#जीवन शैली

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:39
आपका प्रश्न है कि खुश और उत्साही व्यक्तियों के संपर्क में रहने का हमारे तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है देखिए आप जैसे व्यक्ति के संपर्क में रहेंगे आपकी मानसिकता भी धीरे-धीरे उस तरह की होती जाएगी और उसका आपके मन मस्तिष्क पर बहुत गहरा प्रभाव एक बात समझ लीजिए कि अगर कोई व्यक्ति कुछ समय तक कुछ लोग नशा करते हैं कुछ लोग किसी भी तरह का नशा करते हैं कुछ दिनों तक उनके संपर्क में रहेगा तो धीरे-धीरे हो सकता है उसको भी नशे की आदत पड़ जाए वह भी नशा करने लग जा ठीक इसी तरह से आप सकारात्मक मानसिकता वाले व्यक्ति के साथ में रहेंगे उतना ही खुश रहने वाले व्यक्ति के संपर्क में रहेंगे तो आपके अंदर भी उत्साह मोटिवेशन और सकारात्मक विचारों का संचालन होगा और इसके इसके प्रति हमारे ग्रंथों में बहुत स्पष्ट लिखा गया है जैसी आप की संगति है वैसे आपकी मति हो इसमें कोई दो राय नहीं है तो यह बड़ा स्पष्ट है कि व्यक्ति को सदैव सज्जन लोगों के संपर्क में रहना चाहिए व्यक्ति को सदैव खुश उत्साही जो लोग मोटिवेटेड रहते हैं जो लोग नकारात्मक विचार रखते हैं जो लोग जीवन में आगे बढ़ने के प्रति विचार रखते हैं ऐसे लोगों के संपर्क में रहना चाहिए अगर आप नकारात्मक लोगों के संपर्क में रहेंगे तो दे धीरे आपकी मानसिकता भी नकारात्मक होती जाएगी और आप भी गलत सोच विचार आपके अंदर भी विकसित होते जाएंगे तो निसंदेह खुशी और ना ही व्यक्तियों के संपर्क में रहने से हमारे तन मन पर बहुत सकारात्मक प्रभाव रहेगा और हम भी उस तरह की सोच रखने लगेंगे और जो मुरझाए हुए हैं दुखी हैं हमेशा दुख की बातें करने वाले हैं हक हमेशा लोगों की आलोचना करने वाले हैं हमेशा सिर्फ दूसरों में गलतियां ढूंढने वाले लोग हैं हमेशा जो किसी न किसी बात को लेकर के रोते रहते हैं आप अगर उनके संपर्क में रहेंगे तो आपकी मानसिकता भी उस तरह की हो जाएगी धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki khush aur utsaahee vyaktiyon ke sampark mein rahane ka hamaare tan man par kya prabhaav padata hai dekhie aap jaise vyakti ke sampark mein rahenge aapakee maanasikata bhee dheere-dheere us tarah kee hotee jaegee aur usaka aapake man mastishk par bahut gahara prabhaav ek baat samajh leejie ki agar koee vyakti kuchh samay tak kuchh log nasha karate hain kuchh log kisee bhee tarah ka nasha karate hain kuchh dinon tak unake sampark mein rahega to dheere-dheere ho sakata hai usako bhee nashe kee aadat pad jae vah bhee nasha karane lag ja theek isee tarah se aap sakaaraatmak maanasikata vaale vyakti ke saath mein rahenge utana hee khush rahane vaale vyakti ke sampark mein rahenge to aapake andar bhee utsaah motiveshan aur sakaaraatmak vichaaron ka sanchaalan hoga aur isake isake prati hamaare granthon mein bahut spasht likha gaya hai jaisee aap kee sangati hai vaise aapakee mati ho isamen koee do raay nahin hai to yah bada spasht hai ki vyakti ko sadaiv sajjan logon ke sampark mein rahana chaahie vyakti ko sadaiv khush utsaahee jo log motiveted rahate hain jo log nakaaraatmak vichaar rakhate hain jo log jeevan mein aage badhane ke prati vichaar rakhate hain aise logon ke sampark mein rahana chaahie agar aap nakaaraatmak logon ke sampark mein rahenge to de dheere aapakee maanasikata bhee nakaaraatmak hotee jaegee aur aap bhee galat soch vichaar aapake andar bhee vikasit hote jaenge to nisandeh khushee aur na hee vyaktiyon ke sampark mein rahane se hamaare tan man par bahut sakaaraatmak prabhaav rahega aur ham bhee us tarah kee soch rakhane lagenge aur jo murajhae hue hain dukhee hain hamesha dukh kee baaten karane vaale hain hak hamesha logon kee aalochana karane vaale hain hamesha sirph doosaron mein galatiyaan dhoondhane vaale log hain hamesha jo kisee na kisee baat ko lekar ke rote rahate hain aap agar unake sampark mein rahenge to aapakee maanasikata bhee us tarah kee ho jaegee dhanyavaad

और जवाब सुनें

Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:55
हेलो फ्रेंड्स आज हम जिस लोशन के बारे में बात करने वाले हैं वह है कि कुछ और उत्साही व्यक्तियों के संपर्क में रहने से हमारे तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है और जो व्यक्ति होते हैं अगर उनके कांटेक्ट में हम लोग रहते हैं तो हमारे तन और मन पर उसका प्रभाव बहुत जबरदस्त पड़ता है बहुत अच्छा पड़ता है क्योंकि जब हम ऐसे लोगों के बीच रहते हैं तो वह खुशी की और उत्साह से संबंधित बातें ही हमेशा करेंगे बातों से हम लोग हमारा माइंड जो है उनकी तरफ जाने की कोशिश करता है मतलब उस उन चीजों पर वह काम करना शुरू करता है और जब माइंड उन पर काम करता है तो आपकी सोच और विचार बदलने लगते हैं और जब आपकी सोच और विचार बदलते हैं तो आपके मन में खुशी और उत्साह पैदा होने लगता है और कुछ ही उत्साह जब आपके मन में पैदा होता है आप अपने कर्मों को पूरे उत्साह और खुशी के साथ करते हैं और आप निश्चित रूप से सफल हो जाते हैं जय हिंद जय भारत
Helo phrends aaj ham jis loshan ke baare mein baat karane vaale hain vah hai ki kuchh aur utsaahee vyaktiyon ke sampark mein rahane se hamaare tan man par kya prabhaav padata hai aur jo vyakti hote hain agar unake kaantekt mein ham log rahate hain to hamaare tan aur man par usaka prabhaav bahut jabaradast padata hai bahut achchha padata hai kyonki jab ham aise logon ke beech rahate hain to vah khushee kee aur utsaah se sambandhit baaten hee hamesha karenge baaton se ham log hamaara maind jo hai unakee taraph jaane kee koshish karata hai matalab us un cheejon par vah kaam karana shuroo karata hai aur jab maind un par kaam karata hai to aapakee soch aur vichaar badalane lagate hain aur jab aapakee soch aur vichaar badalate hain to aapake man mein khushee aur utsaah paida hone lagata hai aur kuchh hee utsaah jab aapake man mein paida hota hai aap apane karmon ko poore utsaah aur khushee ke saath karate hain aur aap nishchit roop se saphal ho jaate hain jay hind jay bhaarat

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:55
याद रखना हमेशा कि जैसे कि आप देखेंगे कि के गर्म पतीले के पास अगर एक पतीला को रख दिया जाएगा तो वह पानी भी गर्म होना स्टार्ट होगा ठीक उसी तरह करें ठंडी पात्र पतीले में के पास अगर किसी नॉर्मल पंप तिलक रख दिया जाएगा तो वहां से ठंडक का ट्रांस मतलब ठंडक का दिल में आ जाएगा इसका वजह क्या है कब आ जाएगी है कि हमेशा हर एक दिन अर्जित होता है वह विश्व में हो सभी एक जगह से दूसरी जगह के प्रति ट्रांसफर होता है ठीक है तो ठीक उसी तरह हमारी जो खुद एक इंसान आक्रोश चाहिए खुशी है दोस्त की बॉडी में जो एक पॉजिटिव एनर्जी रहना जी हमारी भाषा में भी आ जाता है एकदम चाहे या ना चाहे वो हमारे अंदर में आ जाता है तो इसके वजह से हम भी पॉजिटिव रहना स्टार्ट कर लेते हैं हमारे अगर कोई नेगेटिविटी होगा तो नेगेटिविटी उसकी पॉजिटिविटी आने की वजह से वह बैलेंस में रह जाएगा और हम भी पॉजिटिव पॉजिटिव ज्यादा रहेंगे इसलिए हमेशा खुशी और उसका ही व्यक्ति के पास रहना
Yaad rakhana hamesha ki jaise ki aap dekhenge ki ke garm pateele ke paas agar ek pateela ko rakh diya jaega to vah paanee bhee garm hona staart hoga theek usee tarah karen thandee paatr pateele mein ke paas agar kisee normal pamp tilak rakh diya jaega to vahaan se thandak ka traans matalab thandak ka dil mein aa jaega isaka vajah kya hai kab aa jaegee hai ki hamesha har ek din arjit hota hai vah vishv mein ho sabhee ek jagah se doosaree jagah ke prati traansaphar hota hai theek hai to theek usee tarah hamaaree jo khud ek insaan aakrosh chaahie khushee hai dost kee bodee mein jo ek pojitiv enarjee rahana jee hamaaree bhaasha mein bhee aa jaata hai ekadam chaahe ya na chaahe vo hamaare andar mein aa jaata hai to isake vajah se ham bhee pojitiv rahana staart kar lete hain hamaare agar koee negetivitee hoga to negetivitee usakee pojitivitee aane kee vajah se vah bailens mein rah jaega aur ham bhee pojitiv pojitiv jyaada rahenge isalie hamesha khushee aur usaka hee vyakti ke paas rahana

ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:32
पूछा गया है खुश और उत्साहित एक्टिव के संपर्क में रहने का हमारे तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है तो देखे जवाब खुश और उत्साही व्यक्ति के संपर्क में आते हैं उनसे बात करते हैं और उनके साथ वक्त बिताते हैं तो आपका मन स्वयं ही प्रफुल्लित हो जाता है क्योंकि हमको पता है कि हमारे आसपास जैसा माहौल ऐसा वातावरण जैसे लोग हैं उन काम पर प्रभाव पड़ता है तो हमारा मन खुश हो जाता है और अगर आपका मन खुश है तो आपका तन भी खुश होता है उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Poochha gaya hai khush aur utsaahit ektiv ke sampark mein rahane ka hamaare tan man par kya prabhaav padata hai to dekhe javaab khush aur utsaahee vyakti ke sampark mein aate hain unase baat karate hain aur unake saath vakt bitaate hain to aapaka man svayan hee praphullit ho jaata hai kyonki hamako pata hai ki hamaare aasapaas jaisa maahaul aisa vaataavaran jaise log hain un kaam par prabhaav padata hai to hamaara man khush ho jaata hai aur agar aapaka man khush hai to aapaka tan bhee khush hota hai ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
MBA Govt job in PSU/Assistant Manager (HR)
0:43
सौरभ क्या खुश और उत्साही व्यक्ति के संपर्क में रहने का हमारी तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है अगर आप और खुशमिजाज इंसान के साथ रहते हो तो उससे काफी अच्छी गुड वाइब्स आती है यानी कि आपको अच्छा अच्छा फील होता है आपको सब कुछ सही सही फील होता है उससे आपका मानसिक तरीके से आप खुश हो जाता उस पर कम हो जाता हो जाता है और उससे से आपका सब कुछ बताओ रिलैक्स फील करता है और आप सब मतलब आप शारीरिक व मानसिक रूप से काफी तनाव मुक्त हो जाते हो जो आपके शरीर के लिए काफी अच्छा होता है तो मेरे ख्याल से ही सवाल का जवाब
Saurabh kya khush aur utsaahee vyakti ke sampark mein rahane ka hamaaree tan man par kya prabhaav padata hai agar aap aur khushamijaaj insaan ke saath rahate ho to usase kaaphee achchhee gud vaibs aatee hai yaanee ki aapako achchha achchha pheel hota hai aapako sab kuchh sahee sahee pheel hota hai usase aapaka maanasik tareeke se aap khush ho jaata us par kam ho jaata ho jaata hai aur usase se aapaka sab kuchh batao rilaiks pheel karata hai aur aap sab matalab aap shaareerik va maanasik roop se kaaphee tanaav mukt ho jaate ho jo aapake shareer ke lie kaaphee achchha hota hai to mere khyaal se hee savaal ka javaab

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
खुश और उत्साहित व्यक्ति के संपर्क में रहने से हमारी तन मन में क्या असर पड़ता इत्यादि बहुत आती है तो यही स्वास्तिक में सफर स्थान पर और अपने आचरण में खुद ही स्पष्ट हो जाता है कि जब ऐसे व्यक्तित्व के लोग हमारे बीच में होते हैं तो एक सकारात्मक ऊर्जा का अहसास होने लगता है यानी कि हादसों गर्व का विषय बनता है क्योंकि कभी भी उनके अंदर से जोहोरा मंडल की जो भी सोती हैं वह सब में एक प्रभाव चित्र को घेरा करती है और उसका सर हमारे अंदर असर पहुंचता है इसलिए ऐसी संस्कारों से संपुट चोर लोग मनन चिंतन में उर्द रेट होते हैं अर्थात अपने विचारों से उन्मुख होकर के उस परम सत्ता किंग स्थित होते हैं क्योंकि जो मकान है नॉर्मल का जो सैया में है वह उस अवस्था में रखते हैं कि जिसमें कि उनका जो संचरण होता है वोट करके होता है और वहां से वह चीज से रिलायंस करता आते हैं कि जिस से गिफ्ट भेज दिया और जो भी बातचीत की धारा होती है वह अनुभव के स्तर में ही कही जाती है और जोर जिस चीज का स्पंदन करके जो वाक्य घटित किया जाता है उसका यथार्थ प्रभाव होता है तो यह किस संगठन भावनाओं के साथ ज्योत निर्णय उत्पन्न होते हैं वह संचार केंद्र वह तरंग है सूर्य के रहते हैं और उसका एक असर वातावरण बनने तैयार होता है और एक अन्य कहे सुने हुए अवस्था में भी प्रभावित होती रहती हैं उनकी वेशभूषा मुख मंडल और जो भी प्रतिक्रिया होती है वह इस सकारात्मक ऊर्जा के उद्घोष से आच्छादित रहती है और वही असर हम लोगों पर पड़ता है और चाहिए भी कि ऐसे लोगों की सुनने ध्यान में रहे जिससे कि हमारे अंदर ऊर्जावान मन उठे और प्रेरणादायक हमें युक्ति मिलते हैं उनके आचरण और उनकी नैतिकता से इत्यादि बातें हैं तो सपना देखता है और हमें हमेशा उन लोगों के बारे में चिंता सीखने के प्रयोग में रहना चाहिए जिससे कि हमें सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न हो धन्यवाद महेश जी भी योग योग और कर्म की ओर से आपको शुभकामनाएं देता हूं
Khush aur utsaahit vyakti ke sampark mein rahane se hamaaree tan man mein kya asar padata ityaadi bahut aatee hai to yahee svaastik mein saphar sthaan par aur apane aacharan mein khud hee spasht ho jaata hai ki jab aise vyaktitv ke log hamaare beech mein hote hain to ek sakaaraatmak oorja ka ahasaas hone lagata hai yaanee ki haadason garv ka vishay banata hai kyonki kabhee bhee unake andar se johora mandal kee jo bhee sotee hain vah sab mein ek prabhaav chitr ko ghera karatee hai aur usaka sar hamaare andar asar pahunchata hai isalie aisee sanskaaron se samput chor log manan chintan mein urd ret hote hain arthaat apane vichaaron se unmukh hokar ke us param satta king sthit hote hain kyonki jo makaan hai normal ka jo saiya mein hai vah us avastha mein rakhate hain ki jisamen ki unaka jo sancharan hota hai vot karake hota hai aur vahaan se vah cheej se rilaayans karata aate hain ki jis se gipht bhej diya aur jo bhee baatacheet kee dhaara hotee hai vah anubhav ke star mein hee kahee jaatee hai aur jor jis cheej ka spandan karake jo vaaky ghatit kiya jaata hai usaka yathaarth prabhaav hota hai to yah kis sangathan bhaavanaon ke saath jyot nirnay utpann hote hain vah sanchaar kendr vah tarang hai soory ke rahate hain aur usaka ek asar vaataavaran banane taiyaar hota hai aur ek any kahe sune hue avastha mein bhee prabhaavit hotee rahatee hain unakee veshabhoosha mukh mandal aur jo bhee pratikriya hotee hai vah is sakaaraatmak oorja ke udghosh se aachchhaadit rahatee hai aur vahee asar ham logon par padata hai aur chaahie bhee ki aise logon kee sunane dhyaan mein rahe jisase ki hamaare andar oorjaavaan man uthe aur preranaadaayak hamen yukti milate hain unake aacharan aur unakee naitikata se ityaadi baaten hain to sapana dekhata hai aur hamen hamesha un logon ke baare mein chinta seekhane ke prayog mein rahana chaahie jisase ki hamen sakaaraatmak oorja utpann ho dhanyavaad mahesh jee bhee yog yog aur karm kee or se aapako shubhakaamanaen deta hoon

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:21
आपका सवाल है कि कुछ और होता है व्यक्तियों के संपर्क में आने से हमारे तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है यदि खुश और उसका ही व्यक्तियों के साथ में आपका उठना बैठना होगा मिलजुल होगा तो निश्चित तौर पर आपके अंदर भी एक सकारात्मक ऊर्जा प्रवेश करेगी और आप भी अच्छा फिर करेंगे खुश रहना शुरू कर देंगे उत्साहित रहना शुरू कर देंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki kuchh aur hota hai vyaktiyon ke sampark mein aane se hamaare tan man par kya prabhaav padata hai yadi khush aur usaka hee vyaktiyon ke saath mein aapaka uthana baithana hoga milajul hoga to nishchit taur par aapake andar bhee ek sakaaraatmak oorja pravesh karegee aur aap bhee achchha phir karenge khush rahana shuroo kar denge utsaahit rahana shuroo kar denge aapaka din shubh rahe dhanyavaad

मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
1:02
दोस्तो सवार है खुश और उत्साही व्यक्तियों के संपर्क में रहने का हमारे शरीर और मन पर क्या प्रभाव पड़ता है दोस्तों उत्साही व्यक्तियों के संपर्क में रहने से हमारे शरीर पर बहुत गहरा असर पड़ता है क्योंकि आप कोई अच्छे व्यक्ति के पास रहेंगे क्योंकि आपको सही कार्य सही काम और सही शिक्षा और दिशा दिखाएगा तो इससे आप पर बहुत अच्छा असर पड़ेगा अगर आप किसी बुरे व्यक्ति का संगत करते हैं तो वह व्यक्ति आपको गलत दिशा दिखाएगा ऐसे गलत खाने पीने की चीजें तो हमारे शरीर पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है मुझे गलत व्यक्ति का साथ नहीं करना चाहिए
Dosto savaar hai khush aur utsaahee vyaktiyon ke sampark mein rahane ka hamaare shareer aur man par kya prabhaav padata hai doston utsaahee vyaktiyon ke sampark mein rahane se hamaare shareer par bahut gahara asar padata hai kyonki aap koee achchhe vyakti ke paas rahenge kyonki aapako sahee kaary sahee kaam aur sahee shiksha aur disha dikhaega to isase aap par bahut achchha asar padega agar aap kisee bure vyakti ka sangat karate hain to vah vyakti aapako galat disha dikhaega aise galat khaane peene kee cheejen to hamaare shareer par bahut adhik prabhaav padata hai mujhe galat vyakti ka saath nahin karana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • श और उत्साही व्यक्तियों के संपर्क में रहने का हमारे तन मन पर क्या प्रभाव पड़ता है
URL copied to clipboard