#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?

Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:27
हेलो दुकान तो आज आपने सवाल है कि क्या आजकल मिल मिल गई जिस तुम की अहमियत को समझते हैं तो फिर क्या होता है कि लोगों को काम करने के लिए मतलब जॉब के लिए पढ़ाई के लिए दूर दूर जाना पड़ता है पहले क्या था कि हर लोग जितना पढ़ाई लिखाई को जॉब को इतना नहीं देता था पहले इतना खुश था कि हरेक लोगों को पढ़ना जॉब करना जरूरी है पर अभी क्या है कि हर एक लड़का हो या लड़की हो हर एक इंसान चाहता है कि वह भी डबल हो वह भी अपने खुद के कुछ कमाई कर सके तो हर एक इंसान को दूर रहना पड़ता है जरूरी नहीं होता है कि आप जहां पर आपकी फैमिली रहती है वहीं पर ही आपको भी जॉब यंग कॉलेज हर एक सुविधाएं आपको वहां पर मिले तो दूर जाना पड़ता जिस वजह से जो पाउंड होता है और जैसे इंसान मतलब रहते पहले के जैसे हम ना खेलना एक दूसरे को शेयर करना इस तरह की चीजें नहीं होती है मिसअंडरस्टैंडिंग होता है कि उसे लगता है कि नहीं घर परिवार को लगता ही नहीं बचा बिजी होगा और हम लोगों को लगता है कि नहीं मम्मी पापा अपने काम में व्यस्त होंगे या फिर जो भी हमारी फैमिली में जितने भी मेंबर से होता है दूसरा यह होता है कि आंचल में भी बिजी रहते टाइम नहीं दे पाते हैं क्योंकि आजकल नार्मल आपको कुछ पैसे कमाने के लिए 10 20000 कमाने के लिए भी आपको बहुत काम करना पड़ता है 7 घंटा 8 घंटा 10 घंटा तो इस वजह से लोग एक दूसरे को टाइम नहीं दे पाते अपनी फैमिली को या फिर फ्रेंड्स को तुझे इस वजह से रिश्ते को भी टाइम नहीं दे पा रहे हैं और ऐसा नहीं कि हमें समझते नहीं है टाइम नहीं दे पा रहे हैं और मुझे समझ ही नहीं पा रहे हैं कि कब हम कैसे टाइम निकालें किस तरह से बैठे किस तरह से बात करें तो पहले जैसी और बात नहीं रही लोग अब जैसे रहते कम बात करना अपने काम पर ज्यादा ध्यान देना ऐसे ही जिंदगी बना ली जिस वजह से पहले के जैसे बात नहीं रहा कभी लोग अकेले ही क्लियर सामने ही सब चीजों पर और यह फैमिली मतलब ज्यादा लोग सफर करते हैं रहना जैसे जॉइंट पहले रहते थे तो मेरे हिसाब से मुझे लगता है यही सब चीज की वजह से डिस्टेंस के वजह से जॉब की वजह से इस वजह से जो रिश्ते हैं वह मतलब उसमें डिस्टेंस आ गया है दूरियां भी है जिस वजह से लोग इतना टाइम नहीं दे पा रहे हैं मत नहीं बोलेंगे बस टाइम नहीं दे पा रहे
Helo dukaan to aaj aapane savaal hai ki kya aajakal mil mil gaee jis tum kee ahamiyat ko samajhate hain to phir kya hota hai ki logon ko kaam karane ke lie matalab job ke lie padhaee ke lie door door jaana padata hai pahale kya tha ki har log jitana padhaee likhaee ko job ko itana nahin deta tha pahale itana khush tha ki harek logon ko padhana job karana jarooree hai par abhee kya hai ki har ek ladaka ho ya ladakee ho har ek insaan chaahata hai ki vah bhee dabal ho vah bhee apane khud ke kuchh kamaee kar sake to har ek insaan ko door rahana padata hai jarooree nahin hota hai ki aap jahaan par aapakee phaimilee rahatee hai vaheen par hee aapako bhee job yang kolej har ek suvidhaen aapako vahaan par mile to door jaana padata jis vajah se jo paund hota hai aur jaise insaan matalab rahate pahale ke jaise ham na khelana ek doosare ko sheyar karana is tarah kee cheejen nahin hotee hai misandarastainding hota hai ki use lagata hai ki nahin ghar parivaar ko lagata hee nahin bacha bijee hoga aur ham logon ko lagata hai ki nahin mammee paapa apane kaam mein vyast honge ya phir jo bhee hamaaree phaimilee mein jitane bhee membar se hota hai doosara yah hota hai ki aanchal mein bhee bijee rahate taim nahin de paate hain kyonki aajakal naarmal aapako kuchh paise kamaane ke lie 10 20000 kamaane ke lie bhee aapako bahut kaam karana padata hai 7 ghanta 8 ghanta 10 ghanta to is vajah se log ek doosare ko taim nahin de paate apanee phaimilee ko ya phir phrends ko tujhe is vajah se rishte ko bhee taim nahin de pa rahe hain aur aisa nahin ki hamen samajhate nahin hai taim nahin de pa rahe hain aur mujhe samajh hee nahin pa rahe hain ki kab ham kaise taim nikaalen kis tarah se baithe kis tarah se baat karen to pahale jaisee aur baat nahin rahee log ab jaise rahate kam baat karana apane kaam par jyaada dhyaan dena aise hee jindagee bana lee jis vajah se pahale ke jaise baat nahin raha kabhee log akele hee kliyar saamane hee sab cheejon par aur yah phaimilee matalab jyaada log saphar karate hain rahana jaise joint pahale rahate the to mere hisaab se mujhe lagata hai yahee sab cheej kee vajah se distens ke vajah se job kee vajah se is vajah se jo rishte hain vah matalab usamen distens aa gaya hai dooriyaan bhee hai jis vajah se log itana taim nahin de pa rahe hain mat nahin bolenge bas taim nahin de pa rahe

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:31
जी नहीं बिल्कुल नहीं इस बात पर तुम्हें बिल्कुल समझाना चाहूंगा ऐसा नहीं समझती है बहुत अच्छा क्योंकि लगे आजकल एक तो रिश्ते जो हो गया वह बहुत नॉर्मल खिंचा बहुत कम हो गया है और बहुत कम होकर रह गए इतना नहीं है पहले जो रिश्ते होते थे लंबे-लंबे रिश्ता देखने जा रही है वह है यह वह है तो आजकल की पीढ़ी को यही नहीं मालूम कि यह कौन है वह कौन है बिल्कुल अपने घर पर रहना और कभी कबार इधर जाना है उधर जाना तो नॉर्मल होता है कि नहीं होता
Jee nahin bilkul nahin is baat par tumhen bilkul samajhaana chaahoonga aisa nahin samajhatee hai bahut achchha kyonki lage aajakal ek to rishte jo ho gaya vah bahut normal khincha bahut kam ho gaya hai aur bahut kam hokar rah gae itana nahin hai pahale jo rishte hote the lambe-lambe rishta dekhane ja rahee hai vah hai yah vah hai to aajakal kee peedhee ko yahee nahin maaloom ki yah kaun hai vah kaun hai bilkul apane ghar par rahana aur kabhee kabaar idhar jaana hai udhar jaana to normal hota hai ki nahin hota

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:51
क्वेश्चन है क्या आपकी की पीडी दोस्तों की इमेज को समझती है लेकिन मेरा मानना ऐसा है कि आप अपने बच्चों को कैसे सर्च कहां से यह कैसे मैसेज भेज रहे हैं यदि आप उनको रिश्तो में रहना सिखाते हैं रिश्तेदारों में घुलना मिलना सिखाते किसी दूसरे रिश्ते की क्या अहमियत होती है यह आप अगर उन्हें बचपन से ही सीख देते हैं तो कोई कोई सी भी पीढ़ी क्यों ना मुन्ना ही पुरानी और आने वाली पीढ़ियों में भी ऐसा क्यों ना हो वह जरूर जरूर जरूर ही समझेंगे और अहमियत क्या इतना समझेंगे कि उन्हें मतलब यह छोटे सपने पता रहता है बताया जाता है कि यह आपके मामा जी आए आपके पिताजी है ऐसा है तो वह इनको कैसे ठीक करते हैं कैसे संस्कार अपने दी है तो वही चीज है वह निरंतर चलती जाती है इस प्रकार से बोहेमिया जरूर समझेंगे और अच्छी परवरिश होगी तो बच्चा फिर वैसे ही करेगा दूर-दूर रह नहीं होगा जब आप रिप्लाई करें धन्यवाद
Kveshchan hai kya aapakee kee peedee doston kee imej ko samajhatee hai lekin mera maanana aisa hai ki aap apane bachchon ko kaise sarch kahaan se yah kaise maisej bhej rahe hain yadi aap unako rishto mein rahana sikhaate hain rishtedaaron mein ghulana milana sikhaate kisee doosare rishte kee kya ahamiyat hotee hai yah aap agar unhen bachapan se hee seekh dete hain to koee koee see bhee peedhee kyon na munna hee puraanee aur aane vaalee peedhiyon mein bhee aisa kyon na ho vah jaroor jaroor jaroor hee samajhenge aur ahamiyat kya itana samajhenge ki unhen matalab yah chhote sapane pata rahata hai bataaya jaata hai ki yah aapake maama jee aae aapake pitaajee hai aisa hai to vah inako kaise theek karate hain kaise sanskaar apane dee hai to vahee cheej hai vah nirantar chalatee jaatee hai is prakaar se bohemiya jaroor samajhenge aur achchhee paravarish hogee to bachcha phir vaise hee karega door-door rah nahin hoga jab aap riplaee karen dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
[🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए [🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] जी का जवाब
Student
1:31
हेलो मामा जी और आज की तारीख में कितना बड़ा होना सुबह से चक्कर में पड़ जाता है मतलब इस बात को समझते ना तो उनके पास है और जो लोग बचपन से ही उनको कुछ सिखाया नहीं जाता बच्चों को ऐसा कुछ अच्छा नहीं सिखाया जाता है सही कह रहे हो दोस्तों उस तरीके से करते हैं अगर जान जाता है वह तो वह गलत गांव से निकल जाता है तो जो इस तरीके से गलत शब्द निकल जाता है वह स्वयं उत्पन्न होता है फिर कैसा है अगर उसको नहीं पता होती तो शायद जानता अच्छा बुरा वह अच्छे से रिश्तो की कद्र करता है
Helo maama jee aur aaj kee taareekh mein kitana bada hona subah se chakkar mein pad jaata hai matalab is baat ko samajhate na to unake paas hai aur jo log bachapan se hee unako kuchh sikhaaya nahin jaata bachchon ko aisa kuchh achchha nahin sikhaaya jaata hai sahee kah rahe ho doston us tareeke se karate hain agar jaan jaata hai vah to vah galat gaanv se nikal jaata hai to jo is tareeke se galat shabd nikal jaata hai vah svayan utpann hota hai phir kaisa hai agar usako nahin pata hotee to shaayad jaanata achchha bura vah achchhe se rishto kee kadr karata hai

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:47
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तो की अहमियत को समझते हैं देखें यदि बात करेंगे तो क्या मैं हिंदुस्तान के अंदर लगभग 15 परसेंट ऐसे लोग हैं जो आज जो है दोस्तों की जो माता की पिक्चर सेंड करें आप चाची जी की आप प्यार से नहीं सुनते मर्डर मारकाट और गले से शादी के बारे में आप कहीं पर भी नहीं सुनते क्यों क्योंकि यह जो कानून जो हो रहे दोस्तों यही वजह से हो रहे हैं क्योंकि आजकल रिश्ते की अहमियत को नहीं समझ रही है आज भी भारत के अंदर
Kya aajakal kee peedhee rishto kee ahamiyat ko samajhate hain dekhen yadi baat karenge to kya main hindustaan ke andar lagabhag 15 parasent aise log hain jo aaj jo hai doston kee jo maata kee pikchar send karen aap chaachee jee kee aap pyaar se nahin sunate mardar maarakaat aur gale se shaadee ke baare mein aap kaheen par bhee nahin sunate kyon kyonki yah jo kaanoon jo ho rahe doston yahee vajah se ho rahe hain kyonki aajakal rishte kee ahamiyat ko nahin samajh rahee hai aaj bhee bhaarat ke andar

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:27
हेलो दुकान तो आज आपने सवाल है कि क्या आजकल मिल मिल गई जिस तुम की अहमियत को समझते हैं तो फिर क्या होता है कि लोगों को काम करने के लिए मतलब जॉब के लिए पढ़ाई के लिए दूर दूर जाना पड़ता है पहले क्या था कि हर लोग जितना पढ़ाई लिखाई को जॉब को इतना नहीं देता था पहले इतना खुश था कि हरेक लोगों को पढ़ना जॉब करना जरूरी है पर अभी क्या है कि हर एक लड़का हो या लड़की हो हर एक इंसान चाहता है कि वह भी डबल हो वह भी अपने खुद के कुछ कमाई कर सके तो हर एक इंसान को दूर रहना पड़ता है जरूरी नहीं होता है कि आप जहां पर आपकी फैमिली रहती है वहीं पर ही आपको भी जॉब यंग कॉलेज हर एक सुविधाएं आपको वहां पर मिले तो दूर जाना पड़ता जिस वजह से जो पाउंड होता है और जैसे इंसान मतलब रहते पहले के जैसे हम ना खेलना एक दूसरे को शेयर करना इस तरह की चीजें नहीं होती है मिसअंडरस्टैंडिंग होता है कि उसे लगता है कि नहीं घर परिवार को लगता ही नहीं बचा बिजी होगा और हम लोगों को लगता है कि नहीं मम्मी पापा अपने काम में व्यस्त होंगे या फिर जो भी हमारी फैमिली में जितने भी मेंबर से होता है दूसरा यह होता है कि आंचल में भी बिजी रहते टाइम नहीं दे पाते हैं क्योंकि आजकल नार्मल आपको कुछ पैसे कमाने के लिए 10 20000 कमाने के लिए भी आपको बहुत काम करना पड़ता है 7 घंटा 8 घंटा 10 घंटा तो इस वजह से लोग एक दूसरे को टाइम नहीं दे पाते अपनी फैमिली को या फिर फ्रेंड्स को तुझे इस वजह से रिश्ते को भी टाइम नहीं दे पा रहे हैं और ऐसा नहीं कि हमें समझते नहीं है टाइम नहीं दे पा रहे हैं और मुझे समझ ही नहीं पा रहे हैं कि कब हम कैसे टाइम निकालें किस तरह से बैठे किस तरह से बात करें तो पहले जैसी और बात नहीं रही लोग अब जैसे रहते कम बात करना अपने काम पर ज्यादा ध्यान देना ऐसे ही जिंदगी बना ली जिस वजह से पहले के जैसे बात नहीं रहा कभी लोग अकेले ही क्लियर सामने ही सब चीजों पर और यह फैमिली मतलब ज्यादा लोग सफर करते हैं रहना जैसे जॉइंट पहले रहते थे तो मेरे हिसाब से मुझे लगता है यही सब चीज की वजह से डिस्टेंस के वजह से जॉब की वजह से इस वजह से जो रिश्ते हैं वह मतलब उसमें डिस्टेंस आ गया है दूरियां भी है जिस वजह से लोग इतना टाइम नहीं दे पा रहे हैं मत नहीं बोलेंगे बस टाइम नहीं दे पा रहे
Helo dukaan to aaj aapane savaal hai ki kya aajakal mil mil gaee jis tum kee ahamiyat ko samajhate hain to phir kya hota hai ki logon ko kaam karane ke lie matalab job ke lie padhaee ke lie door door jaana padata hai pahale kya tha ki har log jitana padhaee likhaee ko job ko itana nahin deta tha pahale itana khush tha ki harek logon ko padhana job karana jarooree hai par abhee kya hai ki har ek ladaka ho ya ladakee ho har ek insaan chaahata hai ki vah bhee dabal ho vah bhee apane khud ke kuchh kamaee kar sake to har ek insaan ko door rahana padata hai jarooree nahin hota hai ki aap jahaan par aapakee phaimilee rahatee hai vaheen par hee aapako bhee job yang kolej har ek suvidhaen aapako vahaan par mile to door jaana padata jis vajah se jo paund hota hai aur jaise insaan matalab rahate pahale ke jaise ham na khelana ek doosare ko sheyar karana is tarah kee cheejen nahin hotee hai misandarastainding hota hai ki use lagata hai ki nahin ghar parivaar ko lagata hee nahin bacha bijee hoga aur ham logon ko lagata hai ki nahin mammee paapa apane kaam mein vyast honge ya phir jo bhee hamaaree phaimilee mein jitane bhee membar se hota hai doosara yah hota hai ki aanchal mein bhee bijee rahate taim nahin de paate hain kyonki aajakal naarmal aapako kuchh paise kamaane ke lie 10 20000 kamaane ke lie bhee aapako bahut kaam karana padata hai 7 ghanta 8 ghanta 10 ghanta to is vajah se log ek doosare ko taim nahin de paate apanee phaimilee ko ya phir phrends ko tujhe is vajah se rishte ko bhee taim nahin de pa rahe hain aur aisa nahin ki hamen samajhate nahin hai taim nahin de pa rahe hain aur mujhe samajh hee nahin pa rahe hain ki kab ham kaise taim nikaalen kis tarah se baithe kis tarah se baat karen to pahale jaisee aur baat nahin rahee log ab jaise rahate kam baat karana apane kaam par jyaada dhyaan dena aise hee jindagee bana lee jis vajah se pahale ke jaise baat nahin raha kabhee log akele hee kliyar saamane hee sab cheejon par aur yah phaimilee matalab jyaada log saphar karate hain rahana jaise joint pahale rahate the to mere hisaab se mujhe lagata hai yahee sab cheej kee vajah se distens ke vajah se job kee vajah se is vajah se jo rishte hain vah matalab usamen distens aa gaya hai dooriyaan bhee hai jis vajah se log itana taim nahin de pa rahe hain mat nahin bolenge bas taim nahin de pa rahe

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:23
सवाल पूछा गया है कि क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तो की अहमियत को समझती है या नहीं बहुत ही अच्छा प्रश्न है तो सवाल करता तो बता दें यह जो आप का सवाल है यह सारे लोगों पर बिल्कुल ही अलग अलग तरीके से फिट बैठता है क्योंकि हर एक इंसान एक अलग ही अनमोल मेंट में अलग संस्कारों में अलग फैमिली वैल्यूज के साथ पलता तू एक नॉर्मल जो हम मिडिल मैन जो एक आम इंसान जिंदगी होती है उसमें जो इंसान पलता है तुम्हें सिर्फ उस को ध्यान में रखकर अपना जवाब बता देता हूं कि जिस तरीके से हम लोग खा रहे हैं चल रहे हैं व्यवहार कर रहे हैं उससे जो बच्चे होते हैं वह फैमिली वैल्यूज को बिल्कुल अच्छे से समझते हैं मिथुन देते हैं परंतु वह व्यवहार में कभी भी दिखता नहीं है जी हां वक्त आने पर एक आम इंसान को जो बच्चा रहेगा जिसने नॉर्मल अपनी लाइफ में की वैल्यू की हुई है संस्कार अच्छे वाले बड़े हैं तो वह इंसान अपने मां-बाप के लिए खून का कतरा भी दे सकता है और अपनी चमड़ी उधेड़ सकता है और मां-बाप के जो रिस्पेक्ट होती है उसके लिए वह खुद भी सामने से लड़ सकता है परंतु यह चीज कभी भी मौका आता नहीं है सा और उनको कभी भी प्रूफ करने का मौका मिलता नहीं है परंतु उनके अंदर उनके दिल में बहुत अहमियत है इसमें बच्चे से जान नहीं थी आप अपने संस्कारों पर और अपने जो आपने जो हमको शिक्षा दी है उस पर जरूर विश्वास करें और मैं उम्मीद करता हूं मैं प्रार्थना करूंगा कि कभी भी आपके बच्चे या आप आने वाली जो पी ली है उनको उनका जो व्यवहार है वह हमेशा से पारदर्शिता हो जाएगी मेरठ की तरह हो जाएगी जो उनके अंदर जितनी रिस्पेक्ट बड़ों के लिए अपने मां-बाप के लिए उतनी ही व्यवहार मेरी वह दिख जाए और अगर थोड़ी भी कुछ कमी आ रही है तो आपस में बैठकर शांति से सुलझा करें साझा करें कि क्या कमी आती है रिश्ते में उम्मीद करता हूं मेरा जवाब हम को पसंद आया होगा अगर हां तो अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर संपर्क कीजिए धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya aajakal kee peedhee rishto kee ahamiyat ko samajhatee hai ya nahin bahut hee achchha prashn hai to savaal karata to bata den yah jo aap ka savaal hai yah saare logon par bilkul hee alag alag tareeke se phit baithata hai kyonki har ek insaan ek alag hee anamol ment mein alag sanskaaron mein alag phaimilee vailyooj ke saath palata too ek normal jo ham midil main jo ek aam insaan jindagee hotee hai usamen jo insaan palata hai tumhen sirph us ko dhyaan mein rakhakar apana javaab bata deta hoon ki jis tareeke se ham log kha rahe hain chal rahe hain vyavahaar kar rahe hain usase jo bachche hote hain vah phaimilee vailyooj ko bilkul achchhe se samajhate hain mithun dete hain parantu vah vyavahaar mein kabhee bhee dikhata nahin hai jee haan vakt aane par ek aam insaan ko jo bachcha rahega jisane normal apanee laiph mein kee vailyoo kee huee hai sanskaar achchhe vaale bade hain to vah insaan apane maan-baap ke lie khoon ka katara bhee de sakata hai aur apanee chamadee udhed sakata hai aur maan-baap ke jo rispekt hotee hai usake lie vah khud bhee saamane se lad sakata hai parantu yah cheej kabhee bhee mauka aata nahin hai sa aur unako kabhee bhee prooph karane ka mauka milata nahin hai parantu unake andar unake dil mein bahut ahamiyat hai isamen bachche se jaan nahin thee aap apane sanskaaron par aur apane jo aapane jo hamako shiksha dee hai us par jaroor vishvaas karen aur main ummeed karata hoon main praarthana karoonga ki kabhee bhee aapake bachche ya aap aane vaalee jo pee lee hai unako unaka jo vyavahaar hai vah hamesha se paaradarshita ho jaegee merath kee tarah ho jaegee jo unake andar jitanee rispekt badon ke lie apane maan-baap ke lie utanee hee vyavahaar meree vah dikh jae aur agar thodee bhee kuchh kamee aa rahee hai to aapas mein baithakar shaanti se sulajha karen saajha karen ki kya kamee aatee hai rishte mein ummeed karata hoon mera javaab ham ko pasand aaya hoga agar haan to agale savaal ke saath mujhase jaroor sampark keejie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:27
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तो की अहमियत को समझती है देखें यह पीढ़ी के ऊपर डिपेंड नहीं होता आजकल किया कल कि ऐसा नहीं होता है रिश्ते की अहमियत हमेशा रही हूं और वह हमेशा रहेगी वह समझते हैं नहीं समझते यह पूरा खेल होता है उनके एनवायरमेंट करो कि उनके मां बाप कितना समझते हैं और उसका मां-बाप उनको कितना संस्कारित करते इन चीजों की तो रिश्ते की अहमियत है उसका इंपॉर्टेंट है रिश्तो का इसका एजुकेशन बच्चों को देना जरूरी है अब हुआ यह तो है इस पीढ़ी के अंदर और पिछले कुछ सालों से 10 साल पहले इंफॉर्मेशन ओवरलोडेड समय उसकी ज्यादा है मोबाइल के अंदर यूट्यूब या अलग अलग टाइप के एजुकेशन ज्यादा गलत टाइपिंग परमिशन का एप्स लोड करने में ज्यादा है और डिस्ट्रिक्ट के फॉर्म में यह सब काम कर रहा है उसके लिए तो उसको जगह उसको समझाया कि रिश्ते क्या होते हैं मां बाप के साथ टाइम बिताना या फैमिली के साथ टाइम बिताना क्या होता है और उसका क्या फायदा लाइव फ्रॉम होता है इसको इंपॉर्टेंट लड़का और लड़की को अगर 20 साल के होने से हमेशा बनी रहेगी
Kya aajakal kee peedhee rishto kee ahamiyat ko samajhatee hai dekhen yah peedhee ke oopar dipend nahin hota aajakal kiya kal ki aisa nahin hota hai rishte kee ahamiyat hamesha rahee hoon aur vah hamesha rahegee vah samajhate hain nahin samajhate yah poora khel hota hai unake enavaayarament karo ki unake maan baap kitana samajhate hain aur usaka maan-baap unako kitana sanskaarit karate in cheejon kee to rishte kee ahamiyat hai usaka importent hai rishto ka isaka ejukeshan bachchon ko dena jarooree hai ab hua yah to hai is peedhee ke andar aur pichhale kuchh saalon se 10 saal pahale imphormeshan ovaraloded samay usakee jyaada hai mobail ke andar yootyoob ya alag alag taip ke ejukeshan jyaada galat taiping paramishan ka eps lod karane mein jyaada hai aur distrikt ke phorm mein yah sab kaam kar raha hai usake lie to usako jagah usako samajhaaya ki rishte kya hote hain maan baap ke saath taim bitaana ya phaimilee ke saath taim bitaana kya hota hai aur usaka kya phaayada laiv phrom hota hai isako importent ladaka aur ladakee ko agar 20 saal ke hone se hamesha banee rahegee

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:25
मेरा मानना यह है कोई चीज अपने आप समझी नहीं चाहती उसे समझाना पड़ता है जब हम छोटे होते हैं हमें सिखाया जाता है कोई बड़ा है तो समझ जाओ करो उसने बोला कोई बोले तो चुपचाप सोना उसकी इज्जत अगर हम आज के आजकल की पीढ़ी बात करें तो दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है क्योंकि स्थिति को समझना ही नहीं सकती है यह करो उन्हें समझाया तो गया था वहां पर वह भूलते जा रहे हैं रिश्ते खून के नहीं होते रिश्ते इंसानियत के भी होते हैं निभाने वाले तो डिपेंड करता है कि किस तरह के रिश्ते को किस तरह निभा रहा है अगर हमसे कोई अहमियत नहीं जान सकते तो किसी भी चीज की है मैं तो नहीं जानता क्योंकि जब हम रिश्ते की अहमियत जानते हैं हम उस इंसान से डायरेक्टली कनेक्ट हो जाते हैं इंसान की फीलिंग से उस इंसान के जीवन में आने वाली खुशियां इंसान के जीवन में आने वाले तो सब से जुड़ जाते हैं हम दोनों के लिए कुछ रिश्तो के बीच कार्य का गुणवत कमजोर होता है किसी भी तरफ से खींचातानी की जय हो टूट जाता है आजकल की पीढ़ी यह बात समझती ही नहीं है जबकि को समझना नहीं चाहती ने समझाया तो गया था परंतु वक्त ने इसी तरह सबक सबक सिखा के बाद समझा सकते हैं क्योंकि आज अगर उन्होंने रिश्ते की अहमियत नहीं जानी तो जिंदगी भर सफल होते रहेंगे अगर जिंदगी में आपको सफलता पानी है तो सबसे पहले ही काम कीजिए कि आप रिश्ते की अहमियत समझ नहीं आ रहा तो आप अपने बड़े बुजुर्ग इस बात को डिसकस मिले वह आपको रिश्ते किया है समझाएंगे क्योंकि उन्होंने उन्होंने वह भी इस चीज से गुजर
Mera maanana yah hai koee cheej apane aap samajhee nahin chaahatee use samajhaana padata hai jab ham chhote hote hain hamen sikhaaya jaata hai koee bada hai to samajh jao karo usane bola koee bole to chupachaap sona usakee ijjat agar ham aaj ke aajakal kee peedhee baat karen to din pratidin bigadatee ja rahee hai kyonki sthiti ko samajhana hee nahin sakatee hai yah karo unhen samajhaaya to gaya tha vahaan par vah bhoolate ja rahe hain rishte khoon ke nahin hote rishte insaaniyat ke bhee hote hain nibhaane vaale to dipend karata hai ki kis tarah ke rishte ko kis tarah nibha raha hai agar hamase koee ahamiyat nahin jaan sakate to kisee bhee cheej kee hai main to nahin jaanata kyonki jab ham rishte kee ahamiyat jaanate hain ham us insaan se daayarektalee kanekt ho jaate hain insaan kee pheeling se us insaan ke jeevan mein aane vaalee khushiyaan insaan ke jeevan mein aane vaale to sab se jud jaate hain ham donon ke lie kuchh rishto ke beech kaary ka gunavat kamajor hota hai kisee bhee taraph se kheenchaataanee kee jay ho toot jaata hai aajakal kee peedhee yah baat samajhatee hee nahin hai jabaki ko samajhana nahin chaahatee ne samajhaaya to gaya tha parantu vakt ne isee tarah sabak sabak sikha ke baad samajha sakate hain kyonki aaj agar unhonne rishte kee ahamiyat nahin jaanee to jindagee bhar saphal hote rahenge agar jindagee mein aapako saphalata paanee hai to sabase pahale hee kaam keejie ki aap rishte kee ahamiyat samajh nahin aa raha to aap apane bade bujurg is baat ko disakas mile vah aapako rishte kiya hai samajhaenge kyonki unhonne unhonne vah bhee is cheej se gujar

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:34
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तो की अहमियत आ को समझती है तो दोस्तों जहां तक हमने देखा है तो हमने यही पाया है कि वास्तव में आजकल की पीढ़ी अपने रिश्तो के प्रति उतनी ही हसीन है जितनी पहले होती थी दोस्तों को देखने को तो कुछ लोग ऐसे होते हैं जैसे सामने आते हैं कि जो अपनी पीढ़ी को समझ नहीं पाते हैं वह थोड़ा सा अपने समाज से और परिवार से हटके रहते हैं वह थोड़े से लोग होते हैं दोस्तों ज्यादातर लोग बल्कि उनके बजाय हम सभी को आजकल की पीढ़ी जो है वह रिश्तो की अहमियत आ को न समझने वाले इस केटेगरी में हम नहीं रख सकते क्योंकि बहुत सारे लोग बहुत सारे ऐसे युवा बहुत सारे ऐसे किशोर हमने शहरों में और घरों में देखे हैं तो वह अपने समाज की काफी चिंता करते हैं और अपने दीवार के बारे में अपने समाज के बारे में रिश्तो के बारे में काफी सोचते हैं चाहे वह दादा-दादी हो पापा मम्मी हो तो सब के बारे में वह चिंतित रहते हैं सोचते हैं और कुछ खुद हो जाने पर और भी बहुत कुछ करते हैं अपने भविष्य के लिए सोचते हैं तो आजकल सोचना बहुत ही ज्यादा जरूरी हो गया है जिम्मेदारियां भी आजकल बच्चे काफी अच्छे तरीके से समझने लग गए हैं हां वह कुछ ऐसे लोग जो किए बातें नहीं समझते हैं तो वह बहुत ही थोड़े से लोग हैं जो परिवार की रिश्तेदार है रिश्तो की अहमियत नहीं समझते हैं तो उन के बल पर सभी को हम दोष नहीं दे सकते हैं बल्कि आजकल की जो पी ली है वह शिक्षित है समझदार है और कुछ ऐसे मामले आए होंगे कि युवा पीढ़ी अपने मां-बाप को छोड़ देते थे और उन्हें अनाथालय में रहना पड़ सकता था ऐसा हुआ था लेकिन अब ऐसा क्योंकि हमें सोशल मीडिया और समाचार पत्र अखबार टीवी सब में हमें शिक्षा मिलती है और बहुत से हमें ऐसा ऐसा सीखने को मिला है कि अपने मां बाप को नहीं त्यागना चाहिए तो काफी लोग समझदार हो गए हैं अब ऐसा देखने को नहीं मिलता है बहुत से लोग यह समझ चुके हैं तो आज कल की छुट्टी है और इसकी एक रिश्तो की अहमियत की अहमियत तथा को जरूर समझती है
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki kya aajakal kee peedhee rishto kee ahamiyat aa ko samajhatee hai to doston jahaan tak hamane dekha hai to hamane yahee paaya hai ki vaastav mein aajakal kee peedhee apane rishto ke prati utanee hee haseen hai jitanee pahale hotee thee doston ko dekhane ko to kuchh log aise hote hain jaise saamane aate hain ki jo apanee peedhee ko samajh nahin paate hain vah thoda sa apane samaaj se aur parivaar se hatake rahate hain vah thode se log hote hain doston jyaadaatar log balki unake bajaay ham sabhee ko aajakal kee peedhee jo hai vah rishto kee ahamiyat aa ko na samajhane vaale is ketegaree mein ham nahin rakh sakate kyonki bahut saare log bahut saare aise yuva bahut saare aise kishor hamane shaharon mein aur gharon mein dekhe hain to vah apane samaaj kee kaaphee chinta karate hain aur apane deevaar ke baare mein apane samaaj ke baare mein rishto ke baare mein kaaphee sochate hain chaahe vah daada-daadee ho paapa mammee ho to sab ke baare mein vah chintit rahate hain sochate hain aur kuchh khud ho jaane par aur bhee bahut kuchh karate hain apane bhavishy ke lie sochate hain to aajakal sochana bahut hee jyaada jarooree ho gaya hai jimmedaariyaan bhee aajakal bachche kaaphee achchhe tareeke se samajhane lag gae hain haan vah kuchh aise log jo kie baaten nahin samajhate hain to vah bahut hee thode se log hain jo parivaar kee rishtedaar hai rishto kee ahamiyat nahin samajhate hain to un ke bal par sabhee ko ham dosh nahin de sakate hain balki aajakal kee jo pee lee hai vah shikshit hai samajhadaar hai aur kuchh aise maamale aae honge ki yuva peedhee apane maan-baap ko chhod dete the aur unhen anaathaalay mein rahana pad sakata tha aisa hua tha lekin ab aisa kyonki hamen soshal meediya aur samaachaar patr akhabaar teevee sab mein hamen shiksha milatee hai aur bahut se hamen aisa aisa seekhane ko mila hai ki apane maan baap ko nahin tyaagana chaahie to kaaphee log samajhadaar ho gae hain ab aisa dekhane ko nahin milata hai bahut se log yah samajh chuke hain to aaj kal kee chhuttee hai aur isakee ek rishto kee ahamiyat kee ahamiyat tatha ko jaroor samajhatee hai

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:31
गुड मॉर्निंग का सवाल है क्या आजकल कि बिजी रहती है वो समझती है मुझे नहीं लगता कि आजकल बिजी हो कि हम आप को समझती है कि नहीं है
Gud morning ka savaal hai kya aajakal ki bijee rahatee hai vo samajhatee hai mujhe nahin lagata ki aajakal bijee ho ki ham aap ko samajhatee hai ki nahin hai

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
ravideep singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravideep जी का जवाब
students
0:44

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
I am nurse
2:22
नमस्कार दोस्तों ने सवाल किया कि क्या आजकल की फिर किसको किसको समझती है तो आजकल हम लोग भी आते हैं और हम समझते हैं पर पहले के और आपकी पीढ़ियों में बस फर्क इतना था गया कि पर फॉर्मेलिटी लोग ज्यादा कर किया करते थे फॉर्मेलिटीज निभाया करते थे और अब क्या होता है कि जो मन में होता है वह सामने से बोल दिया जाता है पहले क्या होता था वैसे आपको नहीं निभाना है तो भी आप उनको उनके बस यह सोच कर कि यह हमारे रिश्ते में यह लगते हैं इनका सम्मान करना तो दिखाओ ओपन ऊपर से किया कर करके उस रिश्ते को निभाया जाता था लेकिन अब क्या होता है कि अगर आपकी बातें आपका नहीं समझ में आता है तो लोग उसको ना सुनते भी नहीं है और बिल्कुल और थोड़ा सा फ्रैंक हो जाते हैं उनके साथ और जो भी कहना होता है मन में जो होता है वह दे देते हैं तो थोड़ा सा है पहले के लोगों को ऐसा लगता है कि आप के लोग थोड़ा सा बदतमीज हो गए हैं लेकिन बिल्कुल रिश्तो की अहमियत इस पीढ़ी भी समझती है और यह कहना सही होगा कि पहले से थोड़ा कम हो गया है कुछ लोग कुछ ऐसे हैं जो कि नहीं समझते हैं तो उसमें भी उनका दोष नहीं है उनको जो संस्कार दिया जाता है उसी संस्था को अपना व्यवहार करते हैं क्योंकि अगर हम बचपन में अपने बच्चों को यह सिखाएंगे कि हमारी दादी हैं यह हमारे दादाजी हैं या फिर यह हमारे बुजुर्ग हैं बड़े हैं और यू नाना नानी है इनका सम्मान करना है इन को इज्जत देना है मार्च तो बच्चे वही सीखते हैं तो बच्चों को जिस तरह कि हम शिक्षा देता है जिस पर रहता हम संस्कार देते हैं और बड़े होकर वह व्यवहार भी उसी तरह करते हैं तो अगर कहीं ना कहीं घर पीढ़ी अमृत नहीं समझ रही है या कुछ गलत कर रही है तो उसमें कहीं ना कहीं संस्कारों में कमी है उनको अच्छे से अच्छे संस्कार नहीं दिया गया है जिसकी वजह से यह सारी चीजें होती हैं तो मैं आपसे बिल्कुल कहूंगी कि आज कल की वीडियो में भी इस वीडियो में भी कुछ ऐसे लोग हैं और बहुत से लोग ऐसे हैं जो रिश्तो की अहमियत को समझते हैं और उसका उदाहरण मैं खुद अपने आप को समझती हूं कि मुझे पता हमारे रिश्तो की क्या हमेशा हमारे मां-बाप हमारे दादा दादी चाचा चाची क्या हमारे बुजुर्ग जो है हमारे घर में जो रिश्ते हैं उनका क्या हमें अर्थ है और किस तरफ से उनको संभालना है तो दोस्त आशा है कि आप को समझ में आएगा आप अपना और अपने परिवार का ख्याल रखा लिया कि यह देश की सुरक्षा के और अपने परिवार की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए जय हिंद दोस्तों
Namaskaar doston ne savaal kiya ki kya aajakal kee phir kisako kisako samajhatee hai to aajakal ham log bhee aate hain aur ham samajhate hain par pahale ke aur aapakee peedhiyon mein bas phark itana tha gaya ki par phormelitee log jyaada kar kiya karate the phormeliteej nibhaaya karate the aur ab kya hota hai ki jo man mein hota hai vah saamane se bol diya jaata hai pahale kya hota tha vaise aapako nahin nibhaana hai to bhee aap unako unake bas yah soch kar ki yah hamaare rishte mein yah lagate hain inaka sammaan karana to dikhao opan oopar se kiya kar karake us rishte ko nibhaaya jaata tha lekin ab kya hota hai ki agar aapakee baaten aapaka nahin samajh mein aata hai to log usako na sunate bhee nahin hai aur bilkul aur thoda sa phraink ho jaate hain unake saath aur jo bhee kahana hota hai man mein jo hota hai vah de dete hain to thoda sa hai pahale ke logon ko aisa lagata hai ki aap ke log thoda sa badatameej ho gae hain lekin bilkul rishto kee ahamiyat is peedhee bhee samajhatee hai aur yah kahana sahee hoga ki pahale se thoda kam ho gaya hai kuchh log kuchh aise hain jo ki nahin samajhate hain to usamen bhee unaka dosh nahin hai unako jo sanskaar diya jaata hai usee sanstha ko apana vyavahaar karate hain kyonki agar ham bachapan mein apane bachchon ko yah sikhaenge ki hamaaree daadee hain yah hamaare daadaajee hain ya phir yah hamaare bujurg hain bade hain aur yoo naana naanee hai inaka sammaan karana hai in ko ijjat dena hai maarch to bachche vahee seekhate hain to bachchon ko jis tarah ki ham shiksha deta hai jis par rahata ham sanskaar dete hain aur bade hokar vah vyavahaar bhee usee tarah karate hain to agar kaheen na kaheen ghar peedhee amrt nahin samajh rahee hai ya kuchh galat kar rahee hai to usamen kaheen na kaheen sanskaaron mein kamee hai unako achchhe se achchhe sanskaar nahin diya gaya hai jisakee vajah se yah saaree cheejen hotee hain to main aapase bilkul kahoongee ki aaj kal kee veediyo mein bhee is veediyo mein bhee kuchh aise log hain aur bahut se log aise hain jo rishto kee ahamiyat ko samajhate hain aur usaka udaaharan main khud apane aap ko samajhatee hoon ki mujhe pata hamaare rishto kee kya hamesha hamaare maan-baap hamaare daada daadee chaacha chaachee kya hamaare bujurg jo hai hamaare ghar mein jo rishte hain unaka kya hamen arth hai aur kis taraph se unako sambhaalana hai to dost aasha hai ki aap ko samajh mein aaega aap apana aur apane parivaar ka khyaal rakha liya ki yah desh kee suraksha ke aur apane parivaar kee suraksha ka dhyaan rakhate hue jay hind doston

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:44
कारा का प्रश्न क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तो की अहमियत को समझती है तो आप बताना चाहेंगे बिल्कुल आजकल की पीढ़ी भी तो क्या मेरे को समझती है लिखते वहां आती है जहां पर संस्कारों में कमी हो जाती है अगर हम आने वाली पीढ़ी को अच्छे संस्कार नहीं देंगे अच्छे मानवीय मूल्यों के बारे में नहीं जागरूक करेंगे नहीं बताएंगे तो यकीन मानिए उनके अंदर इस तरह की भावनाएं या रिश्तो को जोड़ने वाली प्रवृत्ति उनके अंदर नहीं आएगी जिस कारण आगे जाकर समस्याएं आ सकती हैं तो सबसे पहले चीज की हम अगर अच्छी परवरिश देंगे तभी हम जो आगे आने वाली पीढ़ी है उससे अच्छाई की उम्मीद रख सकते हैं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Kaara ka prashn kya aajakal kee peedhee rishto kee ahamiyat ko samajhatee hai to aap bataana chaahenge bilkul aajakal kee peedhee bhee to kya mere ko samajhatee hai likhate vahaan aatee hai jahaan par sanskaaron mein kamee ho jaatee hai agar ham aane vaalee peedhee ko achchhe sanskaar nahin denge achchhe maanaveey moolyon ke baare mein nahin jaagarook karenge nahin bataenge to yakeen maanie unake andar is tarah kee bhaavanaen ya rishto ko jodane vaalee pravrtti unake andar nahin aaegee jis kaaran aage jaakar samasyaen aa sakatee hain to sabase pahale cheej kee ham agar achchhee paravarish denge tabhee ham jo aage aane vaalee peedhee hai usase achchhaee kee ummeed rakh sakate hain main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रिश्तो की अहमियत रिश्तो का महत्व
URL copied to clipboard