतनाम देश की - 10 के अंदर अंदर ही रह गई थी - 5 और ऐसी बहुत सारी कंट्रीज एंड छुट्टी है तभी उनकी कमी ज्यादा ज्यादा नहीं गिरी और ऐसा भी नहीं था कि हो ज्यादा ग्लोब राजनीति सरकार की नीति आती है भारतीय अर्थव्यवस्था के नीचे आने का
Namaskaar shrotaon aasaan shabdon mein bhaarat ke arthavyavastha ka kaaran long tarm to hai lekin ek prakaar kee sarakaar kee neetiyaan hee thee agar sarakaar thoda on chenj karake lokadaun ko lagaatee hai thode samay ke baad lagaatee taaki log ghar pahunch jaate hain apane ya pahale se plaaning kar lete ki aise chala denge apana bijanes to behatar rahata kyonki indiya mein poore desh mein laga pooree duniya mein laga aur aisa nahin hai ki sabhee kee groth ret mein kaee aisee vidya se viyatanaam desh kee - 10 ke andar andar hee rah gaee thee - 5 aur aisee bahut saaree kantreej end chhuttee hai tabhee unakee kamee jyaada jyaada nahin giree aur aisa bhee nahin tha ki ho jyaada glob raajaneeti sarakaar kee neeti aatee hai bhaarateey arthavyavastha ke neeche aane ka

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:18
हाल है भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लोग डाउन है यह सरकार की नीतियां दोस्तों यदि देखा जाए वर्तमान समय में भारत की अर्थव्यवस्था जीडीपी यानी कि ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट स्थित का नीचे का जाने का कारण जो दोस्तों और दोनों की दोनों ही चीजें एक लोक डाउन है और दूसरी सरकार की नीतियां दोस्तों जैसा कि सरकार बार-बार दावा कर रही है कि लॉक डाउन की वजह से देश की आर्थिक व्यवस्था है या अर्थव्यवस्था जो भी चीज है वह डाउन गई है जीडीपी जो है वह डाउन गई है वह लोग डाउन की वजह से क्योंकि वह बंद थी इसको जाना तो बोलता परंतु दीपक बार-बार यह भी आरोप लगाया कि सरकार की है उसके वजह से भी देश की अर्थव्यवस्था है वह डाउन जा रही है दोनों का जो है दोस्तों यहां पर लागू होते हैं लोग डाउन भी और सरकार की नीतियां भी क्योंकि आप था कि यदि सरकार की आप कोई मुझे पांच ऐसी नीतियां बता दीजिए जिसकी वजह से सरकार की नीतियों की वजह से ऊंची जा रही हूं बल्कि ऐसी नीतियां मैं आपको बना सकता हूं कि जिनकी वजह से जो अर्थव्यवस्था है वह नीचे जा रहे हैं दो लोग भी प्रभावित कर रहा है कोरोना वायरस के चलते और दूसरा सरकार की नीतियां दोनों कारक जो है भारत की अर्थव्यवस्था को नीचे का जाने का कारण है
Haal hai bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran log daun hai yah sarakaar kee neetiyaan doston yadi dekha jae vartamaan samay mein bhaarat kee arthavyavastha jeedeepee yaanee ki gros domestik prodakt sthit ka neeche ka jaane ka kaaran jo doston aur donon kee donon hee cheejen ek lok daun hai aur doosaree sarakaar kee neetiyaan doston jaisa ki sarakaar baar-baar daava kar rahee hai ki lok daun kee vajah se desh kee aarthik vyavastha hai ya arthavyavastha jo bhee cheej hai vah daun gaee hai jeedeepee jo hai vah daun gaee hai vah log daun kee vajah se kyonki vah band thee isako jaana to bolata parantu deepak baar-baar yah bhee aarop lagaaya ki sarakaar kee hai usake vajah se bhee desh kee arthavyavastha hai vah daun ja rahee hai donon ka jo hai doston yahaan par laagoo hote hain log daun bhee aur sarakaar kee neetiyaan bhee kyonki aap tha ki yadi sarakaar kee aap koee mujhe paanch aisee neetiyaan bata deejie jisakee vajah se sarakaar kee neetiyon kee vajah se oonchee ja rahee hoon balki aisee neetiyaan main aapako bana sakata hoon ki jinakee vajah se jo arthavyavastha hai vah neeche ja rahe hain do log bhee prabhaavit kar raha hai korona vaayaras ke chalate aur doosara sarakaar kee neetiyaan donon kaarak jo hai bhaarat kee arthavyavastha ko neeche ka jaane ka kaaran hai

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:30
कुछ नहीं भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लाख डाउन है या सरकार की नीति है बहुत सारे ऐसे देश हैं वह लॉक डाउन की वजह से प्रभावित हुए हैं लेकिन कल के डेट में चाइना की जो अर्थव्यवस्था इतनी तेजी से उभरी है अगर देखा जाए तो उसकी अर्थव्यवस्था जो है 2.3 परसेंट बढ़ोतरी हुई है तो लॉक डाउन के बाद से तू कहीं ना कहीं देखा जाए हम कहेंगे कि सरकार की जो नीतियां है कि अर्थव्यवस्था नीचे से जा रही है अगर सरकार कुछ अच्छे अर्थव्यवस्था की निर्णायक कदम उठाए तभी कुछ भारत की अर्थव्यवस्था सुधर जाएगी नहीं तो देखा जाएगा चीन ने जिस तरह कैसे कोरोनावायरस में बहुत ज्यादा परेशान हुआ सबसे ज्यादा वही देश मतलब कहां जाएगी वही देश है जो करो ना का जवाब आता कहा जाता है और उसके साथ-साथ प्रभावित होने के बाद भी उसकी अर्थव्यवस्था 2.3 परसेंट सुधरी है मतलब अर्थव्यवस्था उसकी भी परसेंटेज की वृद्धि हुई है तो कहीं ना कहीं देखा जाए तो भारत के लिए भी एक ऐसी सरकार की नीतियां होनी चाहिए जो अर्थव्यवस्था अच्छी तरह सुधार हो सके तो आपका प्रश्न बस यही है कि इलाज डाउन तो असर किया लेकिन अब सरकार की नीति आई है जो अर्थव्यवस्था को नीचे जाने से जाने का कारण बन रही है
Kuchh nahin bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran laakh daun hai ya sarakaar kee neeti hai bahut saare aise desh hain vah lok daun kee vajah se prabhaavit hue hain lekin kal ke det mein chaina kee jo arthavyavastha itanee tejee se ubharee hai agar dekha jae to usakee arthavyavastha jo hai 2.3 parasent badhotaree huee hai to lok daun ke baad se too kaheen na kaheen dekha jae ham kahenge ki sarakaar kee jo neetiyaan hai ki arthavyavastha neeche se ja rahee hai agar sarakaar kuchh achchhe arthavyavastha kee nirnaayak kadam uthae tabhee kuchh bhaarat kee arthavyavastha sudhar jaegee nahin to dekha jaega cheen ne jis tarah kaise koronaavaayaras mein bahut jyaada pareshaan hua sabase jyaada vahee desh matalab kahaan jaegee vahee desh hai jo karo na ka javaab aata kaha jaata hai aur usake saath-saath prabhaavit hone ke baad bhee usakee arthavyavastha 2.3 parasent sudharee hai matalab arthavyavastha usakee bhee parasentej kee vrddhi huee hai to kaheen na kaheen dekha jae to bhaarat ke lie bhee ek aisee sarakaar kee neetiyaan honee chaahie jo arthavyavastha achchhee tarah sudhaar ho sake to aapaka prashn bas yahee hai ki ilaaj daun to asar kiya lekin ab sarakaar kee neeti aaee hai jo arthavyavastha ko neeche jaane se jaane ka kaaran ban rahee hai

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:39
ऑफिस वाले की भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लोग दान है या फिर सरकार की नीतियां तो मोटा मोटी देखा जाए तो भारत की अर्थव्यवस्था पर लॉक डाउन का काफी असर हुआ है इससे पहले हमारी अर्थव्यवस्था करो कर रही थी परंतु जैसे ही लोग डाउन हुआ हमारी एकदम से जो भी अर्थव्यवस्था है वह नीचे आ गई तो मेरा ख्याल है कि इसमें सरकार की नीतियों के नीतियों को ना देखा जाए यह तो लोग डाउन की वजह से हुआ है धन्यवाद
Ophis vaale kee bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran log daan hai ya phir sarakaar kee neetiyaan to mota motee dekha jae to bhaarat kee arthavyavastha par lok daun ka kaaphee asar hua hai isase pahale hamaaree arthavyavastha karo kar rahee thee parantu jaise hee log daun hua hamaaree ekadam se jo bhee arthavyavastha hai vah neeche aa gaee to mera khyaal hai ki isamen sarakaar kee neetiyon ke neetiyon ko na dekha jae yah to log daun kee vajah se hua hai dhanyavaad

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:30
और सुना दो अच्छा पूछा आपने कि भारत की अवस्था का नीचे जाने का लोक डाउन है यह सरकार की नीतियां जो पहले मैं आपको बता दूं कि अर्थव्यवस्था का नीचे आने पर दोनों ही बराबर भरपूर योगदान दिया है इतना लॉकडाउन योगदान दिया है उतना ही सरकार की नीतियों का भी जिम्मेदार मैं यह नहीं कह रहा कि पूरा पूरा जिम्मा सरकार की नीतियों का ऐसा नहीं है जहां इस समय हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सपना था कि 5 ट्रिलियन इकोनामी का वह जहां तक है वह इस समय अभी पूरा होता नहीं दिख रहा है हालांकि लॉकडाउन के बाद जो हमारी जो व्यवस्था है वह तो नीचे गिर गई थी वह धीरे-धीरे ऊपर उठने की कोशिश कर रही हो जाता क्या 2021 के अंत तक सब कुछ पहले ऐसा नॉर्मल होने की संभावना है अर्थव्यवस्था जो हमारे जो हमारी अवस्था थी वह पहले से ही मतलब एक बोलते हैं ना कि की पटरी पर चल रही थी मतलब कभी गिर रही थी कभी उठ रही थी लेकिन लोग डाउन लगने के कारण हो जो पटरी पर चल रही थी वह बिल्कुल ही नीचे आ गई इसका कारण का लॉक डाउनलोड लॉक डाउन में जहां पूरा देश बिल्कुल बंद था वहां पर उस समय कोई व्यक्ति कोई चीज खरीदना भेज सकता था उस समय उस अर्थव्यवस्था को बनाए रखना बहुत ही मुश्किल हो गया था इसी कारण वर्षों से नीचे गिर गया और रही बात सरकार देती होगी तो कई जगह पर सरकार की नीतियां भी ऐसी अच्छी नहीं होती इतनी अच्छी होनी चाहिए कि जिस आपसे जो उनकी अर्थव्यवस्था है वह पड़ जाए तो मैं मेरा मानना है कि देश की अर्थव्यवस्था को नीचे जाने में सरकार की नीतियों का भी हाथ है इस समय देखा जाए तो कुछ ज्यादा लॉकडाउन कभी हाथ रहा है भारत के अंदर से नीचे जाने का
Aur suna do achchha poochha aapane ki bhaarat kee avastha ka neeche jaane ka lok daun hai yah sarakaar kee neetiyaan jo pahale main aapako bata doon ki arthavyavastha ka neeche aane par donon hee baraabar bharapoor yogadaan diya hai itana lokadaun yogadaan diya hai utana hee sarakaar kee neetiyon ka bhee jimmedaar main yah nahin kah raha ki poora poora jimma sarakaar kee neetiyon ka aisa nahin hai jahaan is samay hamaare desh ke pradhaanamantree narendr modee jee ka sapana tha ki 5 triliyan ikonaamee ka vah jahaan tak hai vah is samay abhee poora hota nahin dikh raha hai haalaanki lokadaun ke baad jo hamaaree jo vyavastha hai vah to neeche gir gaee thee vah dheere-dheere oopar uthane kee koshish kar rahee ho jaata kya 2021 ke ant tak sab kuchh pahale aisa normal hone kee sambhaavana hai arthavyavastha jo hamaare jo hamaaree avastha thee vah pahale se hee matalab ek bolate hain na ki kee pataree par chal rahee thee matalab kabhee gir rahee thee kabhee uth rahee thee lekin log daun lagane ke kaaran ho jo pataree par chal rahee thee vah bilkul hee neeche aa gaee isaka kaaran ka lok daunalod lok daun mein jahaan poora desh bilkul band tha vahaan par us samay koee vyakti koee cheej khareedana bhej sakata tha us samay us arthavyavastha ko banae rakhana bahut hee mushkil ho gaya tha isee kaaran varshon se neeche gir gaya aur rahee baat sarakaar detee hogee to kaee jagah par sarakaar kee neetiyaan bhee aisee achchhee nahin hotee itanee achchhee honee chaahie ki jis aapase jo unakee arthavyavastha hai vah pad jae to main mera maanana hai ki desh kee arthavyavastha ko neeche jaane mein sarakaar kee neetiyon ka bhee haath hai is samay dekha jae to kuchh jyaada lokadaun kabhee haath raha hai bhaarat ke andar se neeche jaane ka

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:28
की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लाभ डाउन या सरकार की नीति है और निश्चित तौर पर लॉक डाउन हर क्षेत्र को प्रभावित किया आप देखिए एमएसएमई यानी के मध्यम श्रेणी के उद्योगों के इंफ्रास्ट्रक्चर होती इंडस्ट्रीज होगी रेलवे हो गया एयरपोर्ट टो के साथ बंद पड़े थे और एग्रीकल्चर सेक्टर खुला इसके सिवा जब हमारे यहां प्रोडक्शन ही नहीं हो रहा है हम एक्सपोर्ट इंपोर्ट ही नहीं कर पा रहे हैं हेल्थ सर्विसेज में कुछ चीजें हैं लेकिन उसमें ज्यादा से ज्यादा कंज्यूमर हो रहा है जब हमारा मध्यम उद्योग प्ले मध्यम में 45 परसेंट दीपिका होता योगदान उसी तरह से इंडस्ट्रीज का लगभग 15 20 30 परसेंट होता है 10 परसेंट एग्रीकल्चर सेक्टर का होता है इसके बाद सर्विस सेंटर का होता है तू उसमें ही पूरी अर्थव्यवस्था का चमन आ जाना लेकिन फिर भी भारतीय अर्थव्यवस्था दूसरे देशों की तुलना में इस तरह ना कहीं न कहीं फिट करता है कि हमारी अर्थव्यवस्था काफी मजबूत है आप लोग को सरकार की नीतियों को दोषी दे सकते हो क्योंकि दोष देना आप कहते ना मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है हम भारतीय लोकतंत्र में जिंदा रखते हैं आप बता दें कि एक लाख करोड़ का पैकेज दिया गया छोटे-छोटे इंडस्ट्रीज को उबारने के लिए और कितने लोगों को फ्री राशन बांटे गए छह महीनों तक यह सब्सिडी ₹2 वाला जो वो सोचते हो आप ₹20 में 15 किलो और रुपए किलो वाले को ₹2 में बांट रहे जो ₹10 की सब्सिडी कौन भरता है सेंट्रल गवर्नमेंट भर्ती है इसके अलावा आप जनधन खाते वालों को किसानों के खातों में और बहुत सारी है तो यह पैसा ही नहीं अवस्था से आता जी का कलेक्शन रुक गया था अब दिसंबर में जीएसटी का एक लाख करोड़ से ज्यादा का कलेक्शन हुआ तो कहने वाले सरकार की नीतियां बेस्ट यूरोपीयन कंट्रीज सिर्फ आप चाइना को मत लीजिए चाहे ना तो अपने नागरिकों को बलि का बकरा बना कर मार मार के घरों में बंद बंद करके उनको मार डालना कोई पूछने जा रहा है जो आप यहां सरकार की नीतियों का दुरुपयोग बता रहे हैं तो निश्चित तौर पर हमारी अर्थव्यवस्था है और जो भी नीचे गई है वह इंप्रूवमेंट पर आ जाएगी और आप देखेगा 2021 में अप्रैल मई-जून तक जहां पर ही बैठे नेशन हो जाएगा अभी मैच नेशन इंडिया में सबसे डिलीवर यूरोप में और जो अमेरिका में बहुत पहले हो गया था लेकिन हम दो-तीन दिनों में हमारी बेहतर योजनाएं जो भी उनसे पूछ लीजिए कि ऐसा कहना थोड़ा दुर्भाग्यपूर्ण
Kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran laabh daun ya sarakaar kee neeti hai aur nishchit taur par lok daun har kshetr ko prabhaavit kiya aap dekhie emesemee yaanee ke madhyam shrenee ke udyogon ke imphraastrakchar hotee indastreej hogee relave ho gaya eyaraport to ke saath band pade the aur egreekalchar sektar khula isake siva jab hamaare yahaan prodakshan hee nahin ho raha hai ham eksaport import hee nahin kar pa rahe hain helth sarvisej mein kuchh cheejen hain lekin usamen jyaada se jyaada kanjyoomar ho raha hai jab hamaara madhyam udyog ple madhyam mein 45 parasent deepika hota yogadaan usee tarah se indastreej ka lagabhag 15 20 30 parasent hota hai 10 parasent egreekalchar sektar ka hota hai isake baad sarvis sentar ka hota hai too usamen hee pooree arthavyavastha ka chaman aa jaana lekin phir bhee bhaarateey arthavyavastha doosare deshon kee tulana mein is tarah na kaheen na kaheen phit karata hai ki hamaaree arthavyavastha kaaphee majaboot hai aap log ko sarakaar kee neetiyon ko doshee de sakate ho kyonki dosh dena aap kahate na mera janmasiddh adhikaar hai ham bhaarateey lokatantr mein jinda rakhate hain aap bata den ki ek laakh karod ka paikej diya gaya chhote-chhote indastreej ko ubaarane ke lie aur kitane logon ko phree raashan baante gae chhah maheenon tak yah sabsidee ₹2 vaala jo vo sochate ho aap ₹20 mein 15 kilo aur rupe kilo vaale ko ₹2 mein baant rahe jo ₹10 kee sabsidee kaun bharata hai sentral gavarnament bhartee hai isake alaava aap janadhan khaate vaalon ko kisaanon ke khaaton mein aur bahut saaree hai to yah paisa hee nahin avastha se aata jee ka kalekshan ruk gaya tha ab disambar mein jeeesatee ka ek laakh karod se jyaada ka kalekshan hua to kahane vaale sarakaar kee neetiyaan best yooropeeyan kantreej sirph aap chaina ko mat leejie chaahe na to apane naagarikon ko bali ka bakara bana kar maar maar ke gharon mein band band karake unako maar daalana koee poochhane ja raha hai jo aap yahaan sarakaar kee neetiyon ka durupayog bata rahe hain to nishchit taur par hamaaree arthavyavastha hai aur jo bhee neeche gaee hai vah improovament par aa jaegee aur aap dekhega 2021 mein aprail maee-joon tak jahaan par hee baithe neshan ho jaega abhee maich neshan indiya mein sabase dileevar yoorop mein aur jo amerika mein bahut pahale ho gaya tha lekin ham do-teen dinon mein hamaaree behatar yojanaen jo bhee unase poochh leejie ki aisa kahana thoda durbhaagyapoorn

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:59
नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है यह सरकार की नीतियां फोटोस तो आपके सवाल का उत्तर यह है भारत सरकार की गलत नीतियां और सही अर्थव्यवस्था के मैनेजमेंट की कमी और कई अर्थशास्त्री रायका नजरअंदाज करना देश की सरकार का गलत निर्णय जो नोटबंदी जीएसटी किसानों के काल काले कानून 34 उद्योगपतियों के माध्यम से बैंक से कर्ज लेकर विदेश फरार होना और देश की को सही दिशा से भटकना यह भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka svaagat hai bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran lokadaun hai yah sarakaar kee neetiyaan photos to aapake savaal ka uttar yah hai bhaarat sarakaar kee galat neetiyaan aur sahee arthavyavastha ke mainejament kee kamee aur kaee arthashaastree raayaka najarandaaj karana desh kee sarakaar ka galat nirnay jo notabandee jeeesatee kisaanon ke kaal kaale kaanoon 34 udyogapatiyon ke maadhyam se baink se karj lekar videsh pharaar hona aur desh kee ko sahee disha se bhatakana yah bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण है या सरकार की नीतियों में कुछ कमियां है बात यह हुई है कि लग्न और पूरी दुनिया में चला पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था जीडीपी गिरता गया भारत का भारत में 24% माइनस जीडीपी हो गया भारत की जनसंख्या बहुत बड़ी थी बड़ी अर्थव्यवस्था भी बड़ी लेकिन लगातार कुछ महीने कहां पर भी कुछ भी काम को नहीं हो सका तो अर्थव्यवस्था गिरना चाहे वह तो यही चाहे फिर भी उस से बचे हैं लोग अब जी रहे हैं और आने वाले कल के सपने देख रहे तो सरकार केस में क्या रोल है मैं तो यही बताना चाहूंगा कि 22:00 दुनिया में ऐसे जैसे जो डब्लू एच ओ का आदेश उन पर कम कंपलसरी नहीं है और उन देशों ने इस तरीके से कोई भी इसने में वियतनाम है कि वह है मैंने जो अल्लाह ऐसे छोटे-छोटे लेकिन 22 अगस्त उत्तर कोरिया है उन्होंने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की सूचनाओं का पालन नहीं किया और अपने पारंपरिक तरीके से मतलब उस पर जो पहले है सर्दी खांसी पर जो दवाई देते थे वही जिए और हमेशा की तरह जिस अन्य कई तरीकों के कारण बीमारियों के कारण लोग मरते हुए उतनी ही संख्या में और उन पर पेपर मोर्टालिटी रेट भी नहीं तुम लग नहीं रहा भारत में भी है मोटेल यूटिलिटी रेट ज्यादा नहीं है फिर भी भारत सरकार ने मेमोरी नरेंद्र मोदी जी की नेतृत्व में काम करती है वह बीजेपी सरकार ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की कोई इतना ईमानदारी से कैसे फॉलो किया और अभी कर रहे हैं अरे पूरे राज्य बराबर देश के राज्य सरकारें अभी तू फॉलो कर रही है और बुरा जगत क्यों फॉलो कर रहा है ऐसी क्या वजह हो सकती है और डब्ल्यूएचओ को चलाने वाले यूनो को चलाने वाले हैं दुनिया भर की बैंकिंग प्रणाली को चना लीवर चलाने वाले डॉलर्स निर्माण करने वाले आने वाले जो लोग हैं इनका कितना प्रचंड प्रभाव है पूरी दुनिया पर और उन्होंने निर्माण किए हुए मेडिसिन माफिया हेल्थ माफिया ड्रग माफिया डॉक्टर्स सरकारी पुलिस पुलिस टू के आदेशों से पर चलती है वह अपना कुछ दिमाग नहीं लगा सकती जैसा देश होता है वैसा करना उनका काम होता है उस दिन को पगार मिलता है और हर सरकारी आदमी जो होता है वह सबसे ज्यादा अगर किसी से डरता है तो अपनी नौकरी से नौकरी खो खो जाने से डरता है क्योंकि उसकी सारी जो प्रतिष्ठा और उसका जो पालन पोषण होता है उसके वही पूछा अगर से होता है अगर वह नौकरी नहीं रही तो उसको घर तक के लोग पहचानने को पहचानेंगे भी नहीं ऐसी स्थिति है तो मोदी सरकार को या कांग्रेस की सरकार केंद्र सरकार एवं अंतर्राष्ट्रीय शक्तियों से युक्त कर्ज लेने के कारण ज्यादा करके और वापस फिर कर्ज लेने के लिए इतनी सी गिर जाती है उस पर डिपेंड करता है कि इस तरीके से उसके अर्थव्यवस्था रहेगी और भ्रष्टाचार का भी उसमें महत्वपूर्ण होगा एक मुद्दा होता है तो लोग डाउनलोड सरकारों का जो स्वतंत्रता ना होना सुंदर वीडियो भोजपुरी
Bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran hai ya sarakaar kee neetiyon mein kuchh kamiyaan hai baat yah huee hai ki lagn aur pooree duniya mein chala pooree duniya kee arthavyavastha jeedeepee girata gaya bhaarat ka bhaarat mein 24% mainas jeedeepee ho gaya bhaarat kee janasankhya bahut badee thee badee arthavyavastha bhee badee lekin lagaataar kuchh maheene kahaan par bhee kuchh bhee kaam ko nahin ho saka to arthavyavastha girana chaahe vah to yahee chaahe phir bhee us se bache hain log ab jee rahe hain aur aane vaale kal ke sapane dekh rahe to sarakaar kes mein kya rol hai main to yahee bataana chaahoonga ki 22:00 duniya mein aise jaise jo dabloo ech o ka aadesh un par kam kampalasaree nahin hai aur un deshon ne is tareeke se koee bhee isane mein viyatanaam hai ki vah hai mainne jo allaah aise chhote-chhote lekin 22 agast uttar koriya hai unhonne varld helth orgenaijeshan kee soochanaon ka paalan nahin kiya aur apane paaramparik tareeke se matalab us par jo pahale hai sardee khaansee par jo davaee dete the vahee jie aur hamesha kee tarah jis any kaee tareekon ke kaaran beemaariyon ke kaaran log marate hue utanee hee sankhya mein aur un par pepar mortaalitee ret bhee nahin tum lag nahin raha bhaarat mein bhee hai motel yootilitee ret jyaada nahin hai phir bhee bhaarat sarakaar ne memoree narendr modee jee kee netrtv mein kaam karatee hai vah beejepee sarakaar ne varld helth orgenaijeshan kee koee itana eemaanadaaree se kaise pholo kiya aur abhee kar rahe hain are poore raajy baraabar desh ke raajy sarakaaren abhee too pholo kar rahee hai aur bura jagat kyon pholo kar raha hai aisee kya vajah ho sakatee hai aur dablyooecho ko chalaane vaale yoono ko chalaane vaale hain duniya bhar kee bainking pranaalee ko chana leevar chalaane vaale dolars nirmaan karane vaale aane vaale jo log hain inaka kitana prachand prabhaav hai pooree duniya par aur unhonne nirmaan kie hue medisin maaphiya helth maaphiya drag maaphiya doktars sarakaaree pulis pulis too ke aadeshon se par chalatee hai vah apana kuchh dimaag nahin laga sakatee jaisa desh hota hai vaisa karana unaka kaam hota hai us din ko pagaar milata hai aur har sarakaaree aadamee jo hota hai vah sabase jyaada agar kisee se darata hai to apanee naukaree se naukaree kho kho jaane se darata hai kyonki usakee saaree jo pratishtha aur usaka jo paalan poshan hota hai usake vahee poochha agar se hota hai agar vah naukaree nahin rahee to usako ghar tak ke log pahachaanane ko pahachaanenge bhee nahin aisee sthiti hai to modee sarakaar ko ya kaangres kee sarakaar kendr sarakaar evan antarraashtreey shaktiyon se yukt karj lene ke kaaran jyaada karake aur vaapas phir karj lene ke lie itanee see gir jaatee hai us par dipend karata hai ki is tareeke se usake arthavyavastha rahegee aur bhrashtaachaar ka bhee usamen mahatvapoorn hoga ek mudda hota hai to log daunalod sarakaaron ka jo svatantrata na hona sundar veediyo bhojapuree

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:58
अगर आपको इसका कोई सविस्तार जानकारी चाहिए होगी तो मुझे आप को 10:15 मिनट के लिए जानकारी देना पड़ेगा आपको सामान्य जो न्यूज़पेपर कोशिश करें टीवी न्यूज़ पेपर सोशल मीडिया के माध्यम से अगर आपको जो आप दिखाई को आपको जो दिखाई दे रहा है उस हिसाब से मैं आपको बता देना चाहता हूं लाकड़ौन के कारण ही अर्थव्यवस्था नीचे चली गई है अगर आपको सविस्तार जानकारी चाहिए यह सोशल मीडिया न्यूज़ पेपर या फिर और कोई बात उसी तरह यह सामान्य बताइए लोकल बातें इंटरनेशनल लेवल की बात और बातें और कुछ होती है इसकी जानकारी में आपको अभी भी कम समय में नहीं भेज सकता
Agar aapako isaka koee savistaar jaanakaaree chaahie hogee to mujhe aap ko 10:15 minat ke lie jaanakaaree dena padega aapako saamaany jo nyoozapepar koshish karen teevee nyooz pepar soshal meediya ke maadhyam se agar aapako jo aap dikhaee ko aapako jo dikhaee de raha hai us hisaab se main aapako bata dena chaahata hoon laakadaun ke kaaran hee arthavyavastha neeche chalee gaee hai agar aapako savistaar jaanakaaree chaahie yah soshal meediya nyooz pepar ya phir aur koee baat usee tarah yah saamaany bataie lokal baaten intaraneshanal leval kee baat aur baaten aur kuchh hotee hai isakee jaanakaaree mein aapako abhee bhee kam samay mein nahin bhej sakata

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:10
नमस्कार आपका सवाल है कि भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लोग गांव में या सरकार की नीतियां लेकिन भारत की अर्थव्यवस्था जो नीचे जा रही है जीडीपी नीचे गिर गई है इसका कारण दोनों ही है लॉकडाउन भी है और सरकार की नीतियों की है लेकिन पहली बात तो मोदी जी ने लव टोन बहुत गलत तरीके से लगाया लगाना चाहिए था लेकिन लोगों को उन्होंने जिस तरीके से लागू किया वह तरीका गलत था और दूसरा आप जिस प्रकार की नीतियां अपना रहे हैं जिस तरह से वह बिना सोचे समझे बिना किसी से सलाह मशविरा किए अपनी तानाशाही से जो कानून लागू कर रहे हैं जैसे कि उदाहरण के तौर पर वह किसान कृषि कानून लाए हैं और उसको लागू कर दिया तो यह सब चीजें बहुत गलत है और सरकार की नीतियों की वजह से देश में अर्थव्यवस्था फील हो रही है और देश हमारा उन्नति करने की जगह विकास करने की जगह और नीचे जा रहा है और देश की हालत खराब होती जा रही है बेरोजगारी अर्थव्यवस्था यह सब नीचे गिर गया बेरोजगारी बढ़ती जा रही है लोगों के पास काम धंधे खत्म हो गए हैं यह सब चीजें सरकार की वजह से ही हो रही है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran log gaanv mein ya sarakaar kee neetiyaan lekin bhaarat kee arthavyavastha jo neeche ja rahee hai jeedeepee neeche gir gaee hai isaka kaaran donon hee hai lokadaun bhee hai aur sarakaar kee neetiyon kee hai lekin pahalee baat to modee jee ne lav ton bahut galat tareeke se lagaaya lagaana chaahie tha lekin logon ko unhonne jis tareeke se laagoo kiya vah tareeka galat tha aur doosara aap jis prakaar kee neetiyaan apana rahe hain jis tarah se vah bina soche samajhe bina kisee se salaah mashavira kie apanee taanaashaahee se jo kaanoon laagoo kar rahe hain jaise ki udaaharan ke taur par vah kisaan krshi kaanoon lae hain aur usako laagoo kar diya to yah sab cheejen bahut galat hai aur sarakaar kee neetiyon kee vajah se desh mein arthavyavastha pheel ho rahee hai aur desh hamaara unnati karane kee jagah vikaas karane kee jagah aur neeche ja raha hai aur desh kee haalat kharaab hotee ja rahee hai berojagaaree arthavyavastha yah sab neeche gir gaya berojagaaree badhatee ja rahee hai logon ke paas kaam dhandhe khatm ho gae hain yah sab cheejen sarakaar kee vajah se hee ho rahee hai dhanyavaad

bolkar speaker
भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है या सरकार की नीतियां?Bharat Ki Arthvyavastha Ka Neeche Jane Ka Karan Lockdown Hai Ya Sarkar Ki Neetiyaan
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30
स्वागत है आपका आपका प्रश्न भारत की अर्थव्यवस्था का नीचे जाने का कारण लॉकडाउन है यह सरकार की नीतियां तो फ्रेंड दोनों का ही मिलाजुला असर है और सबसे ज्यादा लॉकडाउन के कारण हुई हमारी अर्थव्यवस्था नीचे हो गई है लॉकडाउन में सब काम धंधे रोजगार मंदिर थे जिससे हमारी अर्थव्यवस्था काफी पिछड़ गई है लेकिन अब धीरे-धीरे अर्थव्यवस्था आगे की ओर बढ़ रही है डॉक्टर की वजह से सब्जी मंडी थी इसलिए अव्यवस्था मारे पीछे हो गई थी धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn bhaarat kee arthavyavastha ka neeche jaane ka kaaran lokadaun hai yah sarakaar kee neetiyaan to phrend donon ka hee milaajula asar hai aur sabase jyaada lokadaun ke kaaran huee hamaaree arthavyavastha neeche ho gaee hai lokadaun mein sab kaam dhandhe rojagaar mandir the jisase hamaaree arthavyavastha kaaphee pichhad gaee hai lekin ab dheere-dheere arthavyavastha aage kee or badh rahee hai doktar kee vajah se sabjee mandee thee isalie avyavastha maare peechhe ho gaee thee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard