#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?

Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:38
यदि किसी कंपनी का मालिक अगर आपको कर्मचारी यानी कर्मचारी को निकाल दे तो एक उपाय करना चाहिए इसके लिए जब भी आपको नौकरी से निकाल दिया जाता है तो टर्मिनेशन कि लेटर की मांग अवश्य करें जिससे कि आप कोर्ट में प्रूफ कर सके कि आपको कंपनी ने जॉब से टर्मिनेट किया है नहीं तो कंपनी वाले ज्यादातर मामले में कोर्ट में झूठ बोल देते हैं हमने तो उनकी नौकरी से निकाला है नहीं है ऐसे कह देते हैं
Yadi kisee kampanee ka maalik agar aapako karmachaaree yaanee karmachaaree ko nikaal de to ek upaay karana chaahie isake lie jab bhee aapako naukaree se nikaal diya jaata hai to tarmineshan ki letar kee maang avashy karen jisase ki aap kort mein prooph kar sake ki aapako kampanee ne job se tarminet kiya hai nahin to kampanee vaale jyaadaatar maamale mein kort mein jhooth bol dete hain hamane to unakee naukaree se nikaala hai nahin hai aise kah dete hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:00
किसी कंपनी का माल लेकर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए उसकी पिटाई करता है या किसी कारण सहित निश्चित तौर पर उसके खिलाफ जो है हिंसा का और शारीरिक प्रताड़ना का यह सब किस बन सकता है इस तरह का करबु पिटाई करता है सैलरी नहीं देता है या शोषण करता है तो निश्चित तौर पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती हो आप थाने में जाकर के कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं थाने में मान लीजिए वह बच जाता है तो आप सीधे कोर्ट में भी आ सकते हो और आप अपना मेडिकल सरकारी हॉस्पिटल में करवा लें और उसमें लड़कियों के बिहा पर जो है उसके खिलाफ केस के सकता है तो निश्चित तौर पर इतनी फर्म का बड़ी फर्म का मालिक है और कहीं नहीं कोई कंपनी सुना रहा है और इस तरह का दुर्व्यवहार करता क्रश चतुर्भुज के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है
Kisee kampanee ka maal lekar apane karmachaaree ko peet de to kya karana chaahie usakee pitaee karata hai ya kisee kaaran sahit nishchit taur par usake khilaaph jo hai hinsa ka aur shaareerik prataadana ka yah sab kis ban sakata hai is tarah ka karabu pitaee karata hai sailaree nahin deta hai ya shoshan karata hai to nishchit taur par usake khilaaph kaarravaee kee ja sakatee ho aap thaane mein jaakar ke kaanoonee kaarravaee kar sakate hain thaane mein maan leejie vah bach jaata hai to aap seedhe kort mein bhee aa sakate ho aur aap apana medikal sarakaaree hospital mein karava len aur usamen ladakiyon ke biha par jo hai usake khilaaph kes ke sakata hai to nishchit taur par itanee pharm ka badee pharm ka maalik hai aur kaheen nahin koee kampanee suna raha hai aur is tarah ka durvyavahaar karata krash chaturbhuj ke khilaaph kaarravaee kee ja sakatee hai

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:07
सवाल ये है कि किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए अगर आप आईटी एक्ट के अंतर्गत वर्तमान कैटेगरी में आते हैं और आपको नौकरी से निकाला गया है तो आप किसके लिए लेबर कोर्ट में केस फाइल कर सकते हैं वहां आप डायरेक्ट शिकायत नहीं लगा सकते बल्कि इससे इसके लिए आपको कुछ टाइप से गुजारना पड़ता है अगर आप वर्तमान की परिभाषा में आते हैं तो आपके कंपनी के मालिक के साथ कोई भी औद्योगिक बाद देर बात होता है इसके निपटारे के लिए लेबर कोर्ट का गठन किया गया है हमारे देश में लेबर कोर्ट की स्थापना औद्योगिक विवाद अधिनियम 1947 इन इंडस्ट्रियल डिस्प्यूट एक्ट 1947 के तहत किया गया है एक तरह से देखे तो लेबर कोर्ट का काम कंपनी और कर्मचारी के बीच के वाद विवाद को निपटाना है और उनके अनुसार उचित निर्णय देना है लेबर कोर्ट इंडस्ट्रियल डिस्प्यूट एक्ट 97 के तहत कर्मचारी के गैरकानूनी टर्मिनेशन पर नौकरी पर बहाल इसे लेकर पीछे का पूर्ण सैलरी यानी फुलबैक भेजो देने का अधिकार होता है इसके अलावा अलग-अलग एक्ट के तहत अलग निर्णय लेने का अधिकार है अगर आपको कंपनी से निकाला गया है तो जब भी आपको नौकरी से निकाला जाए तो टर्मिनेशन लेटर की मांग अवश्य करें जिससे आपको हमें प्रूफ कर सके कि आपको कंपनी ने जॉब से टर्मिनेट कर दिया है नहीं तो कंपनी वाले ज्यादातर मामलों में कोर्ट में झूठ बोल देते हैं और हमने तो उनको नौकरी से नहीं निकाला अगर आपको जॉब से निकाल दिया है तो टर्मिनेशन लेटर जरूर लें इसके बाद यह देखें कि आप सेंट्रल गवर्नमेंट के अंदर आते हैं या स्टेट गवर्नमेंट के अंदर अगर आप सेंट्रल गवर्नमेंट के अंदर आते हैं तो आपका आईडी के r-l-c के ऑफिस में लगेगा अगर आप से गवर्नमेंट के अंडर में आते हैं अगर आप स्टेट गवर्नमेंट गवर्नमेंट डिपार्टमेंट से लेखक प्राइवेट कंपनी फैक्ट्री शॉप होटल और रेस्टोरेंट आदि में काम करने में वाले हैं तो आप अपने राज्य के लेबर कमिश्नर ऑफिस में लिखित शिकायत करें आपकी कंप्लेंट लेने के देने के बाद असिस्टेंट लेबर कमिश्नर आपकी शिकायत पर आपकी कंपनी प्रबंधन को 30 दिन के अंदर उपस्थित होने के लिए नोटिस भेजेगा जिसका एक कॉपी आपको भी प्राप्त होगा जिस में उपस्थित होना होने का एक डेट और टाइम प्लेस फॉर का विवरण मौजूद होगा उस दिन आप अपने पूरे डॉक्यूमेंट लेकर वहां उपस्थित हो इस दौरान लेबर कमिश्नर दोनों पक्षों को सुनने के बाद आपके और आपके कंपनी के बीच सुलह करने की कोशिश करता है नियम के मुताबिक अगर 45 दिन में सुलह समझौता नहीं हुआ तो वह खुद ही संबंधित लेबर कोर्ट में आपके केस को रेफर कर देंगे इस तरह से आपका लेबर कोर्ट में चला जाएगा जिसके बाद आगे की सुनवाई लेबर कोर्ट में होगी
Savaal ye hai ki kisee kampanee ka maalik agar apane karmachaaree ko peet de to kya karana chaahie agar aap aaeetee ekt ke antargat vartamaan kaitegaree mein aate hain aur aapako naukaree se nikaala gaya hai to aap kisake lie lebar kort mein kes phail kar sakate hain vahaan aap daayarekt shikaayat nahin laga sakate balki isase isake lie aapako kuchh taip se gujaarana padata hai agar aap vartamaan kee paribhaasha mein aate hain to aapake kampanee ke maalik ke saath koee bhee audyogik baad der baat hota hai isake nipataare ke lie lebar kort ka gathan kiya gaya hai hamaare desh mein lebar kort kee sthaapana audyogik vivaad adhiniyam 1947 in indastriyal dispyoot ekt 1947 ke tahat kiya gaya hai ek tarah se dekhe to lebar kort ka kaam kampanee aur karmachaaree ke beech ke vaad vivaad ko nipataana hai aur unake anusaar uchit nirnay dena hai lebar kort indastriyal dispyoot ekt 97 ke tahat karmachaaree ke gairakaanoonee tarmineshan par naukaree par bahaal ise lekar peechhe ka poorn sailaree yaanee phulabaik bhejo dene ka adhikaar hota hai isake alaava alag-alag ekt ke tahat alag nirnay lene ka adhikaar hai agar aapako kampanee se nikaala gaya hai to jab bhee aapako naukaree se nikaala jae to tarmineshan letar kee maang avashy karen jisase aapako hamen prooph kar sake ki aapako kampanee ne job se tarminet kar diya hai nahin to kampanee vaale jyaadaatar maamalon mein kort mein jhooth bol dete hain aur hamane to unako naukaree se nahin nikaala agar aapako job se nikaal diya hai to tarmineshan letar jaroor len isake baad yah dekhen ki aap sentral gavarnament ke andar aate hain ya stet gavarnament ke andar agar aap sentral gavarnament ke andar aate hain to aapaka aaeedee ke r-l-ch ke ophis mein lagega agar aap se gavarnament ke andar mein aate hain agar aap stet gavarnament gavarnament dipaartament se lekhak praivet kampanee phaiktree shop hotal aur restorent aadi mein kaam karane mein vaale hain to aap apane raajy ke lebar kamishnar ophis mein likhit shikaayat karen aapakee kamplent lene ke dene ke baad asistent lebar kamishnar aapakee shikaayat par aapakee kampanee prabandhan ko 30 din ke andar upasthit hone ke lie notis bhejega jisaka ek kopee aapako bhee praapt hoga jis mein upasthit hona hone ka ek det aur taim ples phor ka vivaran maujood hoga us din aap apane poore dokyooment lekar vahaan upasthit ho is dauraan lebar kamishnar donon pakshon ko sunane ke baad aapake aur aapake kampanee ke beech sulah karane kee koshish karata hai niyam ke mutaabik agar 45 din mein sulah samajhauta nahin hua to vah khud hee sambandhit lebar kort mein aapake kes ko rephar kar denge is tarah se aapaka lebar kort mein chala jaega jisake baad aage kee sunavaee lebar kort mein hogee

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:47
एक ही आपको मालूम है ना कि कर्मचारी काम अगर नहीं करता है तो आप उसे नौकरी से निकाल दीजिए किसी को शारीरिक रूप से कष्ट नहीं दे सकते कोई गाली गलौज नहीं कर सकते हैं अगर कर्मचारी कोई बदमाशी करता है तो उसके खिलाफ पुलिस में एफआईआर की जा सकती है और अगर मालिक कर्मचारी को मारने पीटने लगता है अनाधिकार चेष्टा करता है तो उसके लिए पुलिस एफ आई आर द 323 324 504 506 का मुकदमा कायम हो सकता है वह दुगावा ही लीजिए और जाकर के भाई आर दर्ज करा दीजिए उसको मारने पीटने का दुकानदार को माली का कोई अधिकार नहीं ज्यादा से ज्यादा वह आपको जोड़ जारी कर सकता है वह होलिका सकता है अपने नुकसान की लेकिन मार्केट नहीं सकता है आप को मारने पर किसी को कोई अधिकार नहीं
Ek hee aapako maaloom hai na ki karmachaaree kaam agar nahin karata hai to aap use naukaree se nikaal deejie kisee ko shaareerik roop se kasht nahin de sakate koee gaalee galauj nahin kar sakate hain agar karmachaaree koee badamaashee karata hai to usake khilaaph pulis mein ephaeeaar kee ja sakatee hai aur agar maalik karmachaaree ko maarane peetane lagata hai anaadhikaar cheshta karata hai to usake lie pulis eph aaee aar da 323 324 504 506 ka mukadama kaayam ho sakata hai vah dugaava hee leejie aur jaakar ke bhaee aar darj kara deejie usako maarane peetane ka dukaanadaar ko maalee ka koee adhikaar nahin jyaada se jyaada vah aapako jod jaaree kar sakata hai vah holika sakata hai apane nukasaan kee lekin maarket nahin sakata hai aap ko maarane par kisee ko koee adhikaar nahin

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
2:54
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए वैसे तो हर एक व्यक्ति के स्वभाव के ऊपर यहां पर हमारे इंडस्ट्रियल एरिया है तो कई बार ऐसे मालिक कि उसके ऑफिस में ही जुलाई की गई है तभी मालूम मालिकों ने ऐसे काम किए थे जिन्होंने टीका जिसके कारण सैकड़ों लोगों की नौकरियां चली गई या मैनेजर सहित कुछ लोगों की नौकरी चली गई तुम के खून भी हुए लेकिन यह एक गलत तरीका है कानून के कायदे है कर्मचारी कामगार कायदे कम कर कोर्ट में होता है उसमें शिकायत करनी चाहिए या पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत शिकायत करनी चाहिए या कर्मचारियों का जो संगठन होता है अगर संगठन वहां पर है तो संगठन में इसकी चर्चा करके अपने प्रतिनिधि भेजकर मालिक से चर्चा करनी चाहिए लेकिन एक बात यहां पर बहुत कठिन होती है कि मालिक कभी अपनी गलत नहीं मानता है उल्टा वह कर्मचारी को काम से निकाल सकता है तो कर्मचारी का स्वभाव कैसे क्या नौकरी के लिए उसको यह सहन करने की जरूरत होती है तो सहन करता है नहीं तो मैंने बताए बताए हुए मार्ग से कानूनी मार्ग से वह नई की मांग कर सकता है या नौकरी छोड़ दे सकता है या खुद अपने हाथों में कानून लेकर मालिक को भी उसी तरीके से पीट सकता है इन सभी में अच्छे मार गई यह है कि हमारा जो संविधान में कानून बना है उसका पालन करें धन्यवाद
Kisee kampanee ka maalik agar apane karmachaaree ko peet de to kya karana chaahie vaise to har ek vyakti ke svabhaav ke oopar yahaan par hamaare indastriyal eriya hai to kaee baar aise maalik ki usake ophis mein hee julaee kee gaee hai tabhee maaloom maalikon ne aise kaam kie the jinhonne teeka jisake kaaran saikadon logon kee naukariyaan chalee gaee ya mainejar sahit kuchh logon kee naukaree chalee gaee tum ke khoon bhee hue lekin yah ek galat tareeka hai kaanoon ke kaayade hai karmachaaree kaamagaar kaayade kam kar kort mein hota hai usamen shikaayat karanee chaahie ya pulis steshan mein jaakar shikaayat shikaayat karanee chaahie ya karmachaariyon ka jo sangathan hota hai agar sangathan vahaan par hai to sangathan mein isakee charcha karake apane pratinidhi bhejakar maalik se charcha karanee chaahie lekin ek baat yahaan par bahut kathin hotee hai ki maalik kabhee apanee galat nahin maanata hai ulta vah karmachaaree ko kaam se nikaal sakata hai to karmachaaree ka svabhaav kaise kya naukaree ke lie usako yah sahan karane kee jaroorat hotee hai to sahan karata hai nahin to mainne batae batae hue maarg se kaanoonee maarg se vah naee kee maang kar sakata hai ya naukaree chhod de sakata hai ya khud apane haathon mein kaanoon lekar maalik ko bhee usee tareeke se peet sakata hai in sabhee mein achchhe maar gaee yah hai ki hamaara jo sanvidhaan mein kaanoon bana hai usaka paalan karen dhanyavaad

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:12
नमस्कार आपके सवालों के कि कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को देख दे तो क्या करना चाहिए होता है कि नहीं होता है पीके या फिर छोटी सी गलती के लिए तरीके से मारपीट करते हैं तो तुम कैंडल काम कर रहे होते हैं और हम उनके साथ हैं करनी है अगर होती है तो क्या करते हैं बैठ सकते हैं बोल सकते हैं इसके अलावा पीटने का हक तो किसी का भी नहीं होता है या नहीं आदर लोगों का घर दिखाइए केवल हमारे माता-पिता वह भी बोल सकते हैं ना उनका हमारी तरह खुश हैं लेकिन इसके ऊपर एक मालिक का इस तरीके का हक भी नहीं होता और ना ही कोई यह कानून भर देता है और ना ही जो स्टाफ काम कर रहा है वह फल देता है पर ऐसा कोई नहीं कर सकता इसके अलावा आप चाहे तो रिपोर्ट भी दर्ज करवा सकते हैं इसके अलावा अपने अपना मान सम्मान बहुत इंपोर्टेंट होता है हर एक व्यक्ति के लिए तो आप चाहे तो अगर आपको इतनी अच्छी जॉब मिली है तो उससे भी अच्छी जॉब मिल सकती आप कहीं और पर ट्राई कर सके और इससे बेस्ट होगी हमेशा पर काम कर रहे हैं क्या पता जिस से अच्छी जॉब नहीं है क्या पता तुम मेरे साथ तो मतलब मैं भी सोचते हो कि मैं क्या जॉब मिलेगी नहीं मिलेगी तो समझ नहीं आ रहा तो ऐसे ही काफी लोगों के साथ होता है तो आपके साथ सब कुछ कर सकते हैं किसी का डांटना बोलना और गलती पर कुछ भी कह देना लेकिन आप बिल्कुल भी याद नहीं है तो मेरे ख्याल से तुम मेरे ख्याल से कि हमारा जो सम्मान होता सबसे इंपोर्टेंट होता आत्मसम्मान यह कभी नहीं खोना चाहिए मानी नहीं रहेगा तो हम अपने आप को खुद की नजरों में अच्छा नहीं दे पाएंगे तो मुझसे तुझे सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को खुश करने में
Namaskaar aapake savaalon ke ki kampanee ka maalik agar apane karmachaaree ko dekh de to kya karana chaahie hota hai ki nahin hota hai peeke ya phir chhotee see galatee ke lie tareeke se maarapeet karate hain to tum kaindal kaam kar rahe hote hain aur ham unake saath hain karanee hai agar hotee hai to kya karate hain baith sakate hain bol sakate hain isake alaava peetane ka hak to kisee ka bhee nahin hota hai ya nahin aadar logon ka ghar dikhaie keval hamaare maata-pita vah bhee bol sakate hain na unaka hamaaree tarah khush hain lekin isake oopar ek maalik ka is tareeke ka hak bhee nahin hota aur na hee koee yah kaanoon bhar deta hai aur na hee jo staaph kaam kar raha hai vah phal deta hai par aisa koee nahin kar sakata isake alaava aap chaahe to riport bhee darj karava sakate hain isake alaava apane apana maan sammaan bahut importent hota hai har ek vyakti ke lie to aap chaahe to agar aapako itanee achchhee job milee hai to usase bhee achchhee job mil sakatee aap kaheen aur par traee kar sake aur isase best hogee hamesha par kaam kar rahe hain kya pata jis se achchhee job nahin hai kya pata tum mere saath to matalab main bhee sochate ho ki main kya job milegee nahin milegee to samajh nahin aa raha to aise hee kaaphee logon ke saath hota hai to aapake saath sab kuchh kar sakate hain kisee ka daantana bolana aur galatee par kuchh bhee kah dena lekin aap bilkul bhee yaad nahin hai to mere khyaal se tum mere khyaal se ki hamaara jo sammaan hota sabase importent hota aatmasammaan yah kabhee nahin khona chaahie maanee nahin rahega to ham apane aap ko khud kee najaron mein achchha nahin de paenge to mujhase tujhe savaal ka javaab pasand aaega aap log khush rahie doosaron ko khush karane mein

bolkar speaker
किसी कंपनी का मालिक अगर अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए?Kisi Company Ka Malik Agar Apne Karmachari Ko Peet De To Kya Karna Chaiye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:02
प्रश्न एक किसी कंपनी का मालिक अपने कर्मचारी को पीट दे तो क्या करना चाहिए देखे फ्रेंड पहले बात है कि किसी भी मालिक को आपके ऊपर कंप्लेंट करने का जो भी हक है वह बता सकता है कोई मोड आपको एक बार दो बार तीन बार एडवाइज दे सकता है और उसे एक चेतावनी के रूप में साबित कर सकता है लेकिन वह मार नहीं सकता कर मारेगा तो कहीं ना कहीं एक कर्मचारी का उल्लंघन होगा और उसे लेबर कोर्ट जानी चाहिए उसके ऊपर f.i.r. कर देना चाहिए पूरी कहा जाए कि आप को जितना प्रताड़ित किया है उसका उसे मापदंड कहीं ना कहीं देना पड़ेगा 30 तारीख किसी भी कंपनी मालिक को किसी भी कर्मचारी को मारने का हक नहीं है बस उसे समझा सकता है अगर नहीं समझ में आ रहा कि उस कंपनी से अपने कंपनी से उसको निकाल सकता है लेकिन मारने का हक किसी भी मालिक को नहीं है अगर ऐसा होता है तो आप उसके ऊपर f.i.r. कर दीजिए और लेबर कोर्ट में उसकी याचिका दायर कर दीजिए जिससे कि पूरी तरह से फंस जाएगा
Prashn ek kisee kampanee ka maalik apane karmachaaree ko peet de to kya karana chaahie dekhe phrend pahale baat hai ki kisee bhee maalik ko aapake oopar kamplent karane ka jo bhee hak hai vah bata sakata hai koee mod aapako ek baar do baar teen baar edavaij de sakata hai aur use ek chetaavanee ke roop mein saabit kar sakata hai lekin vah maar nahin sakata kar maarega to kaheen na kaheen ek karmachaaree ka ullanghan hoga aur use lebar kort jaanee chaahie usake oopar f.i.r. kar dena chaahie pooree kaha jae ki aap ko jitana prataadit kiya hai usaka use maapadand kaheen na kaheen dena padega 30 taareekh kisee bhee kampanee maalik ko kisee bhee karmachaaree ko maarane ka hak nahin hai bas use samajha sakata hai agar nahin samajh mein aa raha ki us kampanee se apane kampanee se usako nikaal sakata hai lekin maarane ka hak kisee bhee maalik ko nahin hai agar aisa hota hai to aap usake oopar f.i.r. kar deejie aur lebar kort mein usakee yaachika daayar kar deejie jisase ki pooree tarah se phans jaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard