#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?

Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:46
तो आज आप का सवाल है कि क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है मेरे हिसाब से लड़की और लड़की दोनों के अंदर पेशंस होता है दोनों अपनी उम्र के हिसाब से हैंडल करते हैं रहते हैं तब क्या कैसे करना लेकिन ब्रिज की बात करें और ज्यादा से ज्यादा और कौन इसके अंदर ज्यादा सहनशीलता है लड़कियों के लड़कों को जॉब नौकरी के लिए ताना सुनना पड़ता चाहे घर हो समाज और सोसाइटी और परिवार हो सिर्फ नौकरी के लिए और सुनना पड़ता है कि मतलब ऐश्वर्या राय और उसमें क्या करोगे ज्यादा से ज्यादा मेरे सगरी भी करेंगे बहुत सारे लोग की लड़कों को ज्यादा से ज्यादा सिर्फ और सिर्फ नौकरी के लिए सुनना पड़ता है लेकिन लड़कियों को देखिए तौर तरीका परिवार में कैसे उठना बैठना है इसके जून को सहना पड़ता पहनावा को लेकर 19 आना पड़ता है अगर वह पढ़ लिख रही है तो बहुत सारे लोग बहुत कुछ बोलते हैं कि लड़कियों को क्यों पढ़ा लिखा जा रहा है आखिर में तो शादी करना घर में रहना तू g97 सुनकर सहकर पेशंस रखकर वह हर चीज को हैंडल करती है संभालती है और फिर अपने एक एक कदम मतलब सब लोग ऐसे ताने मछली मारते लेकिन फिर भी वह कर आगे बढ़ कर दो मेरे हिसाब से लड़कियों के अंदर ज्यादा सहनशीलता होती है शादी के बाद भी जरूरी नहीं होता है कि लड़कियों को अच्छा परिवार मिले फिर भी वह मतलब चाहती है बर्दाश्त करने की कोशिश करती है कि शायद कुछ चीज अच्छा हो जाए मतलब फैमिली फिर से ठीक हो जाए मेरे अच्छे करने से कुछ अच्छा हो जाए फैमिली को संभालना बहुत कुछ नहीं जाना पड़ता है वह बहुत कुछ चाहती है तो मैं इस बात से पूरी तरह से गिरी हूं कि लड़कियों को को ज्यादा सहना पड़ता है लड़कियों के अंदर ज्यादा सेट चलता है
To aaj aap ka savaal hai ki kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai mere hisaab se ladakee aur ladakee donon ke andar peshans hota hai donon apanee umr ke hisaab se haindal karate hain rahate hain tab kya kaise karana lekin brij kee baat karen aur jyaada se jyaada aur kaun isake andar jyaada sahanasheelata hai ladakiyon ke ladakon ko job naukaree ke lie taana sunana padata chaahe ghar ho samaaj aur sosaitee aur parivaar ho sirph naukaree ke lie aur sunana padata hai ki matalab aishvarya raay aur usamen kya karoge jyaada se jyaada mere sagaree bhee karenge bahut saare log kee ladakon ko jyaada se jyaada sirph aur sirph naukaree ke lie sunana padata hai lekin ladakiyon ko dekhie taur tareeka parivaar mein kaise uthana baithana hai isake joon ko sahana padata pahanaava ko lekar 19 aana padata hai agar vah padh likh rahee hai to bahut saare log bahut kuchh bolate hain ki ladakiyon ko kyon padha likha ja raha hai aakhir mein to shaadee karana ghar mein rahana too g97 sunakar sahakar peshans rakhakar vah har cheej ko haindal karatee hai sambhaalatee hai aur phir apane ek ek kadam matalab sab log aise taane machhalee maarate lekin phir bhee vah kar aage badh kar do mere hisaab se ladakiyon ke andar jyaada sahanasheelata hotee hai shaadee ke baad bhee jarooree nahin hota hai ki ladakiyon ko achchha parivaar mile phir bhee vah matalab chaahatee hai bardaasht karane kee koshish karatee hai ki shaayad kuchh cheej achchha ho jae matalab phaimilee phir se theek ho jae mere achchhe karane se kuchh achchha ho jae phaimilee ko sambhaalana bahut kuchh nahin jaana padata hai vah bahut kuchh chaahatee hai to main is baat se pooree tarah se giree hoon ki ladakiyon ko ko jyaada sahana padata hai ladakiyon ke andar jyaada set chalata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:11
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न किया लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती हैं जी हां फ्रेंड से लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है लड़कियों को बचपन से ही सहने के लिए सिखाया जाता है और उन्हें भगवान से भी यही मिला हुआ है कि वह ज्यादा सह लेती हैं यह बहुत कुछ बर्दाश्त करती हैं एक लड़की औरत के जब बच्चा होता है तो इतना असहनीय दर्द होता है जैसे कि हजारों हड्डियां टूट गई है उस टाइप का दर्द होता है तो एक हड्डी टूटने कोई डर नहीं चल पाएगा तो हजारों हड्डी का दर्द लड़के कैसे सह पाएंगे वह बच्चे होने का दर्द एक लड़की ही एक औरत ही बर्दाश्त कर पाती है तो उसमें आप निश्चित मान लीजिए कि सैनिक क्षमता ज्यादा होती है और कोई लड़की जब ससुराल जाती है तो उसे बहुत सारे लोगों की बातों को सुनना पड़ता है और सहना पड़ता है अगर वह नहीं सहेगी तो सभी लोग यही कहेंगे कि कैसी लड़ने वाली बहू मिली है इसलिए उसको चुपचाप कुछ बातें उसे पसंद ना हो वह चुपचाप सुननी पड़ती है इसलिए बोलते हैं कि लड़कियों में सहनशीलता चाहता होती है तो आपको जवाब पसंद है तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kiya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hain jee haan phrend se ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai ladakiyon ko bachapan se hee sahane ke lie sikhaaya jaata hai aur unhen bhagavaan se bhee yahee mila hua hai ki vah jyaada sah letee hain yah bahut kuchh bardaasht karatee hain ek ladakee aurat ke jab bachcha hota hai to itana asahaneey dard hota hai jaise ki hajaaron haddiyaan toot gaee hai us taip ka dard hota hai to ek haddee tootane koee dar nahin chal paega to hajaaron haddee ka dard ladake kaise sah paenge vah bachche hone ka dard ek ladakee hee ek aurat hee bardaasht kar paatee hai to usamen aap nishchit maan leejie ki sainik kshamata jyaada hotee hai aur koee ladakee jab sasuraal jaatee hai to use bahut saare logon kee baaton ko sunana padata hai aur sahana padata hai agar vah nahin sahegee to sabhee log yahee kahenge ki kaisee ladane vaalee bahoo milee hai isalie usako chupachaap kuchh baaten use pasand na ho vah chupachaap sunanee padatee hai isalie bolate hain ki ladakiyon mein sahanasheelata chaahata hotee hai to aapako javaab pasand hai to laik keejiega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:33
लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है क्योंकि लड़का एक ही दिमाग चलाता है वह लड़कियां मस्त के दोनों ही सबका सम्मान मात्रा में प्रयोग करते हैं लेकिन मनुष्य एक ही शेर का प्रयोग करता है इसलिए लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है की चमक चांद करने की क्षमता संपा भी हत्या लड़कों में नहीं आती
Ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai kyonki ladaka ek hee dimaag chalaata hai vah ladakiyaan mast ke donon hee sabaka sammaan maatra mein prayog karate hain lekin manushy ek hee sher ka prayog karata hai isalie ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai kee chamak chaand karane kee kshamata sampa bhee hatya ladakon mein nahin aatee

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Naresh Shakya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Naresh जी का जवाब
Unknown
0:01
कि नहीं

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:03
देखे अभी के टाइम में तुझे बिल्कुल भी ऐसा फिट नहीं बैठता है कि लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सही से होती है पहले के टाइम में था जहां से 10 साल 15 साल पहले लेकिन जैसे जैसे लड़कों के मुकाबले लड़कियों का भी एजुकेशन रहन-सहन सबकुछ उनके लड़के के बराबर हो गया है तो सहनशीलता लड़कों में ज्यादा दिखती है ना लड़कियों में दिखती है वह भी एक ही लेवल का एजुकेशन पा रही है उनका भी लिविंग स्टैंडर्ड लड़कों जैसा ही है तो ऐसा कुछ नहीं है कि सहनशीलता लड़कियों में ज्यादा दिखता बस यह डिपेंड करता हूं उनके फैमिली पर कि वह किस फैमिली बैकग्राउंड से आई है अगर फहमी में अगर आपको जॉइंट फैमिली से आई है उनका और रहन-सहन उनका बाद विचार अच्छा है तो कैंसिल होती है तो यह फैमिली पर डिपेंड करता है संयुक्त परिवार में आपस में प्यार ज्यादा होता है तो वहां से आने पर लड़कियां होती 3 साल के लड़के भी होते हैं शान से
Dekhe abhee ke taim mein tujhe bilkul bhee aisa phit nahin baithata hai ki ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahee se hotee hai pahale ke taim mein tha jahaan se 10 saal 15 saal pahale lekin jaise jaise ladakon ke mukaabale ladakiyon ka bhee ejukeshan rahan-sahan sabakuchh unake ladake ke baraabar ho gaya hai to sahanasheelata ladakon mein jyaada dikhatee hai na ladakiyon mein dikhatee hai vah bhee ek hee leval ka ejukeshan pa rahee hai unaka bhee living staindard ladakon jaisa hee hai to aisa kuchh nahin hai ki sahanasheelata ladakiyon mein jyaada dikhata bas yah dipend karata hoon unake phaimilee par ki vah kis phaimilee baikagraund se aaee hai agar phahamee mein agar aapako joint phaimilee se aaee hai unaka aur rahan-sahan unaka baad vichaar achchha hai to kainsil hotee hai to yah phaimilee par dipend karata hai sanyukt parivaar mein aapas mein pyaar jyaada hota hai to vahaan se aane par ladakiyaan hotee 3 saal ke ladake bhee hote hain shaan se

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:33
सवाल है कि क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होते हैं तो देखे मेरा यह मानना है कि लड़के हो या लड़कियां सहनशीलता दोनों के अंदर ही होती है अलग अलग तरीके के परिस्थितियों में अलग-अलग सिचुएशन में अलग अलग अलग तरीके से डील करना पड़ता है और यह बहुत बड़ा फैक्टर है कि पता चलता है कि किस के अंदर कितना ज्यादा धैर्य है कितना ज्यादा पेशेंस है किसी भी व्यक्ति के पैसे लेने का पता तो तभी चलता है जब कोई व्यक्ति किसी सिचुएशन को कह सकता कल कर रहा है यह उसके सामने आए आपका दिन शुभ रहे थे निवाद
Savaal hai ki kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hote hain to dekhe mera yah maanana hai ki ladake ho ya ladakiyaan sahanasheelata donon ke andar hee hotee hai alag alag tareeke ke paristhitiyon mein alag-alag sichueshan mein alag alag alag tareeke se deel karana padata hai aur yah bahut bada phaiktar hai ki pata chalata hai ki kis ke andar kitana jyaada dhairy hai kitana jyaada peshens hai kisee bhee vyakti ke paise lene ka pata to tabhee chalata hai jab koee vyakti kisee sichueshan ko kah sakata kal kar raha hai yah usake saamane aae aapaka din shubh rahe the nivaad

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:04
नमस्कार आपका सवाल है कि क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है जी हां बात काफी हद तक सही है लड़कियां या महिलाएं काफी हद तक सहनशील होती हैं और काफी सारी बातों में वह सहनशील होती हैं उन्हें कुछ भी कई बार कह दिया जाता है डांट दिया जाता है मां-बाप के द्वारा या भाइयों के द्वारा या किसी अन्य व्यक्ति के द्वारा तो वह चुप रह जाती हैं ज्यादा जवाब नहीं देती बोलती नहीं है और उन्हें गुस्सा भी कमाता है तो इसलिए हम कह सकते हैं कि लड़कियां सहनशील होती हैं और फिर लड़कियां दर्द बर्दाश्त करने में भी बहुत सहनशील होती हैं काफी सारे किस्म के दर्द होते हैं जैसे कि जब एक बच्चे को जन्म देती है उस समय कितना दर्द होता है वह सिर्फ एक औरत या एक लड़की ही सेंड कर पाती है कोई और मर दिया कोई आदमी पहली बार ऐसा कोई आता तो है नहीं लेकिन फिर भी यदि वह सहन नहीं कर पाएंगे जितना उनके बराबर का दर्द वह सहन नहीं कर पाएंगे मेरा कहने का मतलब है उनके बराबर का दर्द को सहन नहीं कर पाएंगे तो काफी सारी चीज है जो लड़कियां से करती हैं और उनके सहनशीलता लड़कों से ज्यादा होती है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai jee haan baat kaaphee had tak sahee hai ladakiyaan ya mahilaen kaaphee had tak sahanasheel hotee hain aur kaaphee saaree baaton mein vah sahanasheel hotee hain unhen kuchh bhee kaee baar kah diya jaata hai daant diya jaata hai maan-baap ke dvaara ya bhaiyon ke dvaara ya kisee any vyakti ke dvaara to vah chup rah jaatee hain jyaada javaab nahin detee bolatee nahin hai aur unhen gussa bhee kamaata hai to isalie ham kah sakate hain ki ladakiyaan sahanasheel hotee hain aur phir ladakiyaan dard bardaasht karane mein bhee bahut sahanasheel hotee hain kaaphee saare kism ke dard hote hain jaise ki jab ek bachche ko janm detee hai us samay kitana dard hota hai vah sirph ek aurat ya ek ladakee hee send kar paatee hai koee aur mar diya koee aadamee pahalee baar aisa koee aata to hai nahin lekin phir bhee yadi vah sahan nahin kar paenge jitana unake baraabar ka dard vah sahan nahin kar paenge mera kahane ka matalab hai unake baraabar ka dard ko sahan nahin kar paenge to kaaphee saaree cheej hai jo ladakiyaan se karatee hain aur unake sahanasheelata ladakon se jyaada hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:12
नमस्कार दोस्तों कैसे हो सब लड़कों के मुकाबले लड़कियों की संख्या ज्यादा होती तो देखिए जी बिल्कुल होती है लेकिन लोगों से से मामले होता वैसे भी लड़कियां फ्रेंड चिंता होती लेकिन अगर बात करें अगर पूरे मतलब फालतू के बाद उसे मतलब ही इधर-उधर घूमते टहलते हैं उन लड़कों की बात कही तुम लड़की का नाम की चीज नहीं होती है जबकि लड़कियों में ऐसा कुछ नहीं होता मैं बहुत सी लड़कियों के लिए कहा अगर आप उन्हें डांट देती तो क्या हो जाता आपकी बात का रिप्लाई भी नहीं करते बहुत ऐसी बात होती तो उसका रिप्लाई करती हो ना हो ज्यादा फालतू मतलब नहीं तो लड़कियों
Namaskaar doston kaise ho sab ladakon ke mukaabale ladakiyon kee sankhya jyaada hotee to dekhie jee bilkul hotee hai lekin logon se se maamale hota vaise bhee ladakiyaan phrend chinta hotee lekin agar baat karen agar poore matalab phaalatoo ke baad use matalab hee idhar-udhar ghoomate tahalate hain un ladakon kee baat kahee tum ladakee ka naam kee cheej nahin hotee hai jabaki ladakiyon mein aisa kuchh nahin hota main bahut see ladakiyon ke lie kaha agar aap unhen daant detee to kya ho jaata aapakee baat ka riplaee bhee nahin karate bahut aisee baat hotee to usaka riplaee karatee ho na ho jyaada phaalatoo matalab nahin to ladakiyon

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:13
दोस्तों प्रश्न है कि क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती हैं तो दोस्तों लड़कियां जो आया था जैसा कि पहले का दौर था घर में ही रहती थी वह आवाज नहीं उठा पाती थी तो वह जो दबी आवाज कई बार सहनशीलता में बदल जाती थी वह उसको काफी चीजें सहन करना पड़ता था तो ऐसा कहना गलत है दोनों ही एक प्रकार से मनुष्य जाति के हैं चाहे पुरुष हो चाहे स्त्री हो कई बार इस तेरी आंख किसी स्थिति में बहुत सहनशील होती हैं और कुछ नहीं कह पाती हैं उनके सामाजिक दबाव होता है और ऐसा नहीं है कि पुरुष सहनशील नहीं होता वह कई बार हंसते-हंसते कई बार उसे काफी चीजें होती हैं परेशानी को सहन कर रहा होता है लेकिन वह एक प्रकार से गाड़ी का इंजन होता है परिवार का इंजन होता है वह किसी को आभास नहीं होने देता ना बच्चों को ना माता-पिता को ना ही पुत्र पुत्रियों को और वह खुशी से उसको झेल रहा होता है तो ऐसा कहना गलत है लेकिन निश्चित रूप से महिलाएं जो की होती हैं या लड़कियां हैं वह सहन करती रहती हूं ज्यादा नहीं करती पुरुष यह होते हैं या लड़के होते हैं वह उजागर कर देते हैं अपनी भावनाओं को धन्यवाद
Doston prashn hai ki kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hain to doston ladakiyaan jo aaya tha jaisa ki pahale ka daur tha ghar mein hee rahatee thee vah aavaaj nahin utha paatee thee to vah jo dabee aavaaj kaee baar sahanasheelata mein badal jaatee thee vah usako kaaphee cheejen sahan karana padata tha to aisa kahana galat hai donon hee ek prakaar se manushy jaati ke hain chaahe purush ho chaahe stree ho kaee baar is teree aankh kisee sthiti mein bahut sahanasheel hotee hain aur kuchh nahin kah paatee hain unake saamaajik dabaav hota hai aur aisa nahin hai ki purush sahanasheel nahin hota vah kaee baar hansate-hansate kaee baar use kaaphee cheejen hotee hain pareshaanee ko sahan kar raha hota hai lekin vah ek prakaar se gaadee ka injan hota hai parivaar ka injan hota hai vah kisee ko aabhaas nahin hone deta na bachchon ko na maata-pita ko na hee putr putriyon ko aur vah khushee se usako jhel raha hota hai to aisa kahana galat hai lekin nishchit roop se mahilaen jo kee hotee hain ya ladakiyaan hain vah sahan karatee rahatee hoon jyaada nahin karatee purush yah hote hain ya ladake hote hain vah ujaagar kar dete hain apanee bhaavanaon ko dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:03
छा गया है क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है तो देखिए इसका जवाब है लड़कियां इमोशनली बहुत ज्यादा स्टेबल और बैलेंस्ड होती है ना लड़के नहीं होता लड़के फिजिकली जो है बहुत ज्यादा एक्टिव कैंसिल होते हैं जैसे लड़ाई झगड़ा हो जाए बहुत तेज चोट भी लगी तो घर में बिना बताए को आसानी से सब कुछ सहन कर लेते हैं लड़कियां फिजिकली उतनी ज्यादा स्ट्रांग नहीं होती लेकिन इमोशनली लड़कियों से बेहतरीन सभी लड़के नहीं हो सकते लड़कियां हर तरह की परेशानी में भी मुस्कुरा सकती है और कितनी भी मुश्किल परिस्थिति वह लड़कियां आसानी से उसका सामना कर सकती है क्योंकि उनमें सहनशीलता का गुण बहुत अधिक कूट कूट कर भरा है पर इसका मतलब यह नहीं कि लड़कियां कमजोर है वह सहनशील है यह उनकी अच्छी चीज है स्कूल की कमजोरी ना समझे और उसकी वजह से उन को नीचा दिखाने की कोशिश ना करें क्योंकि जिस दिन लड़कियां अपनी सहनशीलता छोड़ देंगे उस दिन इंडिया में कोई भी परिवार ठिकाने रख उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Chha gaya hai kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai to dekhie isaka javaab hai ladakiyaan imoshanalee bahut jyaada stebal aur bailensd hotee hai na ladake nahin hota ladake phijikalee jo hai bahut jyaada ektiv kainsil hote hain jaise ladaee jhagada ho jae bahut tej chot bhee lagee to ghar mein bina batae ko aasaanee se sab kuchh sahan kar lete hain ladakiyaan phijikalee utanee jyaada straang nahin hotee lekin imoshanalee ladakiyon se behatareen sabhee ladake nahin ho sakate ladakiyaan har tarah kee pareshaanee mein bhee muskura sakatee hai aur kitanee bhee mushkil paristhiti vah ladakiyaan aasaanee se usaka saamana kar sakatee hai kyonki unamen sahanasheelata ka gun bahut adhik koot koot kar bhara hai par isaka matalab yah nahin ki ladakiyaan kamajor hai vah sahanasheel hai yah unakee achchhee cheej hai skool kee kamajoree na samajhe aur usakee vajah se un ko neecha dikhaane kee koshish na karen kyonki jis din ladakiyaan apanee sahanasheelata chhod denge us din indiya mein koee bhee parivaar thikaane rakh ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:28
आपका सवाल यह है कि लड़कों से मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है मेरी अगर जो रानी पाती देखे यहां चालू की यानी कि मेरा जो अनुभव थी कि तू मेरे हिसाब से आपका कहना सही होता है लड़कियां ज्यादा सुशील होती है लड़कों के हिसाब से
Aapaka savaal yah hai ki ladakon se mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai meree agar jo raanee paatee dekhe yahaan chaaloo kee yaanee ki mera jo anubhav thee ki too mere hisaab se aapaka kahana sahee hota hai ladakiyaan jyaada susheel hotee hai ladakon ke hisaab se

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
ANKUR singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ANKUR जी का जवाब
Motivational speaker
2:52
तो मेरा नाम मत लेना जब आप दोनों को सहनशीलता तो उन लोगों में होती है लेकिन समय के हिसाब से हर कोई अपने आपको मेहनत करता है अपने आप को हैंडल करता है और आने वाली सबसे सुंदर पॉलिटिकल करता है ठीक है आपने एक बात बोली कि लड़कों को सी नौकरी के लिए फिर बताना सुनना पड़ता है लड़कियों को हर तरीके से ताना सुनना पड़ता है ऐसा कुछ नहीं है चाहे लड़का लड़की को तो सब कुछ बताया कि अपनी-अपनी सोच होते हैं यह लड़कों पर भी बहुत जिम्मेदारी होती है उनका अपना घर भी चलाना होता है अपनी फैमिली को भी देखना होता है पर वह अपने वॉइस बच्ची है रिलीज पनियार दो आज ऑफिस नहीं होते क्योंकि एक लड़का जो होता है ना उसके पास सारी जिम्मेदारी होती है ठीक है और अगर वह खुश रहेगा तो पूरा परिवार खुश रहेगा अगर वह दुखी है तो पूरा बर्बाद करेगी चाहे घर का मालिक हो अपने घर पर अपने पेरेंट्स करना है सारी चीजों को अपने घर में है आपकी मैरिज हो गई आपको आज उसके पिता ने जो आपने बोला कि ताने सुनने पड़ते साहब तो यह सब सुनकर आप काम अच्छा करोगे तो क्यों ताने सुनोगे आप कोई भी हो अगर हम में अच्छा काम कर रहा हूं तो मैं क्यों टेंशन लूंगा 1:00 बजे कोई प्रूफ हो जाएगा ठीक है कॉम्प्लिकेटेड लाइफ आपकी भी होती है अगर आप जॉब कर रहे हो आप और क्यों हो तो आपके ऊपर भी रिस्पांस मिल गई होती आपके ऊपर भी जिम्मेदारी होती बस क्या कि हम अपनी जिम्मेदारी को कैसे समझ रहे हैं कैसे ले रहे हैं मैटर वह करता है मैटर नहीं करता कि आपको कोई लड़कों को चिंता नहीं है लड़की कोई चिंता है ऐसा कुछ नया सब कुछ होता है बराबर होती है और हर किसी पर जिम्मेदारी होती है उस पर क्या पड़ता है कि आप जिम्मेदारियों को कैसे समझते हो ठीक कर तो मैं यह नहीं कहूंगा कि लड़की का सैंडल ज्यादा होते हैं या लड़कियां सबसे ज्यादा होती है सहनशीलता इंसान को वक्त और वक्त के हिसाब से और हालात के साथ से खुद-ब-खुद सबके अंदर सहनशीलता हो जाती है ठीक है सारी से उस वक्त और हालात पे डिपेंड करता है अगर आपको बहुत अच्छा है और सहनशील नहीं आपको वक्त बुरा है तो आप से ही सीख लो ठीक है ना वहां पर लड़के लड़कियां मानता होती है
To mera naam mat lena jab aap donon ko sahanasheelata to un logon mein hotee hai lekin samay ke hisaab se har koee apane aapako mehanat karata hai apane aap ko haindal karata hai aur aane vaalee sabase sundar politikal karata hai theek hai aapane ek baat bolee ki ladakon ko see naukaree ke lie phir bataana sunana padata hai ladakiyon ko har tareeke se taana sunana padata hai aisa kuchh nahin hai chaahe ladaka ladakee ko to sab kuchh bataaya ki apanee-apanee soch hote hain yah ladakon par bhee bahut jimmedaaree hotee hai unaka apana ghar bhee chalaana hota hai apanee phaimilee ko bhee dekhana hota hai par vah apane vois bachchee hai rileej paniyaar do aaj ophis nahin hote kyonki ek ladaka jo hota hai na usake paas saaree jimmedaaree hotee hai theek hai aur agar vah khush rahega to poora parivaar khush rahega agar vah dukhee hai to poora barbaad karegee chaahe ghar ka maalik ho apane ghar par apane perents karana hai saaree cheejon ko apane ghar mein hai aapakee mairij ho gaee aapako aaj usake pita ne jo aapane bola ki taane sunane padate saahab to yah sab sunakar aap kaam achchha karoge to kyon taane sunoge aap koee bhee ho agar ham mein achchha kaam kar raha hoon to main kyon tenshan loonga 1:00 baje koee prooph ho jaega theek hai kompliketed laiph aapakee bhee hotee hai agar aap job kar rahe ho aap aur kyon ho to aapake oopar bhee rispaans mil gaee hotee aapake oopar bhee jimmedaaree hotee bas kya ki ham apanee jimmedaaree ko kaise samajh rahe hain kaise le rahe hain maitar vah karata hai maitar nahin karata ki aapako koee ladakon ko chinta nahin hai ladakee koee chinta hai aisa kuchh naya sab kuchh hota hai baraabar hotee hai aur har kisee par jimmedaaree hotee hai us par kya padata hai ki aap jimmedaariyon ko kaise samajhate ho theek kar to main yah nahin kahoonga ki ladakee ka saindal jyaada hote hain ya ladakiyaan sabase jyaada hotee hai sahanasheelata insaan ko vakt aur vakt ke hisaab se aur haalaat ke saath se khud-ba-khud sabake andar sahanasheelata ho jaatee hai theek hai saaree se us vakt aur haalaat pe dipend karata hai agar aapako bahut achchha hai aur sahanasheel nahin aapako vakt bura hai to aap se hee seekh lo theek hai na vahaan par ladake ladakiyaan maanata hotee hai

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
I am nurse
2:02
नमस्कार दोस्तों सवाल है कि क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती हैं तो जी नहीं बिल्कुल मेरे दोस्त ऐसा कुछ भी नहीं है कि लड़कियां सहनशील होती है और लड़के नहीं होते लड़की बहुत ज्यादा सहनशील होते हैं जब वह हमारे घर में कुछ भी ऐसा दुखिया तकलीफ की घड़ी आती है तो लड़कियां तो रोना धोना मचा देती है नहीं घर के आदमी ही ऐसे होते हैं जो उस समय धीरज के साथ वर्क करते हैं और काम करते हैं हां लड़कियों को सहनशील ज्यादा इसलिए कहा गया है कि कुछ ऐसी चीजें हैं जो कुदरत ने उतनी सहने की शक्ति औरतों को दिया जैसे बच्चा पैदा करना या फिर घर में दूसरे के घर अपने परिवार को छोड़कर दूसरे के घर में आकर पूरी लाइफ बिताना तो यह सारी चीजें लड़कियों की हंसी आती है ऐसे लड़कों को कैंसिल बता दिया गया है लेकिन ऐसा नहीं है मेरे दोस्त लड़के भी बहुत सहनशील होते हैं उनके अंदर किसी भी दर्द को छुपाने की बहुत ज्यादा ताकत होती है और बहुत ज्यादा अब बर्दाश्त करने की शक्ति क्योंकि जब शादी होती है तो एक लड़की की लाइफ में एक लड़की आती है और वह अपने पूरे परिवार अपने मां हर संभालता है और दोनों की बातें सुनता है और बर्दाश्त करता है और घर में मेंटेन रखने की कोशिश करता है तो लड़कियों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील नहीं होती है पेंसिल दोनों लोग होते हैं सबकी अपना-अपना सिचुएशन होता है और कुछ सिचुएशन ऐसे हैं जो कुदरत ने लड़कियों को दे रखे हैं जिसकी वजह से उन्हें सहनशील कहा जाता है तो वह मेरे ख्याल से मेरी जानकारी के अनुसार ऐसा नहीं है कि लड़कियां सांसद लड़के भी होते हैं जो बहुत सहनशील होते हैं और सिचुएशन को हैंडल करने में उनकी उनके अंदर जो क्वालिटी होती है शायद वह लड़कियों के अंदर ना होती है सभी एक दूसरे का पूरक भगवान ने बना कर भेजा है कि बनाई दूसरा अधूरा है कि कुछ क्षेत्र में लड़कियां अगर आगे हैं सहन और बर्दाश्त करने की तो कुछ जगहों पर लड़के भी बहुत ज्यादा सहनशीलता दिखाते हैं धन्यवाद दोस्तों ऐसे ही हंसते रहिए
Namaskaar doston savaal hai ki kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hain to jee nahin bilkul mere dost aisa kuchh bhee nahin hai ki ladakiyaan sahanasheel hotee hai aur ladake nahin hote ladakee bahut jyaada sahanasheel hote hain jab vah hamaare ghar mein kuchh bhee aisa dukhiya takaleeph kee ghadee aatee hai to ladakiyaan to rona dhona macha detee hai nahin ghar ke aadamee hee aise hote hain jo us samay dheeraj ke saath vark karate hain aur kaam karate hain haan ladakiyon ko sahanasheel jyaada isalie kaha gaya hai ki kuchh aisee cheejen hain jo kudarat ne utanee sahane kee shakti auraton ko diya jaise bachcha paida karana ya phir ghar mein doosare ke ghar apane parivaar ko chhodakar doosare ke ghar mein aakar pooree laiph bitaana to yah saaree cheejen ladakiyon kee hansee aatee hai aise ladakon ko kainsil bata diya gaya hai lekin aisa nahin hai mere dost ladake bhee bahut sahanasheel hote hain unake andar kisee bhee dard ko chhupaane kee bahut jyaada taakat hotee hai aur bahut jyaada ab bardaasht karane kee shakti kyonki jab shaadee hotee hai to ek ladakee kee laiph mein ek ladakee aatee hai aur vah apane poore parivaar apane maan har sambhaalata hai aur donon kee baaten sunata hai aur bardaasht karata hai aur ghar mein menten rakhane kee koshish karata hai to ladakiyon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel nahin hotee hai pensil donon log hote hain sabakee apana-apana sichueshan hota hai aur kuchh sichueshan aise hain jo kudarat ne ladakiyon ko de rakhe hain jisakee vajah se unhen sahanasheel kaha jaata hai to vah mere khyaal se meree jaanakaaree ke anusaar aisa nahin hai ki ladakiyaan saansad ladake bhee hote hain jo bahut sahanasheel hote hain aur sichueshan ko haindal karane mein unakee unake andar jo kvaalitee hotee hai shaayad vah ladakiyon ke andar na hotee hai sabhee ek doosare ka poorak bhagavaan ne bana kar bheja hai ki banaee doosara adhoora hai ki kuchh kshetr mein ladakiyaan agar aage hain sahan aur bardaasht karane kee to kuchh jagahon par ladake bhee bahut jyaada sahanasheelata dikhaate hain dhanyavaad doston aise hee hansate rahie

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
MBA Govt job in PSU/Assistant Manager (HR)
0:21
सोनम ने किया है क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है लड़कियों में बहुत सारी खूबियां होती है और एक और घूमिया होती है लड़कियों में और वह है शाम चिंता और मैं यह भी नहीं बताते हो कि लड़की जो है हर लड़का कैंसिल नहीं होता है काफी लड़की जो है वह भी है कि वह काफी सहनशील है और मैं इससे यह सवाल का जवाब है
Sonam ne kiya hai kya ladakon ke mukaabale ladakiyaan jyaada sahanasheel hotee hai ladakiyon mein bahut saaree khoobiyaan hotee hai aur ek aur ghoomiya hotee hai ladakiyon mein aur vah hai shaam chinta aur main yah bhee nahin bataate ho ki ladakee jo hai har ladaka kainsil nahin hota hai kaaphee ladakee jo hai vah bhee hai ki vah kaaphee sahanasheel hai aur main isase yah savaal ka javaab hai

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life problems & Solution And terot card Reading counseling DM kare👉 instagram me
4:58
प्रश्न क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती हैं जो जी हां कुछ केसों में आपने देखा होगा कि सैलरी नहीं होती लेकिन बहुत सारे केस ऐसे हैं कि उनके अंदर घर होता है सहनशीलता होती है आप ही देखिए कितना हमारे जो माहौल है आपने कभी सोचा है एक लड़का एक लड़की को मारता है लेकिन गालियां किसकी देता है मां बहन की देता है ना मां बहन की गालियां देता है उस पर उसे पता ही नहीं है कि एक लड़के को कैसे गाली और कैसे कैसे हैंडल करें हमेशा मां बहन करता है एक लड़की का नाम ऐसी गालियां दे उनकी कमजोरी पर वार्ड करें कमजोरी नहीं है एक औरत बैठी रहती है अर्जित करना सीख दी अपने घर में भी उसे कहा जाता है ससुराल में एडजस्ट कर लूंगा वहां भी अर्जित करना चाहती है एक मां बनने के बाद राजेश करती है कि मेरे बच्चे की खुशियों पर कोई आंच ना आए इससे अच्छा कि मैं घर में रहती हूं खाना ही बनाती हूं मैं कोई जॉब नहीं करती और ना ही रोएगा तो इसे कौन चुप कर आएगा जब बच्चा बड़ा हो जाता है वह अपनी खुशियों के लिए इधर-उधर भटकना शुरू कर देता है ठीक है वह सारी चीजों को भूल गया लेकिन मैं तब भी रहती है हर एक चीज में एक औरत सहती है बहुत सहनशील है आपको बिलीव नहीं होगा कि आज भी हंड्रेड परसेंट में 95% केसेस ऐसे हैं कि जहां औरतें सिर्फ और सिर्फ सैक्रिफाइस कर रही हैं उनके हस्बैंड उन्हें मारते हैं उनके बच्चे उन्हें पसंद नहीं करते लेकिन फिर भी वह शहर ही हैं हमें अपने दिमाग से जिसको हटाना होगा ही और थे अगर दिनभर सैक्रिफाइस भी करती रह जाएंगे तुझे बहुत ज्यादा ऐसी कैसे मिलेंगे आपको जहां बहुत लड़ाई जगह हसबैंड अपनी वाइफ से बात तक नहीं करता इतने साल होने के बाद सोचिए क्या बीती होगी एक औरत पर फिर भी वही है ना फिर भी वह घर में है ना बहू होने का फर्ज निभा रही है मां होने का कर्तव्य निभा रहे एक औरत को ना दो मीठे बोल बोल दो दो मीठे बोल जिंदगी भर उसकी जिंदगी जीने के लिए काफी होता है इतना कहने के बाद भी घर छोड़कर नहीं जाती इस चीज को आप ध्यान से देखिए अमेरिका में ऐसा नहीं होता है ना चले जाते हैं बच्चों को मिल जाता है लेकिन यहां क्या करने में तकलीफ थी लेकिन बच्चों को तकलीफ नहीं होने देती यहां आपको यह देखना होगा कि मैं अपनी खुशी शूज नहीं कर रही है लेकिन अगर आप बच्चे हैं आप बड़े हो गए हैं तो कम से कम आप अपनी मां के लिए वो खुशी लाए जो उन्हें पसंद है उन्हें बताएं कि अब सैक्रिफाइस करना बंद करें आप दो मीठे बोल ही काफी है उनके लिए लेकिन फिर भी उसे थे रहती है तेरे थी कौन से अच्छे से बात नहीं करता हर कोई उन्हें खाना देता है वह खाना अच्छा बनाती है किसी दिन खाना अच्छा नहीं बनेगा फिर भी उसे मां बहन की गालियां भी दी जाती है कितना सहती है मैंने किसी यह जो मेरा यह मैंने जो केस देखा है ना यह कहीं और नहीं देखा है मैंने अपने चारों तरफ के वातावरण में देखा रियलिटी यही है कि मैंने जो देखा है वही बता रही हूं मैं घुट घुट के जीते हैं कभी कभी उन्हें लगता है कि क्यों न सोसाइड कर ले सोचिए ऐसे ही उनके माइंड में यह पूरा जो डिप्रेशन में होते हैं वह तो चलो अरे बात है वह किसी चीज से डिप्रेशन में चले जाते हैं लेकिन महिलाओं डिप्रेशन में होती है पूरी पूरी जिंदगी डिप्रेशन में होती है सिर्फ और सिर्फ सहते हुए वहां हमारा फर्ज बनता है कि हम ऐसी महिलाओं को यह सिखाएं कि वह अपने अपने साथ ले लेना सीखे इंडिपेंडेंट बनना सीखे शादी कर देना कुछ बहुत बड़ा कुछ नहीं होता यह शादी आप लोग को लगता है कि सही तरीके से आपने कर दी शादी आपको मुक्ति नहीं होते बल्कि आपको मुक्ति नहीं मिली आपने अपने बच्चे को बहुत गलत जगह डाल दिया कुछ जगीरा लिया जहां उसे बहुत ज्यादा तकलीफ यूज करनी पड़ेगी फिर उसको माइंड क्या होगा वैसे ही हो जाएगा गुलामी करो बहुत ही सिचुएशन को संभालते हुए हर एक औरत को इंडिपेंडेंट बनाना जरूरी है उन्हें बताना जरूरी है कि वह हर फैसले ले सकती है ठीक है वह घर छोड़कर नहीं जाती वरना सोची हर घर श्मशान घाट बन जाएगा तो सहनशील बहुत होती है एक औरत एक लड़की

bolkar speaker
क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है?Kya Ladkon Ke Mukable Ladkiya Jyada Sehnsheel Hoti Hai
er. ramphal bind Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए er. जी का जवाब
Private job
1:27
प्रश्न है क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है बिल्कुल सही है कि लड़कों को मौका भी लड़कियां ज्यादा सबूत देखने को क्या मिलता है कि लड़कियां धीरे-धीरे उनकी शुरू से घर में खाना बनाना क्या हाल है तेरी तस्वीर इतनी जिम्मेदारियां होती जाती है आदत हो जाएगी किसी बात को सुनने की किसी बात को समझने की करने की तो चिंता के अंदर आने लगेगी तुझे से लड़कियों क्या होती है घर में उनके पास अलग-अलग जिम्मेदारी होती है अलग-अलग बाप मतलब काम होते हैं तो आप यह कह सकते हैं कि मैं तो लड़के भी होते हैं शान से ऐसा नहीं है लेकिन मुकाबले जवाब कर रहे हैं लड़कियां ज्यादा समसिंग होती है ऐसा लगता है समाज में देखने को मिलता भी है घर परिवार मिलता है बात कर देंगे कोई भी अपनी सिस्टर हुआ है कोई हो तो बात सुन लेती है दो बार सुन लेगी समझ लेगी लेकिन कहीं आप भाई हो ऐसी कोई बात कहेगा तब गुस्सा कर जाएंगे रनिंग यह कर सकते हैं लड़कों के मुकाबले ज्यादा सांसद होते हैं लेकिन यह भी है कि कहीं कहीं लड़की भी देखने को मिलते हैं बहुत सहनशील होते हैं प्रश्न आपका अच्छा है और सही भी है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या लड़कों के मुकाबले लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है क्या लड़कियां ज्यादा सहनशील होती है
URL copied to clipboard