#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?

Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:04
हेलो विभाग तो आज आप का सवाल है कि स्वामी विवेकानंद म्हारी थे तूने संत क्यों कहा गया तो देखिए ऐसा कहीं पर भी नहीं लिखा गया है कि राजू संत है वह मांस मछली नहीं खा सकते वहां पर स्वामी विवेकानंद जी जहां पर रहते तो वहां पर बहुत सारे लोग मतलब मांस मछली का सेवन करते थे तो अगर जिस किसी का अगर मन है कि अगर वह खाना है तो खा सकता है इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है स्वामी विवेकानंद जी ने भी यही कहा था कि मुझे कोई जबरदस्ती नहीं किया गया या फिर मुझ पर कोई मतलब प्रेशर नहीं डाला गया यह मेरी मर्जी थी और मतलब मैं मांस मछली खाता हूं कि आप खाया तो ऐसा कहीं यह डिस्क्राइब नहीं किया गया है रूल्स रेगुलेशन नहीं है कि संतान जो लोग हैं वह लोग मतलब मांस मछली नहीं खा सकते ऐसे बहुत सारे नियम है जिनका आपको फॉलो मतलब मानना पड़ता जिसे आप को फॉलो करना पड़ता है लेकिन उसने ऐसे ही पर भी मछली जैसे नहीं खाना है यह नियम नहीं लिखा हुआ था
Helo vibhaag to aaj aap ka savaal hai ki svaamee vivekaanand mhaaree the toone sant kyon kaha gaya to dekhie aisa kaheen par bhee nahin likha gaya hai ki raajoo sant hai vah maans machhalee nahin kha sakate vahaan par svaamee vivekaanand jee jahaan par rahate to vahaan par bahut saare log matalab maans machhalee ka sevan karate the to agar jis kisee ka agar man hai ki agar vah khaana hai to kha sakata hai isamen koee problam nahin hai svaamee vivekaanand jee ne bhee yahee kaha tha ki mujhe koee jabaradastee nahin kiya gaya ya phir mujh par koee matalab preshar nahin daala gaya yah meree marjee thee aur matalab main maans machhalee khaata hoon ki aap khaaya to aisa kaheen yah diskraib nahin kiya gaya hai rools reguleshan nahin hai ki santaan jo log hain vah log matalab maans machhalee nahin kha sakate aise bahut saare niyam hai jinaka aapako pholo matalab maanana padata jise aap ko pholo karana padata hai lekin usane aise hee par bhee machhalee jaise nahin khaana hai yah niyam nahin likha hua tha

और जवाब सुनें

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:56
मनासा वाले स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तूने क्यों कहा गया है बात करते हैं उनके विचार साधारण हैं और स्वामी विवेकानंद रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी शराब किसने वेतन ज्योति रामकृष्ण परमहंस जी के नाम पर रखा गया था रामकृष्ण परमहंस की काली माता मंदिर के बहुत ही प्रसिद्ध काली माता मंदिर जो कि पश्चिम के कोलकाता है इसके लिए और पश्चिम बंगाल के कोलकाता में लेकिन बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है और ऐसा कहा जाता है कि मां काली माता साक्षात निवास करती है और रामकृष्ण परमहंस को उन के साक्षात दर्शन भी हुए थे इनकी वजह से एक बार स्वामी विवेकानंद जी वहां पर गए और उन्होंने रामकृष्ण परमहंस जी को देखा कि इनको माताजी की वजह से उनके देश का नाम भी था कि जो की भलाई के लिए था तो इसमें ऐसा नहीं है कि वह मरता हारे थे नहीं तो आ जाता जाता है मेरी आरजू जवाब है उसकी आप संतुष्ट होंगे आप सब लोग
Manaasa vaale svaamee vivekaanand maansaahaaree the toone kyon kaha gaya hai baat karate hain unake vichaar saadhaaran hain aur svaamee vivekaanand raamakrshn mishan kee sthaapana kee thee sharaab kisane vetan jyoti raamakrshn paramahans jee ke naam par rakha gaya tha raamakrshn paramahans kee kaalee maata mandir ke bahut hee prasiddh kaalee maata mandir jo ki pashchim ke kolakaata hai isake lie aur pashchim bangaal ke kolakaata mein lekin bahut hee prasiddh mandir hai aur aisa kaha jaata hai ki maan kaalee maata saakshaat nivaas karatee hai aur raamakrshn paramahans ko un ke saakshaat darshan bhee hue the inakee vajah se ek baar svaamee vivekaanand jee vahaan par gae aur unhonne raamakrshn paramahans jee ko dekha ki inako maataajee kee vajah se unake desh ka naam bhee tha ki jo kee bhalaee ke lie tha to isamen aisa nahin hai ki vah marata haare the nahin to aa jaata jaata hai meree aarajoo javaab hai usakee aap santusht honge aap sab log

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
1:26
नमस्कार साथियों साथियों यह बात सत्य है कि स्वामी विवेकानंद बंगाली कायस्थ परिवार से थे और मांस मछली खाते थे विवेकानंद जी ने मांसाहारी का विरोध कभी नहीं किया और उनके गुरु रामकृष्ण परमहंस भी मछली खाते थे तो साथियों अब सवाल है कि फिर उन्हें संत क्यों कहा जाता है तो सबसे पहले हम समझते हैं कि संत कहते किसको हैं तो साथियों जो संत होते हैं हिंदू धर्म तथा अन्य भारतीय धर्म के में जो संत व्यक्ति किसको कहा जाता है तो साथियों जो सत्य आचरण करता हूं और आत्मज्ञानी है साथियों संत शब्द शब्द शब्द के कार्यकर्ता कारक का बहुवचन है साथियों यानी जो सत्य बोले सही काम करें वही सब संत है साथियों ऐसा नहीं है कि आप मांस मछली खाते हो तो सत्य नहीं बोलते हो साथियों ऐसा कुछ भी नहीं है तो उसी आचरण को स्वामी विवेकानंद मानते थे आई हो कि जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Namaskaar saathiyon saathiyon yah baat saty hai ki svaamee vivekaanand bangaalee kaayasth parivaar se the aur maans machhalee khaate the vivekaanand jee ne maansaahaaree ka virodh kabhee nahin kiya aur unake guru raamakrshn paramahans bhee machhalee khaate the to saathiyon ab savaal hai ki phir unhen sant kyon kaha jaata hai to sabase pahale ham samajhate hain ki sant kahate kisako hain to saathiyon jo sant hote hain hindoo dharm tatha any bhaarateey dharm ke mein jo sant vyakti kisako kaha jaata hai to saathiyon jo saty aacharan karata hoon aur aatmagyaanee hai saathiyon sant shabd shabd shabd ke kaaryakarta kaarak ka bahuvachan hai saathiyon yaanee jo saty bole sahee kaam karen vahee sab sant hai saathiyon aisa nahin hai ki aap maans machhalee khaate ho to saty nahin bolate ho saathiyon aisa kuchh bhee nahin hai to usee aacharan ko svaamee vivekaanand maanate the aaee ho ki javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:54
जैसे कि आपने भोजन किया है कि स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें शांत क्यों कहा गया मैंने जहां तक मैंने उनके बारे में पढ़ाया लेकिन मैं मेरे को यह ड्यूटी नहीं है कि वह मांसाहारी थे देखी कोई भी इंसान जो इंसान अपने इंद्रियों को कंट्रोल कर लेता है वह एक तरह से संत ही बन जाता है क्योंकि जो इंद्रियां है इंसान की इंसान को गलत का मतलब मैक्सिमम आपकी जो किसी की इंट्री इंसान की इंद्रियां होती है वह गलत काम के प्रति बहुत ज्यादा नफरत होती है तो जो इंसान इस चीज को कंट्रोल कर लेता है वह इंसान एक तरफ से वसंत की बन जाता है और विवेकानंद के बारे में मैंने जितना पढ़ा है मेरे हिसाब से वह मांसाहारी नहीं होंगे क्योंकि उन्होंने क्योंकि उन्होंने को बहुत ज्यादा गरीबी फेस किया उन्होंने क्या कहते हैं कि उन्होंने रोड मतलब एक-एक दिन के मतलब कितने दिनों तक होगी के रहते थे तो मेरे हिसाब से तो नहीं होगा कि वह मांसाहारी होंगे हां लेकिन और उनके जो थॉट्स की बात है वह बहुत मतलब ग्रेट है हिंदुत्व पर उनका जो व्हाट्सएप बहुत मतलब बहुत सारे लोग ऐसा करते हैं और वह मतलब बहुत ज्यादा मेडिटेशन करते थे और मेडिटेशन करने से कोई मतलब कोई भी इंसान अगर अपने थॉट्स को कंट्रोल कर लेता है तो वह एक तरफ से संत ही बन जाता है तो मेरे हिसाब से आपने यह जहां से क्वेश्चन पड़ा है मेरे को नहीं लगता कि वह मांसाहारी थे लेकिन अगर आपको ऐसा लगता होगा कहीं से पड़ा है तो प्लीज गूगल कर लेना लेकिन मेरे हिसाब से वह मदारी नहीं होंगे क्योंकि उन्होंने बहुत ज्यादा स्ट्रगल किया था लाइफ में एंड उन्होंने बहुत ज्यादा गरीबी फेस की थी और जहां तक आप उनकी बायोग्राफी पढ़ोगे या फिर कोई वीडियो मतलब स्टडी आइक्यू फोन का वीडियो है अगर आप देखोगे मेरे हिसाब से वह इंसान नहीं मांसाहारी बहुत ज्यादा लाइफ में स्ट्रगल किया है एंड उन्होंने बहुत मतलब की एक बार क्या हुआ कि जब वह स्पीच देने के अंदर शिकागो में तुम आकर जो लाइफ़स्टाइल्स कि यहां पर लोग कितना मतलब हाई-फाई में रहते हैं यहां और इंडिया में जो सिचुएशन अब इतना गरीबी एक रोटी के लिए लोग मरते हैं तो उन्होंने देखा तो वह बहुत ज्यादा रोए मेरे हिसाब से जो इंसान इतना दूसरों के बारे में सोच सकता है वह तो मेरे हिसाब से कभी मांसाहारी हो ही नहीं सकता क्योंकि वह ऐसा खाना खाएगा ही नहीं जो मतलब कि जो किसी की जान लग रही हो मेरे हिसाब से यह गलत है और आपने एपिसोड प्लीज शेयर करो कि यह क्वेश्चन चाहिए या गलत थैंक यू
Jaise ki aapane bhojan kiya hai ki svaamee vivekaanand maansaahaaree the to unhen shaant kyon kaha gaya mainne jahaan tak mainne unake baare mein padhaaya lekin main mere ko yah dyootee nahin hai ki vah maansaahaaree the dekhee koee bhee insaan jo insaan apane indriyon ko kantrol kar leta hai vah ek tarah se sant hee ban jaata hai kyonki jo indriyaan hai insaan kee insaan ko galat ka matalab maiksimam aapakee jo kisee kee intree insaan kee indriyaan hotee hai vah galat kaam ke prati bahut jyaada napharat hotee hai to jo insaan is cheej ko kantrol kar leta hai vah insaan ek taraph se vasant kee ban jaata hai aur vivekaanand ke baare mein mainne jitana padha hai mere hisaab se vah maansaahaaree nahin honge kyonki unhonne kyonki unhonne ko bahut jyaada gareebee phes kiya unhonne kya kahate hain ki unhonne rod matalab ek-ek din ke matalab kitane dinon tak hogee ke rahate the to mere hisaab se to nahin hoga ki vah maansaahaaree honge haan lekin aur unake jo thots kee baat hai vah bahut matalab gret hai hindutv par unaka jo vhaatsep bahut matalab bahut saare log aisa karate hain aur vah matalab bahut jyaada mediteshan karate the aur mediteshan karane se koee matalab koee bhee insaan agar apane thots ko kantrol kar leta hai to vah ek taraph se sant hee ban jaata hai to mere hisaab se aapane yah jahaan se kveshchan pada hai mere ko nahin lagata ki vah maansaahaaree the lekin agar aapako aisa lagata hoga kaheen se pada hai to pleej googal kar lena lekin mere hisaab se vah madaaree nahin honge kyonki unhonne bahut jyaada stragal kiya tha laiph mein end unhonne bahut jyaada gareebee phes kee thee aur jahaan tak aap unakee baayograaphee padhoge ya phir koee veediyo matalab stadee aaikyoo phon ka veediyo hai agar aap dekhoge mere hisaab se vah insaan nahin maansaahaaree bahut jyaada laiph mein stragal kiya hai end unhonne bahut matalab kee ek baar kya hua ki jab vah speech dene ke andar shikaago mein tum aakar jo laifastails ki yahaan par log kitana matalab haee-phaee mein rahate hain yahaan aur indiya mein jo sichueshan ab itana gareebee ek rotee ke lie log marate hain to unhonne dekha to vah bahut jyaada roe mere hisaab se jo insaan itana doosaron ke baare mein soch sakata hai vah to mere hisaab se kabhee maansaahaaree ho hee nahin sakata kyonki vah aisa khaana khaega hee nahin jo matalab ki jo kisee kee jaan lag rahee ho mere hisaab se yah galat hai aur aapane episod pleej sheyar karo ki yah kveshchan chaahie ya galat thaink yoo

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
मेरी बहन आपका प्रश्न स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया है स्वामी विवेकानंद के विचार इतनी अच्छी थी और किस सोच इतनी अच्छी थी तो इसलिए चाहे वैसा कर रहे हो जाए मांसाहारी श्री मुनि शब्द कहा गया था स्वामी विवेकानंद ने देश में इतनी अच्छी अच्छी बातें बताएं इतनी अच्छी उनके विचार थे इतना आदेश ने बनाया इसलिए 19 साल तक कहा जाता है तो आपको जवाब अच्छी लगे तो प्लीज लाइक जरूर करते रहिएगा और सब्सक्राइब करना भी ना बोलिए गा धन्यवाद
Meree bahan aapaka prashn svaamee vivekaanand maansaahaaree the to unhen sant kyon kaha gaya hai svaamee vivekaanand ke vichaar itanee achchhee thee aur kis soch itanee achchhee thee to isalie chaahe vaisa kar rahe ho jae maansaahaaree shree muni shabd kaha gaya tha svaamee vivekaanand ne desh mein itanee achchhee achchhee baaten bataen itanee achchhee unake vichaar the itana aadesh ne banaaya isalie 19 saal tak kaha jaata hai to aapako javaab achchhee lage to pleej laik jaroor karate rahiega aur sabsakraib karana bhee na bolie ga dhanyavaad

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:54
नमस्ते देखे स्वामी विवेकानंद मांसाहारी जो आप बोल रहे हैं वह तब तक थे वह जब तक कि उनको ज्ञान नहीं था जब सामने परमहंस जी के अंदर वह काम करना शुरू किया और उनको प्रमाण जी को उन्होंने गुरु मान लिया और उनसे ध्यान योग प्राणायाम सब कुछ सीखा साधना सब कुछ सीखा तो उन्होंने यह मांसाहारी जैसे सारे चीज और लहसुन प्याज सारी चीज कौन उन्होंने त्याग कर लिया और जब उन्होंने त्याग कर दिया इससे उनकी सातों इंद्रिया भी जागृत हो गई और फिर उनको सारा ज्ञान भी मिल गया कि संसार में लोग क्यों आते किस लिए आते हैं उनका उद्देश्य क्या लाइफ का उद्देश्य क्या जीवन का कुछ समझ में आए उनके भी उससे लाखों लोग प्रभावित हुए उनके रास्ते पर उनके बाद हजारों लाखों लोग चले तो वह तो सुनती ही थे
Namaste dekhe svaamee vivekaanand maansaahaaree jo aap bol rahe hain vah tab tak the vah jab tak ki unako gyaan nahin tha jab saamane paramahans jee ke andar vah kaam karana shuroo kiya aur unako pramaan jee ko unhonne guru maan liya aur unase dhyaan yog praanaayaam sab kuchh seekha saadhana sab kuchh seekha to unhonne yah maansaahaaree jaise saare cheej aur lahasun pyaaj saaree cheej kaun unhonne tyaag kar liya aur jab unhonne tyaag kar diya isase unakee saaton indriya bhee jaagrt ho gaee aur phir unako saara gyaan bhee mil gaya ki sansaar mein log kyon aate kis lie aate hain unaka uddeshy kya laiph ka uddeshy kya jeevan ka kuchh samajh mein aae unake bhee usase laakhon log prabhaavit hue unake raaste par unake baad hajaaron laakhon log chale to vah to sunatee hee the

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया?Svami Vivekanand Mansahari The Toh Unhein Sant Kyun Kaha Gaya
Ramvriksh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Ramvriksh जी का जवाब
CivilEngineer
1:48
हेलो मित्रों नमस्कार बोल का परिवार के समस्त सदस्यों भाई बहनों और उनके परिजनों को प्यार भरा नमस्कार प्रश्न स्वामी विवेकानंद मांसाहारी तो तूने संत क्यों करेगा देखिए मांसाहारी होना या शाकाहारी होना यह संत पर निर्भर नहीं करता है विचारों पर निर्भर करता है कि इतने ऊंचे विचार थे इतने टैलेंटेड लड़ने डाल लेते स्वामी विवेकानंद की भगवान का दर्शन किया था उन्होंने साक्षात काली का दर्शन किया था और इस तरह के सिद्ध गुरु उनको रामकृष्ण परमहंस जी महाराज मिले थे तो कहीं से अगर इस तरह की बात तो है अभी मेरे तो हमें विश्वास नहीं हो रहा है तो मांस भक्षण करते थे परंतु उनके विचारों को देखिए उनके ऊर्जावान विचारों को दृष्टिगत रखते हुए यह सब अक्षम है अमान्य है मछली मीट खाना खाने से विचारों में से कोई लेना देना नहीं है तो इस तरह कि अगर स्थिति थी भी वहां का माहौल इस तरह का था बंगाल में थे ना दे बंगाली लोग मछली खाते हैं कोई ऐसी बात नहीं है तो और भी चीज होता है विचार थॉट सुविचार भगवान तक ले जाते हैं तो खानपान कोई खास मायने नहीं रखता है वैसे आज थोड़ा तामसिक विचार जरूर होता है लेकिन उसको वह अपनी उर्जा से खत्म कर लेते थे इस तरह के संत इस तरह के सामने अगर है तो कोई बहुत खराब बात नहीं है और सुखी बंगाल से तो यह कहा जा सकता है कि मांसाहारी हो सकते हैं ऐसी बात नहीं है दादा फोटो कहां कहां है कहां
Helo mitron namaskaar bol ka parivaar ke samast sadasyon bhaee bahanon aur unake parijanon ko pyaar bhara namaskaar prashn svaamee vivekaanand maansaahaaree to toone sant kyon karega dekhie maansaahaaree hona ya shaakaahaaree hona yah sant par nirbhar nahin karata hai vichaaron par nirbhar karata hai ki itane oonche vichaar the itane tailented ladane daal lete svaamee vivekaanand kee bhagavaan ka darshan kiya tha unhonne saakshaat kaalee ka darshan kiya tha aur is tarah ke siddh guru unako raamakrshn paramahans jee mahaaraaj mile the to kaheen se agar is tarah kee baat to hai abhee mere to hamen vishvaas nahin ho raha hai to maans bhakshan karate the parantu unake vichaaron ko dekhie unake oorjaavaan vichaaron ko drshtigat rakhate hue yah sab aksham hai amaany hai machhalee meet khaana khaane se vichaaron mein se koee lena dena nahin hai to is tarah ki agar sthiti thee bhee vahaan ka maahaul is tarah ka tha bangaal mein the na de bangaalee log machhalee khaate hain koee aisee baat nahin hai to aur bhee cheej hota hai vichaar thot suvichaar bhagavaan tak le jaate hain to khaanapaan koee khaas maayane nahin rakhata hai vaise aaj thoda taamasik vichaar jaroor hota hai lekin usako vah apanee urja se khatm kar lete the is tarah ke sant is tarah ke saamane agar hai to koee bahut kharaab baat nahin hai aur sukhee bangaal se to yah kaha ja sakata hai ki maansaahaaree ho sakate hain aisee baat nahin hai daada photo kahaan kahaan hai kahaan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे तो उन्हें संत क्यों कहा गया स्वामी विवेकानंद मांसाहारी थे
URL copied to clipboard