#टेक्नोलॉजी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:32
हेलो आज आप का सवाल है कि क्या लॉकडाउन के कारण ही में उपयोग 80% तक घट गया है ऐसा और कौन-कौन से उद्योग व्यवसाय है तू दिखे और जब लॉकडाउन नया-नया मतलब में लागू हुआ था जब मैं पहली बार ऐसा कोरोनावायरस के बारे में पता चला था तू हर एक चीज पूरी तरह से बंद हो गया था हम चार दिवार और घर के अंदर कहते लिमिटेड बाहर जाना एक-दो घंटे के लिए हमारे यहां तो सिर्फ 2 घंटे के लिए बाहर निकलना पड़ता था कैमरन की जो समान आपको लानत सिर्फ और सिर्फ 2 घंटे तक ना ही टहलना ना ही बाहर जाना है से हर जगह दिखे हुआ था जब इंसान ही बाहर नहीं निकल सकता तो इन्वेंट कैसे होंगे तो बहुत हद तक क्या 80% नहीं बल्कि होता ही नहीं था फिर धीरे-धीरे महीने गुजरते गए तब जाकर शादी वगैरा जो भी मैंने यह सब स्टार्ट होने लगा मतलब लोगों को भेजो सजावट करते हैं जो भी मतलब पंडालों जरा बना मौका मिला लेकिन उसमें भी देखिए लिमिटेड लोगी जा सकते थे आसानी के बाराती में हा जितने भी लोगों को बुला सकती लिमिटेड लोग ही सब बाराती में आ सकते हैं तो शादी माहौल में लिमिटेड लोगों का आना सही नहीं लगता कितने लिमिटेड बोला गया किस किसको बुलाएंगे कैसे क्या कैसे चलता रहा था लेकिन अभी अगर आप बाद दिखे तो बहुत कुछ मतलब बदल गया है मतलब सारे अच्छे लोग बाहर जा रहे हैं लोग अगर मतलब सेफ्टीवियर ध्यान में रख रहे हैं और मतलब समझ गया है वह औरत को लेकर चल रहा है और अभिसारी पेंट हो पा रहे हैं तो ऐसे बहुत सारे और भी व्यवसाय हैं जिसमें यह असर देखने के लिए मिला था जैसे कि बाहर के मतलब सब्जी मंडी हमें मतलब जो भी बाहर लोगों से वहां पर जाने के लिए बिल्कुल अलग ही नहीं क्या-क्या था और अगर 2 घंटे 3 घंटे के लिए लाओ किया जाता तो तो बहुत सारी सब्जियां आती थी लेकिन दो-तीन घंटे में उनके सारे तो पिक नहीं पाते थे और जब तक टाइम आता तो दूसरा तीसरा दिन उनको बहुत नुकसान हुआ था बाहर जो रोड साइड में टेडीज या फिर कोई भी खिलाऊंगा या फिर कोई भी कपड़ा गरबे तूने भी अलाव नहीं किया गया था मॉल्स बंद हो गए थे बहुत सारी चीजें बहुत सारा ही तरह से ठप हो गया था बंद हो गया था अब इतने सारे लोगों की वजह से मालूम कि बंद हो गया धीरे-धीरे क्वेश्चन कंट्रोल में है सब चीज मतलब नहीं हो रहा है आशा करते हैं कि जल्द से जल्द जैसा पहले था मतलब ऐसे ही सब चीज हो जाए
Helo aaj aap ka savaal hai ki kya lokadaun ke kaaran hee mein upayog 80% tak ghat gaya hai aisa aur kaun-kaun se udyog vyavasaay hai too dikhe aur jab lokadaun naya-naya matalab mein laagoo hua tha jab main pahalee baar aisa koronaavaayaras ke baare mein pata chala tha too har ek cheej pooree tarah se band ho gaya tha ham chaar divaar aur ghar ke andar kahate limited baahar jaana ek-do ghante ke lie hamaare yahaan to sirph 2 ghante ke lie baahar nikalana padata tha kaimaran kee jo samaan aapako laanat sirph aur sirph 2 ghante tak na hee tahalana na hee baahar jaana hai se har jagah dikhe hua tha jab insaan hee baahar nahin nikal sakata to invent kaise honge to bahut had tak kya 80% nahin balki hota hee nahin tha phir dheere-dheere maheene gujarate gae tab jaakar shaadee vagaira jo bhee mainne yah sab staart hone laga matalab logon ko bhejo sajaavat karate hain jo bhee matalab pandaalon jara bana mauka mila lekin usamen bhee dekhie limited logee ja sakate the aasaanee ke baaraatee mein ha jitane bhee logon ko bula sakatee limited log hee sab baaraatee mein aa sakate hain to shaadee maahaul mein limited logon ka aana sahee nahin lagata kitane limited bola gaya kis kisako bulaenge kaise kya kaise chalata raha tha lekin abhee agar aap baad dikhe to bahut kuchh matalab badal gaya hai matalab saare achchhe log baahar ja rahe hain log agar matalab sephteeviyar dhyaan mein rakh rahe hain aur matalab samajh gaya hai vah aurat ko lekar chal raha hai aur abhisaaree pent ho pa rahe hain to aise bahut saare aur bhee vyavasaay hain jisamen yah asar dekhane ke lie mila tha jaise ki baahar ke matalab sabjee mandee hamen matalab jo bhee baahar logon se vahaan par jaane ke lie bilkul alag hee nahin kya-kya tha aur agar 2 ghante 3 ghante ke lie lao kiya jaata to to bahut saaree sabjiyaan aatee thee lekin do-teen ghante mein unake saare to pik nahin paate the aur jab tak taim aata to doosara teesara din unako bahut nukasaan hua tha baahar jo rod said mein tedeej ya phir koee bhee khilaoonga ya phir koee bhee kapada garabe toone bhee alaav nahin kiya gaya tha mols band ho gae the bahut saaree cheejen bahut saara hee tarah se thap ho gaya tha band ho gaya tha ab itane saare logon kee vajah se maaloom ki band ho gaya dheere-dheere kveshchan kantrol mein hai sab cheej matalab nahin ho raha hai aasha karate hain ki jald se jald jaisa pahale tha matalab aise hee sab cheej ho jae

और जवाब सुनें

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:25
नमस्ते आप का सवाल है क्या लॉकडाउन के कारण इवेंट उद्योग 80% तक घट गया है दिखती प्रचंड क्या 95% तक इवेंट घट गया था लेकिन अब जाकर धीरे-धीरे सिचुएशन कामों में आ रहा है क्योंकि अब जब आपको सोसाइटी में आदमी का मिलना जुलना हो रहा हो तब तो इवेंट्स होते हैं किसी का शादी हो किसी का सालगिरह हो कोई फंक्शन हो तो उसके लिए एक आदमी का दूसरे आदमी से समाज का एक समाज से दूसरे समाज से मिलना जरूरी होता है तू अभी जिस तरह से 2020 की सिचुएशन थी तो सारा समाज में आदमी मिल रहे थे एक दूसरे से ना पर्सनल इवेंट होता कैसे 20% तक कमी बता रहे हैं 95% तक कम हो गया था इवेंट उद्योग चाहे वह शादी से जुड़ा हुआ हो चाहे मैनेजमेंट से जुड़ा हुआ इवेंट हो लेकिन हां अब धीरे-धीरे काबू में आ रहा है और ऑनलाइन हीं बैंड का सबसे ज्यादा करो ना के टाइम बेनिफिट ऑनलाइन स्टडी हो चाहे ऑनलाइन किसी कंपटीशन का तैयारी हो तो ऐसा इवेंट जो ऑनलाइन हो रहा है उसका भी चलती है और ऐसे तो दिक्कत है
Namaste aap ka savaal hai kya lokadaun ke kaaran ivent udyog 80% tak ghat gaya hai dikhatee prachand kya 95% tak ivent ghat gaya tha lekin ab jaakar dheere-dheere sichueshan kaamon mein aa raha hai kyonki ab jab aapako sosaitee mein aadamee ka milana julana ho raha ho tab to ivents hote hain kisee ka shaadee ho kisee ka saalagirah ho koee phankshan ho to usake lie ek aadamee ka doosare aadamee se samaaj ka ek samaaj se doosare samaaj se milana jarooree hota hai too abhee jis tarah se 2020 kee sichueshan thee to saara samaaj mein aadamee mil rahe the ek doosare se na parsanal ivent hota kaise 20% tak kamee bata rahe hain 95% tak kam ho gaya tha ivent udyog chaahe vah shaadee se juda hua ho chaahe mainejament se juda hua ivent ho lekin haan ab dheere-dheere kaaboo mein aa raha hai aur onalain heen baind ka sabase jyaada karo na ke taim beniphit onalain stadee ho chaahe onalain kisee kampateeshan ka taiyaaree ho to aisa ivent jo onalain ho raha hai usaka bhee chalatee hai aur aise to dikkat hai

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:45
नमस्कार आपका प्रश्न है क्या लोग काम के कारण एवं जोड़ते हो 80% तक घट गया है ऐसे और कौन-कौन से होते हो गया व्यवस्थाएं हैं तो आपको बता दें जी हां काफी ज्यादा इंपैक्ट आया है इवेंट इंडस्ट्री को सबसे ज्यादा दर्द है कहो तो जो इंपैक्ट आया वह होटल मस्ती के ऊपर आया जो टूरिज्म इंडस्ट्री है वह पूरी तरह तबाह हो गई अब हालांकि धीरे धीरे को घर से बाहर निकलना शुरू हुए हैं कुछ लोग आउटिंग करने भी जा रहे हैं तो अब जाकर यहां पर जो कमी आई थी अब उसकी भरपाई धीरे-धीरे उन्हें शुरू हुई है लेकिन काफी वक्त लग जाएगा चीजों को पटरियों पर आते हुए आप ही करा इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai kya log kaam ke kaaran evan jodate ho 80% tak ghat gaya hai aise aur kaun-kaun se hote ho gaya vyavasthaen hain to aapako bata den jee haan kaaphee jyaada impaikt aaya hai ivent indastree ko sabase jyaada dard hai kaho to jo impaikt aaya vah hotal mastee ke oopar aaya jo toorijm indastree hai vah pooree tarah tabaah ho gaee ab haalaanki dheere dheere ko ghar se baahar nikalana shuroo hue hain kuchh log aauting karane bhee ja rahe hain to ab jaakar yahaan par jo kamee aaee thee ab usakee bharapaee dheere-dheere unhen shuroo huee hai lekin kaaphee vakt lag jaega cheejon ko patariyon par aate hue aap hee kara is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
1:49
)]}' [['wrb.fr','MkEWBc',null,

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इवेंट उद्योग क्या होते है, उद्योग का अर्थ क्या है
  • बाजार खुलने के बाद क्या व्यापार पुरानी रफ्तार से दौड़ सकेगा,अर्थव्यवस्था पहले से ही खपत घटने से मंदी की चपेट में , लॉकडाउन के कारण इवेंट उद्योग
URL copied to clipboard