#टेक्नोलॉजी

Dilip Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dilip जी का जवाब
Unknown
4:01
देखिए स्वाभाविक है कि आप अपने घर से 500 किलोमीटर दूर रहते हैं और जब छुट्टियों में घर जाते हैं और फिर घर का जब आनंद लेकर वापस छुट्टियां खत्म होने पर ऑफिस जाते हैं तो 500 किलोमीटर दूर अपने घर परिवार से हो जाते हैं ऐसे में निश्चित रूप से मन नहीं लगता है और ऐसा मन करता है कि नौकरी छोड़कर परिवार के पास ही चले जाए लेकिन नौकरी करना हमारी मजबूरी है हमें अपना घर बार चलाना है बच्चे पालना है परिवार का ध्यान रखना है इसलिए आप तो सिर्फ 500 किलोमीटर दूर पर ही हो आप यह देखें और समझे कि लोग हजार हजार दो 2000 किलोमीटर दूर नौकरी करने जाते हैं हमारे सैनिक घर परिवार छोड़कर सारे दोपहर हमारी रक्षा करते हैं क्या कभी आपने सोचा है कि वह लोग कैसे इतनी दूर रहकर अपने परिवार से दूर रहकर और अपना जीवन यापन करते हैं कैसे हुए अकेले रहते हैं कैसे सारी चीजों को सहते हैं तो हर व्यक्ति के जीवन में इस प्रकार के कष्ट तकलीफ है तो होती है इनसे हमें घबराना नहीं चाहिए हां जब जब अवसर मिले जब जब छुट्टियां मिले तब तक हमें अपने परिवार के नीचे रहना चाहिए जाना चाहिए उनकी देखभाल सुबोध लेते रहना चाहिए और आजकल तो वैसे मोबाइल का जमाना है आधुनिक विज्ञान का जमाना है आप घर परिवार से दूर हो ना लगे आपको इसके लिए आप हमसे लाइव सीधे बात कर सकते हो उन्हें देख सकते हो उन्हें मैसेज कर सकते हो तो ऐसे प्रयास करते रहे और उनसे सीधी लाइव बात करते रहे तो आपको कभी ऐसा लगेगा नहीं क्या आप घर परिवार से 500 किलोमीटर दूर हो लेकिन यह आप अकेले ऐसे व्यक्ति नहीं है दुनिया में ऐसे हजारों लाखों करोड़ों लोग हैं जो घर से दूर रहकर घर परिवार के लिए यह सब करते हैं तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं है और जवाब छुट्टियां मना कर आते हैं तो स्वाभाविक है थोड़े दिनों में अच्छा नहीं लगता लेकिन धीरे-धीरे जो वापस रोटी ना जाता है तो आप ही स्मार्ट मिल जाता है तो आप जब घर पर जाएं घर में मन लगा है आप इसकी और ध्यान ना दें जब ऑफिस आ जाएं ऑफिस के काम में ध्यान लगा घर परिवार की ज्यादा चिंता फिकर नहीं करें क्योंकि घर परिवार के लोग भी तो आपके बिना रह रहे हैं वह भी तो आपको वाइट करके अपना जीवन यापन कर ही रहे तो आपको भी इसी प्रकार से अपना जीवन और अपने परिवार का जीवन करने के लिए थोड़ा बहुत सेंड करना चाहिए और अपनी नौकरी अपने कैरियर की ओर ध्यान देना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए इसी का नाम जीवन है जो कि हमें सीखने को समझने को दिवस पर मजबूर करता है और हम इन्हीं बातों से सीखते भी है
Dekhie svaabhaavik hai ki aap apane ghar se 500 kilomeetar door rahate hain aur jab chhuttiyon mein ghar jaate hain aur phir ghar ka jab aanand lekar vaapas chhuttiyaan khatm hone par ophis jaate hain to 500 kilomeetar door apane ghar parivaar se ho jaate hain aise mein nishchit roop se man nahin lagata hai aur aisa man karata hai ki naukaree chhodakar parivaar ke paas hee chale jae lekin naukaree karana hamaaree majabooree hai hamen apana ghar baar chalaana hai bachche paalana hai parivaar ka dhyaan rakhana hai isalie aap to sirph 500 kilomeetar door par hee ho aap yah dekhen aur samajhe ki log hajaar hajaar do 2000 kilomeetar door naukaree karane jaate hain hamaare sainik ghar parivaar chhodakar saare dopahar hamaaree raksha karate hain kya kabhee aapane socha hai ki vah log kaise itanee door rahakar apane parivaar se door rahakar aur apana jeevan yaapan karate hain kaise hue akele rahate hain kaise saaree cheejon ko sahate hain to har vyakti ke jeevan mein is prakaar ke kasht takaleeph hai to hotee hai inase hamen ghabaraana nahin chaahie haan jab jab avasar mile jab jab chhuttiyaan mile tab tak hamen apane parivaar ke neeche rahana chaahie jaana chaahie unakee dekhabhaal subodh lete rahana chaahie aur aajakal to vaise mobail ka jamaana hai aadhunik vigyaan ka jamaana hai aap ghar parivaar se door ho na lage aapako isake lie aap hamase laiv seedhe baat kar sakate ho unhen dekh sakate ho unhen maisej kar sakate ho to aise prayaas karate rahe aur unase seedhee laiv baat karate rahe to aapako kabhee aisa lagega nahin kya aap ghar parivaar se 500 kilomeetar door ho lekin yah aap akele aise vyakti nahin hai duniya mein aise hajaaron laakhon karodon log hain jo ghar se door rahakar ghar parivaar ke lie yah sab karate hain to isamen koee badee baat nahin hai aur javaab chhuttiyaan mana kar aate hain to svaabhaavik hai thode dinon mein achchha nahin lagata lekin dheere-dheere jo vaapas rotee na jaata hai to aap hee smaart mil jaata hai to aap jab ghar par jaen ghar mein man laga hai aap isakee aur dhyaan na den jab ophis aa jaen ophis ke kaam mein dhyaan laga ghar parivaar kee jyaada chinta phikar nahin karen kyonki ghar parivaar ke log bhee to aapake bina rah rahe hain vah bhee to aapako vait karake apana jeevan yaapan kar hee rahe to aapako bhee isee prakaar se apana jeevan aur apane parivaar ka jeevan karane ke lie thoda bahut send karana chaahie aur apanee naukaree apane kairiyar kee or dhyaan dena chaahie aur aage badhana chaahie isee ka naam jeevan hai jo ki hamen seekhane ko samajhane ko divas par majaboor karata hai aur ham inheen baaton se seekhate bhee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard