#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?

Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
2:21
नमस्कार आपका सवाल है कि हम झूठी बातों को इतनी जल्दी सेट कैसे मांगते हैं देखो जी सबसे बड़ी बात तो यही होती है ना कि हम जो है बिना सोचे समझे बिना किसी सबूत के पुरुष के जो है आसानी से किसी की बातों का जो है विश्वास कर लेते हैं हालांकि हमने यह नहीं सोचते ठीक है उससे में हमारा दिमाग बिल्कुल काम करना बंद कर देता है हम यह नहीं सोचते कि हां या हमें जरा सा देख परखना चाहिए था कि हां यह बात कहां तक सच है कहां तक झूठ है जैसे उदाहरण के लिए अगर आप आपका कोई दोस्त है ठीक है वह आपको कल को यह कह दे ठीक है कि आपकी क्या करते लड़की आपकी बहन ने लड़की के साथ देखी गई तो आप लड़की से नहीं पूछोगे ठीक है आप तो जो है लड़की से पूछोगे नहीं तो आप जो है इसी बात का सच विश्वास करूं कि हां यार आप उसको जा कर के थक जाओगे उसको दो चार गालियां सुनाओ गी कि तुम किसके साथ थे या क्या था ठीक है उसकी बात नहीं सुनी ठीक है तो आपने उसको कहते हैं खरी-खोटी सुना दी बिना सोचे समझे चाहे वह गई भी ना हो ठीक है फिर भी आपने जो है अपने दोस्त की बात का विश्वास किया क्योंकि आपने दिमाग काम नहीं कर आती क्या काम नहीं करेगा यह करता नहीं हमारा दिमाग नहीं काम करता है अगर कोई लड़की को एक लड़के के साथ देखा गया आपकी बहन को एक लड़की क्यों मुझसे बात सुने ठीक है उसकी बात को विश्वास नहीं करेगा इसलिए हम जल्दी से झूठ भी होगा ना तो उसको भी हम सच मानकर और क्या करते विश्वास कर लेते हैं जब तक हमें अपनी आंखों से हम नहीं देखते सबसे कम विश्वास नहीं होना चाहिए ठीक है लेकिन हम जल्दी से विश्वास कर लेते हैं तो यही चीज है जो बिना देखे बिना सोचे समझे बिना किसी सबूत के हर कोई किसी भी झूठ को जो है वह सच मानने लग जाता है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki ham jhoothee baaton ko itanee jaldee set kaise maangate hain dekho jee sabase badee baat to yahee hotee hai na ki ham jo hai bina soche samajhe bina kisee saboot ke purush ke jo hai aasaanee se kisee kee baaton ka jo hai vishvaas kar lete hain haalaanki hamane yah nahin sochate theek hai usase mein hamaara dimaag bilkul kaam karana band kar deta hai ham yah nahin sochate ki haan ya hamen jara sa dekh parakhana chaahie tha ki haan yah baat kahaan tak sach hai kahaan tak jhooth hai jaise udaaharan ke lie agar aap aapaka koee dost hai theek hai vah aapako kal ko yah kah de theek hai ki aapakee kya karate ladakee aapakee bahan ne ladakee ke saath dekhee gaee to aap ladakee se nahin poochhoge theek hai aap to jo hai ladakee se poochhoge nahin to aap jo hai isee baat ka sach vishvaas karoon ki haan yaar aap usako ja kar ke thak jaoge usako do chaar gaaliyaan sunao gee ki tum kisake saath the ya kya tha theek hai usakee baat nahin sunee theek hai to aapane usako kahate hain kharee-khotee suna dee bina soche samajhe chaahe vah gaee bhee na ho theek hai phir bhee aapane jo hai apane dost kee baat ka vishvaas kiya kyonki aapane dimaag kaam nahin kar aatee kya kaam nahin karega yah karata nahin hamaara dimaag nahin kaam karata hai agar koee ladakee ko ek ladake ke saath dekha gaya aapakee bahan ko ek ladakee kyon mujhase baat sune theek hai usakee baat ko vishvaas nahin karega isalie ham jaldee se jhooth bhee hoga na to usako bhee ham sach maanakar aur kya karate vishvaas kar lete hain jab tak hamen apanee aankhon se ham nahin dekhate sabase kam vishvaas nahin hona chaahie theek hai lekin ham jaldee se vishvaas kar lete hain to yahee cheej hai jo bina dekhe bina soche samajhe bina kisee saboot ke har koee kisee bhee jhooth ko jo hai vah sach maanane lag jaata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:08
नमस्कार आपका प्रश्न है कि हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं लेकिन झूठ बोलना आजकल एक फैशन बन गया और आजकल हर व्यक्ति कहीं ना कहीं किसी न किसी रूप में किसी न किसी जगह पर झूठ बोलता ही है चाहे वह भले के लिए बोल रहा हूं चाय बुरे के लिए बोल रहा हूं लेकिन आजकल झूठ बोलना तो एक फितरत है लोगों की हम लोग भी बोलने सभी लोग बोलते हैं तो झूठ बोलना कोई बड़ा कारण नहीं है लेकिन हां यह है कि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो भी झूठ को इतनी सफाई से बोलते हैं झूठ को इतने कॉन्फिडेंस कॉन्फिडेंस नहीं बोलते हैं मतलब बहुत ही आत्मविश्वास है झूठ बोलते हैं कि हमें उनकी बात का विश्वास करना ही पड़ जाता है या फिर हमें किसी व्यक्ति के ऊपर जरूरत से ज्यादा विश्वास होता है तो हम उसके झूठ बात को भी सच मान लेते हैं हमें पता है कि वह बेटे झूठ बोल रहा है लेकिन उसके ऊपर विश्वास ही इतना होता है या उसके ऊपर हमें भरोसा इतना ज्यादा होता है कि हम उसके झूठ को भी सच यह आजकल एक फैशन है इसमें कोई बड़ी बात नहीं है उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki ham jhoothee baaton ko sach jaldee kyon maan lete hain lekin jhooth bolana aajakal ek phaishan ban gaya aur aajakal har vyakti kaheen na kaheen kisee na kisee roop mein kisee na kisee jagah par jhooth bolata hee hai chaahe vah bhale ke lie bol raha hoon chaay bure ke lie bol raha hoon lekin aajakal jhooth bolana to ek phitarat hai logon kee ham log bhee bolane sabhee log bolate hain to jhooth bolana koee bada kaaran nahin hai lekin haan yah hai ki kuchh log aise hote hain jo bhee jhooth ko itanee saphaee se bolate hain jhooth ko itane konphidens konphidens nahin bolate hain matalab bahut hee aatmavishvaas hai jhooth bolate hain ki hamen unakee baat ka vishvaas karana hee pad jaata hai ya phir hamen kisee vyakti ke oopar jaroorat se jyaada vishvaas hota hai to ham usake jhooth baat ko bhee sach maan lete hain hamen pata hai ki vah bete jhooth bol raha hai lekin usake oopar vishvaas hee itana hota hai ya usake oopar hamen bharosa itana jyaada hota hai ki ham usake jhooth ko bhee sach yah aajakal ek phaishan hai isamen koee badee baat nahin hai ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

bolkar speaker
हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:09
झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं भैया हमेशा तो ऐसा नहीं होता है लेकिन कभी-कभी जब आपको धोखा देने के लिए झूठ बोला जाता है तो उसमें सत्य जैसी दिखने वाली सत्य जैसी प्रतीत होने वाली बहुत सी बातों का समावेश किया जाता है और झूठ बोलने वाले बड़े दक्ष कलाकार होते हैं इसलिए वह धोखा देकर के झूठी बात को भी सच मान लेते हैं अन्यथा बहुत झूठी बातें ऐसी होती है कि पकड़ में आ जाती है और आदमी उन्हें पहचान लेता है लेकिन बात सही यही है कि अगर झूठ बोलने वाला दक्ष कलाकार है और आज के दुनिया में इस का बोलबाला है और पहले भी रहा है सत्य के साथ साथ झूठ की सत्ता भी चलती है और कुछ दक्ष लोग जो होते हैं वह झूठ को सत्य के रूप में परिवर्तित करने की चेष्टा करते हैं और इतना प्रभावशाली बना देते हैं कि आदमी उसे स्वीकार कर लेता है ठीक है ना लेकिन हमेशा ऐसा कोई जरूरी
Jhoothee baaton ko sach jaldee kyon maan lete hain bhaiya hamesha to aisa nahin hota hai lekin kabhee-kabhee jab aapako dhokha dene ke lie jhooth bola jaata hai to usamen saty jaisee dikhane vaalee saty jaisee prateet hone vaalee bahut see baaton ka samaavesh kiya jaata hai aur jhooth bolane vaale bade daksh kalaakaar hote hain isalie vah dhokha dekar ke jhoothee baat ko bhee sach maan lete hain anyatha bahut jhoothee baaten aisee hotee hai ki pakad mein aa jaatee hai aur aadamee unhen pahachaan leta hai lekin baat sahee yahee hai ki agar jhooth bolane vaala daksh kalaakaar hai aur aaj ke duniya mein is ka bolabaala hai aur pahale bhee raha hai saty ke saath saath jhooth kee satta bhee chalatee hai aur kuchh daksh log jo hote hain vah jhooth ko saty ke roop mein parivartit karane kee cheshta karate hain aur itana prabhaavashaalee bana dete hain ki aadamee use sveekaar kar leta hai theek hai na lekin hamesha aisa koee jarooree

bolkar speaker
हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
Rajeev Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajeev जी का जवाब
Student
0:55
आज के सभी लोगों का कुछ ऐसा हो गया कि आप किसी को बर्दाश्त नहीं होता है लेकिन बाद में जाकर कितना मीठा होता है लेकिन कभी-कभी जाता शक्कर भी इंसान को मैंने कौन-कौन से पहले कोई भी विचार नियम की कड़ी को भी सच को सच नहीं मानता है लेकिन जो झूठ होता है मीठा मुझे नहीं पसंद है जब तक मैं किसी जमाने में बातों को जल्दी रोग मान लेते हैं तथा उनके नाम
Aaj ke sabhee logon ka kuchh aisa ho gaya ki aap kisee ko bardaasht nahin hota hai lekin baad mein jaakar kitana meetha hota hai lekin kabhee-kabhee jaata shakkar bhee insaan ko mainne kaun-kaun se pahale koee bhee vichaar niyam kee kadee ko bhee sach ko sach nahin maanata hai lekin jo jhooth hota hai meetha mujhe nahin pasand hai jab tak main kisee jamaane mein baaton ko jaldee rog maan lete hain tatha unake naam

bolkar speaker
हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
Krishna pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Krishna जी का जवाब
Unknown
2:41
नमस्कार दोस्तों हम सब की कमजोरियां बहुत होती हैं और यह भी एक कमजोरी है कि हम किसी की झूठी बातों को सच मान लिए बहुत बड़ी कमजोरी होती है कि आजकल के जमाने में फीलिंग मतलब कुछ नहीं है किसी की बातें मतलब कुछ नहीं है आजकल के जमाने में भी लोगों के दो चेहरे होते हैं तो ऊपर से बहुत कुछ आपको बोलेंगे मीठा बोलेंगे आपको चढ़ा देंगे पता नहीं कहां पर फिर वही 1 मिनट में आपको आपकी जगह दिखा देंगे आपको एक फ्री करा देंगे कि उनके लिए आप कुछ नहीं हो कुछ महत्व ही नहीं रखते हो तो मतलब का जमाना है और लोग हमेशा मतलबी ही होते हैं बस अपनों को छोड़कर जी ने आप अपना मानते हैं उनका ने जो आपको अपना मानते हैं वह लोग ऐसे बिल्कुल नहीं होता तो आप उनकी बातों को सच मान बैठे ना की किसी और के कि हम वही खासकर सुनना चाहते हैं जिससे हम खुश होते हैं जैसे कि आपको बोल बोल बोलने बहुत सुंदर है बहुत ही स्मार्ट बहुत अच्छा बात करते हैं तो मैं मानता हूं आपके अंदर गोट टैलेंट हो या ना हो बट कहीं ना कहीं दिल में हल्का तो सुकून उठेगा कि हां यार खर्रा यह बढ़ाई लेकिन आप यह नहीं सोचेंगे क्यों कर रहा है क्यों तू बहुत बड़ा बडाई है जहां पर भी आपको कुछ समझ में ना आए वहां पर क्यों लगा दे क्वेश्चन मार्क बोल रहा है तो क्यों क्योंकि जवाब तलाश करेंगे ना तो जिंदगी में कभी भी अपना सफल होंगे में किस क्यों में बहुत बड़ा ताकत क्वेश्चन मार्क क्यों की तलाश बहुत बड़ी है कहीं ना कहीं झूठ पर बिलीव आप बिल्कुल मत करिए जबकि सका आपको पता ना हो क्योंकि एक बात याद रखें यह दुनिया है और यू नो दुनिया में बहुत सारे ऐसे लोग होते हैं जो अपने मतलब की है कुछ भी कर सकते हैं तो आपको किसी की झूठी बातों को सख्त अभी मानना चाहिए जबकि आपको लगे कि हां यह जो बंदा कोई मजबूरी होगी या फिर कुछ ऐसा होगा जिससे यह झूठ बोल रहा है कि उसके सामने हां बोल रहे हैं नहीं नहीं तुम सही करो लेकिन कहीं ना कहीं दिल में आपको होना चाहिए कि मुझे बोलना गलत बोल बट क्यों गलत बोला मैं उसके सामने रिजेक्ट नहीं करूंगा क्यों गलत बोला उसको मुझे पहचानना है तो कई तरह से आपको जो है फीलिंग को अपनी फीलिंग को दूसरे के प्रति व्यक्त कर सकते हैं लेकिन मैं तो यही कहूंगा कि जब तक कि आपको अपने कानों पर अपने आंखों पर खुद पर बिलीव ना हो तब तक दूसरे की किसी की भी बातों को आप सीरियसली दिल पर ना लें
Namaskaar doston ham sab kee kamajoriyaan bahut hotee hain aur yah bhee ek kamajoree hai ki ham kisee kee jhoothee baaton ko sach maan lie bahut badee kamajoree hotee hai ki aajakal ke jamaane mein pheeling matalab kuchh nahin hai kisee kee baaten matalab kuchh nahin hai aajakal ke jamaane mein bhee logon ke do chehare hote hain to oopar se bahut kuchh aapako bolenge meetha bolenge aapako chadha denge pata nahin kahaan par phir vahee 1 minat mein aapako aapakee jagah dikha denge aapako ek phree kara denge ki unake lie aap kuchh nahin ho kuchh mahatv hee nahin rakhate ho to matalab ka jamaana hai aur log hamesha matalabee hee hote hain bas apanon ko chhodakar jee ne aap apana maanate hain unaka ne jo aapako apana maanate hain vah log aise bilkul nahin hota to aap unakee baaton ko sach maan baithe na kee kisee aur ke ki ham vahee khaasakar sunana chaahate hain jisase ham khush hote hain jaise ki aapako bol bol bolane bahut sundar hai bahut hee smaart bahut achchha baat karate hain to main maanata hoon aapake andar got tailent ho ya na ho bat kaheen na kaheen dil mein halka to sukoon uthega ki haan yaar kharra yah badhaee lekin aap yah nahin sochenge kyon kar raha hai kyon too bahut bada badaee hai jahaan par bhee aapako kuchh samajh mein na aae vahaan par kyon laga de kveshchan maark bol raha hai to kyon kyonki javaab talaash karenge na to jindagee mein kabhee bhee apana saphal honge mein kis kyon mein bahut bada taakat kveshchan maark kyon kee talaash bahut badee hai kaheen na kaheen jhooth par bileev aap bilkul mat karie jabaki saka aapako pata na ho kyonki ek baat yaad rakhen yah duniya hai aur yoo no duniya mein bahut saare aise log hote hain jo apane matalab kee hai kuchh bhee kar sakate hain to aapako kisee kee jhoothee baaton ko sakht abhee maanana chaahie jabaki aapako lage ki haan yah jo banda koee majabooree hogee ya phir kuchh aisa hoga jisase yah jhooth bol raha hai ki usake saamane haan bol rahe hain nahin nahin tum sahee karo lekin kaheen na kaheen dil mein aapako hona chaahie ki mujhe bolana galat bol bat kyon galat bola main usake saamane rijekt nahin karoonga kyon galat bola usako mujhe pahachaanana hai to kaee tarah se aapako jo hai pheeling ko apanee pheeling ko doosare ke prati vyakt kar sakate hain lekin main to yahee kahoonga ki jab tak ki aapako apane kaanon par apane aankhon par khud par bileev na ho tab tak doosare kee kisee kee bhee baaton ko aap seeriyasalee dil par na len

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं झूठी बातों को सच मानना
URL copied to clipboard