#जीवन शैली

bolkar speaker

बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?

Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:27
हेलो एवरीवन तो आज आप का सवाल है कि बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है तो देखिए सबसे पहले तुझे के कोई इंसान जिस तरह से बातचीत करता है जिस तरह से उसका मतलब है बार होता है मैं पता चल जाता है इंसान किस टाइप का आप अगर किसी इंसान के साथ अच्छे से व्यवहार किए हैं अच्छे से बातचीत किए हैं तो उधर से भी आपको हर एक चीज पॉजिटिव और अच्छे से ही हर चीज आपको रिटर्न में भी मिलता है अब आपको हर एक चीज का माफ करें तो नॉर्मल लाइफ आपको चलेगा आप जैसे हर काम कर रहे लेकिन अगर आप किसी से कुछ उल्टा सीधा बात किए लड़ाई हो गया है उधर से भी कोई इंसान कुछ आपको बोला तो नहीं आप पढ़ाई कर पाएंगे ना ही कोई काम कर पाएंगे आपके दिमाग में बार-बार वही बात ही चलेगी कि वह इंसान मुझे ऐसा क्यों बोला मुझे क्या करना चाहिए या फिर लोग मेरे बारे में क्या सोच रहे होंगे या फिर आज जो हुआ वह सही हुआ या गलत हुआ ऐसे आपको हर एक चीज आपके दिमाग में स्ट्राइक करता रहेगा और आप को हर एक आज बहुत सताएगी कि आपने क्या किया क्या नहीं क्या बात कैसे यह सब चीजों को फेस करेगा कोई भी काम आपका अच्छे से नहीं हो पाएगा ना ही कोई भी काम में आपका मन लग पाएगा तो यह बहुत मतलब बुरा होता कि हर काम में इसका असर देखने के लिए मिलता है इसीलिए कहा जाता है सुबह से लेकर हर एक चीज अपने हिसाब से पर फिट करने की कोशिश करनी चाहिए ऐसे तो गलती इंसान से हुई जाती पर यह कोशिश करना चाहिए बहुत कम गलती हो और हमेशा अपनी तरफ से कुछ अच्छा ही करना चाहिए
Helo evareevan to aaj aap ka savaal hai ki baat kahane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai to dekhie sabase pahale tujhe ke koee insaan jis tarah se baatacheet karata hai jis tarah se usaka matalab hai baar hota hai main pata chal jaata hai insaan kis taip ka aap agar kisee insaan ke saath achchhe se vyavahaar kie hain achchhe se baatacheet kie hain to udhar se bhee aapako har ek cheej pojitiv aur achchhe se hee har cheej aapako ritarn mein bhee milata hai ab aapako har ek cheej ka maaph karen to normal laiph aapako chalega aap jaise har kaam kar rahe lekin agar aap kisee se kuchh ulta seedha baat kie ladaee ho gaya hai udhar se bhee koee insaan kuchh aapako bola to nahin aap padhaee kar paenge na hee koee kaam kar paenge aapake dimaag mein baar-baar vahee baat hee chalegee ki vah insaan mujhe aisa kyon bola mujhe kya karana chaahie ya phir log mere baare mein kya soch rahe honge ya phir aaj jo hua vah sahee hua ya galat hua aise aapako har ek cheej aapake dimaag mein straik karata rahega aur aap ko har ek aaj bahut sataegee ki aapane kya kiya kya nahin kya baat kaise yah sab cheejon ko phes karega koee bhee kaam aapaka achchhe se nahin ho paega na hee koee bhee kaam mein aapaka man lag paega to yah bahut matalab bura hota ki har kaam mein isaka asar dekhane ke lie milata hai iseelie kaha jaata hai subah se lekar har ek cheej apane hisaab se par phit karane kee koshish karanee chaahie aise to galatee insaan se huee jaatee par yah koshish karana chaahie bahut kam galatee ho aur hamesha apanee taraph se kuchh achchha hee karana chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
2:54
देने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है जब आप सही तरीके से रोजाना सीख ले तो आप अपने दिमाग में शहद लगाने वाली हर चीज की जांच करने की आदत आसानी से खुद-ब-खुद डाल सकते हैं यह देख सकते हैं की जानकारी या फिर तथ्य आप अपने दिमाग के उन सारे इंद्रिय गत छवियों को दूर रखना सीख लेंगे जो तत्वों के बजाय पूर्वाग्रह नफरत क्रोध पक्षपात और अन्य झूठे स्त्रोतों से उत्पन्न होती है आप तथ्यों को दो समूहों में विभाजित करना सीख लेंगे प्रासंगिक और अप्रासंगिक या महत्वपूर्ण या महत्वहीन आप सीखेंगे की कि कैसे महत्वपूर्ण तथ्यों को चुनकर व्यवस्थित करना है और उन्हें एक आदर्श निर्णय या कार्य योजना में बदलना है आपको इस प्रश्न को बड़े ध्यान से समझना होगा आप सीखेंगे कि आप जो भी पढ़ते हैं जो भी बोलते हैं मीडिया के जरिए जो भी देखते हैं उसका विश्लेषण कैसे करें आवश्यक अनुमान कैसे लगाएं ज्ञात तत्वों से अज्ञात की ओर तर्क कैसे करें एक अच्छी तरह से संतुलित निष्कर्ष पर कैसे पहुंचे जो पूर्वाग्रह के रंग में रंगा हो या केवल जानकारी पर आधारित में हो जिसकी आपने सावधानी से जांच नहीं की थी जब आप यह समझ ले लेते हैं कि सही तरीके से सोचा कैसे जाता है तो आप यह सीखेंगे कि दूसरों को कई कई बातों से इसी प्रक्रिया से गुजारे क्योंकि इससे आप सत्य को सत्य के ज्यादा करीब पहुंचेंगे आप से कहेंगे कि किसी भी चीज के तत्व के रूप में जब तक स्वीकार नहीं करना तब तक कि आप को बुद्धि से मेल नहीं खाती और विभिन्न जांचों में खरी नहीं उतरती दमदार चिंतक हर उस चीज की जांच पड़ताल करता है जो उसके दिमाग में शहद लगाने की कोशिश करती है आप यही कहेंगे कि एक व्यक्ति दूसरे के बारे में जो भी कहता है और उससे तब तक प्रभावित नहीं होता जब तक वह अपने आप को कथन को तेज तोड़ डाले उसकी जांच न कर ले सही सोच कर ज्ञात सिद्धांतों के अनुरूप यह बताने लगा देगी कि यह कथन झूठा है सच्चा अगर वैज्ञानिक सोच आपके लिए सब कर सकती है तो यह एक वार्षिक गुण है है ना इतना सब औरतें इससे भी ज्यादा भी है करेगी बेशर्त आप तुलनात्मक रूप से उनका सांसद यादों को समझ लें जिनके जरिए सही विचार उत्पन्न होता है इसीलिए बात सोच समझ कर बोलें क्योंकि आपके सभी कुछ महान विचार बदल आगे अग्रसर रहो के लिए होते हैं जय हिंद जय भारत सभी मित्रों को धन्यवाद
Dene ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai jab aap sahee tareeke se rojaana seekh le to aap apane dimaag mein shahad lagaane vaalee har cheej kee jaanch karane kee aadat aasaanee se khud-ba-khud daal sakate hain yah dekh sakate hain kee jaanakaaree ya phir tathy aap apane dimaag ke un saare indriy gat chhaviyon ko door rakhana seekh lenge jo tatvon ke bajaay poorvaagrah napharat krodh pakshapaat aur any jhoothe stroton se utpann hotee hai aap tathyon ko do samoohon mein vibhaajit karana seekh lenge praasangik aur apraasangik ya mahatvapoorn ya mahatvaheen aap seekhenge kee ki kaise mahatvapoorn tathyon ko chunakar vyavasthit karana hai aur unhen ek aadarsh nirnay ya kaary yojana mein badalana hai aapako is prashn ko bade dhyaan se samajhana hoga aap seekhenge ki aap jo bhee padhate hain jo bhee bolate hain meediya ke jarie jo bhee dekhate hain usaka vishleshan kaise karen aavashyak anumaan kaise lagaen gyaat tatvon se agyaat kee or tark kaise karen ek achchhee tarah se santulit nishkarsh par kaise pahunche jo poorvaagrah ke rang mein ranga ho ya keval jaanakaaree par aadhaarit mein ho jisakee aapane saavadhaanee se jaanch nahin kee thee jab aap yah samajh le lete hain ki sahee tareeke se socha kaise jaata hai to aap yah seekhenge ki doosaron ko kaee kaee baaton se isee prakriya se gujaare kyonki isase aap saty ko saty ke jyaada kareeb pahunchenge aap se kahenge ki kisee bhee cheej ke tatv ke roop mein jab tak sveekaar nahin karana tab tak ki aap ko buddhi se mel nahin khaatee aur vibhinn jaanchon mein kharee nahin utaratee damadaar chintak har us cheej kee jaanch padataal karata hai jo usake dimaag mein shahad lagaane kee koshish karatee hai aap yahee kahenge ki ek vyakti doosare ke baare mein jo bhee kahata hai aur usase tab tak prabhaavit nahin hota jab tak vah apane aap ko kathan ko tej tod daale usakee jaanch na kar le sahee soch kar gyaat siddhaanton ke anuroop yah bataane laga degee ki yah kathan jhootha hai sachcha agar vaigyaanik soch aapake lie sab kar sakatee hai to yah ek vaarshik gun hai hai na itana sab auraten isase bhee jyaada bhee hai karegee beshart aap tulanaatmak roop se unaka saansad yaadon ko samajh len jinake jarie sahee vichaar utpann hota hai iseelie baat soch samajh kar bolen kyonki aapake sabhee kuchh mahaan vichaar badal aage agrasar raho ke lie hote hain jay hind jay bhaarat sabhee mitron ko dhanyavaad

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:42
नमस्कार दोस्तों आप का प्रेस नहीं बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है दोस्तों हमारा व्यवहार इस इस इस दुनिया में सर्वोपरि है सबसे ऊपर है जिसका व्यवहार अच्छा होता है जिसका बोलने का ढंग अच्छा होता है तो वह दैनिक जीवन में सभी को प्रभावित कर सकता है दोस्तों अपनी वाणी में अपनी भाषा में मिठास लाना मधुरता लाना और कोमलता से बात करना हर किसी को आकर्षित करता है वैसे ही हम सब को करना चाहिए यदि हम सभी को प्रभावित करना चाहती है अपनी और आकर्षित करना चाहते हैं तो हमें सभी के साथ कुछ व्यवहार बदलने होंगे हमारा जो बात कहने का तरीका है लेजा है आओ भंगिमा है उन पर हमें ध्यान देना होता है और दूसरे की मन की बात करने वाली की नजरों की नजरों में हमारी नजरें मिलाकर यदि उनसे बात करते हैं और अपने हाथों के हाव भाव के साथ प्रभु की कोमलता के साथ बातें करते हैं कम ही सही लेकिन बहुत ही मीठा बोलने पर सभी लोग अपनी और आकर्षित होंगे और उनके जीवन में ही नहीं बल्कि आप अपने जीवन में भी प्रभाविता का रंग जो है वह भर देंगे तो दोस्तों यह बात बिल्कुल सही है बात कहने के तरीके से जीवन हमारा तो है दैनिक जीवन को प्रभावित होता है चाहे अपने स्वयं का हो चाहे दूसरों का हो और दोस्तों अच्छी आदतें अपनाने मधुरता मधुर बोलने भाषा का अच्छा व्यवहार करने और वाणी को सोच समझकर बोलने से हमें खुद को ही लाभ है और दूसरों को भी लाभ होता है धन्यवाद
Namaskaar doston aap ka pres nahin baat kahane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai doston hamaara vyavahaar is is is duniya mein sarvopari hai sabase oopar hai jisaka vyavahaar achchha hota hai jisaka bolane ka dhang achchha hota hai to vah dainik jeevan mein sabhee ko prabhaavit kar sakata hai doston apanee vaanee mein apanee bhaasha mein mithaas laana madhurata laana aur komalata se baat karana har kisee ko aakarshit karata hai vaise hee ham sab ko karana chaahie yadi ham sabhee ko prabhaavit karana chaahatee hai apanee aur aakarshit karana chaahate hain to hamen sabhee ke saath kuchh vyavahaar badalane honge hamaara jo baat kahane ka tareeka hai leja hai aao bhangima hai un par hamen dhyaan dena hota hai aur doosare kee man kee baat karane vaalee kee najaron kee najaron mein hamaaree najaren milaakar yadi unase baat karate hain aur apane haathon ke haav bhaav ke saath prabhu kee komalata ke saath baaten karate hain kam hee sahee lekin bahut hee meetha bolane par sabhee log apanee aur aakarshit honge aur unake jeevan mein hee nahin balki aap apane jeevan mein bhee prabhaavita ka rang jo hai vah bhar denge to doston yah baat bilkul sahee hai baat kahane ke tareeke se jeevan hamaara to hai dainik jeevan ko prabhaavit hota hai chaahe apane svayan ka ho chaahe doosaron ka ho aur doston achchhee aadaten apanaane madhurata madhur bolane bhaasha ka achchha vyavahaar karane aur vaanee ko soch samajhakar bolane se hamen khud ko hee laabh hai aur doosaron ko bhee laabh hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
1:19
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है कि बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है आपको बताना चाहूंगा कि यदि हमारी बात कहने के तरीके में अधिकता और स्पष्ट है और मधुरता भी है तो इससे हमारी बात का विशेष महत्व रहता है और दो हमारी बात को सुनते भी इसलिए बात का स्पष्ट कहना और इसी तरीके से कहना हमारी बातें अच्छा माना जाता है मदन पर बहुत ही प्रभाव पड़ता हमारे जीवन ही बदल जाते हैं क्योंकि हम बोलेंगे तो सिर्फ हमें अच्छा लगेगा बल्कि दूसरे लोगों को भी सुनना पसंद आएगा और लोग हमें चाहिए या नहीं करेंगे बल्कि लोग सेवन से प्रेरित होंगे और हमसे बात भी करेंगे लोग हमें मदद भी करेंगे हम भी उनकी मदद के बाद में हम कुछ कही तो उसमें स्पर्ता और मधुरता दो ना होना बहुत प्यार से ही हम बात को अच्छी प्रकार से कह सकते हैं और सामने वाले से समझ सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya hai ki baat kahane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai aapako bataana chaahoonga ki yadi hamaaree baat kahane ke tareeke mein adhikata aur spasht hai aur madhurata bhee hai to isase hamaaree baat ka vishesh mahatv rahata hai aur do hamaaree baat ko sunate bhee isalie baat ka spasht kahana aur isee tareeke se kahana hamaaree baaten achchha maana jaata hai madan par bahut hee prabhaav padata hamaare jeevan hee badal jaate hain kyonki ham bolenge to sirph hamen achchha lagega balki doosare logon ko bhee sunana pasand aaega aur log hamen chaahie ya nahin karenge balki log sevan se prerit honge aur hamase baat bhee karenge log hamen madad bhee karenge ham bhee unakee madad ke baad mein ham kuchh kahee to usamen sparta aur madhurata do na hona bahut pyaar se hee ham baat ko achchhee prakaar se kah sakate hain aur saamane vaale se samajh sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:23
बात करने के तरीके से दैनिक जीवन में अच्छा प्रभाव पड़ता है जैसे कि किसी व्यक्ति को विचारों को स्पष्ट करने से तथा प्रसन्न बताने के लिए तथा विचार को जानने के लिए और शिक्षक कौन सा पार्टियों के साथ आपस में बात की 12 नई बातें सीखने को मिलती है
Baat karane ke tareeke se dainik jeevan mein achchha prabhaav padata hai jaise ki kisee vyakti ko vichaaron ko spasht karane se tatha prasann bataane ke lie tatha vichaar ko jaanane ke lie aur shikshak kaun sa paartiyon ke saath aapas mein baat kee 12 naee baaten seekhane ko milatee hai

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Vikash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
1:28

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Yogi Prashant Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Yogi जी का जवाब
Businessman
2:54
मेरे दोस्त रमेश हमेशा ही निराशाजनक बातें करता है और वही संजय की बात करें तो जब भी मैं उससे बात करता हूं तो मुझे कहीं ना कहीं एक ओर जा एक सकारात्मकता मिलती है कुछ नया सीखने को मिलता है कुछ नए रास्ते खुल जाते हैं मेरे जीवन में जब भी कोई समस्या आती है तो वह हमेशा संजय से बात जरूर करता हूं ताकि उससे जब बात करता हूं तो मुझे खुद में कुछ न कुछ ऐसा तरीका मिल जाता है अपने जीवन में अपने जीवन में हो रही समस्या से बाहर निकल कर देखा तो फर्क कितना बड़ा है सिर्फ बातों का ही है हम अपने बातों के महत्व को नहीं समझते जब हम किसी से कुछ बात करते हैं बोलते हैं तो हम इसे नजरअंदाज कर देते हैं कि यह हमारे बोलने की भी एक कीमत होती है जो हमारी कीमत को बदामा बनाती है बढ़ाते हैं हम किसी को धन या कोई संप्रदा नहीं दे कोई बात नहीं लेकिन कम से कम इतने गरीब तो नहीं बनी है कि आप किसी से अच्छी बात अपने अच्छे विचार अच्छी तरीके से व्यवहार ना कर सके जो व्यक्ति अच्छे तरीके से अपने बातों को अच्छी तरीके से नहीं कह सकता वह सबसे ज्यादा गरीब है और जो अपने बातों को बहुत अच्छे तरीके से कह सकता है रख सकता है उस से बढ़कर कोई अमीर नहीं क्योंकि शब्द ऐसे कह सकते औषधीय जो बड़े से बड़े झटकों को भी भर देता है और वही अगर इसके विपरीत की बात करें तो बहुत ही कह सकते हैं बड़े से बड़े जतिन को भी एक दे सकता है आपको भी कुछ ऐसे तीखे शब्दों होते हैं जिसको सुनकर आप खुद बहुत ज्यादा गुस्से में आ जाते हैं बहुत ज्यादा निराशाजनक हो जाता हताश हो जाते तो हमें इसका महत्व समझे जवाब समझ कर कुछ कहने से पहले थोड़ा रुक लेट है रे और एक लंबी गहरी सांस लें और सोचे जो मैं कहने वाला हूं उसका क्या प्रभाव पड़ेगा यकीनन शब्द या बोलने की जो कला है वह हमारे जीवन को प्रभावित करती है हमें समाज में इज्जत भी देती है और हमें अपने प्रमाणित भी करती है इसलिए मैं यही कहूंगा कि जब भी आपको कुछ कहे तो एक बार जरूर ऐड कर एक नंबर 230 सेकंड की डेट है उसके बाद सोचे और फिर उस बात को कहें एक बार अपने मन में ही अंदाजा लगा ले कि जॉब कह रहे हैं उसका क्या प्रभाव पड़ेगा क्या यह बताएगा या किसी की किसी की भला होगा किसी का बुरा होगा तब आप पाएंगे कि आप में एक अलग ही आपका एक व्यक्ति करके आपका परिचय एक अलग अलग व्यक्तित्व
Mere dost ramesh hamesha hee niraashaajanak baaten karata hai aur vahee sanjay kee baat karen to jab bhee main usase baat karata hoon to mujhe kaheen na kaheen ek or ja ek sakaaraatmakata milatee hai kuchh naya seekhane ko milata hai kuchh nae raaste khul jaate hain mere jeevan mein jab bhee koee samasya aatee hai to vah hamesha sanjay se baat jaroor karata hoon taaki usase jab baat karata hoon to mujhe khud mein kuchh na kuchh aisa tareeka mil jaata hai apane jeevan mein apane jeevan mein ho rahee samasya se baahar nikal kar dekha to phark kitana bada hai sirph baaton ka hee hai ham apane baaton ke mahatv ko nahin samajhate jab ham kisee se kuchh baat karate hain bolate hain to ham ise najarandaaj kar dete hain ki yah hamaare bolane kee bhee ek keemat hotee hai jo hamaaree keemat ko badaama banaatee hai badhaate hain ham kisee ko dhan ya koee samprada nahin de koee baat nahin lekin kam se kam itane gareeb to nahin banee hai ki aap kisee se achchhee baat apane achchhe vichaar achchhee tareeke se vyavahaar na kar sake jo vyakti achchhe tareeke se apane baaton ko achchhee tareeke se nahin kah sakata vah sabase jyaada gareeb hai aur jo apane baaton ko bahut achchhe tareeke se kah sakata hai rakh sakata hai us se badhakar koee ameer nahin kyonki shabd aise kah sakate aushadheey jo bade se bade jhatakon ko bhee bhar deta hai aur vahee agar isake vipareet kee baat karen to bahut hee kah sakate hain bade se bade jatin ko bhee ek de sakata hai aapako bhee kuchh aise teekhe shabdon hote hain jisako sunakar aap khud bahut jyaada gusse mein aa jaate hain bahut jyaada niraashaajanak ho jaata hataash ho jaate to hamen isaka mahatv samajhe javaab samajh kar kuchh kahane se pahale thoda ruk let hai re aur ek lambee gaharee saans len aur soche jo main kahane vaala hoon usaka kya prabhaav padega yakeenan shabd ya bolane kee jo kala hai vah hamaare jeevan ko prabhaavit karatee hai hamen samaaj mein ijjat bhee detee hai aur hamen apane pramaanit bhee karatee hai isalie main yahee kahoonga ki jab bhee aapako kuchh kahe to ek baar jaroor aid kar ek nambar 230 sekand kee det hai usake baad soche aur phir us baat ko kahen ek baar apane man mein hee andaaja laga le ki job kah rahe hain usaka kya prabhaav padega kya yah bataega ya kisee kee kisee kee bhala hoga kisee ka bura hoga tab aap paenge ki aap mein ek alag hee aapaka ek vyakti karake aapaka parichay ek alag alag vyaktitv

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:49
नमस्कार सुधा हमारा जीवन होता है हमारा जो मूड होता है वह हमारे आसपास के सोसाइटी से काफी प्रभावित होते हैं अगर हमारे आसपास सारे ऐसे लोग रहते हैं जो मुंह बनाकर घूमते रहते हैं जो हमें इनकी नाक पर गुस्सा चढ़ा रहता है आपका भी मूड ज्यादा अच्छा नहीं होगा तो वैसे ही अगर आप अच्छा बोलते हो बात करने का तरीका अच्छा है आप अपने आसपास के लोग को खुश रखते हैं तो आपका भी मूड अच्छा बना रहेगा क्योंकि जब आपके आसपास के लोग खुश होंगे वह इस्माइल करेंगे तो आपके पेज पर भी अपने आप ही स्माइल आ जाएगी साथी जब कोई खुश होता है आसपास के लोगों को वाइफ क्रिएट होती है जिससे आप खुश रहते हैं आपका मन अच्छा रहता आप जो भी काम करना चाहते हैं वह भी आप आप इस तरीके से कर पाते हैं
Namaskaar sudha hamaara jeevan hota hai hamaara jo mood hota hai vah hamaare aasapaas ke sosaitee se kaaphee prabhaavit hote hain agar hamaare aasapaas saare aise log rahate hain jo munh banaakar ghoomate rahate hain jo hamen inakee naak par gussa chadha rahata hai aapaka bhee mood jyaada achchha nahin hoga to vaise hee agar aap achchha bolate ho baat karane ka tareeka achchha hai aap apane aasapaas ke log ko khush rakhate hain to aapaka bhee mood achchha bana rahega kyonki jab aapake aasapaas ke log khush honge vah ismail karenge to aapake pej par bhee apane aap hee smail aa jaegee saathee jab koee khush hota hai aasapaas ke logon ko vaiph kriet hotee hai jisase aap khush rahate hain aapaka man achchha rahata aap jo bhee kaam karana chaahate hain vah bhee aap aap is tareeke se kar paate hain

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:57
आपका प्रश्न है की बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है यह बहुत महत्वपूर्ण प्रश्न है और हर व्यक्ति को इस बात को जरूर समझना चाहिए आप जानते हैं हमारे हिंदी के अंदर एक मुहावरा है कि काम ऐसे करो कि सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे इसका मतलब क्या हुआ काम भी हो जाए और रिश्ते भी सही सलामत रहे किसी व्यक्ति को अगर आपको कोई बात कहनी है उसी बात को आप दो तरीके से कह सकते हैं बात कहना जरूरी है पर आपको लगता है कि नहीं यह कहना ही होगा तो आप उसे 2 तरीके से क्या करते हैं एक आप उसको सब भी भाषा में और सीधे तरीके से आप किसी को वही बात कहें मैं आपको एक छोटा सा उदाहरण देना चाहता हूं एक बच्चा है जो पढ़ाई नहीं कर अब उसको समझाने के दो तरीके हो सकते हैं एक आप उसे थप्पड़ मार कर कहे कि पढ़ एक आप उसको प्यार से समझा के कि नहीं तू पढ़ाई नहीं करेगा तो तेरे को क्या क्या नुकसान हो सकता है तू क्लास में पी तेरे जाएगा बाकी बच्चे आगे निकल जाएंगे आप अच्छा पढ़ाई करोगे तो आप भी जीवन में आगे बढ़ो गे आप अच्छे डॉक्टर बनोगे आप अच्छे इंजीनियर बनोगे आप ऐसे भी क्या सकते हैं और आप उसे थप्पड़ मार कर भी क्या सकते तो यही है की बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन इस तरह से प्रभावित होता है अगर आप ने क्रोधित होकर के गाली गलौज करके असभ्य भाषा में अगर आप अपने परिवार में समाज में या आप जिस संगठन में काम कर रहे हैं वहां पर चाहे आप राजनीति में हैं आप वही बात को गलत तरीके से कहते हैं और अगर उसी बात को आप सभी भाषा में बोलते हैं तो आपके बारे में भी संदेश अच्छा जाएगा और वातावरण भी अच्छा रहेगा धन्यवाद
Aapaka prashn hai kee baat kahane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai yah bahut mahatvapoorn prashn hai aur har vyakti ko is baat ko jaroor samajhana chaahie aap jaanate hain hamaare hindee ke andar ek muhaavara hai ki kaam aise karo ki saamp bhee mar jae aur laathee bhee na toote isaka matalab kya hua kaam bhee ho jae aur rishte bhee sahee salaamat rahe kisee vyakti ko agar aapako koee baat kahanee hai usee baat ko aap do tareeke se kah sakate hain baat kahana jarooree hai par aapako lagata hai ki nahin yah kahana hee hoga to aap use 2 tareeke se kya karate hain ek aap usako sab bhee bhaasha mein aur seedhe tareeke se aap kisee ko vahee baat kahen main aapako ek chhota sa udaaharan dena chaahata hoon ek bachcha hai jo padhaee nahin kar ab usako samajhaane ke do tareeke ho sakate hain ek aap use thappad maar kar kahe ki padh ek aap usako pyaar se samajha ke ki nahin too padhaee nahin karega to tere ko kya kya nukasaan ho sakata hai too klaas mein pee tere jaega baakee bachche aage nikal jaenge aap achchha padhaee karoge to aap bhee jeevan mein aage badho ge aap achchhe doktar banoge aap achchhe injeeniyar banoge aap aise bhee kya sakate hain aur aap use thappad maar kar bhee kya sakate to yahee hai kee baat kahane ke tareeke se dainik jeevan is tarah se prabhaavit hota hai agar aap ne krodhit hokar ke gaalee galauj karake asabhy bhaasha mein agar aap apane parivaar mein samaaj mein ya aap jis sangathan mein kaam kar rahe hain vahaan par chaahe aap raajaneeti mein hain aap vahee baat ko galat tareeke se kahate hain aur agar usee baat ko aap sabhee bhaasha mein bolate hain to aapake baare mein bhee sandesh achchha jaega aur vaataavaran bhee achchha rahega dhanyavaad

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:21

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Satya Prajapati. Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Satya जी का जवाब
Student.
0:43

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है बात करने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है लेकिन जब भी हम किसी से बात करते हैं कोई वार्तालाप करते हैं तो उसकी जो होती है वह कई कंडीशन होती है फ्रेंड बात करने का कईला राजा होता है कई कंडीशन होता है आपको यह देखना पड़ता है कि बात क्या हो रही है किस कंडीशन में हो रही है कौन सी परिस्थिति है और इस परिस्थिति में कौन से शब्दों का प्रयोग करना चाहिए अगर आप फ्रेंड अक्सर ऐसा देखा जाता है कि सुख के वक्त नहीं जब किसी के यहां सब को उस वक्त नहीं होता तो आप सुख में ही बात को अपने व्यक्त करते हैं लेकिन अगर समय में अगर आप थोड़ा सा अपने फेस पर स्माइल रखिए और थोड़ा सा खुशहाल में जा से किसी भी बात को करते हैं परंतु वह बात एक से एक परसेंट फ्रेंड सही होता है और स्वीकार में ले लिया जाता है आपका काम किसी भी प्रकार से नहीं रुकता प्रेम जैसे कि आप ऐसी कोई बात करनी हो फिर और आपने उसे उत्तेजना में बोल दिया कि यह काम कर दो ठीक है फिर मैंने माली जी किसी को बोलना है कि मुझे अपनी गाड़ी दे दो तो अगर मैं उसे बोलता हूं कि मुझे अपनी गाड़ी दे दो यानी की आय का देश में देता हूं मुझे अपनी गाड़ी दे दो ठीक है फ्रेंड और जला कर बोलता हूं वह काम मेरा सक्सेसफुल नहीं होगा लेकिन अगर आप ऐसा बोलते हैं कि भाई जी या फिर और जो रिलेशन लगते हो आपके चाचा जी मुझे थोड़ा सा काम है आ क्या आप अपनी गाड़ी दे सकते हैं थोड़ा सा फेस पर स्माइल सके तो दांत देखेगा कि आपका सेवर है वह काम जो है वह हो जाएगा कैटेगरी होती है किसी के साथ जो है और नम्रता एक ऐसा भाव होता है फ्रेंड की आपको हार्दिक चीज में जो है वह सफलता की प्राप्ति दिलाता सेट किसी के सामने बाप बन के जाएंगे किसी के सामने जलाकर जाएंगे किसी के सामने एक गुंडे मवाली की तरह जाएंगे तो आपका काम नहीं होगा प्रेम नम्रता से प्यार से जब किसी से कोई बात कहेंगे तो आपको काम जरूर से जरूर होगा और ऐसे ही कोई बात अगर हमारे दैनिक जीवन में कभी हो जाती है सुबह के वक्त तो समझ लीजिए कि पूरा दिन जो है माइंड डिस्टर्ब ही रहता है तो ऐसा किसी से ना बोले किसी से बोले तो प्यार से बोले प्रेम पूर्वक बोले फ्रेंड वह अलग की बात है आपका काम बने या ना बने लेकिन इतना स्लो रहता की कंडीशन प्रभाव ज्यादा रहता है कि आपका काम जो है वह प्यार से अगर बोलेंगे तो वह हो जाएगा आशा है कि आप सभी को या जवाब पसंद आया होगा शुक्रिया
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai baat karane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai lekin jab bhee ham kisee se baat karate hain koee vaartaalaap karate hain to usakee jo hotee hai vah kaee kandeeshan hotee hai phrend baat karane ka kaeela raaja hota hai kaee kandeeshan hota hai aapako yah dekhana padata hai ki baat kya ho rahee hai kis kandeeshan mein ho rahee hai kaun see paristhiti hai aur is paristhiti mein kaun se shabdon ka prayog karana chaahie agar aap phrend aksar aisa dekha jaata hai ki sukh ke vakt nahin jab kisee ke yahaan sab ko us vakt nahin hota to aap sukh mein hee baat ko apane vyakt karate hain lekin agar samay mein agar aap thoda sa apane phes par smail rakhie aur thoda sa khushahaal mein ja se kisee bhee baat ko karate hain parantu vah baat ek se ek parasent phrend sahee hota hai aur sveekaar mein le liya jaata hai aapaka kaam kisee bhee prakaar se nahin rukata prem jaise ki aap aisee koee baat karanee ho phir aur aapane use uttejana mein bol diya ki yah kaam kar do theek hai phir mainne maalee jee kisee ko bolana hai ki mujhe apanee gaadee de do to agar main use bolata hoon ki mujhe apanee gaadee de do yaanee kee aay ka desh mein deta hoon mujhe apanee gaadee de do theek hai phrend aur jala kar bolata hoon vah kaam mera saksesaphul nahin hoga lekin agar aap aisa bolate hain ki bhaee jee ya phir aur jo rileshan lagate ho aapake chaacha jee mujhe thoda sa kaam hai aa kya aap apanee gaadee de sakate hain thoda sa phes par smail sake to daant dekhega ki aapaka sevar hai vah kaam jo hai vah ho jaega kaitegaree hotee hai kisee ke saath jo hai aur namrata ek aisa bhaav hota hai phrend kee aapako haardik cheej mein jo hai vah saphalata kee praapti dilaata set kisee ke saamane baap ban ke jaenge kisee ke saamane jalaakar jaenge kisee ke saamane ek gunde mavaalee kee tarah jaenge to aapaka kaam nahin hoga prem namrata se pyaar se jab kisee se koee baat kahenge to aapako kaam jaroor se jaroor hoga aur aise hee koee baat agar hamaare dainik jeevan mein kabhee ho jaatee hai subah ke vakt to samajh leejie ki poora din jo hai maind distarb hee rahata hai to aisa kisee se na bole kisee se bole to pyaar se bole prem poorvak bole phrend vah alag kee baat hai aapaka kaam bane ya na bane lekin itana slo rahata kee kandeeshan prabhaav jyaada rahata hai ki aapaka kaam jo hai vah pyaar se agar bolenge to vah ho jaega aasha hai ki aap sabhee ko ya javaab pasand aaya hoga shukriya

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:12
नमस्कार आपका प्रश्न है की बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है यह बात सही है कि कुछ बातें हम लोग जब दूसरों से कहते हैं या करते हैं तो हमारा बात करने का अंदाज बहुत सॉफ्ट बहुत नरम और बहुत आराम से होना चाहिए क्योंकि अगर हम किसी से चिल्ला कर के बात करते हैं यार तेज आवाज में डांट कर या बहुत गुस्से से बोल से क्या होता है कि हमारा दैनिक जीवन वाक्य में प्रभावित होता है हम लोग चिड़चिड़ा हो जाते हैं हम लोग का स्वभाव बदल जाता है हर बात में गुस्सा आएगा हर बात में किसी को कुछ ना कुछ अपशब्द बोलना या कोई ना कोई हमसे गलती हो जाना है या कोई ना कोई नुकसान हो जाना यह सब गलतियां फिर दैनिक जी होना शुरू हो जाती हैं तो इसलिए बात कहना और बात करने का एक तरीका होता है अगर बात आराम से की जाएगी तरीके से की जाएगी और शांत दिमाग से की जाएगी तो सामने वाला भी हमारी बात को समझेगा और दूसरा क्या कभी भी हमसे कोई गलती नहीं होगी हमारा स्वभाव शांत रहेगा हम चिड़चिड़ा नहीं होंगे हम से कोई नुकसान भी नहीं होगा यह वाक्य में फैक्टेक यहां वाक्य में बात कहने की और पढ़ने के तरीके बहुत मायने रखते हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai kee baat kahane ke tareeke se dainik jeevan kaise prabhaavit hota hai yah baat sahee hai ki kuchh baaten ham log jab doosaron se kahate hain ya karate hain to hamaara baat karane ka andaaj bahut sopht bahut naram aur bahut aaraam se hona chaahie kyonki agar ham kisee se chilla kar ke baat karate hain yaar tej aavaaj mein daant kar ya bahut gusse se bol se kya hota hai ki hamaara dainik jeevan vaaky mein prabhaavit hota hai ham log chidachida ho jaate hain ham log ka svabhaav badal jaata hai har baat mein gussa aaega har baat mein kisee ko kuchh na kuchh apashabd bolana ya koee na koee hamase galatee ho jaana hai ya koee na koee nukasaan ho jaana yah sab galatiyaan phir dainik jee hona shuroo ho jaatee hain to isalie baat kahana aur baat karane ka ek tareeka hota hai agar baat aaraam se kee jaegee tareeke se kee jaegee aur shaant dimaag se kee jaegee to saamane vaala bhee hamaaree baat ko samajhega aur doosara kya kabhee bhee hamase koee galatee nahin hogee hamaara svabhaav shaant rahega ham chidachida nahin honge ham se koee nukasaan bhee nahin hoga yah vaaky mein phaiktek yahaan vaaky mein baat kahane kee aur padhane ke tareeke bahut maayane rakhate hain dhanyavaad

bolkar speaker
बात कहने के तरीके से दैनिक जीवन कैसे प्रभावित होता है?Bat Kehne Ke Tareeke Se Dainik Jeevan Kaise Prabhavit Hota Hai
mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
1:08
आपका सवाल है बात करने के तरीके से दैनिक जीवन में कैसे प्रभावित होते हैं यदि हम किसी को इस जमाने में देखा जाए तो यदि कोई दिमाग से बात करें तो 19 लोग प्रभावित होते हैं जो दिल से बात करें मुझसे नाराज हो जाते हैं परंतु सत्य तो यह है कि जो दिल से बात करता है वह दिल का साफ होता है जिसे चाहे उसे सही कह दी तो दिल से कह रहा है दिमाग से नहीं और जो दिमाग से करता है वह कभी सत्य नहीं बोलता वह बस आप को इंप्रेस करने में लगा रहता है वह सब दिखावटी बनावट ही बस इन्हीं में ध्यान देता है किंतु उन्हें चुरा में इंटरेस्ट नहीं रहता तो हमें जमाने के अनुसार आजादी हम चले तो माइंड से गुना से बोलना चाहिए तभी आप लोगों कॉन्फ्रेंस कर पाएंगे यदि आप अपने दिल से बात की तो आपको लोग पागल समझ सकते हैं थैंक यू
Aapaka savaal hai baat karane ke tareeke se dainik jeevan mein kaise prabhaavit hote hain yadi ham kisee ko is jamaane mein dekha jae to yadi koee dimaag se baat karen to 19 log prabhaavit hote hain jo dil se baat karen mujhase naaraaj ho jaate hain parantu saty to yah hai ki jo dil se baat karata hai vah dil ka saaph hota hai jise chaahe use sahee kah dee to dil se kah raha hai dimaag se nahin aur jo dimaag se karata hai vah kabhee saty nahin bolata vah bas aap ko impres karane mein laga rahata hai vah sab dikhaavatee banaavat hee bas inheen mein dhyaan deta hai kintu unhen chura mein intarest nahin rahata to hamen jamaane ke anusaar aajaadee ham chale to maind se guna se bolana chaahie tabhee aap logon konphrens kar paenge yadi aap apane dil se baat kee to aapako log paagal samajh sakate hain thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दैनिक जीवन दैनिक जीवन को प्रभावित करने का तरीका
URL copied to clipboard