#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

भाषा का जीवन में क्या महत्त्व है?

Bhasha Ka Jeevan Mein Kya Mahatv Hai
Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
1:34
प्रश्न है की भाषा का जीवन में क्या महत्व है लिखिए भाषा विचारों को व्यक्त करने का एक प्रमुख साधन है भाषा विचारों को आसानी से और अच्छे से व्यक्त कर सकती हैं और साथ ही इसकी सहायता से हम काफी विशेष समाज यह देश के लोग अपने मनोगत भाव अथवा विचार एक दूसरे पर प्रकट करते हैं दुनिया में हजारों प्रकार की भाषाएं बोली जाती है हर व्यक्ति बचपन से ही अपनी मातृभाषा या देश की भाषा से तो परिचित होता है लेकिन दूसरी यह समाज की भाषा से नहीं छोड़ पाता भाषा विज्ञान के जानकारों ने यूं तो भाषा की विभिन्न वर्ग स्थापित करके उनमें से प्रत्येक के अलग-अलग शाखाएं बनाए हैं हमारी हिंदी भाषा भाषा विज्ञान की दृष्टि से भारतीय आर्य शाखा की एक भाषा है ब्रजभाषा अवधी आधी इसकी उप भाषाएं हैं 55 बोली जाने वाले अनेक भाषाओं में बहुत कुछ सामने होता है मानव समाज के साथ ही भाषा का भी बराबर विकास होता इसी विकास के कारण भाषा में सदा परिवर्तन होता रहता है सामान्यतः भाषा को वैचारिक आदान-प्रदान का माध्यम कहते हैं और यह बेहद जरूरी भी है इसके बिना इसका महत्व हमें आसानी से समझ आ जाता है जब हम सामने वाले की बात स्पष्ट रूप से समझ नहीं पाते जब तक वह भाषा का प्रयोग नहीं करता है तब तक हम यह नहीं समझ पाते कि उसके कहने का क्या उद्देश्य है वह क्या कहना चाहता है इसीलिए हमारे जीवन में जितना सांस लेना महत्वपूर्ण हो गया है उतना ही भाषा को सीखना महत्वपूर्ण है धन्यवाद
Prashn hai kee bhaasha ka jeevan mein kya mahatv hai likhie bhaasha vichaaron ko vyakt karane ka ek pramukh saadhan hai bhaasha vichaaron ko aasaanee se aur achchhe se vyakt kar sakatee hain aur saath hee isakee sahaayata se ham kaaphee vishesh samaaj yah desh ke log apane manogat bhaav athava vichaar ek doosare par prakat karate hain duniya mein hajaaron prakaar kee bhaashaen bolee jaatee hai har vyakti bachapan se hee apanee maatrbhaasha ya desh kee bhaasha se to parichit hota hai lekin doosaree yah samaaj kee bhaasha se nahin chhod paata bhaasha vigyaan ke jaanakaaron ne yoon to bhaasha kee vibhinn varg sthaapit karake unamen se pratyek ke alag-alag shaakhaen banae hain hamaaree hindee bhaasha bhaasha vigyaan kee drshti se bhaarateey aary shaakha kee ek bhaasha hai brajabhaasha avadhee aadhee isakee up bhaashaen hain 55 bolee jaane vaale anek bhaashaon mein bahut kuchh saamane hota hai maanav samaaj ke saath hee bhaasha ka bhee baraabar vikaas hota isee vikaas ke kaaran bhaasha mein sada parivartan hota rahata hai saamaanyatah bhaasha ko vaichaarik aadaan-pradaan ka maadhyam kahate hain aur yah behad jarooree bhee hai isake bina isaka mahatv hamen aasaanee se samajh aa jaata hai jab ham saamane vaale kee baat spasht roop se samajh nahin paate jab tak vah bhaasha ka prayog nahin karata hai tab tak ham yah nahin samajh paate ki usake kahane ka kya uddeshy hai vah kya kahana chaahata hai iseelie hamaare jeevan mein jitana saans lena mahatvapoorn ho gaya hai utana hee bhaasha ko seekhana mahatvapoorn hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भाषा का जीवन में क्या महत्त्व है?Bhasha Ka Jeevan Mein Kya Mahatv Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:21
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है भाषा का जीवन में क्या महत्व है मित्र भाषा का जीवन में बहुत अधिक महत्व है क्योंकि आपको अपने मन की बात दूसरों तक पहुंचाने के लिए भाषा की आवश्यकता होगी अब भाषा तीन प्रकार की है लिखित मौखिक और संकेत आपका इन तीनों में से कोई एक या यूं कहें कि यह तीनों ही भाषाएं आपको आनी चाहिए कम से कम मौखिक तो आपको आनी ही चाहिए क्योंकि जब तक आप अपने मन की बात दूसरों तक नहीं पहुंचा सकते तब तक भाषा का संचार नहीं हो सकता और भाषा भी बहुत ही ज्यादा आवश्यक भी है अगर मान लिया आपको किसी से कुछ कहना है और आपको कल शाम के देख भाषा आती है तो सांकेतिक भाषा आप को आती है पर जरूरी नहीं कि सामने वाला भी उस भाषा अच्छी प्रकार से समझ सके इसीलिए व्यक्ति को जीवन में तीनों भाषाओं का आना मुख्य रूप से लिखित और मौखिक का तो आना ही आवश्यक है उसके बिना हम अपने विचारों को दूसरों के सामने सही रूप से प्रकट नहीं कर सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai bhaasha ka jeevan mein kya mahatv hai mitr bhaasha ka jeevan mein bahut adhik mahatv hai kyonki aapako apane man kee baat doosaron tak pahunchaane ke lie bhaasha kee aavashyakata hogee ab bhaasha teen prakaar kee hai likhit maukhik aur sanket aapaka in teenon mein se koee ek ya yoon kahen ki yah teenon hee bhaashaen aapako aanee chaahie kam se kam maukhik to aapako aanee hee chaahie kyonki jab tak aap apane man kee baat doosaron tak nahin pahuncha sakate tab tak bhaasha ka sanchaar nahin ho sakata aur bhaasha bhee bahut hee jyaada aavashyak bhee hai agar maan liya aapako kisee se kuchh kahana hai aur aapako kal shaam ke dekh bhaasha aatee hai to saanketik bhaasha aap ko aatee hai par jarooree nahin ki saamane vaala bhee us bhaasha achchhee prakaar se samajh sake iseelie vyakti ko jeevan mein teenon bhaashaon ka aana mukhy roop se likhit aur maukhik ka to aana hee aavashyak hai usake bina ham apane vichaaron ko doosaron ke saamane sahee roop se prakat nahin kar sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
भाषा का जीवन में क्या महत्त्व है?Bhasha Ka Jeevan Mein Kya Mahatv Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:34
मानव की भाषा का मानव जीवन में उसके उत्थान और पतन में सर्वाधिक महत्व है एक मानव की सभ्यता शालीनता उसके शिष्टाचार उसके व्यवहार उसके परिवार का माहौल यहां तक इसकी समाज की कंडीशन शादी सभी उसकी भाषा होती है क्योंकि एक भाषा ही उसे सब्जी बनाती है शालीन बनाती है और चित्र बनाती है लोकप्रिय बनाती है पर एक भाषा योग वशिष्ठ और घृणित और निकम्मा और नेगेटिव पीयूष का शो करती है इसलिए भाषा किस को अच्छी तरह से पकड़ करनी चाहिए सुंदर शब्द चयन करने चाहिए और उसको जितना हो सट्टा मधुर शालीनता पूर्ण बनाएं वही आपकी लोकप्रियता का वही आपके यशस्वी जीवन का आधार बनेगी वही आपको समाज में कामयाबी दिलाएगी और वही आपको परिजनों ने हितकारी प्रमाणित करेगी वही आपके सपनों को पूर्ण करेगी इसलिए अपनी भाषा को संयमित करें साली मनाए मथुर शब्दों से युक्त करें सिर्फ शब्दों से युक्त करें
Maanav kee bhaasha ka maanav jeevan mein usake utthaan aur patan mein sarvaadhik mahatv hai ek maanav kee sabhyata shaaleenata usake shishtaachaar usake vyavahaar usake parivaar ka maahaul yahaan tak isakee samaaj kee kandeeshan shaadee sabhee usakee bhaasha hotee hai kyonki ek bhaasha hee use sabjee banaatee hai shaaleen banaatee hai aur chitr banaatee hai lokapriy banaatee hai par ek bhaasha yog vashishth aur ghrnit aur nikamma aur negetiv peeyoosh ka sho karatee hai isalie bhaasha kis ko achchhee tarah se pakad karanee chaahie sundar shabd chayan karane chaahie aur usako jitana ho satta madhur shaaleenata poorn banaen vahee aapakee lokapriyata ka vahee aapake yashasvee jeevan ka aadhaar banegee vahee aapako samaaj mein kaamayaabee dilaegee aur vahee aapako parijanon ne hitakaaree pramaanit karegee vahee aapake sapanon ko poorn karegee isalie apanee bhaasha ko sanyamit karen saalee manae mathur shabdon se yukt karen sirph shabdon se yukt karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भाषा का जीवन में क्या महत्त्व है भाषा का जीवन में महत्त्व
URL copied to clipboard