#मनोरंजन

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
4:33
मित्रों आप सभी को मकर सक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं परम पूज्य आचार्य जीवन आनंद जी चेतन बता रहा है मकर सक्रांति का रहस्य मकर सक्रांति यह मानव जगत को मत पंथ संप्रदाय छुआछूत आदि के विघटनकारी संक्रमण से छुड़ाकर ईश्वर और धर्म के नाम पर एकात्मता किसने में जोड़ने वाला देश काल के तत्वदर्शी अध्यात्म विज्ञान वासियों द्वारा चलाया हुआ सतयुग प्रवर्तक पर रामायण का इतिहास है माघ मकर गति रवि जब होई तीरथ पति जाए सब कोई देव दनुज किन्नर नर श्रेणी मध्य जी सादर शक्ल त्रिवेणी हुए ऋषि मुनि समाजा बाय जॉन तीरथ राजा ब्राह्मण निरूपण धर्म विधि तत्व विभाग कहीं भक्ति भगवान के संयुक्त ज्ञान विराज मकर सक्रांति के शुभ पर्व पर प्रयागराज में ब्रह्म निरूपण छात्रों तथा विश्व रूप ब्रह्म का प्रत्यक्ष यथार्थ दर्शन निरूपण प्रयोगात्मक प्रक्रियाओं से कराए जाने के कारण प्रयागराज का नाम प्रयागराज हुआ ब्रह्म नाम यह प्रत्यक्ष देखने वाले विश्वरूप परमात्मा का ही है आगे पीछे दाहिनी भाई और ऊपर नीचे व्यापक चर्चा में अखंड दिख रहा है यदि उपरोक्त उपनिषद मंत्र में दर्शाए अनुसार 10 रूपी ब्रह्म का दिव्य दृष्टि 30 अप्रैल प्रत्यक्षीकरण की रीति से दर्शन लक्ष्य नहीं हुआ तो वर्तमान के सामान ईश्वर और धर्म के नाम पर सैकड़ों और हजारों मत पंथ संप्रदाय और जातिवादी चूत यारी विनाशकारी राग दोस्त निर्माण होकर फसलों को विषमता से नरसंहार होने लगता है हरि व्यापक सर्वत्र समाना व्याप्त है सम सर्वत्र परमात्मा यह देखकर आत्माराम नहीं त्याग त्याग है वह पावे परमा गति गीता का यह सिद्धांत भूल जाने से आसुरी राक्षसी दृश्य देखने लगता है यह संसार के मनुष्य तुम एक विचार के बनो एक विचार से बोलो तुम्हारे मन में एक ही ईश्वर का ज्ञान प्राप्त करें इस प्रकार साथियों की लोग एकमत रहकर अपने कार सिद्ध कर दे रहे उसी प्रकार तुम भी अपने परम सुख शांति के लिए एक मत से कार्य करते रहो अपनी सभी की प्रार्थना एक होना अपने विचार का स्थान एक होना अपने सभी के विचार एक ही रहे मैं दे अपना सबका ध्यान भी एक होना चाहिए मैं तुम सभी को एक ही सर्वोपरि स्टोपा कहता हूं हम सब एक ही साहित्य के एक ही देव परमात्मा खुदा भगवान का पूजन सोकर हमसे करें जिससे भूत करें कर्म देश में सब व्याप्त हो उसको शो कर्म के द्वारा बाजे वह ज्ञान गए यही गीता का सिद्धांत है जब तक विश्वरूप ही ब्रह्म का दर्शन लक्षण होगा तब तक सो धर्म के अनुसार भक्ति होना संभव नहीं है जाने भी नैना हुए प्रतीत बिन प्रति तो हो ही नहीं प्रीत प्रीत बिना नहीं भक्ति धरना जिमी खा गए सेजल के चिकनाई परमात्मा दर्शन तत्व विभाग के आधार पर प्रत्यक्षीकरण में देखा करो ना चाहिए अनिल अनल जल गगन रहा है इन पांचों में विश्वास है देखो S8 और कहीं है बे थे जो मैं यहां नहीं है सक्रांति के पर तिल और गुड़ के लड्डू बनाने का दहेज दिल इसलिए और गुड़ मिठास का प्रतीक है सर्वांग योग अध्याय 5 में घी के साथ मिला देखो बस तुम्हें गुण साथ में है यह तत्व विभाग और गुण विभाग विश्वरूप खुदा परमात्मा गांठ की पहचान और भक्ति योग समझाया जाता था जिसकी आज भी विश्व मात्र में एकात्मता के प्रेम की जरूरत है सादर नर्मदे हर धन्यवाद

और जवाब सुनें

Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:28
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि मकर सक्रांति के पीछे पर्व की शुरुआत कैसे हुई थी तो दोस्तों जब इस त्यौहार के बारे में बात आती है कैसे और किसने शुरुआत की तो इस सिलसिले में एक महत्वपूर्ण नाम आता है बाबा गोरखनाथ दोस्तों नवभारत टाइम्स डॉट कॉम के एक पोस्ट के अनुसार हम इसकी जानकारी लेते हैं दोस्तों पुरानी कथाओं के अनुसार जब खिलजी ने आक्रमण किया तो लगातार संघर्षरत रहने के चलते नाथ योगी भोजन तक नहीं कर पाते थे इसके पीछे कारण यह था कि आक्रमण के चलते योगियों के पास भोजन बनाने का भी समय नहीं रहता था वह अपनी भूमि को बताने के लिए संघर्ष करते रहते थे और अफसर ही भूखे रह जाते थे किसी के साथ आक्रमण में नाथ योगी भूखे ही संघर्ष रहते थे बाबा गोरखनाथ ने इस समस्या का हल निकालने की सूची लेकिन यह भी ध्यान रखना था कि ज्यादा समय भी ना लगे तब बाबा गोर दाल चावल और सब्जी को एक एक साथ पकाने की सलाह दी थी दोस्तों बाबा गोरखनाथ का बताया हुआ यह व्यंजन नाथ योगियों को बेहद पसंद आया इसे बनाने में काफी कम समय लगा कम समय तो लगता ही था साथ ही काफी स्वादिष्ट और त्वरित उंजा देने वाला भी होता था कहा जाता है कि बाबा नहीं इस व्यंजन को खिचड़ी का नाम दिया था तू तो कहता था कि फटाफट तैयार होने वाले इस व्यंजन से नाथ योगियों को भूख की परेशानी से राहत मिल गई इसके अलावा वह खिलजी के आतंक को दूर करने में भी सक्षम हो गए इसके बाद से ही गोरखपुर में मकर सक्रांति के दिन को बताओ विजय दर्शन पर्व के रूप में भी बनाते हैं दोस्तों मकर सक्रांति के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर के पास खिचड़ी मेले का आयोजन किया जाता है इस मेले की शुरुआत बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी का भोग लगाकर होती है इसके बाद प्रसाद स्वरूप पूरे मेले में खिचड़ी का वितरण भी किया जाता है दोस्तों ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक खिचड़ी का मुख्य तक चावल और चंद्रमा के प्रभाव में होता है इस दिन खिचड़ी में डाली जाने वाली उड़द की दाल का संबंध शनिदेव से माना जाता है वही हल्दी का संबंध गुरु ग्रह से और हरी सब्जियों का संबंधित बुध से माना जाता है वहीं खिचड़ी में पढ़ने वाले की का संबंध सूर्य देवता से होता है इसके अलावा भी से शुक्र और मंगल भी प्रभावित होते हैं यही वजह है कि मकर सक्रांति पर खिचड़ी खाने से आरोग्य में वृद्धि होती है मकर सक्रांति पर तिल और तिलकुट खाने की भी परंपरा है ज्योतिष कारणों के मुताबिक तेल का सीधा संबंध नीचे की मकर सक्रांति के दिन तिल और तिलकुट खाने का रिवाज है इससे शनि राहु और केतु से संबंधित सारे दोष दूर हो जाते हैं दोस्तों इस मौके पर जहां कई जगहों पर खिचड़ी खाने की परंपरा है तो कुछ वहीं से कॉपर तिलकुट को प्रवाहित करने का भी रिवाज है मान्यता है कि ऐसा करने से व्यक्ति को हर तरह के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है दोस्तों मकर सक्रांति की आराधना का पर्व है प्रकृति की आराधना का पर्व है जो सूर्य के उत्तरायण होने के उपलक्ष में मनाया जाता है यही कारण है कि कड़ाके की ठंड में लोग सूर्योदय से पूर्व स्नान करके सूर्य को अर्घ्य देते हैं इसके बाद तिलाठी यानी तिल के पौधे का डंठल जलाकर खुद को गर्म करते हैं और पहले दही चूड़ा तिलवानी तिल का लड्डू खाते हैं तो दोस्तों इस प्रकार से मनाया जाता है मकर सक्रांति का पर्व आशा करते हैं आपको अच्छा लगा होगा धन्यवाद

Nita mehar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nita जी का जवाब
Unknown
0:19

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:17
मेरे सभी पूर्ण कर परिवार के मित्रों को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं और आपके सवाल का उत्तर बता रहा हूं जो ध्यान से सुनो हमारे सनातन धर्म में मकर संक्रांति का बहुत ही महत्व है जो पौष मास में जब सूर्य अपने पुत्र शनि की राशि मकर में प्रवेश करते हैं तभी इस पर्व को मनाया जाता है इस दिन जब होता प्रधान और स्नान का विशेष महत्व है सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करेंगे तो 5 ग्रह का संयोग बनेगा जिसमें सूर्य बुध गुरु चंद्रमा शनि भी शामिल रहेंगे विशेष संयोग बन रहे हैं तो इस पर्व को शुभ बना रहे हैं मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से निकलकर अपने पुत्र शनि की राशि में मकर में प्रवेश करते हैं इसलिए माना जाता है कि इस दिन सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए खुद उनके घर आते हैं इस वजह से इस खास दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:05
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है मकर संक्रांति पर्व की शुरुआत कैसे हुई ऐसा कहा जाता है ऐसा माना जाता है कि मकर संक्रांति शुरुआत जो है वह इसी दिन जो है यशोदा जी ने श्रीकृष्ण की प्राप्ति के लिए जो है व्रत रखा था साथी इसी दिन फ्रेंड मां गंगा भागीरथ की के पीछे जो है चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होते हुए गंगासागर में जाकर मिल गई थी और यही वजह कि हर साल मकर संक्रांति के दिन जो है गंगासागर में भारी भीड़ भीड़ भी होती है फ्रेंड जिसे नहावन के नाम से भी जाना जाता है यानी कि आपने सुना होगा कि जब खिचड़ी जाती है तब स्नान भी किया जाता है नहावन भी लगता है वहां का मेला भी लगता है जैसे कि हमारे यहां इलाहाबाद संगम पर लगेगा या फिर हरिद्वार में लगा संगम उसे कहा जाता है फ्रेंड जहां पर दो या दो से अधिक नदियों का जो है मिलान होता हो उसे संगम कहते हैं तो पिछली बार तो यहां पर लगा था फ्रेंड इलाहाबाद में और अबकी बार जो है वह वह कुंभ है नहावन जो है वह हरिद्वार में लग रहा है और यह जो है इसमें स्नान करने से फ्रेंड इंसान की जो सारी बात होती है जो उनके अंदर जो है दुर्व्यवहार होते हैं उन सभी दुर्व्यवहार का नाश होता है एक अच्छे विचार की प्राप्ति होती है फ्रेंड एक अच्छे संस्कार की प्राप्ति होती है एक अच्छे हैं मर्यादा में रहने का जो है सौभाग्य प्राप्त होता है इंसान को और सब कुछ जो है यहां स्नान करने से उसका यह फल मिल जाता है धमकी धमकी और कैसी है जो है वह हमें उसकी प्राप्ति होती है और हमारे अंदर जो कोई दुर्गुण होते हैं भूत की समाप्ति हो जाती है आशा है कि आप सभी को है जवाब पसंद आया होगा शुक्रिया

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:25
कृषि क्रांति के प्रवाह की शुरुआत इसलिए कहा जाता है कि उस दिन यश यशोदा जी ने श्री कृष्ण की प्राप्ति के लिए व्रत रखा था हाथी इस दिन मां गंगा भागीरथ पीछे चलकर कपिल मुनि आश्रम से होते हुए ना सागर में जो मिली इसी कारण हर साल मकर सक्रांति मनाई जाती है

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:35
हेलो दोस्तों आप सभी बोलकर आपके जो भी मेरे मित्र हैं जो भी सब लोग हैं उनको मकर संक्रांति की ढेर सारी शुभकामनाएं मेरे तरफ से हैप्पी मकर संक्रांति आप लोगों का प्रश्न है मकर संक्रांति के पर्व की शुरुआत कैसे हुई थी तो मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी को मनाया जाता है यह शुरू से ही ऐसा मनाते हैं इस दिन सूर्य भगवान मकर राशि में प्रवेश करते हैं और अपने पुत्र से मिलने शनिदेव से जाते हैं तो इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते इसलिए मकर संक्रांति मनाई जाती है और मकर संक्रांति इस जन बोलते हैं कि माता यशोदा जी ने व्रत रखा था जब उनके कोई बच्चे नहीं थे तो कृष्ण जी को पाने के लिए बच्चों को पाने के लिए व्रत रखा था और इसी दिन मकर संक्रांति के दिन ही पहले भागीरथी की जटाओं से गंगा मां होती हुई आई थी और गंगासागर में मिल गई थी जाकर इसी दिन गंगा जी का मतलब यहां धरती पर आना हुआ था इसलिए दिन बहुत शुभ होता है और यदि मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है इस दिन मैं दानिश नान की बहुत मानता होती है इस दिन लोग खिचड़ी खाते हैं तिल गुड़ के लड्डू खाते हैं और दान पुण्य करते हैं और बहुत सारे जगह पर अमल मनाया जाता है इसी दिन लोहड़ी मनाई जाती है खिचड़ी बनाई जाती है इसीलिए यह संक्रांति मनाई जाती है दिन बहुत शुभ होता है धन्यवाद

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:58
नमस्कार मदन प्रकाश मिश्र आपका मन करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है मकर संक्रांति के पर्व की शुरुआत कैसे हुई तो मित्र मकर संक्रांति को पंजाब में लोहड़ी उत्तराखंड में उत्तर आईडी गुजरात में उत्तरायण तमिल में पोंगल और गढ़वाल में खिचड़ी संक्रांत के नाम से जाना जाता है मान्यता है कि इस दिन लाखों श्रद्धालु गंगा और पावन नदियों में स्नान कर दान करते हैं और मकर संक्रांति के दिन भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का वध कर उनके सिरों को काटकर मंदिर पर्वत पर गाड़ दिया था तभी से भगवान विष्णु की इस जीत को मकर संक्रांति पर्व के रूप में मनाया जाता है इसके अतिरिक्त कुछ अन्य भी पौराणिक कथाएं हैं इनमें से एक कथा जो की महाभारत में मिलती है उसके अनुसार महाभारत युद्ध के महान योद्धा और कौरवों की सेना के सेनापति गंगापुत्र भीष्म पितामह को इच्छा तू का वरदान था तथा अर्जुन के बाद लगाने के बाद उन्होंने इस दिन की महत्ता को जानते हुए अपनी मृत्यु के लिए इस दिन को निर्धारित किया विशन जानते थे कि सूर्य दक्षिणायन होने पर व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त नहीं होता और उसे इस मृत्युलोक में पुनः जन्म लेना पड़ता है महाभारत युद्ध के बाद जब सूर्य उत्तरायण हुआ तभी भीष्म पितामह ने प्राण त्याग इसके अतिरिक्त एक कथा और प्रचलित है कि संक्रांति के दिन ही मां गंगा स्वर्ग से अवतरित होकर राजा भगीरथ के पीछे-पीछे कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई गंगासागर तक पहुंची थी इस धरती पर अवतरित होने के बाद राजा भागीरथ ने गंगा के पावन जल से अपने पूर्वजों का तर्पण किया था इस दिन पर गंगासागर पर नदी के किनारे भव्य मेले का आयोजन किया जाता है इसलिए भी मकर संक्रांति को मनाया जाता है मित्र जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:32
आकाशवाणी की मकर संक्रांति के पूर्व की शुरुआत कैसे हुई तो 1902 से 14 फरवरी को मनाया जा रहा है त्यौहार काशी हिंदू विश्वविद्यालय के ज्योति शास्त्री गणेश मिश्रा के अनुसार 14 जनवरी को मकर संक्रांति पहली बार 1902 में मनाई गई थी इससे पहले 18वीं सदी से 12 और 13 जंगम आ जाते थे वर्ष 1964 में मोटरसाइकिल पहली बार 15 जनवरी को मनाई गई थी धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

#रिश्ते और संबंध

Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
1:15
कैसा सवाल से काफी दुखी लगते हैं क्योंकि उनके साथ ऐसा कुछ हो गया है परंतु पहले हमें यह जानना पड़ेगा कि ऐसा हुआ तो क्यों हुआ कि किसी व्यक्ति ने लड़की के पापा को कुछ कहा जिसकी वजह से लड़की के पापा ने शादी तोड़ दी थी कि हो सकता है कि कई बार हो सकता है लड़की के पापा ने कुछ सही बात कही हो कोई भी कई बार ऐसा होता है कि जब भी लड़का लड़की के बीच में जो शादी करते हैं हम किसी ना किसी से कंफर्म जरूर करते हैं लेकिन मेरा यह मानना है कि आप जब भी कंफर्म वगैरह कर रहे हो यानी कि वेरिफिकेशन कर रहे हो वह वेरिफिकेशन शादी वगैरा करने के पहले कर लेना चाहिए ताकि यह पहले ही ईश्वर विश्वास हो जाए कि लड़का लड़की दोनों सही है और दोनों में कोई गड़बड़ नहीं है तो मेरा ही माना था कि यह थी कि अगर किसी से कंफर्म करना था और लड़के के बारे में कुछ पता लगाना था तो वह पहले पता लगाना चाहिए था जब शादी तय करी थी उससे पहले ही सारी चीजें करने की होती है लेकिन जब एक बार आपने शादी तय कर ली उसके बाद अब शादी को फिर निभाओ और लड़के पर पर भरोसा लोगों की लड़का जो करेगा वह सही करेगा और सुना तो आपको मैंने जो पसंद आया होगा इस प्रकार मुझसे और सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद

#भारत की राजनीति

Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:16
प्रश्न है केंद्र द्वारा पास किए हुए किसी बिल को राज्य सरकार लागू करने से रोक सकती है तो दोस्तों वैसे तो केंद्र द्वारा पास के लिए कोई कानून क्या बिल्कुल राज्य सरकारें नहीं रोक सकती यह खुद जो है गृहमंत्री ने ऐलान किया था कि कोई भी कहना अगर केंद्र सरकार की लिस्ट में आता है राज्य सरकार ने उन्हें जो है लागू होने से यह है नहीं रोक सकती लेकिन इसके पीछे एक नियम है एक शर्त है कि वह कानून जो है केंद्र में पूर्ण बहुमत से पास हुआ हो जैसे कि लोकसभा की 500 सीटें हैं तो 500 में से 28 सीटों पर या 260 सीटों पर है 500 भाग 260 सांसदों ने उसको मानव और उसके बाद जब यह विधानसभा में पेश हुआ हो तो उसमें विधायकों की भी पूर्ण बहुमत हो तभी यह जो है केंद्र में और राज्य सरकार में काम करेगा या ने की पूर्ण बहुमत से कोई बिल पास हो तो यही काम करेगा अगर कोई बिल पास होने के बाद अगर कोई सांसद या विधायक उससे समर्थन से वापस लेते हैं अपना तो वहां की वहां उसके हिसाब से जो है वह बिल राज्य सरकार रोक सकती है अब प्रश्न यह है कि महाराष्ट्र सरकार कृषि भी लोगों को क्यों रोक रही है अपने यार लागू होने से तो दोस्तों देखिए यह जो क्लिक तीनों कृषि कानून है यह जो है ध्वनि मतों से पास हुए थे और यह बिल केवल केंद्र पर पास हुआ था और राज्य में पेश होने के बाद यह ध्वनि मतों से भी नहीं पास हुआ था इसीलिए जो है महाराष्ट्र सरकार पर चाहे तो अपना प्रतिबंध लगा सकती है विधान लोकसभा में पूर्ण बहुमत से पास होता तो फिर यह केंद्र की तरफ से जो है केंद्र के जो भी कानून है यह कृषि बिल कोई भी राज्य सरकार देश की नहीं रोक सकती थी तो यह है इसका उत्तर

#टेक्नोलॉजी

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:43
नमस्कार भ्रष्ट है मेरा सिम खराब हो गया है क्या करना है तो देख एक बार मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ था मेरा सिम जो है वह खराब हो गया था और नेटवर्क फोन में उसके नहीं आ रहे थे और चार्ज होने के बावजूद भी तो इसमें मैंने क्या किया था मैं जो हमारे सिम जहां से ऑफिस होते हैं फिर एग्जांपल अगर आपका वोडाफोन का सिम है तो वोडाफोन ऑफिस जो है आपके ही शहर में उपस्थित आप वहां पर जाएंगे अपना आधार कार्ड लेकर या उनका आधार कार्ड लेकर जाए जिनके नाम पर सिम है क्या उस आधार कार्ड को आपको सबमिट करना पड़ेगा वहां पर आपको गुस्से में जो है वह बदलकर वही नंबर पर नई सिम दे देंगे और आप किस टाइम जो है चालू हो जाएगी तो फिर

#मनोरंजन

Aarti Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aarti जी का जवाब
Unknown
0:35
मूंगड़ा मैं गुड़ की डली यह इंकार फिल्म का गाना है जो कि 1977 में रिलीज हुई थी इस गाने पर हेलन जी ने अमजद खान जी ने डांस किया था और उषा मंगेशकर जी ने इसे गाया था इस फिल्म के हीरो विनोद खन्ना और इसकी हीरोइन विद्या सिन्हा थी इसमें श्रीराम लागू जी की भी भूमिका थी इस फिल्म का लिरिक्स मजनू सुल्तानपुरी ने दिया था और म्यूजिक राजेश रोशन ने

#मनोरंजन

Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
1:56
आपका प्रश्न है कि यूट्यूब पर इंग्लिश ग्रामर पढ़ने के लिए कुछ बेहतरीन चैनलों के नाम बता सकते हैं जी बिल्कुल मैं नाम बता सकता हूं सबसे पहला चैनल जो मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लगता है और जो वाकई में काफी इंटरेस्टिंग भी है उस चैनल का नाम है टीएस मदान अब जाकर फ्लोर कर सकते हैं अवध जी नाम है उनका और उनके लगभग 10 मिलीयन सब्सक्राइबर्स पहुंचने वाले हैं जब मैं यह आंसर रिकॉर्ड कर रहा हूं तो उनके 9.8 3 मिलियन सब्सक्राइब करें तो वह काफी अच्छी तरीके से पढ़ाते हैं उनके पढ़ाने का अंदाज भी बहुत अच्छा है साथ ही साथ में बहुत सारी शार्ट वीडियो भी बनाते हैं 1 मिनट में आपको अच्छा खासा वोकैबलरी समझ में आ जाएगा क्या वह कहना चाहते हैं दूसरे नंबर पर मैं जिस चैनल को रखूंगा वह लर्निंग लर्निंग एक काफी अच्छा चैनल है उसमें बहुत सारे क्रिएटर्स हैं बहुत सारे लोग हैं एक प्रकार की एकेडमी है लड़ने जहां पर बहुत सारे टीचर आगे बढ़ाते हैं तो दूसरा भी और तीसरे नंबर पर जिसे मैं रखूंगा उनका नाम है स्पोकन इंग्लिश गुरु यह मुझे बहुत अच्छा चैनल लगा स्पोकन इंग्लिश गुरु बहुत ही देसी अंदाज में पढ़ाते हैं इनके लगभग 5.4 सिक्स मिलियन सब्सक्राइबर हैं और इनका जो पढ़ाते हैं उनका नाम है आदित्य राना और यह सर जो है बहुत अच्छी तरीके से पढ़ाते हैं सारी चीजें समझाते हैं खासकर अच्छी बात यह है कि अपने से रिलेट करके चीजों को बताते हैं इसके बाद अगर मैं चौथी चैनल का नाम बताऊं तो उसका नाम है इंग्लिश कनेक्शन यहां पर कंचन मैम पढ़ाती हैं जो कि यहां अक्सर करके लाइव क्लासेज लेती हैं और इन सब के हिसाब से वह पढ़ाती हैं उनके इस समय पाइप 79 सब्सक्राइबर्स हैं और उन्होंने लगभग 363 वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर डाला है कुछ नहीं बहुत जाकर कर सकते हैं और जो भी आपको अच्छा लगे वहां से आप पढ़ना शुरू कर सकते हैं धन्यवाद

#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
0:54
वह कांग्रेस चुप 28 दिसंबर 2885 को ए ओ ह्यूम नाम के एक अंग्रेज रिटायर्ड अधिकारी ने डाली थी उस कॉन्ग्रेस इसलिए डाला के बनाया गया था कि उस समय में अंग्रेज प्रशासन को चलाने के लिए कुछ भारतीयों की आवश्यकता थी तो उसको उसका नंबर अंग्रेज अधिकारियों की सहायता के लिए अंग्रेज प्रशासन को चलाने वाले कार्यकर्ताओं के रूप में कांग्रेस का जन्म हुआ था लेकिन लेकिन यह जो वर्तमान की जो कांग्रेस देख रहे हैं उसके बाद तो उसके दो-तीन लोग बदल गए हैं यह कांग्रेस इंदिरा कांग्रेस हैं जो इंदिरा जी ने बनाई थी और उस कांग्रेस का यह रूप है

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
एल्बर्ट बिल क्या था?
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:32
नमस्कार पेस्ट है अल्बर्ट बिल क्या था आपको बताएं वॉइस बाय लॉर्ड रिपन के कार्य कार्यकाल के दौरान अल्बर्ट बुलाया गया था इस बिल के द्वारा भारतीय न्यायाधीशों को उन मामलों की सुनवाई करने का भी अधिकार प्रदान कर दिया गया जिनमें यूरोप नागरिक भी शामिल होते थे इतने ही अल्बर्ट बिल विवाद कहा गया इस बिल के अत्याधिक विरोध के चलते वायसराय ने इसे वापस ले लिया था

#टेक्नोलॉजी

Ankita Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankita जी का जवाब
Unknown
2:49
नमस्कार दोस्तों सेटेलाइट क्या होता है और कैसे काम करता है सेटेलाइट आखिरी दो टाइप का होता है एक आर्टिफिशियल होता है कि नेचुरल होता आर्टिफिशियल हो गया जो हम लोग बना के भेज दे इस देश में इस देश में इस देश में एक पहले से एक सेटेलाइट है जो कि हम जान बोलते हैं चांदी एक सेटेलाइट ही तू सेटेलाइट क्या काम करता है कि जितना भी हम लोग काम ही नहीं चैट करता है वह फोटोस भी खेलता है दूसरे दूसरे प्लैनेट्स के ताकि उनको इंफॉर्मेशन मिल सके एक ब्लैक होल है ना खुश पर 11 का भी पता चल पाए तो जैसे कि आपको पता होगा कि आजकल जीपीएस भी बहुत आता है तो अगर 20 सैटेलाइट को मिलाकर हम एक ग्रुप बनता है तो वह आपका कोई भी चीज का एग्जैक्ट लोकेशन मिल जाएगा जैसे कि अभी भी आप शेयर कर पाते हैं अपना लोकेशन आपको एग्जैक्ट लोकेशन में जाते हैं जिससे कि अभी ओला वगैरह वर्क कर रहा है वैसे ही बहुत सारे फोटोस के फोटोग्राफ्स बाहर अर्थ की वेदर वेदर वगैरा भी पता चल जाता है तुझे सब सेटेलाइट के वजह से हो रहा है पहले जो हम लोग का कॉमेडी केशन था वह वह टावर के थ्रू होता था बट आप जैसे कि अगर दो टावर लगे हुए हैं तो अब बहुत सारे बिल्डिंग्स पेड़ से पेड़ आने लग जाए तो उस बीच में क्या होता है सिग्नल टूट जाता है पहले तो धीरे-धीरे सब करो करता है पहले टावर के जरिए होता था बट उसमें बहुत दिक्कत होता था कि टीवी क्लियर नहीं आता था आपको एंटीना वगैरह सब ठीक करना पड़ता था तो वह सब दिक्कत आती है तो वह दिक्कत को ओवर कम करने के लिए हमने सेटेलाइट किया जो की सेटेलाइट इन्वेंट किया जिसकी वजह से कि वह सिग्नल डायरेक्ट कहा जाता है सेटेलाइट पर एंड देन वह दूसरे को कनेक्ट करता है और फिर हम वार्तालाप या कम्युनिकेशन जिसको बोलते हम कर पाते हैं तो ऐसी यह सेटेलाइट बहुत बड़ी टॉपिक है बहुत अच्छे से स्कूल स्टडी और बहुत इंटरेस्टिंग टॉक पर क्या आप इसके बारे में जितना जानेंगे आपको अच्छा लगेगा यह पूरा साइंस से रिलेटेड है वो इतना ही गई मेन चीज है कि यह बहुत सारे कम्युनिकेशन फिर पिक्चर्स वगैरा लोकेशन में 11 कोस दूर करने के लिए कम्युनिकेट करने के लिए हमें आता है थैंक यू

#पढ़ाई लिखाई

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:38
नमस्कार पृष्ठ है नामधारी आंदोलन के बारे में बताएं कूका विद्रोह या नामधारी आंदोलन इसे भी ऐसे ही कहा जाता है यह पंजाब के कुकर लोग यानी कि नामधारी सिखों द्वारा किया गया था एक सशस्त्र विद्रोह था जो मूल्य ता अंग्रेजों द्वारा गायों की हत्या को बढ़ावा देने के विद्रोह में किया गया विरोध में किया गया था बालक सिंह तथा उनके अनुयाई गुरू रामसिंह जिग्नेश का नेतृत्व किया अधूरी तैयारी में ही विद्रोह भड़क उठा और इसी कारण से दबा दिया गया

#पढ़ाई लिखाई

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:36
करते हैं देवबंद आंदोलन के बारे में बताएं देवबंद श्री इस्लाम मुख्य रूप से हंसी के भीतर एक उरुवा पुणे द्वार वादी आंदोलन है यह भारत पाकिस्तान अफगानिस्तान और बांग्लादेश के में केंद्रित है जो यूनाइटेड किंगडम में फैल गया है और दक्षिण अफ्रीका मैच की उपस्थिति है यह नाम देवबंद भारत से निकला है जहां स्कूल दारुल उलूम देवबंद स्थित है

#पढ़ाई लिखाई

KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:56
सवाल है क्या किडनी रोगी नारियल पानी पी सकते हैं जी बिल्कुल पी सकते हैं किडनी रोगी को नारियल पानी पीना मना नहीं है गर्मी ही नहीं किसी भी मौसम में नारियल पानी पीना शरीर के लिए फायदेमंद होता है इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो विषाक्त तत्वों को शरीर से बाहर निकाल देते हैं किडनी रोग विशेषज्ञ का मानना है कि नारियल पानी से किडनी में पथरी की समस्या दूर हो जाती है क्योंकि यह पेशाब की नली को साफ करता है वही कुछ डॉक्टरों का मानना है कि कंपनी सेवन करने से भी पथरी रोग हो सकता है इसलिए इतना पानी पीना चाहिए कि रोजाना कम से कम 2 लीटर के साथ बाहर आ सके पानी किडनी में लवण और अपशिष्ट को जमने से रोकने में मदद करता है धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:36
आपका प्रश्न है कि मेरी कंप्यूटर का आईपी पता कैसे चलेगा तो दिखे फ्रेंडशिप में क्या करना पड़ेगा आपको कि जैसे विंडो है विंडो एट में क्या करेंगे आपको कुल विनप्लस एक्स दबाना होगा जैसे दब आएंगे तो तुम मेनू कमाल मीनू खुल जाएगा मेनू मैं आपको कमांड प्रॉन्प्ट पी आर ओ एम पी टी सिलेक्ट करना होगा सिलेक्ट करके जैसे ही आप उसमें चैट करेंगे तो आप सब मिलेगा आपको टाइप करने के लिए इसे तूल खुलकर आएगा उसमें आपको क्या डाला आईपीकॉन्फ़िग तो आई पी सी ई स एफ आई जी जैसी डाल के अंदर करेंगे ना आपको पूरी आपकी जो भी नेटवर्क कनेक्शन की जुड़ी जानकारी होगी पूरी लिस्ट खुल जाएगी उसमें क्या आपका आईडी आया आईपी एड्रेस है आप उसे पता कर लेंगे इसको पता करने के लिए क्या होगा 192 या 199 कंप्यूटर का अलग-अलग होता है 168.1 है लास्ट वाली सिम राधे कई का नेटवर्क तो रहेगा इन लास्ट के दो ऊपर नीचे उतरेंगे 1234 सीरियल वाइज से बढ़ते रहेंगे लेकिन इस तरीके से आप देख सकते हैं कि हां 192 या 199 168 डॉट दो हो जाएगा डॉट 10:00 भी हो जाएगा और आप पता कर सकते

#टेक्नोलॉजी

Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
1:11
कि वैसे तो इस स्मार्टफोन का उपयोग जो है तो आज के समय में रोजमर्रा के कामकाज है फिर कह लीजिए कार्यकाल के लिए किया जाता है लेकिन आज के समय में लोग जो है तो इतने ज्यादा प्रभावित हो चुके हैं कि आज के समय में उन्हें अपने परिवार के लिए समय दे पाना काफी ज्यादा मुश्किलात हो रहा है क्योंकि आज जो है तो लोग जो है तो सोशल साइट्स ने लोगों से इतने ज्यादा जुड़ते हैं जो कि सामने नहीं होते हुए भी उनसे बातें कर रहे हैं उनके साथ रह रहे उनके साथ रहना पसंद कर रहे हैं लेकिन जो उनके साथ है वाकई में उनके साथ में दूरी बना रहे हैं क्यों बना रहे हैं क्योंकि आज है तूने दूसरे लोगों की अपेक्षा अपनों से थोड़ी सी दिक्कतें होती हैं वहीं से शेयर नहीं कर पाते कोई भी बातें अपनी जो है तो सजा नहीं कर पाते अपनों से लेकिन जो दूसरे होते उनसे अपनी हर एक पैसे की स्थापना जो कर रहे हैं उसे आपस में शेयर कर लेते यह चीजें गलत है दोस्तों क्योंकि बाहरी व्यक्ति जो है तो आपका तब तक साथ देंगे जब तक मैं बाहर है आंतरिक तौर पर जो है तो अपने साथ देंगे इसलिए हमेशा अपनों का साथ रखें हमेशा उनका साथ जो है तो दूरियां ना बनाओ हमेशा उनसे प्यार करें और यार आपस में बना रहे दोस्तों

#पढ़ाई लिखाई

Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
1:16
क्या जी समय में जो है तो पढ़ाई के लिए मोबाइल आवश्यक है क्या तू देखी हां सही बात है आज के समय में जो है तो काफी सारे स्त्रोत जो है तो पढ़ाई से रिलेटेड जो है तो मोबाइल में अब काफी आसानी से मिल जाते हैं हमने दर्द जगह जो है तो किताबों का सहारा नहीं लेना पड़ता सभी चीजें हैं जो है बिजली मिल जाती है तो काफी बेहतर तरीके से हमारे लिए कारगर साबित हो रहा है जो कि हमारे रोजमर्रा के जीवन में जो है तो कोई भी ज्ञान प्राप्ति के लिए बहुत आवश्यक है तो लेकिन इसके दुष्परिणाम भी है कि आप जो है कि यदि अधिक ज्यादा समय बिताते इसमें आपको शादी चौक पर जो है तो कुछ ना कुछ और मानसिकता तो मानसिक तौर पर भी कुछ ना कुछ दिक्कत है हो सकती है और जो है तो परिवार से भी लोगों की दूरी अपेक्षित पहले के आज के समय में बहुत ज्यादा दूरी बन रही है तो इसे उतना ही इस्तेमाल करें जितना इसका प्रयोग हो बाकी जो भी आपको समझ लगता है कि इसमें कितना समय आपको हिसाब से आप इसे दें और ज्यादा से ज्यादा समय जो है तो अपने बाहरी दुनिया में जो आप पर मिले और मिले हैं तो उससे कम ही रहे और सुना सुना हो सपनों के साथ भी था और गुस्सा दोस्तों गाने

#जीवन शैली

Nidu Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidu जी का जवाब
Councler Computer Education
1:07
अपने व्यवसाय को ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए क्या-क्या तरीके अपनाए जा सकते हैं अपने व्यवसाय को लोगों तक पहुंचाने के लिए मत ज्यादा प्रचलित करने के लिए उसमें तो क्या करें जिससे लोगों को पसंद आने लगी तो उसके लिए आपको कुछ मुफ्त इसकी में रखनी होंगी जिससे लोग आपकी स्किन की तरफ अटैक्टिक हूं और जैसे ही बोलो बढ़ेंगे और अपने जो व्यवसाय आप चला रहे हैं वह एकदम क्वालिटी का हो उसमें कोई खोट ना हो जब आप उस चीज के साथ अच्छी माल के साथ तू ऑफ अभी रख रहे हैं आप अपने आप को जल्दी ही पॉपुलर कर लेंगे और लोग आपसे जल्दी ही जुड़ जाएंगे तो आपको पर भी रखने हैं और आपका जो वह है जो भी आप काम करते हैं उसकी क्वालिटी एकदम बेस्ट होनी चाहिए उसके बाद आप उसमें उतार-चढ़ाव कर सकते हैं लेकिन पास तो फोन आपको यही तरीका अपनाना पड़ेगा कि आप को परख नहीं है दूसरा आपको अपना प्रोडक्ट जो जो भी व्यवसाय करते हैं उसको एकदम परफेक्टली बनाना है धन्यवाद

#जीवन शैली

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
"LDS discover your journey"join telegram ,life problem & solution
1:30
कृष्ण की जिंदगी में क्या होना बेहद जरूरी है तू जिंदगी में तीन चीजों का होना बेहद जरूरी है सबसे पहले अनकंडीशनल लव आपके अंदर है यह जानना जरूरी है अपने आप को प्योर बनाना बहुत जरूरी है क्योंकि हम लस्सी अपने आप को क्यों बना सकते हो दूसरा है खाना पीना भी जरूरी है इस बॉडी के लिए तो मनी की एनर्जी भी जरूरी है यह एनर्जी कम होना चाहिए ना और सोना चाहिए बराबर होना चाहिए इसमें हम क्या कर सकते हैं कि खाने-पीने के लिए एक कंफर्टेबल लाइफ के लिए मनी की एलर्जी की जरूरत पड़ती है इसके लिए काम कर सकती है यह है कि हम जमीन पर रहकर ही ग्रो करें और बहुत लोगों को यह दो चीज मिल जाती है तो उड़ने लगती हूं फिर आकर गिर जाते हैं यह दिक्कत होती है उनके अंदर घमंड आया तरीके से ना हो हम धरती पर हैं और सभी लोग बराबर हैं इस वजह से देखना भी जरूरी होता है ठीक है यह तीनों चीजों का होना आपके अंदर बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट कि अगर आप अपना ख्याल रखेंगे अपने आप को लगाकर लव करेंगे उनके निशाना तो क्या करेंगे आप बिना किसी रिलेशन में आए सबको शेयर कर सकते हैं अगर आप किसी रिलेशनशिप में आना है तो किसी ट्यूशन से अपने आप आ गया यही होता है कि अपनी लाइफ में सबसे पहले अपने आप को प्रेम करो अनकंडीशनल लव करो अपनी केयर करो तभी आप दूसरों को दे सकते अगर भाई साहब कुछ खाली रहेंगे तो दूसरों को कुछ नहीं दे सकते हैं थैंक यू सो मच

#पढ़ाई लिखाई

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:40
कर दोस्तों आपका प्रश्न है क्या ज्यादा मोबाइल का प्रयोग करने से रात को नींद कम आती है क्या यह बात सही है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर है अगर हम रात को मोबाइल का ज्यादा प्रयोग करेंगे तो हम डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं क्योंकि हमारी इससे नींद कम होती है क्योंकि हम समय अपने मोबाइल में ज्यादा यूज करते हैं इसलिए हम ज्यादा डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं जिनसे हमारा मानसिक दिमाग में कोई टेंशन होने की वजह से और हमारी नींद भी कम आती है जो हमारे लिए स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है धन्यवाद साथियों

#जीवन शैली

Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
1:05
आज के समय में जो है तो लोगों को केवल सुंदरता ही दिखती है इस वजह से जो है तो समाज जो है तो सुंदर व्यक्ति दिखने वाले व्यक्तियों को ज्यादा आकर्षक का केंद्र में अंतर यदि अगर देखेंगे आप दूसरी ओर तो जो व्यक्ति जो है तो तेरे मोटापे का शिकार हो चुका है या फिर क्या लीजिए कि उसमें जो है तो रंगभेद है तो इस वजह से जो समाज से अलग ही एक नजरिए से देख रहा है आज के समय में और अधिक लोग जो हैं तो उन्हें उनके स्वभाव से नहीं पसंद करते हैं अधिकतम लोग जो है ना तो आज के समय में रंगभेद देखते हैं जिनका रंग गोरा होता है उन्हें अधिक पसंद किया जा रहा है जिसमें जो काले हैं उन्हें कम पसंद किया जा रहा है सबके अपने-अपने मानसिकता है इसमें और कुछ नहीं दोस्तों लेकिन मेरा मानना ऐसा है कि लोगों को जो है तो रंगभेद पर ना भरोसा करके जो है तो लोगों का विचार उनकी स्वभाव को देख करके उन्हें पसंद करना चाहिए और नजरअंदाज करना बाकी आपके अपने जमाजा दोस्तों यह है हमारे विचार धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

G Dewasi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए G जी का जवाब
Unknown
0:48
देखी मेरी सबसे अभी आपको दो-तीन साल और थोड़ा वेट करना चाहिए क्योंकि आपको भी पता है जितनी मात्रा में पेट्रोल पंप हमारे देश के अंदर मौजूद है उतनी मात्रा में जो इलैक्ट्रिक पंप होते हैं वह मौजूद नहीं है और हर बार यह पॉसिबल नहीं हो सकता है कि कोई अपनी कार को अपने घर से ही चार्ज करें इसलिए मैं आपको रिक्वेस्ट करूंगा थोड़ा सा और आप वेट कीजिए नो डाउट अगर आपको इलेक्ट्रिक बाइक स्कूटी लेनी है तो वह आप ले सकते हो क्योंकि उसे हम कैसे चार्ज कर सकते हैं और जो इलेक्ट्रिक कार होती है उसे देखिए जो बैटरी होती है उसकी काफी बड़ी होती है वह काफी ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी कंज्यूम्ड करती है और उसे घर से चार्ज करना थोड़ा डिफिकल्ट होता है प्लीज देखिए अगर आप मुंबई दिल्ली बेंगलुरु या फिर कोलकाता में रहते हो तो ऐसी जगह पर आपको इलेक्ट्रिक पंप काफी देखने को मिलते हैं तो आप वहां पर रहते हो तो आपको इलेक्ट्रिक कार ले सकते हो धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:56
नमस्कार जहां तक मुझे ज्ञान है महिलाओं में बैक पेन होने की समस्या यह है कि महिलाओं का जो काम काज है वह पुरुषों की तुलना में अधिक होता है उनको दिनभर उठना बैठना रुकना मियां मेहनत का काम बहुत ज्यादा होता है इसके अलावा जो महिलाओं की मासिक धर्म की समस्या है उसमें भी अनियमितता भूत उसकी वजह से भी बैक पेन हो सकता है तो पुरुषों की तुलना में अधिक कार्य करने और उठक बैठक के कार्य ज्यादा करने की वजह से और जिम नहीं जाना की कसरत नहीं करना किस-किस की वजह से भी क्या है कि महिलाओं में बैक पेन की समस्याएं हो सकती है मेरी इस चित्र में जानकारी कम है फिर भी जवाब देने का कष्ट किया है उन्हें मतलब गलती की है तो अगर गलत कुछ गलत कह दिया तो माफ कीजिएगा धन्यवाद
  • मकर संक्रांति के पर्व की शुरुआत कैसे हुई मकर संक्रांति के पर्व की शुरुआत
URL copied to clipboard