#जीवन शैली

bolkar speaker

समाधि क्या है, वर्णन करें?

Samadhi Kya Hai Varnan Karein
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
5:39
समाधि क्या है परमात्मा तथा जीवात्मा के एक ही बाप के संबंध में निश्चय आत्मक बुद्धि का प्रकट होना ही समाधि भगवान दत्तात्रेय कहते हैं सांसारिक बंधनों का नाश कर देने वाली समाधि का में विस्तार पूर्वक वर्णन करता हूं यह आत्मा अविनाशी नित्य सर्वव्यापी एक रस एवं सर्व दो सीन है यह एक होते हुए भी माया द्वारा उत्पन्न हुए भ्रम के कारण इसकी प्रथक प्रथक प्रतीत होती है यथार्थ में उसमें कोई भी वेद नहीं है इस कारण केवल अद्वैत ही सत्य स्वरूप है कृपया संसार नामक कोई भी वस्तु नहीं है जिस प्रकार आकाश को घटा का एवं आकाश भी कहा जाता है उसी प्रकार अज्ञानी मनुष्य एक ही परमात्मा को जीव एवं ईश्वर इन दो रूपों में मानते हैं ना मैं शरीर हूं ना मैं प्राण हूं ना मैं इंद्री सामू हूं और ना मैं मांगू सदैव साक्षी रूप में स्थित होने के कारण में एकमात्र स्वरूप परमात्मा तत्व आत्मा हे श्रेष्ठ मुनि इस प्रकार की जो श्रेष्ठ निश्चय आत्मक बुद्धि है उसी को समाधि कहा गया है जब साधक युग पथ पर पूर्ण मनोयोग के साथ आगे बढ़ता है तथा यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा और ध्यान के चरणों का अधिक से अधिक पालन करता है तो आज्ञा चक्र में उसका ध्यान लगने लगता है धीरे-धीरे ध्यान पूर्ण एकाग्रता की अवस्था को प्राप्त कर लेता है मन पूर्णतया साधक के बस में होता जाता है जो मन पहले तरह-तरह के विचारों में भटकता रहता था अब वह आज्ञा चक्र स्थान पर ही प्रकाश स्वरूप परमात्मा के ध्यान में लगा रहता है धीरे-धीरे आज्ञा चक्र से वह प्रकाश ब्रह्मरंध्र की ओर फैलने लगता है और संपूर्ण मस्त प्रकाशमान प्रतीत होने लगता है मस्तिष्क मध्य आनंददाई श्वेत प्रकाश का साक्षात्कार होने लगता है संपूर्ण तन बदन में एक असीम उल्लास एवं आनंद की अनुभूति होने लगती है घंटों ध्यान में बैठे रहने पर भी शरीर का कोई अंग दर्द से व्याकुल नहीं होता बल्कि जितना अधिक समय साधक साधना करता है उतना ही अधिक आनंद विभोर होता जाता है साधक सिर्फ और सिर्फ सच्चिदानंद के रूप में अपने आप का साक्षात्कार करने लगता है उसका मस्तिष्क श्वेत शीतल आनंददाई प्रकाश से भर जाता है स्वयं ही देखता है कि मैं आनंद स्वरूप हूं मैं प्रकाश स्वरूप हूं मैं संसार के समस्त पंचों से रहे थे मैं सविता शोरूम यह आनंदा नुगत संप्रग याद समाधि है ऐसी तिथि में मस्त मध्य ब्रह्मरंध्र के नीचे पीयूष ग्रंथि के स्थान पर अत्यधिक हार्मोन शराब का अहसास होने लगता है इसी को वेद एवं योग ग्रंथों में अमृत कहा गया है इस हारमोन स्राव के प्रभाव से साधक का शरीर दिव्य होने लगता है शरीर में आकाश तत्व का प्रभाव अत्यधिक बढ़ने लगता है समस्त प्रकार की व्याधियों समाप्त होने लगती हैं शरीर में व्याप्त छोरियां समाप्त होने लगती हैं जिससे साधक की वास्तविक आयु के अनुपात में साधक बहुत कम आयु का दिखाई देता है ऐसे साधक के संकल्प मात्र से संसार में बहुत कुछ बदलने लगता है इससे आगे बढ़ने पर स्थिति घटित होती है जहां पर साधक का मस्तिष्क पूर्ण निर्विचार निर्विकल्प अवस्था को प्राप्त कर लेता है और वह पूर्णरूपेण शरीर बहन को खो देता है ध्यान में बैठे हुए ऐसे साधक को अपने शरीर के साथ जिसका ध्यान कर रहा है उसे देखा भी ज्ञान नहीं रहता माया द्वारा रचित इस संसार का अस्तित्व साधक के लिए पूर्णरूपेण समाप्त हो जाता है इस समाधि को निर्मित निर्विकल्प या असम प्रज्ञात समाधि कहते हैं क्योंकि इस स्थिति में संस्कारों के समस्त आवरण नष्ट हो जाते हैं साधक पूर्ण ब्रह्म में स्थित स्थिति प्राप्त कर लेता है यह स्थिति साधारण जीवन की नहीं अपितु ब्रह्म अभी की स्थिति का अनुभव करवाती है यही समाधि है यही आत्मा का परमात्मा हां मैं भूमि योग है जिस लक्ष्य को लेकर योग साधना प्रारंभ की थी अबे पूर्ण हो चुका है साधक आत्मा से परमात्मा एवं नर से नारायण में परिवर्तित हो जाता है जय जय गुरुदेव
Samaadhi kya hai paramaatma tatha jeevaatma ke ek hee baap ke sambandh mein nishchay aatmak buddhi ka prakat hona hee samaadhi bhagavaan dattaatrey kahate hain saansaarik bandhanon ka naash kar dene vaalee samaadhi ka mein vistaar poorvak varnan karata hoon yah aatma avinaashee nity sarvavyaapee ek ras evan sarv do seen hai yah ek hote hue bhee maaya dvaara utpann hue bhram ke kaaran isakee prathak prathak prateet hotee hai yathaarth mein usamen koee bhee ved nahin hai is kaaran keval advait hee saty svaroop hai krpaya sansaar naamak koee bhee vastu nahin hai jis prakaar aakaash ko ghata ka evan aakaash bhee kaha jaata hai usee prakaar agyaanee manushy ek hee paramaatma ko jeev evan eeshvar in do roopon mein maanate hain na main shareer hoon na main praan hoon na main indree saamoo hoon aur na main maangoo sadaiv saakshee roop mein sthit hone ke kaaran mein ekamaatr svaroop paramaatma tatv aatma he shreshth muni is prakaar kee jo shreshth nishchay aatmak buddhi hai usee ko samaadhi kaha gaya hai jab saadhak yug path par poorn manoyog ke saath aage badhata hai tatha yam niyam aasan praanaayaam pratyaahaar dhaarana aur dhyaan ke charanon ka adhik se adhik paalan karata hai to aagya chakr mein usaka dhyaan lagane lagata hai dheere-dheere dhyaan poorn ekaagrata kee avastha ko praapt kar leta hai man poornataya saadhak ke bas mein hota jaata hai jo man pahale tarah-tarah ke vichaaron mein bhatakata rahata tha ab vah aagya chakr sthaan par hee prakaash svaroop paramaatma ke dhyaan mein laga rahata hai dheere-dheere aagya chakr se vah prakaash brahmarandhr kee or phailane lagata hai aur sampoorn mast prakaashamaan prateet hone lagata hai mastishk madhy aanandadaee shvet prakaash ka saakshaatkaar hone lagata hai sampoorn tan badan mein ek aseem ullaas evan aanand kee anubhooti hone lagatee hai ghanton dhyaan mein baithe rahane par bhee shareer ka koee ang dard se vyaakul nahin hota balki jitana adhik samay saadhak saadhana karata hai utana hee adhik aanand vibhor hota jaata hai saadhak sirph aur sirph sachchidaanand ke roop mein apane aap ka saakshaatkaar karane lagata hai usaka mastishk shvet sheetal aanandadaee prakaash se bhar jaata hai svayan hee dekhata hai ki main aanand svaroop hoon main prakaash svaroop hoon main sansaar ke samast panchon se rahe the main savita shoroom yah aananda nugat samprag yaad samaadhi hai aisee tithi mein mast madhy brahmarandhr ke neeche peeyoosh granthi ke sthaan par atyadhik haarmon sharaab ka ahasaas hone lagata hai isee ko ved evan yog granthon mein amrt kaha gaya hai is haaramon sraav ke prabhaav se saadhak ka shareer divy hone lagata hai shareer mein aakaash tatv ka prabhaav atyadhik badhane lagata hai samast prakaar kee vyaadhiyon samaapt hone lagatee hain shareer mein vyaapt chhoriyaan samaapt hone lagatee hain jisase saadhak kee vaastavik aayu ke anupaat mein saadhak bahut kam aayu ka dikhaee deta hai aise saadhak ke sankalp maatr se sansaar mein bahut kuchh badalane lagata hai isase aage badhane par sthiti ghatit hotee hai jahaan par saadhak ka mastishk poorn nirvichaar nirvikalp avastha ko praapt kar leta hai aur vah poornaroopen shareer bahan ko kho deta hai dhyaan mein baithe hue aise saadhak ko apane shareer ke saath jisaka dhyaan kar raha hai use dekha bhee gyaan nahin rahata maaya dvaara rachit is sansaar ka astitv saadhak ke lie poornaroopen samaapt ho jaata hai is samaadhi ko nirmit nirvikalp ya asam pragyaat samaadhi kahate hain kyonki is sthiti mein sanskaaron ke samast aavaran nasht ho jaate hain saadhak poorn brahm mein sthit sthiti praapt kar leta hai yah sthiti saadhaaran jeevan kee nahin apitu brahm abhee kee sthiti ka anubhav karavaatee hai yahee samaadhi hai yahee aatma ka paramaatma haan main bhoomi yog hai jis lakshy ko lekar yog saadhana praarambh kee thee abe poorn ho chuka hai saadhak aatma se paramaatma evan nar se naaraayan mein parivartit ho jaata hai jay jay gurudev

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • समाधि का अर्थ क्या है, समाधि के प्रकार का वर्णन कीजिए, समाधि स्थल क्या होता है
URL copied to clipboard