#रिश्ते और संबंध

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:32
हमारा तालाब के पानी की तरह चंचल होता है जिस तरह तलाब में 1 फुट से पत्थर डालने पर भी वहां पानी तुरंत मिल जाता है उसे वाइब्रेशन स्टार्ट होने लग जाता है वैसे ही हमारा मन है हमारे मन में जब खुशी आती तभी हमारा मन में परेशान करता है और जब दुख आता है तब तो यह में पूरी तरह से परेशान करता है हमारे मन में निराशावादी विचारों के रहते हैं क्योंकि हम कोई कार्य करते हैं इस कार्य से संबंधित तुम्हारे मन में दो तरह के विचार आ सकते हैं या फिर क्या होगा विचार निराशावादी विचारों में आता है अपने आप को मोटिवेट करना चाहिए नहीं होगा तो क्या हो गया हम से प्यार करेंगे उसका कुछ भी ऐसा नहीं है जो तुमसे नहीं हो सकता पहले तो कोशिश की थी आपके मन में विचार आए ना कि आप से नहीं होगा आ भी जाए तो फिर अपने आप को समझाइए कि नहीं होगा तो क्या हो जाएगा फिर से मेहनत कर लूंगा अगली बार मेहनत में कोई कमी नहीं छोडूंगा कि मैं यह बात सोच सकूं एक बात याद रखेगा के साथ पैदा होते हैं मर जाते हैं और दूसरा व निराशावादी विचारों के जीवन उसका डटकर सामना करते हैं और निराशावादी विचार को हराकर उसके ऊपर जीत हासिल करता है दूसरों को समझा पाना के कारण तुमसे हो पाएगा तू मेहनत करो मेहनत को बढ़ाओ दूसरों को कहना आसान होता है परंतु जब आप अपने आप को समझा सकते हैं यह बात की कुछ भी करना इंपॉसिबल नहीं है मेहनत करते रहो तब वह अपने आप को समझा पाना इतना आसान नहीं होता जितना दूसरों को बताते हैं इसीलिए कहा जाता है तब पता चलता है तो आपके मन में जब भी निराशावादी विचारों से डरिए मत घबराइए मत करना कि जब निराशावादी विचार अपने मन से भगा दीजिए
Hamaara taalaab ke paanee kee tarah chanchal hota hai jis tarah talaab mein 1 phut se patthar daalane par bhee vahaan paanee turant mil jaata hai use vaibreshan staart hone lag jaata hai vaise hee hamaara man hai hamaare man mein jab khushee aatee tabhee hamaara man mein pareshaan karata hai aur jab dukh aata hai tab to yah mein pooree tarah se pareshaan karata hai hamaare man mein niraashaavaadee vichaaron ke rahate hain kyonki ham koee kaary karate hain is kaary se sambandhit tumhaare man mein do tarah ke vichaar aa sakate hain ya phir kya hoga vichaar niraashaavaadee vichaaron mein aata hai apane aap ko motivet karana chaahie nahin hoga to kya ho gaya ham se pyaar karenge usaka kuchh bhee aisa nahin hai jo tumase nahin ho sakata pahale to koshish kee thee aapake man mein vichaar aae na ki aap se nahin hoga aa bhee jae to phir apane aap ko samajhaie ki nahin hoga to kya ho jaega phir se mehanat kar loonga agalee baar mehanat mein koee kamee nahin chhodoonga ki main yah baat soch sakoon ek baat yaad rakhega ke saath paida hote hain mar jaate hain aur doosara va niraashaavaadee vichaaron ke jeevan usaka datakar saamana karate hain aur niraashaavaadee vichaar ko haraakar usake oopar jeet haasil karata hai doosaron ko samajha paana ke kaaran tumase ho paega too mehanat karo mehanat ko badhao doosaron ko kahana aasaan hota hai parantu jab aap apane aap ko samajha sakate hain yah baat kee kuchh bhee karana imposibal nahin hai mehanat karate raho tab vah apane aap ko samajha paana itana aasaan nahin hota jitana doosaron ko bataate hain iseelie kaha jaata hai tab pata chalata hai to aapake man mein jab bhee niraashaavaadee vichaaron se darie mat ghabaraie mat karana ki jab niraashaavaadee vichaar apane man se bhaga deejie

और जवाब सुनें

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:46
आपका सवाल है कि मन में उत्पन्न निराशावादी विचारों को दूर करना बहुत मुश्किल क्यों हो जाता है तो देखिए अक्सर ऐसा होता है कि जो भी मन में विचार आ रहे हो तो समय बहुत अब आरोपी करने लगते हैं जब इस तरीके के ख्याल आते हैं उस समय पर अगर आप खुद को मोटिवेट करने के लिए कोशिश नहीं करेंगे तो आप उन्हीं विचारों में उन्हीं अपने जो पल्लू अली कर रहे हैं जो आपकी फीलिंग सारी हैं जो इमोशंस होने में ही फस कर रह जाएंगे और कुछ भी कार्य आगे नहीं कर पाएंगे कुछ भी सकारात्मक नहीं सोच पाएंगे इसलिए बेहद जरूरी है कि ऐसे समय में खुद को मोटिवेट करने की कोशिश करें जितना ज्यादा हो सकता है आप अपने आपको बिजी करने की कोशिश करें ऐसा करने से जो भी आपके आसपास के निकट इस सिचुएशन है नेगेटिव चीजें हो रही हैं वह उनसे आप खुद को दूर रख पाएंगे आपका दिन शुभ रहे थे निभाता
Aapaka savaal hai ki man mein utpann niraashaavaadee vichaaron ko door karana bahut mushkil kyon ho jaata hai to dekhie aksar aisa hota hai ki jo bhee man mein vichaar aa rahe ho to samay bahut ab aaropee karane lagate hain jab is tareeke ke khyaal aate hain us samay par agar aap khud ko motivet karane ke lie koshish nahin karenge to aap unheen vichaaron mein unheen apane jo palloo alee kar rahe hain jo aapakee pheeling saaree hain jo imoshans hone mein hee phas kar rah jaenge aur kuchh bhee kaary aage nahin kar paenge kuchh bhee sakaaraatmak nahin soch paenge isalie behad jarooree hai ki aise samay mein khud ko motivet karane kee koshish karen jitana jyaada ho sakata hai aap apane aapako bijee karane kee koshish karen aisa karane se jo bhee aapake aasapaas ke nikat is sichueshan hai negetiv cheejen ho rahee hain vah unase aap khud ko door rakh paenge aapaka din shubh rahe the nibhaata

BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
1:50
नमस्कार आपली पृथ्वी कैसी थी मन में उत्पन्न निराशावादी विचारों को दूर करना बहुत मुश्किल क्यों हो जाता लेकिन आपको बताना चाहूंगा कि आप से विनती है तो तुषार को मेरे से बात ही नहीं करती आप हमेशा बुरा ही सोचते हैं और जो भी सोचते हैं वह तुरंत कार्य कर लेते उस पर बिना भी सरकी जो धीरे धीरे आप उसकी आदत हो जाती है जिस प्रकार हम तो 1 तारीख का गिनती उसी प्रकार से हम होते तो हम भी पूरी हो जाती जाती हम यह सोचते थे कि हम गरीब हैं या फिर हम सोते हैं और दूसरे लोग बड़े हो हमेशा खाली क्यों नहीं या फिर हम उनके जैसी क्योंकि हम अपने आप को भी पूरा समय जाति विशेष की रंगीला सोनी लगदी रे धीरे हमारी आदत बन जाती है और बुरे विचारों को अपनाने लगते हैं फिर हम चाह कर भी इनको दूर नहीं कर पाते इसलिए दूर करने के लिए आपको सर्वप्रथम मेडिटेशन करना चाहिए क्योंकि मेडिटेशन से हमें यह पता चल जाता है कि मैं अपनी दिनचर्या किस पिताजी नहीं है और मैं लोगों के प्रति व्यवहार किस प्रकार अपना ही अपने मन पर किस प्रकार कंट्रोल होता है और किस प्रकार अपनी इंद्रियों को कंट्रोल रखना है हमें कैसे करी करना है और किस समय पर करना है यह भी हमें पता होना चाहिए तभी हम निराशावादी विचारों को दूर कर सकते हैं और अपना जीवन अच्छा बना सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar aapalee prthvee kaisee thee man mein utpann niraashaavaadee vichaaron ko door karana bahut mushkil kyon ho jaata lekin aapako bataana chaahoonga ki aap se vinatee hai to tushaar ko mere se baat hee nahin karatee aap hamesha bura hee sochate hain aur jo bhee sochate hain vah turant kaary kar lete us par bina bhee sarakee jo dheere dheere aap usakee aadat ho jaatee hai jis prakaar ham to 1 taareekh ka ginatee usee prakaar se ham hote to ham bhee pooree ho jaatee jaatee ham yah sochate the ki ham gareeb hain ya phir ham sote hain aur doosare log bade ho hamesha khaalee kyon nahin ya phir ham unake jaisee kyonki ham apane aap ko bhee poora samay jaati vishesh kee rangeela sonee lagadee re dheere hamaaree aadat ban jaatee hai aur bure vichaaron ko apanaane lagate hain phir ham chaah kar bhee inako door nahin kar paate isalie door karane ke lie aapako sarvapratham mediteshan karana chaahie kyonki mediteshan se hamen yah pata chal jaata hai ki main apanee dinacharya kis pitaajee nahin hai aur main logon ke prati vyavahaar kis prakaar apana hee apane man par kis prakaar kantrol hota hai aur kis prakaar apanee indriyon ko kantrol rakhana hai hamen kaise karee karana hai aur kis samay par karana hai yah bhee hamen pata hona chaahie tabhee ham niraashaavaadee vichaaron ko door kar sakate hain aur apana jeevan achchha bana sakate hain dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है मन में उत्पन्न होने वाले निराशावादी विचारों को दूर करना बहुत मुश्किल क्यों हो जाता है तो दोस्तों हमारे मन में हमेशा ही दो तरह के विचार आते हैं आशावादी और निराशावादी तो हम आशावादी विचार तो जल्दी भूल जाते हैं पर निराशावादी विचार मेरे दिमाग में चलते रहते हैं तो दोस्तों इसीलिए मुश्किल हो जाता है क्योंकि हमारा दिमाग नेगेटिव ज्यादा सोचता है पॉजिटिव की अपेक्षा इसलिए सर होता है दोस्तों को धन्यवाद दोस्तों
Helo doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai man mein utpann hone vaale niraashaavaadee vichaaron ko door karana bahut mushkil kyon ho jaata hai to doston hamaare man mein hamesha hee do tarah ke vichaar aate hain aashaavaadee aur niraashaavaadee to ham aashaavaadee vichaar to jaldee bhool jaate hain par niraashaavaadee vichaar mere dimaag mein chalate rahate hain to doston iseelie mushkil ho jaata hai kyonki hamaara dimaag negetiv jyaada sochata hai pojitiv kee apeksha isalie sar hota hai doston ko dhanyavaad doston

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • विचारों को कैसे रोके, विचारों को कैसे रोकें, विचारों से मुक्ति कैसे पाए
URL copied to clipboard