#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:00
क्या आपकी नजर में किसानों की मांग सही है यदि सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति मांगी उनकी सही है क्योंकि उनके साथ जो होना चाहिए क्योंकि देश की आर्थिक व्यवस्था को और देश को अन्य योगा कर देने के देने का काम कर रहे हैं उसके साथ-साथ हमारे देश से दूसरे देश भी भेजा है भेजा जाता है कि किसानों की देन और रह गई बात सरकार को किस चीज पर आपत्ति है तो वह किसान कृषि कानून झुला लाया गया है उस पर आपत्ति है उसके साथ-साथ एम एस पी एम एस पी है मिनिमम सपोर्ट प्राइस उसकी गारंटी नहीं मिल रही है वह किसान भाई लोग करें कि आप इस पर मुझे कानूनी गारंटी मिले जो हर एक किसान को मिलनी चाहिए जो किसान रही स्टार्ट किसान है उन्हें इस एमएसपी की कानूनी गारंटी मिलनी चाहिए बस यही मांग है जो सरकार नहीं मान रही है अभी भी आपत्ति दोनों के बीच हो रही है दोनों अपनी अपनी जीत पर
Kya aapakee najar mein kisaanon kee maang sahee hai yadi sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti maangee unakee sahee hai kyonki unake saath jo hona chaahie kyonki desh kee aarthik vyavastha ko aur desh ko any yoga kar dene ke dene ka kaam kar rahe hain usake saath-saath hamaare desh se doosare desh bhee bheja hai bheja jaata hai ki kisaanon kee den aur rah gaee baat sarakaar ko kis cheej par aapatti hai to vah kisaan krshi kaanoon jhula laaya gaya hai us par aapatti hai usake saath-saath em es pee em es pee hai minimam saport prais usakee gaarantee nahin mil rahee hai vah kisaan bhaee log karen ki aap is par mujhe kaanoonee gaarantee mile jo har ek kisaan ko milanee chaahie jo kisaan rahee staart kisaan hai unhen is emesapee kee kaanoonee gaarantee milanee chaahie bas yahee maang hai jo sarakaar nahin maan rahee hai abhee bhee aapatti donon ke beech ho rahee hai donon apanee apanee jeet par

और जवाब सुनें

A TO Z TECH VIDEOS Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए A जी का जवाब
बेरोजगार
0:52
राजस्थान के साथ आप का सवाल है क्या आपकी नजर में किसानों के नाम चाहिए और यदि सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति है तो मैं बता देता हूं फिर से सरकार को कोई आपत्ति नहीं है और किसानों की जो मांग है बहुत सही तो है पर इसमें राजनीति की वजह से इनकी मांग जो है ना वह खराब हो चुकी है इसमें राजनीति ना होती तब तो सही था और जहां तक बात है कि उसने राजनीति है इसलिए मन खराब हो चुकी है इसलिए सरकार को भी आपत्ति हो रही है अगर जवाब अच्छा लगा हो तो वीडियो को लाइक करें चैनल को सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Raajasthaan ke saath aap ka savaal hai kya aapakee najar mein kisaanon ke naam chaahie aur yadi sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti hai to main bata deta hoon phir se sarakaar ko koee aapatti nahin hai aur kisaanon kee jo maang hai bahut sahee to hai par isamen raajaneeti kee vajah se inakee maang jo hai na vah kharaab ho chukee hai isamen raajaneeti na hotee tab to sahee tha aur jahaan tak baat hai ki usane raajaneeti hai isalie man kharaab ho chukee hai isalie sarakaar ko bhee aapatti ho rahee hai agar javaab achchha laga ho to veediyo ko laik karen chainal ko sabsakraib karen dhanyavaad

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:00
क्योंकि दोस्तों किसानों की प्रमुख चार मांग है या ने बिजली बिलों में छूट और पारोली जलाने में छूट और एमएसपी में कानूनी रूप देना और यह तीनों कृषि भी रद्द करवाना तो देखी किसानों की यह चारों मांगे जायज है और सरकार को आपत्ति हो रही है कि बिजली बिल में छूट का जो कानून का भय और पारोली चलाने की छूट जाने सरकार ने किसानों को दे दिए दो मांगे उनकी मान ली गई अब बाकी क्या बात है एमएसपी को कानूनी रूप देना तो हो सकता है कल 4 तारीख को इसको भी सरकार मान ली लेकिन यह तीनों कृषि बिलों को सरकार राज नहीं करना चाहती है कि इनमें से दो बिल है वह तो कुछ हद तक सही भी है लेकिन वह आवश्यक वस्तु अधिनियम को हटाकर और सरकार ने दलहनी फसलों और आलू प्याज जैसी सब्जियों का एस्ट्रोज करने की खुली छूट दे दी है व्यापारियों को इससे किसानों को कौन सा फायदा है जबकि सरकार बार-बार बता रही है कि इसमें बाजार में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी तो देखिए से क्या होगा बड़े-बड़े व्यापारी जैसे आप की उड़ान है मुंह में जाना है और जितनी भी जी दलहनी फसलें इसका स्टोरेज करेंगे और आलू प्याज जैसी सब्जियों का स्टोरेज करेंगे इससे बाजार में इनकी मांग बढ़ने लगेगी सब्जियों को ₹10 से ₹12 किलो खरीद कर किसानों को भी हो आम जनता को भी 8090 और ₹100 किलो तक भेजेंगे तो इसमें किसी का भी भला नहीं है ना तो किसानों का है ना ही जनता का और ना ही सरकार का इससे व्यापारियों कोई लाभ है तो यह कानून तो तुरंत ही रद्द कर देना चाहिए तो धन्यवाद
Kyonki doston kisaanon kee pramukh chaar maang hai ya ne bijalee bilon mein chhoot aur paarolee jalaane mein chhoot aur emesapee mein kaanoonee roop dena aur yah teenon krshi bhee radd karavaana to dekhee kisaanon kee yah chaaron maange jaayaj hai aur sarakaar ko aapatti ho rahee hai ki bijalee bil mein chhoot ka jo kaanoon ka bhay aur paarolee chalaane kee chhoot jaane sarakaar ne kisaanon ko de die do maange unakee maan lee gaee ab baakee kya baat hai emesapee ko kaanoonee roop dena to ho sakata hai kal 4 taareekh ko isako bhee sarakaar maan lee lekin yah teenon krshi bilon ko sarakaar raaj nahin karana chaahatee hai ki inamen se do bil hai vah to kuchh had tak sahee bhee hai lekin vah aavashyak vastu adhiniyam ko hataakar aur sarakaar ne dalahanee phasalon aur aaloo pyaaj jaisee sabjiyon ka estroj karane kee khulee chhoot de dee hai vyaapaariyon ko isase kisaanon ko kaun sa phaayada hai jabaki sarakaar baar-baar bata rahee hai ki isamen baajaar mein pratispardha badhegee to dekhie se kya hoga bade-bade vyaapaaree jaise aap kee udaan hai munh mein jaana hai aur jitanee bhee jee dalahanee phasalen isaka storej karenge aur aaloo pyaaj jaisee sabjiyon ka storej karenge isase baajaar mein inakee maang badhane lagegee sabjiyon ko ₹10 se ₹12 kilo khareed kar kisaanon ko bhee ho aam janata ko bhee 8090 aur ₹100 kilo tak bhejenge to isamen kisee ka bhee bhala nahin hai na to kisaanon ka hai na hee janata ka aur na hee sarakaar ka isase vyaapaariyon koee laabh hai to yah kaanoon to turant hee radd kar dena chaahie to dhanyavaad

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:20
गुड मॉर्निंग हैप्पी न्यू ईयर टो ऑल सब्सक्राइबर सब बोलकर नववर्ष की सबको शुभकामना है सवाल जवाब देखिए मैं प्रतियोगिता के लिए तो नहीं खेलता मैं जवाब देना चाहता हूं सबका सवालों का लेकिन क्या करूं व्यस्तता पता नहीं क्यों इतनी अधिक बढ़ गई कि वह समय ही नहीं निकाल पाता हूं फिर भी जितनी कोशिश होती होती करनी है कर रहा हूं मैं सवाल यह है कि क्या आपकी नजर में किसानों की मांग सही है और यदि सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति है देखिए किसानों की मांग कुछ हद तक सही है सारी मांगे जो कर रहे हैं वह एक यह पॉलिटिकल मुद्दा हो गया उसने जो कह रहे हैं कि सारे जो है पूरे कानून को ही खत्म कर दिया जाए और उसको वापस लिया जाए तब कोई भी बात तो यह यह तो पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित है सरकार ने कुछ सुधार की के लिए ही कानून बनाया है कि पहले से जो वर्षों पुराने जो कानून चले आ रहे हैं उसमें कुछ परिवर्तन करना गलत तो नहीं हो सकता है इसमें कोई गलती नहीं है सरकार ने जब यह आश्वासन दे दिया है किसानों को कोई उनके समर्थन मूल्य और लिखित आश्वासन लेकिन का समर्थन मूल्य कभी भी खत्म नहीं किया जाएगा फिर पता नहीं कि वह किसान इस जिद पर अड़े हुए हैं उन्हें भी मुझे लगता है कि जिन बेतुका है बहुत अधिक नहीं उसमें अब कुछ गुंजाइश रही है मुझे लगता है आपको आजादी दी गई है कि आप अपना जो है कहीं भी भेज सकते हैं मैं आपसे आप चाहे तो लोकल स्तर पर बेचे बाहर जाकर बजे मंडी कहीं भी आप भेज सकते हैं तो फिर किस बात की आपत्ति मुझे लगता है कि यह इसमें जरूर अधिकांश जो है वह किसान और राजनीति से प्रेरित है राजनीतिक जो पार्टियां हैं उनको बीच में लाकर अपना रोटी सेक रहे हैं धन्यवाद
Gud morning haippee nyoo eeyar to ol sabsakraibar sab bolakar navavarsh kee sabako shubhakaamana hai savaal javaab dekhie main pratiyogita ke lie to nahin khelata main javaab dena chaahata hoon sabaka savaalon ka lekin kya karoon vyastata pata nahin kyon itanee adhik badh gaee ki vah samay hee nahin nikaal paata hoon phir bhee jitanee koshish hotee hotee karanee hai kar raha hoon main savaal yah hai ki kya aapakee najar mein kisaanon kee maang sahee hai aur yadi sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti hai dekhie kisaanon kee maang kuchh had tak sahee hai saaree maange jo kar rahe hain vah ek yah politikal mudda ho gaya usane jo kah rahe hain ki saare jo hai poore kaanoon ko hee khatm kar diya jae aur usako vaapas liya jae tab koee bhee baat to yah yah to pooree tarah se raajaneeti se prerit hai sarakaar ne kuchh sudhaar kee ke lie hee kaanoon banaaya hai ki pahale se jo varshon puraane jo kaanoon chale aa rahe hain usamen kuchh parivartan karana galat to nahin ho sakata hai isamen koee galatee nahin hai sarakaar ne jab yah aashvaasan de diya hai kisaanon ko koee unake samarthan mooly aur likhit aashvaasan lekin ka samarthan mooly kabhee bhee khatm nahin kiya jaega phir pata nahin ki vah kisaan is jid par ade hue hain unhen bhee mujhe lagata hai ki jin betuka hai bahut adhik nahin usamen ab kuchh gunjaish rahee hai mujhe lagata hai aapako aajaadee dee gaee hai ki aap apana jo hai kaheen bhee bhej sakate hain main aapase aap chaahe to lokal star par beche baahar jaakar baje mandee kaheen bhee aap bhej sakate hain to phir kis baat kee aapatti mujhe lagata hai ki yah isamen jaroor adhikaansh jo hai vah kisaan aur raajaneeti se prerit hai raajaneetik jo paartiyaan hain unako beech mein laakar apana rotee sek rahe hain dhanyavaad

BK. SHYAAM. KARWA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BK. जी का जवाब
Unknown
0:59
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है कि क्या आपकी नजर में किसानों की मांग सही है और यह भी सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति दे कि मैं आपको बताना चाहूंगा कि किसान की जो मांगे को बिल्कुल चाहिए और हम यह भी कह सकते हैं कि किसान अपनी जगह पर सही है और सरकार अपनी जगह पर क्योंकि यह सरकार किसानों की मांग को फोन करती है तो इससे भारत की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ता है क्योंकि किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग कर रही है और इससे सरकार को बहुत ही कम पैसों में अंधे ना देनी पड़ती है जिस कारण से सरकार को बहुत ही घाटा होता है और अर्थव्यवस्था नीचे जाती है किंतु इससे किसानों को फायदा होता है इसी कारण से चुनरी किसान कानून लाए गए हैं उनमें हिंदी मुकद्दर समाप्त किए जा रहे हैं जिस कारण से किसानों को लगता है कि यदि यह समाप्त हो जाएंगे तो मैं घाटा होगा और हमें नुकसान होगा धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya hai ki kya aapakee najar mein kisaanon kee maang sahee hai aur yah bhee sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti de ki main aapako bataana chaahoonga ki kisaan kee jo maange ko bilkul chaahie aur ham yah bhee kah sakate hain ki kisaan apanee jagah par sahee hai aur sarakaar apanee jagah par kyonki yah sarakaar kisaanon kee maang ko phon karatee hai to isase bhaarat kee arthavyavastha par asar padata hai kyonki kisaan nyoonatam samarthan mooly kee maang kar rahee hai aur isase sarakaar ko bahut hee kam paison mein andhe na denee padatee hai jis kaaran se sarakaar ko bahut hee ghaata hota hai aur arthavyavastha neeche jaatee hai kintu isase kisaanon ko phaayada hota hai isee kaaran se chunaree kisaan kaanoon lae gae hain unamen hindee mukaddar samaapt kie ja rahe hain jis kaaran se kisaanon ko lagata hai ki yadi yah samaapt ho jaenge to main ghaata hoga aur hamen nukasaan hoga dhanyavaad

Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:29
गुड मॉर्निंग फ्रेंड आपका सवाल है क्या आपकी नजर में किसानों की बात सही है और यदि सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति है हो सकता है किसान अपनी जगह सही हो या किसानों की मांग सही हो पर कहीं न कहीं सरकार भी अपनी जगह सही है अब देखने वाली बात यह होती है कि किसान मानते हैं या फिर सरकार किसानों की मांग मानती हैं
Gud morning phrend aapaka savaal hai kya aapakee najar mein kisaanon kee baat sahee hai aur yadi sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti hai ho sakata hai kisaan apanee jagah sahee ho ya kisaanon kee maang sahee ho par kaheen na kaheen sarakaar bhee apanee jagah sahee hai ab dekhane vaalee baat yah hotee hai ki kisaan maanate hain ya phir sarakaar kisaanon kee maang maanatee hain

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:05
मेरी नजर के अनुसार किसानों की मांग सही है क्योंकि किसान अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं और सरकार को बीज पदार्थ जींस खाद्य पदार्थों की चीजों का मूल्य कम कर रहे हो आप उस चीज पर आपत्ति है सरकार को अर्थात किसान संघ उत्पादों की एमएसपी से कम मूल्य पर खरीद दंडनीय अपराध के दायरे में लाने की मांग कर रहे हैं तथा इसके अलावा धान गेहूं की फसल की सरकारी खरीद को सुनिश्चित करने के लिए किसान यह मांग कर रहे हैं इन तीनों मांग को लेकर सरकार को सबसे बढ़िया फतेहा
Meree najar ke anusaar kisaanon kee maang sahee hai kyonki kisaan apane hak kee ladaee lad rahe hain aur sarakaar ko beej padaarth jeens khaady padaarthon kee cheejon ka mooly kam kar rahe ho aap us cheej par aapatti hai sarakaar ko arthaat kisaan sangh utpaadon kee emesapee se kam mooly par khareed dandaneey aparaadh ke daayare mein laane kee maang kar rahe hain tatha isake alaava dhaan gehoon kee phasal kee sarakaaree khareed ko sunishchit karane ke lie kisaan yah maang kar rahe hain in teenon maang ko lekar sarakaar ko sabase badhiya phateha

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
क्या आपकी नजर में किसानों की मांग सही है और यदि सही है तो सरकार को किस चीज से आपत्ति है लिखे मेरी दृष्टि में किसानों की मांग कतई सही नहीं है और यह अगर सही नहीं है उनकी मांगे इसीलिए सरकार को आपत्ति की आपत्ति किसानों के लिए यह जो कृषि में लाया गया है या बहुत सोच समझकर के लिए और किसानों के वक्त हित में भी लाया गया लेकिन कुछ राजनीतिक दल अपनी खोई हुई सत्ता की जमीन को पुनः प्राप्त करने के लिए किसानों को भ्रमित कर रहे हैं उनको भरता रहे हैं और उनकी भावनाओं के साथ में खेल रहे हैं और इसलिए मुट्ठी भर किसान अपना जीवन झंडा बुलंद कर के वहां पर आकर के बैठ गए जिस को कतई सही नहीं माना जा सकता लोगों ने किसानों के नाम पर वहां पर कई तरह के अराजक और देश विरोधी तत्व भी आकर के सरकार को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं इस तरह से सरकारें नहीं चलती इस तरह से देश नहीं चलता और लोकतंत्र के नाम पर इस तरह से विरोध करना कहां तक जाएगी जब जिसकी इच्छा होगी वह करके आ कर के वहां पर सरकार के खिलाफ नारे लगाने लग जाएंगे हर छोटी मोटी चीज का विरोध करने लग जाएंगे सिर्फ इसलिए क्योंकि आपको विरोध करना है और आपको मोदी सरकार पसंद नहीं है तो आप विरोध करेंगे किसानों की मांग बिल्कुल सही नहीं है किसानों की मांग बिल्कुल जायज नहीं अनावश्यक विरोध कर रहे हैं जबकि खुद प्रधानमंत्री बार बार यह कह चुके हैं कि हम एसपी की व्यवस्था बंद नहीं होगी एपीएमसी की व्यवस्था बंद नहीं होगी सरकारी मुंडिया बंद नहीं होगी जब यह जब यह सारी चीजें है तो फिर किस बात का विरोध हो रहा है और क्यों विरोध हो रहा है क्या एक अच्छा बिल किसानों के लिए ला करके सरकार ने कोई गुनाह किया है और मुट्ठी भर किसान अगर विरोध करेंगे तो क्या हुआ पूरे देश में तो कोई विरोध नहीं है मैं भी किसान हूं और मैं उसका समर्थन कर रहा हूं क्योंकि मैं जानता हूं कि किसानों के हित में है और किसानों के लिए इससे बहुत फायदा है यह जितना किसानों के उत्पाद की कम कीमत मिलने की वजह जो बीच में बिचौलिए हैं उन बिचौलियों की व्यवस्था समाप्त करने के लिए यह बिल बहुत आवश्यक है और मैं इस बिल का पूरा समर्थन करता हूं किसानों की मांग सही नहीं है और सरकार को ऐसी चीज से आपत्ति है कि यदि विरोध के नाम पर विरोध हो रहा है धन्यवाद
Kya aapakee najar mein kisaanon kee maang sahee hai aur yadi sahee hai to sarakaar ko kis cheej se aapatti hai likhe meree drshti mein kisaanon kee maang katee sahee nahin hai aur yah agar sahee nahin hai unakee maange iseelie sarakaar ko aapatti kee aapatti kisaanon ke lie yah jo krshi mein laaya gaya hai ya bahut soch samajhakar ke lie aur kisaanon ke vakt hit mein bhee laaya gaya lekin kuchh raajaneetik dal apanee khoee huee satta kee jameen ko punah praapt karane ke lie kisaanon ko bhramit kar rahe hain unako bharata rahe hain aur unakee bhaavanaon ke saath mein khel rahe hain aur isalie mutthee bhar kisaan apana jeevan jhanda buland kar ke vahaan par aakar ke baith gae jis ko katee sahee nahin maana ja sakata logon ne kisaanon ke naam par vahaan par kaee tarah ke araajak aur desh virodhee tatv bhee aakar ke sarakaar ko blaikamel karane kee koshish kar rahe hain is tarah se sarakaaren nahin chalatee is tarah se desh nahin chalata aur lokatantr ke naam par is tarah se virodh karana kahaan tak jaegee jab jisakee ichchha hogee vah karake aa kar ke vahaan par sarakaar ke khilaaph naare lagaane lag jaenge har chhotee motee cheej ka virodh karane lag jaenge sirph isalie kyonki aapako virodh karana hai aur aapako modee sarakaar pasand nahin hai to aap virodh karenge kisaanon kee maang bilkul sahee nahin hai kisaanon kee maang bilkul jaayaj nahin anaavashyak virodh kar rahe hain jabaki khud pradhaanamantree baar baar yah kah chuke hain ki ham esapee kee vyavastha band nahin hogee epeeemasee kee vyavastha band nahin hogee sarakaaree mundiya band nahin hogee jab yah jab yah saaree cheejen hai to phir kis baat ka virodh ho raha hai aur kyon virodh ho raha hai kya ek achchha bil kisaanon ke lie la karake sarakaar ne koee gunaah kiya hai aur mutthee bhar kisaan agar virodh karenge to kya hua poore desh mein to koee virodh nahin hai main bhee kisaan hoon aur main usaka samarthan kar raha hoon kyonki main jaanata hoon ki kisaanon ke hit mein hai aur kisaanon ke lie isase bahut phaayada hai yah jitana kisaanon ke utpaad kee kam keemat milane kee vajah jo beech mein bichaulie hain un bichauliyon kee vyavastha samaapt karane ke lie yah bil bahut aavashyak hai aur main is bil ka poora samarthan karata hoon kisaanon kee maang sahee nahin hai aur sarakaar ko aisee cheej se aapatti hai ki yadi virodh ke naam par virodh ho raha hai dhanyavaad

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:05
अगर हम बात करते हैं किसानों की मांग की तुम कुछ माली किसानों की बिल्कुल सही है इसमें कोई दो राय नहीं है कि वह सही नहीं है परंतु देखे विचार-विमर्श बातचीत से हल निकालना चाहिए क्योंकि दिल में बहुत अच्छी चीज है मियां बहुत ज्यादा अच्छी चीजें भी है जो किसानों की आय बढ़ाने में मदद नहीं करेगी कुछ चीजें हैं जिनका अभी तक अगर आप बिल पड़ेंगे उसमें भी तक उसके या तो समझो एक्सपेरिमेंट हो रहा है दिए जो आपके घर नहीं हो रहे हैं दर्शन नाटक है यह तो केवल फंडिंग हो रही है परंतु से जरूरी चीजें स्टॉक का 1 पॉइंट है अब यह बताइए कि स्टॉप कि कुत्ते नहीं करेंगे अगर ऐसा है स्टॉक की लिमिट तय नहीं है तो किसान तो फसल आने पर फसल को भेजता है और वह तो जो रेट मिलती है वह ले लेता है अगर से अच्छी रेडमी बनेगी उधर आकर वेट करेगा अगली फसल तक का तो उस टाइम पर जो पूरे कॉरपोरेट्स आपसे एक ले लेंगे तो यह तो अपनी मनमानी से फिर स्टॉक कर के रेट को बढ़ा सकते जैसे भी आलू वगैरह कर ₹50 तक बिक गया था तुझे सारी चीजें इसमें भी शक कोई बात नहीं कर रहा है बात कर रहे हैं हम एसपी पर
Agar ham baat karate hain kisaanon kee maang kee tum kuchh maalee kisaanon kee bilkul sahee hai isamen koee do raay nahin hai ki vah sahee nahin hai parantu dekhe vichaar-vimarsh baatacheet se hal nikaalana chaahie kyonki dil mein bahut achchhee cheej hai miyaan bahut jyaada achchhee cheejen bhee hai jo kisaanon kee aay badhaane mein madad nahin karegee kuchh cheejen hain jinaka abhee tak agar aap bil padenge usamen bhee tak usake ya to samajho eksaperiment ho raha hai die jo aapake ghar nahin ho rahe hain darshan naatak hai yah to keval phanding ho rahee hai parantu se jarooree cheejen stok ka 1 point hai ab yah bataie ki stop ki kutte nahin karenge agar aisa hai stok kee limit tay nahin hai to kisaan to phasal aane par phasal ko bhejata hai aur vah to jo ret milatee hai vah le leta hai agar se achchhee redamee banegee udhar aakar vet karega agalee phasal tak ka to us taim par jo poore koraporets aapase ek le lenge to yah to apanee manamaanee se phir stok kar ke ret ko badha sakate jaise bhee aaloo vagairah kar ₹50 tak bik gaya tha tujhe saaree cheejen isamen bhee shak koee baat nahin kar raha hai baat kar rahe hain ham esapee par

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:03
हम आपको करनी क्या आपके घर में किसानों की मांग सही है सही है तो सरकार को इस चीज पर आपत्ति है सरकार ने किसानों के आंदोलन को एक प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया है संविधान में व्यवस्था है कि कानून वह लाया जाना चाहिए जिस पर जनहित का फायदा हो हमारे 80% आबादी हमारी किसानों की है जो खेती बारी और अपना जीवन निर्वाह कर अगर वह भी के कांटेक्ट खेती हो जाएगी तो वह किसानों के लिए बहुत दुष्ट हो जाएगा सरकार भली करे कि मंडी समिति अंत समाप्त कर देंगे लेकिन जब मंडी समितियों में कोई माल खरीदा ही नहीं जाएगा सीधे कांटेक्ट खत्म मंडी समिति अपने आप समाप्त हो जाएंगे तो अब इसमें सरकार किसानों को समझा नहीं पा रही क्योंकि सरकार ने कोई प्रोजेक्ट उसके पहले उस दिल पर कोई बहस नहीं करेंगे जब बाहर नहीं करा कर के पास थोड़ा चोरी-चोरी इन्होंने बिल पास कर के कानून बना दिया है तो वह किसी को सरकार पर भरोसा नहीं है इसलिए मामला समझना बहुत मुश्किल है सरकार को अपने तीनों कानून समाप्त करना ही पड़ेगा
Ham aapako karanee kya aapake ghar mein kisaanon kee maang sahee hai sahee hai to sarakaar ko is cheej par aapatti hai sarakaar ne kisaanon ke aandolan ko ek pratishtha ka prashn bana liya hai sanvidhaan mein vyavastha hai ki kaanoon vah laaya jaana chaahie jis par janahit ka phaayada ho hamaare 80% aabaadee hamaaree kisaanon kee hai jo khetee baaree aur apana jeevan nirvaah kar agar vah bhee ke kaantekt khetee ho jaegee to vah kisaanon ke lie bahut dusht ho jaega sarakaar bhalee kare ki mandee samiti ant samaapt kar denge lekin jab mandee samitiyon mein koee maal khareeda hee nahin jaega seedhe kaantekt khatm mandee samiti apane aap samaapt ho jaenge to ab isamen sarakaar kisaanon ko samajha nahin pa rahee kyonki sarakaar ne koee projekt usake pahale us dil par koee bahas nahin karenge jab baahar nahin kara kar ke paas thoda choree-choree inhonne bil paas kar ke kaanoon bana diya hai to vah kisee ko sarakaar par bharosa nahin hai isalie maamala samajhana bahut mushkil hai sarakaar ko apane teenon kaanoon samaapt karana hee padega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों की मांग किसानों का आंदोलन
URL copied to clipboard