#भारत की राजनीति

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:49
तो आज आप का सवाल है कि भारत की शिक्षा व्यवस्था कैसी है और भारत की शिक्षा व्यवस्था अच्छा है तो अधिकतर लोग बेरोजगार क्यों होते जा रहे हैं कि सभी रोजगार के कारण क्या है और हमारा देश अभी तक विकसित क्यों नहीं है तो देखिए सिर्फ सरकार और को ही हम अगर दूसरे और फिर सिस्टम को गर्म दोस्त है तो मेरी सांसे यह सही नहीं होगा क्योंकि अगर जब सरकार अगर तो हर चीज में दोषी है तो फिर माल लेते सरकारी स्कूल में बच्चे नहीं पढ़ पा रहे प्राइवेट स्कूल कॉलेज तो फिर वहां पर सारे बच्चे क्यों नहीं पढ़ पा रहे कुछ प्रॉब्लम जरूर होती है मैं मानती हूं कुछ हद तक जिम्मेदार है क्योंकि करप्शन ने कि भ्रष्टाचार इतना ज्यादा बढ़ता जा रहा है तब इतना ज्यादा जैसे पहले था उससे कई गुना ज्यादा और बढ़ गया जिस वजह से हमारा देश वृक्ष तू ही नहीं पा रहा 10 पैसे गरम घर पर लेकर आते हैं और उसमें से पता चलता है कि 12:15 पैसा ही इंसान खर्च कर रहा है या करने के बारे में सोच रहा है तो घर ऐसे नहीं चलेगा बस पैसा आ रहा है तू तो पैसे चार पैसे मिले चलाना पड़ता है और उसको ही कैसे और आगे बढ़ाएं यह सोचना पड़ता है तो करेक्शन की वजह से हमारा देश विकसित नहीं हो रहा है टेक्नोलॉजी होने के बाद भी आज तक इतना एडवांस होने के बाद भी लोगों को इतनी और कुछ नहीं नहीं मिल रही कि लोग अपना टैलेंट नहीं खा पाए स्कूल कॉलेज में मतलब देखिए क्या होता है कि बहुत सारे बच्चे अच्छे से पढ़ पाते बहुत सारे बच्चे नहीं पढ़ पाती क्योंकि उनको पता ही नहीं होता कि पढ़ाई इतना जरूरी क्यों है या फिर नहीं पढ़ने से क्या होगा नहीं समझा जाता है फिर बहुत सारे लोग नहीं समझते हैं यह मतलब नशा करना या फिर ड्रग्स इन सब चीजों के साथ में चले जाते हैं पर जाते हैं ऐसे बहुत सारे गाना नहीं जिसमें बच्चे और हम मतलब एक नागरिक भी जिम्मेदार है कि हमारा देश विकसित नहीं जब हम भी पढ़ाई लिखाई में प्लेटफार्म मिल रहा है तो हम जो पढ़ाई लिखाई नहीं कर रहे हैं तो हम कैसे अपने देश को अपने परिवार कोई आगे नहीं ले जा पाएंगे तो अपने देश को कैसे आगे ले पाएंगे हमारा देश कैसे विकसित होगा इसके पीछे हम भी जिम्मेदार है और सरकार भी जिम्मेदार है करप्शन को आखिर इतना हल्के में क्यों लिया जा रहा है क्यों नहीं इसके बारे में कुछ सोचा जा रहा है समझा जा रहा है क्यों नहीं पता किया जा रहा है तो इसके बारे में सोचना चाहिए और शिक्षा की बात करें तो देखिए शिक्षा अलग जगह अलग-अलग तरह के मिलते हैं कुछ लोग बहुत स्ट्रिक्टली पढ़ाते कुछ नहीं पढ़ाते दो सिस्टम में टीचर्स को और थोड़ा ज्यादा समझना चाहिए कि बच्चे और किस तरह से बना बच्चों के साथ दो वह पढ़ाई लिखा था कि बच्चे और अच्छे से समझ पाए और स्कूल कॉलेज को पढ़ाई को एक अच्छे से इंजॉय करके मतलब पढ़े-लिखे
To aaj aap ka savaal hai ki bhaarat kee shiksha vyavastha kaisee hai aur bhaarat kee shiksha vyavastha achchha hai to adhikatar log berojagaar kyon hote ja rahe hain ki sabhee rojagaar ke kaaran kya hai aur hamaara desh abhee tak vikasit kyon nahin hai to dekhie sirph sarakaar aur ko hee ham agar doosare aur phir sistam ko garm dost hai to meree saanse yah sahee nahin hoga kyonki agar jab sarakaar agar to har cheej mein doshee hai to phir maal lete sarakaaree skool mein bachche nahin padh pa rahe praivet skool kolej to phir vahaan par saare bachche kyon nahin padh pa rahe kuchh problam jaroor hotee hai main maanatee hoon kuchh had tak jimmedaar hai kyonki karapshan ne ki bhrashtaachaar itana jyaada badhata ja raha hai tab itana jyaada jaise pahale tha usase kaee guna jyaada aur badh gaya jis vajah se hamaara desh vrksh too hee nahin pa raha 10 paise garam ghar par lekar aate hain aur usamen se pata chalata hai ki 12:15 paisa hee insaan kharch kar raha hai ya karane ke baare mein soch raha hai to ghar aise nahin chalega bas paisa aa raha hai too to paise chaar paise mile chalaana padata hai aur usako hee kaise aur aage badhaen yah sochana padata hai to karekshan kee vajah se hamaara desh vikasit nahin ho raha hai teknolojee hone ke baad bhee aaj tak itana edavaans hone ke baad bhee logon ko itanee aur kuchh nahin nahin mil rahee ki log apana tailent nahin kha pae skool kolej mein matalab dekhie kya hota hai ki bahut saare bachche achchhe se padh paate bahut saare bachche nahin padh paatee kyonki unako pata hee nahin hota ki padhaee itana jarooree kyon hai ya phir nahin padhane se kya hoga nahin samajha jaata hai phir bahut saare log nahin samajhate hain yah matalab nasha karana ya phir drags in sab cheejon ke saath mein chale jaate hain par jaate hain aise bahut saare gaana nahin jisamen bachche aur ham matalab ek naagarik bhee jimmedaar hai ki hamaara desh vikasit nahin jab ham bhee padhaee likhaee mein pletaphaarm mil raha hai to ham jo padhaee likhaee nahin kar rahe hain to ham kaise apane desh ko apane parivaar koee aage nahin le ja paenge to apane desh ko kaise aage le paenge hamaara desh kaise vikasit hoga isake peechhe ham bhee jimmedaar hai aur sarakaar bhee jimmedaar hai karapshan ko aakhir itana halke mein kyon liya ja raha hai kyon nahin isake baare mein kuchh socha ja raha hai samajha ja raha hai kyon nahin pata kiya ja raha hai to isake baare mein sochana chaahie aur shiksha kee baat karen to dekhie shiksha alag jagah alag-alag tarah ke milate hain kuchh log bahut striktalee padhaate kuchh nahin padhaate do sistam mein teechars ko aur thoda jyaada samajhana chaahie ki bachche aur kis tarah se bana bachchon ke saath do vah padhaee likha tha ki bachche aur achchhe se samajh pae aur skool kolej ko padhaee ko ek achchhe se injoy karake matalab padhe-likhe

और जवाब सुनें

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
2:19
देखे भारत का शिक्षा व्यवस्था अभी तक तो अच्छा है नहीं यह चीज हम अच्छे से जानते हैं तो शिक्षा उसका अच्छा नहीं है एक तो मेन प्रॉब्लम है लेकिन शिक्षा व्यवस्था की वजह से बेरोजगार ही बात कर लेते हैं बेरोजगार इसलिए है क्योंकि बेरोजगार करने के लिए कोई संसाधन नहीं है रोजगार करने के लिए कोई माध्यम नहीं है और 1 दिन संता क्रूज कार करेगा तो कहां करेगा यहां पर रोजगार पाना देते तो यह लगता है कि बहुत बड़ी एक के चांद तारे तोड़ तोड़ के लाना ठीक है तुम रोजगार कराने के लिए जस्टार्टअप होना चाहिए जो एक फील होना जरूरी कार की पेमेंट इनफील्ड होना चाहिए जो कि हमारे देश में नहीं टिकते व्यवस्था तो है हम शिक्षित होकर जा रहे हैं लेकिन कम को कोई पेमेंट नहीं मिल रहा है रोजगार नहीं मिल रहा है फॉर्मल सेक्टर में हम काम नहीं कर रहे हैं कोई हम सुनेंगे की कोई दवाई खरीदने का जो शंकर के खेती कर रहा है राजू शंकर के चाय दे रहा चाय वाला बन रहा है कोई दर्शन करके मतलब कुछ ऐसी काम करा दे कोई लेकिन तुम्हारे शिक्षा क्योंकि उसी हिसाब से ही आपको काम मिलना जरूरत है तभी आपका शिक्षा का मूल्य बहुत निकलेगा शिक्षा का सही इस्तेमाल होगा लेकिन आप एक कुछ अलग फिल्म शिक्षित हो रहे हैं लेकिन उसे कोई आपको इंप्रूवमेंट नहीं मिल रहा है तो आप कुछ भी जॉब कर ले रहे हैं कोई भी इंप्लीमेंट में ज्वाइन कर ले रखा है जब एक ट्रेन दिखाया गया है कि इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स ज्यादा बैंक वगैरा के बारे में सोच कर समझ आ रहा था तो पहले से ही की फिल्में हमको कोई एंप्लॉयमेंट के व्यवस्थित करने की जरूरत है जो अपनी नॉलेज का इस्तेमाल कर सकें क्योंकि उनको उन्हीं की फिल्में कोई जवाब नहीं मिल रहा है 1 दिन तो हो रहे हैं लेकिन फिर भी वह शिक्षा कोई काम में नहीं आ रहा है और शिक्षा में भी परिवर्तन की जरूरत है और हमको भी इंप्लीमेंट के केंद्र में ड्यूटी अपडेट करने की जरूरत है और यह कमेंट के ऊपर डिपेंड करता है और यही मेरा धन्यवाद
Dekhe bhaarat ka shiksha vyavastha abhee tak to achchha hai nahin yah cheej ham achchhe se jaanate hain to shiksha usaka achchha nahin hai ek to men problam hai lekin shiksha vyavastha kee vajah se berojagaar hee baat kar lete hain berojagaar isalie hai kyonki berojagaar karane ke lie koee sansaadhan nahin hai rojagaar karane ke lie koee maadhyam nahin hai aur 1 din santa krooj kaar karega to kahaan karega yahaan par rojagaar paana dete to yah lagata hai ki bahut badee ek ke chaand taare tod tod ke laana theek hai tum rojagaar karaane ke lie jastaartap hona chaahie jo ek pheel hona jarooree kaar kee pement inapheeld hona chaahie jo ki hamaare desh mein nahin tikate vyavastha to hai ham shikshit hokar ja rahe hain lekin kam ko koee pement nahin mil raha hai rojagaar nahin mil raha hai phormal sektar mein ham kaam nahin kar rahe hain koee ham sunenge kee koee davaee khareedane ka jo shankar ke khetee kar raha hai raajoo shankar ke chaay de raha chaay vaala ban raha hai koee darshan karake matalab kuchh aisee kaam kara de koee lekin tumhaare shiksha kyonki usee hisaab se hee aapako kaam milana jaroorat hai tabhee aapaka shiksha ka mooly bahut nikalega shiksha ka sahee istemaal hoga lekin aap ek kuchh alag philm shikshit ho rahe hain lekin use koee aapako improovament nahin mil raha hai to aap kuchh bhee job kar le rahe hain koee bhee impleement mein jvain kar le rakha hai jab ek tren dikhaaya gaya hai ki injeeniyaring stoodents jyaada baink vagaira ke baare mein soch kar samajh aa raha tha to pahale se hee kee philmen hamako koee employament ke vyavasthit karane kee jaroorat hai jo apanee nolej ka istemaal kar saken kyonki unako unheen kee philmen koee javaab nahin mil raha hai 1 din to ho rahe hain lekin phir bhee vah shiksha koee kaam mein nahin aa raha hai aur shiksha mein bhee parivartan kee jaroorat hai aur hamako bhee impleement ke kendr mein dyootee apadet karane kee jaroorat hai aur yah kament ke oopar dipend karata hai aur yahee mera dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:08
अभी तक जो शिक्षा व्यवस्था चलते रहे समय-समय पर वह बदलती रही है लेकिन अब जो नई शिक्षा नीति 2020 में लागू हुई है वह इस प्रकार की शिक्षा प्रणाली है कि वह केंद्रीय शिक्षा प्रणाली है सारी स्कूलों के प्रोस्पेक्टर सेवकों के सारे सब्जेक्ट होंगे पढ़ाई के तरीके अलग होंगे साल बर्बाद नहीं होंगे बच्चों के और उसमें जो है हर तरीके की अब व्यवसायिक प्रशिक्षण दिया जाएगा ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि लड़का पढ़ने के बाद नौकरी ना ढूंढ है बल्कि वह अपना स्वयं का व्यवसाय देखें इसलिए उसको हर तरह की प्रशिक्षण दिए जाएंगे उच्च शिक्षा में भी प्रशिक्षण की व्यवस्था है और पढ़ने के बाद लड़के के अंदर इतनी बहुत ठीक शक्ति आ जाएगी इतनी तार्किक शक्ति आ जाएगी किया तो अनुसंधान करें नौकरी नौकरी लायक जो है जो प्रशासनिक सेवाओं में जाते हैं उनके लिए अलग होंगे और जो व्यवसायिक शिक्षा के जो चयन करते हैं उनको ली व्यवसायिक शिक्षा में जब वह अपने मास्टर डिग्री प्राप्त कर लेंगे तो स्वयं ही मतलब अपने रोजा दिशा में मुख होंगे आज का दिन नई शिक्षा विभाग जॉब हो सकता है कि इसी सत्र से लागू हो जाए
Abhee tak jo shiksha vyavastha chalate rahe samay-samay par vah badalatee rahee hai lekin ab jo naee shiksha neeti 2020 mein laagoo huee hai vah is prakaar kee shiksha pranaalee hai ki vah kendreey shiksha pranaalee hai saaree skoolon ke prospektar sevakon ke saare sabjekt honge padhaee ke tareeke alag honge saal barbaad nahin honge bachchon ke aur usamen jo hai har tareeke kee ab vyavasaayik prashikshan diya jaega trening dee jaegee taaki ladaka padhane ke baad naukaree na dhoondh hai balki vah apana svayan ka vyavasaay dekhen isalie usako har tarah kee prashikshan die jaenge uchch shiksha mein bhee prashikshan kee vyavastha hai aur padhane ke baad ladake ke andar itanee bahut theek shakti aa jaegee itanee taarkik shakti aa jaegee kiya to anusandhaan karen naukaree naukaree laayak jo hai jo prashaasanik sevaon mein jaate hain unake lie alag honge aur jo vyavasaayik shiksha ke jo chayan karate hain unako lee vyavasaayik shiksha mein jab vah apane maastar digree praapt kar lenge to svayan hee matalab apane roja disha mein mukh honge aaj ka din naee shiksha vibhaag job ho sakata hai ki isee satr se laagoo ho jae

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:06
फ्री बंद स्वागत है आपका आपका प्रश्न भारत की शिक्षा व्यवस्था कैसी है और भारत की शिक्षा व्यवस्था अच्छी है तो अधिकतर लोग बेरोजगार क्यों होते जा रहे हैं यहां पर और क्या करना चाहिए हमारा देश विकसित क्यों नहीं है तो अगर हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था अच्छी है तो शिक्षा व्यवस्था तो जरूर अच्छी है और पढ़ाई भी करते हैं लोग बस बेरोजगारी का सबसे बड़ा कारण यही होता है कि यहां पर जनसंख्या अधिक है और पद नौकरियां उनके हिसाब से कम है हमारे भारत देश की जनसंख्या बहुत ज्यादा है उस हिसाब से यहां पर नौकरियां कम है वरना देश विकसित इसलिए नहीं बन पा रहा है क्योंकि यहां पर गरीबों को दबा देते हैं अमीर और अमीर हो रहे हैं गरीब और गरीब हो रहे हैं कोई गरीबों के लिए दया नहीं करता और आरक्षण भी दिए तो आरक्षण में जो कम पढ़े लिखे और जो कम समझदार लोग होते हैं वह पदों पर नियुक्त हो जाते हैं और अच्छे लोग पदों से रह जाते हैं भर्तियों में चूक जाते हैं तो वह हमारा देश इसलिए विकास नहीं कर पाए विकसित नहीं बन पा रहा है यह सब कारण है तो आपको जवाब अच्छा लगे तो लाइक करें धन्यवाद
Phree band svaagat hai aapaka aapaka prashn bhaarat kee shiksha vyavastha kaisee hai aur bhaarat kee shiksha vyavastha achchhee hai to adhikatar log berojagaar kyon hote ja rahe hain yahaan par aur kya karana chaahie hamaara desh vikasit kyon nahin hai to agar hamaare desh kee shiksha vyavastha achchhee hai to shiksha vyavastha to jaroor achchhee hai aur padhaee bhee karate hain log bas berojagaaree ka sabase bada kaaran yahee hota hai ki yahaan par janasankhya adhik hai aur pad naukariyaan unake hisaab se kam hai hamaare bhaarat desh kee janasankhya bahut jyaada hai us hisaab se yahaan par naukariyaan kam hai varana desh vikasit isalie nahin ban pa raha hai kyonki yahaan par gareebon ko daba dete hain ameer aur ameer ho rahe hain gareeb aur gareeb ho rahe hain koee gareebon ke lie daya nahin karata aur aarakshan bhee die to aarakshan mein jo kam padhe likhe aur jo kam samajhadaar log hote hain vah padon par niyukt ho jaate hain aur achchhe log padon se rah jaate hain bhartiyon mein chook jaate hain to vah hamaara desh isalie vikaas nahin kar pae vikasit nahin ban pa raha hai yah sab kaaran hai to aapako javaab achchha lage to laik karen dhanyavaad

BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
2:23
नमस्कार आपने पसंद किया है कि भारत की शिक्षा व्यवस्था कैसी हो और भारत की शिक्षा व्यवस्था अच्छी तो अधिकतर लोग वर्षा क्यों होती जर्मनी के 3:00 बजे क्या भारतीय कृषि उद्योग विकसित देशों ने बताई तो थी कि मैं आपको बताना चाहूंगा कि भारत की शिक्षा व्यवस्था है वह इतनी अच्छी नहीं है कि सभी व्यक्तियों को रोजगार दिया जा सकता है हमारी शिक्षा व्यवस्था है उसमें जाति के बारे में बताइए जाता है अतः वर्तमान समय के बारे में बताया जाता है क्योंकि के बारे में बताया जाता है और भविष्य भी बना सकते हैं और देश में अभी विकास में सहयोग कर सकते हैं किंतु ऐसा नहीं है कि जो शिक्षा व्यवस्था बहुत ही कमजोर इतिहास पर किया जाता है रितेश का कोई विशेष महत्व नहीं है फिर भी हमारे व्यक्तित्व को कुछ भी चाहिए थी भारत की शिक्षा व्यवस्था जब तक अच्छी नहीं हो जाती है और वर्तमान समय के बारे में और उसके बाद रोजगार के बारे में अच्छा नहीं कर सकता अपनी बनाई जा सकती तब तक सिमट जाएगी विश्व में दूसरे स्थान पर भारत की जनसंख्या और दूसरे का नहीं वह अंग्रेजी द्वार भरतपुर कि भारत को भेजो दिल्ली में आज बिजी हो जाती इसलिए देवली की कहानी भारत विकसित देश निबंध बताएं क्योंकि इतनी बड़ी जनसंख्या का भरण पोषण करने में व्यवस्था को बदलने को जिसने इस देश की जय सिंह के कमी वहीं विकसित हो पाता है धन्यवाद
Namaskaar aapane pasand kiya hai ki bhaarat kee shiksha vyavastha kaisee ho aur bhaarat kee shiksha vyavastha achchhee to adhikatar log varsha kyon hotee jarmanee ke 3:00 baje kya bhaarateey krshi udyog vikasit deshon ne bataee to thee ki main aapako bataana chaahoonga ki bhaarat kee shiksha vyavastha hai vah itanee achchhee nahin hai ki sabhee vyaktiyon ko rojagaar diya ja sakata hai hamaaree shiksha vyavastha hai usamen jaati ke baare mein bataie jaata hai atah vartamaan samay ke baare mein bataaya jaata hai kyonki ke baare mein bataaya jaata hai aur bhavishy bhee bana sakate hain aur desh mein abhee vikaas mein sahayog kar sakate hain kintu aisa nahin hai ki jo shiksha vyavastha bahut hee kamajor itihaas par kiya jaata hai ritesh ka koee vishesh mahatv nahin hai phir bhee hamaare vyaktitv ko kuchh bhee chaahie thee bhaarat kee shiksha vyavastha jab tak achchhee nahin ho jaatee hai aur vartamaan samay ke baare mein aur usake baad rojagaar ke baare mein achchha nahin kar sakata apanee banaee ja sakatee tab tak simat jaegee vishv mein doosare sthaan par bhaarat kee janasankhya aur doosare ka nahin vah angrejee dvaar bharatapur ki bhaarat ko bhejo dillee mein aaj bijee ho jaatee isalie devalee kee kahaanee bhaarat vikasit desh nibandh bataen kyonki itanee badee janasankhya ka bharan poshan karane mein vyavastha ko badalane ko jisane is desh kee jay sinh ke kamee vaheen vikasit ho paata hai dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:50
भारत की शिक्षा व्यवस्था कैसी है और भारत की शिक्षा व्यवस्था अच्छा है तो अधिकतर लोग बेरोजगार क्यों होते हैं इस बेरोजगारी का क्या कारण है और क्वेश्चन में है जो हम लोग नहीं पढ़ पा रहे हैं लेकिन दोस्त भारत की शिक्षा व्यवस्था का दोस्त नहीं है लेकिन कहीं ना कहीं जो कहते हैं वोकेशनल या प्रोफेशनलिज्म की कमी है हम डिग्री ज्यादा से ज्यादा बहुत रहे हैं लेकिन कहीं जो एक्सपर्ट होना चाहिए और कभी-कभी उनकी योग्यता के अनुसार जॉब तो मिल ही नहीं रहा अब आते हैं कि आपने कहा कि हम बेरोजगार पहला प्रमुख कारण है बेटे की हमारी जनसंख्या हमारी जनसंख्या का जो दबाव है निश्चित तौर पर बढ़ता जा रहा है सबसे बड़ा दूसरा है कि हमारी जितनी भी सरकार है स्वतंत्रता के बाद आई है तभी तो रोजगारी जैसे मुद्दे को सीरियस लिया ही नहीं बच्चे स्कूल कॉलेज यूनिवर्सिटी नियर टेक्निकल कॉलेज झांसी मेडिकल यूनिवर्सिटी में से बाहर निकल रहा है तो उसकी व्यवस्था है क्योंकि हमारे इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी हमारे यहां संभावनाएं बहुत चाहे आपको इंडस्ट्रियल सेक्टर कोटली लीजिए चाय हमारे सर्विस सेक्टर को लिली की सम्मानित ऐसी बात नहीं है आप हर प्रकार की चीजों को चाहे आफ ट्रांसपोर्टेशन को देख ली कि नेशनल हाईवे से लेकर की जरूरतें हैं हमारे एयरलाइंस हमारी रेलवेज के अंदर हमारे रोडवेज के अंदर हमारे एजुकेशन के अंदर अब एजुकेशन में उठा लीजिए कि भारत के प्राइमरी मिडिल और हायर सेकेंडरी लेवल तक के पूरे देश में 25 से 30 लाख या 50 लाख से ज्यादा पोस्ट खाली पड़ी है उसी तरह से नष्ट हो मैं तो अभी से लोगों को रोजगार मिल जाता कि नहीं हमारे टेक्निकल इंस्टिट्यूट से निकलने वाले बच्चे टेक्निक तो अच्छी है लेकिन इंडस्ट्री नहीं है इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है कहां जाएंगे मेडिकल करके निकल रहा है पैरामेडिकल करके निकल रहा है मेडिसिन ले कर कर के निकल रहा है पर मैं सिटी कंपनी ने अपनी दावेदारी और मेंट ऑफ इंडिया है स्टेट गवर्नमेंट स्टेट गवर्नमेंट भी वही हालत है अभी आप देख लीजिए कि प्लांट और लगभग 10000 लोगों को रोजगार दिया उसमें भी प्राइवेट कंपनियों के दलाल है वह भी पता चले तू कहीं ना कहीं स्टेट गवर्नमेंट का फेलियर है और सेंट्रल गवर्नमेंट का वेल्लोर है यह लोग बेरोजगारी को दूर करना ही नहीं चाहती ही नहीं जो कोई भी अपना दिखे मध्यम वर्ग के मजे ले उद्योग या छोटे उद्योग होते हैं आपको पता ही नहीं हमारे अनामिका 45 परसेंट यहीं से होता है जो हमारी सरकार कहती है हम ट्रिलियन डॉलर का बन जाएंगे मिलियन का बन गए हैं और हम अर्थव्यवस्था में विश्व स्तर पर पहुंचेंगे कैसे विकसित होगा जब हमारे अच्छे रूट नहीं होंगे अब किसानों को देख लीजिए बैठेगी एग्रीकल्चर में सुधार लाया गया तो कहते हैं कि नहीं कि हम होने नहीं देंगे हम तुम्हारी पुरानी परंपरा के सामने आ रहे हैं पक्षी और कोई भी इसका समाधान नहीं चाहता कितने भी लोग आप दे के लिए शिक्षा ले करके बेकार बैठे हुए हैं हाईटेक ले कर के बैठे हो क्योंकि रोजगार के अवसर पर कौन करता है सरकार की जिम्मेदारी होने पर सरकार जवाब भी आएगी ऐसा करेगी तभी होगा
Bhaarat kee shiksha vyavastha kaisee hai aur bhaarat kee shiksha vyavastha achchha hai to adhikatar log berojagaar kyon hote hain is berojagaaree ka kya kaaran hai aur kveshchan mein hai jo ham log nahin padh pa rahe hain lekin dost bhaarat kee shiksha vyavastha ka dost nahin hai lekin kaheen na kaheen jo kahate hain vokeshanal ya propheshanalijm kee kamee hai ham digree jyaada se jyaada bahut rahe hain lekin kaheen jo eksapart hona chaahie aur kabhee-kabhee unakee yogyata ke anusaar job to mil hee nahin raha ab aate hain ki aapane kaha ki ham berojagaar pahala pramukh kaaran hai bete kee hamaaree janasankhya hamaaree janasankhya ka jo dabaav hai nishchit taur par badhata ja raha hai sabase bada doosara hai ki hamaaree jitanee bhee sarakaar hai svatantrata ke baad aaee hai tabhee to rojagaaree jaise mudde ko seeriyas liya hee nahin bachche skool kolej yoonivarsitee niyar teknikal kolej jhaansee medikal yoonivarsitee mein se baahar nikal raha hai to usakee vyavastha hai kyonki hamaare imphraastrakchar kee kamee hamaare yahaan sambhaavanaen bahut chaahe aapako indastriyal sektar kotalee leejie chaay hamaare sarvis sektar ko lilee kee sammaanit aisee baat nahin hai aap har prakaar kee cheejon ko chaahe aaph traansaporteshan ko dekh lee ki neshanal haeeve se lekar kee jarooraten hain hamaare eyaralains hamaaree relavej ke andar hamaare rodavej ke andar hamaare ejukeshan ke andar ab ejukeshan mein utha leejie ki bhaarat ke praimaree midil aur haayar sekendaree leval tak ke poore desh mein 25 se 30 laakh ya 50 laakh se jyaada post khaalee padee hai usee tarah se nasht ho main to abhee se logon ko rojagaar mil jaata ki nahin hamaare teknikal instityoot se nikalane vaale bachche teknik to achchhee hai lekin indastree nahin hai imphraastrakchar nahin hai kahaan jaenge medikal karake nikal raha hai pairaamedikal karake nikal raha hai medisin le kar kar ke nikal raha hai par main sitee kampanee ne apanee daavedaaree aur ment oph indiya hai stet gavarnament stet gavarnament bhee vahee haalat hai abhee aap dekh leejie ki plaant aur lagabhag 10000 logon ko rojagaar diya usamen bhee praivet kampaniyon ke dalaal hai vah bhee pata chale too kaheen na kaheen stet gavarnament ka pheliyar hai aur sentral gavarnament ka vellor hai yah log berojagaaree ko door karana hee nahin chaahatee hee nahin jo koee bhee apana dikhe madhyam varg ke maje le udyog ya chhote udyog hote hain aapako pata hee nahin hamaare anaamika 45 parasent yaheen se hota hai jo hamaaree sarakaar kahatee hai ham triliyan dolar ka ban jaenge miliyan ka ban gae hain aur ham arthavyavastha mein vishv star par pahunchenge kaise vikasit hoga jab hamaare achchhe root nahin honge ab kisaanon ko dekh leejie baithegee egreekalchar mein sudhaar laaya gaya to kahate hain ki nahin ki ham hone nahin denge ham tumhaaree puraanee parampara ke saamane aa rahe hain pakshee aur koee bhee isaka samaadhaan nahin chaahata kitane bhee log aap de ke lie shiksha le karake bekaar baithe hue hain haeetek le kar ke baithe ho kyonki rojagaar ke avasar par kaun karata hai sarakaar kee jimmedaaree hone par sarakaar javaab bhee aaegee aisa karegee tabhee hoga

G Dewasi Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए G जी का जवाब
Unknown
2:05
आपका सवाल है कि हमारी देश की शिक्षा व्यवस्था कैसी है प्लस हमारे देश के अंदर इतनी ज्यादा बेरोजगार लोग क्यों है तो देखिए सबसे पहले शिक्षा के ऊपर बात करते हैं तो देखी मर देश की जो शिक्षा हमारे देश के अंदर जो एजुकेशन है वह ज्यादा अच्छी नहीं है इसका रीजन में आपको बता दे तो देखिए हमारे देश के अंदर जो स्कूल के अंदर बच्चों को पढ़ाया जाता है जो कॉलेज के अंदर बच्चों को बताया जाता है मोस्टली बच्चों को जो टेक्सबुक होती है उनके ऊपर ज्यादा फोकस कराया जाता है यानी कि आपने देखा होगा कि इन्वायरमेंट कुछ इस टाइप का होता है कि बच्चों को बताया जाता है कि आप बुक्स को पढ़िए अगर आप तो आप नहीं करोगे आप क्लास में अच्छे नंबर नहीं लाओगे तो फ्यूचर में कुछ अच्छा नहीं बन पाओगे लेकिन देखिए आज आपको पता है टेक्नोलॉजी का द्वार है और फ्यूचर में भी टेक्नोलॉजी का दौर ही रहेगा आज के समय लोगों के पास स्किंस होना बहुत जरूरी है और बाकी अगर जो कंट्रीज होती है जो डेवलप्ड कंट्रीज होती है वह बच्चों की स्कूल के ऊपर ज्यादा ध्यान देती है जो कि काफी अच्छी बात है क्योंकि फ्यूचर में बच्चों की वही स्कूल से उनके लिए काम आती है और उनसे उन्हें जॉब मिल जाती है या फिर वह बिजनेस कर पाते हैं प्लस देखिए हमारे देश के अंदर बेरोजगार क्यों ज्यादा है लोग देखिए पहला रीज़न तो यह कि स्किल्ड लेबर नहीं है यानी कि मार दी इसके अंदर जो लोग बेरोजगार होते हैं मोस्टली उनमें से कुछ 90% जो लोग होते हैं उनके पास इस केस नहीं होती है और दूसरा देखी रीजन है कि हमारे देश के अंदर तकरीबन आपको पता है काफी ज्यादा पॉपुलेशन हो चुकी है और कंपनी बहुत ज्यादा नहीं हमारे देश के अंदर कि वह सभी लोगों को रोजगार दे सके और दूसरा सीजन है इसलिए देखिए हमारे देश के अंदर गवर्नमेंट अब काम कर रही है एजुकेशन के ऊपर और आपको पता है हर जगह 20 किलो सेंटर होते हैं वह भी उत्पन्न होने स्टार्ट हो चुके हैं यानी कि हमारे देश के अंदर लोगों की स्किल्स के ऊपर भी ध्यान दिया जा रहा है प्लस एजुकेशन के ऊपर भी ध्यान दिया जा रहा है तो फ्यूचर में नो डाउट की जो बेरोजगारी की समस्या वह भी खत्म हो सकती है क्योंकि बहुत सारी फॉरेन कंपनीज इन इंडिया के अंदर में इन्वेस्ट कर रही है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki hamaaree desh kee shiksha vyavastha kaisee hai plas hamaare desh ke andar itanee jyaada berojagaar log kyon hai to dekhie sabase pahale shiksha ke oopar baat karate hain to dekhee mar desh kee jo shiksha hamaare desh ke andar jo ejukeshan hai vah jyaada achchhee nahin hai isaka reejan mein aapako bata de to dekhie hamaare desh ke andar jo skool ke andar bachchon ko padhaaya jaata hai jo kolej ke andar bachchon ko bataaya jaata hai mostalee bachchon ko jo teksabuk hotee hai unake oopar jyaada phokas karaaya jaata hai yaanee ki aapane dekha hoga ki invaayarament kuchh is taip ka hota hai ki bachchon ko bataaya jaata hai ki aap buks ko padhie agar aap to aap nahin karoge aap klaas mein achchhe nambar nahin laoge to phyoochar mein kuchh achchha nahin ban paoge lekin dekhie aaj aapako pata hai teknolojee ka dvaar hai aur phyoochar mein bhee teknolojee ka daur hee rahega aaj ke samay logon ke paas skins hona bahut jarooree hai aur baakee agar jo kantreej hotee hai jo devalapd kantreej hotee hai vah bachchon kee skool ke oopar jyaada dhyaan detee hai jo ki kaaphee achchhee baat hai kyonki phyoochar mein bachchon kee vahee skool se unake lie kaam aatee hai aur unase unhen job mil jaatee hai ya phir vah bijanes kar paate hain plas dekhie hamaare desh ke andar berojagaar kyon jyaada hai log dekhie pahala reezan to yah ki skild lebar nahin hai yaanee ki maar dee isake andar jo log berojagaar hote hain mostalee unamen se kuchh 90% jo log hote hain unake paas is kes nahin hotee hai aur doosara dekhee reejan hai ki hamaare desh ke andar takareeban aapako pata hai kaaphee jyaada populeshan ho chukee hai aur kampanee bahut jyaada nahin hamaare desh ke andar ki vah sabhee logon ko rojagaar de sake aur doosara seejan hai isalie dekhie hamaare desh ke andar gavarnament ab kaam kar rahee hai ejukeshan ke oopar aur aapako pata hai har jagah 20 kilo sentar hote hain vah bhee utpann hone staart ho chuke hain yaanee ki hamaare desh ke andar logon kee skils ke oopar bhee dhyaan diya ja raha hai plas ejukeshan ke oopar bhee dhyaan diya ja raha hai to phyoochar mein no daut kee jo berojagaaree kee samasya vah bhee khatm ho sakatee hai kyonki bahut saaree phoren kampaneej in indiya ke andar mein invest kar rahee hai dhanyavaad

Dhirendra kumar Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhirendra जी का जवाब
Unknown
0:20

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:44
भारत की शिक्षा व्यवस्था को उत्तम नहीं कहा जा सकता है क्योंकि शिक्षा व्यवस्था उत्तम होती तो आज देश भक्ति बेरोजगारी इतनी महंगाई इतनी गरीबी नहीं होती उत्तम शिक्षण व्यवस्था तो आप क्या पान की कह सकते हैं जहां प्रशिक्षण के साथ साथ में ही प्रीति को रोजगार से जोड़ दिया जाता है जिससे कि वह अध्ययन करने के पश्चात में रोजगार के लिए भटकता नहीं है ना उसी बेरोजगारी की मार झेलनी होती है हमारी जो भारत की शिक्षा पद्धति है आज भी अंग्रेजों के टाइम की जो लॉर्ड मेकाले द्वारा निश्चित की हुई थी उसके पति कायम अनुसरण कर रहे हैं आज के हमारे भारतीय शिक्षित व्यक्ति चाहे में पीएचडी हो जाए लेकिन उसके पक्ष दूसरे बेरोजगारी की मार झेल नहीं होती है या कहीं टैलेंट होता है तो वह टैलेंट के द्वारा कंपशन टाइप करके ही नौकरी रोजगार प्राप्त कर पाता है बाकी मेरे विचार चाहिए शिक्षा रोजगार मुखी नहीं है इसलिए यहां के शिक्षाविदों को हमारी शिक्षा को रोजगार मुखी बनाना चाहिए रोजगार से कनेक्टेड करना चाहिए जब तक यह रोजगार से कनेक्टेड नहीं होगी इसी प्रकार बेरोजगारी और गरीबी बढ़ती रहेगी
Bhaarat kee shiksha vyavastha ko uttam nahin kaha ja sakata hai kyonki shiksha vyavastha uttam hotee to aaj desh bhakti berojagaaree itanee mahangaee itanee gareebee nahin hotee uttam shikshan vyavastha to aap kya paan kee kah sakate hain jahaan prashikshan ke saath saath mein hee preeti ko rojagaar se jod diya jaata hai jisase ki vah adhyayan karane ke pashchaat mein rojagaar ke lie bhatakata nahin hai na usee berojagaaree kee maar jhelanee hotee hai hamaaree jo bhaarat kee shiksha paddhati hai aaj bhee angrejon ke taim kee jo lord mekaale dvaara nishchit kee huee thee usake pati kaayam anusaran kar rahe hain aaj ke hamaare bhaarateey shikshit vyakti chaahe mein peeechadee ho jae lekin usake paksh doosare berojagaaree kee maar jhel nahin hotee hai ya kaheen tailent hota hai to vah tailent ke dvaara kampashan taip karake hee naukaree rojagaar praapt kar paata hai baakee mere vichaar chaahie shiksha rojagaar mukhee nahin hai isalie yahaan ke shikshaavidon ko hamaaree shiksha ko rojagaar mukhee banaana chaahie rojagaar se kanekted karana chaahie jab tak yah rojagaar se kanekted nahin hogee isee prakaar berojagaaree aur gareebee badhatee rahegee

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:39
नहीं मेरे हिसाब से भारत की शिक्षा व्यवस्था सही नहीं कही जा सकती क्योंकि इसमें रोजगार परक शिक्षा का अभाव है यहां पर रोजगार परक शिक्षा का अभाव है बच्चों को रोजगार प्रशिक्षण में चाहिए जिससे कि उनको रोजगार ढूंढने में रोजगार करने में आसानी हो यहां व्यापक शिक्षा को बढ़ावा देना चाहिए मेरा यही अनुरोध है सरकार से शिक्षा परीक्षा में रोजगार परक शिक्षा पर ध्यान दें और उस को बढ़ावा दें
Nahin mere hisaab se bhaarat kee shiksha vyavastha sahee nahin kahee ja sakatee kyonki isamen rojagaar parak shiksha ka abhaav hai yahaan par rojagaar parak shiksha ka abhaav hai bachchon ko rojagaar prashikshan mein chaahie jisase ki unako rojagaar dhoondhane mein rojagaar karane mein aasaanee ho yahaan vyaapak shiksha ko badhaava dena chaahie mera yahee anurodh hai sarakaar se shiksha pareeksha mein rojagaar parak shiksha par dhyaan den aur us ko badhaava den

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
5:24
जिसमें क्वेश्चन पूछा गया कि भारत की शिक्षा व्यवस्था कैसी है और और भारत की शिक्षा व्यवस्था अच्छा है तो फिर अधिकतम लोग बेरोजगार क्यों होते जा रहे हैं देखिए एक नई बहुत सारा रीजन है और इस टाइम रिसेंटली जो न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 आया है उसमें बहुत कुछ ज्यादा चेंज करने को देखा गया है क्योंकि हमारा क्या होता था अक्सर जो 10th के बाद जो है वह फ्रेंड लोग चेंज कर लेते तो किसी को मैं साइंस में जाना है किसी को कॉमर्स में जाना है किसी को आर्ट्स में जाना है और किसी का मतलब मैंने की मैथ के साधन इकोनॉमिक्स भी पढ़े या फिर किसी को हिस्ट्री पसंद है लेकिन वह अगर साइंस फील्ड यूज करता है तो क्या करेगा वह हिस्ट्री से उसे मतलब छोड़ना ही पड़ेगा उसे ही नहीं पढ़ पाएगा लेकिन आप आप देखोगे कि जो यह न्यू एजुकेशन पॉलिसी आई है वह मेरे को लगता है कि अगर इंप्लीमेंट हो तो बहुत कुछ चेंज हो सकता है स्ट्रीम हटा दिया कि अगर कोई इंसान मतलब कोई भी बच्चा कुछ भी पढ़ना चाहता है अगर वह मैथ के साथ इकोनॉमिक्स पढ़ना चाहता है तो वह पढ़ सकता है पढ़ना चाहता है तो पड़ सकता है यह पार्टी कूलर नहीं है कि मतलब वह सब देख लिया था वह नहीं पढ़ सकता है यह काफी अच्छा स्टेप लिया गया है और वहां का और एक मतलब बहुत कुछ अच्छा उसमें किया गया लेकिन अगर रियल लाइफ में इंप्लीमेंट हो जाए तो बहुत कुछ चेंज कर सकता है वह और साथ ही साथ इसमें दिया गया है कि लोग मतलब कि लोगों मतलब जो बच्चे होते हैं उनका जो अपना रीजनल लैंग्वेज होता है उसमें वह ज्यादा अच्छे से समझते हैं तो उसमें रीजनल लैंग्वेज पर जोड़ दिया गया है कि वह रीजनल लैंग्वेज में समझ में उसके बाद वह इंग्लिश में मतलब हायर स्टडी में यह भी कुछ अच्छा स्टेप है और साथ ही साथ यह दिया गया है कि उनको पढ़ाई के साथ एक दिन कुछ अलग स्किल दिया जाएगा जैसे कि कुछ अलग ही सिखाया जाएगा जो हमारे ग्रेट विचारक महात्मा जी के महात्मा गांधी उनका भी यही मतलब थॉट्स था कि हम क्या होता है कि हर बच्चे को यह लाइटमैन पेमेंट होना चाहिए करना चाहिए कि उनको एक ऐसा क्यों देना चाहिए कि वह सेल्फ डिपेंडेंट हो जाए और अगर मैं आपको एक बात बता दूं जैसे कि हमारा जो जापान है जापान देश उससे हमें यह सीखने को मिलता है यहां पर क्या होता है कि इंडिया में अगर किसी बच्चे को क्या कहते हैं कि अगर स्कूल में चाय क्लास रूम में झाड़ू पोछा करने के लिए कह दिया जाइए टॉयलेट साफ करने के उपाय देर से बहुत बुरा लगता है यार उसके फैमिली वाले भी कंप्लेन कर देंगे लेकिन ऐसा जापान में देखा जाए कि जापान में ऐसा हर बच्चे को नियम दिया गया है कि वह एक दिन उसका मतलब वह करना है उसको स्कूल में आएगा तो हर बच्चे को एक दिन झाड़ू पहुंचा करना है टॉयलेट साफ करना है जिससे कि वह बच्चे के अंदर क्या कहते हैं सफाई का भावना है वह धीरे-धीरे ढलता जाएगा और फिर वह क्या होगा कि वह अपने लाइफ में भी इंप्लीमेंट करेगा तो ऐसा ही करना चाहिए हमारा जो एसेंट एजुकेशन सिस्टम था बहुत ही अच्छा था लेकिन जब अंग्रेज आए तो फिर उन्होंने अपने हिसाब से ही जैसा उनको जरूरत था वैसा एजुकेशन उन्होंने दिया क्या कहते हैं कि उन्होंने ऐसा प्रोडक्ट तैयार करने के लिए कि जो उनकी बात माने जो उनकी बड़ी सभ्यता को समझे तो देखने से तो इंडियन हो बल्कि थॉट से वह अंग्रेज हूं उन्होंने ऐसा एजुकेशन तो ब्लॉक कर दिया लेकिन इसमें हमें बहुत कुछ चेंज करना है और बहुत देशों से सीखना है जैसे कि हमारा स्टडी ऐसा है कि हम लोग बहुत ज्यादा बटन तू तोता बना देते हैं इसमें अगर किसी को सिखाना है कि हां कार कैसे बनानी है उस पर छोरियां छोरियां छोरियां चोरी चोरी चल रहा है प्रैक्टिकल तो है ही नहीं मतलब प्रेक्टिकल बहुत कम है तो प्रैक्टिकल ना होने की वजह से क्या होता है कि वह बस रखता है तो उसे उतना नहीं सोऊंगा लेकिन अगर वह प्रैक्टिकल मतलब बहुत कम होता है जिसकी वजह से उसका मतलब जो करना चाहिए दिमाग में इतना सा इंप्लीमेंट नहीं हो पाता तो मेरा मेरा फास्ट है कि उन्हें पूरी पूरी से ज्यादा प्रैक्टिकल पर ज्यादा जोर देना चाहिए क्योंकि आप क्यूरी तो थोड़ा कम अगर हम प्रैक्टिकल करते हैं तो लाइफ में कोई भी इंसान अगर कोई काम करता है तो वह उस में एक्सपर्ट हो जाता तो यही करना यही होना चाहिए और मतलब प्रेक्टिकल पर ज्यादा जोर देना नहीं है तो यह यह अगर हमारा एजुकेशन पॉलिसी 2020 इन क्लिमेंट होता है तो मैं बहुत कुछ ज्यादा चेंज करने को देखने को मिल सकता है और जो आने वाले बेरोजगार है बेरोजगारी है वह बहुत ज्यादा हद तक दूर किया जा सकता है कि क्योंकि लोग सेल्फ इंप्रूवमेंट लुक सेल्फ एंप्लॉयमेंट क्रिकेट कर लेंगे उसके बाद वह दूसरों से ज्यादा डिपेंडेंट नहीं रहेंगे तो मैं यही कहना चाहूंगी कि जो एजुकेशन पॉलिसीज टाइम चेंज हो गई लेकिन अगर इंप्लीमेंट हो जाए तो लाइफ में मतलब जो आने वाला हम लोग का जनरेशन है वह बहुत ज्यादा चेंज हो सकता है और बहुत कुछ सीखने को मिला थैंक यू
Jisamen kveshchan poochha gaya ki bhaarat kee shiksha vyavastha kaisee hai aur aur bhaarat kee shiksha vyavastha achchha hai to phir adhikatam log berojagaar kyon hote ja rahe hain dekhie ek naee bahut saara reejan hai aur is taim risentalee jo nyoo ejukeshan polisee 2020 aaya hai usamen bahut kuchh jyaada chenj karane ko dekha gaya hai kyonki hamaara kya hota tha aksar jo 10th ke baad jo hai vah phrend log chenj kar lete to kisee ko main sains mein jaana hai kisee ko komars mein jaana hai kisee ko aarts mein jaana hai aur kisee ka matalab mainne kee maith ke saadhan ikonomiks bhee padhe ya phir kisee ko histree pasand hai lekin vah agar sains pheeld yooj karata hai to kya karega vah histree se use matalab chhodana hee padega use hee nahin padh paega lekin aap aap dekhoge ki jo yah nyoo ejukeshan polisee aaee hai vah mere ko lagata hai ki agar impleement ho to bahut kuchh chenj ho sakata hai streem hata diya ki agar koee insaan matalab koee bhee bachcha kuchh bhee padhana chaahata hai agar vah maith ke saath ikonomiks padhana chaahata hai to vah padh sakata hai padhana chaahata hai to pad sakata hai yah paartee koolar nahin hai ki matalab vah sab dekh liya tha vah nahin padh sakata hai yah kaaphee achchha step liya gaya hai aur vahaan ka aur ek matalab bahut kuchh achchha usamen kiya gaya lekin agar riyal laiph mein impleement ho jae to bahut kuchh chenj kar sakata hai vah aur saath hee saath isamen diya gaya hai ki log matalab ki logon matalab jo bachche hote hain unaka jo apana reejanal laingvej hota hai usamen vah jyaada achchhe se samajhate hain to usamen reejanal laingvej par jod diya gaya hai ki vah reejanal laingvej mein samajh mein usake baad vah inglish mein matalab haayar stadee mein yah bhee kuchh achchha step hai aur saath hee saath yah diya gaya hai ki unako padhaee ke saath ek din kuchh alag skil diya jaega jaise ki kuchh alag hee sikhaaya jaega jo hamaare gret vichaarak mahaatma jee ke mahaatma gaandhee unaka bhee yahee matalab thots tha ki ham kya hota hai ki har bachche ko yah laitamain pement hona chaahie karana chaahie ki unako ek aisa kyon dena chaahie ki vah selph dipendent ho jae aur agar main aapako ek baat bata doon jaise ki hamaara jo jaapaan hai jaapaan desh usase hamen yah seekhane ko milata hai yahaan par kya hota hai ki indiya mein agar kisee bachche ko kya kahate hain ki agar skool mein chaay klaas room mein jhaadoo pochha karane ke lie kah diya jaie toyalet saaph karane ke upaay der se bahut bura lagata hai yaar usake phaimilee vaale bhee kamplen kar denge lekin aisa jaapaan mein dekha jae ki jaapaan mein aisa har bachche ko niyam diya gaya hai ki vah ek din usaka matalab vah karana hai usako skool mein aaega to har bachche ko ek din jhaadoo pahuncha karana hai toyalet saaph karana hai jisase ki vah bachche ke andar kya kahate hain saphaee ka bhaavana hai vah dheere-dheere dhalata jaega aur phir vah kya hoga ki vah apane laiph mein bhee impleement karega to aisa hee karana chaahie hamaara jo esent ejukeshan sistam tha bahut hee achchha tha lekin jab angrej aae to phir unhonne apane hisaab se hee jaisa unako jaroorat tha vaisa ejukeshan unhonne diya kya kahate hain ki unhonne aisa prodakt taiyaar karane ke lie ki jo unakee baat maane jo unakee badee sabhyata ko samajhe to dekhane se to indiyan ho balki thot se vah angrej hoon unhonne aisa ejukeshan to blok kar diya lekin isamen hamen bahut kuchh chenj karana hai aur bahut deshon se seekhana hai jaise ki hamaara stadee aisa hai ki ham log bahut jyaada batan too tota bana dete hain isamen agar kisee ko sikhaana hai ki haan kaar kaise banaanee hai us par chhoriyaan chhoriyaan chhoriyaan choree choree chal raha hai praiktikal to hai hee nahin matalab prektikal bahut kam hai to praiktikal na hone kee vajah se kya hota hai ki vah bas rakhata hai to use utana nahin sooonga lekin agar vah praiktikal matalab bahut kam hota hai jisakee vajah se usaka matalab jo karana chaahie dimaag mein itana sa impleement nahin ho paata to mera mera phaast hai ki unhen pooree pooree se jyaada praiktikal par jyaada jor dena chaahie kyonki aap kyooree to thoda kam agar ham praiktikal karate hain to laiph mein koee bhee insaan agar koee kaam karata hai to vah us mein eksapart ho jaata to yahee karana yahee hona chaahie aur matalab prektikal par jyaada jor dena nahin hai to yah yah agar hamaara ejukeshan polisee 2020 in kliment hota hai to main bahut kuchh jyaada chenj karane ko dekhane ko mil sakata hai aur jo aane vaale berojagaar hai berojagaaree hai vah bahut jyaada had tak door kiya ja sakata hai ki kyonki log selph improovament luk selph employament kriket kar lenge usake baad vah doosaron se jyaada dipendent nahin rahenge to main yahee kahana chaahoongee ki jo ejukeshan poliseej taim chenj ho gaee lekin agar impleement ho jae to laiph mein matalab jo aane vaala ham log ka janareshan hai vah bahut jyaada chenj ho sakata hai aur bahut kuchh seekhane ko mila thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत की शिक्षा भारत की शिक्षा व्यवस्था
URL copied to clipboard