#जीवन शैली

bolkar speaker

जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?

Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:42
देखें कुंडली का पांचवा घर जाने कि आपका एजुकेशन का आपका फैमिली लाइफ आपका संतान का आपके प्रेम संबंध था और कुंडली का नवम है आपके भाग्य का आपके पराक्रम का और आप की विदेश यात्रा का अगर यह पांचवीं और नौवें घर में शनि राहु केतु जैसे घर ग्रह हुए पूर्व ग्रह तो फिर आदमी सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता या फिर अगर चंद्रमा के साथ राहु या केतु बाकी चंद्रमा मन का कारक है अगर चंद्र राहु केतु किसी भी घर में हुआ तो आपको मानसिक अवसाद समाचार
Dekhen kundalee ka paanchava ghar jaane ki aapaka ejukeshan ka aapaka phaimilee laiph aapaka santaan ka aapake prem sambandh tha aur kundalee ka navam hai aapake bhaagy ka aapake paraakram ka aur aap kee videsh yaatra ka agar yah paanchaveen aur nauven ghar mein shani raahu ketu jaise ghar grah hue poorv grah to phir aadamee sadaiv maanasik avasaad se ghira rahata ya phir agar chandrama ke saath raahu ya ketu baakee chandrama man ka kaarak hai agar chandr raahu ketu kisee bhee ghar mein hua to aapako maanasik avasaad samaachaar

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
Aditya Tripathi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
0:35
हेलो फ्रेंड यदि त्रिपाठी आपका प्रश्न 1 जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से ज्यादा सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है मानसिक पीड़ा यमन संबंधित सभी प्रकार के अवसरों के लिए चतुर्थ भाव ही उत्तरदाई होता है अगर चंद्रमा चतुर्थ भाव और चतुर्थ भाव के स्वामी दोबारा लखनऊ के लिए सातों ग्रहों में से कोई भी हो सकते हैं पीड़ित हो दुखी हो तो व्यक्ति गौरव सर से घिरा रहता है अर्थात चतुर्थ भाव की मानसिक अवसाद के लिए उत्तरदाई है धन्यवाद
Helo phrend yadi tripaathee aapaka prashn 1 janm kundalee mein upasthit kis bhaav se jyaada sadaiv maanasik avasaad se ghira rahata hai maanasik peeda yaman sambandhit sabhee prakaar ke avasaron ke lie chaturth bhaav hee uttaradaee hota hai agar chandrama chaturth bhaav aur chaturth bhaav ke svaamee dobaara lakhanoo ke lie saaton grahon mein se koee bhee ho sakate hain peedit ho dukhee ho to vyakti gaurav sar se ghira rahata hai arthaat chaturth bhaav kee maanasik avasaad ke lie uttaradaee hai dhanyavaad

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:58
जन्म कुंडली में निम्न भाव के कारण स्वदेश जातक सदैव मानसिक अवसाद एक ग्यारह होते हैं वह निम्न भाव यह है कि पहला दूसरा और तीसरा सनी और चौथा शानदार के कारण मानसिक अवसाद से घिरे होते हैं अर्थात हमारे दिमागी की दिमाग की कमजोरी के कारण डिप्रेशन बोलते हैं इसको डिप्रेशन होने के कारण यह सब होता है लेकिन सबसे ज्यादा नकारात्मक आने राहुल को प्रमुख माना गया था सबसे अधिक चिंतन का कारण शनिदेव को माना गया है
Janm kundalee mein nimn bhaav ke kaaran svadesh jaatak sadaiv maanasik avasaad ek gyaarah hote hain vah nimn bhaav yah hai ki pahala doosara aur teesara sanee aur chautha shaanadaar ke kaaran maanasik avasaad se ghire hote hain arthaat hamaare dimaagee kee dimaag kee kamajoree ke kaaran dipreshan bolate hain isako dipreshan hone ke kaaran yah sab hota hai lekin sabase jyaada nakaaraatmak aane raahul ko pramukh maana gaya tha sabase adhik chintan ka kaaran shanidev ko maana gaya hai

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:35
सवालिया की जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है तो जन्म कुंडली में लग्न भाव बढ़ने पर दुष्प्रभावों से व्यक्ति सदा मानसिक अवसाद से घिरा रहता है जो कि इस प्रकार से हो सकते हैं जैसे लग रहा कर्तरी में या अशुभ प्रभाव युक्त होने पर लग्न भाव में मन का कारक चंद्रपुर रूम दोष से पीड़ित हो लग्न भाव में चंद्र राहु युति से ग्रहण दोष स्थिति बनी रही हो लग्न भाव में शनि चंद्र की युति हो या चंद्र शनि से दृष्ट होने से विश्व दोष की स्थिति होने पर मानसिक अवसाद रहता है आज चंद्रमा अंश बल से हीन हो नीच राशि वृश्चिक में विराजमान हो नीच भंग ना हो रहा हो और पाप ग्रह से प्रभावित हो कुंडली में किसी भी भाव में चंद्र राहु शनि की युति हो यदि जन्म कुंडली में चंद्र केमद्रुम दोष में हो राहु से युत होकर ग्रहण दोष में हो साथ ही शनि दृष्ट भी हो रहा हो तो अधिक मानसिक संताप या अवसाद ग्रस्त जातक रहेगा कुंडली में किसी भी रुप से मान कारक चंद्र पीड़ित होगा तो मानसिक तनाव अवसाद ग्रस्त रहेगा पीड़ा जितनी अधिक होगी उसका प्रभाव उतना ही अधिक रहेगा यह जातक विशेष की कुंडली में बनने वाले ग्रहों की परिस्थितियों से प्रभावित रहेगा
Savaaliya kee janm kundalee mein upasthit kis bhaav se jaatak sadaiv maanasik avasaad se ghira rahata hai to janm kundalee mein lagn bhaav badhane par dushprabhaavon se vyakti sada maanasik avasaad se ghira rahata hai jo ki is prakaar se ho sakate hain jaise lag raha kartaree mein ya ashubh prabhaav yukt hone par lagn bhaav mein man ka kaarak chandrapur room dosh se peedit ho lagn bhaav mein chandr raahu yuti se grahan dosh sthiti banee rahee ho lagn bhaav mein shani chandr kee yuti ho ya chandr shani se drsht hone se vishv dosh kee sthiti hone par maanasik avasaad rahata hai aaj chandrama ansh bal se heen ho neech raashi vrshchik mein viraajamaan ho neech bhang na ho raha ho aur paap grah se prabhaavit ho kundalee mein kisee bhee bhaav mein chandr raahu shani kee yuti ho yadi janm kundalee mein chandr kemadrum dosh mein ho raahu se yut hokar grahan dosh mein ho saath hee shani drsht bhee ho raha ho to adhik maanasik santaap ya avasaad grast jaatak rahega kundalee mein kisee bhee rup se maan kaarak chandr peedit hoga to maanasik tanaav avasaad grast rahega peeda jitanee adhik hogee usaka prabhaav utana hee adhik rahega yah jaatak vishesh kee kundalee mein banane vaale grahon kee paristhitiyon se prabhaavit rahega

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:20
दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है जन्मकुंडली उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है तो दोस्तों जन्म कुंडली में जो मंगल होता है दोस्तों मंगल स्थित होता है उसे मानसिक अवसाद से वह गिरा रहता है और शनि शनि और मंगल जिसका भारी होता है उसे मानसिक अवसाद हो सकता है धन्यवाद
Doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai janmakundalee upasthit kis bhaav se jaatak sadaiv maanasik avasaad se ghira rahata hai to doston janm kundalee mein jo mangal hota hai doston mangal sthit hota hai use maanasik avasaad se vah gira rahata hai aur shani shani aur mangal jisaka bhaaree hota hai use maanasik avasaad ho sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जातक सदैव मानसिक अवसाद से घिरा रहता है?Janm Kundli Mein Upasthit Kis Bhaav Se Jatak Sadaiv Maansik Avsaad Se Ghira Rahta Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:57

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कुंडली में मानसिक रोग के योग,मानसिक रोग के ज्योतिष उपाय,ज्योतिष और मानसिक रोग
URL copied to clipboard