#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या मुसलमानों में भी दलित होते हैं?

Kya Musalamanon Mei Bhe Dalit Hote Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:26
क्या मुसलमानों में भी दलित है शुद्ध शब्द का अर्थ क्या है यह पहले समझ लेना चाहिए इस शब्द का अर्थ यह है कि जो सामाजिक व्यवस्था के कारण शोषित पीड़ित ने ग्रस्त है वंचित है पक्षपात के शिकार हैं गरीब है श्रमिक है मजदूर है श्रेया है इन लोगों को दलित कहा जाता है कुछ लोग इसको कुछ थोड़ी सी जातियों को भी दलित समझते हैं लेकिन ऐसी शादियों में पैसा सामाजिक प्रतिष्ठान सलमान आर्थिक उन्नति अच्छा कर रही हो भी कई लोगों को हासिल हुआ है और उनकी जिंदगी के जीने का स्तर ऊंचा हुआ है उनको तो हम दलित नहीं कह सकते इसी तरीके से मुस्लिम समाज जो है जो भारत का मुस्लिम है और थोड़ा बांग्लादेश का और थोड़ा पाकिस्तान का भारत के व्यवस्था से प्रभावित रहे हैं यह लोग बाबा उसमें दलित होते हैं जो क्राइटेरिया मैंने ऊपर बताया है उसके हिसाब से और जाति के आधार पर जो दिल को दलित कहा जाता है वह मुस्लिम धर्म में इस्लाम के अनुसार तू समान है कोई श्रेणी वाली व्यवस्था नहीं है लेकिन जो प्रथा है वह अभी तक कुछ पता ही छोड़ नहीं सके मुस्लिम होते हुए भी भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुस्लिम जो है वह हिंदुओं में से ही कन्वर्ट हुए ज्यादा कर के निचली जाति वाले लोग हैं और कुछ अप्परक्रस्ट भी है ट्विटर का जो आदत थी वो उधर भी रही है तुम सुमन में भी जाति व्यवस्था सारी दुनिया के नहीं लेकिन यह तीन देश देश जो खास करके उस में पाई जाती जैसे भगवान को शेख सैयद नीचे वाले अधिक मानते हैं ऐसी एक व्यवस्था वहां पर भी हो अपने आप बनी हुई है लेकिन उसको धर्म का कोई आधार नहीं है भारत की व्यवस्था में मुंशी का उसको आधार और मनुस्मृति हिंदू का हिंदुओं का एक संविधान माना जाता है ना पहले और उसमें ही इस संबंध में ऐसी बातें नियम बनाए गए वह गए हुए हैं इसलिए इसको धार्मिक आधार मिला है और धर्म का आधार ईश्वर होता है इसे ईश्वर यादव भी मिला है इसलिए यह छोड़ने में कठिनाई होती है इन लोगों ने किन इस्लाम में अभी बदलाव हो रहे हैं जो पहले जाती है थी वह भी आपस में शादी ब्याह कर रहे हैं इसका प्रमाण थोड़ा बढ़ रहा है लेकिन एक बड़ा तबका जो है यह जो जाति के आधार के प्रवचन निश्चित होती है उन को मारने वाला होता है जैसे गांव लेवल पर तंबोली होता है खटीक होता है तंबोली खटीक को निचली जाति वाला मानता है दोनों ही मुस्लिम होती है नमाज पढ़ते हैं मशीन में जाते हैं इस्लाम को मानते हैं अल्लाह को मानते हैं फिर भी तुम बोली 30 को नीचे दर्जी का मानता है और इसके ऐसी बहुत सारी उदाहरण है तो इस संबंध में मेरी जानकारी है और मेरा यांगों अगर आपको मेरा जवाब सही लगा तो ऐसी कृपया लाइक करें धन्यवाद
Kya musalamaanon mein bhee dalit hai shuddh shabd ka arth kya hai yah pahale samajh lena chaahie is shabd ka arth yah hai ki jo saamaajik vyavastha ke kaaran shoshit peedit ne grast hai vanchit hai pakshapaat ke shikaar hain gareeb hai shramik hai majadoor hai shreya hai in logon ko dalit kaha jaata hai kuchh log isako kuchh thodee see jaatiyon ko bhee dalit samajhate hain lekin aisee shaadiyon mein paisa saamaajik pratishthaan salamaan aarthik unnati achchha kar rahee ho bhee kaee logon ko haasil hua hai aur unakee jindagee ke jeene ka star ooncha hua hai unako to ham dalit nahin kah sakate isee tareeke se muslim samaaj jo hai jo bhaarat ka muslim hai aur thoda baanglaadesh ka aur thoda paakistaan ka bhaarat ke vyavastha se prabhaavit rahe hain yah log baaba usamen dalit hote hain jo kraiteriya mainne oopar bataaya hai usake hisaab se aur jaati ke aadhaar par jo dil ko dalit kaha jaata hai vah muslim dharm mein islaam ke anusaar too samaan hai koee shrenee vaalee vyavastha nahin hai lekin jo pratha hai vah abhee tak kuchh pata hee chhod nahin sake muslim hote hue bhee bhaarat paakistaan aur baanglaadesh ke muslim jo hai vah hinduon mein se hee kanvart hue jyaada kar ke nichalee jaati vaale log hain aur kuchh apparakrast bhee hai tvitar ka jo aadat thee vo udhar bhee rahee hai tum suman mein bhee jaati vyavastha saaree duniya ke nahin lekin yah teen desh desh jo khaas karake us mein paee jaatee jaise bhagavaan ko shekh saiyad neeche vaale adhik maanate hain aisee ek vyavastha vahaan par bhee ho apane aap banee huee hai lekin usako dharm ka koee aadhaar nahin hai bhaarat kee vyavastha mein munshee ka usako aadhaar aur manusmrti hindoo ka hinduon ka ek sanvidhaan maana jaata hai na pahale aur usamen hee is sambandh mein aisee baaten niyam banae gae vah gae hue hain isalie isako dhaarmik aadhaar mila hai aur dharm ka aadhaar eeshvar hota hai ise eeshvar yaadav bhee mila hai isalie yah chhodane mein kathinaee hotee hai in logon ne kin islaam mein abhee badalaav ho rahe hain jo pahale jaatee hai thee vah bhee aapas mein shaadee byaah kar rahe hain isaka pramaan thoda badh raha hai lekin ek bada tabaka jo hai yah jo jaati ke aadhaar ke pravachan nishchit hotee hai un ko maarane vaala hota hai jaise gaanv leval par tambolee hota hai khateek hota hai tambolee khateek ko nichalee jaati vaala maanata hai donon hee muslim hotee hai namaaj padhate hain masheen mein jaate hain islaam ko maanate hain allaah ko maanate hain phir bhee tum bolee 30 ko neeche darjee ka maanata hai aur isake aisee bahut saaree udaaharan hai to is sambandh mein meree jaanakaaree hai aur mera yaangon agar aapako mera javaab sahee laga to aisee krpaya laik karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या मुसलमानों में भी दलित होते हैं?Kya Musalamanon Mei Bhe Dalit Hote Hai
Rehan Sahu Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rehan जी का जवाब
Unknown
0:03

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या मुसलमानों में भी दलित होते हैं मुसलमानों में भी दलित
URL copied to clipboard