#भारत की राजनीति

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:58
हेलो जीवन तो आज आप का सवाल है कि क्या विपक्ष के लोगों ने किसानों को भड़काया है या फिर सच में किसान दिल में कोई समस्या है तो हमें किसान को छोटे बच्चे अगर भड़का दिया जाए छोटे बच्चों के जैसे भड़का दिया जाता है तो जो भी समझा देते वैसे ही करते हैं किसान को छोटे बच्चे को पता है उनको कोई लड़का नहीं सकता है अगर भड़काने से और समझाने से हर काम हो जाता तो बहुत सारे लोग तो भाजपा सरकार को सपोर्ट नहीं करते पर फिर भी भाजपा सरकार दिखे हर एक जगह हर एक राज्य में उनका धीरे-धीरे झंडा फहरा तू किसी के भड़काने सब किसी के बोलने से कुछ नहीं होता बस यह कुछ समय के लिए दो चार लोगों के माइंड चेंज होते हैं या फिर नहीं होते हैं लोग मतलब बहुत ज्यादा एक्टिव नहीं कह सकते एक ही न्यूज़ चैनल को देख कर अपना मेरे हिसाब से वह उनका पोयम कोई सुन नहीं सकता या फिर वह खुद ही अपने में विश्वास नहीं करते हम 145 न्यूज़ देखना चाहिए 4 बार जगह से हरे इंफॉर्मेशन कलेक्ट करना चाहिए ध्यान रखना चाहिए तो सिर्फ एक दो न्यूज़ चैनल देख कर नहीं पता कर सकते क्या विपक्ष सरकार है और किसान मान लिए जो कुछ चैनल में दिखाया जाता है किसानों को पता है कि उनके लिए क्या सही है क्या गलत है क्या हो रहा है अच्छा क्या नहीं हो रहा है इसलिए वह प्रोडक्ट और यह आंदोलन करने के लिए आई है इतनी ठंड में ऐसे महामारी में कोई मतलब किसी को भड़काने से तो कोई कैसे इतना बड़ा कदम उठा सकता है ना तो कोई किसी को भड़का नहीं रहा है विपक्ष का काम है कि कुछ तो उल्टा और उनके अपोजिट में बोलेंगे ही मतलब ज्यादा से ज्यादा समय एक इंसान चाहता था कि वह प्लेस मिले मुझे वह सीट मिले लेकिन इंसान और जनता को कोई नहीं करता सकता जनता को पता है कि क्या सही है क्या गलत है कि जैसे किसानों को पता है कि क्या सही है क्या गलत है

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:08
विंडोज़ के लोगों ने किसानों को बढ़ गया है या फिर सच में किसान बिल में कोई समस्या जो कि उसको मिटा सकता फार्मिंग में है अगर वह नहीं खरीदा है तो उसके लिए सीधे एसडीएम कोर्ट तक है जबकि एचडी में छोटी कोर्ट होती है निश्चित तौर पर हमें बड़ी कोट तक पहुंचना चाहिए डिस्टिक लेवल पर करना चाहिए और उसे मिलजुल कर के बेहतर करना चाहिए इसके बाद आता है कुछ और होते हैं जो एमएससी को देखकर एमएसपी के लिए सरकार कोई शक कानून नहीं बना रही है प्राइवेट कह रहे हैं कि लोग कहीं पर जाकर भेज सकते हैं कोई भी रजिस्टर्ड एजेंट हो वह कर ही सकता है लेकिन अगर मान लीजिए कि हमारे की सरकारी विक्रय केंद्र है वहां पर नहीं खरीदा जाता है और अगर लोग कहीं और भी करते हैं तो अपनी मर्जी से खरीदेंगे यानी कि सरकार सख्त कानून नहीं बना रही कि भाई नहीं आप बाहर भी खरीदे तो एमएसपी पर ही किए हैं एमएसपी परिचय दें इसमें मिलता है जैसे कि मैं आपको उदाहरण दो माली जी की एक मंडी में गेहूं का उन्नीस सौ रुपए निर्धारित किया गया है हमने तो अपना शतक पूरा कर लिया और जो बच्चे की शान है बाहर दूसरे प्राइवेट सेक्टर में खरीदना चाहिए और उसने कहा कि जी हम तो नहीं लेंगे हम आपको 15 सो रुपए लेकिन अगर गवर्नमेंट का सख्त कानून होगी वहीं नहीं आना स्कूल से नीचे कोई खरीदने सकता कोई कच्चा बिल दे नहीं सकता है तो अगर इस तरह से कोई खरीदता है और कच्चे बिल देता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई किए हैं जहां पर है लेकिन बाद में इसको इस आंदोलन को कहीं राजनीति से प्रेरित कर दिया गया प्रेस करके जो पंजाब का एक ग्रुप उसमें काम कर रहा है और खासकर खालिस्तानी ऐड कर के नाम से है वह गलत है और कम्युनिस्ट पार्टी का जो किसान ग्रुप है वह गलत पॉलिटिक्स से कांग्रेसका भी किसान ग्रुप है जो गलत ढंग से पकड़ लिया और निश्चित तौर पर ही दुर्भाग्यपूर्ण है वरना किसी भी आंदोलन को सफल नहीं होने और जिन्हें व्यापम वापस करके ही जान जाय कानून कैसे हो सकता है उसको बताया था दोनों सदनों में पारित किया गया है राष्ट्रपति का संभावना है गुंजाइश है उसको कनेक्ट किया जा सकता है तो कहीं इसमें कुछ खाया जरूर क्या है

Mayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Mayank जी का जवाब
Student/ Voracious reader
2:11
नमस्कार दोस्तों जिस प्रकार से किसान इस अवधि को इस मौसम को झेल रहे हैं मैं नहीं मानता कोई विपक्ष ने ₹2000 दिन के देख यह ₹10000 दे दे कोई भी एक समझदार व्यक्ति यह लालची व्यक्ति भी ऐसा काम नहीं करेगा कि वह 1 महीने से लगातार वहां पर बैठा हुआ दिल्ली बॉर्डर पर और ठंड का सामना कर रहा है पर इसका सामना कर रहा है तो यह कहना कि यह विपक्ष के भेजो लोग हैं यह बिके हुए लोग हैं यह कहना गलत है क्योंकि बहुत खराब मौसम है और चाहे कोई भी असर चुना धीरे दिन के कोई भी वहां पर जाकर नहीं बैठेगा इतने दिन तो यह जो भी लोग हैं वह किसान ही है किसान के शुभचिंतक है जहां पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं क्या किसान बिल में कोई समस्या है तो हां है समस्या सबसे बड़ी तो एक ही है कि जब यह बिल बनाए जा रहे थे तब किसानों से ज्यादा पूछा नहीं क्या उनकी राय नहीं लिखे और इसी के चलते हैं ऐसे कानून आई गई जिसमें किसान अपना हित नहीं दिखते दूसरा यह है कि जो कि सरकार कहती है कि हम एमएसपी लिख देंगे हम आपको लिख कर देना एमएसपी नहीं हटेगी तो सर किसान को जो एक दिक्कत है वह अविश्वास सरकार पर क्योंकि सरकार के ऐसे कई बड़े-बड़े वादे हैं जिसमें सरकार बहुत बड़े-बड़े वादे करती हैं लेकिन बाद में पीछे हट जाती है तो यही अविश्वास जो 6 साल की सरकार ने पैदा किया देशवासियों में उसी के चलते किसान को भरोसा नहीं की एमएसपी सरकार हटा भी सकते उनको ऐसा लगता है दूसरा यह किसान चाहते हैं कि एमएसपी कोई कानून बना दिया जाए यानि अब तक तो बस अब तक बस मंडियों में एमएसपी पर फसलें खरीदी जाती थी बेची जाती थी लेकिन किसान कहने आप क्योंकि आप प्राइवेट फॉर्म इन खोलने यानी कोई बाहर से भी खरीद सकता है मंडी के बाहर बेशक एमएसपी को लागू कर दिया जाए कि कोई भी फसल एमएसपी की कम प्राइस पर ना खरीदें तो जरूरी तो यह है 1 महीने मांडू किसान कर रहे हैं एमएसपी को कानून में लाना या कंपलसरी करना

BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
2:22
आशंका है कि विपक्ष के लोगों ने किसानों को पड़ता है या फिर सच में किसान बलम कोई समस्या को बताना चाहूंगा कि मुझे नहीं लगता कि विपक्ष के लोगों ने किसान को पढ़कर कि इससे कि जो किसान भी लंबे समय से आपको बताना चाहूंगा कि 3:00 बजे बंद है क्यों में पेला पेली उसमें कहा गया है कि किसान सहित अपनी उपज मंडी में सकता है या फिर से एक बार भेजता है कि किसान नेता कैसा हो दे दो मंडी समाप्त हो जाएगी और अपने बीच में घी आदि की शादी की न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी दी जाए क्योंकि यह थी कि सरकारी गारंटी देती है तो सरकार इस कानून बन जाती है वह सरकार को किसानों के ऊपर से अधिक रुपए में करनी पड़ती है वापिस जवाई सरकार लोगों ने भारतीय पर बेस्ड है तो सरकार कम पैसे में पड़ता है इसलिए सरकारी ताकि इसे समाप्त कर दिया जाए और सबको बराबर आकर मिलें किसानों को भी और लोगों को भी किंतु कि शांति से उतना ही फायदा देखना चाहते हैं और जो दूसरा और तीसरा का नाम दूसरे का नाम बताते हैं कि बड़े-बड़े कॉन्ट्रैक्ट एजेंसी कांटेक्ट करेंगे और डिजाइन सकेंगे कि वह फसल का उचित मूल्य करें और फिर उसी मूल्य पर कांटेक्ट को सारी उपज भेजें इसमें भी किसानों को धान किसानों को लगता है कि यह भूकंप लेते कर लेते हैं और फिर उस मूल्य में बढ़ोतरी और कटौती होती है तो बीच में किसानों को नुकसान और तीसरे जुबिल वॉच में कहा गया है कि कोई भी अपनी स्थाई या फिर कोई भी बड़ी फैक्ट्री से हैप्पी रिटर्ंस 2 इनका प्रदान कर सकते किंतु इससे भ्रष्टाचारी पड़ेगा क्योंकि किसानों के पास इतना बड़ा कोई धर्म नहीं होता है जहां भगवान का भंडारण का सबसे बड़ा और दिल में ही रह भी किसान आंदोलन करें धन्यवाद

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:08
जी बिल्कुल दिल में थोड़ी सी समस्याएं हैं और उसका सलूशन भी है ऐसी बात नहीं है देखिए स्टॉक की बात है कुछ बातें ऐसी है जो किसानों को समझने की जरूरत है कि स्टॉक कैसे होगा कांटेक्ट फॉर्मिंग कैसे होगी सारी चीजें अच्छी तरीके से आंदोलन कर रहे हैं तो वह खाली स्थान और यह सारे मुद्दे क्यों आ रहे हैं किसको छोड़ो उसको छोड़ने वाली शहीन बाग का मुद्दा रहे हैं तो ऐसा कुछ नहीं है किसानों को समस्याएं हैं बिल्कुल और वह समझना होगा और उसमें अपना प्रस्तुत करना बाकी है यह समझ गया अगर हमें कोई समस्या आती है उसका सलूशन बताइए गवर्नमेंट का कब तक सोने नहीं देती है तब तुमको धरना देना चाहिए पर टच करना चाहिए जब तक कि गवर्नमेंट सॉल्यूशन ना दे देंगे क्योंकि किसान को सलूशन नहीं मिलेगा और अगर ऐसी समस्याओं के संग स्टॉक कोई सीमित जगह नहीं होगी या नहीं होगी और स्टॉक अच्छा खासा हुआ तो इसका सीधा इंपैक्ट आम आदमी पर हम पर भी आएगा और रीटा काफी बढ़ सकते हैं

Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
1:34
नमस्कार आपका प्रश्न है क्या विपक्ष के लोग ने किसान को भड़काया है या फिर सच में किसान बिल में कोई समस्या है देखिए आपने सूअर देखा होगा सूअर जो कि कीचड़ में रहना बहुत ज्यादा पसंद करता है और वही हाल है इन विरोध करने वालों का इन लोगों का कांग्रेस के जो नीति और रीति है उनकी आदत पड़ गई है और कोई इन्हें इन सूअरों को पक्का का मकान बना कर दे तो कैसे बर्दाश्त कर लेंगे उन्हें तो पसंद है 70 वर्षों से कीचड़ में रहने का जहां तक बिल का विरोध का बात है तो जितने लोग विरोध कर रहे हैं दो-चार हजार लोग हैं उससे कई गुना ज्यादा इसके समर्थन में है अब कहेंगे कि समर्थन में थे क्यों नहीं रोड पर आ रहे हैं वह क्यों रोड पर आएंगे उनका क्या घटा है क्या अपना काम करेंगे कि उनको रोड पर आकर उनको धरना देने से काम चल जाएगा को दिक्कत है जिन को परेशानी हो रोड पर पड़े हैं अपना रोड पर जाम लगा हुआ है लग्जरी आंदोलन हो रहा है सब कुछ लग्जरी हो रहा है मॉल फ्री में चल रहा है मसाज हो रहा है और राजनीतिक पार्टी अपना रोटियां सेक रही है अच्छा है अंत में मैं यही कहूंगा कि जितना किसानों के लिए संवेदनशील यह सरकार है उतना कोई सरकार नहीं है धन्यवाद आपकी इस प्रश्न के लिए

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

#undefined

bolkar speaker
सबसे वफादार पेट कौन सा है?
ABHAI PRATAP SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए ABHAI जी का जवाब
teacher
0:48

#undefined

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
0:42

#खेल कूद

vineet Upadhyay  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vineet जी का जवाब
Unknown
1:05

#टेक्नोलॉजी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:56

#टेक्नोलॉजी

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:42

#टेक्नोलॉजी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:46

#धर्म और ज्योतिषी

Aakancha Shaw Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aakancha जी का जवाब
Unknown
0:45

#जीवन शैली

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:48

#टेक्नोलॉजी

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:46

#धर्म और ज्योतिषी

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:41

#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:52

#पढ़ाई लिखाई

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:44

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
Let का उपयोग कब करते है?
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:31

#टेक्नोलॉजी

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:19

#जीवन शैली

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:55

#टेक्नोलॉजी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:17

#रिश्ते और संबंध

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:19

#जीवन शैली

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:09

#खेल कूद

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है भारत अपने राष्ट्रीय खेल हॉकी में इतना कमजोर कैसे हो गया है कि पहले हमारा लोहा दुनिया मानती थी इस खेल में तो फ्रेंडशिप हो कि मैं लोग ज्यादा इंटरेस्ट नहीं दिखा रहे हैं और क्रिकेट ज्यादा खेलते हैं उसमें ज्यादा इंटरेस्ट दिखाते हैं और वाकिंग में प्लेयर ज्यादा प्रैक्टिस नहीं करते ना ज्यादा ध्यान देते हैं और ना ही सरकार इस बात पर ज्यादा ध्यान दे रही है क्रिकेट कुछ लोग ज्यादा पसंद करते हैं उसे ही ज्यादा देखते हैं ज्यादा खेलते हैं और उसी की प्रैक्टिस भी कम हो गई है इसलिए यह कमजोर होता जा रहा है धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है एरोप्लेन मोड क्या है और क्या काम आता है दिगि्प्रिंट एरोप्लेन मोड जो होता है जब हम उसे ऑन करते हैं या मोबाइल डिवाइस में एक उपकरण होता है फ्रेंड और इसका उपयोग जो है वह जैसे कि आप अगर मोबाइल स्विच ऑफ कर देते हैं तो किसी ने आपको कॉल किया तो बताएगा कि आपकी मोबाइल जो है वह स्विच ऑफ है लेकिन जब आप एरोप्लेन मोड में डाल देते हैं तो आपके मोबाइल की सारी नेटवर्क सेवाएं जो है वह अवश्य गीत हो जाती है बंद हो जाती है लेकिन आपका मोबाइल ऑन रहता है फ्रेंड आपके मोबाइल में सारी सेवाएं जो है नेटवर्क रूप से ना तो आपको इंटरनेट चला सकते हैं ना तो आपने जो है किसी को कॉल कर सकते हैं हालांकि वाईफाई इसमें काम कर सकती है फ्रेंड काम करती भी है एरोप्लेन मोड में अगर आपने डाला हुआ है तो आदत सेट से वाईफाई कनेक्ट करके वाईफाई से आप जो है चला सकते हैं फ्रेंड नेट का उपयोग कर सकते हैं लेकिन अपने मोबाइल से अगर खुद चाहे तो नहीं कर सकते प्लीज नहीं होता है कि आपकी मोबाइल की जो नेटवर्क सेंटर होता है वह जो है एरोप्लेन मोड में आने के बाद क्यों नेटवर्क जुआ खत्म हो जाता है फुल नेटवर्क सेवा स्थगित हो जाती है इसे जब कोई आपको कॉल करेगा तो उसे वही पोजीशन आती है जब मोबाइल स्विच ऑफ हो जाता है मोबाइल स्विच ऑफ हो जाता है तो हम किसी को कॉल करते हैं तो हमें सुनाई देता है कि सामने वाले का मोबाइल जो है वह स्विच ऑफ है एरोप्लेन मोड में डाल देंगे तो सामने वाला जो आपको कॉल करेगा उसे भी यही सुनाई देगा कि आपकी मोबाइल जो है वह स्विच ऑफ है लेकिन आपकी मोबाइल ऑन रहती हो फिर सिर्फ नेटवर्क कनेक्टिविटी ना होने के कारण जो है सिवाना मिलने के कारण जो है आपकी मोबाइल में ऐसी जो है समस्या जो है बताने लगता है कि आपकी मोबाइल जो है वह स्विच ऑफ है यह कंडीशन तब आता है कहीं आप सेमिनार में हो तो कर सकते हैं इसका उपयोग या फिर कोई बार बार कॉल करके आपको परेशान कर रहा है तो आप कुछ पल के लिए जो है आप एरोप्लेन मोड में डाल दे एरोप्लेन मोड में डालने से फ्रेंड आप की सीधी सी भाषा में आप समझिए कि जो आपका नेटवर्क कनेक्टिविटी सेंटर होता है वहां से आप का पावर जो है वह आप हो जाता है फिर से जब उसे आप जो है आप करते हैं एरोप्लेन मोड जवान करेंगे तो यह आएगा अगर आप आप करते हो तो फिर से पुनः आपकी जो सेटिंग होती है वह शुरू हो जाती है फिर से आपकी पूरी सेवा जो है वह आ जाती है फिर जैसे ही आप एरोप्लेन मोड में करेंगे तो आपकी सिम में चाहे एक सिम लगा हो या दूसरी लगाओ दोनों सिंह के सिवाय जो है वह बाधित हो जाती हैं रुक जाती है जब तक आप एरोप्लेन मोड में रखते हैं तब तक जब आप उसे बंद कर देते हैं तब फिर से आपकी सेवा चालू हो जाती है आशा एक जवाब पसंद आया होगा नमस्कार
  • क्या है किसान बिल, क्या है नया किसान बिल
URL copied to clipboard