#रिश्ते और संबंध

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:10
बबलू चौधरी जी का विरोधी सवाल है चाहे लड़का हो या लड़की अपने पति से कार्य करना चाहिए या फिर अपने माता-पिता की मनपसंद कार्य करना उचित है नमस्कार बबलू जी कि आपने मुझे याद किया है जो शादी है बड़ी माता पिता की पत्नी होती है और लड़की और लड़की भी दूसरे को पसंद करती है पहले शादी हो रही है तू तू अरेंज मैरिज भी हो रही है वह भी बिना देखे हुए नहीं हो रही है तो अपने माता-पिता की कि मैं पसंद से करें कि क्या है कि माता-पिता भी खुश खुश हो खुश होता है और आप भी खुश रहेंगे जब आप लोग अपनी पसंद से कोई भी पसंद करता है तो वह हो सकता है कि समाज के लोग और माता-पिता ना पसंद नहीं लेकिन अपनी पसंद से भी आप कर सकते हैं लेकिन उसके लिए आपको अपने माता-पिता के लिए अनुमति लेनी चाहिए और अपने माता पिता से भी बताना चाहिए आप अपनी पसंद से करिए लेकिन इसमें कोई दिक्कत नहीं है माता पिता की मृत्यु हुई थी माता पिता ने हमारे लिए सब कुछ किया और इतना कुछ करते हैं उनके लिए करना चाहिए क्या होता है कि कुछ लोग शादी कर लेते हैं कोर्ट मैरिज कर लेते हैं अपने माता पिता बताते भी नहीं है तरीके से जो है समाज में उनकी जो है बदनामी भी होती है और अपने अपने अपने अपने माता-पिता को बनाने का प्रयास कीजिए कि हमारे माता-पिता जो शामिल नहीं होना चाहते शामिल होना चाहते हो हमें हमेशा खुश रखना चाहते हैं खुश देखना चाहते हैं तो हमारे लिए खाना जरूर करेंगे एक बार हम कहेंगे नहीं मानेंगे तो दूसरी बात ऐसी बातें जरूर मान जाएंगे इसलिए माता-पिता का साथ होना चाहिए और उनकी अच्छी बात है शादी होनी चाहिए जिसमें यह होगा कि आपके भी पसंद था माता पिता के अपनी पत्नी से हो गई है तो मिस करते हैं सवाल का जवाब दो और आप हमेशा खुश रखे आपको बहुत-बहुत धन्यवाद
Babaloo chaudharee jee ka virodhee savaal hai chaahe ladaka ho ya ladakee apane pati se kaary karana chaahie ya phir apane maata-pita kee manapasand kaary karana uchit hai namaskaar babaloo jee ki aapane mujhe yaad kiya hai jo shaadee hai badee maata pita kee patnee hotee hai aur ladakee aur ladakee bhee doosare ko pasand karatee hai pahale shaadee ho rahee hai too too arenj mairij bhee ho rahee hai vah bhee bina dekhe hue nahin ho rahee hai to apane maata-pita kee ki main pasand se karen ki kya hai ki maata-pita bhee khush khush ho khush hota hai aur aap bhee khush rahenge jab aap log apanee pasand se koee bhee pasand karata hai to vah ho sakata hai ki samaaj ke log aur maata-pita na pasand nahin lekin apanee pasand se bhee aap kar sakate hain lekin usake lie aapako apane maata-pita ke lie anumati lenee chaahie aur apane maata pita se bhee bataana chaahie aap apanee pasand se karie lekin isamen koee dikkat nahin hai maata pita kee mrtyu huee thee maata pita ne hamaare lie sab kuchh kiya aur itana kuchh karate hain unake lie karana chaahie kya hota hai ki kuchh log shaadee kar lete hain kort mairij kar lete hain apane maata pita bataate bhee nahin hai tareeke se jo hai samaaj mein unakee jo hai badanaamee bhee hotee hai aur apane apane apane apane maata-pita ko banaane ka prayaas keejie ki hamaare maata-pita jo shaamil nahin hona chaahate shaamil hona chaahate ho hamen hamesha khush rakhana chaahate hain khush dekhana chaahate hain to hamaare lie khaana jaroor karenge ek baar ham kahenge nahin maanenge to doosaree baat aisee baaten jaroor maan jaenge isalie maata-pita ka saath hona chaahie aur unakee achchhee baat hai shaadee honee chaahie jisamen yah hoga ki aapake bhee pasand tha maata pita ke apanee patnee se ho gaee hai to mis karate hain savaal ka javaab do aur aap hamesha khush rakhe aapako bahut-bahut dhanyavaad

और जवाब सुनें

Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:59
यह घोषणाएं निजी सोच पर डिपेंड है कोचिंग करता ने पूछा है कि चाहे लड़का हो या लड़की हो अपने मनपसंद शादी करना सही या फिर अपने माता-पिता के मनपसंद की शादी करना उचित है तो देखिए दोनों ही तरह से उचित है चाहे आपकी पसंद हो या आपके माता-पिता की पसंद हो फर्क इतना है क्या आपकी माता आपकी पसंद में भी आपके माता-पिता की जो उनका जो पसंद है वह शामिल होनी चाहिए जो जिस लाइफ पार्टनर को आप अपने लिए पसंद कर रहे हैं चाहे वह लड़का हो या लड़की हो उसमें उसमें आपके माता-पिता का भी और जो है आशीर्वाद होना चाहिए आपके ऊपर उनका भी जो है उनकी भी राय होनी चाहिए वह भी उनकी भी पसंद होनी चाहिए कि वह क्या पसंद कर रहा है वह आपके लाइफ पार्टनर को आपके साथ देखना चाह रहे हैं या नहीं तो वह बहुत है होटल है क्योंकि कोई भी माता-पिता अपने बच्चे का कभी बुरा नहीं चाहेंगे ऐसा मेरा मानना है कोई भी दुनिया के ऐसे मां बाप नहीं होंगे जो अपने बच्चों का नुकसान करेंगे या नुकसान चाहेंगे कि माता-पिता को भगवान का दर्जा दिया जाता है कहा जाता है कि भगवान हर जगह हर हर परिस्थिति में हर जगह साथ नहीं हो सकते इसलिए उसने मां-बाप बनाया ताकि मां-बाप हर एक इंसान के साथ रहे ठीक है और उनको प्यार करें और निस्वार्थ प्रेम जिसे कहते हैं वह मां-बाप के द्वारा ही बच्चों को प्राप्त होता है बच्चों को मिलता है तो माता-पिता जो भी निर्णय आपके लिए करेंगे वह आपके लिए अच्छा होगा भले आपको उस टाइम ना पता चले लेकिन फ्यूचर में वह आपके लिए ही अच्छा होगा वह आपके लिए लाभकारी होगा तो माता-पिता की दृष्टि से या माता-पिता की पसंद से शादी करना ठीक है आपकी पसंद से भी शादी करना ठीक है आप की भी राय होनी चाहिए माता-पिता की भी राय होनी चाहिए और कोशिश करिए कि जो पसंद हो वह सब की हो ठीक है और आपकी प्राइवेसी नहीं होनी चाहिए जिसमें आपके माता-पिता की सहमति ना हो जिसे वह खुश ना हो या आपकी सोच ऐसी नहीं होनी चाहिए यह जो अपने माता-पिता का सम्मान कर रही हो आपके माता-पिता का अपमान कर रही हो ठीक है अब तो आप ऐसा लाइफ पार्टनर चूस करें चाहे लड़का हो या लड़की है जैसे वह अपने मां-बाप को ट्वीट करें वैसे ही वह आपके मां-बाप को ट्वीट करें वही इज्जत वहीं इस पर तुम्हारी प्यार जो अपने मां-बाप को दे रही है भाई आपके मां-बाप को डिबेट और तू यह एक मां बाप के लिए आजकल के टाइम में यह बहुत जरूरी है और मां-बाप जो भी लड़का लड़की पसंद करते हैं और यही देखी करते हैं कि लड़की लड़का संस्कारी हो जो हमारे परिवार में मिले तो यह देख कर ही अपना लाइफ पार्टनर सुने और पूरे घर की सहमति के साथ सुनीता किसका खुश हुए आपकी पसंद से
Yah ghoshanaen nijee soch par dipend hai koching karata ne poochha hai ki chaahe ladaka ho ya ladakee ho apane manapasand shaadee karana sahee ya phir apane maata-pita ke manapasand kee shaadee karana uchit hai to dekhie donon hee tarah se uchit hai chaahe aapakee pasand ho ya aapake maata-pita kee pasand ho phark itana hai kya aapakee maata aapakee pasand mein bhee aapake maata-pita kee jo unaka jo pasand hai vah shaamil honee chaahie jo jis laiph paartanar ko aap apane lie pasand kar rahe hain chaahe vah ladaka ho ya ladakee ho usamen usamen aapake maata-pita ka bhee aur jo hai aasheervaad hona chaahie aapake oopar unaka bhee jo hai unakee bhee raay honee chaahie vah bhee unakee bhee pasand honee chaahie ki vah kya pasand kar raha hai vah aapake laiph paartanar ko aapake saath dekhana chaah rahe hain ya nahin to vah bahut hai hotal hai kyonki koee bhee maata-pita apane bachche ka kabhee bura nahin chaahenge aisa mera maanana hai koee bhee duniya ke aise maan baap nahin honge jo apane bachchon ka nukasaan karenge ya nukasaan chaahenge ki maata-pita ko bhagavaan ka darja diya jaata hai kaha jaata hai ki bhagavaan har jagah har har paristhiti mein har jagah saath nahin ho sakate isalie usane maan-baap banaaya taaki maan-baap har ek insaan ke saath rahe theek hai aur unako pyaar karen aur nisvaarth prem jise kahate hain vah maan-baap ke dvaara hee bachchon ko praapt hota hai bachchon ko milata hai to maata-pita jo bhee nirnay aapake lie karenge vah aapake lie achchha hoga bhale aapako us taim na pata chale lekin phyoochar mein vah aapake lie hee achchha hoga vah aapake lie laabhakaaree hoga to maata-pita kee drshti se ya maata-pita kee pasand se shaadee karana theek hai aapakee pasand se bhee shaadee karana theek hai aap kee bhee raay honee chaahie maata-pita kee bhee raay honee chaahie aur koshish karie ki jo pasand ho vah sab kee ho theek hai aur aapakee praivesee nahin honee chaahie jisamen aapake maata-pita kee sahamati na ho jise vah khush na ho ya aapakee soch aisee nahin honee chaahie yah jo apane maata-pita ka sammaan kar rahee ho aapake maata-pita ka apamaan kar rahee ho theek hai ab to aap aisa laiph paartanar choos karen chaahe ladaka ho ya ladakee hai jaise vah apane maan-baap ko tveet karen vaise hee vah aapake maan-baap ko tveet karen vahee ijjat vaheen is par tumhaaree pyaar jo apane maan-baap ko de rahee hai bhaee aapake maan-baap ko dibet aur too yah ek maan baap ke lie aajakal ke taim mein yah bahut jarooree hai aur maan-baap jo bhee ladaka ladakee pasand karate hain aur yahee dekhee karate hain ki ladakee ladaka sanskaaree ho jo hamaare parivaar mein mile to yah dekh kar hee apana laiph paartanar sune aur poore ghar kee sahamati ke saath suneeta kisaka khush hue aapakee pasand se

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:25
टॉप का प्रश्न चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद शादी करना सही अपने माता-पिता के मनपसंद शादी करना उचित देखिए अब वह पुराना जमाना नहीं रहा जब 5 साल 10 साल के बच्चों की शादी कर दी जाती तो कुछ जानते नहीं थे माता-पिता निर्णय लेते थे तुझे अपने बच्चों को सिर्फ इतनी सी खुशी होती थी उन्हें नया कपड़ा मिल गया धूम धड़ाका थोड़ा सा हो गया और उनके लिए कुछ स्पेशल हो गया आज हम समझदार हैं पहली बात ही होती थी जब हम माता-पिता की इच्छा से शादी करते हैं तो हमारा घर परिवार पुरानी परंपराओं संस्कारों मान्यताओं से बना रहता है माता-पिता तृप्त होते हैं संतुष्ट होते हैं तो हमारी मदद ही करते हैं कृपया ध्यान दें कि एकल परिवार में कभी न कभी विवाद होते ही हैं और वहां जिस सेफ्टी वाल की जरूरत होती है फिर वह नहीं मिलता है लेकिन कर्म संयुक्त परिवार में माता-पिता केस आरक्षण में रहते हैं तो कहीं ना कहीं हमारे कुंवारों को यह माता-पिता सेफ्टी वालों की तरह जो है वार्ड लिस्ट कर देते हैं और हमें बिखरने से बचा लेते हैं अब रही बात की अपनी इच्छा से तो खूब अपनी इच्छा चल रही माता-पिता का शादी तय करते हैं तो अब ज्यादा जागरूकता इतनी हावी है मोबाइल आज के माध्यम से होने वाले जीवनसाथी के बारे में पूरा परिचय ले सकता और आप कहेंगे तो आपके माता-पिता आपकी बात पर ध्यान देंगे समझे आपने तो मेरा तो यही काम है कि माता पिता जी मनपसंद से जो शादी हो रही है उसमें हम अपने मनपसंद का कोई उपयोग कर सकते हैं समझे अपना और हमें अगर लगता है कि लड़की या लड़का सही नहीं है तो वह अपने माता पिता को दर समझाने की कोशिश करेंगे तो थोड़ा कभी-कभी स्टोर उसको जीत स्वाभिमान का प्रश्न बना लेते हैं अन्यथा वह बड़ी खुशी खुशी हमारी बात को स्वीकार कर लेते हैं जब आना बस चल गया है इसलिए हम कई प्रश्न एक दूसरे से जुड़ा हुआ है कि लड़का लड़की जो है माता-पिता की पसंद से शादी करें और उसमें अपनी पसंद को एडजस्ट कर ले कोई प्रॉब्लम नहीं अपनी पसंद से अगर शादी करें तो एक बार माता-पिता को भी उसमें रजिस्टर करें क्योंकि माता-पिता का जो अनुभव होता है वह हमारे जो आदेश जोश में होश खोने वाली स्थिति होती उस पर वह सेफ्टी वाल्व का काम करता है पहले आपने हम निश्चित रूप से केवल प्रेम विवाह करते हैं तो उसमें दूरगामी दृष्टि नहीं होती है क्यों वासना आत्मक सुंदर होते हैं तात्कालिक संदर्भ होते हैं एक तरह से कहें कि कामवासना कहिए तूफान होता है समझे आप ना उसी तक हम सीमित होते हैं और दूरगामी दृष्टि में रखेंगे तो निश्चित रूप से वह हमें अपने माता-पिता का सहयोग लेना ही होगा और लेना चाहिए अभी पिछले एक वीडियो मैंने कहा भी कि हम अपने मां पिता के साथ जैसा व्यवहार करेंगे हमारे बच्चे उसी का अनुकरण करेंगे अगर आप अपने माता-पिता का तिरस्कार करोगे अपनी जवानी के जलवे में तो आने वाले समय में आपके बच्चे भी आप का तिरस्कार करेंगे खूब ध्यान में रखिए क्योंकि पारिवारिक संस्कार जो है वह कभी न कभी बोलते हैं तो हमारे ख्याल से एडजेस्टमेंट हमें करना चाहिए एक दूसरे के साथ थे
Top ka prashn chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand shaadee karana sahee apane maata-pita ke manapasand shaadee karana uchit dekhie ab vah puraana jamaana nahin raha jab 5 saal 10 saal ke bachchon kee shaadee kar dee jaatee to kuchh jaanate nahin the maata-pita nirnay lete the tujhe apane bachchon ko sirph itanee see khushee hotee thee unhen naya kapada mil gaya dhoom dhadaaka thoda sa ho gaya aur unake lie kuchh speshal ho gaya aaj ham samajhadaar hain pahalee baat hee hotee thee jab ham maata-pita kee ichchha se shaadee karate hain to hamaara ghar parivaar puraanee paramparaon sanskaaron maanyataon se bana rahata hai maata-pita trpt hote hain santusht hote hain to hamaaree madad hee karate hain krpaya dhyaan den ki ekal parivaar mein kabhee na kabhee vivaad hote hee hain aur vahaan jis sephtee vaal kee jaroorat hotee hai phir vah nahin milata hai lekin karm sanyukt parivaar mein maata-pita kes aarakshan mein rahate hain to kaheen na kaheen hamaare kunvaaron ko yah maata-pita sephtee vaalon kee tarah jo hai vaard list kar dete hain aur hamen bikharane se bacha lete hain ab rahee baat kee apanee ichchha se to khoob apanee ichchha chal rahee maata-pita ka shaadee tay karate hain to ab jyaada jaagarookata itanee haavee hai mobail aaj ke maadhyam se hone vaale jeevanasaathee ke baare mein poora parichay le sakata aur aap kahenge to aapake maata-pita aapakee baat par dhyaan denge samajhe aapane to mera to yahee kaam hai ki maata pita jee manapasand se jo shaadee ho rahee hai usamen ham apane manapasand ka koee upayog kar sakate hain samajhe apana aur hamen agar lagata hai ki ladakee ya ladaka sahee nahin hai to vah apane maata pita ko dar samajhaane kee koshish karenge to thoda kabhee-kabhee stor usako jeet svaabhimaan ka prashn bana lete hain anyatha vah badee khushee khushee hamaaree baat ko sveekaar kar lete hain jab aana bas chal gaya hai isalie ham kaee prashn ek doosare se juda hua hai ki ladaka ladakee jo hai maata-pita kee pasand se shaadee karen aur usamen apanee pasand ko edajast kar le koee problam nahin apanee pasand se agar shaadee karen to ek baar maata-pita ko bhee usamen rajistar karen kyonki maata-pita ka jo anubhav hota hai vah hamaare jo aadesh josh mein hosh khone vaalee sthiti hotee us par vah sephtee vaalv ka kaam karata hai pahale aapane ham nishchit roop se keval prem vivaah karate hain to usamen dooragaamee drshti nahin hotee hai kyon vaasana aatmak sundar hote hain taatkaalik sandarbh hote hain ek tarah se kahen ki kaamavaasana kahie toophaan hota hai samajhe aap na usee tak ham seemit hote hain aur dooragaamee drshti mein rakhenge to nishchit roop se vah hamen apane maata-pita ka sahayog lena hee hoga aur lena chaahie abhee pichhale ek veediyo mainne kaha bhee ki ham apane maan pita ke saath jaisa vyavahaar karenge hamaare bachche usee ka anukaran karenge agar aap apane maata-pita ka tiraskaar karoge apanee javaanee ke jalave mein to aane vaale samay mein aapake bachche bhee aap ka tiraskaar karenge khoob dhyaan mein rakhie kyonki paarivaarik sanskaar jo hai vah kabhee na kabhee bolate hain to hamaare khyaal se edajestament hamen karana chaahie ek doosare ke saath the

Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:29
गुलाब कहां आपका सदा ही अपने मनपसंद शादी करा दी तनी मर जाए हम आपकी मर्जी से पहले यह भी मुझसे शादी कर रहे हैं तो आपके लिए सही है इसी की बात है कि आप की मर्जी से शादी करेंगे या मां-बाप की मर्जी से करें
Gulaab kahaan aapaka sada hee apane manapasand shaadee kara dee tanee mar jae ham aapakee marjee se pahale yah bhee mujhase shaadee kar rahe hain to aapake lie sahee hai isee kee baat hai ki aap kee marjee se shaadee karenge ya maan-baap kee marjee se karen

Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
1:19
देखो जी चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद की शादी करना उचित है या माता-पिता के मनपसंद देखो जी सबसे पहली बात यह है कि जिस शादी में माता-पिता राजी हो या चाहे वह अपने मनपसंद की हो या उनके मनपसंद की तो अगर आपके मनपसंद की शादी में माता-पिता राजी हैं तो आपकी शादी पूरी तरह फले फूले की भी ठीक है और सुख भी आपको मिलेगा और यदि आप अपनी मर्जी से करते हैं और अपने माता-पिता खुश नहीं है ठीक है वैसे जिंदगी तो आपको ही पता नहीं है मगर फिर भी या तो हो सके कि आप माता-पिता को मना नहीं मानते हैं तो फिर जैसा वह कहते हैं वैसा ही करो क्यों क्योंकि बचपन में उन्होंने भी आपके लिए बहुत कुछ किया ठीक है तो उनको ठुकरा कर के आप अपने मनपसंद से मर्जी से शादी करके भी कोई सुखी नहीं रह पाएंगे ठीक है तो उसमें निभाती ही होती है कि आपको भी जो है अगर मतलब कि माता-पिता आपके मनपसंद की शादी में खुश हैं तो वह शादी आपकी मनपसंद उनके मनपसंद की तो बात एक बराबर ही हो जाएगी ठीक है और उसमें आपको खुशी भी मिलेगी और ना मिला माता-पिता के मनपसंद की शादी करना अपने मनपसंद की शादी करना तो वह कहीं का भी मतलब आपको बाद में नहीं छोड़ेगी ठीक है तो यही बात है धन्यवाद
Dekho jee chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand kee shaadee karana uchit hai ya maata-pita ke manapasand dekho jee sabase pahalee baat yah hai ki jis shaadee mein maata-pita raajee ho ya chaahe vah apane manapasand kee ho ya unake manapasand kee to agar aapake manapasand kee shaadee mein maata-pita raajee hain to aapakee shaadee pooree tarah phale phoole kee bhee theek hai aur sukh bhee aapako milega aur yadi aap apanee marjee se karate hain aur apane maata-pita khush nahin hai theek hai vaise jindagee to aapako hee pata nahin hai magar phir bhee ya to ho sake ki aap maata-pita ko mana nahin maanate hain to phir jaisa vah kahate hain vaisa hee karo kyon kyonki bachapan mein unhonne bhee aapake lie bahut kuchh kiya theek hai to unako thukara kar ke aap apane manapasand se marjee se shaadee karake bhee koee sukhee nahin rah paenge theek hai to usamen nibhaatee hee hotee hai ki aapako bhee jo hai agar matalab ki maata-pita aapake manapasand kee shaadee mein khush hain to vah shaadee aapakee manapasand unake manapasand kee to baat ek baraabar hee ho jaegee theek hai aur usamen aapako khushee bhee milegee aur na mila maata-pita ke manapasand kee shaadee karana apane manapasand kee shaadee karana to vah kaheen ka bhee matalab aapako baad mein nahin chhodegee theek hai to yahee baat hai dhanyavaad

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:50
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद शादी करना सही है या अपने माता-पिता पसंद मनपसंद शादी करना उचित है दोनों कंडीशन सही है चाहे आप अपनी मर्जी से करें या फिर पेरेंट्स की मर्जी से करें दोनों कंडीशन बस यही होना चाहिए कि दोनों राज्यों जैसे आपके पैरेंट्स राजी हो आप भी राजी हो अगर आप अपनी मनपसंद की शादी करते हैं और आपके पैरेंट्स राजी नहीं है फिर भी आप कर लेते हैं तो आपको कहीं न कहीं किसी न किसी प्रकार की जो समस्याएं हैं वह जीनी पड़ती है चाहे आप को अपने पैलेस को खोना पड़ता है चाहे तो आपको अभी पत्नी को छोड़ना पड़ता है कहीं कहीं कुछ त्रुटियां रह ही जाती हैं वह चीज जो होती है वह सोने पर सुहागा होता है कि जब आप अपनी पसंद की लड़की से शादी करें और आपके पैरेंट्स भी राजी हूं आपकी पेरेंट्स जी बोले कि नहीं बेटा आपकी खुशी में ही मेरी खुशी है तुम जहां शादी करना चाहती हो जहां शादी करना चाहते हो तुम वही करो हम जो हैं राजी हैं वह चीज जो होती है वह मेरी निगाह में फ्रेंड सर्वोत्तम होता है जब वह शादी होती है तो हमारी पाइप भी खुश रहती है हम भी खुश रहते हैं हमारे माता-पिता भी खुश रहते हैं लेकिन अगर कोई अरेंज मैरिज माली जी होता है आपके पापा के कहने पर शादी कर लिए शादी तो कर लेते हैं फिर लेकिन हमारा जो मन रहता है वह उस लड़की ने नहीं लग पाता इसलिए हमारी जो रिश्ता रहती है वह कहीं न कहीं खटास बनी रहती है हम उतना प्यार वह अपनी पत्नी को नहीं दे पाते हैं जितना उसे चाहिए होता है वही चीज अगर हमारे अंदर प्यार है हम दोनों प्यार से हैं हम दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं हमारी मन मुताबिक है हमारी पार्टनर तो बिना कहे फ्रेंड हम उसको इतना प्यार देंगे कि कभी कल्पना नहीं की होगी या फिर वह लड़की जो है आपकी पत्नी जो हो आपको इतना प्यार देगी कि आपने कभी सोचा भी नहीं होगा कंडीशन कभी-कभी ऐसी बन जाती है फ्रेंड की अरेंज मैरिज सक्सेस हो जाती है और प्यार जो है हो जाता है अदर वाइज मेरी मां मामले में फ्रेंड अगर देखा जाए तो मेरा मानना है कि है जो मनपसंद की होती है वह सच में बहुत ही उत्तम मानी जाती है लेकिन कंडीशन भी यही होती है कि सभी लोग राजी हो अगर राजी नहीं नहीं है फ्रेंड तो भी शादी आप कर लेते हैं लेकिन वह शादी जो है आपके लिए बेकार ही होती है या तो आप सभी के रजामंदी से शादी करें आशा है कि आप कोई जवाब पसंद आया होगा शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand shaadee karana sahee hai ya apane maata-pita pasand manapasand shaadee karana uchit hai donon kandeeshan sahee hai chaahe aap apanee marjee se karen ya phir perents kee marjee se karen donon kandeeshan bas yahee hona chaahie ki donon raajyon jaise aapake pairents raajee ho aap bhee raajee ho agar aap apanee manapasand kee shaadee karate hain aur aapake pairents raajee nahin hai phir bhee aap kar lete hain to aapako kaheen na kaheen kisee na kisee prakaar kee jo samasyaen hain vah jeenee padatee hai chaahe aap ko apane pailes ko khona padata hai chaahe to aapako abhee patnee ko chhodana padata hai kaheen kaheen kuchh trutiyaan rah hee jaatee hain vah cheej jo hotee hai vah sone par suhaaga hota hai ki jab aap apanee pasand kee ladakee se shaadee karen aur aapake pairents bhee raajee hoon aapakee perents jee bole ki nahin beta aapakee khushee mein hee meree khushee hai tum jahaan shaadee karana chaahatee ho jahaan shaadee karana chaahate ho tum vahee karo ham jo hain raajee hain vah cheej jo hotee hai vah meree nigaah mein phrend sarvottam hota hai jab vah shaadee hotee hai to hamaaree paip bhee khush rahatee hai ham bhee khush rahate hain hamaare maata-pita bhee khush rahate hain lekin agar koee arenj mairij maalee jee hota hai aapake paapa ke kahane par shaadee kar lie shaadee to kar lete hain phir lekin hamaara jo man rahata hai vah us ladakee ne nahin lag paata isalie hamaaree jo rishta rahatee hai vah kaheen na kaheen khataas banee rahatee hai ham utana pyaar vah apanee patnee ko nahin de paate hain jitana use chaahie hota hai vahee cheej agar hamaare andar pyaar hai ham donon pyaar se hain ham donon ek doosare se pyaar karate hain hamaaree man mutaabik hai hamaaree paartanar to bina kahe phrend ham usako itana pyaar denge ki kabhee kalpana nahin kee hogee ya phir vah ladakee jo hai aapakee patnee jo ho aapako itana pyaar degee ki aapane kabhee socha bhee nahin hoga kandeeshan kabhee-kabhee aisee ban jaatee hai phrend kee arenj mairij sakses ho jaatee hai aur pyaar jo hai ho jaata hai adar vaij meree maan maamale mein phrend agar dekha jae to mera maanana hai ki hai jo manapasand kee hotee hai vah sach mein bahut hee uttam maanee jaatee hai lekin kandeeshan bhee yahee hotee hai ki sabhee log raajee ho agar raajee nahin nahin hai phrend to bhee shaadee aap kar lete hain lekin vah shaadee jo hai aapake lie bekaar hee hotee hai ya to aap sabhee ke rajaamandee se shaadee karen aasha hai ki aap koee javaab pasand aaya hoga shukriya

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:27
बबलू चौधरी के द्वारा प्रश्न पूछा जा रहा है कि चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद शादी करना सही या अपने माता-पिता की मनपसंद की शादी करना उचित है कि जहां अगर आप हकीकत में अच्छी बात करना चाहेंगे इसे क्या हुआ कि कौन सा उचित है कौन सा अनुचित है तो अगर अपने मन की जो शादी करते हैं वह अनुचित है अगर माता-पिता के मन की करते हैं उचित है कि उसमें बहुत सारे ऐसे जो रिलेशन होते हैं वह के बने रहते हैं जैसे आप आपके हर एक भी रिलेशन बने रहते हैं किसी रिलेशन में आपको क्योंकि की दूरियां नहीं बनती है लेकिन आप अपनी मर्जी से जब शादी करते हैं उसे रिलेशन में क्या होती है बहुत सारी रेल से आपकी हो जो होती है वह के रिश्ते कहीं ना कहीं दूर हो जाते हैं तो यह दूरियां अगर कम करना चाहते हैं तो अपने माता-पिता की बहुत पसंद की शादी करी लेकिन एक अच्छा उपाय अब है इस समय क्या है कि आप अपने जिसे भी प्यार करते हो तब कास्ट वाइज भी अगर आपको नहीं आधार कार्ड में भी अपने अपने प्यार को प्यार करते हैं ना प्यार है आपके पास तो क्या करिए कि आप दोनों परिवार को मनाने की कोशिश करिए मैं जानता हूं कि इस समय लोग मान जाएंगे क्योंकि मॉडर्न युग है और थोड़ा सा आप थोड़े समय के लिए थोड़ी सी दिक्कत होती है लेकिन सभी लोग फिर एक्टिव हो जाएंगे फिर आपके रिलेशन अच्छा हो जाएंगे तो इसमें बहुत अच्छा है कि आप अपने माता पिता को या उनके माता-पिता को बहुत प्यार से क्लीयरली मना कर लीजिए बना लीजिए मना लेंगे तो क्या होगा कि एजूरिलेशन होगा ना बहुत ही अच्छा रिलेशन होगा आपका गहरा लिए एडमिशन कहां जाएगा और इस रिलेशन के साथ-साथ आपकी जो जिंदगी होगी वह बहुत ही सपोर्ट होगी आपको लोग सपोर्ट करेंगे लेकिन आप अनुचित अगर कर लेते हैं तो कहीं ना कहीं आपके लिए दिक्कत होती है मैं समाज में देखा हूं तभी बता रहा हूं क्योंकि आज का समाज है जो लड़कियां भाग गया लड़के भाग के शादी कर लेते हैं उन्हें कोई रिस्पेक्ट नहीं मिलता है उन्हें कोई इज्जत नहीं मिलती है क्या है कि आपको इस समय इज्जत के नहीं समझ में आएगी जब आप दो 4 साल 5 साल आपने बता दिया था आपको तब एहसास होगा कि प्यार मैंने बहुत बड़ी गलती की हकीकत है मेरी औलाद में देखा हूं तू ठीक है आप उन्हें मनाने की कोशिश करिए या तो अगर आप ही के पास में है तो ज्यादा बेस्ट है उसके माता-पिता को आप मना लीजिए और आप अपनी शादी करें मुझे लगता है कि आप बहुत खुश रहेगी
Babaloo chaudharee ke dvaara prashn poochha ja raha hai ki chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand shaadee karana sahee ya apane maata-pita kee manapasand kee shaadee karana uchit hai ki jahaan agar aap hakeekat mein achchhee baat karana chaahenge ise kya hua ki kaun sa uchit hai kaun sa anuchit hai to agar apane man kee jo shaadee karate hain vah anuchit hai agar maata-pita ke man kee karate hain uchit hai ki usamen bahut saare aise jo rileshan hote hain vah ke bane rahate hain jaise aap aapake har ek bhee rileshan bane rahate hain kisee rileshan mein aapako kyonki kee dooriyaan nahin banatee hai lekin aap apanee marjee se jab shaadee karate hain use rileshan mein kya hotee hai bahut saaree rel se aapakee ho jo hotee hai vah ke rishte kaheen na kaheen door ho jaate hain to yah dooriyaan agar kam karana chaahate hain to apane maata-pita kee bahut pasand kee shaadee karee lekin ek achchha upaay ab hai is samay kya hai ki aap apane jise bhee pyaar karate ho tab kaast vaij bhee agar aapako nahin aadhaar kaard mein bhee apane apane pyaar ko pyaar karate hain na pyaar hai aapake paas to kya karie ki aap donon parivaar ko manaane kee koshish karie main jaanata hoon ki is samay log maan jaenge kyonki modarn yug hai aur thoda sa aap thode samay ke lie thodee see dikkat hotee hai lekin sabhee log phir ektiv ho jaenge phir aapake rileshan achchha ho jaenge to isamen bahut achchha hai ki aap apane maata pita ko ya unake maata-pita ko bahut pyaar se kleeyaralee mana kar leejie bana leejie mana lenge to kya hoga ki ejoorileshan hoga na bahut hee achchha rileshan hoga aapaka gahara lie edamishan kahaan jaega aur is rileshan ke saath-saath aapakee jo jindagee hogee vah bahut hee saport hogee aapako log saport karenge lekin aap anuchit agar kar lete hain to kaheen na kaheen aapake lie dikkat hotee hai main samaaj mein dekha hoon tabhee bata raha hoon kyonki aaj ka samaaj hai jo ladakiyaan bhaag gaya ladake bhaag ke shaadee kar lete hain unhen koee rispekt nahin milata hai unhen koee ijjat nahin milatee hai kya hai ki aapako is samay ijjat ke nahin samajh mein aaegee jab aap do 4 saal 5 saal aapane bata diya tha aapako tab ehasaas hoga ki pyaar mainne bahut badee galatee kee hakeekat hai meree aulaad mein dekha hoon too theek hai aap unhen manaane kee koshish karie ya to agar aap hee ke paas mein hai to jyaada best hai usake maata-pita ko aap mana leejie aur aap apanee shaadee karen mujhe lagata hai ki aap bahut khush rahegee

Krishna pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Krishna जी का जवाब
Unknown
3:11
नमस्कार दोस्तों जैसा कि सवाल है कि चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद से शादी करना सही है या अपने माता-पिता के मनपसंद से शादी करना सही रहेगा तो एक बात हमेशा आप याद रखें कि मां-बाप आपका कभी भी बुरा नहीं चाहेंगे वो लोग हमेशा चाहेंगे कि हमारे बच्चे हैं वरना खुशहाल जिंदगी व्यतीत करें इसलिए वह आपका हमेशा भला ही करेंगे बुरा नहीं करेंगे यह बात अलग है कि हमारा जो दिल होता है किसी और पे आ जाता है जैसे हम शादी करना चाहते हैं तो क्या होता है कि उसमें कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारे मां-बाप की मंजूरी नहीं होती है इस वजह से शादी नहीं हो पाता है तुझे मेरा मानना यह है कि मां-बाप ने हमसे ज्यादा जिंदगी या देखी होती हैं और उन्होंने हमसे ज्यादा कष्ट मुझे ले होते हैं जो इस विषय में वह जो भी निर्णय लेते हैं वह उचित रहता है अगर मां-बाप की इच्छा है कि जिस से भी आप विवाह करना चाहते हैं उनसे आप कर लीजिए तो बिल्कुल आप बेशक लिख कर सकते हैं अगर मां-बाप की इच्छा नहीं है कि जिनसे आप विवाह कर रहे हैं वह सही है तू बिलकुल मत कीजिए क्योंकि मां बाप से बड़ा कोई है नहीं और बेसिकली उन्होंने हमें छोटे पर से ही अपने घर का सदस्य बनाकर पाला होता है और हर एक सुख दुख से परेशानियों से वह हमें बेहतर बनाने की कोशिश में लगे रहते हैं इस वजह से वह आपका कभी भी अहित नहीं चाहेंगे अगर आपका जिससे आप शादी करना चाहते हैं वह अगर सही है तो उसको प्रूफ करना होगा कि मैं सही हूं उसको जो आपके घर वाले हैं उनको मनाना होगा कि मैं इनके लिए एक अच्छा लड़का हूं अगर यह कर सकता है तो बेसिकली आपके मां-बाप जरूर शादी करवा देंगे नहीं तो आपको हमेशा याद रखना है कि आप कोई मां बाप के शर्तों पर और बाबा आपके अनुसार पर चलना है क्योंकि वह हमारा कभी भी अहित नहीं चाहते हैं मैं आपको बता दूं कई बार ऐसा होता है कि हम किसी के अट्रैक्शन में आते मतलब कि अगर कोई लड़का है तो ओल्ड कीजिए भाव में आ जाता है और शादी करना चाहता है तो कई कई बार मां-बाप की मंजूरी नहीं होती फिर भी शादी होगी जाते हैं लेकिन उसके बाद क्या होता है वह बहुत अहमियत रखता है क्योंकि प्यार मोहब्बत में जरूरी नहीं है कि खूबसूरती इंपॉर्टेंट हो बल्कि खूबसूरती के साथ-साथ पैसा भी होना चाहिए एक लेवल भी होना चाहिए तब जाकर होता है नहीं तो क्या होता है शुरुआत में किसी किसी चीज पर आकर्षित हो जाता है कोई साल फिर बाद में जब सब कुछ आम होता तो फिर कोई कदर ही नहीं रहा जाती है तो इस प्रकार से हमें नहीं होना है और इस वजह से हमारे मां-बाप जो भी हैं जो भी निर्णय लेते हैं वह एक सही निर्णय होगा धन्यवाद
Namaskaar doston jaisa ki savaal hai ki chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand se shaadee karana sahee hai ya apane maata-pita ke manapasand se shaadee karana sahee rahega to ek baat hamesha aap yaad rakhen ki maan-baap aapaka kabhee bhee bura nahin chaahenge vo log hamesha chaahenge ki hamaare bachche hain varana khushahaal jindagee vyateet karen isalie vah aapaka hamesha bhala hee karenge bura nahin karenge yah baat alag hai ki hamaara jo dil hota hai kisee aur pe aa jaata hai jaise ham shaadee karana chaahate hain to kya hota hai ki usamen kabhee-kabhee aisa hota hai ki hamaare maan-baap kee manjooree nahin hotee hai is vajah se shaadee nahin ho paata hai tujhe mera maanana yah hai ki maan-baap ne hamase jyaada jindagee ya dekhee hotee hain aur unhonne hamase jyaada kasht mujhe le hote hain jo is vishay mein vah jo bhee nirnay lete hain vah uchit rahata hai agar maan-baap kee ichchha hai ki jis se bhee aap vivaah karana chaahate hain unase aap kar leejie to bilkul aap beshak likh kar sakate hain agar maan-baap kee ichchha nahin hai ki jinase aap vivaah kar rahe hain vah sahee hai too bilakul mat keejie kyonki maan baap se bada koee hai nahin aur besikalee unhonne hamen chhote par se hee apane ghar ka sadasy banaakar paala hota hai aur har ek sukh dukh se pareshaaniyon se vah hamen behatar banaane kee koshish mein lage rahate hain is vajah se vah aapaka kabhee bhee ahit nahin chaahenge agar aapaka jisase aap shaadee karana chaahate hain vah agar sahee hai to usako prooph karana hoga ki main sahee hoon usako jo aapake ghar vaale hain unako manaana hoga ki main inake lie ek achchha ladaka hoon agar yah kar sakata hai to besikalee aapake maan-baap jaroor shaadee karava denge nahin to aapako hamesha yaad rakhana hai ki aap koee maan baap ke sharton par aur baaba aapake anusaar par chalana hai kyonki vah hamaara kabhee bhee ahit nahin chaahate hain main aapako bata doon kaee baar aisa hota hai ki ham kisee ke atraikshan mein aate matalab ki agar koee ladaka hai to old keejie bhaav mein aa jaata hai aur shaadee karana chaahata hai to kaee kaee baar maan-baap kee manjooree nahin hotee phir bhee shaadee hogee jaate hain lekin usake baad kya hota hai vah bahut ahamiyat rakhata hai kyonki pyaar mohabbat mein jarooree nahin hai ki khoobasooratee importent ho balki khoobasooratee ke saath-saath paisa bhee hona chaahie ek leval bhee hona chaahie tab jaakar hota hai nahin to kya hota hai shuruaat mein kisee kisee cheej par aakarshit ho jaata hai koee saal phir baad mein jab sab kuchh aam hota to phir koee kadar hee nahin raha jaatee hai to is prakaar se hamen nahin hona hai aur is vajah se hamaare maan-baap jo bhee hain jo bhee nirnay lete hain vah ek sahee nirnay hoga dhanyavaad

Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
2:30
न करता जानना चाहते हैं कि चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद शादी करना सही है या अपने माता-पिता के मनपसंद की शादी करना उचित है तो देखेगा रमा से जमाने की बात करें तो आज के जमाने में काफी अपनी पसंद की लड़की से शादी करना उचित समझते हैं उनके स्कूल का प्यार हो कॉलेज सब तैयार हो या अपनी जॉब या फिर जॉब करते हैं वहां का प्यार हो या फिर कहीं का भी है कि हमें जिस से प्यार हुआ है उसी से शादी करेंगे और वह ऐसा निर्णय क्यों लेते हैं पहले हम यह समझते हैं पैसा लेने इसलिए लेते हैं क्योंकि जब दोनों के बीच में प्यार होता है तो प्यार एक काफी खुशी का मोमेंट होता है और हमेशा लगता है कि हम हमेशा उस पार्टनर के साथ रहेंगे तो हम पूरी जिंदगी भर खुश रहेंगे तो इसलिए हम और हम ऐसा इसे सुनते हैं क्योंकि हमने उसके साथ काफी शुभम ने उसके साथ काफी वक्त गुजारा होता है यानी कि जैसा था 1 साल 2 साल गुजारा होता है कई लोग तो सिर्फ चार-पांच महीने गुजर जाने के बाद भी ऐसा डिसीजन ले लेते हैं जबकि अगर आप अरेंज मैरिज की बात करो यानी की माता पिता की मनपसंद की शादी तो उसमें क्या होता है कि माता-पिता ही अपनी अपने हिसाब से लड़का या लड़की ढूंढते हैं अपने बच्चे के लिए और फिर से शादी करवा देते अब देखा जाए तो आप जिससे भी शादी कर रहे हैं हमारे तो पाटनर होना चाहिए वह एकदम लॉयल होना चाहिए और उसके अंदर किसी प्रकार की ऐसी कोई प्रॉब्लम नहीं होनी चाहिए ताकि हमारी की शादी हो रही थी जिंदगी में प्रॉब्लम क्रिएट हो तुम अगर आपकी अगर आप लड़का है या लड़की है और आप अपने लिए पार्टनर ढूंढ रहे हैं तो अगर आपके अंदर आदमी औरत पहचानने की कला है यानी कि आप सामने वाले को काफी अच्छे से पहचान सकते हो कि अगर हम शादी करेंगे तो हम पूरी जिंदगी भर साथ रह सकते हैं और विल बिना किसी तकलीफ मतलब जो तकलीफों का काफी आसानी से सामना करते हुए जिंदगी बिता सकते हैं तो तभी आप अपनी अपनी पसंद के लड़के लड़की से शादी के लिए लेकिन अगर आपके अंदर आदमी पहचान प्रथम पहचानने की कला नहीं है आप नहीं पहचान सकते कि सामने वाला पढ़ सके पूरी जिंदगी भर साथ में रह सकता नहीं रह सकता अगर ऐसी कुछ आपके साथ आप अपने माता पिता को ही चयन करने दीजिए अपने आगे की जीवनसाथी का ओके आपके माता-पिता से ज्यादा एक्सपीरियंस वाले हैं उन्होंने अपने सामने काफी साथिया देखी है जो किसका की शादी अच्छे से हुई थी और काफी शादी टूटी भी तो ज्यादा अच्छे से जानता है कि दो लड़का लड़की अगर शादी करके साथ रहना चाहते हैं तो ऐसे वक्त में कैसा लड़का और कैसी लड़की हो जो कि साथ में रह सकते हैं आशा करता हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा इसी प्रकार मुझसे और सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Na karata jaanana chaahate hain ki chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand shaadee karana sahee hai ya apane maata-pita ke manapasand kee shaadee karana uchit hai to dekhega rama se jamaane kee baat karen to aaj ke jamaane mein kaaphee apanee pasand kee ladakee se shaadee karana uchit samajhate hain unake skool ka pyaar ho kolej sab taiyaar ho ya apanee job ya phir job karate hain vahaan ka pyaar ho ya phir kaheen ka bhee hai ki hamen jis se pyaar hua hai usee se shaadee karenge aur vah aisa nirnay kyon lete hain pahale ham yah samajhate hain paisa lene isalie lete hain kyonki jab donon ke beech mein pyaar hota hai to pyaar ek kaaphee khushee ka moment hota hai aur hamesha lagata hai ki ham hamesha us paartanar ke saath rahenge to ham pooree jindagee bhar khush rahenge to isalie ham aur ham aisa ise sunate hain kyonki hamane usake saath kaaphee shubham ne usake saath kaaphee vakt gujaara hota hai yaanee ki jaisa tha 1 saal 2 saal gujaara hota hai kaee log to sirph chaar-paanch maheene gujar jaane ke baad bhee aisa diseejan le lete hain jabaki agar aap arenj mairij kee baat karo yaanee kee maata pita kee manapasand kee shaadee to usamen kya hota hai ki maata-pita hee apanee apane hisaab se ladaka ya ladakee dhoondhate hain apane bachche ke lie aur phir se shaadee karava dete ab dekha jae to aap jisase bhee shaadee kar rahe hain hamaare to paatanar hona chaahie vah ekadam loyal hona chaahie aur usake andar kisee prakaar kee aisee koee problam nahin honee chaahie taaki hamaaree kee shaadee ho rahee thee jindagee mein problam kriet ho tum agar aapakee agar aap ladaka hai ya ladakee hai aur aap apane lie paartanar dhoondh rahe hain to agar aapake andar aadamee aurat pahachaanane kee kala hai yaanee ki aap saamane vaale ko kaaphee achchhe se pahachaan sakate ho ki agar ham shaadee karenge to ham pooree jindagee bhar saath rah sakate hain aur vil bina kisee takaleeph matalab jo takaleephon ka kaaphee aasaanee se saamana karate hue jindagee bita sakate hain to tabhee aap apanee apanee pasand ke ladake ladakee se shaadee ke lie lekin agar aapake andar aadamee pahachaan pratham pahachaanane kee kala nahin hai aap nahin pahachaan sakate ki saamane vaala padh sake pooree jindagee bhar saath mein rah sakata nahin rah sakata agar aisee kuchh aapake saath aap apane maata pita ko hee chayan karane deejie apane aage kee jeevanasaathee ka oke aapake maata-pita se jyaada eksapeeriyans vaale hain unhonne apane saamane kaaphee saathiya dekhee hai jo kisaka kee shaadee achchhe se huee thee aur kaaphee shaadee tootee bhee to jyaada achchhe se jaanata hai ki do ladaka ladakee agar shaadee karake saath rahana chaahate hain to aise vakt mein kaisa ladaka aur kaisee ladakee ho jo ki saath mein rah sakate hain aasha karata hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga isee prakaar mujhase aur savaalon ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:16
भारतीय युवा वर्ग इन फिल्म और टीवी आदि को देख कर के जो लव मैरिज के लिए ज्यादा नुकसान दे रहे सबसे पहले इसका रिजल्ट देखना चाहिए क्योंकि एक विवेकशील युवा कदापि किसी निर्णय को लेने से पहले उसके परिणामों पर नजर जरूर लेना चाहिए भारत में लव मैरिज सिर्फ ओन्ली 10 और 15 परसेंट में ही सक्सेस 8595 में सक्सेस नहीं हो पाती है उसका कारण उसका कारण यह है कि भारतीय संस्कृति के जो विचार हैं जो बच्चे को जन्म से भारतीय संस्कृति में सिखाई जाती हैं उनका और इस नंबर इश्क आपस में संबंध नहीं मिल पाते हैं क्योंकि शुरु शुरु में तो लव मैरिज हो जाती है तो उसके बाद में फिर उनकी आपस में सुपर हीरो टकराते हैं परिणाम स्वरूप दोनों मेटाबोट्स भी बहुत जल्दी हो जाते हैं यदि आप टैगोर की कंडीशन देखें पुरानी पीढ़ी में और आधुनिक पीढ़ी में तो आपको शायद इसका एहसास हो जाएगा क्योंकि पुरानी पीढ़ी में आपने यदा-कदा ही कोई एक डाइवोर्स के बारे में सुना होगा लेकिन आज की नई पीढ़ी में यह रोज के किस्से हो गए हैं आप दिल्ली अखबारों में पढ़ते हैं एलईटीवी पर सुनते हैं डेली न्यूज ओं में सुनते हैं कि आज विवाह हुआ 1 साल बाद 2 साल बाद टाइम हो गया संबंध टूट गए कि भारत में 8% में फेल होती है आपके माता-पिता से ज्यादा बढ़कर हितकारी संसार में और कोई नहीं हो सकता है यदि कोई तुमको पड़ोसी यदि कोई मित्र यदि कोई रिश्तेदार तुमको यह कहता है कि मैं तुम्हारा सर्वाधिक हितकारी हूं जाने वाला हूं हितेषी हूं तो मैं तुमको झूठ बोल रहा है धोखा दे रहा है माता-पिता से बढ़कर परिजनों से तुम्हारे परिजनों से बढ़कर तुम्हारा और कोई हितेषी नहीं हो सकता है तुम्हारा काम ही केवल तुम्हारे परिजन तुम्हारे माता-पिता हैं इसलिए उन माता-पिता ओं के पास अनुभव होता है वह अनुभव से जो आपके लिए लड़का या लड़की सेलेक्ट करते हैं उनके पास अनुभव है इसलिए यह भारत में 85 परसेंट में सक्सेस है 15 परसेंट में इसके बाद मिलते हैं जहां पर यह सब चीज नहीं है तो मेरे विचार से मेरे परामर्श के अनुसार आपको अपने माता-पिता की पसंद पर ज्यादा विश्वास करना चाहिए क्योंकि उनसे बड़ा हितेषी संसार में कोई और नहीं है वह तुम्हारा ही चाहते हैं वह तुम्हारे विचारों की अनुकूल भी तुम्हारे स्वभाव के अनुकूल तुम्हारा ध्यान रखेंगे अरेंज मैरिज जो तुम्हारे माता-पिता तय करते हैं उसको ही ज्यादा बेहतर है उसके पक्ष में वोट अपना दूंगा
Bhaarateey yuva varg in philm aur teevee aadi ko dekh kar ke jo lav mairij ke lie jyaada nukasaan de rahe sabase pahale isaka rijalt dekhana chaahie kyonki ek vivekasheel yuva kadaapi kisee nirnay ko lene se pahale usake parinaamon par najar jaroor lena chaahie bhaarat mein lav mairij sirph onlee 10 aur 15 parasent mein hee sakses 8595 mein sakses nahin ho paatee hai usaka kaaran usaka kaaran yah hai ki bhaarateey sanskrti ke jo vichaar hain jo bachche ko janm se bhaarateey sanskrti mein sikhaee jaatee hain unaka aur is nambar ishk aapas mein sambandh nahin mil paate hain kyonki shuru shuru mein to lav mairij ho jaatee hai to usake baad mein phir unakee aapas mein supar heero takaraate hain parinaam svaroop donon metaabots bhee bahut jaldee ho jaate hain yadi aap taigor kee kandeeshan dekhen puraanee peedhee mein aur aadhunik peedhee mein to aapako shaayad isaka ehasaas ho jaega kyonki puraanee peedhee mein aapane yada-kada hee koee ek daivors ke baare mein suna hoga lekin aaj kee naee peedhee mein yah roj ke kisse ho gae hain aap dillee akhabaaron mein padhate hain eleeteevee par sunate hain delee nyooj on mein sunate hain ki aaj vivaah hua 1 saal baad 2 saal baad taim ho gaya sambandh toot gae ki bhaarat mein 8% mein phel hotee hai aapake maata-pita se jyaada badhakar hitakaaree sansaar mein aur koee nahin ho sakata hai yadi koee tumako padosee yadi koee mitr yadi koee rishtedaar tumako yah kahata hai ki main tumhaara sarvaadhik hitakaaree hoon jaane vaala hoon hiteshee hoon to main tumako jhooth bol raha hai dhokha de raha hai maata-pita se badhakar parijanon se tumhaare parijanon se badhakar tumhaara aur koee hiteshee nahin ho sakata hai tumhaara kaam hee keval tumhaare parijan tumhaare maata-pita hain isalie un maata-pita on ke paas anubhav hota hai vah anubhav se jo aapake lie ladaka ya ladakee selekt karate hain unake paas anubhav hai isalie yah bhaarat mein 85 parasent mein sakses hai 15 parasent mein isake baad milate hain jahaan par yah sab cheej nahin hai to mere vichaar se mere paraamarsh ke anusaar aapako apane maata-pita kee pasand par jyaada vishvaas karana chaahie kyonki unase bada hiteshee sansaar mein koee aur nahin hai vah tumhaara hee chaahate hain vah tumhaare vichaaron kee anukool bhee tumhaare svabhaav ke anukool tumhaara dhyaan rakhenge arenj mairij jo tumhaare maata-pita tay karate hain usako hee jyaada behatar hai usake paksh mein vot apana doonga

मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:37
दोस्तों सवाल है चाहे लड़का हो या लड़की अपने मनपसंद शादी करना सही है या अपने माता-पिता की मनपसंद की शादी करना उचित है दोस्तों चाहे लड़का हो या लड़की अपनी पसंद से शादी नहीं करनी चाहिए अपने माता-पिता की पसंद से शादी करनी चाहिए आज के जमाने में माता-पिता बात को लड़के पहले ही दुल्हन देख लेते हैं और अपने माता-पिता का आदर करते हुए उनकी पसंद से ही शादी करनी चाहिए धन्यवाद
Doston savaal hai chaahe ladaka ho ya ladakee apane manapasand shaadee karana sahee hai ya apane maata-pita kee manapasand kee shaadee karana uchit hai doston chaahe ladaka ho ya ladakee apanee pasand se shaadee nahin karanee chaahie apane maata-pita kee pasand se shaadee karanee chaahie aaj ke jamaane mein maata-pita baat ko ladake pahale hee dulhan dekh lete hain aur apane maata-pita ka aadar karate hue unakee pasand se hee shaadee karanee chaahie dhanyavaad

Kajal jain😇 Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Kajal जी का जवाब
Student Life 😎
2:16
काफी अच्छा क्वेश्चन पूछा है कि चाहे लड़का हो या लड़की शादी अपनी मनपसंद से या फिर माता-पिता की मनपसंद से करनी चाहिए शादी आप कैसे भी करें अपने माता-पिता की मनपसंद या फिर खुद की मनपसंद थी लेकिन आपके पैरेंट्स की उसमें सहमति बहुत जरूरी है उनकी रजामंदी आवश्यक है उनकी ब्लैकिंग बहुत जरूरी है तभी आपका जो रिश्ता है वह अच्छे से चल पाएगा अब बात करते हैं कि ऐसा क्या करें और किस तरीके से कि हम अपने मनपसंद से शादी करो हमारे पेरेंट्स इस चीज के लिए पम्मी हूं कि मेरा मानना यह है कि पहले बच्चों को अपनी स्टडी करनी चाहिए और फिर उसके बाद अपने कैरियर की तरफ ध्यान देना चाहिए उसको बनाने की कोशिश करनी चाहिए फिर आपको इस लव वाले चक्कर में पड़ना चाहिए फिर मैरिज क्योंकि आपका कैरियर सेट है तो आप के पेड़ को भी इस चीज से कोई प्रॉब्लम नहीं होगी उनको भी टेंशन नहीं होगी कोई बड़ी नहीं होगा कि हमारे बच्चों की लाइफ में भी कोई गलत इंसान आ भी जाता है तो वह टूट जाएगा फ्यूचर में या फिर उसकी लाइफ को ही हो जाएगी पेरेंट्स के दिल और दिमाग में यही रहता है कि कहीं कोई ऐसा इंसान लाइफ में नाज है जो कि पूरे परिवार को तबाह ना कर दी जो कि परिवार के काबिल ही ना हो तो एक अपना कैरियर दीदी हम सेट कर लेते हैं बना लेते हैं सनम विपिन बन जाते हैं अपना और अपने परिवार की रिस्पांसिबिलिटी उठाने के काबिल बन जाते हैं तो परिवार वालों को भी आप पर विश्वास हो जाएगा और आप भी अपने पार्टनर को जिम्मेदारी उठाने के काबिल हो जाओगे और इसमें किसी को भी प्रॉब्लम नहीं होने वाली है यह मैं आपको बता सकती हूं इतना जरूर है तो कोशिश करें कि इस वीडियो को क्लोज ना किया जाए पहले स्टडी फिर कर फिर लो फिर मैं रिचार्ज इट इज अ प्रोसेस करते हो लाइफ में तो कोई प्रॉब्लम नहीं होने वाली है लेकिन जो कोई भी सीडी आपने मिस टाइप कर दिया या नहीं कोई टैटू स्लिप कर दिया तो इससे प्रॉब्लम ज्यादा हो जाएगी तो इस बात का ध्यान रखें और इस तरीके से भी आप करती हो तो दोनों ही कंडीशन सेटिस्फाई हो जाएंगे आपके मनपसंद से भी शादी हो जाएगी और आपके पेयजल की भी कमी किस चीज में शामिल हो जाएगी धन्यवाद
Kaaphee achchha kveshchan poochha hai ki chaahe ladaka ho ya ladakee shaadee apanee manapasand se ya phir maata-pita kee manapasand se karanee chaahie shaadee aap kaise bhee karen apane maata-pita kee manapasand ya phir khud kee manapasand thee lekin aapake pairents kee usamen sahamati bahut jarooree hai unakee rajaamandee aavashyak hai unakee blaiking bahut jarooree hai tabhee aapaka jo rishta hai vah achchhe se chal paega ab baat karate hain ki aisa kya karen aur kis tareeke se ki ham apane manapasand se shaadee karo hamaare perents is cheej ke lie pammee hoon ki mera maanana yah hai ki pahale bachchon ko apanee stadee karanee chaahie aur phir usake baad apane kairiyar kee taraph dhyaan dena chaahie usako banaane kee koshish karanee chaahie phir aapako is lav vaale chakkar mein padana chaahie phir mairij kyonki aapaka kairiyar set hai to aap ke ped ko bhee is cheej se koee problam nahin hogee unako bhee tenshan nahin hogee koee badee nahin hoga ki hamaare bachchon kee laiph mein bhee koee galat insaan aa bhee jaata hai to vah toot jaega phyoochar mein ya phir usakee laiph ko hee ho jaegee perents ke dil aur dimaag mein yahee rahata hai ki kaheen koee aisa insaan laiph mein naaj hai jo ki poore parivaar ko tabaah na kar dee jo ki parivaar ke kaabil hee na ho to ek apana kairiyar deedee ham set kar lete hain bana lete hain sanam vipin ban jaate hain apana aur apane parivaar kee rispaansibilitee uthaane ke kaabil ban jaate hain to parivaar vaalon ko bhee aap par vishvaas ho jaega aur aap bhee apane paartanar ko jimmedaaree uthaane ke kaabil ho jaoge aur isamen kisee ko bhee problam nahin hone vaalee hai yah main aapako bata sakatee hoon itana jaroor hai to koshish karen ki is veediyo ko kloj na kiya jae pahale stadee phir kar phir lo phir main richaarj it ij a proses karate ho laiph mein to koee problam nahin hone vaalee hai lekin jo koee bhee seedee aapane mis taip kar diya ya nahin koee taitoo slip kar diya to isase problam jyaada ho jaegee to is baat ka dhyaan rakhen aur is tareeke se bhee aap karatee ho to donon hee kandeeshan setisphaee ho jaenge aapake manapasand se bhee shaadee ho jaegee aur aapake peyajal kee bhee kamee kis cheej mein shaamil ho jaegee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • माता पिता की सेवा माता पिता की सेवा करने का कर्तव्य
URL copied to clipboard