#undefined

bolkar speaker

किसी भी कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है?

Kisi Bhe Kaidi Ko Fansi Ki Sunane Ke Judge Apna Kalam Kyu Tod Dete Hai
Aditya Tripathi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
0:39
आपका प्रश्न है किसी भी कैदी को फांसी की सजा सुनाने के बाद जा जा अपना कर्म क्यों तोड़ देते तो फ्रेंड सब जानते ही होंगे फांसी की सजा हमारे देश में सबसे बड़ी सजा होती है जलन अपराधों के लिए दी जाती है फांसी की सजा देने के बाद अपना कर्म इसलिए तोड़ देते हैं क्योंकि आशा करते हैं कि मुझे यह अपराध की सजा दोबारा नहीं लिखनी पड़ेगी आशा के साथ अपनी कलम की नोक तोड़ देते धन्यवाद आपको मेरा जवाब पसंद आया हो तो इसे लाइक जरुर करें
Aapaka prashn hai kisee bhee kaidee ko phaansee kee saja sunaane ke baad ja ja apana karm kyon tod dete to phrend sab jaanate hee honge phaansee kee saja hamaare desh mein sabase badee saja hotee hai jalan aparaadhon ke lie dee jaatee hai phaansee kee saja dene ke baad apana karm isalie tod dete hain kyonki aasha karate hain ki mujhe yah aparaadh kee saja dobaara nahin likhanee padegee aasha ke saath apanee kalam kee nok tod dete dhanyavaad aapako mera javaab pasand aaya ho to ise laik jarur karen

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसी भी कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है?Kisi Bhe Kaidi Ko Fansi Ki Sunane Ke Judge Apna Kalam Kyu Tod Dete Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:54
सवाल पूछा गया है कि किसी भी 1 को फांसी सुनाने के जज अपना कलम क्यों तोड़ देते हैं सुनाने के बाद तो इसके कई कारण बताए जाते हैं अरुण चेंज होता है उसका मतलब न्यायाधीश होता है और वह नए करता है अभी बहुत बड़ी जिम्मेदारी है वह किसी को किसी की जिंदगी उसके यहां तो खत्म भी हो सकती है या बच सकती है लेकिन ऐसा प्लान जो है वह दोबारा ना इसलिए कलम तोड़ दी जाती है दूसरी चीज ऐसी है कि उस पर से उसकी न्यूज़ और जब तोड़ जाती जाती है जिसे उस अपराधी को मौत लिखी सबसे आखिरी का निर्णय लिया गया है और ऐसी जो पेन है या उसकी नींव है उसको किसी और काम के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सके अन्य प्रक्रिया द्वारा जो यह जो यह नतीजा जिया जाता जाता है वह रत्ना ओ कैंसिल ना हो यह भी एक कारण उसके पीछे है और जिस पर ने किसी को मौत की सजा दी है उस दिन की भी मौत हो जिसकी जो नेवता हे नेवता इसके ऊपर नेट करने वाला कोई और नहीं है उसका निर्णय जवान टीम आना चाहिए जैसा कि उसके बाद में कोई बदल ना सके इसलिए जल्दी अपनी पेंट की नींबू तोड़ देते हैं धन्यवाद अगर मेरा जवाब अच्छा लगा तो कृपया मुझे भी जवाब नहीं करें धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kisee bhee 1 ko phaansee sunaane ke jaj apana kalam kyon tod dete hain sunaane ke baad to isake kaee kaaran batae jaate hain arun chenj hota hai usaka matalab nyaayaadheesh hota hai aur vah nae karata hai abhee bahut badee jimmedaaree hai vah kisee ko kisee kee jindagee usake yahaan to khatm bhee ho sakatee hai ya bach sakatee hai lekin aisa plaan jo hai vah dobaara na isalie kalam tod dee jaatee hai doosaree cheej aisee hai ki us par se usakee nyooz aur jab tod jaatee jaatee hai jise us aparaadhee ko maut likhee sabase aakhiree ka nirnay liya gaya hai aur aisee jo pen hai ya usakee neenv hai usako kisee aur kaam ke lie istemaal nahin kiya ja sake any prakriya dvaara jo yah jo yah nateeja jiya jaata jaata hai vah ratna o kainsil na ho yah bhee ek kaaran usake peechhe hai aur jis par ne kisee ko maut kee saja dee hai us din kee bhee maut ho jisakee jo nevata he nevata isake oopar net karane vaala koee aur nahin hai usaka nirnay javaan teem aana chaahie jaisa ki usake baad mein koee badal na sake isalie jaldee apanee pent kee neemboo tod dete hain dhanyavaad agar mera javaab achchha laga to krpaya mujhe bhee javaab nahin karen dhanyavaad

bolkar speaker
किसी भी कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है?Kisi Bhe Kaidi Ko Fansi Ki Sunane Ke Judge Apna Kalam Kyu Tod Dete Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:41
हेलो फ्रेंड्स आप का प्रश्न है किसी भी कैदी को फांसी की सजा सुनाने के बाद जज अपनी कलम या पेन क्यों तोड़ देते हैं तो जज इसलिए अपनी कलम तोड़ देते हैं क्योंकि वह फांसी की सजा से बुरी कोई सजा नहीं होती तो वह ऐसी सजा ना दे पाए किसी को इसलिए वह कलम को तोड़ देते हैं और उस कलम का कोई दोबारा उपयोग नहीं होता है क्योंकि वह इतनी गंदी सजा है फांसी की सजा उससे बुरी कोई सजा नहीं है इसलिए वह अपनी कलम तोड़ देते हैं ऐसा नियम होता है कि वह अपनी कलम तोड़ देते हैं और वे दुख के कारण कलम तोड़ देते हैं किसी कलम से फांसी की सजा हमने दी है धन्यवाद
Helo phrends aap ka prashn hai kisee bhee kaidee ko phaansee kee saja sunaane ke baad jaj apanee kalam ya pen kyon tod dete hain to jaj isalie apanee kalam tod dete hain kyonki vah phaansee kee saja se buree koee saja nahin hotee to vah aisee saja na de pae kisee ko isalie vah kalam ko tod dete hain aur us kalam ka koee dobaara upayog nahin hota hai kyonki vah itanee gandee saja hai phaansee kee saja usase buree koee saja nahin hai isalie vah apanee kalam tod dete hain aisa niyam hota hai ki vah apanee kalam tod dete hain aur ve dukh ke kaaran kalam tod dete hain kisee kalam se phaansee kee saja hamane dee hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी भी कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है?Kisi Bhe Kaidi Ko Fansi Ki Sunane Ke Judge Apna Kalam Kyu Tod Dete Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:12
नमस्कार आपका सवाल है कि किसी भी कैदी को फांसी की सजा सुनाने के बाद जज अपना कलम क्यों तोड़ देते हैं देखिए यह बहुत पुरानी रीत चली आई है यह जब समझ लीजिए कि यह सजा सुनाने का प्रावधान शुरू हुआ याद आल्टो का प्रावधान शुरू हुआ है जब से यह सजा जब से यह सजा सुनाने के बाद जज अक्सर अपनी पेन की कलम तोड़ देते हैं इसलिए थोड़ी जाती है कि उन्हें भी बहुत दुख होता है कि किसी कैदी को फांसी की सजा सुना रहे हैं और एक व्यक्ति के जीवन का मरण और जीवन का वह निर्णय ले रहे हैं तो इसलिए उन्हें वह क्या करते हैं की फांसी की सजा सुनाने के बाद अपनी कलम तोड़ देते हैं ताकि उस कलम से दोबारा किसी व्यक्ति के लिए फांसी की सजा ना लिखी जाए वह कलम उनके लिए एक तरह से देखा जाए तो वह मनुष्य का नाम है वह व्यक्ति के लिए जिस को सजा सुनाई गई है उसके लिए भी बहुत मनहूस है और जिसके लिए भी सुन मनुष्य समझी जाती है क्योंकि उस जज को वह मजबूरी में अपना फैसला सुनाना पढ़ मैं उस व्यक्ति को फांसी का इसलिए उसको मनु समझ करके तोड़ दिया जाता ताकि आगे से वह कलम किसी व्यक्ति के लिए फांसी की सजा ना लिख सके यह कृत है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki kisee bhee kaidee ko phaansee kee saja sunaane ke baad jaj apana kalam kyon tod dete hain dekhie yah bahut puraanee reet chalee aaee hai yah jab samajh leejie ki yah saja sunaane ka praavadhaan shuroo hua yaad aalto ka praavadhaan shuroo hua hai jab se yah saja jab se yah saja sunaane ke baad jaj aksar apanee pen kee kalam tod dete hain isalie thodee jaatee hai ki unhen bhee bahut dukh hota hai ki kisee kaidee ko phaansee kee saja suna rahe hain aur ek vyakti ke jeevan ka maran aur jeevan ka vah nirnay le rahe hain to isalie unhen vah kya karate hain kee phaansee kee saja sunaane ke baad apanee kalam tod dete hain taaki us kalam se dobaara kisee vyakti ke lie phaansee kee saja na likhee jae vah kalam unake lie ek tarah se dekha jae to vah manushy ka naam hai vah vyakti ke lie jis ko saja sunaee gaee hai usake lie bhee bahut manahoos hai aur jisake lie bhee sun manushy samajhee jaatee hai kyonki us jaj ko vah majabooree mein apana phaisala sunaana padh main us vyakti ko phaansee ka isalie usako manu samajh karake tod diya jaata taaki aage se vah kalam kisee vyakti ke lie phaansee kee saja na likh sake yah krt hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसी भी कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है?Kisi Bhe Kaidi Ko Fansi Ki Sunane Ke Judge Apna Kalam Kyu Tod Dete Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:09
जी हां यह सच है कि फांसी की सजा फांसी की सजा को सुनाने के बाद आज अपना कलम तोड़ देते हैं लेकिन जा तो रहा किसी आदमी की जान वह भी कोई आदमी है वह भी किसी का बेटा है भाई यह पति है पत्नी है तो एक आदमी की जान तो आप ले रहे हो ना डिसीजन आपका सही है कानून के हिसाब से सही है लेकिन जान तो आप ले रहे हो तो वह जान लेने का जो डिसीजन कुछ अच्छा तो नहीं होता कानून के हिसाब से अच्छा है लेकिन ऐसे नॉर्मल में आप देखो तो अच्छा तो नहीं है वह इसलिए कोई भी डिसीजन जब लिया जाता है तो उसको एक नेगेटिव बूटी को दूर करने के लिए या फिर शोक व्यक्त करने के लिए ही मान लीजिए कलम का नीव को तोड़ दिया जाता है क्योंकि आपका डिसीजन जो भी सहयोग कानून के भी उसे लेकिन एक आदमी की जान तो जा रही है बस यही है आप
Jee haan yah sach hai ki phaansee kee saja phaansee kee saja ko sunaane ke baad aaj apana kalam tod dete hain lekin ja to raha kisee aadamee kee jaan vah bhee koee aadamee hai vah bhee kisee ka beta hai bhaee yah pati hai patnee hai to ek aadamee kee jaan to aap le rahe ho na diseejan aapaka sahee hai kaanoon ke hisaab se sahee hai lekin jaan to aap le rahe ho to vah jaan lene ka jo diseejan kuchh achchha to nahin hota kaanoon ke hisaab se achchha hai lekin aise normal mein aap dekho to achchha to nahin hai vah isalie koee bhee diseejan jab liya jaata hai to usako ek negetiv bootee ko door karane ke lie ya phir shok vyakt karane ke lie hee maan leejie kalam ka neev ko tod diya jaata hai kyonki aapaka diseejan jo bhee sahayog kaanoon ke bhee use lekin ek aadamee kee jaan to ja rahee hai bas yahee hai aap

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कैदी को फांसी की सुनाने के जज अपना कलम क्यो तोड़ देते है
URL copied to clipboard