#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?

Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:50
हेलो एवरीवन तो आज आप का सवाल है कि क्या आजकल बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं तो देखें और ज्यादा आ जाती है तो मैं नहीं बोलूंगी लेकिन देखिए जो चीजें बदलती रहती है जैसे टाइम बदलता है तू हर चीजें सिस्टम तौर-तरीके विचारों में परिवर्तन आता है अधिक पहले जमाने में मतलब दादी जी के जमाने में लड़कियां मतलब बहुत ही कम बाहर निकलती थी पढ़ाई लिखाई बहुत ही कम करते थे आस-पास ही कहीं किसी स्कूल में वह भी लिमिटेड पर आए थे लेकिन आज देखी वह डिमांड करती है फ्रीडम उन्हें भी चाहिए कि वह भी पढ़ना लिखना चाहती है दूर-दूर तक जहां भी नौकरी मिलेगी अलग स्टेट अलग कंट्री में क्यों ना मिले तब भी वह काम करना चाहते हैं तो फ्रीडम इस हिसाब से अगर कहा जाए तो उसको सुबह चाहते आजादी मिले वह भी आजकल के जैसा समय है आजकल के जैसे तौर-तरीके उसमें जीना और वैसे रहना बहुत जरूरी होता है क्योंकि आपका पहला जैसा सोच पढ़ने लिखने नहीं बाहर निकलने नहीं देंगे तो इस तरह से आपका बच्चा टाइम कुछ सीख पाए गाना ही कुछ समझ पाएगा ना इन लोगों से डर कर पाएगा जब आप तो कभी ऐसे भीड़ महफिल में अपने बच्चों को लेकर जाएंगे कुछ भी समझ नहीं आता क्या हो रहा है क्या नहीं यह क्या चीज है बदलाव आया नहीं क्योंकि आप उनको कभी अच्छे से आजादी से फ्रीडम से रहने नहीं तो आजादी का मतलब यह नहीं होता कि हां सब चीज उन पर छोड़ देना आपको कोई खबर नहीं है बिल्कुल कोई लेना-देना नहीं जो चीज उनके हक में है जो नहीं करना चाहिए जो चीज करना चाहिए वह करने देना चाहिए और उसमें आपको टच में भी रहना है कि हां कब क्या नहीं है जैसे जनरल इंग्लिश स्कूल कॉलेज में रहते हैं जॉब करते मम्मी-पापा दिन भर में एक दो बार कॉल करते थे इस तरह से पढ़ने लिखने देना चाहिए नौकरी करने देना चाहिए और टच में रहना चाहिए और क्या और कब कर रहे थे उस दिन भर की जानकारी आपको होनी चाहिए
Helo evareevan to aaj aap ka savaal hai ki kya aajakal bachche jyaada aajaadee chaahate hain to dekhen aur jyaada aa jaatee hai to main nahin boloongee lekin dekhie jo cheejen badalatee rahatee hai jaise taim badalata hai too har cheejen sistam taur-tareeke vichaaron mein parivartan aata hai adhik pahale jamaane mein matalab daadee jee ke jamaane mein ladakiyaan matalab bahut hee kam baahar nikalatee thee padhaee likhaee bahut hee kam karate the aas-paas hee kaheen kisee skool mein vah bhee limited par aae the lekin aaj dekhee vah dimaand karatee hai phreedam unhen bhee chaahie ki vah bhee padhana likhana chaahatee hai door-door tak jahaan bhee naukaree milegee alag stet alag kantree mein kyon na mile tab bhee vah kaam karana chaahate hain to phreedam is hisaab se agar kaha jae to usako subah chaahate aajaadee mile vah bhee aajakal ke jaisa samay hai aajakal ke jaise taur-tareeke usamen jeena aur vaise rahana bahut jarooree hota hai kyonki aapaka pahala jaisa soch padhane likhane nahin baahar nikalane nahin denge to is tarah se aapaka bachcha taim kuchh seekh pae gaana hee kuchh samajh paega na in logon se dar kar paega jab aap to kabhee aise bheed mahaphil mein apane bachchon ko lekar jaenge kuchh bhee samajh nahin aata kya ho raha hai kya nahin yah kya cheej hai badalaav aaya nahin kyonki aap unako kabhee achchhe se aajaadee se phreedam se rahane nahin to aajaadee ka matalab yah nahin hota ki haan sab cheej un par chhod dena aapako koee khabar nahin hai bilkul koee lena-dena nahin jo cheej unake hak mein hai jo nahin karana chaahie jo cheej karana chaahie vah karane dena chaahie aur usamen aapako tach mein bhee rahana hai ki haan kab kya nahin hai jaise janaral inglish skool kolej mein rahate hain job karate mammee-paapa din bhar mein ek do baar kol karate the is tarah se padhane likhane dena chaahie naukaree karane dena chaahie aur tach mein rahana chaahie aur kya aur kab kar rahe the us din bhar kee jaanakaaree aapako honee chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
आजकल बच्चे ज्यादा प्रजाति चाहते हैं क्या ऐसा प्रश्न आया हुआ है तो आज के दौर में जो गुजर रहा है और उसमें जो चीज परोसी जा रही है जो सहज प्रचार-प्रसार की टेक्निक प्रणालियां चली हुई है उसे जरूर से बच्चों में होगा वह मैं हूं को बढ़ाता है जो स्वतंत्रता से उसकी परफॉर्म करने की चाहत रखती है तो सबसे बड़ी बात है कि जो मीडिया जगत का प्रसार हुआ है वह ट्रेंस बनता जा रहा है हर एक के पास मोबाइल है और पीछे जो उस समय देखे तो समय टीवी काफी होता था और उसमें भी एक नियंत्रण अनुशासन के रूप में कार्यक्रम चलते थे अब आप स्वच्छंद होते जा रहे हैं और जिसकी वजह से उनके दिमाग की परिकल्पना ए ऊपर उठा रही हैं लेकिन यही कि घाट विषय बन जाता है क्योंकि जो उनके अंदर का आंतरिक एवं अर्ध ज्ञान है जो अपने अंदर की अनुभूति के स्तर को और ऊंची उठाने वाली चीज है जो अपना लिस्ट शुरू हुआ है वह काफी कुछ अभ्यास से रहित हो जाता है क्योंकि परिकल्पना की दृष्टि ज्यादा बढ़ जाती है तो कल्पना हूं मैं और उसके मन के हिसाब से अपने कलेक्टर को रखते हैं तो ठीक भी है यार गलत भी होता है लेकिन फिलहाल इस समय जो बच्चों के अंदर जो भावनाएं यारी हैं वह हर विश्व से सीधा सीधा परिचित होता जा रहा है लेकिन यही तकलीफ की विषय है कि जो हो उनकी उम्र के दराज में जो चीज का ज्ञान होना चाहिए मैं उसी के हिसाब से संस्कारों को देख करके अंगरेज अली फोटो अच्छा है लेकिन उसमें गलत स्वरूप जाता है सो जाती हैं और ऐसे सामग्रियां परोसी जाती है जिससे कि उनके चित्र वीडियो में कुछ अलग एहसास दिलाता है और यह सब चीज एक कल्पना के बीच में और एक संभावित अवस्था के बीच में उन्हें पहले करने की आवश्यकता होनी चाहिए और मां-बाप का गार्डन कान का ध्यान के भजन रहना चाहिए कि वह आजादी
Aajakal bachche jyaada prajaati chaahate hain kya aisa prashn aaya hua hai to aaj ke daur mein jo gujar raha hai aur usamen jo cheej parosee ja rahee hai jo sahaj prachaar-prasaar kee teknik pranaaliyaan chalee huee hai use jaroor se bachchon mein hoga vah main hoon ko badhaata hai jo svatantrata se usakee paraphorm karane kee chaahat rakhatee hai to sabase badee baat hai ki jo meediya jagat ka prasaar hua hai vah trens banata ja raha hai har ek ke paas mobail hai aur peechhe jo us samay dekhe to samay teevee kaaphee hota tha aur usamen bhee ek niyantran anushaasan ke roop mein kaaryakram chalate the ab aap svachchhand hote ja rahe hain aur jisakee vajah se unake dimaag kee parikalpana e oopar utha rahee hain lekin yahee ki ghaat vishay ban jaata hai kyonki jo unake andar ka aantarik evan ardh gyaan hai jo apane andar kee anubhooti ke star ko aur oonchee uthaane vaalee cheej hai jo apana list shuroo hua hai vah kaaphee kuchh abhyaas se rahit ho jaata hai kyonki parikalpana kee drshti jyaada badh jaatee hai to kalpana hoon main aur usake man ke hisaab se apane kalektar ko rakhate hain to theek bhee hai yaar galat bhee hota hai lekin philahaal is samay jo bachchon ke andar jo bhaavanaen yaaree hain vah har vishv se seedha seedha parichit hota ja raha hai lekin yahee takaleeph kee vishay hai ki jo ho unakee umr ke daraaj mein jo cheej ka gyaan hona chaahie main usee ke hisaab se sanskaaron ko dekh karake angarej alee photo achchha hai lekin usamen galat svaroop jaata hai so jaatee hain aur aise saamagriyaan parosee jaatee hai jisase ki unake chitr veediyo mein kuchh alag ehasaas dilaata hai aur yah sab cheej ek kalpana ke beech mein aur ek sambhaavit avastha ke beech mein unhen pahale karane kee aavashyakata honee chaahie aur maan-baap ka gaardan kaan ka dhyaan ke bhajan rahana chaahie ki vah aajaadee

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
1:19
प्रश्न है क्या आजकल बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं देखिए घर में कैद रहना किसी भी व्यक्ति को अच्छा नहीं लगता अगर बच्चों पर हम ज्यादा रोक-टोक लगाते हैं या फिर उन्हें चीजों से मना करते हैं चाहे वह उनके अच्छे के लिए हो या फिर बुरे के लिए वह तूने वह चीजें पसंद नहीं आती और आजकल तो हर व्यक्ति खासकर कि बच्चे अपना एक प्राइवेट स्पेस चाहते हैं वह चाहते हैं कि उन पर ज्यादा रोक-टोक ना लगाई जाए उनके जीवन में ज्यादा दखलअंदाजी ना की जाए जब भी मां-बाप जो है अपने बच्चों को रोकते रोकते हैं तो उन्हें चीज से चिड चिड आहत हो जाती है और नफरत से उनके मन में पैदा होने लगती हैं वे चाहते हैं कि उनके माता-पिता किसी भी तरीके से उन्हें ज्यादा रॉकेट ओके ना उनके मन की मर्जी उन्हें करने दें क्योंकि वह चाहते हैं कि अगर वह अपने मुताबिक जो जिंदगी जिएंगे तो वह जिंदगी उनके बताए रास्ते से ज्यादा बेहतर हो सकती है जिसकी वजह से आजकल के बच्चे जैसे जैसे नई चीजों को अपना रहे हैं और इस दुनिया में घुलने मिलने लगे हैं तो वह चाहते हैं कि उन्हें हर तरीके की आजादी मिले उन्हें किसी भी चीज के लिए रोका टोका ना जाए धन्यवाद
Prashn hai kya aajakal bachche jyaada aajaadee chaahate hain dekhie ghar mein kaid rahana kisee bhee vyakti ko achchha nahin lagata agar bachchon par ham jyaada rok-tok lagaate hain ya phir unhen cheejon se mana karate hain chaahe vah unake achchhe ke lie ho ya phir bure ke lie vah toone vah cheejen pasand nahin aatee aur aajakal to har vyakti khaasakar ki bachche apana ek praivet spes chaahate hain vah chaahate hain ki un par jyaada rok-tok na lagaee jae unake jeevan mein jyaada dakhalandaajee na kee jae jab bhee maan-baap jo hai apane bachchon ko rokate rokate hain to unhen cheej se chid chid aahat ho jaatee hai aur napharat se unake man mein paida hone lagatee hain ve chaahate hain ki unake maata-pita kisee bhee tareeke se unhen jyaada roket oke na unake man kee marjee unhen karane den kyonki vah chaahate hain ki agar vah apane mutaabik jo jindagee jienge to vah jindagee unake batae raaste se jyaada behatar ho sakatee hai jisakee vajah se aajakal ke bachche jaise jaise naee cheejon ko apana rahe hain aur is duniya mein ghulane milane lage hain to vah chaahate hain ki unhen har tareeke kee aajaadee mile unhen kisee bhee cheej ke lie roka toka na jae dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:21
आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं अगर आजादी की बात करें तो वह चाहते हैं कि हम अपने बच्चे सब कुछ करेंगे हम करेंगे तो क्या मतलब सब लोग एक आम इंसान को आजादी का हक है और उन्हें आजादी लेना भी चाहिए ना जाने की बात करें तो आजादी का मतलब होता है कि आप ही के ताजा आज है लेकिन शक्तिमान करें और सही तरीके से करें सही दिशा में आगे बढ़े और एक अच्छे इंसान बने ताकि आपके मम्मी पापा का नाम रोशन हो और आपको भी आप सपना देखे हो या फिर जो भी आप करना चाहते हो तो फिर से को पूरा कीजिए क्योंकि जितना होता अगर होता है अगर कुछ पढ़ने पर उससे कहीं ज्यादा कुछ हमारे माता-पिता को मानता है तो गजबान बनी और आजादी का सही अर्थ समझाइए कि आप आजादी आजादी के मिली है कि हमारे बातों पर हमें हर तरीके से आजाद किए रहते हैं तो उसे हटाने का तरीका
Aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain agar aajaadee kee baat karen to vah chaahate hain ki ham apane bachche sab kuchh karenge ham karenge to kya matalab sab log ek aam insaan ko aajaadee ka hak hai aur unhen aajaadee lena bhee chaahie na jaane kee baat karen to aajaadee ka matalab hota hai ki aap hee ke taaja aaj hai lekin shaktimaan karen aur sahee tareeke se karen sahee disha mein aage badhe aur ek achchhe insaan bane taaki aapake mammee paapa ka naam roshan ho aur aapako bhee aap sapana dekhe ho ya phir jo bhee aap karana chaahate ho to phir se ko poora keejie kyonki jitana hota agar hota hai agar kuchh padhane par usase kaheen jyaada kuchh hamaare maata-pita ko maanata hai to gajabaan banee aur aajaadee ka sahee arth samajhaie ki aap aajaadee aajaadee ke milee hai ki hamaare baaton par hamen har tareeke se aajaad kie rahate hain to use hataane ka tareeka

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:51
आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं पुरानी मस्जिद के पास चीजें बहुत कम थी कभी जत्रा में एक खिलौना जेसीबी गाड़ी लिया नहीं लिया या किसी सैनिक का इंग्लैंड का खिलौना कभी कबार मिल जाता था तो खेलता था अब उससे ज्यादा हो गई है जो माता पिता होता है उसको बहुत सारी चीजें लाकर देते हैं शिवाय पिक्चर के संस्करण उसके पास मोबाइल भी रहता है कंप्यूटर में रहता है को स्कूल ले जाने के लिए गाड़ी भी होती है गाड़ी में बहुत सारे बच्चे होते हैं अच्छे-अच्छे गार्डन से बनी है जनसंख्या बढ़ने के कारण बच्चों की संख्या में बहुत बढ़ गई है तो सिर्फ भैया घर में कैसे बैठा रहे हैं और सारे खिलाई क्रिकेट है ज्यादा करके कुछ पारंपरिक खेल है मैं कुछ खेल होते हैं पहले जमाने में लड़की लड़कियां एक दूसरे के साथ ज्यादा करने के लिए जब 1 - पूजा तू चुप चुप लड़कों को कहा जाता था कि कैसा लड़का है लड़कियों के साथ खेल रहा है अब ऐसा नहीं होता है एक लड़का और लड़कियां दोनों भी खेलने के लिए बातचीत करने के लिए मैं और तुम यार डांस की मीनिंग एक्टिंग की ट्रेनिंग के सेंटर्स भी बड़े हुए तो उनको थोड़ा सा आजादी महसूस होता है अपने माता-पिता की जो हर आदेश का पालन नहीं करना चाहते हैं ख्वाजा जी चाहते हैं पहले की तुलना में और ज्यादा अजय जी को चाहते हैं तो यह कोई गैर बात नहीं है जिंदगी में सबसे बड़ा मूल्य खरीदी है अगर आजादी खो जाती है तो इंसान गुलाम होता है इंसान नहीं होता इसलिए आजादी सबसे महत्वपूर्ण चीज है किसी भी इंसान की सट्टे की आज के बच्चे ज्यादा आज आज आजादी चाहते हैं और आगे जाकर हुए यूरोपियन कंट्री की तरह हो जाएगा हर व्यक्ति राजाजी चाहेगा शादी से संबंधों में भी ज्यादा केंद्रीय तक नहीं रहना चाहेगा अब लोहा करने की मशीन जरूरत महसूस नहीं करेगा और इंतजार नहीं करेगा की आजादी का विस्तार हो रहा है और इसका अधिक विस्तार होगा और टेक्नोलॉजी जाएंगे पोस्ट सही को भी धन्यवाद
Aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain puraanee masjid ke paas cheejen bahut kam thee kabhee jatra mein ek khilauna jeseebee gaadee liya nahin liya ya kisee sainik ka inglaind ka khilauna kabhee kabaar mil jaata tha to khelata tha ab usase jyaada ho gaee hai jo maata pita hota hai usako bahut saaree cheejen laakar dete hain shivaay pikchar ke sanskaran usake paas mobail bhee rahata hai kampyootar mein rahata hai ko skool le jaane ke lie gaadee bhee hotee hai gaadee mein bahut saare bachche hote hain achchhe-achchhe gaardan se banee hai janasankhya badhane ke kaaran bachchon kee sankhya mein bahut badh gaee hai to sirph bhaiya ghar mein kaise baitha rahe hain aur saare khilaee kriket hai jyaada karake kuchh paaramparik khel hai main kuchh khel hote hain pahale jamaane mein ladakee ladakiyaan ek doosare ke saath jyaada karane ke lie jab 1 - pooja too chup chup ladakon ko kaha jaata tha ki kaisa ladaka hai ladakiyon ke saath khel raha hai ab aisa nahin hota hai ek ladaka aur ladakiyaan donon bhee khelane ke lie baatacheet karane ke lie main aur tum yaar daans kee meening ekting kee trening ke sentars bhee bade hue to unako thoda sa aajaadee mahasoos hota hai apane maata-pita kee jo har aadesh ka paalan nahin karana chaahate hain khvaaja jee chaahate hain pahale kee tulana mein aur jyaada ajay jee ko chaahate hain to yah koee gair baat nahin hai jindagee mein sabase bada mooly khareedee hai agar aajaadee kho jaatee hai to insaan gulaam hota hai insaan nahin hota isalie aajaadee sabase mahatvapoorn cheej hai kisee bhee insaan kee satte kee aaj ke bachche jyaada aaj aaj aajaadee chaahate hain aur aage jaakar hue yooropiyan kantree kee tarah ho jaega har vyakti raajaajee chaahega shaadee se sambandhon mein bhee jyaada kendreey tak nahin rahana chaahega ab loha karane kee masheen jaroorat mahasoos nahin karega aur intajaar nahin karega kee aajaadee ka vistaar ho raha hai aur isaka adhik vistaar hoga aur teknolojee jaenge post sahee ko bhee dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:49
जी हां यह बात सच है कि आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं कुछ ज्यादा ही आ जाते हैं तो हर चीज में उनको फ्रीडम चाहिए वह यह नहीं समझते कि उनका वजूद उनके गार्जियन से ही है निकी आजादी खराब चीज नहीं है आजादी दीजिए उनको उनको आज जो काम करने का तरीका है उसमें आजादी दीजिए हर एक आदमी का काम करने का तरीका अलग होता है आजादी का यह मतलब नहीं है कि हम कुछ भी करें और गार्ड दिन हम लोग को कुछ ना बोले तो बच्चे ज्यादा आजादी जाते हैं लेकिन कार्ड दिन का काम है कि हमको थोड़ा टाइट भी रखें और इतना भी टाइट ना रखें कि हाथ से निकल जाए डिसिप्लिन में रखे थोड़ा झूठ भी दे ताकि वह आप से जुड़ा रहे
Jee haan yah baat sach hai ki aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain kuchh jyaada hee aa jaate hain to har cheej mein unako phreedam chaahie vah yah nahin samajhate ki unaka vajood unake gaarjiyan se hee hai nikee aajaadee kharaab cheej nahin hai aajaadee deejie unako unako aaj jo kaam karane ka tareeka hai usamen aajaadee deejie har ek aadamee ka kaam karane ka tareeka alag hota hai aajaadee ka yah matalab nahin hai ki ham kuchh bhee karen aur gaard din ham log ko kuchh na bole to bachche jyaada aajaadee jaate hain lekin kaard din ka kaam hai ki hamako thoda tait bhee rakhen aur itana bhee tait na rakhen ki haath se nikal jae disiplin mein rakhe thoda jhooth bhee de taaki vah aap se juda rahe

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:23
तारा कब इसने क्या आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं तो आपको बता दें देखिए बच्चे तो अपनी तरफ से हर एक तो एक ही मान रखते हैं यह माता पिता का कर्तव्य होता है कि उनको सही संस्कार देना चाहिए ताकि वह सही गलत के बीच फर्क समझ सके आप क्या राय बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara kab isane kya aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain to aapako bata den dekhie bachche to apanee taraph se har ek to ek hee maan rakhate hain yah maata pita ka kartavy hota hai ki unako sahee sanskaar dena chaahie taaki vah sahee galat ke beech phark samajh sake aap kya raay baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:44
स्वागत है आपका फ्रेंड साहब का सवाल है क्या आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं हां फ्रेंड आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं वह किसी की बात नहीं सुनते हैं और बहुत ही शैतान होते हैं आजकल के बच्चे व जिद्दी भी होते हैं कोई कोई बच्चे ने अपना काम अपने हिसाब से करना चाहते हैं और वे फ्रीडम पसंद करते हैं वह ज्यादा क्यों काटा कि नहीं पसंद करते आजकल के बच्चे बहुत चिड़चिड़ी होते जा रहे हैं तो बच्चों को ऐसा नहीं करना चाहिए अपने मां बाप का कहना उनको मानना चाहिए ज्यादा आजादी भी ठीक बात नहीं होती है उन्हें एक लिमिट नहीं आजादी देना चाहिए ज्यादा आजादी देने से बच्चे बिगड़ भी सकते हैं तो फ्रेंड्स जवाब पसंद आए तो लाइक करें धन्यवाद
Svaagat hai aapaka phrend saahab ka savaal hai kya aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain haan phrend aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain vah kisee kee baat nahin sunate hain aur bahut hee shaitaan hote hain aajakal ke bachche va jiddee bhee hote hain koee koee bachche ne apana kaam apane hisaab se karana chaahate hain aur ve phreedam pasand karate hain vah jyaada kyon kaata ki nahin pasand karate aajakal ke bachche bahut chidachidee hote ja rahe hain to bachchon ko aisa nahin karana chaahie apane maan baap ka kahana unako maanana chaahie jyaada aajaadee bhee theek baat nahin hotee hai unhen ek limit nahin aajaadee dena chaahie jyaada aajaadee dene se bachche bigad bhee sakate hain to phrends javaab pasand aae to laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
0:37
जी हां आजकल के बच्चे ज्यादा दे आजादी चाहते हैं क्योंकि वह संगठन के अंदर नहीं रहना चाहते आजकल खुला पीना चाहते हैं कि कौन सी जगह क्या है कौन सा क्या है कुछ नहीं देखना चाहते छानबीन करना सब आजकल ऐसे हो गए हैं सब अपनी अपनी मर्जी से कम काम करता है घरवालों की याद कल शाम में से 50 परसेंट से मैंने मांग पत्र पर्सेंट लोग घर वालों की बात मानते आजकल के लड़के बाकी अपनी मर्जी सब अपने बजे से काम करते हैं तो आजकल के बच्चे ज्यादा आजादी चाहते हैं तथा घूमना चाहते हैं घरवाले में डांट लगे तो वह भी उनको बुरा लगता है
Jee haan aajakal ke bachche jyaada de aajaadee chaahate hain kyonki vah sangathan ke andar nahin rahana chaahate aajakal khula peena chaahate hain ki kaun see jagah kya hai kaun sa kya hai kuchh nahin dekhana chaahate chhaanabeen karana sab aajakal aise ho gae hain sab apanee apanee marjee se kam kaam karata hai gharavaalon kee yaad kal shaam mein se 50 parasent se mainne maang patr parsent log ghar vaalon kee baat maanate aajakal ke ladake baakee apanee marjee sab apane baje se kaam karate hain to aajakal ke bachche jyaada aajaadee chaahate hain tatha ghoomana chaahate hain gharavaale mein daant lage to vah bhee unako bura lagata hai

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:30
हां यस बिल्कुल सही कहते हैं आप आज के बच्चे इन भारतीय फिल्मों को गंदी फिल्मों भारती टीवी सोच को देखते ही देखते करके कि आप यह समझ लीजिए कि ये बिल्कुल भारतीय संस्कृति को भूल कर जा बोलते जा रहे हैं और भारत अपने घरों पर भी एफिल्मी जैसा माहौल चाहते हैं आजादी चाहते हैं और आजादी के नाम पर यह अपने वृद्ध माता-पिता ओं के साथ और परिजनों के साथ कितना अशिष्ट व्यवहार कर रहे हैं क्योंकि ने भारतीय संस्कृति से कोई लेना-देना नहीं इसलिए इनकी अशिष्ट व्यवहार के कारण अमर्यादित व्यवहार के कारण बहुत से वृद्ध माता-पिता बेचारे वृद्ध आश्रमों में अपनी जिंदगी गुजारने के लिए मजबूर होते हैं जबकि उन वृद्ध माता-पिता उन्हें बड़ी आशा से धन संपत्ति बताई थी जमीन ज्यादा बताई थी उन्होंने चेतक वृद्ध आश्रम में हम लोग सुख चैन की जिंदगी गुजारेंगे लेकिन उनको क्या मालूम था कि यह हमारी औलाद है इन पिक्चरों को देख देखकर इतनी गंदी प्रवृत्ति क्यों हो जाएंगी के यू उन्हें उनके बस बनाए हुए मकान से भी निकाल देंगे और समस्त धन वैभव को छीन लेंगे और वृद्धावस्था में एक लावारिस की तरह जिंदगी जीने के लिए मजबूर कर देंगे यह आज की गंदी सोच का परिणाम है
Haan yas bilkul sahee kahate hain aap aaj ke bachche in bhaarateey philmon ko gandee philmon bhaaratee teevee soch ko dekhate hee dekhate karake ki aap yah samajh leejie ki ye bilkul bhaarateey sanskrti ko bhool kar ja bolate ja rahe hain aur bhaarat apane gharon par bhee ephilmee jaisa maahaul chaahate hain aajaadee chaahate hain aur aajaadee ke naam par yah apane vrddh maata-pita on ke saath aur parijanon ke saath kitana ashisht vyavahaar kar rahe hain kyonki ne bhaarateey sanskrti se koee lena-dena nahin isalie inakee ashisht vyavahaar ke kaaran amaryaadit vyavahaar ke kaaran bahut se vrddh maata-pita bechaare vrddh aashramon mein apanee jindagee gujaarane ke lie majaboor hote hain jabaki un vrddh maata-pita unhen badee aasha se dhan sampatti bataee thee jameen jyaada bataee thee unhonne chetak vrddh aashram mein ham log sukh chain kee jindagee gujaarenge lekin unako kya maaloom tha ki yah hamaaree aulaad hai in pikcharon ko dekh dekhakar itanee gandee pravrtti kyon ho jaengee ke yoo unhen unake bas banae hue makaan se bhee nikaal denge aur samast dhan vaibhav ko chheen lenge aur vrddhaavastha mein ek laavaaris kee tarah jindagee jeene ke lie majaboor kar denge yah aaj kee gandee soch ka parinaam hai

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
HP Ankur Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए HP जी का जवाब
Unknown
0:13

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं
URL copied to clipboard