#भारत की राजनीति

bolkar speaker

अभी भारत सरकार में वित्तीय चुनौतियां क्या क्या है?

Abhi Bharat Sarkar Mei Vitey Chunautiyan Kya Kya Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
3:10
जब से करो ना कॉल आया है तो भारत में बहुत सारा वित्तीय चुनौती यही है हंसते हुए कर्ज की बढ़ती मात्रा कई सालों से हमारे बैटिंग प्रणाली के लिए बड़ी समस्या बन गई है करो ना मामा रहते मंदी की मार झेलती हमारी अर्थव्यवस्था को पटरी पर ला कर उसे गतिशील बनाने के लिए भी इस चुनौतियों का समुचित सम्मान करना बहुत जरूरी है भारतीय रिजर्व बैंक ने चेतावनी दी है कि अगर बैंकों ने गैर निष्पादित परिसंपत्ति आए यानी एनडीए के निपटने और वसूलने में मुस्तादी नहीं दिखाई तो आगामी दिसंबर में एनपीए का अनुपात 13.5 फ़ीसदी हो जाएगा तो साल भर पहले 7.5 फीसद के स्तर पर था अपने वार्षिक वित्तीय स्थायित्व रिपोर्ट में केंद्रीय बैंक ने यह आशंका भी जताई कि जा बीएनपीए बढ़त का यह आंकड़ा मार्च 2022 तक बरकरार रहा तो अभी से 99 के बाद से यह सबसे खराब स्थिति होगी महामारी पैदा हुई समस्या को समाधान के लिए सरकार द्वारा उद्योगों और उद्यमों को विभिन्न प्रकार के राहत मुहैया कराए गए हैं सरकार की कोशिश है कि बाजार में मांग बड़े ताकि उत्पादन में तेजी आई एम रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे उत्पादन और निर्माण के लिए आवश्यक निवेश के लिए बैंकों से लोन लेने के लिए भी कारोबारियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है लेकिन एनडीए के दबाव और भाभी को और जो की वसूली के लिए अनिश्चितता की वजह से बैंक के द्वारा कर्ज में हिचकिचाहट देखी जा सकती है निर्मला सीतारमण का यह कहना पड़ गया था कि बैंक ग्राहकों को ऋण उपलब्ध कराने में कोताही न बरतें लेकर आई है और भविष्य के लिए भी आश्वासन दिया है ऐसा इसलिए किया गया है कि बैंकों के पास कारोबार के जरूरी पूंजी की कमी ना हो सके एक प्रकार से या सरकार के लिए आसान फैसला नहीं है क्योंकि राजस्व में कमी की स्थिति में विभिन्न योजनाओं के लिए इस धन का इस्तेमाल किया जा सकता था लेकिन अर्थव्यवस्था में बैंकिंग तंत्र की स्थिति रीड की हड्डी की तरह होती है इसलिए उनके वित्तीय स्वास्थ्य को ठीक रखना भी जरूरी है एनपीए बढ़ने की आशंका है इसलिए भी मजबूत हुई है क्योंकि कोरोना काल के संकट से उद्योग जगत से लेकर छोटे कारोबारियों तक के नुकसान हुआ है उनकी चुनावती पर नकारात्मक असर पड़ सकता है सितंबर 2020 में बैंकों का पूंजी अनुपात घटकर जो है 15.6 ऑफिस दे रहा था जो इस साल सितंबर में चौथी रहने का अनुमान है खराब स्थिति आंकड़ा जो है 12.5 भी हो सकता है स्थिति में ऑफिस दीपू जी का अनुपात रखने का स्वाद भी नीचे चले जाएंगे और ऐसा होना बैकिंग सेक्टर में भारी संकट होगा अर्थव्यवस्था में सुधार को अमीर जरूर बड़ी है लेकिन शेयर बाजार के लगातार बढ़ी उछाल मैं वीजा बैंक कोचिंग कर दिया है क्योंकि यह वास्तविक आर्थिक व वित्तीय स्थिति को प्रतिबिंब नहीं करता है
Jab se karo na kol aaya hai to bhaarat mein bahut saara vitteey chunautee yahee hai hansate hue karj kee badhatee maatra kaee saalon se hamaare baiting pranaalee ke lie badee samasya ban gaee hai karo na maama rahate mandee kee maar jhelatee hamaaree arthavyavastha ko pataree par la kar use gatisheel banaane ke lie bhee is chunautiyon ka samuchit sammaan karana bahut jarooree hai bhaarateey rijarv baink ne chetaavanee dee hai ki agar bainkon ne gair nishpaadit parisampatti aae yaanee enadeee ke nipatane aur vasoolane mein mustaadee nahin dikhaee to aagaamee disambar mein enapeee ka anupaat 13.5 feesadee ho jaega to saal bhar pahale 7.5 pheesad ke star par tha apane vaarshik vitteey sthaayitv riport mein kendreey baink ne yah aashanka bhee jataee ki ja beeenapeee badhat ka yah aankada maarch 2022 tak barakaraar raha to abhee se 99 ke baad se yah sabase kharaab sthiti hogee mahaamaaree paida huee samasya ko samaadhaan ke lie sarakaar dvaara udyogon aur udyamon ko vibhinn prakaar ke raahat muhaiya karae gae hain sarakaar kee koshish hai ki baajaar mein maang bade taaki utpaadan mein tejee aaee em rojagaar ke avasar bhee paida honge utpaadan aur nirmaan ke lie aavashyak nivesh ke lie bainkon se lon lene ke lie bhee kaarobaariyon ko protsaahit kiya ja raha hai lekin enadeee ke dabaav aur bhaabhee ko aur jo kee vasoolee ke lie anishchitata kee vajah se baink ke dvaara karj mein hichakichaahat dekhee ja sakatee hai nirmala seetaaraman ka yah kahana pad gaya tha ki baink graahakon ko rn upalabdh karaane mein kotaahee na baraten lekar aaee hai aur bhavishy ke lie bhee aashvaasan diya hai aisa isalie kiya gaya hai ki bainkon ke paas kaarobaar ke jarooree poonjee kee kamee na ho sake ek prakaar se ya sarakaar ke lie aasaan phaisala nahin hai kyonki raajasv mein kamee kee sthiti mein vibhinn yojanaon ke lie is dhan ka istemaal kiya ja sakata tha lekin arthavyavastha mein bainking tantr kee sthiti reed kee haddee kee tarah hotee hai isalie unake vitteey svaasthy ko theek rakhana bhee jarooree hai enapeee badhane kee aashanka hai isalie bhee majaboot huee hai kyonki korona kaal ke sankat se udyog jagat se lekar chhote kaarobaariyon tak ke nukasaan hua hai unakee chunaavatee par nakaaraatmak asar pad sakata hai sitambar 2020 mein bainkon ka poonjee anupaat ghatakar jo hai 15.6 ophis de raha tha jo is saal sitambar mein chauthee rahane ka anumaan hai kharaab sthiti aankada jo hai 12.5 bhee ho sakata hai sthiti mein ophis deepoo jee ka anupaat rakhane ka svaad bhee neeche chale jaenge aur aisa hona baiking sektar mein bhaaree sankat hoga arthavyavastha mein sudhaar ko ameer jaroor badee hai lekin sheyar baajaar ke lagaataar badhee uchhaal main veeja baink koching kar diya hai kyonki yah vaastavik aarthik va vitteey sthiti ko pratibimb nahin karata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अभी भारत सरकार में वित्तीय चुनौतियां क्या क्या है भारत सरकार में वित्तीय चुनौतियां
URL copied to clipboard