#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:15
प्रश्न है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद किसान ट्रैक्टर परेड क्यों निकालना चाहते हैं तो देखिए फ्रेंड क्या है ना कि सुप्रीम कोर्ट ने इस आदेश को जो नए नियम कृषि कानून है उसको पूरी तरह से होल्ड करने की बात की है ना कि उसे खत्म करने की बात की है ना उसे रद्द करने के बाद की है और इसी वजह से किसान जो है परेशान है क्योंकि वह चाहते हैं कि हमने कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं उसे अपनाने की बात नहीं है ना उसे होल्ड करने की बात है आप उसमें कोई कमेटी ने बनाई है जब हम उसे चाहते ही नहीं है संशोधन ही नहीं चाहते हैं तो उस पर कमेटी बैठाकर क्या होता कॉमेडी वही बैठाई जाती है जहां पर कुछ संशोधन की बात होती है कुछ मिला नहीं तो दोनों की ऐसी बातें होती है जो हम मिलाकर उसमें कुछ संशोधन कर दी उसके लिए कमेटी बैठाई जाती है ना कि उसे रद्द करने के लिए अगर आप को रद्द करना है तो मत करिए नहीं तो हम तो ट्रैक्टर फ्रेड निकालेंगे ही निकालेंगे यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद भी किसान आज ट्रैक्टर परेड निकालने के लिए निकालना चाहते हैं और मुझे लगता है कि अगर रात नहीं होगा कृषि का किसान ट्रैक्टर परेड जरूर निकलेगी
Prashn hai ki supreem kort ke aadesh ke baavajood kisaan traiktar pared kyon nikaalana chaahate hain to dekhie phrend kya hai na ki supreem kort ne is aadesh ko jo nae niyam krshi kaanoon hai usako pooree tarah se hold karane kee baat kee hai na ki use khatm karane kee baat kee hai na use radd karane ke baad kee hai aur isee vajah se kisaan jo hai pareshaan hai kyonki vah chaahate hain ki hamane krshi kaanoon ka virodh kar rahe hain use apanaane kee baat nahin hai na use hold karane kee baat hai aap usamen koee kametee ne banaee hai jab ham use chaahate hee nahin hai sanshodhan hee nahin chaahate hain to us par kametee baithaakar kya hota komedee vahee baithaee jaatee hai jahaan par kuchh sanshodhan kee baat hotee hai kuchh mila nahin to donon kee aisee baaten hotee hai jo ham milaakar usamen kuchh sanshodhan kar dee usake lie kametee baithaee jaatee hai na ki use radd karane ke lie agar aap ko radd karana hai to mat karie nahin to ham to traiktar phred nikaalenge hee nikaalenge yahee kaaran hai ki supreem kort ke aadesh ke baavajood bhee kisaan aaj traiktar pared nikaalane ke lie nikaalana chaahate hain aur mujhe lagata hai ki agar raat nahin hoga krshi ka kisaan traiktar pared jaroor nikalegee

और जवाब सुनें

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:25
देखिए फार्मर श्लोक आओ जो डिमांड है वह भी तक पूरा ही नहीं हुआ नहीं है और जो कमेटी सुप्रीम कोर्ट मिठाइयों फॉर मोस्ट फेमस उसको एक्सेप्ट किया नहीं क्योंकि उस कमेटी का जो मेंबर से वह अफेक्टेड नहीं था बस के द्वारा उनका कहना है कि यह हमारी ग्रुप में से लिया नहीं गया है वह उन्हीं लोगों को लिए हैं निकेतन को लिए द फार्मर प्रोटेस्ट को सपोर्ट करते हैं तो इसलिए पैरेट को फिर से निकालना चाहते हैं
Dekhie phaarmar shlok aao jo dimaand hai vah bhee tak poora hee nahin hua nahin hai aur jo kametee supreem kort mithaiyon phor most phemas usako eksept kiya nahin kyonki us kametee ka jo membar se vah aphekted nahin tha bas ke dvaara unaka kahana hai ki yah hamaaree grup mein se liya nahin gaya hai vah unheen logon ko lie hain niketan ko lie da phaarmar protest ko saport karate hain to isalie pairet ko phir se nikaalana chaahate hain

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:54
सुप्रीम कोर्ट स्टे दे रहा है और इससे सरकार जो है किसी भी समय खारिज करवा सकती है इसलिए स्टे की कोई वैल्यू नहीं होती है जो सरकार का जो कानून और सुप्रीम कोर्ट ने स्टे दिया है सुप्रीम कोर्ट को चाहिए कि किसानों के पक्ष में निर्णय ले करके उसकी कानून जो है जनता की भलाई के लिए होते हैं जनहित के लिए होते हैं और जनहित में देकर किसानों को स्वीकार नहीं कर रहे हैं तोहार सुप्रीम कोर्ट को यह है कि उस कानून को अपने अधिकारों के तहत निरस्त करके फिर से उस पर बहस के जरिए जो है उसमें किसानों को भी शामिल कर जा फिर से प्रस्तुत किया जाए और तब तक जब तक किसान उस पर अपनी सहमति ना दे तब तक के लिए उसको निरस्त किया निरस्त किया जा सकता है तो बजा स्टे देने के उसको जब तक निरस्त नहीं किया जाएगा किसान उसे स्वीकार नहीं करेंगे तो चाह रहे हैं कि इस कानून को बिल्कुल समाप्त कर दिया जाए इस कानून नाम की कोई चीज ही ना रहे
Supreem kort ste de raha hai aur isase sarakaar jo hai kisee bhee samay khaarij karava sakatee hai isalie ste kee koee vailyoo nahin hotee hai jo sarakaar ka jo kaanoon aur supreem kort ne ste diya hai supreem kort ko chaahie ki kisaanon ke paksh mein nirnay le karake usakee kaanoon jo hai janata kee bhalaee ke lie hote hain janahit ke lie hote hain aur janahit mein dekar kisaanon ko sveekaar nahin kar rahe hain tohaar supreem kort ko yah hai ki us kaanoon ko apane adhikaaron ke tahat nirast karake phir se us par bahas ke jarie jo hai usamen kisaanon ko bhee shaamil kar ja phir se prastut kiya jae aur tab tak jab tak kisaan us par apanee sahamati na de tab tak ke lie usako nirast kiya nirast kiya ja sakata hai to baja ste dene ke usako jab tak nirast nahin kiya jaega kisaan use sveekaar nahin karenge to chaah rahe hain ki is kaanoon ko bilkul samaapt kar diya jae is kaanoon naam kee koee cheej hee na rahe

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:06
हेलो फ्रेंड्स आप का प्रश्न है सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद किसान ट्रैक्टर पर्यटकों निकालना चाहते हैं तो फ्रेंड से किसान ट्रैक्टर परेड 26 जनवरी के दौरान निकालना चाहते हैं जिसमें सब लोग ज्यादा ज्यादा देखे हैं और उनकी सरकार उनकी मांगों को पूरा करें इसलिए वे ट्रैक्टर परेड निकालना चाह रहे हैं और वे 26 जनवरी के दिन ही ऐसा करना चाह रहे हैं जिसमें कि सब लोगों की नजर में के ऊपर पड़े और वह इंसान अपनी मांगों को बिल्कुल पूरा करवाना चाहते हैं और यह जो किसान कानून है इसे बेहद कराना चाह रहे हैं इसीलिए वे हर तरह के लोग अपना रहे हैं आंदोलन कर रहे हैं भूख हड़ताल कर रहे हैं जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं और यह ट्रैक्टर पर एक भी निकालने जा रहे हैं तो वह अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए ही है सब कर रहे हैं कि सरकार हमारी मांगों को पूरा करें और यह जो किसान बिल है उनको रद्द करें इसी बात पर भी अड़े हुए हैं और यही पूरा कराने के लिए यह सब कर तो फ्रेंड से आपको जवाब नहीं करना है तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Helo phrends aap ka prashn hai supreem kort ke aadesh ke baavajood kisaan traiktar paryatakon nikaalana chaahate hain to phrend se kisaan traiktar pared 26 janavaree ke dauraan nikaalana chaahate hain jisamen sab log jyaada jyaada dekhe hain aur unakee sarakaar unakee maangon ko poora karen isalie ve traiktar pared nikaalana chaah rahe hain aur ve 26 janavaree ke din hee aisa karana chaah rahe hain jisamen ki sab logon kee najar mein ke oopar pade aur vah insaan apanee maangon ko bilkul poora karavaana chaahate hain aur yah jo kisaan kaanoon hai ise behad karaana chaah rahe hain iseelie ve har tarah ke log apana rahe hain aandolan kar rahe hain bhookh hadataal kar rahe hain jagah-jagah pradarshan ho rahe hain aur yah traiktar par ek bhee nikaalane ja rahe hain to vah apanee maangon ko poora karaane ke lie hee hai sab kar rahe hain ki sarakaar hamaaree maangon ko poora karen aur yah jo kisaan bil hai unako radd karen isee baat par bhee ade hue hain aur yahee poora karaane ke lie yah sab kar to phrend se aapako javaab nahin karana hai to laik keejiega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद किसान ट्रैक्टर परेड क्यों निकालना चाहते हैं किसान ट्रैक्टर परेड क्यों निकालना चाहते हैं
URL copied to clipboard