#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो फिर उनमें दुश्मनी क्यों है?

Jab Surya Aur Shani Mein Pita Aur Putra Ka Sambandh Hai To Phir Unmein Dushmani Kyun Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:55
मजबूरी नहीं थी कि आप बचपन में पिता नहीं मानता है और हमेशा जो है वह ऐसा सोचते थे कि मुझसे ज्यादा वह सभी बच्चों को प्यार करते हैं जैसे कि उनके अली पुत्र की खेती किए थे और उनकी पुत्री यमुना थी और यह पुत्र थे जब भी मुझे याद नहीं आ रहा है कि उनसे प्रेम करते थे कि शनिदेव काले थे और सावन एक लड़की थी जिसकी वजह से उन्हें लगता था कि मैं काला हूं इस वजह से सनी देओल से प्रेम नहीं करते थे जबकि ऐसा नहीं था एनके क्रोधी बिहार के कारण अरे बहुत जल्दी किसी भी बात को लेकर गुस्से में आ जाते थे जिसकी वजह से ही पिता का फर्ज होता है और समझाना तो वही काम करते थे कि आप मुझसे प्रेम नहीं करते हैं इसलिए इस वजह से वह बचते थे जिसके कारण सब लोग समझते हैं दुश्मनी थी बस दुश्मनी नहीं थी बस उसी के साथ आगे और सनी देओल ने पिता मानने से इनकार करते थे कि प्यार नहीं करते कि कोई भी पिता अपने बच्चों को समझाकर ठीक है कि दुश्मनी का संबंध है
Majabooree nahin thee ki aap bachapan mein pita nahin maanata hai aur hamesha jo hai vah aisa sochate the ki mujhase jyaada vah sabhee bachchon ko pyaar karate hain jaise ki unake alee putr kee khetee kie the aur unakee putree yamuna thee aur yah putr the jab bhee mujhe yaad nahin aa raha hai ki unase prem karate the ki shanidev kaale the aur saavan ek ladakee thee jisakee vajah se unhen lagata tha ki main kaala hoon is vajah se sanee deol se prem nahin karate the jabaki aisa nahin tha enake krodhee bihaar ke kaaran are bahut jaldee kisee bhee baat ko lekar gusse mein aa jaate the jisakee vajah se hee pita ka pharj hota hai aur samajhaana to vahee kaam karate the ki aap mujhase prem nahin karate hain isalie is vajah se vah bachate the jisake kaaran sab log samajhate hain dushmanee thee bas dushmanee nahin thee bas usee ke saath aage aur sanee deol ne pita maanane se inakaar karate the ki pyaar nahin karate ki koee bhee pita apane bachchon ko samajhaakar theek hai ki dushmanee ka sambandh hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो फिर उनमें दुश्मनी क्यों है?Jab Surya Aur Shani Mein Pita Aur Putra Ka Sambandh Hai To Phir Unmein Dushmani Kyun Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
0:51
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सवाल है जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो दुश्मनी की है कि जो सूर्य की पत्नी का नाम संध्या के लड़के थे उनसे प्रेम करते थे करते थे पर सूर्यवंशी का फैमिली करती और उनको मिली इज्जत नहीं अपने दोनों को अच्छा लगा अगर अच्छा लगे तो प्लीज लाइक करें धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap savaal hai jab soory aur shani mein pita aur putr ka sambandh hai to dushmanee kee hai ki jo soory kee patnee ka naam sandhya ke ladake the unase prem karate the karate the par sooryavanshee ka phaimilee karatee aur unako milee ijjat nahin apane donon ko achchha laga agar achchha lage to pleej laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो फिर उनमें दुश्मनी क्यों है?Jab Surya Aur Shani Mein Pita Aur Putra Ka Sambandh Hai To Phir Unmein Dushmani Kyun Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
आपने देखा होगा कि जब जज की कुर्सी पर बैठता है तो एक न्याय की कुर्सी होते हैं वहां मुकदमा चाहे मां का हो चाहे बाप का उचित हो वह एक महान होती है न्याय की उसी प्रकार से शंकर भगवान ने शनिदेव को न्याय की कुर्सी का स्वामी बनाया उनको चाहे देवताओं का मृत्यु लोके कोई भी एक कर्मा हर करम का उसको फल देने के लिए उन्होंने निर्णय निर्णय कुश का शनि भगवान को बताए तो इसी प्रकार से सूर्य देव यदि अगर कोई गलत कार्य उस समय किया होंगे ग्रहों के बीच में तो उस समय उनकी दुश्मनी थी लेकिन सूर्य और शनि ग्रह में रहते हैं तो शनि भगवान अपने पिता का सम्मान करते और ज्यादा चमकाते हैं और ज्यादा फलीभूत करते हैं फलीभूत का मतलब ही नहीं करते करते हैं जो लोग भी होते हैं लालची होते हैं चरित्रहीन होते हैं लोगों को परेशान करते हैं ऐसे लोगों के ही ऊपर असर पड़ता है
Aapane dekha hoga ki jab jaj kee kursee par baithata hai to ek nyaay kee kursee hote hain vahaan mukadama chaahe maan ka ho chaahe baap ka uchit ho vah ek mahaan hotee hai nyaay kee usee prakaar se shankar bhagavaan ne shanidev ko nyaay kee kursee ka svaamee banaaya unako chaahe devataon ka mrtyu loke koee bhee ek karma har karam ka usako phal dene ke lie unhonne nirnay nirnay kush ka shani bhagavaan ko batae to isee prakaar se soory dev yadi agar koee galat kaary us samay kiya honge grahon ke beech mein to us samay unakee dushmanee thee lekin soory aur shani grah mein rahate hain to shani bhagavaan apane pita ka sammaan karate aur jyaada chamakaate hain aur jyaada phaleebhoot karate hain phaleebhoot ka matalab hee nahin karate karate hain jo log bhee hote hain laalachee hote hain charitraheen hote hain logon ko pareshaan karate hain aise logon ke hee oopar asar padata hai

bolkar speaker
जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो फिर उनमें दुश्मनी क्यों है?Jab Surya Aur Shani Mein Pita Aur Putra Ka Sambandh Hai To Phir Unmein Dushmani Kyun Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:31
सनी को न्याय का देवता कहा जाता है तथा नियर सूर्य देव के बीच शत्रुता है इन दोनों के बीच पिता पुत्र का संबंध है तथा पिता पुत्र की दुश्मनी के निम्न कारणों जैसे सूर्य नारायण की प्रथम वरना अर्थात थाना कठोर तपस्या जेष्ठ माह की अमावस्या को राष्ट्रीय के शिंगणापुर में सूर्य पुत्र शनि ने जन्म लिया था ने सभी की बहुत तपस्या की थी इसके चलते तेज गर्मी तथा तथा धूप के कारण उनके गर्भ में शनि का विवरण काला हो गया के बाद जब भगवान सूर्य अपने पुत्र को देखने के लिए पत्नी छाया से मिलने गए तब सनी ने उनके तेज के कारण अपनी बंद कर ली फिर सूर्य ने अपने दिव्य दृष्टि से अपने पुत्र को देखा तो उत्तर को पाला पाला प्रिय को यह भ्रम हुआ कि यह पुत्तर एंड का मेरा नहीं है इस भ्रम के चलते सूर्य ने अपनी पत्नी छाया को त्याग दिया इसी कारण पिता-पुत्र अर्थात सूर्य चंद्र दुश्मनी बनी रहती है
Sanee ko nyaay ka devata kaha jaata hai tatha niyar soory dev ke beech shatruta hai in donon ke beech pita putr ka sambandh hai tatha pita putr kee dushmanee ke nimn kaaranon jaise soory naaraayan kee pratham varana arthaat thaana kathor tapasya jeshth maah kee amaavasya ko raashtreey ke shinganaapur mein soory putr shani ne janm liya tha ne sabhee kee bahut tapasya kee thee isake chalate tej garmee tatha tatha dhoop ke kaaran unake garbh mein shani ka vivaran kaala ho gaya ke baad jab bhagavaan soory apane putr ko dekhane ke lie patnee chhaaya se milane gae tab sanee ne unake tej ke kaaran apanee band kar lee phir soory ne apane divy drshti se apane putr ko dekha to uttar ko paala paala priy ko yah bhram hua ki yah puttar end ka mera nahin hai is bhram ke chalate soory ne apanee patnee chhaaya ko tyaag diya isee kaaran pita-putr arthaat soory chandr dushmanee banee rahatee hai

bolkar speaker
जब सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध है तो फिर उनमें दुश्मनी क्यों है?Jab Surya Aur Shani Mein Pita Aur Putra Ka Sambandh Hai To Phir Unmein Dushmani Kyun Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
1:28

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सूर्य और शनि के पिता सूर्य और शनि में पिता और पुत्र का संबंध
URL copied to clipboard