#undefined

bolkar speaker

सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?

Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:44
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है दोस्तों सोने के गहने हर महिला की पहली पसंद बनी होती है दुनिया में शायद कोई ऐसी महिला हो जिसमें जिसे सोने के आभूषण अच्छे लगे हैं भले ही सोना अभी बहुत महंगा हो चुका है लेकिन इसको पहनने का उतना ही क्रेज महिलाओं में होता है दोस्तों आजकल की फैशन और आधुनिक दिखने की होड़ में महिलाएं सोने के आभूषण धारण करने में कुछ ऐसी गलतियों कर बैठती है जिसकी उनको भारी कीमत चुकानी पड़ती है ज्योतिष में इन बातों को गहरे अर्थ बताई गई है तो आज हम इनकी चर्चा नवभारत टाइम्स डॉट कॉम की एक पोस्ट के अनुसार लेते हैं दोस्तों पुराने तजुर्बे दार लोग बताते हैं कि सोने के आभूषणों को कभी भी पैरों में नहीं रहना चाहता है और चांदी के बच्चों को पैरों में पहना था माना जाता है कि सोने की तासीर गर्म होती है और चांदी की तासीर ठंडी होती है सिर पर सोने के आभूषण धारण करने से सिर से उत्पन्न होने वाली ऊर्जा पैरों में गर्माहट लाती है वही पैरों में पहनने वाली चांदी की शीतलता सिर पर जाती है माना जाता है कि चांदी की पायल पैरों में पहनने से पैरों में मजबूती आती है दोस्तों सोने के आभूषण का पैरों में इस्तेमाल न करने के पीछे आध्यात्मिक कारण यह है कि सोने के गहने भगवान को अति प्रिय माने जाते हैं दरअसल पीला रंग भगवान विष्णु को अति प्रिय माना जाता है स्वर्ण का वर्णन भी पीला होता है इसी के चलते सोने के गहनों को पैरों में पहना अच्छा नहीं माना जाता है और माना जाता है कि कभी भी नाभि के नीचे सोने के आभूषण नहीं पहने चाहिए ऐसा करने से धन की देवी महालक्ष्मी नाराज होती है और आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है तू तो सोना चाहिए आप अलमारी में रखे या फिर तिजोरी में रखें सोना चाहती हो उसे लाल कपड़े में लपेट कर रखे इससे आपका बृहस्पति मजबूत होता है और आपको मंडल की भी कृपा प्राप्त होती रहती है आपकी समृद्धि में वृद्धि होती है और घर में मां लक्ष्मी का वास होता है तो तो दांपत्य जीवन भी सुख में होता है ज्योतिष में ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों को पेट की समस्या हो या फिर मोटापे से परेशान हैं उन्हें सोना नहीं कहना चाहिए अगर किसी भी जन्म कुंडली में गुरु की दशा खराब हो तो भी सोना नहीं पहनना चाहिए लोहा कोयला और काले शीशों का व्यापार करने वालों को 16 पहले से बचना चाहिए वही तिजोरी में भी सोने के साथ कोई भी जादू नहीं रखनी चाहिए यह छोटी सी जानकारी थी खुद से आपके लिए बहुत ही कीमती बेशकीमती हो धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai sone se bana aabhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai doston sone ke gahane har mahila kee pahalee pasand banee hotee hai duniya mein shaayad koee aisee mahila ho jisamen jise sone ke aabhooshan achchhe lage hain bhale hee sona abhee bahut mahanga ho chuka hai lekin isako pahanane ka utana hee krej mahilaon mein hota hai doston aajakal kee phaishan aur aadhunik dikhane kee hod mein mahilaen sone ke aabhooshan dhaaran karane mein kuchh aisee galatiyon kar baithatee hai jisakee unako bhaaree keemat chukaanee padatee hai jyotish mein in baaton ko gahare arth bataee gaee hai to aaj ham inakee charcha navabhaarat taims dot kom kee ek post ke anusaar lete hain doston puraane tajurbe daar log bataate hain ki sone ke aabhooshanon ko kabhee bhee pairon mein nahin rahana chaahata hai aur chaandee ke bachchon ko pairon mein pahana tha maana jaata hai ki sone kee taaseer garm hotee hai aur chaandee kee taaseer thandee hotee hai sir par sone ke aabhooshan dhaaran karane se sir se utpann hone vaalee oorja pairon mein garmaahat laatee hai vahee pairon mein pahanane vaalee chaandee kee sheetalata sir par jaatee hai maana jaata hai ki chaandee kee paayal pairon mein pahanane se pairon mein majabootee aatee hai doston sone ke aabhooshan ka pairon mein istemaal na karane ke peechhe aadhyaatmik kaaran yah hai ki sone ke gahane bhagavaan ko ati priy maane jaate hain darasal peela rang bhagavaan vishnu ko ati priy maana jaata hai svarn ka varnan bhee peela hota hai isee ke chalate sone ke gahanon ko pairon mein pahana achchha nahin maana jaata hai aur maana jaata hai ki kabhee bhee naabhi ke neeche sone ke aabhooshan nahin pahane chaahie aisa karane se dhan kee devee mahaalakshmee naaraaj hotee hai aur aarthik samasyaon ka saamana karana padata hai too to sona chaahie aap alamaaree mein rakhe ya phir tijoree mein rakhen sona chaahatee ho use laal kapade mein lapet kar rakhe isase aapaka brhaspati majaboot hota hai aur aapako mandal kee bhee krpa praapt hotee rahatee hai aapakee samrddhi mein vrddhi hotee hai aur ghar mein maan lakshmee ka vaas hota hai to to daampaty jeevan bhee sukh mein hota hai jyotish mein aisa maana jaata hai ki jin logon ko pet kee samasya ho ya phir motaape se pareshaan hain unhen sona nahin kahana chaahie agar kisee bhee janm kundalee mein guru kee dasha kharaab ho to bhee sona nahin pahanana chaahie loha koyala aur kaale sheeshon ka vyaapaar karane vaalon ko 16 pahale se bachana chaahie vahee tijoree mein bhee sone ke saath koee bhee jaadoo nahin rakhanee chaahie yah chhotee see jaanakaaree thee khud se aapake lie bahut hee keematee beshakeematee ho dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:21
उसने सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है कि हमारी जो संस्कृति है वह भी इजाजत नहीं देती है यह हम सोने से बने आभूषण अपने पैरों पर पहले और इसका कुछ आध्यात्मिक बातें भी है तो आइए जानते हैं कि सोने से बना भूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है क्योंकि इस्तेमाल न करने के पीछे एक आध्यात्मिक कारण है कि सोने के गहरे गहरे होते हैं सोने के गहने भगवान को अति प्रिय माने जाते हैं दरअसल पीला रंग जो होता है वह भगवान विष्णु को अति प्रिय अति प्रयोग होने की वजह से क्या होता है किशोर का जो रंग ब्यावर भी क्या होता है पीला होता है इसी के चलते क्या होते हैं सोने के गहने जो होते हैं पैरों में पहना अच्छा नहीं माना जाता है वही तो नहीं माना जाता है जो कहा जाता है कि भगवान को चुप अति प्रिय चीजें होती हैं वह पैरों में नहीं पैरों के ऊपर ही ज्यादा सुशोभित होती हैं यही कारण है कि हम सोने से बना आभूषण पैरों में नहीं पहनते हैं और इसके अलावा हम अपने हाथों में पहनते हैं अपने गले में अपनी नाक कान मतलब चीजों इसीलिए हम आभूषण का अपने ही ऊपर की जो हमारे शरीर हैं वहीं पर पहनते हैं ना कि हम अपने पैरों में पहनते हैं धन
Usane sone se bana aabhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai ki hamaaree jo sanskrti hai vah bhee ijaajat nahin detee hai yah ham sone se bane aabhooshan apane pairon par pahale aur isaka kuchh aadhyaatmik baaten bhee hai to aaie jaanate hain ki sone se bana bhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai kyonki istemaal na karane ke peechhe ek aadhyaatmik kaaran hai ki sone ke gahare gahare hote hain sone ke gahane bhagavaan ko ati priy maane jaate hain darasal peela rang jo hota hai vah bhagavaan vishnu ko ati priy ati prayog hone kee vajah se kya hota hai kishor ka jo rang byaavar bhee kya hota hai peela hota hai isee ke chalate kya hote hain sone ke gahane jo hote hain pairon mein pahana achchha nahin maana jaata hai vahee to nahin maana jaata hai jo kaha jaata hai ki bhagavaan ko chup ati priy cheejen hotee hain vah pairon mein nahin pairon ke oopar hee jyaada sushobhit hotee hain yahee kaaran hai ki ham sone se bana aabhooshan pairon mein nahin pahanate hain aur isake alaava ham apane haathon mein pahanate hain apane gale mein apanee naak kaan matalab cheejon iseelie ham aabhooshan ka apane hee oopar kee jo hamaare shareer hain vaheen par pahanate hain na ki ham apane pairon mein pahanate hain dhan

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:44
नमस्कार दोस्तों जैसा कि आप का सवाल है सोने से बना भूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है तो मित्रों आपके सवाल का उत्तर है क्योंकि आभूषणों को पहनने से ऊर्जा फिर से और पैरों की तरह से और पैरों से सिर की तरह से चालू होती है अगर सिर और पाव दोनों में सोने के आभूषण ले जाए तो पीछे हमारे शरीर में एक समान ऊर्जा का फल होगा और इन से शरीर को नुकसान होगा और हमारे शरीर में कई बीमारियां हो सकती है इसलिए हमें पैरों में सोने के आभूषण को नहीं पहनना चाहिए धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar doston jaisa ki aap ka savaal hai sone se bana bhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai to mitron aapake savaal ka uttar hai kyonki aabhooshanon ko pahanane se oorja phir se aur pairon kee tarah se aur pairon se sir kee tarah se chaaloo hotee hai agar sir aur paav donon mein sone ke aabhooshan le jae to peechhe hamaare shareer mein ek samaan oorja ka phal hoga aur in se shareer ko nukasaan hoga aur hamaare shareer mein kaee beemaariyaan ho sakatee hai isalie hamen pairon mein sone ke aabhooshan ko nahin pahanana chaahie dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार कैसा क्या आपका प्रश्न है सोने से बना आप हो सर पैरों में क्यों नहीं पहना जाता जो आभूषण होते हैं उनकी एक अपनी मर्यादा होती है उनकी अपनी एक सीमा होती है उनका एक आसान होता है कि उसने उनकी उपयोगिता जो है वह कहां है कान में है या फिर नाक में है या फिर गली में है हाथों में है तू जहां जिस की उपयोगिता रहती है जहां हमारे पहले के सांस्कृतिक नियम से बनाए गए हैं कि जो चीज जहां पहनी जाती है वह चीज वही ही अच्छी लगती है हालांकि यह बात और है कि अगर आपके पास पैसा है तो आप सोने नहीं हीरे के बनवाकर पहन सकते हैं पैरों में पहन सकते हैं फ्रेंड और नागपुरी पहन सकते हैं कान में पहन सकते हैं हाथ में लगा सकते हैं उसी की तरह इस्तेमाल करते हैं कई लोग अलग बात हो गई फ्रेंड लेकिन जो जिसका अपना एक फूल बनाया गया है जैसे कि एडम्स की संज्ञा दी गई है उसे पायल कहते हैं फ्रेंड्स और पायल जो होता है वह शादी का ही शुभ नहीं माना जाता है शादी का इसलिए माना जाता है फ्रेंड चुकी है सोने से ज्यादा जो है कहीं मजबूत जो है वह चांदी को माना गया है सुना जो होता है वह थोड़ा सा हल्के में आ जाता है उतना मजबूती नहीं दे पाता जितना की चांदी दे पाता है लेकिन दोनों का अपनी-अपनी जगह पर एक महत्व है सोने का अपना एक अलग महत्व है चांदी का अपना एक अलग महत्व है उसी तरीके से हीरे का अपना एक और भी अलग महत्व है तो जिसकी जहां से संज्ञा दी गई है वहां किसी की शोभा बढ़ाता है जैसे कि पायल में पायल हो गया तो वह थोड़ा सा ज्यादा जो है टिकाऊ होता है ज्यादा बढ़िया होता है और थोड़ा सा कम दाम में भी मिल जाता है और बार-बार टूट जाता है तो इसलिए लोग उसको सोने की जगह जो है वह चांदी का बना के पहनने में ही ज्यादा विश्वास करते हैं क्योंकि आप अगर माली जी सोनी के का कोई पायलट ने लिया तो जाहिर सी बात है बहुत ही महंगा पड़ेगा और अगर वह टूट गया तो आपको जो है फिर से या तो नया ले लिया तो फिर वह आएगी तो फ्रेंड और अगर पाए लाभ लेना चाहते हैं तो पायल मुश्किल से हजार पंद्रह सौ तक जो है वह आप को बड़ी आसानी से एक पाए जो है वह मिल जाता है 2000 तक मैं आपको कम से कम प्राइस बताना होगा तो आपको बहुत ही आसानी होती है किसी भी महिला के लिए किसी भी लड़की के लिए हजार पंद्रह ₹100 या फिर ₹2000 जो है और थी मावली का कम होती है और वह आसानी से जुड़े पायल जो है दुबारा ले सकती हैं और अगर कोई सोने के लिए ले तो एक बार टूट जाए तो उसे सोचना पड़ेगा कि हम दुबारा सोने का फाइल कैसे बनवाएं इसलिए जहां जिस की उपयोगिता है वही अच्छी लगती है शुक्रिया
Helo phrends namaskaar kaisa kya aapaka prashn hai sone se bana aap ho sar pairon mein kyon nahin pahana jaata jo aabhooshan hote hain unakee ek apanee maryaada hotee hai unakee apanee ek seema hotee hai unaka ek aasaan hota hai ki usane unakee upayogita jo hai vah kahaan hai kaan mein hai ya phir naak mein hai ya phir galee mein hai haathon mein hai too jahaan jis kee upayogita rahatee hai jahaan hamaare pahale ke saanskrtik niyam se banae gae hain ki jo cheej jahaan pahanee jaatee hai vah cheej vahee hee achchhee lagatee hai haalaanki yah baat aur hai ki agar aapake paas paisa hai to aap sone nahin heere ke banavaakar pahan sakate hain pairon mein pahan sakate hain phrend aur naagapuree pahan sakate hain kaan mein pahan sakate hain haath mein laga sakate hain usee kee tarah istemaal karate hain kaee log alag baat ho gaee phrend lekin jo jisaka apana ek phool banaaya gaya hai jaise ki edams kee sangya dee gaee hai use paayal kahate hain phrends aur paayal jo hota hai vah shaadee ka hee shubh nahin maana jaata hai shaadee ka isalie maana jaata hai phrend chukee hai sone se jyaada jo hai kaheen majaboot jo hai vah chaandee ko maana gaya hai suna jo hota hai vah thoda sa halke mein aa jaata hai utana majabootee nahin de paata jitana kee chaandee de paata hai lekin donon ka apanee-apanee jagah par ek mahatv hai sone ka apana ek alag mahatv hai chaandee ka apana ek alag mahatv hai usee tareeke se heere ka apana ek aur bhee alag mahatv hai to jisakee jahaan se sangya dee gaee hai vahaan kisee kee shobha badhaata hai jaise ki paayal mein paayal ho gaya to vah thoda sa jyaada jo hai tikaoo hota hai jyaada badhiya hota hai aur thoda sa kam daam mein bhee mil jaata hai aur baar-baar toot jaata hai to isalie log usako sone kee jagah jo hai vah chaandee ka bana ke pahanane mein hee jyaada vishvaas karate hain kyonki aap agar maalee jee sonee ke ka koee paayalat ne liya to jaahir see baat hai bahut hee mahanga padega aur agar vah toot gaya to aapako jo hai phir se ya to naya le liya to phir vah aaegee to phrend aur agar pae laabh lena chaahate hain to paayal mushkil se hajaar pandrah sau tak jo hai vah aap ko badee aasaanee se ek pae jo hai vah mil jaata hai 2000 tak main aapako kam se kam prais bataana hoga to aapako bahut hee aasaanee hotee hai kisee bhee mahila ke lie kisee bhee ladakee ke lie hajaar pandrah ₹100 ya phir ₹2000 jo hai aur thee maavalee ka kam hotee hai aur vah aasaanee se jude paayal jo hai dubaara le sakatee hain aur agar koee sone ke lie le to ek baar toot jae to use sochana padega ki ham dubaara sone ka phail kaise banavaen isalie jahaan jis kee upayogita hai vahee achchhee lagatee hai shukriya

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:32
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं सोने से बना दो पैरों में क्यों नहीं पहना था हमारे भारतीय समाज की एक निश्चित जो मतलब सोने से बनी हुई आभूषणों को पैरों में नहीं पहनती क्योंकि इसका मुख्य कारण है क्योंकि जो सोना है तो मालूम हमारे भारत में सुनने को उनका काफी सम्मान किया जाता है सोना जोधा काफी महंगा भी आता है इसी कारण वो लोग जो लोग हैं कि मैं लोगों से मतलब पैरों में पहना नहीं परेशान करते हैं धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain sone se bana do pairon mein kyon nahin pahana tha hamaare bhaarateey samaaj kee ek nishchit jo matalab sone se banee huee aabhooshanon ko pairon mein nahin pahanatee kyonki isaka mukhy kaaran hai kyonki jo sona hai to maaloom hamaare bhaarat mein sunane ko unaka kaaphee sammaan kiya jaata hai sona jodha kaaphee mahanga bhee aata hai isee kaaran vo log jo log hain ki main logon se matalab pairon mein pahana nahin pareshaan karate hain dhanyavaad

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:48
आपका प्रश्न सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है सोने को हम माता लक्ष्मी मानते हैं इसलिए हम उनको भगवान को पैरों में नहीं पहन सकते हैं इसीलिए हम सोने के आभूषण पैरों में नहीं पहनते हैं उसकी बेज्जती होती है इसलिए हम कमर के ऊपर ही सोने के आभूषण पहनते हैं पैरों में उसको नहीं पहनते हैं यह बहुत सदियों से ही ऐसा माना जा रहा है हमारे बड़े बुजुर्ग में यही बताते हैं कि सोने के आभूषण पैरों में नहीं पहनना चाहिए इसलिए हम लोग नहीं पहनते हैं क्योंकि उसमें माता लक्ष्मी का निवास होता है सोने में और माता लक्ष्मी को पैरों में तो नहीं पहन सकते ना इसलिए हम उसे पैरों में नहीं पहनते हैं तो आपको मेरे जवाब पसंद आए तो प्लीज लाइक जरूर करिएगा धन्यवाद
Aapaka prashn sone se bana aabhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai sone ko ham maata lakshmee maanate hain isalie ham unako bhagavaan ko pairon mein nahin pahan sakate hain iseelie ham sone ke aabhooshan pairon mein nahin pahanate hain usakee bejjatee hotee hai isalie ham kamar ke oopar hee sone ke aabhooshan pahanate hain pairon mein usako nahin pahanate hain yah bahut sadiyon se hee aisa maana ja raha hai hamaare bade bujurg mein yahee bataate hain ki sone ke aabhooshan pairon mein nahin pahanana chaahie isalie ham log nahin pahanate hain kyonki usamen maata lakshmee ka nivaas hota hai sone mein aur maata lakshmee ko pairon mein to nahin pahan sakate na isalie ham use pairon mein nahin pahanate hain to aapako mere javaab pasand aae to pleej laik jaroor kariega dhanyavaad

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
0:30
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है देखिए आभूषण पहनने से ऊर्जा फिर से पैरों की तरफ और पैरों से सिर की तरफ आलू होती है वहीं अगर सिर्फ और पांच दोनों में वही गोल्ड ज्वेलरी पहन ली जाए तो इससे शरीर में एक समान ऊर्जा का फल होगा इससे शरीर को नुकसान पहुंच सकता है और कई बीमारियां भी हो सकती है धन्यवाद
Sone se bana aabhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai dekhie aabhooshan pahanane se oorja phir se pairon kee taraph aur pairon se sir kee taraph aaloo hotee hai vaheen agar sirph aur paanch donon mein vahee gold jvelaree pahan lee jae to isase shareer mein ek samaan oorja ka phal hoga isase shareer ko nukasaan pahunch sakata hai aur kaee beemaariyaan bhee ho sakatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:00
देखे सोना जाना क्यों महालक्ष्मी जी का फेवरेट है और गुरु बृहस्पति को भी दिखाता जो चीज गुरु को दिखाता है वह जो महालक्ष्मी को दिखा दो महालक्ष्मी आठ स्वरूप में पैसा नहीं की ढाणी भी देती है वीरता भी देती है संतान भी देती है संपदा भी देती है गजलक्ष्मी भी है महालक्ष्मी भी है जो महालक्ष्मी को देवता भी पूछते हैं जो गुरु को पूरा विश्व पूछता उसको पैर में पहनने का तो उसका तापमान होगा ना इसलिए सुना कब बना आभूषण कभी पैर में घुसने नहीं पहनना चाहिए आप गर्दन में यूज कीजिए हाथ में यूज कीजिए मैक्सिमम नाक में कहीं भी यूज कीजिए कानों में बाली पहनी है तब तक ठीक है कोई दिक्कत नहीं पर छोड़कर
Dekhe sona jaana kyon mahaalakshmee jee ka phevaret hai aur guru brhaspati ko bhee dikhaata jo cheej guru ko dikhaata hai vah jo mahaalakshmee ko dikha do mahaalakshmee aath svaroop mein paisa nahin kee dhaanee bhee detee hai veerata bhee detee hai santaan bhee detee hai sampada bhee detee hai gajalakshmee bhee hai mahaalakshmee bhee hai jo mahaalakshmee ko devata bhee poochhate hain jo guru ko poora vishv poochhata usako pair mein pahanane ka to usaka taapamaan hoga na isalie suna kab bana aabhooshan kabhee pair mein ghusane nahin pahanana chaahie aap gardan mein yooj keejie haath mein yooj keejie maiksimam naak mein kaheen bhee yooj keejie kaanon mein baalee pahanee hai tab tak theek hai koee dikkat nahin par chhodakar

bolkar speaker
सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है?Sone Se Bna Aabhushan Pairon Mein Kyun Nahin Pehna Jata Hai
Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
0:44
सोने से बना भूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता है क्योंकि दिन भर हमारे पैर चला करते हैं और इनमें काफी गर्मी होती है और अगर सोने के आभूषण पैरों में पहने जाएं तो वह जल्दी टूट फूट कर किनारे लग जाएगी इसलिए पैरों में चांदी पहनी जाती है और चांदी ठंडी भी होती है और वजन होने के साथ-साथ जिला हमारे पैरों में आसानी से पड़ी रहती है हम कितना भी चले फिर इस पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला सोने का आभूषण पहना हो तो वह जल्द ही टूट फूट जाएगा धन्यवाद मित्रों
Sone se bana bhooshan pairon mein kyon nahin pahana jaata hai kyonki din bhar hamaare pair chala karate hain aur inamen kaaphee garmee hotee hai aur agar sone ke aabhooshan pairon mein pahane jaen to vah jaldee toot phoot kar kinaare lag jaegee isalie pairon mein chaandee pahanee jaatee hai aur chaandee thandee bhee hotee hai aur vajan hone ke saath-saath jila hamaare pairon mein aasaanee se padee rahatee hai ham kitana bhee chale phir is par koee phark nahin padane vaala sone ka aabhooshan pahana ho to vah jald hee toot phoot jaega dhanyavaad mitron

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सोने से बना आभूषण पैरों में क्यों नहीं पहना जाता
URL copied to clipboard