#जीवन शैली

bolkar speaker

किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?

Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:10
देखे किसी में दिमाग कम है या फिर किसी में ज्यादा होता है इसका कोई ऐसे मजा नहीं है हरेक लोगों का मतलब निरंतर हर एक कर लो काम माइंड पावर डिफरेंट होता है और और और और चिकन चीज है कि कुछ लोगों का न्यूट्रिशन के चमक को बचपन से मिलता है उसी के ऊपर भी उनका दिमाग के पावर को उत्पन्न करता है जैसे कि बहुत टाइम हम देखते हैं कि बच्चों को हमेशा मां के पेट में जब रहता है तो उस माता को ज्यादा खाना दिया जाता है ज्यादा एल्बम्स वगैरा और अच्छा से खाना दिया जाता है या फिर बच्चे के टाइम पर होने टाइम पर उनको ज्यादा सही प्रकार की पोस्ट खाना दिया जाता है इसीलिए क्योंकि उनका मानसिक विकास रहते हो पाए इसलिए हम बोल सकते हैं कि कुछ लोगों का दिमाग का भार सही ज्यादा होता है कौन किस लोगों का कम होता है और चिकन जितने भी बोलना कि कुछ कुछ लोग ज्यादा मेडिटेशन करते हैं माइंड को बहुत टेबल करते हैं बैलेंस करते तो कहीं ना कि उनका माइंड अच्छे से चलता है ठीक है तो इसीलिए मोहब्बत नाटक राज कर सकते हैं कि लोगों के दिमाग कैसे तेज अलग होता है लेकिन मैं पूरी तरह से ये बात मैं सहमत नहीं हूं कि आपकी माइंड का सार अपने साहब की बचपन पर है यह से मैं नहीं बोल सकता हूं तो आप चाहो तो अपने माइंड का साथ में स्पीड बढ़ा सकते हैं धन्यवाद
Dekhe kisee mein dimaag kam hai ya phir kisee mein jyaada hota hai isaka koee aise maja nahin hai harek logon ka matalab nirantar har ek kar lo kaam maind paavar dipharent hota hai aur aur aur aur chikan cheej hai ki kuchh logon ka nyootrishan ke chamak ko bachapan se milata hai usee ke oopar bhee unaka dimaag ke paavar ko utpann karata hai jaise ki bahut taim ham dekhate hain ki bachchon ko hamesha maan ke pet mein jab rahata hai to us maata ko jyaada khaana diya jaata hai jyaada elbams vagaira aur achchha se khaana diya jaata hai ya phir bachche ke taim par hone taim par unako jyaada sahee prakaar kee post khaana diya jaata hai iseelie kyonki unaka maanasik vikaas rahate ho pae isalie ham bol sakate hain ki kuchh logon ka dimaag ka bhaar sahee jyaada hota hai kaun kis logon ka kam hota hai aur chikan jitane bhee bolana ki kuchh kuchh log jyaada mediteshan karate hain maind ko bahut tebal karate hain bailens karate to kaheen na ki unaka maind achchhe se chalata hai theek hai to iseelie mohabbat naatak raaj kar sakate hain ki logon ke dimaag kaise tej alag hota hai lekin main pooree tarah se ye baat main sahamat nahin hoon ki aapakee maind ka saar apane saahab kee bachapan par hai yah se main nahin bol sakata hoon to aap chaaho to apane maind ka saath mein speed badha sakate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:48
किसी में दिमाग कम हो तो किसी में ज्यादा क्यों होता है दोस्त ऐसा बिल्कुल भी नहीं है सबके बावजूद दिमाग को एक ही जैसा होता है परंतु जरूरत थी मेहनत करता है उसका दिमाग उसी तरीके से मॉडिफाई फॉर एग्जांपल आफ देते हैं कोई व्यक्ति में ज्यादा कड़ी मेहनत कर रहा है पढ़ाई को लेकर के स्टूडेंट स्टूडेंट हो जाता है पढ़ाई कर पाते और इसी वजह से उनका दिमाग कमजोर हो जाता है दोस्तों से भी आगे बढ़कर के चीखने सीखते हैं आपका दिमाग मजबूत होते तो आपका दिमाग जो कमजोर हो गए दिमाग जो है सब को एक जैसा होता है दोस्तों परंतु किसी के अंदर जन्मजात जो गुम होते वंशानुगत ज्यादा तादाद में देखे जा सकते हैं सामान्यत देखे जा सकते हैं कि जिसका जो मानसिकता को लेकर कुछ प्रॉब्लम है उसका बच्चा हो जाता है बच्चों के वह भी कुछ ज्यादा ही ब्रिलियंट निकल जाते हैं दोस्तों और कुछ असामान्य कुछ लोग कुछ लोग ऐसे होते दोस्तों जो शुरुआत ए टैलेंटेड होते मेहनत करते हैं तुमको दिमाग उसी तरीके से मॉडिफाई हो जाता है और एग्जांपल आप देखेंगे कि मैं जिस चेंज होते हैं छोटे-छोटे बच्चे टैलेंटेड होते हैं कि आप उनके कर सकते हैं खुद का दिमाग बहुत ज्यादा चलता है प्रॉब्लम हो जाती है परंतु देखा जाए तो सभी बच्चे जो है वह सामान्यतः होते हैं और जब वह इस प्रकृति के अंदर आ करके जो अपना विकास करते हैं तब उनका जो दिमाग है वह कम या ज्यादा होता है धन्यवाद
Kisee mein dimaag kam ho to kisee mein jyaada kyon hota hai dost aisa bilkul bhee nahin hai sabake baavajood dimaag ko ek hee jaisa hota hai parantu jaroorat thee mehanat karata hai usaka dimaag usee tareeke se modiphaee phor egjaampal aaph dete hain koee vyakti mein jyaada kadee mehanat kar raha hai padhaee ko lekar ke stoodent stoodent ho jaata hai padhaee kar paate aur isee vajah se unaka dimaag kamajor ho jaata hai doston se bhee aage badhakar ke cheekhane seekhate hain aapaka dimaag majaboot hote to aapaka dimaag jo kamajor ho gae dimaag jo hai sab ko ek jaisa hota hai doston parantu kisee ke andar janmajaat jo gum hote vanshaanugat jyaada taadaad mein dekhe ja sakate hain saamaanyat dekhe ja sakate hain ki jisaka jo maanasikata ko lekar kuchh problam hai usaka bachcha ho jaata hai bachchon ke vah bhee kuchh jyaada hee briliyant nikal jaate hain doston aur kuchh asaamaany kuchh log kuchh log aise hote doston jo shuruaat e tailented hote mehanat karate hain tumako dimaag usee tareeke se modiphaee ho jaata hai aur egjaampal aap dekhenge ki main jis chenj hote hain chhote-chhote bachche tailented hote hain ki aap unake kar sakate hain khud ka dimaag bahut jyaada chalata hai problam ho jaatee hai parantu dekha jae to sabhee bachche jo hai vah saamaanyatah hote hain aur jab vah is prakrti ke andar aa karake jo apana vikaas karate hain tab unaka jo dimaag hai vah kam ya jyaada hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:26
अगर किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है दिखाकर एक मनोवैज्ञानिक दृष्टि से हम देखे तो दिमाग जो है हमारा बहुत सारे पहलुओं पर निर्भर करता है कि कैसा होगा उसका भी काम कैसा हुआ है और क्या जींस लेकर हम पैदा हुए हैं क्योंकि कहीं ना कहीं इंटेलिजेंस हमारी हेरेडिटी पर भी डिपेंड करती है लेकिन बहुत हद तक हमारी जो बुद्धिमता है वह हमारे पर्यावरण पर हमारे आसपास क्या परिवेश है किस तरह से हमारी परवरिश हुई है कि स्थान से हमने चीजों को सीखा है किस तरह से हमारा वातावरण है उस पर भी निर्भर करती है तो विकसित किया जा सकता है बुद्धिमता को तो बुद्धिमता का विकास जो है वह बचपन में हम देखते हैं भतीजी से एकदम से पकड़ में आता है वह नेकेड लाइफ में आने के बाद लगता है कि बस इसके आगे अब और कोई विकास नहीं हो रहा है लेकिन चीजों को सिर्फ घर समझकर चीजों में बदलाव लाकर अपने जीवन में हम जो है कल कर सकते हैं और यह इस बात का प्रमाण है कि वातावरण से भी हम सीखते हैं तो बुद्धिमता कम क्यों होती है ज्यादा क्यों होती है मैंने आपको एक्सप्लेन किया कि किस तरह से जो हमारे एक्स्पोज़र है वातावरण निर्भर करता है और हमारे जीन क्या है हमें पैरंट्स क्या मिला है नहीं है वह भी डिसाइड करेगा कि मेरी बुद्धिमता कितनी है यही वजह है कि हर इंसान की कीमत होती है
Agar kisee mein dimaag kam aur kisee mein dimaag jyaada kyon hota hai dikhaakar ek manovaigyaanik drshti se ham dekhe to dimaag jo hai hamaara bahut saare pahaluon par nirbhar karata hai ki kaisa hoga usaka bhee kaam kaisa hua hai aur kya jeens lekar ham paida hue hain kyonki kaheen na kaheen intelijens hamaaree hereditee par bhee dipend karatee hai lekin bahut had tak hamaaree jo buddhimata hai vah hamaare paryaavaran par hamaare aasapaas kya parivesh hai kis tarah se hamaaree paravarish huee hai ki sthaan se hamane cheejon ko seekha hai kis tarah se hamaara vaataavaran hai us par bhee nirbhar karatee hai to vikasit kiya ja sakata hai buddhimata ko to buddhimata ka vikaas jo hai vah bachapan mein ham dekhate hain bhateejee se ekadam se pakad mein aata hai vah neked laiph mein aane ke baad lagata hai ki bas isake aage ab aur koee vikaas nahin ho raha hai lekin cheejon ko sirph ghar samajhakar cheejon mein badalaav laakar apane jeevan mein ham jo hai kal kar sakate hain aur yah is baat ka pramaan hai ki vaataavaran se bhee ham seekhate hain to buddhimata kam kyon hotee hai jyaada kyon hotee hai mainne aapako eksaplen kiya ki kis tarah se jo hamaare ekspozar hai vaataavaran nirbhar karata hai aur hamaare jeen kya hai hamen pairants kya mila hai nahin hai vah bhee disaid karega ki meree buddhimata kitanee hai yahee vajah hai ki har insaan kee keemat hotee hai

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Bhupesh Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Bhupesh जी का जवाब
Entrepreneur , Blogger, Influencer
1:13
तू तो हेस्टैक करो जरा में आपका स्वागत है मैं आपका अपना मित्र को पेशवा मैं आशा करता हूं आप सभी से पूछ लोगे और अपना और अपने परिवार का ख्याल रख रहे होगे जैसे कि आपको पूछने किसी में दिमाग कम हो तो किसी में ज्यादा क्यों होता है तो देखिए दोस्तों किसी में भी दिमाग कम ज्यादा नहीं होता सब में दिमाग की एक तरीके से सही में होता है एप्रोक्सीमेटली वेट में और जो हम कहते हैं कि किसी में दिमाग कम है और किसी में ज्यादा है वह सिर्फ हम उसके नॉलेज के अकॉर्डिंग कहते हैं नॉलेज कैसी है उसकी वह क्या कार्य करता है अगर वह सक्सेस है तो उसमें दिमाग चाहता है और अगर वह सक्सेस नहीं है तो उसमें दिमाग कम है तो अगर आपको लगता है कि आपके अंदर दिमाग कम है तो आप उसकी ग्रोथ पढ़ा सकते हैं ऐसा कुछ नहीं है कि आप अपने माइंड को कंट्रोल नहीं कर सकते आपने कई ऐसे जीनियस लोग देखे हुए जिन्होंने काफी हद तक जैसे अल्बर्ट आइंस्टाइन हो जो के बचपन में अच्छे नहीं थे आज स्टडीज बगैर किसी चीज में लेकिन आगे चलकर उन्होंने आज दुनिया में अपना नाम करा तो आप भी अपना नाम कर सकते हैं लेकिन डिपेंड भी होता है कि हम अपने माइंड को कंसंट्रेट किस तरीके से करते हैं अगर आप किसी लक्ष्य को निर्धारित करके अपने माइंड को उस पर रखेंगे तो आप जरूर अपने दिमाग को और ज्यादा तेज कर पाएंगे
Too to hestaik karo jara mein aapaka svaagat hai main aapaka apana mitr ko peshava main aasha karata hoon aap sabhee se poochh loge aur apana aur apane parivaar ka khyaal rakh rahe hoge jaise ki aapako poochhane kisee mein dimaag kam ho to kisee mein jyaada kyon hota hai to dekhie doston kisee mein bhee dimaag kam jyaada nahin hota sab mein dimaag kee ek tareeke se sahee mein hota hai eprokseemetalee vet mein aur jo ham kahate hain ki kisee mein dimaag kam hai aur kisee mein jyaada hai vah sirph ham usake nolej ke akording kahate hain nolej kaisee hai usakee vah kya kaary karata hai agar vah sakses hai to usamen dimaag chaahata hai aur agar vah sakses nahin hai to usamen dimaag kam hai to agar aapako lagata hai ki aapake andar dimaag kam hai to aap usakee groth padha sakate hain aisa kuchh nahin hai ki aap apane maind ko kantrol nahin kar sakate aapane kaee aise jeeniyas log dekhe hue jinhonne kaaphee had tak jaise albart aainstain ho jo ke bachapan mein achchhe nahin the aaj stadeej bagair kisee cheej mein lekin aage chalakar unhonne aaj duniya mein apana naam kara to aap bhee apana naam kar sakate hain lekin dipend bhee hota hai ki ham apane maind ko kansantret kis tareeke se karate hain agar aap kisee lakshy ko nirdhaarit karake apane maind ko us par rakhenge to aap jaroor apane dimaag ko aur jyaada tej kar paenge

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:07
किसी में दिमाग कम होता है तो किसी में एक दिमाग ज्यादा होता है ऐसा क्यों होता है तो यह बहुत कॉम्प्लिकेटेड सवाल है इतना सवाल नहीं है इसके ऊपर जो है पूरा संशोधन अभी तक नहीं हुआ है लेकिन हर एक का जो व्यक्ति का दिमाग और वह पहचानने का क्राइटेरिया जो है वह वैसे निश्चित रूप से नहीं बताया जा सकता क्योंकि किसी एक चीज में एक जगह दिमाग चलता है तो किसी दूसरी चीज में नहीं चलता है बड़े बड़े साइंटिस्ट होते हैं लेकिन उनको बाजार में क्या करता हूं सब्जी खरीदना नहीं आता है तो कुछ लोग अनपढ़ होते हैं पर कोई उद्योगपति बन जाता है या बहुत कम पढ़ा हुआ आठवीं दसवीं उद्योगपति बन जाता है इंडस्ट्रियलिस्ट बन जाता है या गोल्ड मेडल ओलंपिक में तो दिमाग की जो व्याख्या करना यह भी एक बड़ा मुश्किल काम है लेकिन यह ऑब्जरवेशन हमें जरूर देखने को मिलता है कि व्यक्ति के अंदर कुछ चीजों के गुण कम होते हैं तो कुछ चीजों के लिए खून ज्यादा होते हैं तो किसी एक को प्रतिष्ठा हम देते हैं समाज में किसी एक गुण को लेकिन हर गुण जो है उसको एक समान प्रतिष्ठा और हर श्रम को एक समान प्रतिष्ठा कर दी जाए तो हमें यह प्रॉब्लम नहीं लगेगा कि एक बिल्कुल नैसर्गिक बीज लगेगी तो ऐसी स्थिति में नैसर्गिक रूप से उसका कारण जेनेटिक्स तक जाग जा सकता है क्या एक यूज होता है वही मापा जाता है लेकिन वह भी अंतिम तक पत्थर नहीं माना जा सकता तो ऐसा लगता है हमें किसी का दिमाग कम है लेकिन किसी का दिमाग ज्यादा है लेकिन दिमाग होता है और आप व्हाट्सएप मत इसे में दिमागी संतुलन बिगड़ जाता है आदमी का ब्रेन पर कंट्रोल जो है वह भी नहीं रहता है और वह मेडिकल रूप से का दिमाग खराब हो जाती है कई बार उसका पुनर्वसन नहीं हो पाता उसका इलाज नहीं हो पाता है लेकिन यह प्रकृति का वास्तविक आई चीजों में लोगों को कम समझ में आता है फेसबुक से समझ में नहीं आता है लोगों को जल्द समझ में आता है अगर मेरा जवाब सही लगा तो कृपया इसे लाइक करें धन्यवाद
Kisee mein dimaag kam hota hai to kisee mein ek dimaag jyaada hota hai aisa kyon hota hai to yah bahut kompliketed savaal hai itana savaal nahin hai isake oopar jo hai poora sanshodhan abhee tak nahin hua hai lekin har ek ka jo vyakti ka dimaag aur vah pahachaanane ka kraiteriya jo hai vah vaise nishchit roop se nahin bataaya ja sakata kyonki kisee ek cheej mein ek jagah dimaag chalata hai to kisee doosaree cheej mein nahin chalata hai bade bade saintist hote hain lekin unako baajaar mein kya karata hoon sabjee khareedana nahin aata hai to kuchh log anapadh hote hain par koee udyogapati ban jaata hai ya bahut kam padha hua aathaveen dasaveen udyogapati ban jaata hai indastriyalist ban jaata hai ya gold medal olampik mein to dimaag kee jo vyaakhya karana yah bhee ek bada mushkil kaam hai lekin yah objaraveshan hamen jaroor dekhane ko milata hai ki vyakti ke andar kuchh cheejon ke gun kam hote hain to kuchh cheejon ke lie khoon jyaada hote hain to kisee ek ko pratishtha ham dete hain samaaj mein kisee ek gun ko lekin har gun jo hai usako ek samaan pratishtha aur har shram ko ek samaan pratishtha kar dee jae to hamen yah problam nahin lagega ki ek bilkul naisargik beej lagegee to aisee sthiti mein naisargik roop se usaka kaaran jenetiks tak jaag ja sakata hai kya ek yooj hota hai vahee maapa jaata hai lekin vah bhee antim tak patthar nahin maana ja sakata to aisa lagata hai hamen kisee ka dimaag kam hai lekin kisee ka dimaag jyaada hai lekin dimaag hota hai aur aap vhaatsep mat ise mein dimaagee santulan bigad jaata hai aadamee ka bren par kantrol jo hai vah bhee nahin rahata hai aur vah medikal roop se ka dimaag kharaab ho jaatee hai kaee baar usaka punarvasan nahin ho paata usaka ilaaj nahin ho paata hai lekin yah prakrti ka vaastavik aaee cheejon mein logon ko kam samajh mein aata hai phesabuk se samajh mein nahin aata hai logon ko jald samajh mein aata hai agar mera javaab sahee laga to krpaya ise laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Akriti mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akriti जी का जवाब
Unknown
0:30

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:38
हाय फ्रेंड चली वाली पसंद तरफ बढ़ते उस बात का पता नहीं होती दोस्तों किसी ने प्रश्न किया किसी में दिमाग कम हो तो किसी में ज्यादा क्यों होता है लेकिन दिमाग सबका बराबर होता है लेकिन मैं मान सकता हूं किसी की सिलाई के लिए बिल ज्यादा भी हो सकता किसी किसी का कम भी हो सकता बट आप अपना दिमाग अगर आप पक्कम भी है आई क्यू लेवल कम भी है तो आप और रोज प्रैक्टिस कर के अपना दिमाग पढ़ सकते आप आई आई क्यू लेवल को आगे ले जा सकते आप बहुत मेहनत करिए पढ़ने मेहनत करी दिमाग का अच्छे से चेक करिए का प्रयोग कीजिए आपका दिमाग भी बहुत अच्छा और अच्छे बन सकता है मेरी गारंटी है तो ठीक है
Haay phrend chalee vaalee pasand taraph badhate us baat ka pata nahin hotee doston kisee ne prashn kiya kisee mein dimaag kam ho to kisee mein jyaada kyon hota hai lekin dimaag sabaka baraabar hota hai lekin main maan sakata hoon kisee kee silaee ke lie bil jyaada bhee ho sakata kisee kisee ka kam bhee ho sakata bat aap apana dimaag agar aap pakkam bhee hai aaee kyoo leval kam bhee hai to aap aur roj praiktis kar ke apana dimaag padh sakate aap aaee aaee kyoo leval ko aage le ja sakate aap bahut mehanat karie padhane mehanat karee dimaag ka achchhe se chek karie ka prayog keejie aapaka dimaag bhee bahut achchha aur achchhe ban sakata hai meree gaarantee hai to theek hai

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
KARTIK MISHRA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KARTIK जी का जवाब
Student
0:31

bolkar speaker
किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है?Kisi Mein Dimag Kam Aur Kisi Mein Dimag Jyada Kyun Hota Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:32
हेलो फ्रेंड्स स्वागत है आपका आपका प्रश्न किसी में दिमाग कम हो तो किसी में ज्यादा क्यों होता है तो फ्रेंड्स यह सब मैं गॉड गिफ्ट होता है यह सब मैं भगवान का दिया हुआ होता है किसी में थोड़ा कम दिमाग होता है किसी में थोड़ा ज्यादा दिमाग होता है यह हमें जब हम जन्म लेते हैं उसके बाद जब हमारा दिमाग विकसित होता है तो यह हमें भगवान ही देते हैं हमारी बुद्धि विवेक जी के द्वारा ही होता है और किसी में थोड़ा ज्यादा दिमाग उसका डिवेलप हो जाता है किसी का थोड़ा कम होता है यह सब भगवान का दिया हुआ होता है धन्यवाद
Helo phrends svaagat hai aapaka aapaka prashn kisee mein dimaag kam ho to kisee mein jyaada kyon hota hai to phrends yah sab main god gipht hota hai yah sab main bhagavaan ka diya hua hota hai kisee mein thoda kam dimaag hota hai kisee mein thoda jyaada dimaag hota hai yah hamen jab ham janm lete hain usake baad jab hamaara dimaag vikasit hota hai to yah hamen bhagavaan hee dete hain hamaaree buddhi vivek jee ke dvaara hee hota hai aur kisee mein thoda jyaada dimaag usaka divelap ho jaata hai kisee ka thoda kam hota hai yah sab bhagavaan ka diya hua hota hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दिमाग का काम न करना, दिमाग तेज़ कैसे करें, दिमाग की कमजोरी के लक्षण
URL copied to clipboard