#undefined

bolkar speaker

सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है?

Sainikon Ko Yudh Ke Samay Khana Kaise Pauchaya Jata Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:38
आज आपका सवाल है कि सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है तो देखिए और आप ने बॉर्डर पर या फिर ऐसा सैनिकों की और तू भी ऐसी फिल्म अपने को देखा होगा तो मैं दिखाया गया है कि जब कोई भी युद्ध या फिर किसी भी तरह क्या करूं मिशन में जाते हैं तो वह अपने साथ खाना पानी लेकर जाते हैं उन्हें पता होता कि कितने दिनों तक उन्हें जाना है और मतलब कब तक खाने की जरूरत हो सामान लेकर जाते हैं कि अगर किसी जगह अगर उन्हें रेस्ट करना हुआ या फिर बैठ ना या फिर 24 घंटा रुकना हुआ तो वहीं पर हूं छत पर कुछ भी चीज खाना बना लेते ताकि उसे उखाड़ सके और आगे के लिए भी मुझे स्थान है कि वहां पर उन्हें खाना नहीं मिलता या फिर बहुत खाना रहता है अपने हिसाब से जितना हो क्या रे करके ले जा सकते उतना वह सामान लेकर जाते हैं और जहां पर बीच में समय मिलता है बनाते जिनके पास कुछ भी नहीं बचता मैंने भी मुझे पता नहीं था मैंने भी देखा जाना है कि कैसे क्या होता है अगर सामान खत्म हो जाता है तो उनके पास कुछ भी खाने के लिए नहीं आता है क्योंकि खाने के सामान ले जाना फिर इतनी सारी चीज अपने हाथ में कपड़ा फिर उसके बाद में बहुत सारी चीजें जाना पड़ता है सर्जरी करने में बहुत प्रॉब्लम होता है लेकिन हां जितना हो सकता है उनको लगता है कि इन दिनों में इतना चीज़ घर छोड़ सकता है तो उस हिसाब से वह ले जाते फिर भी खत्म हो जाता है वह सामान नहीं खा पाते तो फिर और कोई भी ऑप्शन नहीं आता है
Aaj aapaka savaal hai ki sainikon ko yuddh ke samay khaana kaise pahunchaaya jaata hai to dekhie aur aap ne bordar par ya phir aisa sainikon kee aur too bhee aisee philm apane ko dekha hoga to main dikhaaya gaya hai ki jab koee bhee yuddh ya phir kisee bhee tarah kya karoon mishan mein jaate hain to vah apane saath khaana paanee lekar jaate hain unhen pata hota ki kitane dinon tak unhen jaana hai aur matalab kab tak khaane kee jaroorat ho saamaan lekar jaate hain ki agar kisee jagah agar unhen rest karana hua ya phir baith na ya phir 24 ghanta rukana hua to vaheen par hoon chhat par kuchh bhee cheej khaana bana lete taaki use ukhaad sake aur aage ke lie bhee mujhe sthaan hai ki vahaan par unhen khaana nahin milata ya phir bahut khaana rahata hai apane hisaab se jitana ho kya re karake le ja sakate utana vah saamaan lekar jaate hain aur jahaan par beech mein samay milata hai banaate jinake paas kuchh bhee nahin bachata mainne bhee mujhe pata nahin tha mainne bhee dekha jaana hai ki kaise kya hota hai agar saamaan khatm ho jaata hai to unake paas kuchh bhee khaane ke lie nahin aata hai kyonki khaane ke saamaan le jaana phir itanee saaree cheej apane haath mein kapada phir usake baad mein bahut saaree cheejen jaana padata hai sarjaree karane mein bahut problam hota hai lekin haan jitana ho sakata hai unako lagata hai ki in dinon mein itana cheez ghar chhod sakata hai to us hisaab se vah le jaate phir bhee khatm ho jaata hai vah saamaan nahin kha paate to phir aur koee bhee opshan nahin aata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है?Sainikon Ko Yudh Ke Samay Khana Kaise Pauchaya Jata Hai
Vikash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
0:04

bolkar speaker
सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है?Sainikon Ko Yudh Ke Samay Khana Kaise Pauchaya Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
सैनिकों को युद्ध के समय खाना हेलीकॉप्टर से और उनके वाहन से पहुंचाया जाता है और अगर ना पहुंचाया जाए तो सैनिकों के पास एहसास काफी सारा अनाज होता है जो अपना खाना वो खुद बना लेते हैं और उनके पास रेडीमेड पैकेट भी रहते हैं जिसे वह कर्म करके अपना खाना तैयार कर सकते हैं 5 मिनट में और अगर बहुत ही ज्यादा ठंडा इलाका है तो उनके पास ऐसी साधन रहते हैं जो वह आग जलाकर अपना खाना खुद भी बना सकते हैं तो दोस्तों अगर आपको जवाब पसंद आए तो प्लीज लाइक करिए लगा धन्यवाद
Sainikon ko yuddh ke samay khaana heleekoptar se aur unake vaahan se pahunchaaya jaata hai aur agar na pahunchaaya jae to sainikon ke paas ehasaas kaaphee saara anaaj hota hai jo apana khaana vo khud bana lete hain aur unake paas redeemed paiket bhee rahate hain jise vah karm karake apana khaana taiyaar kar sakate hain 5 minat mein aur agar bahut hee jyaada thanda ilaaka hai to unake paas aisee saadhan rahate hain jo vah aag jalaakar apana khaana khud bhee bana sakate hain to doston agar aapako javaab pasand aae to pleej laik karie laga dhanyavaad

bolkar speaker
सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है?Sainikon Ko Yudh Ke Samay Khana Kaise Pauchaya Jata Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:36
बड़ी कमाल का प्रश्न किया है कि सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है किसी ने प्रश्न पूछा है कि युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया था सैनी कौन सा दोस्तों को हेलीकॉप्टर द्वारा पैकेट में मर गई और उनके द्वारा डाल जाते हो कैच करते हैं उन्हीं ग्रुप में सब को खाना मिल जाता है तो जहां तक हेलीकॉप्टर द्वारा ही बचाया था खाने के कौन सी बढ़िया होती है बंद होती है बहुत झाड़ियां होती मित्रों बिगड़े इलाका होता है फोन में जाना गाड़ियों का असंभव हो रही हो दिखने में तो वह हेलीकॉप्टर द्वारा एयरोप्लेन धराई पहुंचाया जाता
Badee kamaal ka prashn kiya hai ki sainikon ko yuddh ke samay khaana kaise pahunchaaya jaata hai kisee ne prashn poochha hai ki yuddh ke samay khaana kaise pahunchaaya tha sainee kaun sa doston ko heleekoptar dvaara paiket mein mar gaee aur unake dvaara daal jaate ho kaich karate hain unheen grup mein sab ko khaana mil jaata hai to jahaan tak heleekoptar dvaara hee bachaaya tha khaane ke kaun see badhiya hotee hai band hotee hai bahut jhaadiyaan hotee mitron bigade ilaaka hota hai phon mein jaana gaadiyon ka asambhav ho rahee ho dikhane mein to vah heleekoptar dvaara eyaroplen dharaee pahunchaaya jaata

bolkar speaker
सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है?Sainikon Ko Yudh Ke Samay Khana Kaise Pauchaya Jata Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:49
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा की आप का प्रेस में सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है सैनी के जब युद्ध करते हैं फ्रेंड तो कभी-कभी कंडीशन ऐसी होती है कि उनके पास जो है थोड़ी दूर पर अगर कोई जैसे कि स्टेशन होता है तो वहां से नहीं खाना कि सुधा जो है वह मिल जाती है अदर वाइज दूर पर हैं या फिर सुधार नहीं उपलब्ध होती है फ्रेंड तो उन्हें इस तरह की ट्रेनिंग दी जाती है कि वह किसी भी कंडीशन में अपने आप को डाल सकते हैं फ्रेंड जो आर्मी होते हैं जैसे की पैरा मिलिट्री कमांडो जो हो गए या फिर ब्लैक कमांडो हो गए हो यह सब जो होते हैं सेंड यह आम आदमी से हटके होते थे आपको विश्वास नहीं होगा फ्रेंड लेकिन इनकी जो ट्रेनिंग होती है वह एक इंसान के तौर पर नहीं होती उनकी जो बॉडी होती है वह अलग होती है इनकी बॉडी की सैनिकों का छुट्टी होती है वह अलग होती है फ्रेंड इन्हें जो है यह ट्रेनिंग दिया जाता है कि अगर हम कभी उस अवस्था में पहुंच गए जहां पर ना तो कुछ खाने के लिए है ना तो पीने के लिए तब उस कंडीशन में हमें जीवित कैसे रहना उस कंडीशन फ्रेंड यह लोग बच्चियों का सहारा लेते हैं पत्तियां खाकर कर यह लोग जीवित रहते हैं फ्रेंड कई बार ऐसी जो है ड्यूटी लग जाती है कई बार ऐसा सामना हो जाता है कि हमें उस स्थान पर एक घूंट पानी तक नहीं मिलता है उस वक्त यह लोग पत्तियां खाकर रहते हैं इन्हें जो है यह सिखाया जाता है बताया जाता है कि कौन सी पत्तियां जो है वह खाने से आप मर जाएंगे नहीं यह सब चीजें उन्हें बताया जाता है कौन सी पत्तियां खा सकते हैं आपकी भूख जो है थोड़ी सी कम हो सकती है पर इनके पास एक टेबलेट होता है फ्रेंड दवा होती है जिन्हें यह लोग यूज़ करते हैं जब इन्हें भूख लगती तू यह टेबलेट जो होता है उनके भूख लगने की प्रतिरोधक क्षमता जो है वह हटा देती है जिससे भूख जो है वह कम लगता है भूख लगता है एहसास नहीं होता कमजोर नहीं होने देता यह और जो है विटामिन की गोलियां होती है फ्रेंड यह उन्हें और एक ताकत दे देता है बिना खाए पिए इन्हें ताकत जैसे चाहे वैसे भी अब तो फ्रेंड पहले तो नहीं था लेकिन अब आर्मी को इतनी सुविधा हो गई है कि वह बिना खाए पिए जो है बिना दवा वगैरा की इतनी उनकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ गई है कि अपना जो है मैदान में डट कर रह सकते हैं और लड़ते हैं क्योंकि उनकी जो भाटी होती है वह ट्रेनिंग से ही एक आम इंसान से अलग हो जाते हैं यह लोग आशा है कि आप सभी को है जॉब पसंद आया होगा शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa kee aap ka pres mein sainikon ko yuddh ke samay khaana kaise pahunchaaya jaata hai sainee ke jab yuddh karate hain phrend to kabhee-kabhee kandeeshan aisee hotee hai ki unake paas jo hai thodee door par agar koee jaise ki steshan hota hai to vahaan se nahin khaana ki sudha jo hai vah mil jaatee hai adar vaij door par hain ya phir sudhaar nahin upalabdh hotee hai phrend to unhen is tarah kee trening dee jaatee hai ki vah kisee bhee kandeeshan mein apane aap ko daal sakate hain phrend jo aarmee hote hain jaise kee paira militree kamaando jo ho gae ya phir blaik kamaando ho gae ho yah sab jo hote hain send yah aam aadamee se hatake hote the aapako vishvaas nahin hoga phrend lekin inakee jo trening hotee hai vah ek insaan ke taur par nahin hotee unakee jo bodee hotee hai vah alag hotee hai inakee bodee kee sainikon ka chhuttee hotee hai vah alag hotee hai phrend inhen jo hai yah trening diya jaata hai ki agar ham kabhee us avastha mein pahunch gae jahaan par na to kuchh khaane ke lie hai na to peene ke lie tab us kandeeshan mein hamen jeevit kaise rahana us kandeeshan phrend yah log bachchiyon ka sahaara lete hain pattiyaan khaakar kar yah log jeevit rahate hain phrend kaee baar aisee jo hai dyootee lag jaatee hai kaee baar aisa saamana ho jaata hai ki hamen us sthaan par ek ghoont paanee tak nahin milata hai us vakt yah log pattiyaan khaakar rahate hain inhen jo hai yah sikhaaya jaata hai bataaya jaata hai ki kaun see pattiyaan jo hai vah khaane se aap mar jaenge nahin yah sab cheejen unhen bataaya jaata hai kaun see pattiyaan kha sakate hain aapakee bhookh jo hai thodee see kam ho sakatee hai par inake paas ek tebalet hota hai phrend dava hotee hai jinhen yah log yooz karate hain jab inhen bhookh lagatee too yah tebalet jo hota hai unake bhookh lagane kee pratirodhak kshamata jo hai vah hata detee hai jisase bhookh jo hai vah kam lagata hai bhookh lagata hai ehasaas nahin hota kamajor nahin hone deta yah aur jo hai vitaamin kee goliyaan hotee hai phrend yah unhen aur ek taakat de deta hai bina khae pie inhen taakat jaise chaahe vaise bhee ab to phrend pahale to nahin tha lekin ab aarmee ko itanee suvidha ho gaee hai ki vah bina khae pie jo hai bina dava vagaira kee itanee unakee pratirodhak kshamata badh gaee hai ki apana jo hai maidaan mein dat kar rah sakate hain aur ladate hain kyonki unakee jo bhaatee hotee hai vah trening se hee ek aam insaan se alag ho jaate hain yah log aasha hai ki aap sabhee ko hai job pasand aaya hoga shukriya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सैनिकों को युद्ध के समय खाना कैसे पहुंचाया जाता है सैनिकों के युद्ध
URL copied to clipboard