#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?

Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
0:46
चरित मानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक विवादों का वर्णन किया है उनका जन्म उत्तर प्रदेश के बड़ौदा जिले में राजापुर गांव में 15 से 32 ईसवी में हुआ था उन्होंने रामचरितमानस की रचना की उनकी मृत्यु 1623 ईस्वी में हुई थी तुलसीदास मुगल शासक अकबर एवं मेवाड़ के शासक राणा प्रताप के समकालीन थे तुलसीदास जी की रामचरितमानस में राम जी से संबंधित को परिभाषित किया है यही राम राम राम के आदर्श नियम बताए गए हैं जो आज के हमारे समाज में प्रासंगिक है जय हिंद जय भारत सभी मित्रों को धन्यवाद
Charit maanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vivaadon ka varnan kiya hai unaka janm uttar pradesh ke badauda jile mein raajaapur gaanv mein 15 se 32 eesavee mein hua tha unhonne raamacharitamaanas kee rachana kee unakee mrtyu 1623 eesvee mein huee thee tulaseedaas mugal shaasak akabar evan mevaad ke shaasak raana prataap ke samakaaleen the tulaseedaas jee kee raamacharitamaanas mein raam jee se sambandhit ko paribhaashit kiya hai yahee raam raam raam ke aadarsh niyam batae gae hain jo aaj ke hamaare samaaj mein praasangik hai jay hind jay bhaarat sabhee mitron ko dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
0:31
सवाल ही रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है देखिए रामचरितमानस पवित्र पुस्तक है रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने भाई का भाई से पत्नी का पति से पति का पत्नी से गुरु और शिष्य के प्रति राजा का प्रजा से कैसा व्यवहार होना चाहिए इस का सजीव चित्रण किया है धन्यवाद
Savaal hee raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vyavahaaron ka varnan kiya hai dekhie raamacharitamaanas pavitr pustak hai raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne bhaee ka bhaee se patnee ka pati se pati ka patnee se guru aur shishy ke prati raaja ka praja se kaisa vyavahaar hona chaahie is ka sajeev chitran kiya hai dhanyavaad

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है राम चरित्र और रामायण जाए उनको एक नया रूप देने का प्रयास तुलसीदास जी ने हमेशा किया तुलसीदास ने लोगों के बीच में फिर से एक बार आस्था विश्वास को पुनर्स्थापित किया और रामराज्य को अशांत सदस्य बताया राम को सर्वजन शुद्ध बनाया उनके संबंध में नाभादास उन्हें कड़ी काल का वाल्मीकि कहती है इतिहासकार मुगल काल का सबसे महान व्यक्ति कहते हैं ग्रियर्सन बुद्धदेव के बाद सबसे बड़ा लोकनायक कहते हैं और उनकी अर्चना रामचरितमानस एक समय उत्तर भारत की बाइबिल मानी जाती बस जाती थी आयोजन की उन्होंने राम कथा के माध्यम से मानवीय मूल्य मूल्य को फिर से प्रतिस्थापित किया अपने एक आदर्श राम की कथा का उन्होंने निर्माण किया वैसे उनके गुरु रामानंद माने जाते हैं उन्होंने खास करके बताया कि मुक्ति के साथ में जो है वह भक्ति में ही है भगवान की शरण में ही कल्याण है उन्होंने जो जिस भाषा का उपयोग किया वह सर्वसाधारण समाज की भाषा थी प्रेम शरणागति और भक्ति यह माध्यमों ने भगवान तक पहुंचने के बताए जो आप इन सब को सलाम लगते हैं राम को ही उन्होंने अभयानंद बिका और सचिदा सच्चिदानंद भी बताया उन्होंने कहीं परस्पर विरोधी प्रभाव को एक साथ में लाने का प्रयास किया पूर्व पुरुष उन्होंने श्री राम को बताया अरुण में सील सौंदर्य और मंगल कारी हो पाती थी वह वर्णित की रामायण में जैसे उन्होंने राम को पेड़ पौधों से सीता जानकी का पता पूछने के लिए उचित ए चित्रित किया जो जन जन सामान्य आदमी करता है भक्ति भावना को उन्होंने लोकमंगल से प्रेरित किया रामचरितमानस के जरिए शिव भक्ति और सौंदर्य को उन्होंने विकसित किया और आपके चरित्र में दिखाया और उस के माध्यम से लोकेशन रखी साधना के मार्ग को प्रशस्त किया और लोक संग्रह हिंदू लोगों में हो गया कई परस्पर विरोधी बड़े प्रवाह भी उस वक्त रहे थे जैसे राम को मारने वाला और शिव को मारने वाला दोनों में ही उनमें भक्ति भाव प्रस्तावित किया दोनों का समन्वय किया भक्ति और ज्ञान दोनों का समन्वय किया गुना और शगुन जो परमात्मा होता है बताया जाता है उसका समन्वय किया गृहस्थ जीवन और वैराग्य का जीवन इसमें भी उन्होंने समन्वय किया तो ज्यादा करके तुलसीदास ने राम पत्नी रामचरितमानस में उस वक्त समाज में कई पत्र भरकर आए थे कई विचार उभर कर आए थे और ऐसे समय में जो वैदिक परंपरा थी और उसके नायक थे उनको जय श्री राम इनको उन्होंने माध्यम बनाया लोक संग्रह करने के लिए धर्म को पुनर्स्थापित करने के लिए तो इसलिए उन्हें बहुत महत्वपूर्ण माना गया है उनका प्रभाव आज तक समझ में उनके लिखित रामचरितमानस को ही आर्य समाज आज समाज में बहुत सारी लोकप्रियता है
Raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vyavahaaron ka varnan kiya hai raam charitr aur raamaayan jae unako ek naya roop dene ka prayaas tulaseedaas jee ne hamesha kiya tulaseedaas ne logon ke beech mein phir se ek baar aastha vishvaas ko punarsthaapit kiya aur raamaraajy ko ashaant sadasy bataaya raam ko sarvajan shuddh banaaya unake sambandh mein naabhaadaas unhen kadee kaal ka vaalmeeki kahatee hai itihaasakaar mugal kaal ka sabase mahaan vyakti kahate hain griyarsan buddhadev ke baad sabase bada lokanaayak kahate hain aur unakee archana raamacharitamaanas ek samay uttar bhaarat kee baibil maanee jaatee bas jaatee thee aayojan kee unhonne raam katha ke maadhyam se maanaveey mooly mooly ko phir se pratisthaapit kiya apane ek aadarsh raam kee katha ka unhonne nirmaan kiya vaise unake guru raamaanand maane jaate hain unhonne khaas karake bataaya ki mukti ke saath mein jo hai vah bhakti mein hee hai bhagavaan kee sharan mein hee kalyaan hai unhonne jo jis bhaasha ka upayog kiya vah sarvasaadhaaran samaaj kee bhaasha thee prem sharanaagati aur bhakti yah maadhyamon ne bhagavaan tak pahunchane ke batae jo aap in sab ko salaam lagate hain raam ko hee unhonne abhayaanand bika aur sachida sachchidaanand bhee bataaya unhonne kaheen paraspar virodhee prabhaav ko ek saath mein laane ka prayaas kiya poorv purush unhonne shree raam ko bataaya arun mein seel saundary aur mangal kaaree ho paatee thee vah varnit kee raamaayan mein jaise unhonne raam ko ped paudhon se seeta jaanakee ka pata poochhane ke lie uchit e chitrit kiya jo jan jan saamaany aadamee karata hai bhakti bhaavana ko unhonne lokamangal se prerit kiya raamacharitamaanas ke jarie shiv bhakti aur saundary ko unhonne vikasit kiya aur aapake charitr mein dikhaaya aur us ke maadhyam se lokeshan rakhee saadhana ke maarg ko prashast kiya aur lok sangrah hindoo logon mein ho gaya kaee paraspar virodhee bade pravaah bhee us vakt rahe the jaise raam ko maarane vaala aur shiv ko maarane vaala donon mein hee unamen bhakti bhaav prastaavit kiya donon ka samanvay kiya bhakti aur gyaan donon ka samanvay kiya guna aur shagun jo paramaatma hota hai bataaya jaata hai usaka samanvay kiya grhasth jeevan aur vairaagy ka jeevan isamen bhee unhonne samanvay kiya to jyaada karake tulaseedaas ne raam patnee raamacharitamaanas mein us vakt samaaj mein kaee patr bharakar aae the kaee vichaar ubhar kar aae the aur aise samay mein jo vaidik parampara thee aur usake naayak the unako jay shree raam inako unhonne maadhyam banaaya lok sangrah karane ke lie dharm ko punarsthaapit karane ke lie to isalie unhen bahut mahatvapoorn maana gaya hai unaka prabhaav aaj tak samajh mein unake likhit raamacharitamaanas ko hee aary samaaj aaj samaaj mein bahut saaree lokapriyata hai

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:02
तुम्हारे तुलसीदास जी ने मजदूरों का वर्णन किया है रामचरितमानस में देखा जाए परिवार की परवरिश भाई भाई ने किस प्रकार से प्रेम होना चाहिए अपने परिवार को 81 करने के लिए किस प्रकार का त्याग होना चाहिए किस प्रकार का विश्वास होना चाहिए किस प्रकार देखा जाए तो पूरे आज प्रकार किया जाता है उनका वर्णन किया है राम जी ने अपने भाई का प्रेम के लिए अपनी माता के प्रेम के लिए उन्होंने बनवाया था इस मिलती है कि हमें भी अपने परिवार को टाइम देना चाहिए और अपने परिवार के लिए कुछ करना चाहिए वह भी कहते हैं सवाल का जवाब
Tumhaare tulaseedaas jee ne majadooron ka varnan kiya hai raamacharitamaanas mein dekha jae parivaar kee paravarish bhaee bhaee ne kis prakaar se prem hona chaahie apane parivaar ko 81 karane ke lie kis prakaar ka tyaag hona chaahie kis prakaar ka vishvaas hona chaahie kis prakaar dekha jae to poore aaj prakaar kiya jaata hai unaka varnan kiya hai raam jee ne apane bhaee ka prem ke lie apanee maata ke prem ke lie unhonne banavaaya tha is milatee hai ki hamen bhee apane parivaar ko taim dena chaahie aur apane parivaar ke lie kuchh karana chaahie vah bhee kahate hain savaal ka javaab

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:28
अरे कब तक नहीं रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहार ओं का वर्णन किया है तो आपको बता दें कि जो तुलसीदास जी की है उन्होंने रामचरितमानस में बहुत सारे नशे के मारो का वर्णन किया है जिसमें से एक यह भी था कि ढोल गवार पशु और नारी यह सब तारण के अधिकारी किस तरह से तमाम एक वहां पर चौपाइयां लिखी गई है और उसमें समाज में मारो का वर्णन किया गया है मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Are kab tak nahin raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vyavahaar on ka varnan kiya hai to aapako bata den ki jo tulaseedaas jee kee hai unhonne raamacharitamaanas mein bahut saare nashe ke maaro ka varnan kiya hai jisamen se ek yah bhee tha ki dhol gavaar pashu aur naaree yah sab taaran ke adhikaaree kis tarah se tamaam ek vahaan par chaupaiyaan likhee gaee hai aur usamen samaaj mein maaro ka varnan kiya gaya hai main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:58
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है तो दोस्तों जिस समय में रामचरितमानस की रचना तुलसीदास जी द्वारा की गई थी उस कार में तत्कालीन शासकों की अव्यवस्थित शासन व्यवस्था एवं कट्टरता से राजनीतिक सामाजिक सांस्कृतिक एवं धार्मिक जीवन त्रस्त हो रहा था चतुर्दिक उत्पीड़न व यात्राओं के द्वारा समाज विकृत दशा को प्राप्त था समाज में हिंदू सनातन धर्म में विकृतियां जोर पकड़ती जा रही थी तुलसीदास जी ने ऐसे समय में भारतीय समाज में आदर्श मानदंडों की पुनः स्थापना का बीड़ा उठाया यही रामचरितमानस की सामाजिक पर्यावरण चेतना है कि गोस्वामी जी ने मानस रद्द कर इसे सामाजिक मूल्यों के आदर्शों का जीवंत प्रतीक बना दिया मन मैं उत्तराखंड में राम राज्य के प्रसंग में गोस्वामी जी का मानना है उनकी यह धारणा है कि तत्कालीन समाज में जो अनैतिकता अन्याय आचार हीनता विभेद सभी का कारण वर्ण व्यवस्था का विकृत होना तथा टूट जाना है तुलसीदास जी कहते हैं कि कलयुग में नवरंग धर्म रहता है ल चारों आश्रम रहते हैं सब पुरुष स्त्री वेद के विरोध में लगे रहते हैं दोस्तों तुलसीदास जी के समकालीन निर्गुण संतों की वाणी में वर्ण व्यवस्था के प्रति विरोध दिख जाता है श्रीमद्भागवत गीता में श्रीकृष्ण वर्णों की उत्पत्ति के विषय में कहते हैं कि मैंने गुण और कर्म के आधार पर चारों वर्णों की सृष्टि की है तुलसीदास जी वर्ण व्यवस्था को पथभ्रष्ट समाज में विकल्प के रूप में देखते हैं कि तू यह व्यवस्था एस मानता की पक्षधर नहीं है डॉक्टर नगेंद्र के अनुसार वास्तव में अपने होली के रूप में वर्ण व्यवस्था सामाजिक जीवन और आश्रम व्यवस्था व्यक्ति जीवन के संगठन का आधार है ऐसा मानते हैं और दोस्तों तुलसीदास जी ने रामचरितमानस में परिवार के आदर्श और मर्यादा को स्थापित करने का सुंदर प्रयास किया है यह प्रयास इतना प्रभावी है कि आचार्य शुक्ल यहां तक लिखते हैं कि यदि भारतीय विशिष्टता और सभ्यता का चित्र देखना हो तो इस राम समाज में देखिए कैसी परिष्कृत भाषा में कैसी प्रवचन पटुता के साथ प्रस्ताव उपस्थित होते हैं किस गंभीरता और शिष्टता के साथ बात का उत्तर दिया जाता है छोटे बड़े की मर्यादा का किस सरलता के साथ पालन होता है तो यह सब कुछ मानस में मिलता है तो दोस्तों बहुत ही अच्छी सामाजिक व्यवहार उनका तुलसीदास जी ने बहुत ही अच्छा सहयोग किया है बहुत ही अच्छा वर्णन वर्णन किया है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vyavahaaron ka varnan kiya hai to doston jis samay mein raamacharitamaanas kee rachana tulaseedaas jee dvaara kee gaee thee us kaar mein tatkaaleen shaasakon kee avyavasthit shaasan vyavastha evan kattarata se raajaneetik saamaajik saanskrtik evan dhaarmik jeevan trast ho raha tha chaturdik utpeedan va yaatraon ke dvaara samaaj vikrt dasha ko praapt tha samaaj mein hindoo sanaatan dharm mein vikrtiyaan jor pakadatee ja rahee thee tulaseedaas jee ne aise samay mein bhaarateey samaaj mein aadarsh maanadandon kee punah sthaapana ka beeda uthaaya yahee raamacharitamaanas kee saamaajik paryaavaran chetana hai ki gosvaamee jee ne maanas radd kar ise saamaajik moolyon ke aadarshon ka jeevant prateek bana diya man main uttaraakhand mein raam raajy ke prasang mein gosvaamee jee ka maanana hai unakee yah dhaarana hai ki tatkaaleen samaaj mein jo anaitikata anyaay aachaar heenata vibhed sabhee ka kaaran varn vyavastha ka vikrt hona tatha toot jaana hai tulaseedaas jee kahate hain ki kalayug mein navarang dharm rahata hai la chaaron aashram rahate hain sab purush stree ved ke virodh mein lage rahate hain doston tulaseedaas jee ke samakaaleen nirgun santon kee vaanee mein varn vyavastha ke prati virodh dikh jaata hai shreemadbhaagavat geeta mein shreekrshn varnon kee utpatti ke vishay mein kahate hain ki mainne gun aur karm ke aadhaar par chaaron varnon kee srshti kee hai tulaseedaas jee varn vyavastha ko pathabhrasht samaaj mein vikalp ke roop mein dekhate hain ki too yah vyavastha es maanata kee pakshadhar nahin hai doktar nagendr ke anusaar vaastav mein apane holee ke roop mein varn vyavastha saamaajik jeevan aur aashram vyavastha vyakti jeevan ke sangathan ka aadhaar hai aisa maanate hain aur doston tulaseedaas jee ne raamacharitamaanas mein parivaar ke aadarsh aur maryaada ko sthaapit karane ka sundar prayaas kiya hai yah prayaas itana prabhaavee hai ki aachaary shukl yahaan tak likhate hain ki yadi bhaarateey vishishtata aur sabhyata ka chitr dekhana ho to is raam samaaj mein dekhie kaisee parishkrt bhaasha mein kaisee pravachan patuta ke saath prastaav upasthit hote hain kis gambheerata aur shishtata ke saath baat ka uttar diya jaata hai chhote bade kee maryaada ka kis saralata ke saath paalan hota hai to yah sab kuchh maanas mein milata hai to doston bahut hee achchhee saamaajik vyavahaar unaka tulaseedaas jee ne bahut hee achchha sahayog kiya hai bahut hee achchha varnan varnan kiya hai dhanyavaad

bolkar speaker
रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है?Ramacharitamanas Mein Tulsidas Ji Ne Kin Samajik Vyavaharon Ka Varnan Kiya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:01
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका पीस ने रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहार ओं का वर्णन किया है तो आपको पता होगा कि तुलसीदास जी ने रामचरितमानस की रचना की उसमें राम की ही पूरे जीवन काल का वर्णन है तो किस तरह से अपने माता-पिता की बात मानते हैं बच्चे जो राम भगवान के माना हुए उसका वर्णन है और पति भक्ति जैसे सीता माता करते थे राम भगवान की वह वर्णन है और किस प्रकार से कोई भी गलत काम करने वाला विद्वान बुरी गति को प्राप्त होता है जैसे रावण उसका वर्णन किया गया है और कैसे बच्चे मां-बाप किया गया खाली होते थे राम भगवान माता पिता के कितने आज्ञाकारी थे इन सब बातों का वर्णन किया गया है और भाई भाई का प्रेम दर्शाया गया है जैसे भरत जी राम लक्ष्मण शत्रुघ्न सब भाई सब का प्रेम दर्शाया गया है और बुराई पर अच्छाई की जीत हुई इसी का वर्णन किया गया है धन्य
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka pees ne raamacharitamaanas mein tulaseedaas jee ne kin saamaajik vyavahaar on ka varnan kiya hai to aapako pata hoga ki tulaseedaas jee ne raamacharitamaanas kee rachana kee usamen raam kee hee poore jeevan kaal ka varnan hai to kis tarah se apane maata-pita kee baat maanate hain bachche jo raam bhagavaan ke maana hue usaka varnan hai aur pati bhakti jaise seeta maata karate the raam bhagavaan kee vah varnan hai aur kis prakaar se koee bhee galat kaam karane vaala vidvaan buree gati ko praapt hota hai jaise raavan usaka varnan kiya gaya hai aur kaise bachche maan-baap kiya gaya khaalee hote the raam bhagavaan maata pita ke kitane aagyaakaaree the in sab baaton ka varnan kiya gaya hai aur bhaee bhaee ka prem darshaaya gaya hai jaise bharat jee raam lakshman shatrughn sab bhaee sab ka prem darshaaya gaya hai aur buraee par achchhaee kee jeet huee isee ka varnan kiya gaya hai dhany

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों का वर्णन किया है, तुलसीदास जी ने किन सामाजिक व्यवहारों के बारे में बताया है
URL copied to clipboard