#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?

Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:37
विवान तो आज आप का सवाल है कि अखबार पढ़ने की मम्मी जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है मतलब टीवी देखना बिजली जो चीज देखकर सुन रहे हैं समझ रहे हैं वह ज्यादा लोगों को पसंद आता है पहले के जमाने में देखे क्या था कि यह न्यूज़ पेपर में भारी घर में आना टीवी कनेक्शन होना टीवी का इतना महंगा तू लोग लोगों के घर में इतना नहीं होता था बट अभी बहुत ज्यादा मुझे टीवी देखना पसंद करते हैं लेकिन मैं बता दूं आपको की न्यूज़ पेपर पढ़ना बहुत ही अच्छा साबित होता है अखबार पढ़ना क्योंकि इससे आप देखिए मतलब आप हमें भूलने में स्पेलिंग पता चलता है आपको हिंदी के स्टाइल पता चलता है आप अच्छे से कोई भी चीज पर मैसेज सेंड कर सकते हैं आप पढ़ पाते हैं तो यह तेरा कब बहुत ही अच्छा बेटा होता है इसकी में हमें जनरलिज्म की पढ़ाई करवाई जाती तो हमें ज्यादा न्यूज़ पेपर के बारे में पढ़ाई जाती पर हमें दिल्ली न्यूज़ पेपर पढ़ने के लिए कहा जाता है तो मेरे हिसाब से जो लोग भी अखबार पढ़ना छोड़ दी है मैं मानती हूं कि टीवी देखना देख कर बहुत अच्छा लगता है बिजली देख रहे हैं तो ज्यादा अच्छा लगता है लेकिन जो न्यूज़ पेपर जो अखबार हो तो उसने ज्यादा से ज्यादा सेक्स होते आपको दिन भर के कितने खबर आपको देखने के लिए मिलता है जाने के लिए मिलता है टीवी में क्या होता है 12 टॉपिक को ज्यादा लेकर ऐसे बढ़ा चढ़ाकर बोला जाता है लेकिन न्यूज़ पेपर में से कोई आप को बढ़ा चढ़ाकर नहीं मिलता है आपको सेट एक्यूरेट हर एक चीज देखने के लिए मिलता है तो 3 लोगों की भी है बट अगर छूट गई है मेरे हिसाब तूने फिर से न्यूज़पेपर में स्टार्ट कर देना चाहिए
Vivaan to aaj aap ka savaal hai ki akhabaar padhane kee mammee jigyaasa khatm ho jaana isaka manovigyaan kya hai matalab teevee dekhana bijalee jo cheej dekhakar sun rahe hain samajh rahe hain vah jyaada logon ko pasand aata hai pahale ke jamaane mein dekhe kya tha ki yah nyooz pepar mein bhaaree ghar mein aana teevee kanekshan hona teevee ka itana mahanga too log logon ke ghar mein itana nahin hota tha bat abhee bahut jyaada mujhe teevee dekhana pasand karate hain lekin main bata doon aapako kee nyooz pepar padhana bahut hee achchha saabit hota hai akhabaar padhana kyonki isase aap dekhie matalab aap hamen bhoolane mein speling pata chalata hai aapako hindee ke stail pata chalata hai aap achchhe se koee bhee cheej par maisej send kar sakate hain aap padh paate hain to yah tera kab bahut hee achchha beta hota hai isakee mein hamen janaralijm kee padhaee karavaee jaatee to hamen jyaada nyooz pepar ke baare mein padhaee jaatee par hamen dillee nyooz pepar padhane ke lie kaha jaata hai to mere hisaab se jo log bhee akhabaar padhana chhod dee hai main maanatee hoon ki teevee dekhana dekh kar bahut achchha lagata hai bijalee dekh rahe hain to jyaada achchha lagata hai lekin jo nyooz pepar jo akhabaar ho to usane jyaada se jyaada seks hote aapako din bhar ke kitane khabar aapako dekhane ke lie milata hai jaane ke lie milata hai teevee mein kya hota hai 12 topik ko jyaada lekar aise badha chadhaakar bola jaata hai lekin nyooz pepar mein se koee aap ko badha chadhaakar nahin milata hai aapako set ekyooret har ek cheej dekhane ke lie milata hai to 3 logon kee bhee hai bat agar chhoot gaee hai mere hisaab toone phir se nyoozapepar mein staart kar dena chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:54
हेलो एवरीवन आपका प्रश्न है अखबार पढ़ने के लिए क्या-क्या खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है जब किसी को अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा नहीं रहती तो सोचे कि उसके मन में कुछ और ही चल रहा है और उसके मन में कुछ और ही टेंशन है इसलिए वे अखबार नहीं पड़ रही है नहीं तो अखबार पढ़ना तो बहुत अच्छी चीज होती है उसे देश विदेश की जानकारी हमें प्राप्त होती और हमारे समाज में देश में क्या चल रहा है सब अखबार के माध्यम से मैं पता चल जाता है और ज्यादातर लोगों की रूचि अखबार पढ़ने में होती ही है सभी लोग सुबह सुबह अखबार जरूर पढ़ते हैं पर अगर किसी की अखबार पढ़ने में रुचि खत्म हो जाए तो समझ लीजिए कि उसके मन में दिमाग में कोई और टेंशन चल रही है कोई और परेशानी की वजह से लिख मारने ध्यान नहीं दे पा रहा है इसीलिए मुझे मारने की रुचि नहीं है तो फ्रेंड्स जवाब अच्छी लगे तो लाइक कीजिए धन्यवाद
Helo evareevan aapaka prashn hai akhabaar padhane ke lie kya-kya khatm ho jaana isaka manovigyaan kya hai jab kisee ko akhabaar padhane kee ruchi jigyaasa nahin rahatee to soche ki usake man mein kuchh aur hee chal raha hai aur usake man mein kuchh aur hee tenshan hai isalie ve akhabaar nahin pad rahee hai nahin to akhabaar padhana to bahut achchhee cheej hotee hai use desh videsh kee jaanakaaree hamen praapt hotee aur hamaare samaaj mein desh mein kya chal raha hai sab akhabaar ke maadhyam se main pata chal jaata hai aur jyaadaatar logon kee roochi akhabaar padhane mein hotee hee hai sabhee log subah subah akhabaar jaroor padhate hain par agar kisee kee akhabaar padhane mein ruchi khatm ho jae to samajh leejie ki usake man mein dimaag mein koee aur tenshan chal rahee hai koee aur pareshaanee kee vajah se likh maarane dhyaan nahin de pa raha hai iseelie mujhe maarane kee ruchi nahin hai to phrends javaab achchhee lage to laik keejie dhanyavaad

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:35
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है अकबर लोकल लोग जो है वह पिछले कई सालों के पीछे पढ़ते थे उस पर विश्वास रखते थे और जो भी उस में आता था वह सही होता है ऐसा वह लोगों का विश्वास था और उसमें थोड़ा तो सभी लोग जो है उनके पास अखबार भी आता है उनके सामने टीवी भी है और उनके सामने सारा तमाशा भी सिस्टम में सामाजिक व्यवस्था में चुनाव में सभी तरफ निराशाजनक चित्र मानसिक आम आदमी को दिखाई देता है तो वह एक निराशा से भर जाता है उसका मन फिर किसी चीज से हट जाता है स्क्रीन टच में कम हो जाता है तो एक निराश निर्माण हुई है एक महत्वपूर्ण कारण है अखबार पढ़ने की रुचि जिद्न्यासा खत्म हो रही है दूसरा एक कारण है इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और इंटरनेट अब जो इंफॉर्मेशन बताता है ज्यादा से ज्यादा अपडेटेड होती है कुछ चीजें जो है वह डायरेक्ट लाइव आती है कुछ चीजें तुरंत व्हाट्सएप पर या फेसबुक पर फैल जाती है पूरे समाज में और आग बार तो 1 दिन के बाद आता है तो ज्यादा कर के इस्तेमाल में मोबाइल का और कंप्यूटर का हो रहा है इसका आंसर अखबार अखबार में पढ़ा बिल्कुल नैसर्गिक है और अखबारों की उम्र अब ज्यादा नहीं रहे सब कुछ लोग बता रहे और भी आधुनिक टेक्नोलॉजी जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आ गई तो बाकी सारी चीजें खत्म हो जाएगी ऐसा भी एक चित्र दिखाई देता है दूसरा कारण यह है कि पहले मूल्य होते हैं समाज में देसी मूल्य बदल जाते हैं वैसे सोच बदल जाती है उस साल पहले किसी सन्यासी को किसी साधु को एक करने वाले व्यक्ति को श्रेष्ठ माना जाता था उसके उसके पास पकड़े जाते थे राजा है वह सन्यासियों के पांव पकड़ता था प्रधानमंत्री के भी कुछ आध्यात्मिक गुरु हुआ करते थे लेकिन अब मूल्य बन गया है कि 4 इसलिए नहीं पैसा महत्वपूर्ण है एक मूल्य बाकी किसी भी चीज को देखने के लिए और सोचने के लिए लोग तैयार नहीं और उनके पीछे एक असुरक्षा की भावना है कि पैसा अगर हमारे पास नहीं होगा तो हम और सुरक्षित होंगे हम सुरक्षित नहीं रहेंगे यह सुरक्षितता की बात है तो बाकी चीजों को कुछ वैल्यू नहीं देता है पैसे वालों को भी तरीके से चित्र दिखाई देता है कि व्यक्ति कहता है क्या आजकल पैसो के अलावा कुछ महत्वपूर्ण नहीं है वैसा ही महत्वपूर्ण तो पैसों वालों के पीछे लोग भक्ति तो यह एक सामाजिक मूल्य की बातें तो उनकी तरफ लोग ज्यादा जाते हैं और अखबार या पुस्तक या पढ़ना या उच्च शिक्षा इसमें कम लोग आगे चल रहे हैं बाकी सब जल्दी से जल्दी पैसा कमाने के लिए शिक्षा को छोड़ देते हैं और पढ़ना लिखना और उसमें पूरा नियोगी करना तो बहुत दूर की बात है तो यह भी एक कारण है और मनो ज्ञान विज्ञान बड़ा टॉपिक है लेकिन कुछ पॉइंट्स मैंने यहां पर बताने की कोशिश की है अगर यह जवाब आपको सही लगा तो इसे कृपया लाइक करें धन्यवाद
Akhabaar padhane kee ruchi jigyaasa khatm ho jaana isaka manovigyaan kya hai akabar lokal log jo hai vah pichhale kaee saalon ke peechhe padhate the us par vishvaas rakhate the aur jo bhee us mein aata tha vah sahee hota hai aisa vah logon ka vishvaas tha aur usamen thoda to sabhee log jo hai unake paas akhabaar bhee aata hai unake saamane teevee bhee hai aur unake saamane saara tamaasha bhee sistam mein saamaajik vyavastha mein chunaav mein sabhee taraph niraashaajanak chitr maanasik aam aadamee ko dikhaee deta hai to vah ek niraasha se bhar jaata hai usaka man phir kisee cheej se hat jaata hai skreen tach mein kam ho jaata hai to ek niraash nirmaan huee hai ek mahatvapoorn kaaran hai akhabaar padhane kee ruchi jidnyaasa khatm ho rahee hai doosara ek kaaran hai ilektronik meediya aur intaranet ab jo imphormeshan bataata hai jyaada se jyaada apadeted hotee hai kuchh cheejen jo hai vah daayarekt laiv aatee hai kuchh cheejen turant vhaatsep par ya phesabuk par phail jaatee hai poore samaaj mein aur aag baar to 1 din ke baad aata hai to jyaada kar ke istemaal mein mobail ka aur kampyootar ka ho raha hai isaka aansar akhabaar akhabaar mein padha bilkul naisargik hai aur akhabaaron kee umr ab jyaada nahin rahe sab kuchh log bata rahe aur bhee aadhunik teknolojee jaise aartiphishiyal intelijens aa gaee to baakee saaree cheejen khatm ho jaegee aisa bhee ek chitr dikhaee deta hai doosara kaaran yah hai ki pahale mooly hote hain samaaj mein desee mooly badal jaate hain vaise soch badal jaatee hai us saal pahale kisee sanyaasee ko kisee saadhu ko ek karane vaale vyakti ko shreshth maana jaata tha usake usake paas pakade jaate the raaja hai vah sanyaasiyon ke paanv pakadata tha pradhaanamantree ke bhee kuchh aadhyaatmik guru hua karate the lekin ab mooly ban gaya hai ki 4 isalie nahin paisa mahatvapoorn hai ek mooly baakee kisee bhee cheej ko dekhane ke lie aur sochane ke lie log taiyaar nahin aur unake peechhe ek asuraksha kee bhaavana hai ki paisa agar hamaare paas nahin hoga to ham aur surakshit honge ham surakshit nahin rahenge yah surakshitata kee baat hai to baakee cheejon ko kuchh vailyoo nahin deta hai paise vaalon ko bhee tareeke se chitr dikhaee deta hai ki vyakti kahata hai kya aajakal paiso ke alaava kuchh mahatvapoorn nahin hai vaisa hee mahatvapoorn to paison vaalon ke peechhe log bhakti to yah ek saamaajik mooly kee baaten to unakee taraph log jyaada jaate hain aur akhabaar ya pustak ya padhana ya uchch shiksha isamen kam log aage chal rahe hain baakee sab jaldee se jaldee paisa kamaane ke lie shiksha ko chhod dete hain aur padhana likhana aur usamen poora niyogee karana to bahut door kee baat hai to yah bhee ek kaaran hai aur mano gyaan vigyaan bada topik hai lekin kuchh points mainne yahaan par bataane kee koshish kee hai agar yah javaab aapako sahee laga to ise krpaya laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:42
बार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है दोस्तों यदि आप किसी चीज की तैयारी लेकर के यदि आप अखबार पढ़ते हैं तो मेरे साथ विशेष रूचि रखेंगे और कैसी शमशान की मुद्दों को लेकर के रुचि रखते हैं तो मेरे साथ कि आप अखबार पड़ेंगे और यदि आपको आपके आसपास की न्यूज़ या इत्यादि या राष्ट्रीय मुद्दे मुद्दे अंदर इंटरेस्ट के देश के अंदर हाल फिलाल में क्या चल रहा है क्या नहीं खबर पढ़ना चाहते हैं इसके लिए भी आप तत्पर रहेंगे कि देश के अंदर क्या सही है क्या गलत है इस पर ध्यान दें कि सरकार तो सिर्फ ऐसे ही हमें क्या लेना देना तो भी आपके जैसा यार पढ़ने में खत्म हो जाएगी दोस्तों जिसके अंदर आपके रुचि होती है आप काम करना चाहेंगे और जिस काम में रुचि नहीं होती है तो उस काम को आप नहीं कर पाएंगे यही कारण है कि कुछ स्टूडेंट होते हैं वह अखबार पढ़ने में इसलिए रुचि रखते हैं कि उन्हें सामी की जो मुद्दे हैं उनको नीचे तौर पर ध्यान रखना पड़ता है कुछ लोग जो है इस वजह से अखबार पढ़ते हैं कि उन्हें देश की फिक्र होती है क्या हो रहा है देश में क्या नहीं उसके ऊपर मूल्यांकन कर पाए इस वजह से परंतु लोगों की सभी चीजों को लेकर के टूट जाती है तो मेरे साथ जो जिज्ञासा अखबार पढ़ने की वह भी खत्म हो जाती है
Baar padhane kee ruchi jigyaasa khatm ho jaana isaka manovigyaan kya hai doston yadi aap kisee cheej kee taiyaaree lekar ke yadi aap akhabaar padhate hain to mere saath vishesh roochi rakhenge aur kaisee shamashaan kee muddon ko lekar ke ruchi rakhate hain to mere saath ki aap akhabaar padenge aur yadi aapako aapake aasapaas kee nyooz ya ityaadi ya raashtreey mudde mudde andar intarest ke desh ke andar haal philaal mein kya chal raha hai kya nahin khabar padhana chaahate hain isake lie bhee aap tatpar rahenge ki desh ke andar kya sahee hai kya galat hai is par dhyaan den ki sarakaar to sirph aise hee hamen kya lena dena to bhee aapake jaisa yaar padhane mein khatm ho jaegee doston jisake andar aapake ruchi hotee hai aap kaam karana chaahenge aur jis kaam mein ruchi nahin hotee hai to us kaam ko aap nahin kar paenge yahee kaaran hai ki kuchh stoodent hote hain vah akhabaar padhane mein isalie ruchi rakhate hain ki unhen saamee kee jo mudde hain unako neeche taur par dhyaan rakhana padata hai kuchh log jo hai is vajah se akhabaar padhate hain ki unhen desh kee phikr hotee hai kya ho raha hai desh mein kya nahin usake oopar moolyaankan kar pae is vajah se parantu logon kee sabhee cheejon ko lekar ke toot jaatee hai to mere saath jo jigyaasa akhabaar padhane kee vah bhee khatm ho jaatee hai

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:32
उनकी रुचि असली खत्म हो गई है क्योंकि आप लोग तारीफ तो तुरंत न्यूज़ पढ़ना चाहते किसी भी चीज की गई आज की आज है क्या हो रहा है क्या चल रहा है इसका राशि भविष्य फर्नीचर क्योंकि 1 दिन पुराना रहते हैं मतलब जैसे 15 फुट की न्यूज़ मिलेगी तो 15 ही न्यूज़ पढ़ना चाहते हो गए हैं ऑनलाइन हो गए हैं यूट्यूब हो गया है इनके द्वारा डायरेक्ट न्यूज़ मिल जाती है इसलिए लोग न्यूज़ पेपर पढ़ना नहीं पसंद करते हैं
Unakee ruchi asalee khatm ho gaee hai kyonki aap log taareeph to turant nyooz padhana chaahate kisee bhee cheej kee gaee aaj kee aaj hai kya ho raha hai kya chal raha hai isaka raashi bhavishy pharneechar kyonki 1 din puraana rahate hain matalab jaise 15 phut kee nyooz milegee to 15 hee nyooz padhana chaahate ho gae hain onalain ho gae hain yootyoob ho gaya hai inake dvaara daayarekt nyooz mil jaatee hai isalie log nyooz pepar padhana nahin pasand karate hain

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:36
प्रार्थना है कि अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाने का इसका मनोवैज्ञानिक क्या है तो सबसे पहले यह भी महत्वपूर्ण बात है कि हम एक बार क्यों पड़े हैं यह प्रश्न हो सकता है हालांकि देखा जाता है कि जो लोग बुजुर्ग होते हैं या उनको और पास ज्यादा समय होता है वर्क बार पढ़ते हैं अगर आप है पढ़ाई लिखाई करने वाले विद्यार्थी हैं तो आप इंपॉर्टेंट ही जो कपड़े जो आपके पढ़ाई में काम आए अगर आप मारकाट डकैती या अन्य तरह के जो है अवांछित खबरें पढ़ना चाहते हैं तो अलग बात है लेकिन मुझे लगता है कि इसके रुचि में जो आपके जिज्ञासा नहीं हो रही है इसका मुख्य कारण है कि एक तो मोबाइल का होना मोबाइल पर हम विभिन्न तरह के वीडियो समाचार देखते हैं इसके अलावा टीवी होने की एक वजह मान सकते हैं कि टीवी से भी हमें समाचार मिल जाता है और चुकी अखबार पढ़ने कहां बैठते हैं तो आपको समय देना होता है आपको उसको पढ़ना होता है आंखों को आपको जोड़ भी पड़ता है या नहीं यह कहना कि अस्थिर चीज का है आपने स्थिरता रह कर ही उसके पढ़ाई कर सकते हैं तो यह भी है यह भी हो सकता है कि समय से आपके यहां अखबार ना मिलता हो यह भी कारण हो सकता है देखा जाता है कि सुदूर ग्रामीण इलाकों में भी आसानी से अखबार नहीं मिल पाता है यह भी कारण हो सकता है लेकिन कुल मिलाकर हम यह कह ले कि जो संसाधन हमारे पास है आजकल समाचार के उसके वजह से मुझे लगता है कि अखबार पढ़ने में हमारे जगह से खत्म हो रही है
Praarthana hai ki akhabaar padhane kee ruchi jigyaasa khatm ho jaane ka isaka manovaigyaanik kya hai to sabase pahale yah bhee mahatvapoorn baat hai ki ham ek baar kyon pade hain yah prashn ho sakata hai haalaanki dekha jaata hai ki jo log bujurg hote hain ya unako aur paas jyaada samay hota hai vark baar padhate hain agar aap hai padhaee likhaee karane vaale vidyaarthee hain to aap importent hee jo kapade jo aapake padhaee mein kaam aae agar aap maarakaat dakaitee ya any tarah ke jo hai avaanchhit khabaren padhana chaahate hain to alag baat hai lekin mujhe lagata hai ki isake ruchi mein jo aapake jigyaasa nahin ho rahee hai isaka mukhy kaaran hai ki ek to mobail ka hona mobail par ham vibhinn tarah ke veediyo samaachaar dekhate hain isake alaava teevee hone kee ek vajah maan sakate hain ki teevee se bhee hamen samaachaar mil jaata hai aur chukee akhabaar padhane kahaan baithate hain to aapako samay dena hota hai aapako usako padhana hota hai aankhon ko aapako jod bhee padata hai ya nahin yah kahana ki asthir cheej ka hai aapane sthirata rah kar hee usake padhaee kar sakate hain to yah bhee hai yah bhee ho sakata hai ki samay se aapake yahaan akhabaar na milata ho yah bhee kaaran ho sakata hai dekha jaata hai ki sudoor graameen ilaakon mein bhee aasaanee se akhabaar nahin mil paata hai yah bhee kaaran ho sakata hai lekin kul milaakar ham yah kah le ki jo sansaadhan hamaare paas hai aajakal samaachaar ke usake vajah se mujhe lagata hai ki akhabaar padhane mein hamaare jagah se khatm ho rahee hai

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
प्रश्नपत्र बहुत ही सही आया हुआ है क्योंकि आज के दौर पर लोग अखबार का महत्व कम रख रहे हैं दर्शन समाचार की जो विधियां हैं वह टीवी के माध्यम से ज्यादा अप्रसार और और दूसरी बात ए है कि जो मोबाइल फोंस के अंदर मीडिया का प्रचार आ रहा है वह शॉट कर रहा है नहीं तो वैसे फिर भी जो पुरानी तजुर्बे कार है वह लोग जरूर आ अखबार ने अपने इत्मीनान से पढ़ने की रुचि रखते हैं लेकिन जहां पर सुनारा के मनोवैज्ञानिक कारण तो यही बनता है कि जो संग्रहालय व्यवस्था हो रही है क्योंकि पढ़ने में और देखने और सुनने दोनों की चीजें आईलेट्स में आती हैं और वह कम श्रम में ही ग्रह हो जाता है अखबार के अंदर तो थोड़ा सा पढ़ते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कहा जा सकता कि रुचि एकदम समाप्त हो रही और आज भी वो चीजें होती हैं जो अखबार के इस प्रोग्राम को वह संभाल कर रखते हैं प्रमाणिकता के तौर पर भी सहयोग करके रखते हैं लेकिन यह महतो हमेशा बना रहेगा ऐसा नहीं हो सकता है कि यह पढ़ने की शैली ही खत्म हो जाए शायद बाहर हो या किताब के द्वारा अन्य विधियों है जो लेखन विधि हैं उसको जरूर पढ़ते हैं तो उसे लाल जाकर उसका महीने मनोविज्ञानी में लक्ष्य के प्रति जा रहा है तो नखास जमाना हो रहा है और दूसरी बार यूज सहज उपलब्ध हो जा रहा है वह कारण बनता है इसका क्योंकि आपको हंसी तो अखबार की जो पलटी है वह समय पर आता रहता है और दूसरी बात यह है कि लेटेस्ट न्यूज़ समाचार होते हैं वह संपादन होकर पहले प्रसार में आ जाते हैं लेकिन खास टिप्पणी के लिए अखबार की विशेषता होती क्योंकि इंसान अपने उसमें पड़ता ही है और मनोवैज्ञानिक दशा यही है कि सरलता और सहजता की ओर उन्मुख होना स्वाभाविक प्रक्रिया है मनुष्य की जन्मजात में होता है जो चीज है जो धूप में है प्रस्तुतीकरण में सरल होता जा रहा है और उसमें ज्यादा मेहनत एकाग्रता करने की आवश्यकता नहीं होती और फिर चलते फिरते भी वह काम हो जाते हैं तो इसलिए यह चीजें महसूस में हारी है अन्यथा कोई खास बात नहीं
Prashnapatr bahut hee sahee aaya hua hai kyonki aaj ke daur par log akhabaar ka mahatv kam rakh rahe hain darshan samaachaar kee jo vidhiyaan hain vah teevee ke maadhyam se jyaada aprasaar aur aur doosaree baat e hai ki jo mobail phons ke andar meediya ka prachaar aa raha hai vah shot kar raha hai nahin to vaise phir bhee jo puraanee tajurbe kaar hai vah log jaroor aa akhabaar ne apane itmeenaan se padhane kee ruchi rakhate hain lekin jahaan par sunaara ke manovaigyaanik kaaran to yahee banata hai ki jo sangrahaalay vyavastha ho rahee hai kyonki padhane mein aur dekhane aur sunane donon kee cheejen aaeelets mein aatee hain aur vah kam shram mein hee grah ho jaata hai akhabaar ke andar to thoda sa padhate hain lekin phir bhee aisa nahin kaha ja sakata ki ruchi ekadam samaapt ho rahee aur aaj bhee vo cheejen hotee hain jo akhabaar ke is prograam ko vah sambhaal kar rakhate hain pramaanikata ke taur par bhee sahayog karake rakhate hain lekin yah mahato hamesha bana rahega aisa nahin ho sakata hai ki yah padhane kee shailee hee khatm ho jae shaayad baahar ho ya kitaab ke dvaara any vidhiyon hai jo lekhan vidhi hain usako jaroor padhate hain to use laal jaakar usaka maheene manovigyaanee mein lakshy ke prati ja raha hai to nakhaas jamaana ho raha hai aur doosaree baar yooj sahaj upalabdh ho ja raha hai vah kaaran banata hai isaka kyonki aapako hansee to akhabaar kee jo palatee hai vah samay par aata rahata hai aur doosaree baat yah hai ki letest nyooz samaachaar hote hain vah sampaadan hokar pahale prasaar mein aa jaate hain lekin khaas tippanee ke lie akhabaar kee visheshata hotee kyonki insaan apane usamen padata hee hai aur manovaigyaanik dasha yahee hai ki saralata aur sahajata kee or unmukh hona svaabhaavik prakriya hai manushy kee janmajaat mein hota hai jo cheej hai jo dhoop mein hai prastuteekaran mein saral hota ja raha hai aur usamen jyaada mehanat ekaagrata karane kee aavashyakata nahin hotee aur phir chalate phirate bhee vah kaam ho jaate hain to isalie yah cheejen mahasoos mein haaree hai anyatha koee khaas baat nahin

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:54
नमस्कार आपका प्रश्न एक बार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है तो आपको बता दें कि देखिए एक बार ऐसा नहीं जानता पड़ता था क्या उसको खबरें की आवश्यकता होती थी किसको पता करना होता था कि क्या चल रहा है क्या नहीं दुनिया में क्या चल रहा है देश में क्या चल रहा है अब यह सारी चीजें ऑनलाइन हो लेवल है और A1 स्मार्टफोन में इतनी सारी आप सबके आ जाती है जिसमें बहुत सारी खबरें आपको लेने नोटिफिकेशंस तुरंत जानकारियां प्राप्त हो जाती है तो ऐसे में जो अखबार पढ़ने की जो इच्छा होती थी वहां पर कहीं ना कहीं कमी आई है लोगों में और वह जिज्ञासा उतनी ज्यादा बड़ी नहीं रह गई है क्योंकि यहां पर ऑनलाइन तरीकों से भी लोग अब इसका प्रयोग करने लगे हैं और अपनी जिज्ञासा शांत करने लगे हैं आप ही करा इस बारे में कम से कम अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn ek baar padhane kee ruchi jigyaasa khatm ho jaana isaka manovigyaan kya hai to aapako bata den ki dekhie ek baar aisa nahin jaanata padata tha kya usako khabaren kee aavashyakata hotee thee kisako pata karana hota tha ki kya chal raha hai kya nahin duniya mein kya chal raha hai desh mein kya chal raha hai ab yah saaree cheejen onalain ho leval hai aur a1 smaartaphon mein itanee saaree aap sabake aa jaatee hai jisamen bahut saaree khabaren aapako lene notiphikeshans turant jaanakaariyaan praapt ho jaatee hai to aise mein jo akhabaar padhane kee jo ichchha hotee thee vahaan par kaheen na kaheen kamee aaee hai logon mein aur vah jigyaasa utanee jyaada badee nahin rah gaee hai kyonki yahaan par onalain tareekon se bhee log ab isaka prayog karane lage hain aur apanee jigyaasa shaant karane lage hain aap hee kara is baare mein kam se kam apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
chandan soren Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए chandan जी का जवाब
Unknown
0:03

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना
URL copied to clipboard