#जीवन शैली

bolkar speaker

चौरी-चौरा घटना किस वर्ष हुई थी?

Chauri Chaura Ghatna Kis Varsh Huyi Thi
Srishti Mehrotra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Srishti जी का जवाब
Unknown
0:22
चौरी चौरा घटना किस वर्ष हुई थी चौरी चौरा कांड 4 फरवरी 1922 को ब्रिटिश भारत में संयुक्त राज्य के गोरखपुर जिले के चौरी चौरा में हुई थी जब असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाले प्रदर्शनकारियों का एक बड़ा समूह पुलिस के साथ बैठ गया था धन्यवाद
Chauree chaura ghatana kis varsh huee thee chauree chaura kaand 4 pharavaree 1922 ko british bhaarat mein sanyukt raajy ke gorakhapur jile ke chauree chaura mein huee thee jab asahayog aandolan mein bhaag lene vaale pradarshanakaariyon ka ek bada samooh pulis ke saath baith gaya tha dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
चौरी-चौरा घटना किस वर्ष हुई थी?Chauri Chaura Ghatna Kis Varsh Huyi Thi
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
2:35
रचना है कि चौरी चौरा घटना जो है किस वर्ष हुई थी तो हम सभी इस घटना से भलीभांति परिचित भी हैं कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महत्वपूर्ण घटनाक्रम में चौरीचौरा कांड भी दर्ज है और यह 4 फरवरी 2022 को इस घटना के 100 बरस पूरे हो जाएंगे मतलब आप समझ सकते हैं कि यह घटना 4 फरवरी 1921 के आसपास में हुई होगी तो 2022 में जो 100 वर्ष पूरा हो जाएगी और इस कारण उत्तर प्रदेश सरकार ने नए वर्ष में इसके शताब्दी वर्ष समारोह की शुरुआत की है जैसे अभी फरवरी में बीत गया है और 1 वर्ष तक चलने वाला यह आयोजन जो है 4 फरवरी 2022 को समाप्त होगा यानी अभी से शुरु हो गया है और इस आयोजन के तहत इस महीने के 400000 लोगों को देखा जा रहा है कि आई कांट होंगे या इसके पहले भी देखा गया कि कुछ ऐसे कार्यक्रम भी वहां होने की प्रोग्राम बनी हुई है जैसे 4 तारीख को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना को शताब्दी बस नंबरों का एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भी उद्घाटन किया था और इस अवसर पर प्रधानमंत्री एक विशेष डाक टिकट का विमोचन भी किया और जानते हैं कि इस महत्वपूर्ण घटना के बारे में आप लोग भी जानते होंगे और महात्मा गांधी द्वारा चलाए गए आंदोलन का दौरा 4 फरवरी 1922 को गोरखपुर के चौरी चौरा में हजारों की संख्या में प्रदर्शन कर रहे स्वयंसेवकों और पुलिस के बीच झड़प हो गई थी और इस झड़प से नाराज पुलिस ने भीड़ पर गोलियां चला दी जिसमें 3 लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी और पुलिस की इस हरकत से गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर ईंट पत्थर बरसाना शुरू कर दिया और पुलिसकर्मियों को थाने के भीतर जाने को मजबूर कर दिया था और इसके बाद भीड़ ने मिट्टी का तेल छिड़ककर चौरीचौरा के पुलिस थाने में आग लगा दी जिससे 22 पुलिसकर्मियों की जान चली वहां भागने की कोशिश में लगे कुछ पुलिसकर्मियों के धनी ने पीट-पीटकर मार डाला और कुछ विशिष्ट लाल पगड़ी फेंक कर जान बचाने में सफल रहे और इस घटना में हथियार समेत पुलिस की बहुत ही संपत्ति को भी बीड़ी ने नष्ट कर दिया था और इस हिंसा के बाद महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन वापस ले लिया था यह घटना जो है हम सभी जानते हैं कि यह घटना जो है बहुत भीषण हुई थी और जैसे कि आपका प्रश्न में है कि यह कब हुआ था तो यह घटना जो है 4 फरवरी 1922 को हुई थी
Rachana hai ki chauree chaura ghatana jo hai kis varsh huee thee to ham sabhee is ghatana se bhaleebhaanti parichit bhee hain ki bhaarateey svatantrata sangraam ke mahatvapoorn ghatanaakram mein chaureechaura kaand bhee darj hai aur yah 4 pharavaree 2022 ko is ghatana ke 100 baras poore ho jaenge matalab aap samajh sakate hain ki yah ghatana 4 pharavaree 1921 ke aasapaas mein huee hogee to 2022 mein jo 100 varsh poora ho jaegee aur is kaaran uttar pradesh sarakaar ne nae varsh mein isake shataabdee varsh samaaroh kee shuruaat kee hai jaise abhee pharavaree mein beet gaya hai aur 1 varsh tak chalane vaala yah aayojan jo hai 4 pharavaree 2022 ko samaapt hoga yaanee abhee se shuru ho gaya hai aur is aayojan ke tahat is maheene ke 400000 logon ko dekha ja raha hai ki aaee kaant honge ya isake pahale bhee dekha gaya ki kuchh aise kaaryakram bhee vahaan hone kee prograam banee huee hai jaise 4 taareekh ko pradhaanamantree shree narendr modee ne is ghatana ko shataabdee bas nambaron ka ek veediyo konphrensing ke maadhyam se bhee udghaatan kiya tha aur is avasar par pradhaanamantree ek vishesh daak tikat ka vimochan bhee kiya aur jaanate hain ki is mahatvapoorn ghatana ke baare mein aap log bhee jaanate honge aur mahaatma gaandhee dvaara chalae gae aandolan ka daura 4 pharavaree 1922 ko gorakhapur ke chauree chaura mein hajaaron kee sankhya mein pradarshan kar rahe svayansevakon aur pulis ke beech jhadap ho gaee thee aur is jhadap se naaraaj pulis ne bheed par goliyaan chala dee jisamen 3 logon kee ghatanaasthal par hee maut ho gaee thee aur pulis kee is harakat se gussaee bheed ne pulis par eent patthar barasaana shuroo kar diya aur pulisakarmiyon ko thaane ke bheetar jaane ko majaboor kar diya tha aur isake baad bheed ne mittee ka tel chhidakakar chaureechaura ke pulis thaane mein aag laga dee jisase 22 pulisakarmiyon kee jaan chalee vahaan bhaagane kee koshish mein lage kuchh pulisakarmiyon ke dhanee ne peet-peetakar maar daala aur kuchh vishisht laal pagadee phenk kar jaan bachaane mein saphal rahe aur is ghatana mein hathiyaar samet pulis kee bahut hee sampatti ko bhee beedee ne nasht kar diya tha aur is hinsa ke baad mahaatma gaandhee ne asahayog aandolan vaapas le liya tha yah ghatana jo hai ham sabhee jaanate hain ki yah ghatana jo hai bahut bheeshan huee thee aur jaise ki aapaka prashn mein hai ki yah kab hua tha to yah ghatana jo hai 4 pharavaree 1922 ko huee thee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • चौरी चौरा की घटना क्या थी, चौरी चौरा घटना क्या थी, चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ था
  • चौरी चौरा की घटना क्या थी, चौरी चौरा घटना क्या थी, चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ था
  • चौरी चौरा की घटना क्या थी, चौरी चौरा घटना क्या थी, चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ था
URL copied to clipboard