#जीवन शैली

bolkar speaker

मनुष्य में अहंकार क्यों होता है?

Manushya Mein Ahenkaar Kyun Hota Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:35
गैस वाले कि मनुष्य में ऐसा क्यों होता है तो मनुष्य जन्म से ही इनकार का इतना विशाल बहुत लेकर आता है कि उसकी दृष्टि सदैव दूसरों के दोष पर ही टिकती हैं एकदम निरीक्षण को बुलाकर साधारण मानव केवल दूसरों पर क्षेत्रा शरण में ही अपना जीवन बिता बिताना चाहता है कि इसे चुनौती और मनुष्य अपनी इच्छा के सुबूत होकर पचा नहीं पाता उसके गुण को अनदेखा कर देता है धन्यवाद
Gais vaale ki manushy mein aisa kyon hota hai to manushy janm se hee inakaar ka itana vishaal bahut lekar aata hai ki usakee drshti sadaiv doosaron ke dosh par hee tikatee hain ekadam nireekshan ko bulaakar saadhaaran maanav keval doosaron par kshetra sharan mein hee apana jeevan bita bitaana chaahata hai ki ise chunautee aur manushy apanee ichchha ke suboot hokar pacha nahin paata usake gun ko anadekha kar deta hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मनुष्य में अहंकार क्यों होता है?Manushya Mein Ahenkaar Kyun Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:38
सवाल है कि मनुष्य में हंकार क्यों आता है शिशु का पालन पोषण समाज में होता है जिससे उसका विकास होता है विख्यात दार्शनिक अरस्तू ने कहा है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है शुद्ध करके देखा गया है कि जिस बालक को समाज से अलग रखा गया उसकी बुद्धि विकसित नहीं हुई परिवार भी समाज का ही एक अंग है शिशु की शुरुआती सीख परिवार और समाज से ही मिलती है अब आते हैं कि हम कार का अर्थ क्या होता है उनका अर्थ है मैं और कार का अर्थ करने वाला मैं करने वाला हूं यह बात समाज समाज में ही विकसित होती है कोई एक बार अगर विश्वास पूर्वक हर बात में यह कहे कि यह भगवान ने किया है तो लोग उसे पागल कह कर हंसी उड़ाएंगे कोई पूछे यह किसका किया गया काम है तो हम कहते कि मैंने किया है यह नहीं कहते कि भगवान ने किया कभी अभिमान वक्त भी कहते हैं कि मैंने किया यह अहंकार है इसका त्याग कठिन है स्वामी विवेकानंद के गुरु स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने कहा है कि अहंकार तो जाता नहीं पढ़ा रहे दास बनकर अहंकार एक क्षण के लिए उज्जवल हो जाता है और अगले ही क्षण सिर उठाकर खड़ा हो जाता है पूरे रामा दल को रावण वध के बाहर एंकार हो गया था जिस भगवान राम ने लव कुश तो बालको से हरवा कर दूर किया अंकन नहीं तो मनुष्य उड़ सकता है क्रियाशील होने के बाद भी अहंकार की आवश्यकता होती है यह उसका लाभ भी है लेकिन यह बाकी मैं तो लेकिन भगवान का दास हूं अहंकार को तिरोहित करता है
Savaal hai ki manushy mein hankaar kyon aata hai shishu ka paalan poshan samaaj mein hota hai jisase usaka vikaas hota hai vikhyaat daarshanik arastoo ne kaha hai manushy ek saamaajik praanee hai shuddh karake dekha gaya hai ki jis baalak ko samaaj se alag rakha gaya usakee buddhi vikasit nahin huee parivaar bhee samaaj ka hee ek ang hai shishu kee shuruaatee seekh parivaar aur samaaj se hee milatee hai ab aate hain ki ham kaar ka arth kya hota hai unaka arth hai main aur kaar ka arth karane vaala main karane vaala hoon yah baat samaaj samaaj mein hee vikasit hotee hai koee ek baar agar vishvaas poorvak har baat mein yah kahe ki yah bhagavaan ne kiya hai to log use paagal kah kar hansee udaenge koee poochhe yah kisaka kiya gaya kaam hai to ham kahate ki mainne kiya hai yah nahin kahate ki bhagavaan ne kiya kabhee abhimaan vakt bhee kahate hain ki mainne kiya yah ahankaar hai isaka tyaag kathin hai svaamee vivekaanand ke guru svaamee raamakrshn paramahans ne kaha hai ki ahankaar to jaata nahin padha rahe daas banakar ahankaar ek kshan ke lie ujjaval ho jaata hai aur agale hee kshan sir uthaakar khada ho jaata hai poore raama dal ko raavan vadh ke baahar enkaar ho gaya tha jis bhagavaan raam ne lav kush to baalako se harava kar door kiya ankan nahin to manushy ud sakata hai kriyaasheel hone ke baad bhee ahankaar kee aavashyakata hotee hai yah usaka laabh bhee hai lekin yah baakee main to lekin bhagavaan ka daas hoon ahankaar ko tirohit karata hai

bolkar speaker
मनुष्य में अहंकार क्यों होता है?Manushya Mein Ahenkaar Kyun Hota Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड्स राधे राधे जैसा कि आपका प्रश्न है मनुष्य में अहंकार क्यों होता है दिखी फ्रेंड मनुष्य में अहंकार जब आ जाता है वह इंसान नहीं जानता लेकिन जब जिस प्रकार से अहंकार आता है उसी क्षण से जो है उस इंसान का पतन का समय भी शुरू हो जाता है फ्रेंड यह एक ऐसी जो है विडंबना होती है फ्रेंड की जिसे इंसान को पता नहीं लगता और इंसान के मन को इंसान के बॉडी को जो है वह दीमक की तरह यह अहंकार नाम ग्रुप में एक आरोपी जो यह शब्द है वह खाए चला जाता है और इंसान को पता भी नहीं चलता जब भी किसी इंसान के अंदर जो है वह हंकार की भावना आती है फ्रेंड तो यह सब समझ लीजिएगा कि उस व्यक्ति का जो है पतंग का समय जो है वह आ चुका है फ्रेंड दबाती फ्रेंडशिप इंसान अपने आप में थोड़ा सा कुछ हो जाता है किसी को काम करता जाता है वह समझने लगता है कि हमसे बलशाली हमसे शक्तिशाली कोई है नहीं लेकिन जैसा कि हमारे यहां एक कहावत भी कहा गया है कि शेर को सवा शेर मिलते हैं कोई नहीं जानता कि चाहे वह बलशाली हो चाहे रुपए पैसे में हो वही भूल जाते हैं कि इस दुनिया में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो मुझसे भी ज्यादा अमीर है मुझसे भी तक से शक्तिशाली है और यह चीज हो जाते हैं कि चाहे जितनी भी शक्तिशाली हो चाहे जितनी भी रुपए पैसे वाले हो लेकिन कोई भी धरती पर जो है वह रुका नहीं है एक न एक दिन सभी को जाना है अच्छे से अच्छे फ्रेंड पहलवान आई अच्छे से अच्छा जो लड़ाकू व्यक्ति थे वह आए लेकिन सभी जो है वह मृत्यु को प्राप्त हो गई उसी तरह से जो इंसान आया उसकी जो है मृत्यु अवश्य होगी फ्रेंड ही जीवन की सच्चाई होती है लेकिन लोग इस सच्चाई को भूल कर के आकार नाम की के नाम में बैठ जाते हैं और एक समय ऐसा था फ्रेंड की फोटो सहित जो है वह डूब जाते हैं और उनका अस्तित्व जो है वह समाप्त हो जाता है तो मैं आप सभी से रिक्वेस्ट करूंगा और सुरेश करना चाहता हूं कुछ ऐसा काम करें जिससे अहंकार नाम की नाव पर कहां बैठना पड़े और आपका अस्तित्व जो है वह आप के ना रहने के बाद भी बरकरार रहे बना रहे थे कि फ्रेंड आपके कर्मों के हिसाब से ही आपकी जो असली तो है वह घटती है और बनती है और आपका आशुतोष सही है तो आप ना रहने के बाद भी याद किए जाते हैं अगर आपका आशिक तो सही नहीं है कार्य सही नहीं है तो आप जीवित रहते हुए भी गालियां खाते हैं आशा है कि आप सभी को है जवाब पसंद आया होगा राधे राधे
Helo phrends raadhe raadhe jaisa ki aapaka prashn hai manushy mein ahankaar kyon hota hai dikhee phrend manushy mein ahankaar jab aa jaata hai vah insaan nahin jaanata lekin jab jis prakaar se ahankaar aata hai usee kshan se jo hai us insaan ka patan ka samay bhee shuroo ho jaata hai phrend yah ek aisee jo hai vidambana hotee hai phrend kee jise insaan ko pata nahin lagata aur insaan ke man ko insaan ke bodee ko jo hai vah deemak kee tarah yah ahankaar naam grup mein ek aaropee jo yah shabd hai vah khae chala jaata hai aur insaan ko pata bhee nahin chalata jab bhee kisee insaan ke andar jo hai vah hankaar kee bhaavana aatee hai phrend to yah sab samajh leejiega ki us vyakti ka jo hai patang ka samay jo hai vah aa chuka hai phrend dabaatee phrendaship insaan apane aap mein thoda sa kuchh ho jaata hai kisee ko kaam karata jaata hai vah samajhane lagata hai ki hamase balashaalee hamase shaktishaalee koee hai nahin lekin jaisa ki hamaare yahaan ek kahaavat bhee kaha gaya hai ki sher ko sava sher milate hain koee nahin jaanata ki chaahe vah balashaalee ho chaahe rupe paise mein ho vahee bhool jaate hain ki is duniya mein bahut saare aise log hain jo mujhase bhee jyaada ameer hai mujhase bhee tak se shaktishaalee hai aur yah cheej ho jaate hain ki chaahe jitanee bhee shaktishaalee ho chaahe jitanee bhee rupe paise vaale ho lekin koee bhee dharatee par jo hai vah ruka nahin hai ek na ek din sabhee ko jaana hai achchhe se achchhe phrend pahalavaan aaee achchhe se achchha jo ladaakoo vyakti the vah aae lekin sabhee jo hai vah mrtyu ko praapt ho gaee usee tarah se jo insaan aaya usakee jo hai mrtyu avashy hogee phrend hee jeevan kee sachchaee hotee hai lekin log is sachchaee ko bhool kar ke aakaar naam kee ke naam mein baith jaate hain aur ek samay aisa tha phrend kee photo sahit jo hai vah doob jaate hain aur unaka astitv jo hai vah samaapt ho jaata hai to main aap sabhee se rikvest karoonga aur suresh karana chaahata hoon kuchh aisa kaam karen jisase ahankaar naam kee naav par kahaan baithana pade aur aapaka astitv jo hai vah aap ke na rahane ke baad bhee barakaraar rahe bana rahe the ki phrend aapake karmon ke hisaab se hee aapakee jo asalee to hai vah ghatatee hai aur banatee hai aur aapaka aashutosh sahee hai to aap na rahane ke baad bhee yaad kie jaate hain agar aapaka aashik to sahee nahin hai kaary sahee nahin hai to aap jeevit rahate hue bhee gaaliyaan khaate hain aasha hai ki aap sabhee ko hai javaab pasand aaya hoga raadhe raadhe

bolkar speaker
मनुष्य में अहंकार क्यों होता है?Manushya Mein Ahenkaar Kyun Hota Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:27
उसने मनुष्य में आकर क्यों होता है दिखे आकर कब और क्यों आता है मनुष्य के अंदर थोड़ा सा बल बुद्धि धान आश्चर्य और पद मिलने से मानव अहंकारी बन जाता है और हर समय अपना ही गुणगान करता रहता है उसे आपने ऐसे श्रेष्ठ कोई नहीं दिखता इन्हीं कारणों से उसका पतन होता है इसलिए कभी अपने बल और धन पर घमंड नहीं करना चाहिए
Usane manushy mein aakar kyon hota hai dikhe aakar kab aur kyon aata hai manushy ke andar thoda sa bal buddhi dhaan aashchary aur pad milane se maanav ahankaaree ban jaata hai aur har samay apana hee gunagaan karata rahata hai use aapane aise shreshth koee nahin dikhata inheen kaaranon se usaka patan hota hai isalie kabhee apane bal aur dhan par ghamand nahin karana chaahie

bolkar speaker
मनुष्य में अहंकार क्यों होता है?Manushya Mein Ahenkaar Kyun Hota Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:26
मनुष्य के अंदर थोड़ा सा बल बुद्धि धनेश्वरी और पद मिलने से मानव अधिकारी बन जाता है और हर समय अपना पूर्ण काम करता रहता है उसे अपने से श्रेष्ठ को नहीं दिखता मैंने कारणों से उसका पता नहीं होता है इसलिए कभी भी अपने बल और धन पर घमंड करना चाहिए
Manushy ke andar thoda sa bal buddhi dhaneshvaree aur pad milane se maanav adhikaaree ban jaata hai aur har samay apana poorn kaam karata rahata hai use apane se shreshth ko nahin dikhata mainne kaaranon se usaka pata nahin hota hai isalie kabhee bhee apane bal aur dhan par ghamand karana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मनुष्य में अहंकार क्यों होता है अहंकार क्यों होता है
URL copied to clipboard