#जीवन शैली

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:17
तो आज आप का सवाल है कि किसान यदि किसानी करना छोड़ दें और चेहरे की ओर चले जाए तो बाकी लोगों का क्या होगा तो बेचैन सबको पता है कि आज चाहे जितना भी कोई भी इंसान अमीर क्यों ना हो उनके पास बहुत सारे पैसे क्यों ना हो पर पैसे से आप अगर किसान मतलब चावल और शक्ल ही नहीं होगा पा रहा है तो पैसे से कुछ भी नहीं कर पाएंगे आपके पास कितना भी पैसा क्यों ना किस चीज से तो नहीं भरेगी ना सोना से हीरे से यह सब को खाने से बहुत पैसे हैं तो हम सबको पता है कि कोई इंसान जितना भी अमीर क्यों ना हों उनको फसल और जरूरत किसान की ही पड़ते हैं इसीलिए कहा जाता है कि जितनी भी हमारे किसान भाई है उन लोगों को हर एक सुविधाएं हर एक फैसेलिटीज देनी चाहिए अगर उनमें से किसी का भी मन है कि वह जाकर का कोई प्रॉब्लम नहीं बस जितने भी लोग हैं उन्हें सुविधाएं देंगे तो अच्छे से खेती भी कर पाएंगे हमें भी मिलेगा और उनको भी कोई प्रॉब्लम नहीं होगा क्या होता है ग्रीन लाइन में जा रही हूं तो मैं वह काम हो रहे थे तो करे लेकिन मुझे पैसे अच्छे से नहीं मिल रहा है काम बहुत ज्यादा हो रहा है कोई भी सुविधाएं कोई भी फैसिलिटी मेरे लिए नहीं है ऐसा कंपनी वालों को करना ताकि उसे इस तरह से मुझे सारी फैसिलिटी मैं जितनी क्या बोलूं मुझे उस तरह से मिलना चाहिए ताकि मैं उसी तरह सुविधाएं देनी चाहिए ताकि यह काम में शहर में जितने पैसे कमाएंगे क्यों ना उनको मतलब फसल से ही हर एक चीज मिले तो इसमें ही उनके साथ हमेशा अच्छे से मतलब सुविधाएं देनी चाहिए ताकि उनको ना लगे कि वह घर में छोटा करो बड़ा बड़ा करो हर एक घर में 1 पहुंचाते हैं और इंसानी मतलब ने भूल जाते तो मेरे हिसाब से जो भी प्रोटेस्ट हो रहा है या फिर आगे ऐसा कुछ भी ना हो और किसानों के साथ हर एक इंसान मतलब इज्जत सम्मान और उनको प्यार और स्नेह थे
To aaj aap ka savaal hai ki kisaan yadi kisaanee karana chhod den aur chehare kee or chale jae to baakee logon ka kya hoga to bechain sabako pata hai ki aaj chaahe jitana bhee koee bhee insaan ameer kyon na ho unake paas bahut saare paise kyon na ho par paise se aap agar kisaan matalab chaaval aur shakl hee nahin hoga pa raha hai to paise se kuchh bhee nahin kar paenge aapake paas kitana bhee paisa kyon na kis cheej se to nahin bharegee na sona se heere se yah sab ko khaane se bahut paise hain to ham sabako pata hai ki koee insaan jitana bhee ameer kyon na hon unako phasal aur jaroorat kisaan kee hee padate hain iseelie kaha jaata hai ki jitanee bhee hamaare kisaan bhaee hai un logon ko har ek suvidhaen har ek phaiseliteej denee chaahie agar unamen se kisee ka bhee man hai ki vah jaakar ka koee problam nahin bas jitane bhee log hain unhen suvidhaen denge to achchhe se khetee bhee kar paenge hamen bhee milega aur unako bhee koee problam nahin hoga kya hota hai green lain mein ja rahee hoon to main vah kaam ho rahe the to kare lekin mujhe paise achchhe se nahin mil raha hai kaam bahut jyaada ho raha hai koee bhee suvidhaen koee bhee phaisilitee mere lie nahin hai aisa kampanee vaalon ko karana taaki use is tarah se mujhe saaree phaisilitee main jitanee kya boloon mujhe us tarah se milana chaahie taaki main usee tarah suvidhaen denee chaahie taaki yah kaam mein shahar mein jitane paise kamaenge kyon na unako matalab phasal se hee har ek cheej mile to isamen hee unake saath hamesha achchhe se matalab suvidhaen denee chaahie taaki unako na lage ki vah ghar mein chhota karo bada bada karo har ek ghar mein 1 pahunchaate hain aur insaanee matalab ne bhool jaate to mere hisaab se jo bhee protest ho raha hai ya phir aage aisa kuchh bhee na ho aur kisaanon ke saath har ek insaan matalab ijjat sammaan aur unako pyaar aur sneh the

और जवाब सुनें

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:41
यह दोस्तों के सामने अगर खेती करना छोड़ देते हैं और शहरों की तरह पर आते हैं तो जो भी अनाज के भंडारण है जल्दी खत्म हो जाएंगे और भारत बहुत पुराने जमाने के समय में जब हम कंदमूल फल और शिकार करके खाते थे और उसी स्थिति में पहुंच जाएगा बहुत बहुत पीछे चला जाएगा पिछड़ जाएगा और हम शेयरों में भी स्थाई नहीं रह पाएंगे क्योंकि हमें भोजन की तलाश में भटकना पड़ेगा और कृषि योग्य जमीन है पर बंजर भूमि में परिवर्तित हो जाएगी तो इसके बहुत ही दुष्परिणाम सामने आएंगे धन्यवाद
Yah doston ke saamane agar khetee karana chhod dete hain aur shaharon kee tarah par aate hain to jo bhee anaaj ke bhandaaran hai jaldee khatm ho jaenge aur bhaarat bahut puraane jamaane ke samay mein jab ham kandamool phal aur shikaar karake khaate the aur usee sthiti mein pahunch jaega bahut bahut peechhe chala jaega pichhad jaega aur ham sheyaron mein bhee sthaee nahin rah paenge kyonki hamen bhojan kee talaash mein bhatakana padega aur krshi yogy jameen hai par banjar bhoomi mein parivartit ho jaegee to isake bahut hee dushparinaam saamane aaenge dhanyavaad

KARTIK MISHRA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KARTIK जी का जवाब
Student
0:20

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:40
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है किसान यदि किसानी करना छोड़ दें और शहरों की ओर चले जाएं तो बाकी लोगों का क्या होगा दोस्तों अगर किसान के साहनी करना छोड़ दें तो हम लोग भूखे मर जाएंगे हम लोगों को खाने पीने के लिए कुछ नहीं मिलेगा और अगर सभी लोग शहर चले गए तो खेती कौन करेगा जमीन ऐसे ही पड़ी रहेगी बंजर हो जाएगी खेतों से कुछ नहीं होगा जो हमें अनाज दाल सब्जियां मिलती हैं वह में कुछ नहीं मिल पाएंगी और हम लोग भूखे मर जाएंगे खाने मैं पास कितने पैसे होंगे लेकिन अगर किसान किसान किसान खेती करना छोड़ देगा तो हम लोग भूखे मर जाएंगे तो दोस्तों जॉब अच्छी लगे तो प्लीज लाइक करें धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai kisaan yadi kisaanee karana chhod den aur shaharon kee or chale jaen to baakee logon ka kya hoga doston agar kisaan ke saahanee karana chhod den to ham log bhookhe mar jaenge ham logon ko khaane peene ke lie kuchh nahin milega aur agar sabhee log shahar chale gae to khetee kaun karega jameen aise hee padee rahegee banjar ho jaegee kheton se kuchh nahin hoga jo hamen anaaj daal sabjiyaan milatee hain vah mein kuchh nahin mil paengee aur ham log bhookhe mar jaenge khaane main paas kitane paise honge lekin agar kisaan kisaan kisaan khetee karana chhod dega to ham log bhookhe mar jaenge to doston job achchhee lage to pleej laik karen dhanyavaad

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:31
किसान यदि परेशानी करना छोड़ दें और शहर की तरफ आ जाए तो नुकसान ही नुकसान होगा अर्थात खाने पीने के लिए कुछ नहीं रहेगा चाहे पैकिंग हो तो खुली हो तो कोई भी चीज हो कुछ भी नहीं मिलेगा हमारा पेट भी नहीं भर पाएंगे ना कि हमारे परिवार का भी पेट नहीं भर पाएंगे जो किसान की खेती नहीं करेगा अगर वह शहर की तरफ दौड़े खेती करने वाला कोई नहीं रहता रहेगा तो नहीं रहेगा तो खाएंगे कैसे पाएंगे कैसे कुछ करेंगे कोई चीज जगदीश बनाएंगे क्या सब सिर्फ किसानों पर निर्भर अगर किसान खेती करना बिछड़े तो अच्छा छोड़ दिया भारत को भुगतना पड़ेगा हड़ताल का सामना करना पड़ेगा नंबर दो का भी सामना करना पड़ेगा इसलिए किसान का बेबी खेती करना तो नहीं छोड़ सकते लेकिन यह धारणा जिसे हद से करेंगे तो विनाश होगा मीनार
Kisaan yadi pareshaanee karana chhod den aur shahar kee taraph aa jae to nukasaan hee nukasaan hoga arthaat khaane peene ke lie kuchh nahin rahega chaahe paiking ho to khulee ho to koee bhee cheej ho kuchh bhee nahin milega hamaara pet bhee nahin bhar paenge na ki hamaare parivaar ka bhee pet nahin bhar paenge jo kisaan kee khetee nahin karega agar vah shahar kee taraph daude khetee karane vaala koee nahin rahata rahega to nahin rahega to khaenge kaise paenge kaise kuchh karenge koee cheej jagadeesh banaenge kya sab sirph kisaanon par nirbhar agar kisaan khetee karana bichhade to achchha chhod diya bhaarat ko bhugatana padega hadataal ka saamana karana padega nambar do ka bhee saamana karana padega isalie kisaan ka bebee khetee karana to nahin chhod sakate lekin yah dhaarana jise had se karenge to vinaash hoga meenaar

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:55
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप लगाने कि शायद किसानी करना छोड़ दें और शहर शहरी की ओर ले जाएं तो बाकी लोगों का क्या होगा की जानकारी के लिए बता दें हमारे हिसाब से तो किसानों के साथ थोड़ा बहुत ही गलत हो रहा है क्योंकि किसान हमारे अन्नदाता वह में आने देते हैं निश्चित तौर पर उनकी मेहनत गांव में 50 परसेंट भी नहीं मिलता जिसे सब से उम्मीद करते हैं उस हिसाब से उन्हें खुश भी आंसू नहीं होता अक्सर किसान अपनी आत्महत्या कर रहा था क्या होगा अगर यार किसान को अगर मतलब लोग अच्छे से सेलिब्रेट इसको मतलब ऐसे ऐसे ही रिस्पेक्ट देते सम्मान देते लेकिन एक मजदूर मजदूर मजदूर बनकर कि किसान अपने खेत में काम करता हूं उनकी तरफ कोई भी नहीं देखता उसका कोई भी नहीं ऐसा यार मतलब आप लोग सोचे कि यारों हमें हमारे कौन है तेरा वो हमारा अन्नदाता हमारे जीवन चला रहा है अगर वह मेहनत करना छोड़ दो तो निश्चित तौर पर हम लोग निश्चित तौर पर आकाश की ओर चले आएंगे और निश्चित और भुखमरी का माहौल पैदा हो जाएगा दर्पण जसराज बॉलीवुड के लिए सेलिब्रेट इसको आप लोग इतना इंपॉर्टेंट करते हैं इतना महत्व देते हैं क्रिकेटर सो गए क्या मार देते तो हमारे हिसाब से बड़ी गलत बात है क्योंकि अगर किसान का सम्मान नहीं होगा क्योंकि किसान ही ऐसा है जो मतलब इतनी मेहनत करने के बावजूद भी उसका मतलब पूरा उसे प्रोफाइल नहीं मिलता है उसे पूरा मूड मुनाफा नहीं मिलता तो निश्चित तौर पर किसान का सम्मान करना सीखो मलहम निश्चित तौर पर या कहीं और किसान सूची अगर किसान और चला जाएगा तो किसानी करने वाला कौन रहेगा आलू खाने वाला कौन रहेगा और भुखमरी के शिकार हो जाएंगे तो यही कारण है कि अगर मतलब कि सांसद का निकलना छोड़ देगा और शहर की ओर चले जाए तो बाकी लोगों का मतलब का क्या बोलूं कि हालात में आ जाएंगे उत्तर प्रदेश में अकाल फैल जाएगा तो मिस करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा अगर अच्छा लगे तो प्लीज लाइक करें धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap lagaane ki shaayad kisaanee karana chhod den aur shahar shaharee kee or le jaen to baakee logon ka kya hoga kee jaanakaaree ke lie bata den hamaare hisaab se to kisaanon ke saath thoda bahut hee galat ho raha hai kyonki kisaan hamaare annadaata vah mein aane dete hain nishchit taur par unakee mehanat gaanv mein 50 parasent bhee nahin milata jise sab se ummeed karate hain us hisaab se unhen khush bhee aansoo nahin hota aksar kisaan apanee aatmahatya kar raha tha kya hoga agar yaar kisaan ko agar matalab log achchhe se selibret isako matalab aise aise hee rispekt dete sammaan dete lekin ek majadoor majadoor majadoor banakar ki kisaan apane khet mein kaam karata hoon unakee taraph koee bhee nahin dekhata usaka koee bhee nahin aisa yaar matalab aap log soche ki yaaron hamen hamaare kaun hai tera vo hamaara annadaata hamaare jeevan chala raha hai agar vah mehanat karana chhod do to nishchit taur par ham log nishchit taur par aakaash kee or chale aaenge aur nishchit aur bhukhamaree ka maahaul paida ho jaega darpan jasaraaj boleevud ke lie selibret isako aap log itana importent karate hain itana mahatv dete hain kriketar so gae kya maar dete to hamaare hisaab se badee galat baat hai kyonki agar kisaan ka sammaan nahin hoga kyonki kisaan hee aisa hai jo matalab itanee mehanat karane ke baavajood bhee usaka matalab poora use prophail nahin milata hai use poora mood munaapha nahin milata to nishchit taur par kisaan ka sammaan karana seekho malaham nishchit taur par ya kaheen aur kisaan soochee agar kisaan aur chala jaega to kisaanee karane vaala kaun rahega aaloo khaane vaala kaun rahega aur bhukhamaree ke shikaar ho jaenge to yahee kaaran hai ki agar matalab ki saansad ka nikalana chhod dega aur shahar kee or chale jae to baakee logon ka matalab ka kya boloon ki haalaat mein aa jaenge uttar pradesh mein akaal phail jaega to mis karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga agar achchha lage to pleej laik karen dhanyavaad

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:33
किसान यदि किसानी करना छोड़ दो शेर की और चले जाए तो बाकी लोगों का क्या होगा जी देखे बहुत हालत खराब हो जाएगी बिल्कुल क्लियर बात है अगर जवान सड़क पर ना हो और किसान खेत में ना हो तो देश का दुर्भाग्य होगा देश समाप्त हो जाएगा हमें खाने को नहीं होगा होगा तो उन रेट ऑफ पर होगा कि जो कंपनियां जाऊंगी जो बाहर से इंपोर्ट करेंगे जो उनकी मर्जी होगी उत्तर को तो बाकी लोगों का क्या होगा बिल्कुल हालत खराब हो जाएगी बिल्कुल जो महंगाई होगी वह अपनी चरम सीमा पर होगी आम आदमी तो खत्म हो जाएगा मिलकर आ सके
Kisaan yadi kisaanee karana chhod do sher kee aur chale jae to baakee logon ka kya hoga jee dekhe bahut haalat kharaab ho jaegee bilkul kliyar baat hai agar javaan sadak par na ho aur kisaan khet mein na ho to desh ka durbhaagy hoga desh samaapt ho jaega hamen khaane ko nahin hoga hoga to un ret oph par hoga ki jo kampaniyaan jaoongee jo baahar se import karenge jo unakee marjee hogee uttar ko to baakee logon ka kya hoga bilkul haalat kharaab ho jaegee bilkul jo mahangaee hogee vah apanee charam seema par hogee aam aadamee to khatm ho jaega milakar aa sake

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:12
किसान यदि किसानी करना छोड़ दें और शहर की ओर चले जाए तो बाकी लोगों का क्या होगा वही होगा जो महंगाई अस्तर है पूरी तरह से बढ़ जाएगा और लोगों में बहुत ज्यादा असमंजस होने लगेगा मतलब जब महंगाई बढ़ेगी तो सभी लोगों में जो एक मतभेद पैदा होगा तो कोई किसी की मदद नहीं करेगा आज कुछ ऐसी चीजें हैं जो गांव घर में जो होती है क्या होती जब हो जाती जिसे सब्जियों सब्जियों की खेती करता है तो बहुत से लोगों को ऐसे फ्री में दे देता है तुझे किसान ही नहीं रहेगा तो इनको मदद भी नहीं मिलेगी हम लोग अपने गांव में देखते हैं जब हमारी सबसे हो जाती है तो क्या करते हैं कि लोगों को मदद कर देते तो भी आज आप ही बना लो आज आप भी बना लो चीज है कि एक दूसरे के प्रति भावना बनी है एक दूसरे के प्रति एक ऐसा रिलेशन बना हुआ है कि हम एक दूसरे की मदद करते हैं तो कहीं छोड़ किसान तुम्हारा जो देश है किसान प्रधान देश है तू सबसे बड़ा अस्त्र जो होगा उस जीडीपी का जीडीपी पर भी असर करेगा और उसके साथ-साथ हमारे देश में सबसे ज्यादा महंगाई बढ़ जाएगी
Kisaan yadi kisaanee karana chhod den aur shahar kee or chale jae to baakee logon ka kya hoga vahee hoga jo mahangaee astar hai pooree tarah se badh jaega aur logon mein bahut jyaada asamanjas hone lagega matalab jab mahangaee badhegee to sabhee logon mein jo ek matabhed paida hoga to koee kisee kee madad nahin karega aaj kuchh aisee cheejen hain jo gaanv ghar mein jo hotee hai kya hotee jab ho jaatee jise sabjiyon sabjiyon kee khetee karata hai to bahut se logon ko aise phree mein de deta hai tujhe kisaan hee nahin rahega to inako madad bhee nahin milegee ham log apane gaanv mein dekhate hain jab hamaaree sabase ho jaatee hai to kya karate hain ki logon ko madad kar dete to bhee aaj aap hee bana lo aaj aap bhee bana lo cheej hai ki ek doosare ke prati bhaavana banee hai ek doosare ke prati ek aisa rileshan bana hua hai ki ham ek doosare kee madad karate hain to kaheen chhod kisaan tumhaara jo desh hai kisaan pradhaan desh hai too sabase bada astr jo hoga us jeedeepee ka jeedeepee par bhee asar karega aur usake saath-saath hamaare desh mein sabase jyaada mahangaee badh jaegee

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
1:01
बहुत ही बहुत ही बहुत ही कमाल का प्रश्न किसी ने पूछा दोस्त वाह मजा आ गया प्रश्न देखकर चलिए मैं आपको सुनाता हूं किसी ने पूछा है कि किसान यदि किसान करना छोड़ दें और शहरी की ओर चले जाए तो बाकी लोग क्या अगर भाइयों किसान किसानी करना छोड़ दें तो हमारे देश के लोग भूखों मर जाएंगे कहां से उनके लिए ना जाए कहां से गेहूं गाय कहां से बाज रहा है कहां से मक्का है कहां से चलाएं कांच वाले आएंगे भाई साहब हमारे देश में अकाल पड़ जाएगा काल भाई इसलिए किसान को मिस सलूट करता हूं दिल से हमारे देश के असली हीरो जो हमारे किसान होते हैं असली जवान हमारे किसान इसलिए जो बिल पारित होगा उसमें किसानों की मांगों को सुनना चाहिए बहुत ही आवश्यक है मोदी जी को पेठा के किसानों को आमने सामने उनके बिल उनकी मांगों करके तब दिल को मत करना चाहिए दोस्त
Bahut hee bahut hee bahut hee kamaal ka prashn kisee ne poochha dost vaah maja aa gaya prashn dekhakar chalie main aapako sunaata hoon kisee ne poochha hai ki kisaan yadi kisaan karana chhod den aur shaharee kee or chale jae to baakee log kya agar bhaiyon kisaan kisaanee karana chhod den to hamaare desh ke log bhookhon mar jaenge kahaan se unake lie na jae kahaan se gehoon gaay kahaan se baaj raha hai kahaan se makka hai kahaan se chalaen kaanch vaale aaenge bhaee saahab hamaare desh mein akaal pad jaega kaal bhaee isalie kisaan ko mis saloot karata hoon dil se hamaare desh ke asalee heero jo hamaare kisaan hote hain asalee javaan hamaare kisaan isalie jo bil paarit hoga usamen kisaanon kee maangon ko sunana chaahie bahut hee aavashyak hai modee jee ko petha ke kisaanon ko aamane saamane unake bil unakee maangon karake tab dil ko mat karana chaahie dost

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान विरोधी बिल किसान आंदोलन
URL copied to clipboard