#धर्म और ज्योतिषी

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:45
प्रश्न पूछा गया है कि क्या बलात्कारियों का भी कोई धर्म हो सकता है क्या वह इंसान भी हैं जो ऐसी दरिंदगी कर सकते हैं उनका कोई धर्म कैसे हो सकता है फिर भी भारतीय मीडिया ऐसा क्यों बोलता है कि एक मुस्लिम हिंदू समुदाय के वक्त ने किया बलात्कार देखिए बलात्कारियों का कोई धर्म नहीं होता वह इंसान नहीं होते वह राक्षस होते हैं लेकिन जहां सही होता है और कहीं गलत होता है तो हमेशा देखकर इंसान को सही का सपोर्ट करना चाहिए गलत का विरोध करना चाहिए और जो मीडिया कहती है ना कि हिंदू मुस्लिम समुदाय ने किया बलात्कार तो देखिए इसमें हिंदू मुस्लिम जात पात लेके नहीं बैठना चाहिए सबसे पहले तो जिस ने बलात्कार किया उसको फांसी में लटका कर उससे भी ज्यादा कोई बड़ा कानून बनता तो कुछ काम को बनाया जाए ऐसे लोग देश के गद्दारों को पकड़ पकड़ के उनको बांध देना चाहिए और बहुत बड़ी सजा देनी चाहिए को काट देना चाहिए ताकि हमारे भारत में जो हमारी मां बहन बेटियां हैं और सुरक्षित नहीं है असुरक्षित अपने को महसूस करते हैं तो यह जो हिंदू मुस्लिम सिख इसाई यह सब चलाएं हम लोग कहते थे कि सब आपस में भाई भाई आपस में ही लोग लड़ाई करवा रहे हैं मैंने क्या नहीं है हिंदू लोगों को आप को बदनाम करो मुस्लिम को बदनाम कर रहे हो किसी धर्म को क्यों बदनाम करो आप यह कहना कि मीडिया वालों समझना चाहता हूं कि यह कहीं की सच में बलात्कार किया है उसको धर्म का नाम ना ले कि बहुत से मैंने देखा है कि वह पंडित है वह ठाकुर है वह वर्मा है वही है कास्ट से जुड़ने लगते हैं लेकिन सबसे पहले तो हम इंसान हैं सब इंसान हैं उन जैसे मुस्लिम लोगों का दिखे धर्म से हिंदू लोग का भी ध्यान में सबका अपना अपना धर्म प्यारा होता है किसी के धर्म पर बोलना अच्छी बात नहीं है तो यह जो पलक्कारी आएं हो रहे हैं ऐसे दरिंदों को तो सख्त से सख्त कानून बनाकर सजा देनी चाहिए क्योंकि जब देसी सुरक्षित जब हमारी मां बहन बेटियां नहीं सुरक्षित रहेगी तो सुबह नहीं दिया जा सकता मैं यही अनुरोध करना चाहूंगा कि कहीं भी अगर आस पास पड़ोस में कहीं भी कुछ गलत हो रहा तो गलत का विरोध करो सही का सपोर्ट करो हम देश के देखिए नौजवान लोग हैं और हमें दिखे देश है हम लोग सब को मिलकर एक होना है तभी देश आगे बढ़ेगा और हमें लिखिए हमारी माता पर जो भी है बेटियां होती दिखी हमेशा रक्षा करना चाहिए जय हिंद जय हिंद
Prashn poochha gaya hai ki kya balaatkaariyon ka bhee koee dharm ho sakata hai kya vah insaan bhee hain jo aisee darindagee kar sakate hain unaka koee dharm kaise ho sakata hai phir bhee bhaarateey meediya aisa kyon bolata hai ki ek muslim hindoo samudaay ke vakt ne kiya balaatkaar dekhie balaatkaariyon ka koee dharm nahin hota vah insaan nahin hote vah raakshas hote hain lekin jahaan sahee hota hai aur kaheen galat hota hai to hamesha dekhakar insaan ko sahee ka saport karana chaahie galat ka virodh karana chaahie aur jo meediya kahatee hai na ki hindoo muslim samudaay ne kiya balaatkaar to dekhie isamen hindoo muslim jaat paat leke nahin baithana chaahie sabase pahale to jis ne balaatkaar kiya usako phaansee mein lataka kar usase bhee jyaada koee bada kaanoon banata to kuchh kaam ko banaaya jae aise log desh ke gaddaaron ko pakad pakad ke unako baandh dena chaahie aur bahut badee saja denee chaahie ko kaat dena chaahie taaki hamaare bhaarat mein jo hamaaree maan bahan betiyaan hain aur surakshit nahin hai asurakshit apane ko mahasoos karate hain to yah jo hindoo muslim sikh isaee yah sab chalaen ham log kahate the ki sab aapas mein bhaee bhaee aapas mein hee log ladaee karava rahe hain mainne kya nahin hai hindoo logon ko aap ko badanaam karo muslim ko badanaam kar rahe ho kisee dharm ko kyon badanaam karo aap yah kahana ki meediya vaalon samajhana chaahata hoon ki yah kaheen kee sach mein balaatkaar kiya hai usako dharm ka naam na le ki bahut se mainne dekha hai ki vah pandit hai vah thaakur hai vah varma hai vahee hai kaast se judane lagate hain lekin sabase pahale to ham insaan hain sab insaan hain un jaise muslim logon ka dikhe dharm se hindoo log ka bhee dhyaan mein sabaka apana apana dharm pyaara hota hai kisee ke dharm par bolana achchhee baat nahin hai to yah jo palakkaaree aaen ho rahe hain aise darindon ko to sakht se sakht kaanoon banaakar saja denee chaahie kyonki jab desee surakshit jab hamaaree maan bahan betiyaan nahin surakshit rahegee to subah nahin diya ja sakata main yahee anurodh karana chaahoonga ki kaheen bhee agar aas paas pados mein kaheen bhee kuchh galat ho raha to galat ka virodh karo sahee ka saport karo ham desh ke dekhie naujavaan log hain aur hamen dikhe desh hai ham log sab ko milakar ek hona hai tabhee desh aage badhega aur hamen likhie hamaaree maata par jo bhee hai betiyaan hotee dikhee hamesha raksha karana chaahie jay hind jay hind

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard