#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

गरुड़ पुराण में वैतरणी नदी का क्या महत्व है?

Garud Puran Mein Vaitrani Nadi Ka Kya Mahatv Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:39
इस नदी में जल के स्थान पर रक्त और मवाद जाता है और इसके तट पर हड्डियों से भरे रहते हैं तथा मगरमच्छ सुई के समान मुख वाले प्यार ना कर मी कदम मछली और वजह जैसी सोच वाले गीतों का या निवास स्थल था तथा गरुड़ पुराण में यह बताया गया कि यमलोक का रास्ता ध्यान रख और पीड़ा देने वाला है केवल एक नाव के राही ही इस नदी को पार किया जा सकता है
Is nadee mein jal ke sthaan par rakt aur mavaad jaata hai aur isake tat par haddiyon se bhare rahate hain tatha magaramachchh suee ke samaan mukh vaale pyaar na kar mee kadam machhalee aur vajah jaisee soch vaale geeton ka ya nivaas sthal tha tatha garud puraan mein yah bataaya gaya ki yamalok ka raasta dhyaan rakh aur peeda dene vaala hai keval ek naav ke raahee hee is nadee ko paar kiya ja sakata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
गरुड़ पुराण में वैतरणी नदी का क्या महत्व है?Garud Puran Mein Vaitrani Nadi Ka Kya Mahatv Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:50
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न गरुड़ पुराण में वर्तनी नदी का क्या महत्व है तो फ्रेंड गरुड़ पुराण में वेतन ईनदी इंसान की जो पुण्य पाप के कर्म होते हैं उसे पार करने की नदी बताई गई है जो इंसान बुरे कर्म करता है वह सी नदी में डूबता है तथा उसे वह सारे कष्टों को भोगना पड़ता है लेकिन जो इंसान अच्छे कर्म करता है तो वैतरणी नदी से उसे पार हो जाया जाता है और वह बितानी नदी से पार गौमाता कराती है गौमाता की पूंछ पकड़कर ही वैतरणी नदी पार करी जाती है इसलिए हमारे यहां गौ माता का बहुत महत्व है ऐसा बोला जाता है कि मैं पहनी नदी में गौमाता पार कर आती है कि पूछ पकड़ के पार करते हैं और जो बुरे कर्म करते हैं वैसे ही नदी में मगरमच्छ होते हैं खा लेते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn garud puraan mein vartanee nadee ka kya mahatv hai to phrend garud puraan mein vetan eenadee insaan kee jo puny paap ke karm hote hain use paar karane kee nadee bataee gaee hai jo insaan bure karm karata hai vah see nadee mein doobata hai tatha use vah saare kashton ko bhogana padata hai lekin jo insaan achchhe karm karata hai to vaitaranee nadee se use paar ho jaaya jaata hai aur vah bitaanee nadee se paar gaumaata karaatee hai gaumaata kee poonchh pakadakar hee vaitaranee nadee paar karee jaatee hai isalie hamaare yahaan gau maata ka bahut mahatv hai aisa bola jaata hai ki main pahanee nadee mein gaumaata paar kar aatee hai ki poochh pakad ke paar karate hain aur jo bure karm karate hain vaise hee nadee mein magaramachchh hote hain kha lete hain dhanyavaad

bolkar speaker
गरुड़ पुराण में वैतरणी नदी का क्या महत्व है?Garud Puran Mein Vaitrani Nadi Ka Kya Mahatv Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:36
आपका सवाल है कि गुरु पुराण में वेतन नदी का क्या महत्व है तो ग्रुप पुराण में बताया गया है कि हम लोग का रास्ता पैनल को पीड़ा देने वाला है वहां एक नदी बहती है जो कि सो योजना था 120 किलोमीटर है जिस व्यक्ति ने अपने जीवन काल में गोदान की हो वह केवल भक्ति इस नदी को पार कर सकते हैं एक अन्य लोगों को यमदूत नाम की में काटा था खासकर आकाश मार्ग में नदी के ऊपर से खींच के ले जाते हैं
Aapaka savaal hai ki guru puraan mein vetan nadee ka kya mahatv hai to grup puraan mein bataaya gaya hai ki ham log ka raasta painal ko peeda dene vaala hai vahaan ek nadee bahatee hai jo ki so yojana tha 120 kilomeetar hai jis vyakti ne apane jeevan kaal mein godaan kee ho vah keval bhakti is nadee ko paar kar sakate hain ek any logon ko yamadoot naam kee mein kaata tha khaasakar aakaash maarg mein nadee ke oopar se kheench ke le jaate hain

bolkar speaker
गरुड़ पुराण में वैतरणी नदी का क्या महत्व है?Garud Puran Mein Vaitrani Nadi Ka Kya Mahatv Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:02
सवाल ये है कि गरुड़ पुराण में बैटरी नदी का क्या महत्व है वैतरणी पुराणों में वर्जित नरक लोक की नदी मानी गई है गरुड़ पुराण निशंक लिखित अमृता जी कुछ ग्रंथों के अनुसार यशवत योजन विस्तीर्ण अब तो जलते भरी हुई रक्त पूज्य शिवकुमार कर्दम संकुल एवं दुर्गंध पूर्ण है इस नदी में पापी प्राणी मरने के बाद प्रेत शरीर धारण कर रोते हुए करते हैं और भयंकर जीव जंतुओं द्वारा बंसी एवं प्रार्थी तो कर रोते रहते हैं पार्टी के लिए आपके पास जाना अत्यंत कठिन माना गया है यमलोक में स्थित इस नदी को पार करने के लिए धर्म शास्त्र में कुछ उपाय भी बताए जाते हैं महाभारत में यह सूचना मिलती है कि भागीरथी नदी गंगा ही जब तक लोग में बहती है तब ले तनी कहलाती है मैं तरणी नाम की एक भौतिक नदी भारत के उड़ीसा राज्य में है जो बालाश और जिला और कटक जिला की सीमा बनाती है
Savaal ye hai ki garud puraan mein baitaree nadee ka kya mahatv hai vaitaranee puraanon mein varjit narak lok kee nadee maanee gaee hai garud puraan nishank likhit amrta jee kuchh granthon ke anusaar yashavat yojan visteern ab to jalate bharee huee rakt poojy shivakumaar kardam sankul evan durgandh poorn hai is nadee mein paapee praanee marane ke baad pret shareer dhaaran kar rote hue karate hain aur bhayankar jeev jantuon dvaara bansee evan praarthee to kar rote rahate hain paartee ke lie aapake paas jaana atyant kathin maana gaya hai yamalok mein sthit is nadee ko paar karane ke lie dharm shaastr mein kuchh upaay bhee batae jaate hain mahaabhaarat mein yah soochana milatee hai ki bhaageerathee nadee ganga hee jab tak log mein bahatee hai tab le tanee kahalaatee hai main taranee naam kee ek bhautik nadee bhaarat ke udeesa raajy mein hai jo baalaash aur jila aur katak jila kee seema banaatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गरुड़ पुराण में वैतरणी नदी का महत्व, वैतरणी नदी का महत्व गरुड़ पुराण में
URL copied to clipboard