#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा किन अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई है?

Ramcharitmanas Mein Ram Charitra Ke Alava Kin Any Pehluon Par Charcha Ki Gayi Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:23
देखिए रामचरितमानस में राम चरित के अलावा जो सबसे ज्यादा इस पर चर्चा की गई है कि आपका जीवन किस तरह से होना चाहिए आप इंडिविजुअली आप फैमिली में किस तरह से अपनी लाइफ को बताओ जो आपके लिए आपकी फैमिली के लिए समाज के लिए एक उदाहरण साबित रामचरितमानस अगर आपने कभी पड़ रहा है मैंने तो पड़ा है एक अलग का मोटिवेशन एक लाइफ में एक ऊर्जा मिलती है कि हमें समय से डिसीजन भी लेना है तो हमें समय पर त्याग और बलिदान भी करना है अमित संतोष भी रखना है हमें ध्यान भी रखना है तो रामचरितमानस ओवरऑल सब कुछ दिखाता है आपको तो जब तक आप को कम से कम आधा भी नहीं पढ़ोगे आपको समझ में नहीं आएगा वह पढ़ना बहुत जरूरी है कि रामचरितमानस के बारे में खुद शिवजी भी बोले हैं कि मेरे यारा दे रहा है और बहुत सारी बातें रामचरितमानस में और बहुत कुछ है तो आप बहुत कुछ सीख सकते हैं इसको पढ़ना जरूरी है थोड़ा टाइम दे
Dekhie raamacharitamaanas mein raam charit ke alaava jo sabase jyaada is par charcha kee gaee hai ki aapaka jeevan kis tarah se hona chaahie aap indivijualee aap phaimilee mein kis tarah se apanee laiph ko batao jo aapake lie aapakee phaimilee ke lie samaaj ke lie ek udaaharan saabit raamacharitamaanas agar aapane kabhee pad raha hai mainne to pada hai ek alag ka motiveshan ek laiph mein ek oorja milatee hai ki hamen samay se diseejan bhee lena hai to hamen samay par tyaag aur balidaan bhee karana hai amit santosh bhee rakhana hai hamen dhyaan bhee rakhana hai to raamacharitamaanas ovarol sab kuchh dikhaata hai aapako to jab tak aap ko kam se kam aadha bhee nahin padhoge aapako samajh mein nahin aaega vah padhana bahut jarooree hai ki raamacharitamaanas ke baare mein khud shivajee bhee bole hain ki mere yaara de raha hai aur bahut saaree baaten raamacharitamaanas mein aur bahut kuchh hai to aap bahut kuchh seekh sakate hain isako padhana jarooree hai thoda taim de

और जवाब सुनें

bolkar speaker
रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा किन अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई है?Ramcharitmanas Mein Ram Charitra Ke Alava Kin Any Pehluon Par Charcha Ki Gayi Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:28
सवाल ही रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा तीन अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई देखिए राम चरित्र मानस न केवल भारतीय साहित्य का बल्कि विश्व साहित्य का अद्वितीय ग्रंथ है इसका अनुवाद अन्य भारतीय भाषाओं के साथ-साथ विश्व की अनेक भाषाओं में हुआ है रामचरितमानस में श्री राम के चरित्र के अलावा इसमें जीवन के सभी पहलुओं का नीतिगत वर्णन है भाई का भाई के साथ पति का पत्नी से पत्नी का पति से गुरु और शिष्य के प्रति प्रजा का राजा से और राजा का प्रजा से कैसा व्यवहार होना चाहिए उसका सजीव चित्रण किया गया है राम की रावण पर विजय किस बात का प्रतीक है की अच्छाई की बुराई पर सत्य की असत्य पर विजय होती है तुलसीदास जी ने जीवन में सुख के लिए न्याय सत्य और प्राणी मात्र से प्रेम को अनिवार्य माना है तुलसीदास जी रामचरितमानस जीवन की अनेक समस्याओं का समाधान प्रस्तुत किया है इसके अलावा तुलसीदास जी ने अन्य ग्रंथ जैसी विनय पत्रिका कवितावली दोहावली व गीतावली आदि अनेकों काव्य रचनाएं की धन्यवाद
Savaal hee raamacharitamaanas mein raam charitr ke alaava teen any pahaluon par charcha kee gaee dekhie raam charitr maanas na keval bhaarateey saahity ka balki vishv saahity ka adviteey granth hai isaka anuvaad any bhaarateey bhaashaon ke saath-saath vishv kee anek bhaashaon mein hua hai raamacharitamaanas mein shree raam ke charitr ke alaava isamen jeevan ke sabhee pahaluon ka neetigat varnan hai bhaee ka bhaee ke saath pati ka patnee se patnee ka pati se guru aur shishy ke prati praja ka raaja se aur raaja ka praja se kaisa vyavahaar hona chaahie usaka sajeev chitran kiya gaya hai raam kee raavan par vijay kis baat ka prateek hai kee achchhaee kee buraee par saty kee asaty par vijay hotee hai tulaseedaas jee ne jeevan mein sukh ke lie nyaay saty aur praanee maatr se prem ko anivaary maana hai tulaseedaas jee raamacharitamaanas jeevan kee anek samasyaon ka samaadhaan prastut kiya hai isake alaava tulaseedaas jee ne any granth jaisee vinay patrika kavitaavalee dohaavalee va geetaavalee aadi anekon kaavy rachanaen kee dhanyavaad

bolkar speaker
रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा किन अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई है?Ramcharitmanas Mein Ram Charitra Ke Alava Kin Any Pehluon Par Charcha Ki Gayi Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:19
राम चरित्र मानस के नामों पर चर्चा की गई है इस तरीके से साधारण जीवन जीना चाहिए इस विषय पर चर्चा की गई है हमारे जीवन में आते हैं कुछ लोग हार मान लेते हैं और कुछ लोग हमारे जीवन की कठिनाइयों को घटाएं हवाओं से लड़ना है और उससे बाहर निकलना है उसको बहुत ही साधारण तरीके से और बहुत सिंपल तरीके से भी हम समस्या का समाधान कर सकते हैं इस दुनिया में कोई समस्या नहीं है जिसका कोई समाधान ना हो बच्चे की है कि कितना जीवन साधारण होना चाहिए और किस प्रकार से हमें पता हम तो आए हो हमें सपनों से प्रेम करना चाहिए
Raam charitr maanas ke naamon par charcha kee gaee hai is tareeke se saadhaaran jeevan jeena chaahie is vishay par charcha kee gaee hai hamaare jeevan mein aate hain kuchh log haar maan lete hain aur kuchh log hamaare jeevan kee kathinaiyon ko ghataen havaon se ladana hai aur usase baahar nikalana hai usako bahut hee saadhaaran tareeke se aur bahut simpal tareeke se bhee ham samasya ka samaadhaan kar sakate hain is duniya mein koee samasya nahin hai jisaka koee samaadhaan na ho bachche kee hai ki kitana jeevan saadhaaran hona chaahie aur kis prakaar se hamen pata ham to aae ho hamen sapanon se prem karana chaahie

bolkar speaker
रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा किन अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई है?Ramcharitmanas Mein Ram Charitra Ke Alava Kin Any Pehluon Par Charcha Ki Gayi Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
रामचरितमानस में राम चरित्र के अलावा अन्य पहलुओं पर चर्चा की गई जब रामचरितमानस लिखा गया था तो मुगल काल था और दूसरे विचार और पंथ निर्माण हुए थे और प्रभावी थे तो उन्होंने राम को लोगों के लिए सूरज चांद बनाया लोगों की आस्था और विश्वास को पूर्ण स्थापित किया राम को सर्वजन सुनो बनाया उन्होंने मानवीय मूल्य सूची उनको प्रधानता देते हुए वह कथा में ले आए उनके प्रतिष्ठापना की और आपने एक ईस्टर राम की कथा बनाएं रामचरित्र के अलावा उन्होंने जूता ठीक बाटे थी उसमें भक्ति को मुक्ति का महत्वपूर्ण साधन माना सबसे महत्वपूर्ण साधन माना भगवान की शरण में कल्याण हो जाता है ऐसा एक विचार रखा उन्होंने अपने ग्रंथों में सर्वसाधारण लोगों की भाषा मैं लिखाई कि राम को ही उन्होंने अनादि अनंत और सच्चिदानंद का परमात्मा के पर्याय में रामवीर उन्होंने शिवा सौंदर्य और मंगल तुझे देख के होश में लाने का प्रयास किया था राम जब रावण सीता को ले जाता है तो दुखी होकर आम आदमी की तरह पेड़ पौधों से पूजा करते हैं कि मेरी सीता कहां है क्या आपको मालूम है मुझे बताओ तुम के आम आदमी के जैसी भावनाएं भक्ति भावना जिम्मेदारी जगदीश रे पंछी उड़ रहे थे तो रामचरित्र को ही लोक संग्रह करने का प्रयास किया उसके उसका उपयोग करो शर्म करो क्षमता बढ़ाने की कोशिश की और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि उस वक्त सारे पंथ खड़े हुए थे और आप अपनी कसम कसम तब उन्होंने राम और शिव मैं समझ गई क्या भक्ति भाव का उपयोग किया भक्ति और ज्ञान में उन्होंने समन्वय किया विरोध और सुकून की बातें थी उसमें उन्होंने समाज ने किया एक ग्रस्त व्यक्ति और एक मेरा दिल को उपलब्ध हुआ व्यक्ति उनके बीच में उन्होंने एक समन्वय करने की कोशिश की तो रामचरितमानस तुलसीदास में राम को थोड़ा अलग समझते थे फिलॉसफी चलती आप लोग संग्राहक हिंदुओं में एकता लाने के प्रयास में किस तरह तरह से अन्य पहलुओं पर रामचरितमानस में राम की जय
Raamacharitamaanas mein raam charitr ke alaava any pahaluon par charcha kee gaee jab raamacharitamaanas likha gaya tha to mugal kaal tha aur doosare vichaar aur panth nirmaan hue the aur prabhaavee the to unhonne raam ko logon ke lie sooraj chaand banaaya logon kee aastha aur vishvaas ko poorn sthaapit kiya raam ko sarvajan suno banaaya unhonne maanaveey mooly soochee unako pradhaanata dete hue vah katha mein le aae unake pratishthaapana kee aur aapane ek eestar raam kee katha banaen raamacharitr ke alaava unhonne joota theek baate thee usamen bhakti ko mukti ka mahatvapoorn saadhan maana sabase mahatvapoorn saadhan maana bhagavaan kee sharan mein kalyaan ho jaata hai aisa ek vichaar rakha unhonne apane granthon mein sarvasaadhaaran logon kee bhaasha main likhaee ki raam ko hee unhonne anaadi anant aur sachchidaanand ka paramaatma ke paryaay mein raamaveer unhonne shiva saundary aur mangal tujhe dekh ke hosh mein laane ka prayaas kiya tha raam jab raavan seeta ko le jaata hai to dukhee hokar aam aadamee kee tarah ped paudhon se pooja karate hain ki meree seeta kahaan hai kya aapako maaloom hai mujhe batao tum ke aam aadamee ke jaisee bhaavanaen bhakti bhaavana jimmedaaree jagadeesh re panchhee ud rahe the to raamacharitr ko hee lok sangrah karane ka prayaas kiya usake usaka upayog karo sharm karo kshamata badhaane kee koshish kee aur sabase mahatvapoorn baat yah ki us vakt saare panth khade hue the aur aap apanee kasam kasam tab unhonne raam aur shiv main samajh gaee kya bhakti bhaav ka upayog kiya bhakti aur gyaan mein unhonne samanvay kiya virodh aur sukoon kee baaten thee usamen unhonne samaaj ne kiya ek grast vyakti aur ek mera dil ko upalabdh hua vyakti unake beech mein unhonne ek samanvay karane kee koshish kee to raamacharitamaanas tulaseedaas mein raam ko thoda alag samajhate the philosaphee chalatee aap log sangraahak hinduon mein ekata laane ke prayaas mein kis tarah tarah se any pahaluon par raamacharitamaanas mein raam kee jay

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रामचरितमानस की कथा रामचरितमानस के पात्र
URL copied to clipboard