#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:09
1000 का सवाल है कि यदि 13 महामारी के दिनों में मंदिर जाती है या पूजा पाठ करके तो उसे भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है तो देखिए महामारी मतलब बहुत प्रकार की होती है जैसे कि जो भी यह बीमारी वायरस के लक्षण अलग-अलग होती है मतलब के कुछ आवाज रस आपको मतलब आप इंसान के थ्रू फैलता है कुछ हवा के थ्रू फैलता है तो ऐसे बहुत सारे ऐसे वायरस हो तो महामारी की बात करें तो अगर मंदिर में भीड़ भाड़ है या फिर मतलब टच करके जो सीढ़ियों हो जाते हैं और अगर कोई इनफेक्टेड इंसान मतलब आया होगा और वह भी टच किया होगा तो आपको हो सकता है और भविष्य में नहीं अभी से ही आपको इसके सेंटेंस और अभी से ही आपकी तबीयत खराब होने लगेंगे क्योंकि कोई भी अब हमारी कोई भी वायरल सेशन कि अभी आप को हुआ है हम आपको मतलब आगे चलकर पता चलेगा यह महामारी की बात करें तो आपको वक्त ही पता चलता है कि क्या हुआ क्या नहीं है इंसटेंट मतलब फैलता है और आपको पता चलता है तो अगर आपको ऐसे रिस्क है कि अगर आप ऐसे सब जगह जाएंगे क्योंकि मंदिर हो गया मस्जिद हो गया गिरजाघर हो क्या यह सब जगह बहुत सारे लोग आते तो यहां पर कोई रिस्ट्रिक्शन नहीं है सब आ रहे हैं तो अगर कि नहीं वह है तो आपको भी हो सकता है और आपके हेल्थ को लेकर आपके मतलब शरीर को लेकर कोई भी प्रॉब्लम हो सकता है तो अच्छा यही होता है कि ऐसे समय पर मतलब दूर रहे हैं और फिर दूर रहकर जाए और अगर पता चले कि यह महामारी मतलब ज्यादा खतरनाक है तो ऐसे समय पर गर धूल से स्टेशन है कि नहीं जाना तो मेरे हिसाब से नहीं जाना चाहिए किसी को जैसे ही इस महामारी में यह नियम बनाई गई थी कि नहीं कोई भी नहीं जाएगा हम लोग चीजों का घर में हर एक चीज कर रहे थे ईश्वर को याद कर रहे थे तो जब पता चले की महामारी इतनी खतरनाक है तो मेरे हिसाब से नहीं जाना चाहिए
1000 ka savaal hai ki yadi 13 mahaamaaree ke dinon mein mandir jaatee hai ya pooja paath karake to use bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana pad sakata hai to dekhie mahaamaaree matalab bahut prakaar kee hotee hai jaise ki jo bhee yah beemaaree vaayaras ke lakshan alag-alag hotee hai matalab ke kuchh aavaaj ras aapako matalab aap insaan ke throo phailata hai kuchh hava ke throo phailata hai to aise bahut saare aise vaayaras ho to mahaamaaree kee baat karen to agar mandir mein bheed bhaad hai ya phir matalab tach karake jo seedhiyon ho jaate hain aur agar koee inaphekted insaan matalab aaya hoga aur vah bhee tach kiya hoga to aapako ho sakata hai aur bhavishy mein nahin abhee se hee aapako isake sentens aur abhee se hee aapakee tabeeyat kharaab hone lagenge kyonki koee bhee ab hamaaree koee bhee vaayaral seshan ki abhee aap ko hua hai ham aapako matalab aage chalakar pata chalega yah mahaamaaree kee baat karen to aapako vakt hee pata chalata hai ki kya hua kya nahin hai insatent matalab phailata hai aur aapako pata chalata hai to agar aapako aise risk hai ki agar aap aise sab jagah jaenge kyonki mandir ho gaya masjid ho gaya girajaaghar ho kya yah sab jagah bahut saare log aate to yahaan par koee ristrikshan nahin hai sab aa rahe hain to agar ki nahin vah hai to aapako bhee ho sakata hai aur aapake helth ko lekar aapake matalab shareer ko lekar koee bhee problam ho sakata hai to achchha yahee hota hai ki aise samay par matalab door rahe hain aur phir door rahakar jae aur agar pata chale ki yah mahaamaaree matalab jyaada khataranaak hai to aise samay par gar dhool se steshan hai ki nahin jaana to mere hisaab se nahin jaana chaahie kisee ko jaise hee is mahaamaaree mein yah niyam banaee gaee thee ki nahin koee bhee nahin jaega ham log cheejon ka ghar mein har ek cheej kar rahe the eeshvar ko yaad kar rahe the to jab pata chale kee mahaamaaree itanee khataranaak hai to mere hisaab se nahin jaana chaahie

और जवाब सुनें

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:51
नमस्कार दोस्तों प्रार्थना कि यदि स्त्री महामारी महामारी दोस्तों नहीं हो गए महावारी होगा कि दिनों मंदिर जाती है तो पूजा पाठ करते वक्त उसे भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है तो दोस्तों इस से कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है पढ़ सकता यह हमारी सोच है पहले की महिलाओं के समय काफी स्थिति खराब थी ना ही कोई पेड़ से उपलब्ध होते थे घरों में ही से लोग महिलाएं कपड़ों से पुराने कपड़ों से पहाड़ इत्यादि बनाती थी और कई बातों पत्ते बगैर आप उसे वगैरह का प्रयोग करती थी और महिलाएं इतना संकुचित रहती थी किसी से बोल नहीं पाती थी लेकिन अब काफी बदलाव आ रहा है गांव ग्रामीण में भी अभी भी ऐसा है क्षेत्रों में लेकिन आप काफी बदलाव आ चुका है अब क्या कोई व्यक्ति मंदिर में खड़ा है उसको लड़की को माहवारी प्रारंभ हो जाती है क्या मंदिर छोड़ कर चली जाएगी वह शुद्ध हो गई ऐसा नहीं है लेकिन कुछ परंपराएं हैं बहुत सारे लोग हैं वो ऐड करते हैं तो कोई बात नहीं अब ऐड करना चाहिए हमें कई लोग इससे जैसे भ्रम हो जाता है उसका पालन करना चाहिए लेकिन किसी व्यक्ति को ऐसा बंदिश नहीं लगाना चाहिए किस से आगे कोई बुरा प्रभाव आने वाला है क्योंकि ईश्वर प्रदत्त है ईश्वर नहीं दिया है संतान उत्पत्ति के लिए लड़कियों को या महिलाओं को माहवारी ऐसी पुरुषों के लिए अलग प्रक्रिया बना रखी है संतान उत्पत्ति के लिए तो भगवान द्वारा ईश्वर प्रदत्त है तो भगवान क्यों नाराज होगा इसके अंदर यह तो हमारे लोगों ने समाज के लोगों ने बनाया और पहले पुराने समय में ऐसी हमारे पास हाइजेनिक सुविधाएं नहीं ऐसी अपेक्षा नहीं थी इसलिए पहले के लोगों ने उस समय परिवेश को देखकर ऐसा बनाया होगा लेकिन अब बदल रहा है लेकिन आप निश्चिंत रहें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन आपने जो मान्यता बना रखी है आप मंदिर जैसे बिना नहाए मंदिर में प्रवेश नहीं करते ऐसे बहुत सारी कन्या कन्या मानती है क्या मंदिर नहीं जाना चाहिए तो नहीं जाना चाहिए लेकिन कोई ऐसा इसका विरोध करें कोई पुरुष इसका विरोध करें तो वह बिल्कुल सरासर गलत है हमारे समाज के लिए धन्यवाद
Namaskaar doston praarthana ki yadi stree mahaamaaree mahaamaaree doston nahin ho gae mahaavaaree hoga ki dinon mandir jaatee hai to pooja paath karate vakt use bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana pad sakata hai to doston is se koee samasya ka saamana nahin karana padata hai padh sakata yah hamaaree soch hai pahale kee mahilaon ke samay kaaphee sthiti kharaab thee na hee koee ped se upalabdh hote the gharon mein hee se log mahilaen kapadon se puraane kapadon se pahaad ityaadi banaatee thee aur kaee baaton patte bagair aap use vagairah ka prayog karatee thee aur mahilaen itana sankuchit rahatee thee kisee se bol nahin paatee thee lekin ab kaaphee badalaav aa raha hai gaanv graameen mein bhee abhee bhee aisa hai kshetron mein lekin aap kaaphee badalaav aa chuka hai ab kya koee vyakti mandir mein khada hai usako ladakee ko maahavaaree praarambh ho jaatee hai kya mandir chhod kar chalee jaegee vah shuddh ho gaee aisa nahin hai lekin kuchh paramparaen hain bahut saare log hain vo aid karate hain to koee baat nahin ab aid karana chaahie hamen kaee log isase jaise bhram ho jaata hai usaka paalan karana chaahie lekin kisee vyakti ko aisa bandish nahin lagaana chaahie kis se aage koee bura prabhaav aane vaala hai kyonki eeshvar pradatt hai eeshvar nahin diya hai santaan utpatti ke lie ladakiyon ko ya mahilaon ko maahavaaree aisee purushon ke lie alag prakriya bana rakhee hai santaan utpatti ke lie to bhagavaan dvaara eeshvar pradatt hai to bhagavaan kyon naaraaj hoga isake andar yah to hamaare logon ne samaaj ke logon ne banaaya aur pahale puraane samay mein aisee hamaare paas haijenik suvidhaen nahin aisee apeksha nahin thee isalie pahale ke logon ne us samay parivesh ko dekhakar aisa banaaya hoga lekin ab badal raha hai lekin aap nishchint rahen isase koee phark nahin padata lekin aapane jo maanyata bana rakhee hai aap mandir jaise bina nahae mandir mein pravesh nahin karate aise bahut saaree kanya kanya maanatee hai kya mandir nahin jaana chaahie to nahin jaana chaahie lekin koee aisa isaka virodh karen koee purush isaka virodh karen to vah bilkul saraasar galat hai hamaare samaaj ke lie dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:09
इंसाफ का सवाल है यदि किसी महामारी के दिनों में मंदिर जाती है या पूजा पाठ करके तो उसे भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है तो महामारी के समय मंदिर नहीं जाना चाहिए इससे बहुत पाप लगता है ऐसा करने से उनकी आयु बढ़ती है और मंदिर नहीं जाना चाहिए और पाप चढ़ता है 26 दिया महावारी के समय होती है तो वह अशुद्ध होती हैं ऐसे में उन्हें कोई भी पूजा पाठ नहीं करना चाहिए और खासकर मंदिर तो बिल्कुल नहीं जाना चाहिए ऐसा करने से उन्हें भविष्य में बहुत ही दुखो का सामना करना पड़ता है मैं बार-बार परेशान रहती हैं शारीरिक कष्ट हो सकते हैं पैसों की समस्या हो सकती हैं संतान की समस्या हो सकती हैं इसीलिए आपको हमारी के 5 दिन बिल्कुल भी भगवान की पूजा नहीं करनी है और ना ही मंदिर जाना है आपको जब पांच-छह दिन हो जाएंगे उसके बाद ही मंदिर जाना है ऐसा करने से भविष्य में बहुत ही पाबंदी है इसलिए मंदिर नहीं जाना चाहिए तो आपको जवाब अच्छे लगे तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Insaaph ka savaal hai yadi kisee mahaamaaree ke dinon mein mandir jaatee hai ya pooja paath karake to use bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana padata hai to mahaamaaree ke samay mandir nahin jaana chaahie isase bahut paap lagata hai aisa karane se unakee aayu badhatee hai aur mandir nahin jaana chaahie aur paap chadhata hai 26 diya mahaavaaree ke samay hotee hai to vah ashuddh hotee hain aise mein unhen koee bhee pooja paath nahin karana chaahie aur khaasakar mandir to bilkul nahin jaana chaahie aisa karane se unhen bhavishy mein bahut hee dukho ka saamana karana padata hai main baar-baar pareshaan rahatee hain shaareerik kasht ho sakate hain paison kee samasya ho sakatee hain santaan kee samasya ho sakatee hain iseelie aapako hamaaree ke 5 din bilkul bhee bhagavaan kee pooja nahin karanee hai aur na hee mandir jaana hai aapako jab paanch-chhah din ho jaenge usake baad hee mandir jaana hai aisa karane se bhavishy mein bahut hee paabandee hai isalie mandir nahin jaana chaahie to aapako javaab achchhe lage to laik keejiega dhanyavaad

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:41
विक्की प्रश्न अब बोले कि महामारी के दिन अगस्त्य मंदिर जा रही है तो उसको भविष्य भविष्य में ऐसी कोई समस्या देखने नहीं पड़ेगा कोई समस्या नहीं आएगी लेकिन हां अगर मंदिर में काफी भीड़ बड़ा का है और मतलब महामारी व्यापी है और काफी भीड़ है तो हम उसको वही महामारी उसके अंदर में आने की संभावना ज्यादा है वह वायरस के शरीर में आने की ज्यादा चांसेस है तू अगर मंदिर में भीड़ है या फिर वह जगह कहीं ना कहीं पल्लू कॉन्टैमिनेटेड है महामारी से ग्रस्त है वह जगह तो उनको महामारी बैठने की हमारी अटैक करने की काफी संभावना नजर में है धन्य
Vikkee prashn ab bole ki mahaamaaree ke din agasty mandir ja rahee hai to usako bhavishy bhavishy mein aisee koee samasya dekhane nahin padega koee samasya nahin aaegee lekin haan agar mandir mein kaaphee bheed bada ka hai aur matalab mahaamaaree vyaapee hai aur kaaphee bheed hai to ham usako vahee mahaamaaree usake andar mein aane kee sambhaavana jyaada hai vah vaayaras ke shareer mein aane kee jyaada chaanses hai too agar mandir mein bheed hai ya phir vah jagah kaheen na kaheen palloo kontaimineted hai mahaamaaree se grast hai vah jagah to unako mahaamaaree baithane kee hamaaree ataik karane kee kaaphee sambhaavana najar mein hai dhany

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:50
देखिए अगर स्त्री महामारी के समय में मंदिर जाती है और उसने सोशल डिस्टेंसिंग और मांस वगैरह लगाकर किया है हमेशा कार्ड वगैरह पीटी रही है उसकी इम्यूनिटी पावर अच्छी है तो उसमें कोई दिक्कत नहीं है अगर रोज मंदिर जाती रही है और स्वस्थ है तो उसमें कि किसी प्रकार की जो उसकी भावना है वह बिल्कुल एकदम स्वस्थ है पवित्र है उसमें किसी प्रकार की उसकी मिलिट्री सिस्टम उसका कमजोर नहीं है तभी वह स्नान और धोकर के मंदिर तक जाती अपने पूजा पाठ करती है भगवान पर भरोसा करती है और बीमारियों से बचने के लिए कुछ कार्यक्रम भी करती होगी चाहे वह उसका नियम और गिलोय का काढ़ा ही लेती हो लेकिन कुछ ना कुछ तो लेती जरूर हूं लेकिन भगवान पर भरोसा करता और अपने शरीर को स्वस्थ रखने के साथ ही प्रक्रिया अपनाने के दोनों बीच में बहुत अच्छी है
Dekhie agar stree mahaamaaree ke samay mein mandir jaatee hai aur usane soshal distensing aur maans vagairah lagaakar kiya hai hamesha kaard vagairah peetee rahee hai usakee imyoonitee paavar achchhee hai to usamen koee dikkat nahin hai agar roj mandir jaatee rahee hai aur svasth hai to usamen ki kisee prakaar kee jo usakee bhaavana hai vah bilkul ekadam svasth hai pavitr hai usamen kisee prakaar kee usakee militree sistam usaka kamajor nahin hai tabhee vah snaan aur dhokar ke mandir tak jaatee apane pooja paath karatee hai bhagavaan par bharosa karatee hai aur beemaariyon se bachane ke lie kuchh kaaryakram bhee karatee hogee chaahe vah usaka niyam aur giloy ka kaadha hee letee ho lekin kuchh na kuchh to letee jaroor hoon lekin bhagavaan par bharosa karata aur apane shareer ko svasth rakhane ke saath hee prakriya apanaane ke donon beech mein bahut achchhee hai

Bhupesh Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Bhupesh जी का जवाब
Entrepreneur , Blogger, Influencer
2:05
नमस्कार दोस्तों है चेक करो जरा में आपका स्वागत है मैं आपका अपना मित्र को बेशुमार मैं आशा करता हूं आप सभी से कुछ लोगे और अपना और अपने परिवार का ख्याल रख रहे होगे जैसा कि आपका प्रश्न यदि एक स्त्री महामारी के दिनों में मंदिर जाती है या पूजा पाठ करके तो उसे भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है तो देखिए दोस्तों और सबसे बड़ी बात तो यह आपकी सोच ही गलत है अगर आप हिंदू धर्म के अनुयाई है तो आपको यह बात बिल्कुल मेरी बुरी लग सकती है लेकिन अगर आप सही मायने में माने और अगर आप लॉजिक को लेकर तो कभी भी ऐसा जरूरी है कि पीरियड के दौरान कोई स्त्री अगर मंदिर में जाएगी तो वह अशुद्ध हो जाएगी आमंत्रित हो जाएगा या ऐसा कुछ भी नहीं होती दोस्तों के मरने वाली बातें क्योंकि अगर आप बात करें हमारे हिंदुस्तान में देवियों की पूजा भी होती है तो क्या आप यह मान सकते हैं कि पहले जमाने में पीरियड जैसी समस्या नहीं होती थी देखिए दोस्तों यह समस्या हमेशा से ही आती आई है लेकिन कभी इनका जिक्र नहीं हुआ है और जहां इनका जिक्र हुआ है तो वहां पर इन्हें बस इस तरीके से इसे हीन भावना से मैं गया था कि पुरुष प्रधानता को दिखाया जा सके और महिलाओं का शोषण दिखाया जा सके ताकि हर स्थिति में जब भी आप इस बारे में पढ़ते हैं कि महामारी के दौरान स्त्रियों को पूजा-पाठ के स्थान पर नहीं जाना चाहिए तो आप उस इराकी अगर बात करेंगे तो आप जब भी उसकी कोई गाथा पड़ेगी तो आपने देखा होगा कि उसमें समाज में जो स्त्रियों का स्थान था वह कहां पड़ता देख दोस्तों अगर आप आज की बात करें अगर किसी ने खुद से बता दिया कि वह उसे पीरियड से तो आप उसे दरकिनार करते हैं कि हां उसे मंदिर नहीं जाना चाहिए लेकिन अगर वह बिन बताए भी तो जा सकते हैं ना यह हमें सुनने वाली बातें कि यह सिर्फ एक धार्मिक ढोंग होता है और जो पूजा-पाठ ज्यादा मानने वाले लोग हैं वह इस बात को नकार भी सकते हैं लेकिन अगर आप इसमें सिर्फ लॉजिक चाहते हैं और रूपी चाहते हैं तो ऐसी कहीं फाइल्स आपको नेट पर भी उपलब्ध मिल जाएगी जिससे सीधा प्रूफ होता है कि यह सब चीजें सिर्फ महिलाओं का शोषण करने के लिए ही बताई जाती है
Namaskaar doston hai chek karo jara mein aapaka svaagat hai main aapaka apana mitr ko beshumaar main aasha karata hoon aap sabhee se kuchh loge aur apana aur apane parivaar ka khyaal rakh rahe hoge jaisa ki aapaka prashn yadi ek stree mahaamaaree ke dinon mein mandir jaatee hai ya pooja paath karake to use bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana pad sakata hai to dekhie doston aur sabase badee baat to yah aapakee soch hee galat hai agar aap hindoo dharm ke anuyaee hai to aapako yah baat bilkul meree buree lag sakatee hai lekin agar aap sahee maayane mein maane aur agar aap lojik ko lekar to kabhee bhee aisa jarooree hai ki peeriyad ke dauraan koee stree agar mandir mein jaegee to vah ashuddh ho jaegee aamantrit ho jaega ya aisa kuchh bhee nahin hotee doston ke marane vaalee baaten kyonki agar aap baat karen hamaare hindustaan mein deviyon kee pooja bhee hotee hai to kya aap yah maan sakate hain ki pahale jamaane mein peeriyad jaisee samasya nahin hotee thee dekhie doston yah samasya hamesha se hee aatee aaee hai lekin kabhee inaka jikr nahin hua hai aur jahaan inaka jikr hua hai to vahaan par inhen bas is tareeke se ise heen bhaavana se main gaya tha ki purush pradhaanata ko dikhaaya ja sake aur mahilaon ka shoshan dikhaaya ja sake taaki har sthiti mein jab bhee aap is baare mein padhate hain ki mahaamaaree ke dauraan striyon ko pooja-paath ke sthaan par nahin jaana chaahie to aap us iraakee agar baat karenge to aap jab bhee usakee koee gaatha padegee to aapane dekha hoga ki usamen samaaj mein jo striyon ka sthaan tha vah kahaan padata dekh doston agar aap aaj kee baat karen agar kisee ne khud se bata diya ki vah use peeriyad se to aap use darakinaar karate hain ki haan use mandir nahin jaana chaahie lekin agar vah bin batae bhee to ja sakate hain na yah hamen sunane vaalee baaten ki yah sirph ek dhaarmik dhong hota hai aur jo pooja-paath jyaada maanane vaale log hain vah is baat ko nakaar bhee sakate hain lekin agar aap isamen sirph lojik chaahate hain aur roopee chaahate hain to aisee kaheen phails aapako net par bhee upalabdh mil jaegee jisase seedha prooph hota hai ki yah sab cheejen sirph mahilaon ka shoshan karane ke lie hee bataee jaatee hai

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:07
स्त्री माहवारी के दिनों में मंदिर जाती है पूजा पाठ करें तो उसे भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है देखिए दोस्त हमारे धर्म शास्त्रों के अनुसार या जो भी होता है यह हमारी धारणाओं के अनुसार अशुद्ध माना जाता है लेकिन वैज्ञानिक पद्धति कहीं पर भी इस प्रक्रिया को नहीं शुद्ध करती है बात सिद्ध करती है कि महावारी में कोई भी महिला शुद्ध हो जाती दिखी भाई यह मासिक धर्म माहवारी इस सजा वैज्ञानिक क्रिया है एक शारीरिक क्रिया जो महिलाओं का या बच्चों का किशोरावस्था शुरू होकर के लगभग अधेड़ अवस्था तक चलता रहता सर मैं आपको हमारे धर्मों में बहुत सामाजिक परंपराओं में अछूत माना जाता है पूजा पाठ में माना जाता है क्या कारण है नहीं देता किसी पंडित से पूछो लोग कहते हैं कि आप इसे छू देंगे पूजा करते तो अशुद्ध हो जाएगा लेकिन कभी आपने कभी देखा किसी को ऐसा अशुद्ध होते होती है कि हिंदू धर्म में भी लिखा इसाई यों में तो खैर नहीं माना जाता है इससे मुसलमानों में भी है कि महावारी के दौरान महिला को नापाक माना जाता है इबादत नहीं होती कुरान नहीं सूख सकती है पर यहां तक की पहली न महावारी में लड़की घर से बाहर नहीं जाती है इस तरह का तो नहीं है कहीं उनका वैज्ञानिक कारण है और उन्होंने शायद ऐसा नहीं माना होगा और जो आप ट्रस्ट पूछ रहे हैं कि समस्याओं को कोई समस्या नहीं होगी महाभारत की एक नेचुरल प्रक्रिया है जो एक स्वस्थ महिला के शरीर से गुजरती है और जो भ्रांतियां या अंधविश्वास है यह हो जाता हो जाता कहीं कुछ नहीं होता और 7 दिनों तक पूजा नहीं कर सकती त्यौहार में नहीं जा सकती है यह समझ पता नहीं कहां से आया कहीं महिला को एक शर्मिंदगी महसूस होती है कभी-कभी हमने देखा मंदिर के बाहर खड़ी होती है महिलाएं हैं और हमने एक दो बार एक-दूसरे पूछा तो बोली नहीं कुछ कारण है जो हम नहीं जा सकते तो अजीब सा लगता है जब महिला स्नान कर रही है अपने शरीर को स्वस्थ रख रही है और अपने उनको भी सुरक्षित रही है उसे कहीं इस तरह के बिल्डिंग नहीं हो रही तो हाथों से या कहीं ऐसा छूने से कहीं कुछ नहीं होने वाला तो आप जो भी प्रश्न पूछ रहे हैं आप भी उसी अंधविश्वास से ग्रसित हो करके पूछ रहे हैं एक यांत्रिक एंडोमेट्रियम क्रिया रक्त स्त्राव होता है गर्भधारण के कारण से प्रक्रिया होती रहती है यह शरीर में हारमोंस का एक्रीशन होता है आज से नहीं सदियों से चला आ रहा है तो 5 दिन या 7 दिन में प्रक्रिया चलती है तो आप इसको कैसे मान सकते हैं कि हो सकता है मेरे अनुसार कुछ भी नहीं होता यह तो हमारे आपका एक सोच है नजरिया है जिसको हम लोग अभी भी गुस्से उबर नहीं पाए शायद सदियों से की प्रथा चली आ रही है और उसके कारण से हम इससे ग्रसित हैं आज भी
Stree maahavaaree ke dinon mein mandir jaatee hai pooja paath karen to use bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana padata hai dekhie dost hamaare dharm shaastron ke anusaar ya jo bhee hota hai yah hamaaree dhaaranaon ke anusaar ashuddh maana jaata hai lekin vaigyaanik paddhati kaheen par bhee is prakriya ko nahin shuddh karatee hai baat siddh karatee hai ki mahaavaaree mein koee bhee mahila shuddh ho jaatee dikhee bhaee yah maasik dharm maahavaaree is saja vaigyaanik kriya hai ek shaareerik kriya jo mahilaon ka ya bachchon ka kishoraavastha shuroo hokar ke lagabhag adhed avastha tak chalata rahata sar main aapako hamaare dharmon mein bahut saamaajik paramparaon mein achhoot maana jaata hai pooja paath mein maana jaata hai kya kaaran hai nahin deta kisee pandit se poochho log kahate hain ki aap ise chhoo denge pooja karate to ashuddh ho jaega lekin kabhee aapane kabhee dekha kisee ko aisa ashuddh hote hotee hai ki hindoo dharm mein bhee likha isaee yon mein to khair nahin maana jaata hai isase musalamaanon mein bhee hai ki mahaavaaree ke dauraan mahila ko naapaak maana jaata hai ibaadat nahin hotee kuraan nahin sookh sakatee hai par yahaan tak kee pahalee na mahaavaaree mein ladakee ghar se baahar nahin jaatee hai is tarah ka to nahin hai kaheen unaka vaigyaanik kaaran hai aur unhonne shaayad aisa nahin maana hoga aur jo aap trast poochh rahe hain ki samasyaon ko koee samasya nahin hogee mahaabhaarat kee ek nechural prakriya hai jo ek svasth mahila ke shareer se gujaratee hai aur jo bhraantiyaan ya andhavishvaas hai yah ho jaata ho jaata kaheen kuchh nahin hota aur 7 dinon tak pooja nahin kar sakatee tyauhaar mein nahin ja sakatee hai yah samajh pata nahin kahaan se aaya kaheen mahila ko ek sharmindagee mahasoos hotee hai kabhee-kabhee hamane dekha mandir ke baahar khadee hotee hai mahilaen hain aur hamane ek do baar ek-doosare poochha to bolee nahin kuchh kaaran hai jo ham nahin ja sakate to ajeeb sa lagata hai jab mahila snaan kar rahee hai apane shareer ko svasth rakh rahee hai aur apane unako bhee surakshit rahee hai use kaheen is tarah ke bilding nahin ho rahee to haathon se ya kaheen aisa chhoone se kaheen kuchh nahin hone vaala to aap jo bhee prashn poochh rahe hain aap bhee usee andhavishvaas se grasit ho karake poochh rahe hain ek yaantrik endometriyam kriya rakt straav hota hai garbhadhaaran ke kaaran se prakriya hotee rahatee hai yah shareer mein haaramons ka ekreeshan hota hai aaj se nahin sadiyon se chala aa raha hai to 5 din ya 7 din mein prakriya chalatee hai to aap isako kaise maan sakate hain ki ho sakata hai mere anusaar kuchh bhee nahin hota yah to hamaare aapaka ek soch hai najariya hai jisako ham log abhee bhee gusse ubar nahin pae shaayad sadiyon se kee pratha chalee aa rahee hai aur usake kaaran se ham isase grasit hain aaj bhee

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:10
वक्त किसी महिलाओं को महामारी अर्थात मासिक धर्म चल रहा है तो मतलब 4 या 5 दिन का तो उस समय वह मंदिर में नहीं जा पाती है ना कि घर में एक समय के साथ बैठकर खाना खा सकती है यह रोल पहले ही पूर्वजों ने आधार दादा प्रदाताओं ने बनाया था ना कि देवताओं ने तथा यह हमारे पुराने पंडितों ने भी यह नियम बनाया क्योंकि उन्होंने कहा कि यदि कोई महिला मासिक धर्म चल रहा है तो वह मंदिर जाएगी तो मंदिर अशुद्ध हो जाएगा तथा उनके भविष्य में बच्चों पर प्रभाव पड़ सकता है इसलिए महिलाएं डरकर ऐसा नहीं कर पाती है इसी बात को लेकर आज वर्तमान इस पर कई बार हंगामा हो जाता है लेकिन कई बार हलचल हो जाती है
Vakt kisee mahilaon ko mahaamaaree arthaat maasik dharm chal raha hai to matalab 4 ya 5 din ka to us samay vah mandir mein nahin ja paatee hai na ki ghar mein ek samay ke saath baithakar khaana kha sakatee hai yah rol pahale hee poorvajon ne aadhaar daada pradaataon ne banaaya tha na ki devataon ne tatha yah hamaare puraane panditon ne bhee yah niyam banaaya kyonki unhonne kaha ki yadi koee mahila maasik dharm chal raha hai to vah mandir jaegee to mandir ashuddh ho jaega tatha unake bhavishy mein bachchon par prabhaav pad sakata hai isalie mahilaen darakar aisa nahin kar paatee hai isee baat ko lekar aaj vartamaan is par kaee baar hangaama ho jaata hai lekin kaee baar halachal ho jaatee hai

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:58
सबसे पहले तुम्हें उस महिला को जो भारतीय संस्कृति संभाग है जो ईश्वर की पूजा अपने देव की पूजा इस महामारी किस में भी नहीं छोड़ रही है मैं उनके चरणों में बार-बार नमन करना चाहूंगा क्योंकि उसे भविष्य में कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और थोड़ा मास्क लगाकर जाएं और वह अपने इष्टदेव का ध्यान कर सकती है और करना चाहिए और ऐसे ही कम लोग ही हैं जो कठिनाइयों और परिस्थितियों के आ जाने पर भी अपना जड़ नियम अपने सिद्धांत अपने विचार नहीं बदलते हैं ऐसे लोग ही बंद नहीं है और नमन करने योग्य वरना मैं तुम्हें एक कहानी सुना रहा हूं उसे ध्यान से सुनो देश के लिए नितांत कहानी है एक बार शिवजी के दो वक्त थे एक वक्त जाता वह शिवजी की रोज पूजा वंदना करता और चलाता तो चढ़ाता शिव स्त्रोत का पाठ करता एक नास्तिक भक्त था जो संसार सुंदर आस्था आस्था उसी के ऊपर जाता रोज पत्थर पर ज्ञाता ले भोलेनाथ तूने जो मुझे दिया वह मैं तुझे दे रहा हूं और किस प्रकार के घर रोज पत्थर मारकर आता था एकदम भोलेनाथ ने निश्चय किया कि मैं इन दोनों भक्तों की परीक्षा लेता हूं और उनकी कृपा से उनकी प्रेरणा से एक नदी बीच रास्ते में आ गई अब नदी मन को पार करके ही मदी मंदिर जाना होता था इसलिए शिव भक्तों ने तो जब नदी के बहाव को बहुत तेज गति में या उफान पर देखा तो वही किनारे खड़ा हो गया और भगवान शिव को जल अर्पण कर दिया तो दर्शन कर दिया वहीं सुपुत्र दिए और कहा कि भोलेनाथ क्या करूं इस नदी के बहाव में मेरा रास्ता रोक दिया है मैं तुम्हारी पूजा अर्चन यहीं से कर रहा हूं लेकिन तू दूसरा नाश्ते का पत्थर फेंकने जाता था अपने जीवन की परवाह नहीं की और नदी में कूद गया और तूफान को पार करता हुआ नदी की लहरों को झूलता हुआ टक्कर लेता हुआ उसके नारी बन गया और जाकर भोलेनाथ के सिर पर एक पत्थर मारा और काकी भोलेनाथ जो तूने मुझे दिया था वही मैं तुझे लौटाने आया हूं यह नदी तो क्या मेरा संसार का कोई भी घटना ही मेरे स्तन को नहीं तोड़ सकती है भोलेनाथ प्रसन्न हुए भोलेनाथ प्रसन्न होकर के खड़े हो गए और उन्होंने कहा मैं तेरी तपस्या से प्रसन्न करने का बोला मैंने तपस्या की तपस्या तो बेचारा वह वक्त करता था तुम्हारी पूजा करता था तुम्हारी अर्चना करता था मैं तो तुम रोज पत्थर मारने आता हूं क्योंकि तुमने संसार मुझे दुखी दुखी है मैं कठिनाइयों को जलता हुआ यहां आया हूं क्योंकि जो घटना या तो तुमने मुझे दिए हैं कोई मजा नहीं आता आपने कहा था कुछ किसी उद्देश्य तो तुम आते हो यहां लेकिन तुम आते अवश्य हो इसलिए मैं तुमसे खुश हूं प्रधान ना हो तो मैं तुमसे क्या मांगू मुझे कुछ नहीं चाहिए तब भोलेनाथ ने अपनी भूमि में से उठाकर और कुछ रहा उसको दे दी बुरा तो यूं ही समझ कर के ले गया घर जाकर उसे दिखा दो हीरे मोती थी अब उस संसार में धनवान हो गया अमीर हो गया एक दिन उसने यह बात सब सुख कितने वोट अदानी है विश्व का कोई तोड़ नहीं जाता था रोज मुझे भगवान शिव ने इस प्रकार दिया तो वह वक्त की सब्जी की पूजा-अर्चना करता था तू चलाता था उसी के पास गया और उसने कहा कि भोलेनाथ मुझे एक बात बताओ तुम वास्तव में हो तो नहीं आई क्योंकि मैं तुम्हारी रोज दूध तड़पता था और चढ़ाता था पूजा-अर्चना करता था मुझे कुछ नहीं दिया और जो तुम्हें पत्थर से तुम्हारी खोपड़ी छोड़ने आता था उसको भी उसको तुमने धनवान बना दिया भोलेनाथ ने कहा बेटे तुमको जीवन से वह था उसने मेरे लिए अपना जीवन का मोह त्याग दिया इसलिए
Sabase pahale tumhen us mahila ko jo bhaarateey sanskrti sambhaag hai jo eeshvar kee pooja apane dev kee pooja is mahaamaaree kis mein bhee nahin chhod rahee hai main unake charanon mein baar-baar naman karana chaahoonga kyonki use bhavishy mein koee samasya ka saamana nahin karana padega soshal distensing ka paalan karen aur thoda maask lagaakar jaen aur vah apane ishtadev ka dhyaan kar sakatee hai aur karana chaahie aur aise hee kam log hee hain jo kathinaiyon aur paristhitiyon ke aa jaane par bhee apana jad niyam apane siddhaant apane vichaar nahin badalate hain aise log hee band nahin hai aur naman karane yogy varana main tumhen ek kahaanee suna raha hoon use dhyaan se suno desh ke lie nitaant kahaanee hai ek baar shivajee ke do vakt the ek vakt jaata vah shivajee kee roj pooja vandana karata aur chalaata to chadhaata shiv strot ka paath karata ek naastik bhakt tha jo sansaar sundar aastha aastha usee ke oopar jaata roj patthar par gyaata le bholenaath toone jo mujhe diya vah main tujhe de raha hoon aur kis prakaar ke ghar roj patthar maarakar aata tha ekadam bholenaath ne nishchay kiya ki main in donon bhakton kee pareeksha leta hoon aur unakee krpa se unakee prerana se ek nadee beech raaste mein aa gaee ab nadee man ko paar karake hee madee mandir jaana hota tha isalie shiv bhakton ne to jab nadee ke bahaav ko bahut tej gati mein ya uphaan par dekha to vahee kinaare khada ho gaya aur bhagavaan shiv ko jal arpan kar diya to darshan kar diya vaheen suputr die aur kaha ki bholenaath kya karoon is nadee ke bahaav mein mera raasta rok diya hai main tumhaaree pooja archan yaheen se kar raha hoon lekin too doosara naashte ka patthar phenkane jaata tha apane jeevan kee paravaah nahin kee aur nadee mein kood gaya aur toophaan ko paar karata hua nadee kee laharon ko jhoolata hua takkar leta hua usake naaree ban gaya aur jaakar bholenaath ke sir par ek patthar maara aur kaakee bholenaath jo toone mujhe diya tha vahee main tujhe lautaane aaya hoon yah nadee to kya mera sansaar ka koee bhee ghatana hee mere stan ko nahin tod sakatee hai bholenaath prasann hue bholenaath prasann hokar ke khade ho gae aur unhonne kaha main teree tapasya se prasann karane ka bola mainne tapasya kee tapasya to bechaara vah vakt karata tha tumhaaree pooja karata tha tumhaaree archana karata tha main to tum roj patthar maarane aata hoon kyonki tumane sansaar mujhe dukhee dukhee hai main kathinaiyon ko jalata hua yahaan aaya hoon kyonki jo ghatana ya to tumane mujhe die hain koee maja nahin aata aapane kaha tha kuchh kisee uddeshy to tum aate ho yahaan lekin tum aate avashy ho isalie main tumase khush hoon pradhaan na ho to main tumase kya maangoo mujhe kuchh nahin chaahie tab bholenaath ne apanee bhoomi mein se uthaakar aur kuchh raha usako de dee bura to yoon hee samajh kar ke le gaya ghar jaakar use dikha do heere motee thee ab us sansaar mein dhanavaan ho gaya ameer ho gaya ek din usane yah baat sab sukh kitane vot adaanee hai vishv ka koee tod nahin jaata tha roj mujhe bhagavaan shiv ne is prakaar diya to vah vakt kee sabjee kee pooja-archana karata tha too chalaata tha usee ke paas gaya aur usane kaha ki bholenaath mujhe ek baat batao tum vaastav mein ho to nahin aaee kyonki main tumhaaree roj doodh tadapata tha aur chadhaata tha pooja-archana karata tha mujhe kuchh nahin diya aur jo tumhen patthar se tumhaaree khopadee chhodane aata tha usako bhee usako tumane dhanavaan bana diya bholenaath ne kaha bete tumako jeevan se vah tha usane mere lie apana jeevan ka moh tyaag diya isalie

bipin gupta  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए bipin जी का जवाब
Ac technician aur computer diploma
2:28

Ŝhøũrÿå Shourya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ŝhøũrÿå जी का जवाब
Unknown
0:48
सर मैं बस इतना ही कहूंगा कि इसका जो है वह उत्तर आप ही के पास है वह आपकी मानसिकता तय करती है कि आपको क्या क्या प्रॉब्लम होने वाली है समस्या होने वाली असर बात तो यह है कि ऐसा कुछ नहीं होता क्योंकि अगर आप अपने भगवान को मानते हो दिल पर हाथ रखे यह सोचिए कि आपका भगवान इतना कमजोर है कि आपके वहां आने से वह दुखी होगा और आप को दंड देगा खुदा भी ऐसा नहीं है कि कदापि सत्य नहीं है भगवान ऐसा कभी नहीं कहते कि कोई भी स्त्री महामारी के टाइम महामारी के समय उनके पास ना आए ऐसा कभी नहीं होता है तो अगर आप सोचेंगे कि भगवान बुरा मान गए मुझे यह दे देगी तो ऐसा कुछ भी नहीं है
Sar main bas itana hee kahoonga ki isaka jo hai vah uttar aap hee ke paas hai vah aapakee maanasikata tay karatee hai ki aapako kya kya problam hone vaalee hai samasya hone vaalee asar baat to yah hai ki aisa kuchh nahin hota kyonki agar aap apane bhagavaan ko maanate ho dil par haath rakhe yah sochie ki aapaka bhagavaan itana kamajor hai ki aapake vahaan aane se vah dukhee hoga aur aap ko dand dega khuda bhee aisa nahin hai ki kadaapi saty nahin hai bhagavaan aisa kabhee nahin kahate ki koee bhee stree mahaamaaree ke taim mahaamaaree ke samay unake paas na aae aisa kabhee nahin hota hai to agar aap sochenge ki bhagavaan bura maan gae mujhe yah de degee to aisa kuchh bhee nahin hai

Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Student
1:13

Dukh kaise mite? Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:43
आपने पूछा यह भी एक स्त्री महामाई के दिनों में मंदिर जाती है या पूजा पाठ कर कर के अनुसार भविष्य में किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है बिल्कुल कुछ भी सामने नहीं पड़ता है तो यह सिर के जुड़े प्रगति है ना उसका परमाणु किसानी काम करते धोती कुर्ता पहन लेते पकड़े गए थे उनकी मां बाप जी भक्ता थी आज भगवान कृष्ण भक्ति तो सपने में आते थे उनको आज्ञा देते थे उस दिन पहले बता देगा तुम्हारा समय आने वाले 6 मिनट विशाल त्यागी के बिरहा भोजपुरी उनके लड़के के में सबसे बड़े बड़े धन्यवाद साहब हम तो यह भरनी पालना यह शास्त्र में बगैर अब तू भी ऐसे ही पूछ लिया तो इससे कुछ भी नहीं यह भरनी पड़े और ऐसे तो कोई भी शास्त्र में पंडित लोग ऐसे खाएंगे अब कुछ भी नहीं होगा कई लोग बोलते हैं जैसे किसी मृत्यु हो जाती है जैसे मेरे पिताजी संसार चले गए बोला उसमें जा सूतक होता तो सिर्फ पूजा नहीं करनी चाहिए पूजा करो बहुत समझा दे कोई ध्यान नहीं दिया तो यह सब फालतू की बात है यह चेतन तत्व इस प्रकार से और प्रकृति ने शरीर दिया स्त्री पुरुष का उसमें कोई फर्क नहीं पड़ता तो इस वक्त भरतरी हमेशा के लिए और वह काफी ऑडियो अपलोड किए हैं तो उसमें भी आप सुनिए और कुछ भी संशय हो तो पूछो उस वक्त कैसे मिटा सकते हो तो बाबा की कृपा से
Aapane poochha yah bhee ek stree mahaamaee ke dinon mein mandir jaatee hai ya pooja paath kar kar ke anusaar bhavishy mein kin samasyaon ka saamana karana padata hai bilkul kuchh bhee saamane nahin padata hai to yah sir ke jude pragati hai na usaka paramaanu kisaanee kaam karate dhotee kurta pahan lete pakade gae the unakee maan baap jee bhakta thee aaj bhagavaan krshn bhakti to sapane mein aate the unako aagya dete the us din pahale bata dega tumhaara samay aane vaale 6 minat vishaal tyaagee ke biraha bhojapuree unake ladake ke mein sabase bade bade dhanyavaad saahab ham to yah bharanee paalana yah shaastr mein bagair ab too bhee aise hee poochh liya to isase kuchh bhee nahin yah bharanee pade aur aise to koee bhee shaastr mein pandit log aise khaenge ab kuchh bhee nahin hoga kaee log bolate hain jaise kisee mrtyu ho jaatee hai jaise mere pitaajee sansaar chale gae bola usamen ja sootak hota to sirph pooja nahin karanee chaahie pooja karo bahut samajha de koee dhyaan nahin diya to yah sab phaalatoo kee baat hai yah chetan tatv is prakaar se aur prakrti ne shareer diya stree purush ka usamen koee phark nahin padata to is vakt bharataree hamesha ke lie aur vah kaaphee odiyo apalod kie hain to usamen bhee aap sunie aur kuchh bhee sanshay ho to poochho us vakt kaise mita sakate ho to baaba kee krpa se

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard