#undefined

bolkar speaker

क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?

Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:54
आपका सवाल है क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है कमजोर हो चुका है ऐसा कह सकते हैं क्योंकि जो इसके अंदर असामाजिक तत्व थे उनकी बहुत ज्यादा इसमें भरमार थी शुरुआत हुआ था किसान आंदोलन और उसमें भी आप देखो जमींदार इन वर्ल्ड थे जिनके पास करोड़ों की संपत्ति है तो उन्होंने बहुत सारे किसान हैं उन को भड़का कर प्रभावित कर कर उनको इसमें शामिल किया उनकी कई मांगे थे अब सरकार ने कुछ मांगे पूरी भी की हैं तो इसलिए वह शांत भी हुए हैं और आप देखेंगे जो खालिस्तानी है इसमें या अकाली दल का है और फिर इलेक्शन आने वाला है तो उसका एक चौथा तो कम्युनिस्ट पार्टी सर्विसमैन वर्ल्ड हो गई उसमें पूरे ऑर्गेनाइजर तरीके से उन्होंने किया है अभी कल परसो ही किसी का मैंने वीडियो देखा मेरे पहचान का व्यक्ति है और मैं जानती हूं उसका दूर दूर तक किसानों से कोई लेना देना नहीं है तो वह भी हंस रहे हैं मजाक कर रहे हैं वहां पर आंदोलन कर रहे हैं मतलब सिर्फ और सिर्फ जो नरेशन के खिलाफ है यह हमारी सरकार के खिलाफ है जिसके तेरा दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है तो उनके खिलाफ जो खड़ा हुआ है अपनी मांग रख कर आया तो उसका साथ दे रहे हैं उसका साथ नहीं दे रहे हैं वह वह उस कॉमेंट के खिलाफ खड़े हैं और वह हमारे एंटी नेशनल एक्टिविटीज इन वर्ल्ड एंटी नेशनल एंटी नेशनल लिस्ट है ऐसा मैं समझती हूं तो जैसे इनकी फंडिंग रोकी गई इनके ऊपर शिकंजा कसा गया धीरे-धीरे के पीछे होते गए अब आप देखो कि वहां पर कौन लोग खड़े हैं तो जो भी अपने आप को सपोर्ट कर पा रहे हैं वहीं खड़े इन मिनिमम सपोर्ट प्राइस का जिन्होंने प्रस्ताव रखा उनको मिल गया वह सब वहां से निकल गए हैं राजनीतिकरण है और कुछ नहीं है और कमजोर पड़ चुका है और डेफिनेटली धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा जैसे शाहीन बाग का हुआ था कि की बेबुनियाद है कि बहुत सारी उसमें कोई लॉजिक नहीं है आप भी अगर फॉलो कर रहे हैं इसलिए उसको और डिटेल्स देख रहे हैं तो आप जानते हैं और समझ किस तरह से यह जो कानून है वह फायदेमंद है कितनी रुखसार भी हैं कि हर चीज के दो पहलू होते हैं सिक्के के जो सही है वह सही है जो मांगे और जो गलत है वह गलत ही हैं और नुकसान किसका हुआ है किसान तो पहले भी एक नुकसान की पोजीशन में ही थे पहले भी लास्ट में ही थे तो अभी किस का नुकसान हुआ है मुझे जमींदारों का नुकसान हुआ है या जिन जमाखोरों का नुकसान हुआ है उन्हीं को ज्यादा प्रॉब्लम हो रही है और वह चाहते हैं कि 18 हार बनी बनी रहे देश के अंदर जिसके लिए वही आंदोलन जारी रखना चाहते हैं तो वह सिर्फ एक बहाना है पहले से था और भी है बेसिकली कोई भी बिल पास किया जाएगा या कोई भी ऐसी देश के हित में कुछ भी नया करने की कोशिश की जाएगी पुराने बदलाव को हटाने की कोशिश की जाएगी तभी असामाजिक तत्व हमेशा एक्टिव होंगे ही और अपना यह दिखाएंगे धन्यवाद
Aapaka savaal hai kya kisaan aandolan ab kamajor ho chuka hai kamajor ho chuka hai aisa kah sakate hain kyonki jo isake andar asaamaajik tatv the unakee bahut jyaada isamen bharamaar thee shuruaat hua tha kisaan aandolan aur usamen bhee aap dekho jameendaar in varld the jinake paas karodon kee sampatti hai to unhonne bahut saare kisaan hain un ko bhadaka kar prabhaavit kar kar unako isamen shaamil kiya unakee kaee maange the ab sarakaar ne kuchh maange pooree bhee kee hain to isalie vah shaant bhee hue hain aur aap dekhenge jo khaalistaanee hai isamen ya akaalee dal ka hai aur phir ilekshan aane vaala hai to usaka ek chautha to kamyunist paartee sarvisamain varld ho gaee usamen poore orgenaijar tareeke se unhonne kiya hai abhee kal paraso hee kisee ka mainne veediyo dekha mere pahachaan ka vyakti hai aur main jaanatee hoon usaka door door tak kisaanon se koee lena dena nahin hai to vah bhee hans rahe hain majaak kar rahe hain vahaan par aandolan kar rahe hain matalab sirph aur sirph jo nareshan ke khilaaph hai yah hamaaree sarakaar ke khilaaph hai jisake tera dushman ka dushman dost hota hai to unake khilaaph jo khada hua hai apanee maang rakh kar aaya to usaka saath de rahe hain usaka saath nahin de rahe hain vah vah us koment ke khilaaph khade hain aur vah hamaare entee neshanal ektiviteej in varld entee neshanal entee neshanal list hai aisa main samajhatee hoon to jaise inakee phanding rokee gaee inake oopar shikanja kasa gaya dheere-dheere ke peechhe hote gae ab aap dekho ki vahaan par kaun log khade hain to jo bhee apane aap ko saport kar pa rahe hain vaheen khade in minimam saport prais ka jinhonne prastaav rakha unako mil gaya vah sab vahaan se nikal gae hain raajaneetikaran hai aur kuchh nahin hai aur kamajor pad chuka hai aur dephinetalee dheere-dheere khatm ho jaega jaise shaaheen baag ka hua tha ki kee bebuniyaad hai ki bahut saaree usamen koee lojik nahin hai aap bhee agar pholo kar rahe hain isalie usako aur ditels dekh rahe hain to aap jaanate hain aur samajh kis tarah se yah jo kaanoon hai vah phaayademand hai kitanee rukhasaar bhee hain ki har cheej ke do pahaloo hote hain sikke ke jo sahee hai vah sahee hai jo maange aur jo galat hai vah galat hee hain aur nukasaan kisaka hua hai kisaan to pahale bhee ek nukasaan kee pojeeshan mein hee the pahale bhee laast mein hee the to abhee kis ka nukasaan hua hai mujhe jameendaaron ka nukasaan hua hai ya jin jamaakhoron ka nukasaan hua hai unheen ko jyaada problam ho rahee hai aur vah chaahate hain ki 18 haar banee banee rahe desh ke andar jisake lie vahee aandolan jaaree rakhana chaahate hain to vah sirph ek bahaana hai pahale se tha aur bhee hai besikalee koee bhee bil paas kiya jaega ya koee bhee aisee desh ke hit mein kuchh bhee naya karane kee koshish kee jaegee puraane badalaav ko hataane kee koshish kee jaegee tabhee asaamaajik tatv hamesha ektiv honge hee aur apana yah dikhaenge dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:19
जी बिल्कुल नहीं किसान आंदोलन अभी तक कभी वह मूवी फेस में है वह इतना आसान तरीके से बंद हुआ नहीं है लेकिन वह अपने मूड बदल रहे हैं वह कुछ अलग ही दिशाओं की तरफ जा रहे हैं उसको अंदर उनको और मिश्रण कराने के लिए वह अपनी जो स्टडीज है उसको बदल रहे हैं
Jee bilkul nahin kisaan aandolan abhee tak kabhee vah moovee phes mein hai vah itana aasaan tareeke se band hua nahin hai lekin vah apane mood badal rahe hain vah kuchh alag hee dishaon kee taraph ja rahe hain usako andar unako aur mishran karaane ke lie vah apanee jo stadeej hai usako badal rahe hain

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:29
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है तो सरकार जो है उस के संदर्भ में कोई सपोर्ट नहीं कर रहा है और किसानों की तरफ से भी कोई तोड़ नहीं है क्योंकि यह मामला किसानों की जमीन का है कि टिका है और आने वाली कई पीढ़ियों का है तू जब से जब इसकी अमल बजाओ ने शुरू हो जाएगी इस कानून पर अमल बनना शुरू हो जाएगा करना शुरू हो जाएगा तब इसकी प्रतिक्रिया क्या होगी इससे पता चलेगा कि किसान के हित के लिए कुछ हो गया सन के अलावा जो कॉरपोरेट्स है उनके हित में होने जा रही है तो सरकार अपना सारा जो ताकत है सारी ताकत वो इस आंदोलन को कमजोर बनाने में लगी हुई है और सरकार के पास बहुत बड़ी शक्ति होती है वह भी जनता ने दी हुई होती है और उसका इस्तेमाल किस तरह से करना चाहिए इसे क सरकर की नैतिक जिम्मेदारी होती है और अगर इसमें राजनीति या बड़े आर्थिक मामले और इंटरनेशनल ड्रेस कुत्ते तबीयत गंभीर प्रश्न बन जाता है इसमें जूसर भड़क सकती है कई लोग मारे जा सकते हैं कई लोग राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश करते हैं तो यहां पर हो धीरे-धीरे किसान आंदोलन कम करने का ट्रैक्टर जी सरकार द्वारा अपनाया जा रहा है और आखिरकार उसको दबाया जाना जाना तो यह है तू कुछ हद तक किसानों का आंदोलन कमजोर हो रहा है यह बताओ भविष्य में आती है और दूसरी एक और महत्वपूर्ण बात आप जरूर समझ में आती है कि भारत के सभी किसान जो है वह इसका विरोध नहीं कर रहे हैं दूसरी कई राज्यों के किसानों पर कोई विरोधी आंदोलन नहीं कर रहे हैं ना किसानों की संख्या जिसमें उसके हिसाब से तो इस के पूरे किसानों का आंदोलन में अगर बनता है तो वह मजबूत होगा अगर नहीं बनता है तो वह कमजोर होगा धन्यवाद
Kya kisaan aandolan ab kamajor ho chuka hai to sarakaar jo hai us ke sandarbh mein koee saport nahin kar raha hai aur kisaanon kee taraph se bhee koee tod nahin hai kyonki yah maamala kisaanon kee jameen ka hai ki tika hai aur aane vaalee kaee peedhiyon ka hai too jab se jab isakee amal bajao ne shuroo ho jaegee is kaanoon par amal banana shuroo ho jaega karana shuroo ho jaega tab isakee pratikriya kya hogee isase pata chalega ki kisaan ke hit ke lie kuchh ho gaya san ke alaava jo koraporets hai unake hit mein hone ja rahee hai to sarakaar apana saara jo taakat hai saaree taakat vo is aandolan ko kamajor banaane mein lagee huee hai aur sarakaar ke paas bahut badee shakti hotee hai vah bhee janata ne dee huee hotee hai aur usaka istemaal kis tarah se karana chaahie ise ka sarakar kee naitik jimmedaaree hotee hai aur agar isamen raajaneeti ya bade aarthik maamale aur intaraneshanal dres kutte tabeeyat gambheer prashn ban jaata hai isamen joosar bhadak sakatee hai kaee log maare ja sakate hain kaee log raajaneetik phaayada uthaane kee koshish karate hain to yahaan par ho dheere-dheere kisaan aandolan kam karane ka traiktar jee sarakaar dvaara apanaaya ja raha hai aur aakhirakaar usako dabaaya jaana jaana to yah hai too kuchh had tak kisaanon ka aandolan kamajor ho raha hai yah batao bhavishy mein aatee hai aur doosaree ek aur mahatvapoorn baat aap jaroor samajh mein aatee hai ki bhaarat ke sabhee kisaan jo hai vah isaka virodh nahin kar rahe hain doosaree kaee raajyon ke kisaanon par koee virodhee aandolan nahin kar rahe hain na kisaanon kee sankhya jisamen usake hisaab se to is ke poore kisaanon ka aandolan mein agar banata hai to vah majaboot hoga agar nahin banata hai to vah kamajor hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
0:39
किसान विरोध इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उन्हें ऑन न्यूनतम मूल्य मिलता है और उस कानून में साफ नहीं किया गया कि मंडी के बाहर कि क्या उन्हें न्यूनतम मूल्य मिलेगा या नहीं तो यही सब लेकर किसान विरोध कर रहे हैं लेकिन मेरे पापा भी किसान हैं और वह किसी आंदोलन में नहीं गए और ना ही वह विरोध करने गए उन्होंने मुझसे कहा भी नहीं कि मुझे तो पता ही नहीं कि विरोध हो क्यों रहा है मतलब वह तो न्यूज़ से पता चला जब गेहूं में पानी चलाने का टाइम था तो यह लोग विरोध क्यों कर रहे थे पसंद क्यों नहीं देख रहे थे
Kisaan virodh isalie kar rahe hain kyonki unhen on nyoonatam mooly milata hai aur us kaanoon mein saaph nahin kiya gaya ki mandee ke baahar ki kya unhen nyoonatam mooly milega ya nahin to yahee sab lekar kisaan virodh kar rahe hain lekin mere paapa bhee kisaan hain aur vah kisee aandolan mein nahin gae aur na hee vah virodh karane gae unhonne mujhase kaha bhee nahin ki mujhe to pata hee nahin ki virodh ho kyon raha hai matalab vah to nyooz se pata chala jab gehoon mein paanee chalaane ka taim tha to yah log virodh kyon kar rahe the pasand kyon nahin dekh rahe the

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:17
तो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है नहीं दोस्तों किसान आंदोलन कमजोर नहीं हुआ है वैसे ही किसान आंदोलन कर रहे हैं और चक्का जाम कर रहे हैं रोड बंद कर रहे हो ग्रह कमजोर नहीं है तो दोस्तों यह कमजोर नहीं हुआ है धन्यवाद
To doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai kya kisaan aandolan ab kamajor ho chuka hai nahin doston kisaan aandolan kamajor nahin hua hai vaise hee kisaan aandolan kar rahe hain aur chakka jaam kar rahe hain rod band kar rahe ho grah kamajor nahin hai to doston yah kamajor nahin hua hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
6:37
देखिए किसान आंदोलन के बीच एक छोटी सी बच्ची ने क्या कहा गलत जानकारियां दी मंडीर लड़ना मुश्किल होगा वरना सभी किसानों को दिल की गहराइयों से सलाम करती हूं वक्त बीत चुका है गुरु की तरह नियंत्रण ताऊ देवीलाल की तरह किसानों के वध की तरह देना पड़ा था प्रलय की घोर घटाएं चलना होगा तेरे हैं तेरे मेरे पापा को बार-बार क्यों नहीं गए मैंने तुम्हारे बारे में तुम खड़े थे और इस काम को हिमालयन देने वाले यह बच्ची मध्य प्रदेश से आंदोलन में शामिल होने आई है धन्यवाद
Dekhie kisaan aandolan ke beech ek chhotee see bachchee ne kya kaha galat jaanakaariyaan dee mandeer ladana mushkil hoga varana sabhee kisaanon ko dil kee gaharaiyon se salaam karatee hoon vakt beet chuka hai guru kee tarah niyantran taoo deveelaal kee tarah kisaanon ke vadh kee tarah dena pada tha pralay kee ghor ghataen chalana hoga tere hain tere mere paapa ko baar-baar kyon nahin gae mainne tumhaare baare mein tum khade the aur is kaam ko himaalayan dene vaale yah bachchee madhy pradesh se aandolan mein shaamil hone aaee hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है?Kya Kisaan Aandolan Ab Kamjor Ho Chuka Hai
Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:29
क्या किसान आंदोलन आप कमजोर हो चुका है देखे जैसा कि आज भी देखा कि किसान आंदोलन किसान आंदोलन रहा ही नहीं है क्योंकि गवर्नमेंट ने कहा है हम हर मुद्दे पर बात करने को तैयार है केवल बात नहीं हो पाएगा आप जो भी अमेंडमेंट कराना चाहते हैं वह कराइए परंतु अब किसान को गोल्ड किसान है जो कि जो किसान नहीं है वह लोग कह रहे हैं कि नहीं हमें तो बिल वापसी चाहिए तभी तो अब यह एक तरीके से आमने सामने की लड़ाई करना चाह रहे हैं
Kya kisaan aandolan aap kamajor ho chuka hai dekhe jaisa ki aaj bhee dekha ki kisaan aandolan kisaan aandolan raha hee nahin hai kyonki gavarnament ne kaha hai ham har mudde par baat karane ko taiyaar hai keval baat nahin ho paega aap jo bhee amendament karaana chaahate hain vah karaie parantu ab kisaan ko gold kisaan hai jo ki jo kisaan nahin hai vah log kah rahe hain ki nahin hamen to bil vaapasee chaahie tabhee to ab yah ek tareeke se aamane saamane kee ladaee karana chaah rahe hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान किसान आंदोलन की ताजा खबर, किसान किसान आंदोलन न्यूज़, किसान आंदोलन जानकारी
URL copied to clipboard