#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?

Glucometre Kaise Kam Karta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
हेलो फ्रेंड्स आप का प्रश्न ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है तो फ्रेंड सब लोग को मीटर शुगर जांचने की मशीन होती है इसमें आप अपनी उंगली से दो बूंद ब्लड निकाली है और इसके ऊपर रख दीजिए फ्री है आपका ब्लड ब्लड शुगर लेवल बता देता है कि आपका शुगर लेवल घटा है कि बड़ा है कि नॉर्मल है तो यह जिसको ब्लड शुगर होता है वह लोग अपने ब्लड का शुगर नापने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं ग्लूकोमीटर बता देता है आपको कि आपका शुगर कैसा है डायबिटिक पेशेंट जो होते हैं वह इसका इस्तेमाल करते हैं धन्यवाद
Helo phrends aap ka prashn glookomeetar kaise kaam karata hai to phrend sab log ko meetar shugar jaanchane kee masheen hotee hai isamen aap apanee ungalee se do boond blad nikaalee hai aur isake oopar rakh deejie phree hai aapaka blad blad shugar leval bata deta hai ki aapaka shugar leval ghata hai ki bada hai ki normal hai to yah jisako blad shugar hota hai vah log apane blad ka shugar naapane ke lie isaka istemaal karate hain glookomeetar bata deta hai aapako ki aapaka shugar kaisa hai daayabitik peshent jo hote hain vah isaka istemaal karate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
0:39
ग्लूकोमीटर को कैसे काम करता है लड़का तो बस में जिस तरह से आपने थर्मामीटर देखा हमारे बॉडी का टेंपरेचर को पहचानता है बताता है उसी तरह से ग्लूकोमीटर होता है उसमें कुछ रेडिंग से दिए होते हैं जरूर दूध के अंदर डालेंगे तो वाटर लेवल कितना है वह बता देता है इसके सिवा और ज्यादा कुछ नहीं बताता कि हां इसमें क्या चीजें हैं तो उसके अनुसार है और ग्रुप में टर्न को वैली लीजिए और उसकी रीडिंग को जीरो पकड़कर और कर देखिए कि वह वाटर लेवल को किस तरह से भर जाता है तो उसे भी है पर पता चलता है
Glookomeetar ko kaise kaam karata hai ladaka to bas mein jis tarah se aapane tharmaameetar dekha hamaare bodee ka temparechar ko pahachaanata hai bataata hai usee tarah se glookomeetar hota hai usamen kuchh reding se die hote hain jaroor doodh ke andar daalenge to vaatar leval kitana hai vah bata deta hai isake siva aur jyaada kuchh nahin bataata ki haan isamen kya cheejen hain to usake anusaar hai aur grup mein tarn ko vailee leejie aur usakee reeding ko jeero pakadakar aur kar dekhie ki vah vaatar leval ko kis tarah se bhar jaata hai to use bhee hai par pata chalata hai

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:15
सवाल यह है कि ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है प्लेन शर्ट के माध्यम से एक बूंद रक्त लेने के बाद उसे डिस्पोजल टेस्ट में रखते हैं जिसके आधार पर मीटर ब्रेड का ग्लूकोस लेवल मापता है मीटर ग्लूकोस लेवल बताने में 360 सेकंड का समय लेता है यह सवाल किए जा रहे हैं मीटर पर निर्भर करता है वैसे मिलीग्राम प्रति डिसिलीटर मिलो मील प्रति लीटर के रूप में प्रदर्शित करता है ब्लू को मीटर के मुख्य पाठ है टेस्ट स्ट्रिप कोडिंग डिस्प्ले क्लॉक मेमोरी और टेस्ट स्ट्रिप में एक केमिकल लगा होता है जो रक्त की बूंदों में मौजूद ग्लूकोस से क्रिया करता है कुछ मॉडलों में प्लास्टिक स्टेप होती है जिसमें ग्लूकोज ऑक्सीडेंट का प्रयोग होता है सामान्यता प्लाज्मा में ग्लूकोज का स्तर पूरे खून में ग्लूकोज के स्तर की तुलना में 10% और 15% अधिक होता है घरेलू ब्लू को लीडर पूरे ब्लड में ग्लूकोज के स्तर को नाप ते हैं वही टेस्ट लैब में प्रयुक्त होने वाले मीटर प्लाज्मा में ग्लूकोज के स्तर को मॉडल ग्लूकोमीटर को केवल केबल की सहायता से कंप्यूटर से भी जोड़ा जा सकता है
Savaal yah hai ki glookomeetar kaise kaam karata hai plen shart ke maadhyam se ek boond rakt lene ke baad use dispojal test mein rakhate hain jisake aadhaar par meetar bred ka glookos leval maapata hai meetar glookos leval bataane mein 360 sekand ka samay leta hai yah savaal kie ja rahe hain meetar par nirbhar karata hai vaise mileegraam prati disileetar milo meel prati leetar ke roop mein pradarshit karata hai bloo ko meetar ke mukhy paath hai test strip koding disple klok memoree aur test strip mein ek kemikal laga hota hai jo rakt kee boondon mein maujood glookos se kriya karata hai kuchh modalon mein plaastik step hotee hai jisamen glookoj okseedent ka prayog hota hai saamaanyata plaajma mein glookoj ka star poore khoon mein glookoj ke star kee tulana mein 10% aur 15% adhik hota hai ghareloo bloo ko leedar poore blad mein glookoj ke star ko naap te hain vahee test laib mein prayukt hone vaale meetar plaajma mein glookoj ke star ko modal glookomeetar ko keval kebal kee sahaayata se kampyootar se bhee joda ja sakata hai

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
1:35
ग्लूकोमीटर काम कैसे करता है ग्लूकोमीटर का मतलब होता है उसको जो माता के ऑपरेटर छोटा सा मिलता है उसको ग्लूकोमीटर का जिसमें सेंसर के माध्यम से एक बूंद रक्त होता है ब्लड वह डिस्पोजल टेस्ट में रखा जाता है और वहीं पर 3 से 7 सेकंड में वहां पर रेडी कहा जाता है रुको मीटर जो है वह शुगर को मांगता है और किस तरह का के तरीके का मीट अ स्कूल की स्कीम उसका रेडी ना निश्चित होता है धन्यवाद
Glookomeetar kaam kaise karata hai glookomeetar ka matalab hota hai usako jo maata ke oparetar chhota sa milata hai usako glookomeetar ka jisamen sensar ke maadhyam se ek boond rakt hota hai blad vah dispojal test mein rakha jaata hai aur vaheen par 3 se 7 sekand mein vahaan par redee kaha jaata hai ruko meetar jo hai vah shugar ko maangata hai aur kis tarah ka ke tareeke ka meet a skool kee skeem usaka redee na nishchit hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:37
सवाल है ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है देखिए ग्लूकोमीटर में लेंस पट्टी के माध्यम से एक बूंद रक्त लेने के बाद उसे एक प्रायोगिक परीक्षा पट्टी यानी कि डिस्पोजेबल टेस्ट में रखते हैं जिसके आधार पर या उपकरण रक्त का शर्करा स्तर माता उपकरण शर्करा स्तर बताने में 3 से 60 सेकंड का समय लेता है या अंतराल प्रयोग किए जा रहे मीटर पर निर्भर करता है धन्यवाद
Savaal hai glookomeetar kaise kaam karata hai dekhie glookomeetar mein lens pattee ke maadhyam se ek boond rakt lene ke baad use ek praayogik pareeksha pattee yaanee ki dispojebal test mein rakhate hain jisake aadhaar par ya upakaran rakt ka sharkara star maata upakaran sharkara star bataane mein 3 se 60 sekand ka samay leta hai ya antaraal prayog kie ja rahe meetar par nirbhar karata hai dhanyavaad

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:46
उसका साथियों सवाल है ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है तो साथियों ग्लूकोमीटर में लेंस के माध्यम से एक बूंद रक्त लेने के बाद उसे एक प्रयोग परीक्षण पट्टी में रखते हैं इसके आधार पर यह उपकरण रक्त का शर्करा स्तर मापता है उपकरण शर्करा स्तर पना बनाने में 6 से 60 सेकंड का समय लेता है साथियों 3 से 7 सेकंड का समय लेता है और यह अंतराल प्रयोग किए जा रहे मीटर पर निर्भर करता है कि कितना समय लेता है आई होप कि इस सवाल का जवाब आपको पसंद आया होगा धन्यवाद
Usaka saathiyon savaal hai glookomeetar kaise kaam karata hai to saathiyon glookomeetar mein lens ke maadhyam se ek boond rakt lene ke baad use ek prayog pareekshan pattee mein rakhate hain isake aadhaar par yah upakaran rakt ka sharkara star maapata hai upakaran sharkara star pana banaane mein 6 se 60 sekand ka samay leta hai saathiyon 3 se 7 sekand ka samay leta hai aur yah antaraal prayog kie ja rahe meetar par nirbhar karata hai ki kitana samay leta hai aaee hop ki is savaal ka javaab aapako pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:29
बटन वाले सूट के माध्यम से एक बूंद रक्त लेने के बाद उसे एक प्रयोज्य परीक्षण पट्टी अर्थात डिस्पोजेबल टेस्ट स्ट्रिप में रखते हैं जिसके आधार पर यह उपकरण रक्त का शर्करा स्तर मारता है और उपकरण शर्करा स्तर बताने में 3 से 7 सेकंड का समय लता यह अंतराल प्रयोग किए जा रहे हैं मीटर पर निर्भर करता है
Batan vaale soot ke maadhyam se ek boond rakt lene ke baad use ek prayojy pareekshan pattee arthaat dispojebal test strip mein rakhate hain jisake aadhaar par yah upakaran rakt ka sharkara star maarata hai aur upakaran sharkara star bataane mein 3 se 7 sekand ka samay lata yah antaraal prayog kie ja rahe hain meetar par nirbhar karata hai

bolkar speaker
ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है?Glucometre Kaise Kam Karta Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:07
मिस्टर रोशन एक मित्र ने सवाल किया ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है तो दोस्तों ऐसा है कि कल 1970 में 1970 में खोजा गया था इस काम को मीठा संस्कार किया गया लेकिन 1980 के दशक में यह काफी प्रचलन में चलाया ग्लूकोमीटर के अविष्कार के पहले दोस्तों जो है डायबिटीज का यूरिन टेस्ट के आधार पर मापा जाता था इसको यूरिन टेस्ट के द्वारा ही पता चलता था इस करके की ब्लू को मीटर जो है दोस्तों इलेक्ट्रोकेमिकल तकनीक के आधार पर काम करता है इसके अलावा हाइपोग्लाइसीमिया के स्तर को मापने के लिए किया जाता है दोस्तों आधुनिक जीवन शैली है इसमें व्यक्ति हजरत कई ऐसे लोगों को नए लोगों को से परेशान हो जाता है हर व्यक्ति को हर दूसरे व्यक्ति कोई परेशानी हो जाती है क्योंकि जो रहन-सहन खान-पान में जो है इसकी वजह से डायबिटीज के पहले क्या होता था कि यूरिन टेस्ट करके शुगर का डायबिटीज का पता चलता था इसके बाद 1970 में ग्लूकोमीटर का खोजा खोजा गया और 1989 तक यह काफी चलन में आ चुका और आठ परसेंट हर घर में इसका आसान होता है जो एक सेकेंड के अंदर 2 सेकेंड के अंदर यह आपको वह आपका शुगर लेवल किस बढ़ा है घटा है बता देता है इसके इसको क्या होता है कि दोस्त तो आप उंगली में नजर से पेश करके थोड़ा सा एक बूंद खून निकाल के और उस पर जो होता है ग्लूकोमीटर का इस्तीफा दें उस पर रखने से दिल को मीटर आप किस पार्टी में कर शुगर लेवल कितना है तो समथिंग समथिंग उपर नीचे थोड़ा बहुत होता है उसमें और बता देता है दोस्तों इसका जो काम करने का तकनीक है वह है इलेक्ट्रोकेमिकल की तकनीक पर काम करता है और तो अच्छा है दोस्तों की आपको मिल पसंद आए तो लाइक और कमेंट करिए और सब्सक्राइब करिए धन्यवाद
Mistar roshan ek mitr ne savaal kiya glookomeetar kaise kaam karata hai to doston aisa hai ki kal 1970 mein 1970 mein khoja gaya tha is kaam ko meetha sanskaar kiya gaya lekin 1980 ke dashak mein yah kaaphee prachalan mein chalaaya glookomeetar ke avishkaar ke pahale doston jo hai daayabiteej ka yoorin test ke aadhaar par maapa jaata tha isako yoorin test ke dvaara hee pata chalata tha is karake kee bloo ko meetar jo hai doston ilektrokemikal takaneek ke aadhaar par kaam karata hai isake alaava haipoglaiseemiya ke star ko maapane ke lie kiya jaata hai doston aadhunik jeevan shailee hai isamen vyakti hajarat kaee aise logon ko nae logon ko se pareshaan ho jaata hai har vyakti ko har doosare vyakti koee pareshaanee ho jaatee hai kyonki jo rahan-sahan khaan-paan mein jo hai isakee vajah se daayabiteej ke pahale kya hota tha ki yoorin test karake shugar ka daayabiteej ka pata chalata tha isake baad 1970 mein glookomeetar ka khoja khoja gaya aur 1989 tak yah kaaphee chalan mein aa chuka aur aath parasent har ghar mein isaka aasaan hota hai jo ek sekend ke andar 2 sekend ke andar yah aapako vah aapaka shugar leval kis badha hai ghata hai bata deta hai isake isako kya hota hai ki dost to aap ungalee mein najar se pesh karake thoda sa ek boond khoon nikaal ke aur us par jo hota hai glookomeetar ka isteepha den us par rakhane se dil ko meetar aap kis paartee mein kar shugar leval kitana hai to samathing samathing upar neeche thoda bahut hota hai usamen aur bata deta hai doston isaka jo kaam karane ka takaneek hai vah hai ilektrokemikal kee takaneek par kaam karata hai aur to achchha hai doston kee aapako mil pasand aae to laik aur kament karie aur sabsakraib karie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ग्लूकोमीटर कैसे काम करता है ग्लूकोमीटर का काम
URL copied to clipboard