#जीवन शैली

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:09
बहुत अच्छा प्रश्न आया है कि आखिर ऐसा क्यों होता है कि जब हम किसी चीज की अत्यंत आवश्यकता होती है तो वह चीज नहीं मिलती है और फिर बाद में वह मिल जाती है इसका मुख्य कारण होता है कि जब हमें किसी चीज की आवश्यकता होती है उस समय हम में बहुत जल्दबाजी होती है कुछ ऐसी चीजें होते हैं कि हमारे आंखों के सामने होते हैं लेकिन दिखाई नहीं पड़ती इसका मुख्य कारण है कि हम जो भी काम अगर जल्दी बाजी में करते हैं तो वह सफल नहीं हो पाता है तो यही इसका मुख्य कारण है कि हम जल्दी बाजी में तो रहते हैं लेकिन उस काम को नहीं हो पाता है और एक प्रकृति के दिन कहें या कुछ और इसकी उम्मीद है ऐसा हमेशा होता है कि जिस चीज की हमें जरूरत होती है वह उस समय नहीं मिलती है परंतु बाद में मिल जाती है और कभी कभी जो है हमारा मन जो है उसको रीडिंग नहीं कर पाता है कि अमुक चीज कहां रखा गया है या कई दिनों के बाद देखा जाता है या कई दिन देखे हुए हो जाता है तो उस समय हम उस चीज को भूल जाते हैं जिसकी वजह से ऐसा होता है
Bahut achchha prashn aaya hai ki aakhir aisa kyon hota hai ki jab ham kisee cheej kee atyant aavashyakata hotee hai to vah cheej nahin milatee hai aur phir baad mein vah mil jaatee hai isaka mukhy kaaran hota hai ki jab hamen kisee cheej kee aavashyakata hotee hai us samay ham mein bahut jaldabaajee hotee hai kuchh aisee cheejen hote hain ki hamaare aankhon ke saamane hote hain lekin dikhaee nahin padatee isaka mukhy kaaran hai ki ham jo bhee kaam agar jaldee baajee mein karate hain to vah saphal nahin ho paata hai to yahee isaka mukhy kaaran hai ki ham jaldee baajee mein to rahate hain lekin us kaam ko nahin ho paata hai aur ek prakrti ke din kahen ya kuchh aur isakee ummeed hai aisa hamesha hota hai ki jis cheej kee hamen jaroorat hotee hai vah us samay nahin milatee hai parantu baad mein mil jaatee hai aur kabhee kabhee jo hai hamaara man jo hai usako reeding nahin kar paata hai ki amuk cheej kahaan rakha gaya hai ya kaee dinon ke baad dekha jaata hai ya kaee din dekhe hue ho jaata hai to us samay ham us cheej ko bhool jaate hain jisakee vajah se aisa hota hai

और जवाब सुनें

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:20
कुछ इसको जब्त की टाइम पर हम को नहीं मिलता है लेकिन बाद में उस चीज का उपलब्धि खो जाता है यदि बनकर नियम है और यह नजर है नेचर हमारे साथी ऐसे ही करता है और हमको इस नेचर के सबसे कम जीने की जरूरत है जो हमारे पास भी उसको हम साथ में लेकर चलना चाहिए जो नहीं उसको छोड़ना चाहिए धन्यवाद
Kuchh isako jabt kee taim par ham ko nahin milata hai lekin baad mein us cheej ka upalabdhi kho jaata hai yadi banakar niyam hai aur yah najar hai nechar hamaare saathee aise hee karata hai aur hamako is nechar ke sabase kam jeene kee jaroorat hai jo hamaare paas bhee usako ham saath mein lekar chalana chaahie jo nahin usako chhodana chaahie dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:15
आपका बैठाने आखिर ऐसा क्यों होता है कि जब हमें किसी चीज की अत्यंत आवश्यकता होती है तो वह चीज हमें नहीं मिलती और बाद में मिल जाती हो उसका रीजन यह है कि आपके स्मरण शक्ति बहुत कमजोर हो गई है और आप जो है बहुत ही गैर जिम्मेदाराना तरीके से काम करते हैं हर व्यक्ति को ही मालूम है कि जो समाज जहां से उठाया जाए वही रखा जाए अगर आप अलमारी से जो सामान पर काफी होगा जहां रखते हैं अगर वही रखेंगे तो आपको इस माह में इस भर्ती में बनी रहे तो वहां रख देंगे और आपने उठाया ड्राइंग रूम के खिलाफ जाकर के किचन में आप नाखून काटने का जो यंत्र होता है नेल कटर अपने हाथ उठाया और जाकर किचन में रख दिया फिर आपके दिमाग से उतर गया भूल गए आप तो आपने जो कि उसको उचित जगह पर नहीं रखा है जब ढूंढ रहे हैं अब आप तो नहीं मिल रहा है सब आपके अंदर एक इरिटेशन पैदा हो रहा है उसमें गलती किसकी है गलती आपकी है आप की गैर जिम्मेदाराना हरकत है कि आपने नेल कटर को जहां रखा जाना चाहिए वहां नहीं रखा जैकी चन मरा प्यार जब कभी दूसरा किचन में कोई काम करने के लिए जाएंगे तो हो सकता है कि आप को दिखाई दे जाता मिलती है इसलिए वह आपकी ही लापरवाही का परिणाम है कि जो चीज आप जरूरत पर ढूंढते हैं इसलिए आप अपनी आदतों को सुधार लीजिए
Aapaka baithaane aakhir aisa kyon hota hai ki jab hamen kisee cheej kee atyant aavashyakata hotee hai to vah cheej hamen nahin milatee aur baad mein mil jaatee ho usaka reejan yah hai ki aapake smaran shakti bahut kamajor ho gaee hai aur aap jo hai bahut hee gair jimmedaaraana tareeke se kaam karate hain har vyakti ko hee maaloom hai ki jo samaaj jahaan se uthaaya jae vahee rakha jae agar aap alamaaree se jo saamaan par kaaphee hoga jahaan rakhate hain agar vahee rakhenge to aapako is maah mein is bhartee mein banee rahe to vahaan rakh denge aur aapane uthaaya draing room ke khilaaph jaakar ke kichan mein aap naakhoon kaatane ka jo yantr hota hai nel katar apane haath uthaaya aur jaakar kichan mein rakh diya phir aapake dimaag se utar gaya bhool gae aap to aapane jo ki usako uchit jagah par nahin rakha hai jab dhoondh rahe hain ab aap to nahin mil raha hai sab aapake andar ek iriteshan paida ho raha hai usamen galatee kisakee hai galatee aapakee hai aap kee gair jimmedaaraana harakat hai ki aapane nel katar ko jahaan rakha jaana chaahie vahaan nahin rakha jaikee chan mara pyaar jab kabhee doosara kichan mein koee kaam karane ke lie jaenge to ho sakata hai ki aap ko dikhaee de jaata milatee hai isalie vah aapakee hee laaparavaahee ka parinaam hai ki jo cheej aap jaroorat par dhoondhate hain isalie aap apanee aadaton ko sudhaar leejie

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:13
जिंदगी की आवश्यकता होती है तो अहमद के साथ होता है कि जब किसी चीज की बहुत ज्यादा जरूरत है नहीं मिल पाती है फिर जमी से बात कर लो मेरा ही काम करने के लिए पानी गर्म कर लेंगे बाद में जाती है ऐसे ही ज्यादा जरूरत होती है
Jindagee kee aavashyakata hotee hai to ahamad ke saath hota hai ki jab kisee cheej kee bahut jyaada jaroorat hai nahin mil paatee hai phir jamee se baat kar lo mera hee kaam karane ke lie paanee garm kar lenge baad mein jaatee hai aise hee jyaada jaroorat hotee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ऐसा क्यों होता है - धर्म और क़ानून .. आखिर क्यों होता है ऐसा निशान आपकी उँगलियों
URL copied to clipboard