#जीवन शैली

Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Unknown
0:44
देखिए इंसान के जीवन में कोई ऐसी अवस्था नहीं है बुढ़ापा से लेकर बचपन तक कोई भी ऐसी व्यवस्था नहीं है जहां पर सारी संबंधों को लेकर उसका मुंह नहीं लगता है हमेशा उसका मुंह लगता है रहता है जब तक कि कोई मनुष्य अपनी इंद्रियों को वश में नहीं कर लेता है जब मनुष्य अपने चाहतों इंद्रियों को ऑटो कोई भी एडमिन सीन इन इंद्रियों को अपने वश में कर लेते हैं दुआ मोम शिवबचा रहा था अन्यथा जो भी इस संसार में जन्म लिया है वह हमेशा मुंह बंधन में बना ही रहता है
Dekhie insaan ke jeevan mein koee aisee avastha nahin hai budhaapa se lekar bachapan tak koee bhee aisee vyavastha nahin hai jahaan par saaree sambandhon ko lekar usaka munh nahin lagata hai hamesha usaka munh lagata hai rahata hai jab tak ki koee manushy apanee indriyon ko vash mein nahin kar leta hai jab manushy apane chaahaton indriyon ko oto koee bhee edamin seen in indriyon ko apane vash mein kar lete hain dua mom shivabacha raha tha anyatha jo bhee is sansaar mein janm liya hai vah hamesha munh bandhan mein bana hee rahata hai

और जवाब सुनें

A.k.s. Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए A.k.s. जी का जवाब
Teacher
3:32
अगर यदि कहा जाए कि इंसान के जीवन की व्यवस्था कौन सी है जब से सारी संबंधों से मोहभंग होने लगता है तो यह कहना देखिए सभी लोग कह देंगे कि यह होते ही वृद्धावस्था जब लोग शारीरिक संबंधों से मोहभंग उनका होने लगता है इनकी वह सेक्स के प्रति उनके विचार जो है वह कम होने लगते हैं और उससे दूरी बना लेते हैं पर यह कहना पूर्णता गलत होगा आज के अगर देखा जाए वर्तमान के बात करें तो आज वृद्धावस्था के जो वृद्ध लोग हैं वह भी सारिक संबंध बनाने की चाहत रख रहे हैं तो ऐसे नहीं जो है चाहे किशोरावस्था हो या फिर वृद्धावस्था हो सभी के अंदर हो चाहत होती है किंतु अगर यदि आपके विचार करें भी अच्छे हैं आप को अच्छे संस्कार घर मिले हैं तो आप शरीर संबंधों से दूरी को आप बाल्यावस्था से ही बना सकते हैं किशोरावस्था में भी बना सकते हैं फर्क सिर्फ यहां पर यह है कि हमारे हमें जो संस्कार हो किस प्रकार से मिले हैं और वह हमारे जो विचारधारा है जो वह किस प्रकार की हैं अगर यदि किसी व्यक्ति को देखें तो बाल्यावस्था से ही उसका शारीरिक संबंध से यहां तक कि भौतिक सुखों से भी उसका मोह भंग हो जाता है और वह सरल और सादा जीवन जीने लगता है अगर उसी बात को करके अगर हम दूसरे नजर से देखें तो एक वृद्ध अगर आदमी को देखें तो वह अपनी वृद्धावस्था में भी सारी संबंध बनाने की चाहत रखता है उस व्यक्ति के उसके संस्कार और उसके कर्तव्यों के उसकी विचारधारा के ऊपर निर्भर करता है तिवारी संबंध जो है किस अवस्था में क्या करेगा यह जरूरी नहीं है सिर्फ वृद्धावस्था में क्या करें बहुत से लोग आपको उदाहरण मिल जाएंगे जब को बाल्यावस्था में ही आपको शरीर संबंध से मतलब दूर हो जाते हैं और साथ ही साथ किशोरावस्था में भी आपको दूर देखने को मिलेंगे अब किससे बात करें तो एग्जांपल के तौर पर उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ को देख लीजिए उन्होंने जो है संतमत को धारण किया है अभी बात और है कि उनके मन में क्या है उनके दिल में क्या है वह क्या करते हैं पलकें दिखावे के तौर पर उदाहरण के तौर पर पेश नहीं यही है कि उन्होंने जो है इन सब चीजों से दूरी बना ली है जबकि वह भी किशोरावस्था में ही मानते हैं क्योंकि उनको इस बात को बताते हैं कि संबंध से मोह भंग करने के लिए कोई व्यवस्था जरूरी नहीं है वह अवस्था बाल्यावस्था भी हो सकती है किशोरावस्था अब तो आमतौर पर वृद्धावस्था ही सही माना जाता है कि किशोरावस्था होती है तब तक हमारे मन में जो विचार होते हैं वह होते हैं और ऐसे में लोग जो हैं उसके प्रति आकर्षित होते रहते हैं लेकिन जब वृद्धावस्था कि जब उसकी उम्र हो जाते हैं तब व्यक्ति भौतिक सुखों का त्याग करके ईश्वर के प्रति उनका रुझान हो जाता है तो मेरी नजर में तो कोई व्यवस्था नहीं है मेरी नजर में सभी अवस्थाएं हैं बस अगर यह कोई चीज है तो वह जरूरी है कि उसके विचार और उसके संस्कार व किस तरफ अमल किस अवस्था में उसे मिलते हैं अगर से बाल अवस्था में अच्छे संस्कार मिल जाए तो वह है इन सब चीजों से बाल्यावस्था में दूरी बना सकता है नहीं तो किशोरावस्था सकता है लेकिन बना सकता है धन्यवाद
Agar yadi kaha jae ki insaan ke jeevan kee vyavastha kaun see hai jab se saaree sambandhon se mohabhang hone lagata hai to yah kahana dekhie sabhee log kah denge ki yah hote hee vrddhaavastha jab log shaareerik sambandhon se mohabhang unaka hone lagata hai inakee vah seks ke prati unake vichaar jo hai vah kam hone lagate hain aur usase dooree bana lete hain par yah kahana poornata galat hoga aaj ke agar dekha jae vartamaan ke baat karen to aaj vrddhaavastha ke jo vrddh log hain vah bhee saarik sambandh banaane kee chaahat rakh rahe hain to aise nahin jo hai chaahe kishoraavastha ho ya phir vrddhaavastha ho sabhee ke andar ho chaahat hotee hai kintu agar yadi aapake vichaar karen bhee achchhe hain aap ko achchhe sanskaar ghar mile hain to aap shareer sambandhon se dooree ko aap baalyaavastha se hee bana sakate hain kishoraavastha mein bhee bana sakate hain phark sirph yahaan par yah hai ki hamaare hamen jo sanskaar ho kis prakaar se mile hain aur vah hamaare jo vichaaradhaara hai jo vah kis prakaar kee hain agar yadi kisee vyakti ko dekhen to baalyaavastha se hee usaka shaareerik sambandh se yahaan tak ki bhautik sukhon se bhee usaka moh bhang ho jaata hai aur vah saral aur saada jeevan jeene lagata hai agar usee baat ko karake agar ham doosare najar se dekhen to ek vrddh agar aadamee ko dekhen to vah apanee vrddhaavastha mein bhee saaree sambandh banaane kee chaahat rakhata hai us vyakti ke usake sanskaar aur usake kartavyon ke usakee vichaaradhaara ke oopar nirbhar karata hai tivaaree sambandh jo hai kis avastha mein kya karega yah jarooree nahin hai sirph vrddhaavastha mein kya karen bahut se log aapako udaaharan mil jaenge jab ko baalyaavastha mein hee aapako shareer sambandh se matalab door ho jaate hain aur saath hee saath kishoraavastha mein bhee aapako door dekhane ko milenge ab kisase baat karen to egjaampal ke taur par uttar pradesh mukhyamantree seeem yogee aadityanaath ko dekh leejie unhonne jo hai santamat ko dhaaran kiya hai abhee baat aur hai ki unake man mein kya hai unake dil mein kya hai vah kya karate hain palaken dikhaave ke taur par udaaharan ke taur par pesh nahin yahee hai ki unhonne jo hai in sab cheejon se dooree bana lee hai jabaki vah bhee kishoraavastha mein hee maanate hain kyonki unako is baat ko bataate hain ki sambandh se moh bhang karane ke lie koee vyavastha jarooree nahin hai vah avastha baalyaavastha bhee ho sakatee hai kishoraavastha ab to aamataur par vrddhaavastha hee sahee maana jaata hai ki kishoraavastha hotee hai tab tak hamaare man mein jo vichaar hote hain vah hote hain aur aise mein log jo hain usake prati aakarshit hote rahate hain lekin jab vrddhaavastha ki jab usakee umr ho jaate hain tab vyakti bhautik sukhon ka tyaag karake eeshvar ke prati unaka rujhaan ho jaata hai to meree najar mein to koee vyavastha nahin hai meree najar mein sabhee avasthaen hain bas agar yah koee cheej hai to vah jarooree hai ki usake vichaar aur usake sanskaar va kis taraph amal kis avastha mein use milate hain agar se baal avastha mein achchhe sanskaar mil jae to vah hai in sab cheejon se baalyaavastha mein dooree bana sakata hai nahin to kishoraavastha sakata hai lekin bana sakata hai dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:00
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है इंसान के शरीर की वह कौन सी अवस्था है जब उसे शारीरिक संबंधों से मोहभंग होने लगता है तो फ्रेंडशिप बुढ़ापा जब इंसान का आता है तो उसे हर चीज से मोहभंग होने लगता है उसे पता चल जाता है क्या मेरी मृत्यु हो जाएगी अब मुझे भगवान का भजन करना चाहिए और इन शारीरिक मोह माया बंधनों से को त्याग देना चाहिए तो वह बुढ़ापा की स्थिति है जब इंसान को मोटा होने लगता है तो फ्रेंडशिप कोई इंसान बच्चा रहता है तो भी खोल खेलकूद में अपना जीवन बिताता एवं जवानी मेरे पैसे कमाते हैं शादी ब्याह करके अपना घर गस्ती बरसाती है लेकिन जब बुढ़ापे की स्थिति ऐसी होती है जब उसे हर चीज से मोहभंग होने लगता है क्योंकि उसे पता चल जाता है उसकी मौत हो जाएगी तो उसे भगवान कभी कुछ भजन कर लेना चाहिए तो फ्रेंड साहब को मेरा जवाब पसंद आए तो प्लीज मुझे लाइक जरूर करिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai insaan ke shareer kee vah kaun see avastha hai jab use shaareerik sambandhon se mohabhang hone lagata hai to phrendaship budhaapa jab insaan ka aata hai to use har cheej se mohabhang hone lagata hai use pata chal jaata hai kya meree mrtyu ho jaegee ab mujhe bhagavaan ka bhajan karana chaahie aur in shaareerik moh maaya bandhanon se ko tyaag dena chaahie to vah budhaapa kee sthiti hai jab insaan ko mota hone lagata hai to phrendaship koee insaan bachcha rahata hai to bhee khol khelakood mein apana jeevan bitaata evan javaanee mere paise kamaate hain shaadee byaah karake apana ghar gastee barasaatee hai lekin jab budhaape kee sthiti aisee hotee hai jab use har cheej se mohabhang hone lagata hai kyonki use pata chal jaata hai usakee maut ho jaegee to use bhagavaan kabhee kuchh bhajan kar lena chaahie to phrend saahab ko mera javaab pasand aae to pleej mujhe laik jaroor kariega dhanyavaad

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:01
लिखे इंसान के जीवन की एक की स्थिति है जिस स्थिति में उस को यह बात पता चल जाता है कि इस जीवन में जो क्या-क्या अंत से और झुक गया क्या विदेश से जब आपको यह बात कहता हूं सोने लग जाता है कि हां जीवन यही है जीवन का अर्थ है यह जीवन का जीवन का एंजॉयमेंट ही होता है तभी आपको ऐसा लगने लगेगा की पूरी जीवन के जीवन के तीन टेस्ट में ना कोई इमो है तो उस मोमेंट में लोग दो प्रकार के काम करते हैं एक तो वह फिर आ जाते हैं तभी तो एक इंसान आई दराज में चला जाता है और वह आध्यात्मिक तक लाइन पर चले जाता है कि संसार की मुंह से दूर चला जाता है एक दूसरे इंसान सुसाइड काफी के साथ में कर लेता है इसीलिए दो अच्छी चीज का टेंशन लेता है कभी उसको पता चल जाता है कि जीवन में और कुछ है नहीं और यह जीवन में कोई सत्यता और बच्चा नहीं है इसीलिए वह तो दो फिर से उसी में मिनट में इंसान मोहब्बत को कर ले
Likhe insaan ke jeevan kee ek kee sthiti hai jis sthiti mein us ko yah baat pata chal jaata hai ki is jeevan mein jo kya-kya ant se aur jhuk gaya kya videsh se jab aapako yah baat kahata hoon sone lag jaata hai ki haan jeevan yahee hai jeevan ka arth hai yah jeevan ka jeevan ka enjoyament hee hota hai tabhee aapako aisa lagane lagega kee pooree jeevan ke jeevan ke teen test mein na koee imo hai to us moment mein log do prakaar ke kaam karate hain ek to vah phir aa jaate hain tabhee to ek insaan aaee daraaj mein chala jaata hai aur vah aadhyaatmik tak lain par chale jaata hai ki sansaar kee munh se door chala jaata hai ek doosare insaan susaid kaaphee ke saath mein kar leta hai iseelie do achchhee cheej ka tenshan leta hai kabhee usako pata chal jaata hai ki jeevan mein aur kuchh hai nahin aur yah jeevan mein koee satyata aur bachcha nahin hai iseelie vah to do phir se usee mein minat mein insaan mohabbat ko kar le

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:55
नहीं कि इंसान के जीवन की वह अवस्था कौन सी है जो उसे शारीरिक संबंधों के मुंह नहीं लगता है कुछ तो लिखिए जो हमारी युवावस्था आती है हमारी बचपन की अवस्था होती बाल्यावस्था उसके बाद युवावस्था आती है और युवावस्था में ही हमारे जो मोह माया होती है संबंध बनाने के औपचारिक तू ही चीज बढ़ने लगती है तो क्या होता है कि क्या होता है क्या हमारे मस्तिक में हाइपोथेलेमस ग्रंथि होती है वही क्या होती है कि बहुत ज्यादा आकर्षित होने लगती है यह जितना अग्रेषित होगी उतना ही ज्यादा हम इस तरह से मुंह में बढ़ते जाएंगे यही कहा जाता है कि इसको अगर कम करना है जिसे हमारी स्टूडेंट लाइफ यही होती है जो युवावस्था होती है यही हमारी कैरियर को बनाने वाली अवस्था होती तो इस समय क्या होता है कि लोग कहते हैं या डॉक्टर भी सुला देती आप जितना तेल मसाला तली हुई चीजें मसालेदार चीजें खाएं और उसके बाद लहसुन प्याज की मात्रा एकदम कम कर दें तो आपकी हाइपोथैलेमस की क्यों होती है वह थोड़ा सा कम होगी जिसकी वजह से क्या होगा आपका कैरियर बहुत अच्छा हो जाएगा कितने लोग क्या होता है कि इस जम्मू में आते हैं ना तो उनका पूरा टाइप हो जाता है उनका कैरियर रीबदा जाता है वह क्या करती पढ़ाई में मन ही नहीं लगता है और धीरे-धीरे वह दूसरी ओर डायवर्ट हो जाते हैं और उनका कैरियर क्या होता है खराब हो जाता है तो इस वजह से क्या है कि थोड़ा सा यह अवस्था ही जो हमारी होती है बहुत ही ज्यादा खा जाएगी जिस तरफ जाएंगे उधर ही हमारा वो रास्ता बनाता है और कहीं ना कहीं वह हमारे लिए एक खराब रास्ता भी हो सकता है और एक अच्छा रास्ता भी हो सकता है लेकिन फिर भी आपको बता दें कि जो प्रश्न का आंसर है वह हमारी जो युवावस्था होती है वही सब से इस तरह की शारीरिक संबंध के होने लगता है उसके अलावा अगर देखा जाए तो हम धीरे-धीरे इसमें पूरी तरह से हमारी अवस्था यह पड़ने लगती है
Nahin ki insaan ke jeevan kee vah avastha kaun see hai jo use shaareerik sambandhon ke munh nahin lagata hai kuchh to likhie jo hamaaree yuvaavastha aatee hai hamaaree bachapan kee avastha hotee baalyaavastha usake baad yuvaavastha aatee hai aur yuvaavastha mein hee hamaare jo moh maaya hotee hai sambandh banaane ke aupachaarik too hee cheej badhane lagatee hai to kya hota hai ki kya hota hai kya hamaare mastik mein haipothelemas granthi hotee hai vahee kya hotee hai ki bahut jyaada aakarshit hone lagatee hai yah jitana agreshit hogee utana hee jyaada ham is tarah se munh mein badhate jaenge yahee kaha jaata hai ki isako agar kam karana hai jise hamaaree stoodent laiph yahee hotee hai jo yuvaavastha hotee hai yahee hamaaree kairiyar ko banaane vaalee avastha hotee to is samay kya hota hai ki log kahate hain ya doktar bhee sula detee aap jitana tel masaala talee huee cheejen masaaledaar cheejen khaen aur usake baad lahasun pyaaj kee maatra ekadam kam kar den to aapakee haipothailemas kee kyon hotee hai vah thoda sa kam hogee jisakee vajah se kya hoga aapaka kairiyar bahut achchha ho jaega kitane log kya hota hai ki is jammoo mein aate hain na to unaka poora taip ho jaata hai unaka kairiyar reebada jaata hai vah kya karatee padhaee mein man hee nahin lagata hai aur dheere-dheere vah doosaree or daayavart ho jaate hain aur unaka kairiyar kya hota hai kharaab ho jaata hai to is vajah se kya hai ki thoda sa yah avastha hee jo hamaaree hotee hai bahut hee jyaada kha jaegee jis taraph jaenge udhar hee hamaara vo raasta banaata hai aur kaheen na kaheen vah hamaare lie ek kharaab raasta bhee ho sakata hai aur ek achchha raasta bhee ho sakata hai lekin phir bhee aapako bata den ki jo prashn ka aansar hai vah hamaaree jo yuvaavastha hotee hai vahee sab se is tarah kee shaareerik sambandh ke hone lagata hai usake alaava agar dekha jae to ham dheere-dheere isamen pooree tarah se hamaaree avastha yah padane lagatee hai

Manish Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:14
यह एक ऐसी चीज है जिसे इंसान का मन कभी नहीं मिलता है इसकी कोई समय सीमा नहीं है

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:48
उनके जीवन की व्यवस्था कौन सी है जब शारीरिक संबंधों से बहुत ही होने लगता है व्यवस्था होती है तनाव तनाव में होता है तब उसका शारीरिक संबंध बनाने का मन करता है इसमें कोई उम्र की अवस्था नहीं बची उम्र नहीं होती कि 40 के बाद 50 के बाद नहीं ऐसा कुछ नहीं है आपने देखा होगा कि लोग सत्तर कि 60 की उम्र में भी हैं और शारीरिक संबंधों का आनंद उठा सकते हैं कुछ लोग हैं वह 4037 में ही उनको शारीरिक जो संबंध है उसको भी हो जाता है तो उसके पीछे बड़ा कारण है आपका तनाव अगर आप मानसिक अस्वस्थता ना व्यस्त हैं तो आप ही जो वस्तु यह कार्य है शारीरिक संबंध बनाने वाला अच्छी तरीके से नहीं करता है
Unake jeevan kee vyavastha kaun see hai jab shaareerik sambandhon se bahut hee hone lagata hai vyavastha hotee hai tanaav tanaav mein hota hai tab usaka shaareerik sambandh banaane ka man karata hai isamen koee umr kee avastha nahin bachee umr nahin hotee ki 40 ke baad 50 ke baad nahin aisa kuchh nahin hai aapane dekha hoga ki log sattar ki 60 kee umr mein bhee hain aur shaareerik sambandhon ka aanand utha sakate hain kuchh log hain vah 4037 mein hee unako shaareerik jo sambandh hai usako bhee ho jaata hai to usake peechhe bada kaaran hai aapaka tanaav agar aap maanasik asvasthata na vyast hain to aap hee jo vastu yah kaary hai shaareerik sambandh banaane vaala achchhee tareeke se nahin karata hai

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:25
आपका सवाल एक इंसान के जीवन की व्यवस्था कौन सी है जब से सभी मुद्दों पर मुंह बंद होने लगते हैं इंसान की वह किशोर अवस्था होती हैं लगभग 17 साल से 25 साल के बीच में जब इंसान ही शारीरिक संबंध बनाने में और मुंह बंद होने लगता है धन्यवाद
Aapaka savaal ek insaan ke jeevan kee vyavastha kaun see hai jab se sabhee muddon par munh band hone lagate hain insaan kee vah kishor avastha hotee hain lagabhag 17 saal se 25 saal ke beech mein jab insaan hee shaareerik sambandh banaane mein aur munh band hone lagata hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इंसान के जीवन की वह अवस्था कौन सी है जब उसे शारीरिक संबंधों से मोहभंग होने लगता है शारीरिक संबंधों से मोहभंग
URL copied to clipboard