#भारत की राजनीति

bolkar speaker

केंद्र सरकार किसान आंदोलन को सुलझाने के बजाय लंबा क्यों खींच रही है?

Kendr Sarkar Kisaan Andolan Ko Suljhane Ke Bajaye Lamba Kyun Kheench Rahi Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:00
कुछ नहीं केंद्र सरकार किसान आंदोलन को स्कूल जाने की वजह लंबा क्यों खींच ना जा रही है तू कहीं न कहीं देखा जाए तो सरकार अपनी बातों को मनाना चाहती है और लंबा खींचने का यही अंतर होता है कि लोग हार जाएंगे और मेरी बातों को मारने के लिए मना नहीं करेंगे तो किसान बीच में अपनी जिद पर अड़े हुए हैं क्योंकि जीत की बात करें तो जीने नहीं कहेंगे क्योंकि अगर किसी को अगर आप पढ़े लिखे इंसान हैं अगर किसी चीज को आप के ऊपर थोप आ जाए तो आप जरूर उसका रियेक्ट करेंगे वही किसान भी रिजेक्ट कर रहे हैं कि हम में इस तरह का जो तानाशाही कानून है वह मुझे नहीं चाहिए सरकार भी उसके बारे में इतना ज्यादा गुणगान कर रही लेकिन अगर देखा जाए तो एक किसान जो भी नया बिल आया है वह केवल सरकार के अलावा कोई उसका गुणगान नहीं कर रहा है सारे लोग मरे भारत की जो हम लोग हैं क्योंकि पॉलिटिकल पार्टियां है सभी इस किसान आंदोलन किसान जो कृषि कानून आया है जो उस केंद्र सरकार की तरफ से सभी विरोध कर रहे हैं वहीं दिल्ली के अरविंद केजरीवाल ने इसका बहुत खास तरीके से इसका जो भी फायदा था वह बताया और उन्होंने कहा कि कहीं ना कहीं जो सरकार है किसानों को परेशान करना चाहती है तो सरकार के अलावा कोई इस बिल का फायदा नहीं बता पा रहा है सब नुकसान ही बता रहे हैं वही कारण है कि आज जो एक आंदोलन जो है लंबा खींचा जा रहा है और सरकार की मंशा है कि लंबा खींचने का अंतर यह है कि वह कम से कम समय से पहले और क्या है कि बात मनवाने की बातें हैं कि किसी तरह जो भी किसान भाई लोग हैं वह जब लंबा कीजिएगा और इसमें ठंडी का माहौल है वह हार जाएंगे और मेरी बातों को मान लेंगे यही लग रहा है
Kuchh nahin kendr sarakaar kisaan aandolan ko skool jaane kee vajah lamba kyon kheench na ja rahee hai too kaheen na kaheen dekha jae to sarakaar apanee baaton ko manaana chaahatee hai aur lamba kheenchane ka yahee antar hota hai ki log haar jaenge aur meree baaton ko maarane ke lie mana nahin karenge to kisaan beech mein apanee jid par ade hue hain kyonki jeet kee baat karen to jeene nahin kahenge kyonki agar kisee ko agar aap padhe likhe insaan hain agar kisee cheej ko aap ke oopar thop aa jae to aap jaroor usaka riyekt karenge vahee kisaan bhee rijekt kar rahe hain ki ham mein is tarah ka jo taanaashaahee kaanoon hai vah mujhe nahin chaahie sarakaar bhee usake baare mein itana jyaada gunagaan kar rahee lekin agar dekha jae to ek kisaan jo bhee naya bil aaya hai vah keval sarakaar ke alaava koee usaka gunagaan nahin kar raha hai saare log mare bhaarat kee jo ham log hain kyonki politikal paartiyaan hai sabhee is kisaan aandolan kisaan jo krshi kaanoon aaya hai jo us kendr sarakaar kee taraph se sabhee virodh kar rahe hain vaheen dillee ke aravind kejareevaal ne isaka bahut khaas tareeke se isaka jo bhee phaayada tha vah bataaya aur unhonne kaha ki kaheen na kaheen jo sarakaar hai kisaanon ko pareshaan karana chaahatee hai to sarakaar ke alaava koee is bil ka phaayada nahin bata pa raha hai sab nukasaan hee bata rahe hain vahee kaaran hai ki aaj jo ek aandolan jo hai lamba kheencha ja raha hai aur sarakaar kee mansha hai ki lamba kheenchane ka antar yah hai ki vah kam se kam samay se pahale aur kya hai ki baat manavaane kee baaten hain ki kisee tarah jo bhee kisaan bhaee log hain vah jab lamba keejiega aur isamen thandee ka maahaul hai vah haar jaenge aur meree baaton ko maan lenge yahee lag raha hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
केंद्र सरकार किसान आंदोलन को सुलझाने के बजाय लंबा क्यों खींच रही है?Kendr Sarkar Kisaan Andolan Ko Suljhane Ke Bajaye Lamba Kyun Kheench Rahi Hai
Abhishek Shukla  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
2:22
देखिए केंद्र सरकार से खींचने की कोई भी प्रयास नहीं कर रहे हो वह तो खुद चाहते हैं कि इसका समाधान जल्दी निकल आए लेकिन जो है तो देखिए बात तब बनती है जब दोनों तरफ से जो सहमति होती है लेकिन यहां पर जो है तो दोनों जब भी बैठक हो रही है तो उस समय जो है तो दोनों साइड से जो है तो आप की बैठक में जो हमारे विचारों में मैं नहीं मिल पा रहे हैं जिस वजह से जो है तो कहते हैं कि जब व्यक्तियों के विचार नहीं मिलते तो सहमति भी नहीं बनती है तुम्हें कुछ ऐसा आज हाल हुआ है दोस्तों तो अब देखें और 15 तारीख को 15 जनवरी को फिर से मीटिंग में ठेके और देखते हैं उसमें क्या निर्णय निकल कर आता है लेकिन देखे काफी संवेदनशील आंदोलन है इसलिए जो है 30 में तर्क वितर्क करना ज्यादा सही नहीं है लेकिन देखिए क्या है कि इसका समाधान निकाल बहुत अत्यावश्यक हो चुका है अब और देखिए क्या है कि से बिल जो है तो लागू कर दिया गया उसके प्रेसिडेंट के हस्ताक्षर हो चुके हैं और यदि इस बिल को वापस लिया जाता है तो यह अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बन जाएगा और लोग जो है तो फिर यह सोचेंगे कि वहां के जो है तो प्रेसिडेंट के हस्ताक्षर होने के बावजूद जयते से वापस लिया गया मतलब समझ रहे हैं कि जो है तो एक बार हस्त सेक्स करने के बाद जो है यदि वह नियम लागू हो चुके हैं मैं वापस नहीं होते हैं इन चीजों को सरकारी दस्तावेजों में बहुत ही सही तरीके से अपनाया जाता है इसलिए जो है इसे वापस लेना संभव नहीं होगा क्योंकि उसमें हस्ती एक हो चुके हैं सरकार के वरिष्ठ बिल पास कर दिया गया है तो देखिए इसे कोई भी बिल जो पुराने पास हुए हैं वह आज तक जो है तो वापस नहीं हुए हैं यदि ऐसा होता है तो अंतर राष्ट्रीय मुद्दा भी बन सकता है कि पहले लाया गया फिर वापस लिया गया था तो छवि खराब हो जाती है इसलिए जो है तो इस वजह से इसे वापस नहीं लिया जा रहा है बाकी देखी इसका क्या समाधान निकलता है यदि सरकार चाहेगी तो इसका समाधान बहुत जल्द निकालेगी और किसानों को भी राहत मिलेगी इससे धन्यवाद
Dekhie kendr sarakaar se kheenchane kee koee bhee prayaas nahin kar rahe ho vah to khud chaahate hain ki isaka samaadhaan jaldee nikal aae lekin jo hai to dekhie baat tab banatee hai jab donon taraph se jo sahamati hotee hai lekin yahaan par jo hai to donon jab bhee baithak ho rahee hai to us samay jo hai to donon said se jo hai to aap kee baithak mein jo hamaare vichaaron mein main nahin mil pa rahe hain jis vajah se jo hai to kahate hain ki jab vyaktiyon ke vichaar nahin milate to sahamati bhee nahin banatee hai tumhen kuchh aisa aaj haal hua hai doston to ab dekhen aur 15 taareekh ko 15 janavaree ko phir se meeting mein theke aur dekhate hain usamen kya nirnay nikal kar aata hai lekin dekhe kaaphee sanvedanasheel aandolan hai isalie jo hai 30 mein tark vitark karana jyaada sahee nahin hai lekin dekhie kya hai ki isaka samaadhaan nikaal bahut atyaavashyak ho chuka hai ab aur dekhie kya hai ki se bil jo hai to laagoo kar diya gaya usake president ke hastaakshar ho chuke hain aur yadi is bil ko vaapas liya jaata hai to yah antararaashtreey mudda ban jaega aur log jo hai to phir yah sochenge ki vahaan ke jo hai to president ke hastaakshar hone ke baavajood jayate se vaapas liya gaya matalab samajh rahe hain ki jo hai to ek baar hast seks karane ke baad jo hai yadi vah niyam laagoo ho chuke hain main vaapas nahin hote hain in cheejon ko sarakaaree dastaavejon mein bahut hee sahee tareeke se apanaaya jaata hai isalie jo hai ise vaapas lena sambhav nahin hoga kyonki usamen hastee ek ho chuke hain sarakaar ke varishth bil paas kar diya gaya hai to dekhie ise koee bhee bil jo puraane paas hue hain vah aaj tak jo hai to vaapas nahin hue hain yadi aisa hota hai to antar raashtreey mudda bhee ban sakata hai ki pahale laaya gaya phir vaapas liya gaya tha to chhavi kharaab ho jaatee hai isalie jo hai to is vajah se ise vaapas nahin liya ja raha hai baakee dekhee isaka kya samaadhaan nikalata hai yadi sarakaar chaahegee to isaka samaadhaan bahut jald nikaalegee aur kisaanon ko bhee raahat milegee isase dhanyavaad

bolkar speaker
केंद्र सरकार किसान आंदोलन को सुलझाने के बजाय लंबा क्यों खींच रही है?Kendr Sarkar Kisaan Andolan Ko Suljhane Ke Bajaye Lamba Kyun Kheench Rahi Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:17
नमस्कार श्रोता केंद्र सरकार किसान आंदोलन को समझाने की वजह लंबा क्यों खींच आ रही है तो एक तरीका हो सकता था कि यह बात एटलीस्ट 10 दिन में खत्म हो जाती जान से ज्यादा 15 दिन में लेकिन अब इनको करीब करीब 50 दिन हो गए हैं और महीनों पहले से भी इनका चला रहा था प्रोटेस्ट लेकिन तब भी सरकार ने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और अब ध्यान दे रहे तो काफी देरी कर दी है इसका एक कारण हो सकता है कि सरकार भी समय और बढ़ाना चाहती है ताकि लोगों की भीड़ धीरे-धीरे कम होती है क्योंकि जैसे हमने शहीन बाग में देखा था वहां पर स्टार्ट में काफी भीड़ थी फिर धीरे-धीरे कम होने लगे और कोरोनावायरस अभी हट गए और बात खत्म हो गई क्योंकि एक बार अगर लोग हट गए हैं यानी कम होने लगे तो फिर बड़ी मुश्किल होती है वहां पर सब को मिलाने के लिए लाभ साथ में लाने के लिए तो ऐसा हो सकता है कि सरकार पॉलिटेक्निक चलना चाह रही हो कि समय थोड़ा ढीले करता रहता कि लोगों की भीड़ कम होती है जब लोगों की भीड़ इतनी कम हो जाएगी कि कोई प्रोटेस्टर ज्यादा उनके पास पावर नहीं होगी तो बात को ऐसे ही रफा-दफा कर दिया जाएगा और किसानों को सारी बात माननी पड़ेगी तो यह कारण हो सकता है
Namaskaar shrota kendr sarakaar kisaan aandolan ko samajhaane kee vajah lamba kyon kheench aa rahee hai to ek tareeka ho sakata tha ki yah baat etaleest 10 din mein khatm ho jaatee jaan se jyaada 15 din mein lekin ab inako kareeb kareeb 50 din ho gae hain aur maheenon pahale se bhee inaka chala raha tha protest lekin tab bhee sarakaar ne jyaada dhyaan nahin diya aur ab dhyaan de rahe to kaaphee deree kar dee hai isaka ek kaaran ho sakata hai ki sarakaar bhee samay aur badhaana chaahatee hai taaki logon kee bheed dheere-dheere kam hotee hai kyonki jaise hamane shaheen baag mein dekha tha vahaan par staart mein kaaphee bheed thee phir dheere-dheere kam hone lage aur koronaavaayaras abhee hat gae aur baat khatm ho gaee kyonki ek baar agar log hat gae hain yaanee kam hone lage to phir badee mushkil hotee hai vahaan par sab ko milaane ke lie laabh saath mein laane ke lie to aisa ho sakata hai ki sarakaar politeknik chalana chaah rahee ho ki samay thoda dheele karata rahata ki logon kee bheed kam hotee hai jab logon kee bheed itanee kam ho jaegee ki koee protestar jyaada unake paas paavar nahin hogee to baat ko aise hee rapha-dapha kar diya jaega aur kisaanon ko saaree baat maananee padegee to yah kaaran ho sakata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन क्यों हो रहा है, किसान आंदोलन की मांग क्या है, किसान आंदोलन के कारण
URL copied to clipboard