#भारत की राजनीति

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:59
नमस्कार आपका प्रश्न है कि संतरा के बाद आज भारत अपनी मांगों को मनवाने और सरकार के विरोध करने के लिए बाद बाद में हड़ताल में तोड़फोड़ और रास्ता जाम होता है क्या यह उचित है लिखे दोस्त तोड़-फोड़ करना और रास्ते जाम करना यह गलत है क्योंकि टिकट तोड़फोड़ करते हैं तो उसमें सरकार का कुछ नहीं बिगड़ता वह हम ही लोगों का आपस में भी करता है तो तोड़फोड़ करना बिल्कुल गलत है अगर आप सरकारी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाते हैं तो वह भी गलत है क्योंकि एक तरह से सरकार संपत्ति को तोड़फोड़ करके आप अपना ही नुकसान कर रहे हैं वह सरकार की को निजी संपत्ति नहीं है सरकारी तो बदलती रहती हैं वह तो देश की संपत्ति है पहली चीज और दूसरी बात आपने पूछा कि रास्ता जाम कर ना देख रहा था जाम करना भी गलत है क्योंकि अगर आप रास्ता जाम करते तो हो सकता है कि वहां से कोई व्यक्ति अपनी ट्रेन पकड़ने जा रहा हूं कोई हवाई जहाज को करने जा रहा हूं या किसी का कोई प्रश्न बीमार हो या कोई एंबुलेंस रास्ते में फस जाए तो वह आप परेशान हो जाएंगे इसलिए किसी का रास्ता नहीं जाऊं करना चाहिए तोड़फोड़ करनी नहीं करनी चाहिए और बाकी बात हड़ताल की देखे हड़ताल ले करना उचित है और हड़ताल तो हम अंग्रेजों के जमाने से भी करते हैं जब अंग्रेज हमारे देश में शासन करते थे तो उस समय भी हम हड़ताल करते थे भूख हड़ताल करते थे और हम लोग जो है और भी बहुत सारे ऐसे उपाय करते थे जिससे कि अंग्रेजों को हमारी आवाज सुनाई दे हड़ताल करते हैं तो सरकार को हमारी आवाज सुनाई देती हम मंत्री लोगों से मिलना तो बहुत मुश्किल है प्रधानमंत्री से तो समझ लीजिए उनकी तो आप परछाई भी नहीं सुन सकते हैं मिलने की तो बात दूर रही और बाकी मंत्री लोग तो जभी जनता के बीच में आते जब उन्हें चुनाव होते हैं सर पर और वोट लेना होता है तो वह लोग तो सुनते नहीं है रहे सरकारी अधिकारी तो वह तो आप बिल्कुल ही निगम में इसलिए हड़ताल करना हमें जरूरी लगता है और क्यों कि हड़ताल के द्वारा सोशल मीडिया के द्वारा हमारी बात सरकार तक पहुंच जाए और उसके बाद कोई कार्रवाई होती है तो फिर अच्छी बात है उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki santara ke baad aaj bhaarat apanee maangon ko manavaane aur sarakaar ke virodh karane ke lie baad baad mein hadataal mein todaphod aur raasta jaam hota hai kya yah uchit hai likhe dost tod-phod karana aur raaste jaam karana yah galat hai kyonki tikat todaphod karate hain to usamen sarakaar ka kuchh nahin bigadata vah ham hee logon ka aapas mein bhee karata hai to todaphod karana bilkul galat hai agar aap sarakaaree sampatti ko bhee nukasaan pahunchaate hain to vah bhee galat hai kyonki ek tarah se sarakaar sampatti ko todaphod karake aap apana hee nukasaan kar rahe hain vah sarakaar kee ko nijee sampatti nahin hai sarakaaree to badalatee rahatee hain vah to desh kee sampatti hai pahalee cheej aur doosaree baat aapane poochha ki raasta jaam kar na dekh raha tha jaam karana bhee galat hai kyonki agar aap raasta jaam karate to ho sakata hai ki vahaan se koee vyakti apanee tren pakadane ja raha hoon koee havaee jahaaj ko karane ja raha hoon ya kisee ka koee prashn beemaar ho ya koee embulens raaste mein phas jae to vah aap pareshaan ho jaenge isalie kisee ka raasta nahin jaoon karana chaahie todaphod karanee nahin karanee chaahie aur baakee baat hadataal kee dekhe hadataal le karana uchit hai aur hadataal to ham angrejon ke jamaane se bhee karate hain jab angrej hamaare desh mein shaasan karate the to us samay bhee ham hadataal karate the bhookh hadataal karate the aur ham log jo hai aur bhee bahut saare aise upaay karate the jisase ki angrejon ko hamaaree aavaaj sunaee de hadataal karate hain to sarakaar ko hamaaree aavaaj sunaee detee ham mantree logon se milana to bahut mushkil hai pradhaanamantree se to samajh leejie unakee to aap parachhaee bhee nahin sun sakate hain milane kee to baat door rahee aur baakee mantree log to jabhee janata ke beech mein aate jab unhen chunaav hote hain sar par aur vot lena hota hai to vah log to sunate nahin hai rahe sarakaaree adhikaaree to vah to aap bilkul hee nigam mein isalie hadataal karana hamen jarooree lagata hai aur kyon ki hadataal ke dvaara soshal meediya ke dvaara hamaaree baat sarakaar tak pahunch jae aur usake baad koee kaarravaee hotee hai to phir achchhee baat hai ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

और जवाब सुनें

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:49
वास्तु भारत में राजनीति हुई है वह बहुत गंदी से गंदी होती गई है क्योंकि भारतीय नियम जो इतने कमजोर होते हैं लचर इतने पुराने हो चुके हैं कि आज जनता में उसका कोई भाई नजर नहीं आता है लोगों ने अपनी अपनी मांगे स्वीकृत कराने के लिए सरकार को झुकाने के लिए सरकार का विरोध करने के लिए आजकल एक नया फैशन अपना लिया है कि बात बात पर लोग रास्ता जाम कर देते हैं हड़ताल कर देते हैं तोड़फोड़ कर देते हैं और ट्रेन और बसों में आग लगा देते हैं कि सरकार वोटों की राजनीति के कारण कुछ नहीं करती है परिणाम स्वरूप आज बड़ी बस से बदतर स्थिति हो जाती है आम नागरिक का उंजा मुंह में यदि फस जाता है तो निकलना बड़ा कठिन हो जाता है कई बार तो ऐसी स्थिति आ जाती है कि रास्ता जाम कर दिया गया है और उसमें एंबुलेंस फस गई है तो गिटार ओके भाई मर जाता है कई बार बच्चे बिचारे उन ऐसे जामुन फस जाते हैं इंटरव्यू लेने के लिए जा रहे हैं लेकिन उनको निकलने नहीं दिया जाता है यह कुछ हमारी नींबू की कमजोरियां हैं क्योंकि यह जनप्रिय शासन के अंतर्गत जो यह वोटों की राजनीति की जा रही है वह बहुत गंदी है जिसके कारण से आम नागरिक का हड़ताल के कारण भारत बंद होने के कारण रास्ता जाम कर देने के कारण बड़ा जीवन बड़ा कठिन हो जाता है सरकार को इस पर प्रतिबंध लगाना चाहिए पैसा ना चाहिए तभी जाकर के आम नागरिक का जीवन सुविधा पूर्ण हो सकता है सरकार की न्यूज़ सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं लेकिन बड़ा दुर्भाग्य का विषय है आजकल कुछ नहीं करती
Vaastu bhaarat mein raajaneeti huee hai vah bahut gandee se gandee hotee gaee hai kyonki bhaarateey niyam jo itane kamajor hote hain lachar itane puraane ho chuke hain ki aaj janata mein usaka koee bhaee najar nahin aata hai logon ne apanee apanee maange sveekrt karaane ke lie sarakaar ko jhukaane ke lie sarakaar ka virodh karane ke lie aajakal ek naya phaishan apana liya hai ki baat baat par log raasta jaam kar dete hain hadataal kar dete hain todaphod kar dete hain aur tren aur bason mein aag laga dete hain ki sarakaar voton kee raajaneeti ke kaaran kuchh nahin karatee hai parinaam svaroop aaj badee bas se badatar sthiti ho jaatee hai aam naagarik ka unja munh mein yadi phas jaata hai to nikalana bada kathin ho jaata hai kaee baar to aisee sthiti aa jaatee hai ki raasta jaam kar diya gaya hai aur usamen embulens phas gaee hai to gitaar oke bhaee mar jaata hai kaee baar bachche bichaare un aise jaamun phas jaate hain intaravyoo lene ke lie ja rahe hain lekin unako nikalane nahin diya jaata hai yah kuchh hamaaree neemboo kee kamajoriyaan hain kyonki yah janapriy shaasan ke antargat jo yah voton kee raajaneeti kee ja rahee hai vah bahut gandee hai jisake kaaran se aam naagarik ka hadataal ke kaaran bhaarat band hone ke kaaran raasta jaam kar dene ke kaaran bada jeevan bada kathin ho jaata hai sarakaar ko is par pratibandh lagaana chaahie paisa na chaahie tabhee jaakar ke aam naagarik ka jeevan suvidha poorn ho sakata hai sarakaar kee nyooz suvidhaon ka laabh utha sakate hain lekin bada durbhaagy ka vishay hai aajakal kuchh nahin karatee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

URL copied to clipboard