#भारत की राजनीति

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:39
क्या मोदी सरकार सरकारी स्कूलों का निरीक्षण करने की तैयारी में शिक्षा के क्षेत्र में क्या सुधार होगा भी या नहीं सरकार की नीति आई है कई नए स्पेशल से में बहुत सारी संभावनाएं व्यक्त किया गया है जहां तक निजी करण की बार मोदी सरकार हो या कोई भी देश में शिक्षा व्यवस्था के लिए मात्र 35 वर्ष घर मेंट की योगदान है 65 पर कब प्राइवेट सेक्टर की कार्रवाई और कहे सेकेंडरी हायर सेकेंडरी इंटर कॉलेज हो या हायर एजुकेशन सब में प्राइवेट सेक्टर में और इतनी तेजी से पेंट लिखे इंजीनियरिंग कॉलेज मेडिकल कॉलेज यूनिवर्सिटी कितनी फीस ली जा रही है उनकी फीस देखो तो पता चलेगा कि वहां तो हम बच्चे पढ़ने से गरीबों के लिए प्राइवेट सेक्टर के स्कूलों को उठा लीजिए पूर्व सरकार ने कहीं कोई सरकार नहीं सुना आपने दूर से कहीं संता है वह मोदी कहते हमने आई आई एम की ब्रांच खोल दी है उड़ीसा में एम्स की ब्रांच खोलने जा रहे हैं है सूरत में खोलने जा रहा है और कहीं फुल नेट तो करते हैं लेकिन कुछ चुनिंदा लोगों को शहरों में मान लीजिए पूरी इंडिया में 4:00 a.m. फुल एच आर आई एम खोलो 2 साल का कौन सा तीर मार दी आपने भी तो उसी तरह से जब बेसिक बुनियादी कि जब देखो ना शहरों में पीली पीली गाड़ियां गांव में पीली पीली गाड़ियां पब्लिक स्कूल में 12 बच्चे जिस मोड़ पर जाएगी प्राइवेट यूनिवर्सिटी आगरा B.Ed कॉलेज ऐडेड कॉलेज खुले जा रहा है सरकार की नीतियां हो सकती है
Kya modee sarakaar sarakaaree skoolon ka nireekshan karane kee taiyaaree mein shiksha ke kshetr mein kya sudhaar hoga bhee ya nahin sarakaar kee neeti aaee hai kaee nae speshal se mein bahut saaree sambhaavanaen vyakt kiya gaya hai jahaan tak nijee karan kee baar modee sarakaar ho ya koee bhee desh mein shiksha vyavastha ke lie maatr 35 varsh ghar ment kee yogadaan hai 65 par kab praivet sektar kee kaarravaee aur kahe sekendaree haayar sekendaree intar kolej ho ya haayar ejukeshan sab mein praivet sektar mein aur itanee tejee se pent likhe injeeniyaring kolej medikal kolej yoonivarsitee kitanee phees lee ja rahee hai unakee phees dekho to pata chalega ki vahaan to ham bachche padhane se gareebon ke lie praivet sektar ke skoolon ko utha leejie poorv sarakaar ne kaheen koee sarakaar nahin suna aapane door se kaheen santa hai vah modee kahate hamane aaee aaee em kee braanch khol dee hai udeesa mein ems kee braanch kholane ja rahe hain hai soorat mein kholane ja raha hai aur kaheen phul net to karate hain lekin kuchh chuninda logon ko shaharon mein maan leejie pooree indiya mein 4:00 a.m. phul ech aar aaee em kholo 2 saal ka kaun sa teer maar dee aapane bhee to usee tarah se jab besik buniyaadee ki jab dekho na shaharon mein peelee peelee gaadiyaan gaanv mein peelee peelee gaadiyaan pablik skool mein 12 bachche jis mod par jaegee praivet yoonivarsitee aagara b.aid kolej aided kolej khule ja raha hai sarakaar kee neetiyaan ho sakatee hai

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:43
मोदी सरकार सरकारी स्कूलों का निजीकरण करने की तैयारी में इस शिक्षा क्षेत्र में क्या विकास होंगे जब शिक्षा का दीप भारत में तो वैसे भी शिक्षा ज्यादातर निजी हाथों में ही है आप इंजीनियरिंग कॉलेज आप देख लीजिए जॉब इन टेक्निकल कॉलेज है या फिर प्राइवेट हाथों में है में शिक्षा के लिए हमारी जो शिक्षा नीति बन रही है उस शिक्षा नीति में क्या बदलाव होते हैं वह सरकार ने कर दिया है उस शिक्षा नियत का अनुपालन प्राइवेट स्कूल करें या नए बदलाव या सरकारी स्कूल करें दोनों में प्रतियोगिता होती है प्रतियोगिता के कारण हमारे यहां तमाम अन्य परीक्षा मोटिवेशन नेट की परीक्षा होती है इसी प्रकार से एमबीबीएस हो गया था की भी होती है जब एक नई शिक्षा नीति सिस्टम बन जाएगा उसका एक नया मंच बिल्कुल हमें जब बन जाता है और उसका सभी का एक प्रोस्पेक्टर होता है तब उसने कंपटीशन समझ में आता है तू जब निजी हाथों में जाएगा और प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को जो वहां की सुविधाएं मिलेंगी उनके बैठने का तौर तरीका उनके अच्छे टीचर्स के तौर तरीके और सर की सरकारी स्कूलों में लोग बहुत बदमाशी करते हो ठीक से बच्चों को पढ़ा देने तनखा तो बहुत बहुत लेते हैं और उन्हें सब चीजों की बेसिक पहल जो है जिसे वेदांता गया है बाय जूस आ गया है तो ऑनलाइन तो आशीष ने बच्चों को सारी चीजें बताई जा रही हैं तो निजी करना आप किसी को भी समझ लीजिए वेदांत ऊपर हाथ में जा रहा है या मतलब बाईजूस कहां पर मैं जा रहा हूं ऑनलाइन पढ़ाई द्वारा स्कूलों में जो व्यवस्था होगी तो इन्हीं प्रोस्पेक्टर्स के माध्यम से योग्य मेन चीज वहां के बच्चों के लिए सुख सुविधाएं कैसे हैं क्लासेस कैसे हैं बच्चों का मानसिक विकास कैसे हो बच्चों के खेलने की क्या व्यवस्था निजी हाथों नगर चला जाएगा तो उसके लिए बच्चों को ज्यादा फायदा होगा
Modee sarakaar sarakaaree skoolon ka nijeekaran karane kee taiyaaree mein is shiksha kshetr mein kya vikaas honge jab shiksha ka deep bhaarat mein to vaise bhee shiksha jyaadaatar nijee haathon mein hee hai aap injeeniyaring kolej aap dekh leejie job in teknikal kolej hai ya phir praivet haathon mein hai mein shiksha ke lie hamaaree jo shiksha neeti ban rahee hai us shiksha neeti mein kya badalaav hote hain vah sarakaar ne kar diya hai us shiksha niyat ka anupaalan praivet skool karen ya nae badalaav ya sarakaaree skool karen donon mein pratiyogita hotee hai pratiyogita ke kaaran hamaare yahaan tamaam any pareeksha motiveshan net kee pareeksha hotee hai isee prakaar se emabeebeees ho gaya tha kee bhee hotee hai jab ek naee shiksha neeti sistam ban jaega usaka ek naya manch bilkul hamen jab ban jaata hai aur usaka sabhee ka ek prospektar hota hai tab usane kampateeshan samajh mein aata hai too jab nijee haathon mein jaega aur praivet skool mein padhane vaale bachchon ko jo vahaan kee suvidhaen milengee unake baithane ka taur tareeka unake achchhe teechars ke taur tareeke aur sar kee sarakaaree skoolon mein log bahut badamaashee karate ho theek se bachchon ko padha dene tanakha to bahut bahut lete hain aur unhen sab cheejon kee besik pahal jo hai jise vedaanta gaya hai baay joos aa gaya hai to onalain to aasheesh ne bachchon ko saaree cheejen bataee ja rahee hain to nijee karana aap kisee ko bhee samajh leejie vedaant oopar haath mein ja raha hai ya matalab baeejoos kahaan par main ja raha hoon onalain padhaee dvaara skoolon mein jo vyavastha hogee to inheen prospektars ke maadhyam se yogy men cheej vahaan ke bachchon ke lie sukh suvidhaen kaise hain klaases kaise hain bachchon ka maanasik vikaas kaise ho bachchon ke khelane kee kya vyavastha nijee haathon nagar chala jaega to usake lie bachchon ko jyaada phaayada hoga

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:32
प्रश्न है क्या मोदी सरकार सरकारी स्कूलों का निजीकरण करने की तैयारी में है इसे शिक्षा के क्षेत्र में क्या सुधारों का शुद्धीकरण क्या है कि हर क्षेत्र को पब्लिक सेक्टर को सेक्टर को मोदी सरकार क्या करें प्राइवेट कर रही है निजी करण कर रही हो मतलब किसी न किसी पूंजीपति के हाथ में दे रही है अभी सबसे बड़ी बात है कि जो एक प्राइवेट स्कूलों का अगर निजीकरण हो जाएगा मतलब अगर सुना है आपने तो कहीं ना कहीं आते आई होगी मीडिया में तभी बातें चर्चा हुई है अगर ऐसा निजी करण स्कूल होते हैं जो भी प्राइवेट स्कूल है प्राइवेट कॉलेज है तो क्या होगा कि जो गरीब परिवार के जो लोग पढ़ते हैं उनकी जो शिक्षा स्तर होगी एकदम डाउनवार्ड जाएगी मतलब उनकी शिक्षा स्तर एकदम पूरी तरह से बेकार हो जाएगी ऊपर ही नहीं सकते हैं मोदी जी के लिए सबसे अच्छी बात होगी होगी कि जो पढ़ने के इच्छुक लोग थे गरीब परिवार में वह तो पढ़ नहीं पाएंगे और इसका यही है कि वह निजी करण हो जाएगा तो उसमें जो भी एक मापदंड होगा फीस का ऑफिस गरीब गरीब आदमी नहीं दे पाएंगे वह देंगे तो अमीर लोग देंगे और इसमें सबसे बड़ा कारण इसका ही होगा कि जो भी टीचर हो रहे हैं वह भी कहीं ना कहीं इस निजी करण के साथ-साथ वह भी एक निजी कार्ड में ही जाएंगे उनका भी जो अस्तर रहेगा वह प्राइवेट होगा मतलब यह कहा जाए कि संविदा के तौर पर उन्हें रखा जाएगा तो इन दोनों ही क्षेत्र में एक बेरोजगारी देखी जाए और उसके साथ-साथ आप शिक्षा स्तर को एकदम पूरी तरह से धराशाई करें मैं तो जमीनी स्तर पर लाकर खड़ा कर दीजिए ऐसी तैयारी अगर हो रही है तो सरकार पूरी तरह से इसको लागू कर दें क्योंकि तू चाहती है कि गरीब गरीब रहे अमीर अमीर हो तो ही मुझे लगता है फंडा बहुत अच्छा होगा सरकार के लिए क्योंकि अभी शिक्षा नई नीति आई है इसके थ्रू अगर देखा जाए तो एक ऐसी नियम अगर बन रहे हैं तो सरकार के लिए बेनिफिट होगा वही आम जनता को सबसे बड़ा घातक और नुकसान होने वाला है क्योंकि इससे शिक्षा स्तर सुधारने बहुत ही खराब कंडीशन हो जाएगी धनी
Prashn hai kya modee sarakaar sarakaaree skoolon ka nijeekaran karane kee taiyaaree mein hai ise shiksha ke kshetr mein kya sudhaaron ka shuddheekaran kya hai ki har kshetr ko pablik sektar ko sektar ko modee sarakaar kya karen praivet kar rahee hai nijee karan kar rahee ho matalab kisee na kisee poonjeepati ke haath mein de rahee hai abhee sabase badee baat hai ki jo ek praivet skoolon ka agar nijeekaran ho jaega matalab agar suna hai aapane to kaheen na kaheen aate aaee hogee meediya mein tabhee baaten charcha huee hai agar aisa nijee karan skool hote hain jo bhee praivet skool hai praivet kolej hai to kya hoga ki jo gareeb parivaar ke jo log padhate hain unakee jo shiksha star hogee ekadam daunavaard jaegee matalab unakee shiksha star ekadam pooree tarah se bekaar ho jaegee oopar hee nahin sakate hain modee jee ke lie sabase achchhee baat hogee hogee ki jo padhane ke ichchhuk log the gareeb parivaar mein vah to padh nahin paenge aur isaka yahee hai ki vah nijee karan ho jaega to usamen jo bhee ek maapadand hoga phees ka ophis gareeb gareeb aadamee nahin de paenge vah denge to ameer log denge aur isamen sabase bada kaaran isaka hee hoga ki jo bhee teechar ho rahe hain vah bhee kaheen na kaheen is nijee karan ke saath-saath vah bhee ek nijee kaard mein hee jaenge unaka bhee jo astar rahega vah praivet hoga matalab yah kaha jae ki sanvida ke taur par unhen rakha jaega to in donon hee kshetr mein ek berojagaaree dekhee jae aur usake saath-saath aap shiksha star ko ekadam pooree tarah se dharaashaee karen main to jameenee star par laakar khada kar deejie aisee taiyaaree agar ho rahee hai to sarakaar pooree tarah se isako laagoo kar den kyonki too chaahatee hai ki gareeb gareeb rahe ameer ameer ho to hee mujhe lagata hai phanda bahut achchha hoga sarakaar ke lie kyonki abhee shiksha naee neeti aaee hai isake throo agar dekha jae to ek aisee niyam agar ban rahe hain to sarakaar ke lie beniphit hoga vahee aam janata ko sabase bada ghaatak aur nukasaan hone vaala hai kyonki isase shiksha star sudhaarane bahut hee kharaab kandeeshan ho jaegee dhanee

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:41
देखिए अगर यह सही बात है तो काफी अच्छा रहेगा यह परंतु गवर्नमेंट को जो चीज है वह अपने हाथ में रखनी होगी क्योंकि इसका ही इंपैक्ट आएगा अब गवर्नमेंट सब्सिडी दे सकती है नॉर्मल के खाते में डायरेक्ट जो भी अभिभावकों उसके खाते में बच्चे के खाते में गार्डन के खाते में जाए उसकी फीस और वह निकाल कर दे स्कूल में परंतु को डायरेक्ट पीसना बढ़ाते हुए फिल्म को निजी स्कूलों के हाथ में ना डालें फिर तो दिक्कत हो जाएगी निजीकरण फैसला तो बहुत अच्छा होगा इससे शिक्षा के क्षेत्र में काफी सुधार होंगे
Dekhie agar yah sahee baat hai to kaaphee achchha rahega yah parantu gavarnament ko jo cheej hai vah apane haath mein rakhanee hogee kyonki isaka hee impaikt aaega ab gavarnament sabsidee de sakatee hai normal ke khaate mein daayarekt jo bhee abhibhaavakon usake khaate mein bachche ke khaate mein gaardan ke khaate mein jae usakee phees aur vah nikaal kar de skool mein parantu ko daayarekt peesana badhaate hue philm ko nijee skoolon ke haath mein na daalen phir to dikkat ho jaegee nijeekaran phaisala to bahut achchha hoga isase shiksha ke kshetr mein kaaphee sudhaar honge

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:08
कौन सी ऐसी रात नहीं है मोदी का मैच में सरकारी स्कूलों को निजीकरण किया जाएगा इससे कोई प्रस्ताव अभी तक आया नहीं है लेकिन हां अगर व्यतिकरण हो जाता है प्राइवेटाइजेशन हो जाता है कुल कितनी दिक्कत यहां पर आएगा कि जो हमारी निम्न स्तर के दो बच्चे हैं उनकी पढ़ाई में दिक्कत आएगा क्योंकि उनको एजुकेशन शीला फिल्म होता था लेकिन प्राइवेटाइजेशन की वजह से शायद उनको कोई कॉस्ट पर करना पड़ेगा इसके लिए जिसके लिए हमारी भारत की शिक्षा गुणवत्ता में कमी आ जाएगी और काफी मात्रा में विधानसभा निजी करण हो जाता है तो भी कंपटीशन बढ़ जाता है स्कूल में और कंपटीशन के साथ का कॉस्ट भी बढ़ जाता है तो इसीलिए काफी बच्चे एक टिकट होगा सोसाइटी में की खातिर बच्चे स्कूल का अक्स हो पाएंगे और काफी बच्चे होने पाएंगे तो इसके लिए शिक्षा के स्तर में सुधार तो नहीं आएगा क्योंकि भारत में हर एक नागरिक केंद्रित नहीं है प्राइवेट स्कूल में जॉइन करने के लिए धन्यवाद
Kaun see aisee raat nahin hai modee ka maich mein sarakaaree skoolon ko nijeekaran kiya jaega isase koee prastaav abhee tak aaya nahin hai lekin haan agar vyatikaran ho jaata hai praivetaijeshan ho jaata hai kul kitanee dikkat yahaan par aaega ki jo hamaaree nimn star ke do bachche hain unakee padhaee mein dikkat aaega kyonki unako ejukeshan sheela philm hota tha lekin praivetaijeshan kee vajah se shaayad unako koee kost par karana padega isake lie jisake lie hamaaree bhaarat kee shiksha gunavatta mein kamee aa jaegee aur kaaphee maatra mein vidhaanasabha nijee karan ho jaata hai to bhee kampateeshan badh jaata hai skool mein aur kampateeshan ke saath ka kost bhee badh jaata hai to iseelie kaaphee bachche ek tikat hoga sosaitee mein kee khaatir bachche skool ka aks ho paenge aur kaaphee bachche hone paenge to isake lie shiksha ke star mein sudhaar to nahin aaega kyonki bhaarat mein har ek naagarik kendrit nahin hai praivet skool mein join karane ke lie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard