#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कानून को वापस लेगी?

Kya Modi Sarkar Kisan Andolan Ke Dabav Mein Krishi Kanun Ko Vapas Legi
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:19
नमस्कार सोता हूं तू किसान आंदोलन के दबाव में तो नहीं लेकिन अंदर जो कोर्ट है जो न्यायालय हैं अगर उसने कहा कि इन कानूनों को वापस देना चाहिए बदलाव होने चाहिए तो उस बात को सरकार को मानना ही पड़ेगा चाहे वह कोई भी डिसीजन हो
Namaskaar sota hoon too kisaan aandolan ke dabaav mein to nahin lekin andar jo kort hai jo nyaayaalay hain agar usane kaha ki in kaanoonon ko vaapas dena chaahie badalaav hone chaahie to us baat ko sarakaar ko maanana hee padega chaahe vah koee bhee diseejan ho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कानून को वापस लेगी?Kya Modi Sarkar Kisan Andolan Ke Dabav Mein Krishi Kanun Ko Vapas Legi
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:24
क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कारण वापस ले भाई इतना कमजोर मत समझना मोदी सरकार रखो जो इतना बोर्ड दिखती है वह 370 और 35a को खत्म करने का आपको क्या लगता है कि इन लोगों को जो राष्ट्र विरोधी लोग हैं इनका नेटवर्क बना करके और लोग इस सरकार को झुकाने हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट ने समिति बनाने के लिए अगर माली के मोदी सरकार से इन को शिकायत की तो सुप्रीम कोर्ट से क्या शिकायत है भाई और कभी भी आप हमारे सिंधु बॉर्डर पर है गाजीपुर बॉर्डर पर आ जाओ पास कर रहे हैं और वहां पर निश्चित तौर पर राष्ट्र विरोधी लोग काम कर रहे हैं और कभी-कभी तो बड़ा दुख होता है किस तरह की राजनीतिक दल भी इसमें भागीदारी कर देते हैं कांगरे जैसे कम्युनिस्ट पार्टी जैसे और भी बहुत सारे और मुझे नहीं लगता है कि कृषि का नाम वापस होगा किसी भी कीमत पर यह सरकार वापस नहीं करेगी मान कर चलिए
Kya modee sarakaar kisaan aandolan ke dabaav mein krshi kaaran vaapas le bhaee itana kamajor mat samajhana modee sarakaar rakho jo itana bord dikhatee hai vah 370 aur 35a ko khatm karane ka aapako kya lagata hai ki in logon ko jo raashtr virodhee log hain inaka netavark bana karake aur log is sarakaar ko jhukaane haeekort va supreem kort ne samiti banaane ke lie agar maalee ke modee sarakaar se in ko shikaayat kee to supreem kort se kya shikaayat hai bhaee aur kabhee bhee aap hamaare sindhu bordar par hai gaajeepur bordar par aa jao paas kar rahe hain aur vahaan par nishchit taur par raashtr virodhee log kaam kar rahe hain aur kabhee-kabhee to bada dukh hota hai kis tarah kee raajaneetik dal bhee isamen bhaageedaaree kar dete hain kaangare jaise kamyunist paartee jaise aur bhee bahut saare aur mujhe nahin lagata hai ki krshi ka naam vaapas hoga kisee bhee keemat par yah sarakaar vaapas nahin karegee maan kar chalie

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कानून को वापस लेगी?Kya Modi Sarkar Kisan Andolan Ke Dabav Mein Krishi Kanun Ko Vapas Legi
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:24
सरकार आंदोलन के दबाव में पुरुषों को वापस लेगी अपडेटेड न्यूज़ है कि सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार को इस मामले में पढ़कर आए तो ऐसी स्थिति आ गए हैं इस पर भारत सरकार पर एक तरह से अंतरराष्ट्रीय शक्तियों का प्रचंड दबाव उनमें विश्व बैंक डब्ल्यूएचओ यह महत्वपूर्ण ट्रैक्टर से और दूसरी तरफ किसानों ने दिल्ली को ही घेर लिया है और पीछे नहीं हट रहे दूसरे राज्यों राज्यों के किसान भी रिश्ते पर उतर आए गए तो इस सरकार का स्वभाव देखते हुए ऐसी पिक्चर आने वाली है बागड़ लेने वाली क्षमा मांगने वाली है विनती करने वाली इस सरकार में नहीं है अन्य देशों में जनता की मांग पर कानून पीछे दिल्ली तक की जनता का मत महत्वपूर्ण माना जाता है भारत में ऐसा नहीं होता है भारत में प्रस्तावित होता है उनका अहंकार प्रभाव डालता है बाकी देश का जो है कुछ भी हो जिसके बहुत संख्याओं के लोगों में लोगों के साथ कुछ भी हो ऐसी सोच को देखकर कानून वापस लेने की संभावना है लेकिन बहुत कम है धन्यवाद
Sarakaar aandolan ke dabaav mein purushon ko vaapas legee apadeted nyooz hai ki sarvochch nyaayaalay ne sarakaar ko is maamale mein padhakar aae to aisee sthiti aa gae hain is par bhaarat sarakaar par ek tarah se antararaashtreey shaktiyon ka prachand dabaav unamen vishv baink dablyooecho yah mahatvapoorn traiktar se aur doosaree taraph kisaanon ne dillee ko hee gher liya hai aur peechhe nahin hat rahe doosare raajyon raajyon ke kisaan bhee rishte par utar aae gae to is sarakaar ka svabhaav dekhate hue aisee pikchar aane vaalee hai baagad lene vaalee kshama maangane vaalee hai vinatee karane vaalee is sarakaar mein nahin hai any deshon mein janata kee maang par kaanoon peechhe dillee tak kee janata ka mat mahatvapoorn maana jaata hai bhaarat mein aisa nahin hota hai bhaarat mein prastaavit hota hai unaka ahankaar prabhaav daalata hai baakee desh ka jo hai kuchh bhee ho jisake bahut sankhyaon ke logon mein logon ke saath kuchh bhee ho aisee soch ko dekhakar kaanoon vaapas lene kee sambhaavana hai lekin bahut kam hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कानून को वापस लेगी?Kya Modi Sarkar Kisan Andolan Ke Dabav Mein Krishi Kanun Ko Vapas Legi
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:59
यह मेरा निजी विचार है खोने को कुछ भी हो सकता है लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि मोदी सरकार झुकने वाले नहीं हैं आज मैंने एक समाचार पढ़ा था जिसमें यह था कि मोदी सरकार ने 50 लोगों पर कार्रवाई की है जो उस किसान आंदोलन से जुड़े हुए हैं और किसान आंदोलन में टेरर फंडिंग यानी आतंकवादियों की तरफ से जो फंडिंग के लिए पैसे दिए गए हैं उन लोगों पर कार्रवाई की गई है इसका मतलब साफ है कि इस आंदोलन को उसे यह जो आंदोलन है जो वक्त में किसान आंदोलन नहीं है इसमें कुछ न कुछ तार जुड़े हुए हैं और वह पंजाब से खाली स्थान से जुड़े हुए हैं खालिस्तानी समर्थक हैं वह ज्यादा है मांगे तो इसलिए मोदी सरकार झुकने वाले नहीं है और इस आंदोलन को मेरी दृष्टि में ऐसा लगता है कि वह बहुत जल्दी तहस-नहस कर देगी और इसको ऐसे जड़ से उखाड़ देगी यह मेरा निजी विचार है सोने को कुछ और भी हो सकता है धन्यवाद
Yah mera nijee vichaar hai khone ko kuchh bhee ho sakata hai lekin mujhe aisa lagata hai ki modee sarakaar jhukane vaale nahin hain aaj mainne ek samaachaar padha tha jisamen yah tha ki modee sarakaar ne 50 logon par kaarravaee kee hai jo us kisaan aandolan se jude hue hain aur kisaan aandolan mein terar phanding yaanee aatankavaadiyon kee taraph se jo phanding ke lie paise die gae hain un logon par kaarravaee kee gaee hai isaka matalab saaph hai ki is aandolan ko use yah jo aandolan hai jo vakt mein kisaan aandolan nahin hai isamen kuchh na kuchh taar jude hue hain aur vah panjaab se khaalee sthaan se jude hue hain khaalistaanee samarthak hain vah jyaada hai maange to isalie modee sarakaar jhukane vaale nahin hai aur is aandolan ko meree drshti mein aisa lagata hai ki vah bahut jaldee tahas-nahas kar degee aur isako aise jad se ukhaad degee yah mera nijee vichaar hai sone ko kuchh aur bhee ho sakata hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या मोदी सरकार किसान आंदोलन के दबाव में कृषि कानून को वापस लेगी क्या मोदी सरकार कृषि कानून को वापस लेगी
URL copied to clipboard