#भारत की राजनीति

bolkar speaker

बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?

Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:59
नमस्कार दोस्तों सभी कोरोनावायरस महामारी पूरी तरह से खत्म नहीं हो उसी समय भारत में वापस से आगे ब्लू कितना पुराना है कहां पहली बार आया तो इसके बारे में जानते हैं कि सामान्य फ्लू की तरह ही होता है यह बीमारी एवियन इनफ्लुएंजा विषाणु भाई बहन की वजह से होती है यह विषाणु पक्षियों के अलावा इंसानों को भी शिकार बना सकता है बर्ड फ्लू का संक्रमण मुर्गा मोर और बत्तख जैसे पक्षों से तेजी से फैलता है बर्ड फ्लू का मुख्य कारण पक्षियों को ही माना जाता है हालांकि कई बार इंसान से इंसान को भी हो जाता है यह बेकार इंसान पर मौत का खतरा भी होता है इंसान से इंसान में बर्ड फ्लू के संक्रमण का जोखिम कम है पर पक्षियों के संपर्क में आए विश्व स्वास्थ्य संगठन के अलावा दुनिया भर के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि यह बहुत खतरनाक बीमारी है इसमें शंकर में तो की मृत्यु दर 60 फीसद तक है यानी हर 10 में से 5 लोगों की जान जा सकती है बट्टू के अब तक 11 विषाणु का पता चला है इनमें से पांच इंसानों के लिए जानलेवा है यह ek511 h7m 3878 787 989 इनमें सबसे खतरनाक होता है h5 एनुअल विषाणु यही पहली बार बडसू विषाणु तक पहला विषाणु था यह पढ़ चुका जितने इंसानों को भी संक्रमित किया था एक पवन से पहली बार मनुष्य के संक्रमण होने की घटना ज्यादा पुरानी नहीं है इसका पहला मामला साल 1997 में हांगकांग में आया था अब तक दुनिया में चार बार बड़े पैमाने पर फैल चुका है और यह 60000 देशों में महामारी का रूप ले चुका 2003 से अब तक लगातार या किसी ना किसी देश में अपना असर दिखाता रहा है अमेरिकी हेल्थ एजेंसी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कुछ साल पहले इसके लिए टीके के प्रारूप को मंजूरी भी दे दी है लेकिन अभी वह लोगों के लोग उपलब्ध नहीं है धन्यवाद
Namaskaar doston sabhee koronaavaayaras mahaamaaree pooree tarah se khatm nahin ho usee samay bhaarat mein vaapas se aage bloo kitana puraana hai kahaan pahalee baar aaya to isake baare mein jaanate hain ki saamaany phloo kee tarah hee hota hai yah beemaaree eviyan inaphluenja vishaanu bhaee bahan kee vajah se hotee hai yah vishaanu pakshiyon ke alaava insaanon ko bhee shikaar bana sakata hai bard phloo ka sankraman murga mor aur battakh jaise pakshon se tejee se phailata hai bard phloo ka mukhy kaaran pakshiyon ko hee maana jaata hai haalaanki kaee baar insaan se insaan ko bhee ho jaata hai yah bekaar insaan par maut ka khatara bhee hota hai insaan se insaan mein bard phloo ke sankraman ka jokhim kam hai par pakshiyon ke sampark mein aae vishv svaasthy sangathan ke alaava duniya bhar ke svaasthy visheshagyon ka maanana hai ki yah bahut khataranaak beemaaree hai isamen shankar mein to kee mrtyu dar 60 pheesad tak hai yaanee har 10 mein se 5 logon kee jaan ja sakatee hai battoo ke ab tak 11 vishaanu ka pata chala hai inamen se paanch insaanon ke lie jaanaleva hai yah aik511 h7m 3878 787 989 inamen sabase khataranaak hota hai h5 enual vishaanu yahee pahalee baar badasoo vishaanu tak pahala vishaanu tha yah padh chuka jitane insaanon ko bhee sankramit kiya tha ek pavan se pahalee baar manushy ke sankraman hone kee ghatana jyaada puraanee nahin hai isaka pahala maamala saal 1997 mein haangakaang mein aaya tha ab tak duniya mein chaar baar bade paimaane par phail chuka hai aur yah 60000 deshon mein mahaamaaree ka roop le chuka 2003 se ab tak lagaataar ya kisee na kisee desh mein apana asar dikhaata raha hai amerikee helth ejensee phood end drag edaministreshan ne kuchh saal pahale isake lie teeke ke praaroop ko manjooree bhee de dee hai lekin abhee vah logon ke log upalabdh nahin hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:30
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया था एक प्रकार है यह पक्षियों में वायरस के संक्रमण से या वायरस लेता है और पक्षियों की आदत यह बीमारी होती है ज्यादा करके मुर्गे और चिड़िया जो होते हैं उनमें आश्रय लेता है इसका जवाब है क्या जो प्रकार है जो बहुत घातक साबित हो रहा है वह है यह चौपाई हनुमान एवियन इनफ्लुएंजा किसका बेटा है मानो अंधारी प्राणियों में यह हो सकता है लेकिन इसके लक्षण सांस में थोड़ी तकलीफ होना या थोड़ी छोड़ा शरीर गर्म होने से साधारण लक्षण दिखाई देते पहले यह 888 में इटली के ही एक पक्षी को पक्षी में पाया गया था उसके बाद से 19 अट्ठारह 1919 में स्पेनिश फ्लू नाम से मशहूर हुआ और लगभग 5 से 10 करोड जाने के लिए आशिया में यीशु का 1957 में पाया गया इसमें भी 1000000 लोगों की मौत हो गई उसको हमको क्यूबी 1968 में कहां गए वहां पर भी 1000000 लोगों की मौत हो गई 1997 मैं हांगकांग में पहले चलो लोगो मृत हुए तो इस प्रकार भारत में पहली बार असम और बंगाल में यह पाया गया और 6 महीने के अंतराल में ऐसे लक्षण हो जो है वह पक्षियों में दिखाई देता क्या 6 महीने के अंतराल में तो बहुत सारे देश इसके उपाय खोज रहे हैं और वह डालो का खर्चा करके उस पर उपचार उपाय खोज रहे हैं वैक्सीन की खोज भी चल रही है और मुख्यता वैज्ञानिक बताते हैं कि स्वच्छता की भयंकर कमी इसका मूल कारण है या मुख्य कारण है तो यह जो है इस तरीके से दुनिया भर में यह फैला हुआ है और एक बड़ी समस्या बंद कर खड़ा है धन्यवाद
Bard phloo ka maamala duniya mein pahalee baar kab aur kis raajy mein aaya tha ek prakaar hai yah pakshiyon mein vaayaras ke sankraman se ya vaayaras leta hai aur pakshiyon kee aadat yah beemaaree hotee hai jyaada karake murge aur chidiya jo hote hain unamen aashray leta hai isaka javaab hai kya jo prakaar hai jo bahut ghaatak saabit ho raha hai vah hai yah chaupaee hanumaan eviyan inaphluenja kisaka beta hai maano andhaaree praaniyon mein yah ho sakata hai lekin isake lakshan saans mein thodee takaleeph hona ya thodee chhoda shareer garm hone se saadhaaran lakshan dikhaee dete pahale yah 888 mein italee ke hee ek pakshee ko pakshee mein paaya gaya tha usake baad se 19 atthaarah 1919 mein spenish phloo naam se mashahoor hua aur lagabhag 5 se 10 karod jaane ke lie aashiya mein yeeshu ka 1957 mein paaya gaya isamen bhee 1000000 logon kee maut ho gaee usako hamako kyoobee 1968 mein kahaan gae vahaan par bhee 1000000 logon kee maut ho gaee 1997 main haangakaang mein pahale chalo logo mrt hue to is prakaar bhaarat mein pahalee baar asam aur bangaal mein yah paaya gaya aur 6 maheene ke antaraal mein aise lakshan ho jo hai vah pakshiyon mein dikhaee deta kya 6 maheene ke antaraal mein to bahut saare desh isake upaay khoj rahe hain aur vah daalo ka kharcha karake us par upachaar upaay khoj rahe hain vaikseen kee khoj bhee chal rahee hai aur mukhyata vaigyaanik bataate hain ki svachchhata kee bhayankar kamee isaka mool kaaran hai ya mukhy kaaran hai to yah jo hai is tareeke se duniya bhar mein yah phaila hua hai aur ek badee samasya band kar khada hai dhanyavaad

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
1:20
टीकम फ्रेंड्स प्रश्न है बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया मैं आपको बताना चाहता हूं बर्ड फ्लू का मामला रसिया में करीब 1957 में पाया गया जिसमें करीब 1000000 लोग मारे गए और फिर हांगकांग में भी उतनी ही जनसंख्या 10 लोग मारे गए तो उसमें इसका नाम हॉन्ग कोंग कोंग फ्लू रखा गया फिर इस भारत में पहली बार असम और बंगाल के क्षेत्र में आया और इसमें कई सारे पक्षी मारे गए इसमें 6 मंथ में पक्षियों में संक्रमण दिख जाता है और इसका यह वायरस होने का सबसे बड़ा कारण है स्वच्छता स्वच्छता रहेगी तो यह कम है लेगा और अगर स्वच्छता ना रहेगी तो यह बहुत अत्यधिक है देगा या बर्ड फ्लू के कई सारे वैज्ञानिक इसका उपचार वैक्सीन खोज रहे हैं हैं और इसके उपचार में करीब $3 खर्च हो चुके हैं इसके उपचार जल्द ही आ ही जाएगा यह भी जवाब ट्रेंड में है धन्यवाद
Teekam phrends prashn hai bard phloo ka maamala duniya mein pahalee baar kab aur kis raajy mein aaya main aapako bataana chaahata hoon bard phloo ka maamala rasiya mein kareeb 1957 mein paaya gaya jisamen kareeb 1000000 log maare gae aur phir haangakaang mein bhee utanee hee janasankhya 10 log maare gae to usamen isaka naam hong kong kong phloo rakha gaya phir is bhaarat mein pahalee baar asam aur bangaal ke kshetr mein aaya aur isamen kaee saare pakshee maare gae isamen 6 manth mein pakshiyon mein sankraman dikh jaata hai aur isaka yah vaayaras hone ka sabase bada kaaran hai svachchhata svachchhata rahegee to yah kam hai lega aur agar svachchhata na rahegee to yah bahut atyadhik hai dega ya bard phloo ke kaee saare vaigyaanik isaka upachaar vaikseen khoj rahe hain hain aur isake upachaar mein kareeb $3 kharch ho chuke hain isake upachaar jald hee aa hee jaega yah bhee javaab trend mein hai dhanyavaad

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:25
यह आपका सवाल है कि बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया था तो दुनिया का सबसे पहला मामला 1991 में बनाया था वह चीन देश के गुणगान गुआंगडोंग राज्य से था धन्यवाद
Yah aapaka savaal hai ki bard phloo ka maamala duniya mein pahalee baar kab aur kis raajy mein aaya tha to duniya ka sabase pahala maamala 1991 mein banaaya tha vah cheen desh ke gunagaan guaangadong raajy se tha dhanyavaad

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:06

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
3:26
कॉल किया गया बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया दोस्तों हाल फिलाल के अंदर करो ना मामा जी के बेटा भारत के कई राज्यों में बर्ड फ्लू के मामले बढ़ते जा रहे हैं राजस्थान मध्य प्रदेश झारखंड हरियाणा हिमाचल प्रदेश में इस वायरस को लेकर के अलर्ट जारी कर दिया गया है पोल्ट्री फॉर्म जलाशयों और प्रवासी पक्षियों पर विशेष निगरानी रखने को कहा गया है और साथ ही संक्रमण फैलने वाले जो गोबर मांस बेचने पर भी प्रतिबंध लगाया जा रहा है दिसंबर 2020 में 200 जापान साउथ कोरिया और वियतनाम और चार यूरोप के देशों में बर्ड फ्लू के मामले में शुरू हुए थे और अभी भारत के कई हिस्सों में फैल चुका है यदि बात करोगी तो एक वायरस से फैलता है बड़ों का सबसे जानलेवा nh-5 एंड वन होता है एच एन वन वायरस से संक्रमित पक्षियों की जब मौत भी हो सकती है यह वायरस संक्रमित पक्षियों से अन्य जानवरों और इन फैल सकता है पर इनमें से भी यह वायरस जो है इतना ही खतरनाक है इंसानों में दोस्तों बर्ड फ्लू का पहला मामला 1997 में हांगकांग में आया था उस समय इस के प्रकोप की वजह पोल्ट्री फॉर्म में संक्रमित मुर्गियों को बताया गया 1997 में बर्ड फ्लू से संक्रमित लगभग 20 लोगों की मौत हो गई थी यह बीमारी संक्रमित पक्षी अमरनाथ और मुंह की लार या फिर आंखों से निकलने वाली पानी के संपर्क में आने से होती है h51 बर्ड दो इंसानों में होने वाले आम फूलों की तरह एक व्यक्ति से दूसरे में आसानी से नहीं फैलता है एक इंसान से दूसरे इंसान में तभी फैलता है जब दोनों के बीच बहुत करीबी संपर्क हो जैसे कि संक्रमित बच्चे की देखभाल करने वाली माया घर के किसी अन्य संक्रमित सदस्य का ख्याल करने वाले लोग दोस्तों खतरनाक तो है यह बीमारी इसके अतिरिक्त आपको बता दें कि बर्ड फ्लू प्रवासी जलीय पक्षी और खास तौर से जलीय बतख के प्राकृतिक रूप से फैलता है इन जंगली पक्षियों से यह वायरस घरेलू मुर्गियों में फैल जाता है जंगली पक्षियों से यह बीमारी चोरों और गधों तक भी व्यर्थ जाती है साल 2011 तक यह बीमारी दोस्तों बांग्लादेश चीन मित्र भारत इंडोनेशिया और वियतनाम में फैल चुकी थी और 1 फ्लोर इंसानों में तभी फैलता है जब वह किसी संक्रमित पक्षी के संपर्क में आए हो यह करीबी संपर्क कई मामलों में अलग-अलग हो सकते हैं कुछ लोग भी संक्रमित पक्षियों की साफ सफाई से फैल सकता है कुछ रिपोर्ट के मुताबिक चीन में यह पक्षियों के बाजार से फैला था और संक्रमित पक्षियों से दूषित पानी में तैरने नहाने और पक्षियों की लड़ाई करवाने वाले लोगों में भी बर्ड फ्लू का संक्रमण हो सकता है इसके अलावा संक्रमित जगह पर जाने वाले कब शायद पता मुर्गा अंडा खाने वाले लोगों में भी बर्ड फ्लू फैलने का खतरा होता है h51 में लंबे समय तक जीवित रहने की क्षमता होती है और संक्रमित पक्षियों के मल और लार में यह वायरस 10 दिनों तक जिंदा रहता है यह बीमारी खतरनाक तो है यह तरीके से और इसके लक्षण कि अभी बात करें तो बडू होने पर आपको कब होगा डायरिया व बुखार होगा साथ से जुड़े दिक्कत होगी किरदार मांसपेशियों में दर्द होगी गले में खराश नाक बहना और बेचैनी जैसी समस्या हो सकती है अगर आपको लगता है कि आप बर्ड फ्लू की चपेट में आ गए हैं तो आप किसी और के संपर्क में आने से पहले एक बार डॉक्टर को जरूर दिखाएं इसका इलाज भी दोस्तों आपका हो जाएगा धन्यवाद
Kol kiya gaya bard phloo ka maamala duniya mein pahalee baar kab aur kis raajy mein aaya doston haal philaal ke andar karo na maama jee ke beta bhaarat ke kaee raajyon mein bard phloo ke maamale badhate ja rahe hain raajasthaan madhy pradesh jhaarakhand hariyaana himaachal pradesh mein is vaayaras ko lekar ke alart jaaree kar diya gaya hai poltree phorm jalaashayon aur pravaasee pakshiyon par vishesh nigaraanee rakhane ko kaha gaya hai aur saath hee sankraman phailane vaale jo gobar maans bechane par bhee pratibandh lagaaya ja raha hai disambar 2020 mein 200 jaapaan sauth koriya aur viyatanaam aur chaar yoorop ke deshon mein bard phloo ke maamale mein shuroo hue the aur abhee bhaarat ke kaee hisson mein phail chuka hai yadi baat karogee to ek vaayaras se phailata hai badon ka sabase jaanaleva nh-5 end van hota hai ech en van vaayaras se sankramit pakshiyon kee jab maut bhee ho sakatee hai yah vaayaras sankramit pakshiyon se any jaanavaron aur in phail sakata hai par inamen se bhee yah vaayaras jo hai itana hee khataranaak hai insaanon mein doston bard phloo ka pahala maamala 1997 mein haangakaang mein aaya tha us samay is ke prakop kee vajah poltree phorm mein sankramit murgiyon ko bataaya gaya 1997 mein bard phloo se sankramit lagabhag 20 logon kee maut ho gaee thee yah beemaaree sankramit pakshee amaranaath aur munh kee laar ya phir aankhon se nikalane vaalee paanee ke sampark mein aane se hotee hai h51 bard do insaanon mein hone vaale aam phoolon kee tarah ek vyakti se doosare mein aasaanee se nahin phailata hai ek insaan se doosare insaan mein tabhee phailata hai jab donon ke beech bahut kareebee sampark ho jaise ki sankramit bachche kee dekhabhaal karane vaalee maaya ghar ke kisee any sankramit sadasy ka khyaal karane vaale log doston khataranaak to hai yah beemaaree isake atirikt aapako bata den ki bard phloo pravaasee jaleey pakshee aur khaas taur se jaleey batakh ke praakrtik roop se phailata hai in jangalee pakshiyon se yah vaayaras ghareloo murgiyon mein phail jaata hai jangalee pakshiyon se yah beemaaree choron aur gadhon tak bhee vyarth jaatee hai saal 2011 tak yah beemaaree doston baanglaadesh cheen mitr bhaarat indoneshiya aur viyatanaam mein phail chukee thee aur 1 phlor insaanon mein tabhee phailata hai jab vah kisee sankramit pakshee ke sampark mein aae ho yah kareebee sampark kaee maamalon mein alag-alag ho sakate hain kuchh log bhee sankramit pakshiyon kee saaph saphaee se phail sakata hai kuchh riport ke mutaabik cheen mein yah pakshiyon ke baajaar se phaila tha aur sankramit pakshiyon se dooshit paanee mein tairane nahaane aur pakshiyon kee ladaee karavaane vaale logon mein bhee bard phloo ka sankraman ho sakata hai isake alaava sankramit jagah par jaane vaale kab shaayad pata murga anda khaane vaale logon mein bhee bard phloo phailane ka khatara hota hai h51 mein lambe samay tak jeevit rahane kee kshamata hotee hai aur sankramit pakshiyon ke mal aur laar mein yah vaayaras 10 dinon tak jinda rahata hai yah beemaaree khataranaak to hai yah tareeke se aur isake lakshan ki abhee baat karen to badoo hone par aapako kab hoga daayariya va bukhaar hoga saath se jude dikkat hogee kiradaar maansapeshiyon mein dard hogee gale mein kharaash naak bahana aur bechainee jaisee samasya ho sakatee hai agar aapako lagata hai ki aap bard phloo kee chapet mein aa gae hain to aap kisee aur ke sampark mein aane se pahale ek baar doktar ko jaroor dikhaen isaka ilaaj bhee doston aapaka ho jaega dhanyavaad

bolkar speaker
बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस राज्य में आया?Bird Flu Ka Mamla Duniya Mein Pehli Baar Kab Aur Kis Rajya Mein Aaya
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न ए बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब और किस जगह पर आया था तो दोस्तों यह 1960 के करीब रसिया में फैला था और इसमें बहुत लोगों की मौत भी हो गई थी रसिया में बहुत जोर जोरों शोरों से व्हाट्सएप है रहा था तभी यही से शुरुआत हुई थी लोगों को पता ही नहीं चल पा रहा था कि यह कौन सी बीमारी है तो इससे करीबन 10 लाख लोग इसे मर गए थे और काफी लोग प्रभावित हुए थे बट हुए काफी खतरनाक बीमारी है कोरोनावायरस की तरह तो दोस्तों अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज लाइक करें
Namaskaar doston aapaka prashn e bard phloo ka maamala duniya mein pahalee baar kab aur kis jagah par aaya tha to doston yah 1960 ke kareeb rasiya mein phaila tha aur isamen bahut logon kee maut bhee ho gaee thee rasiya mein bahut jor joron shoron se vhaatsep hai raha tha tabhee yahee se shuruaat huee thee logon ko pata hee nahin chal pa raha tha ki yah kaun see beemaaree hai to isase kareeban 10 laakh log ise mar gae the aur kaaphee log prabhaavit hue the bat hue kaaphee khataranaak beemaaree hai koronaavaayaras kee tarah to doston agar aapako jaanakaaree achchhee lagee ho to pleej laik karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बर्ड फ्लू का मामला दुनिया में पहली बार कब आया बर्ड फ्लू का मामला
URL copied to clipboard