#रिश्ते और संबंध

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
4:36
नमस्कार दोस्तों सवाल किया गया है जिस जाति और समाज में अपनी ही जाति में शादी करना होती है यह जानते हुए भी कोई रिलेशनशिप बनाते हैं और अंत में समाज का बहाना करके छोड़ देता है क्या करना चाहिए दोस्तों यदि बात करें भारत की तो भारत में जो रिलेशंस है वह बड़ी तादाद में आजकल चल रहे हैं या कातिया की शादी से पहले ही जो है प्रेमी जोड़ा मिल लेता है और बहुत कुछ हो जाते हैं कई महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती है शादी से पहले भी तो संस्कृति हमारी सभ्यता और संस्कृति दोनों अलग समाज देती है कुछ भी देखें आप इस वजह से जो भी बात करूं मैं अपने यहां के सोसाइटी तो हमारे यहां पर जो हम कर सकते हैं परंतु हमारे को तनाव और रही हमारे वंश जाति और धर्म की मेरे खुद के गांव के अंदर आपको मत दिखा सकता हूं कि हमारे यहां पर जो ईसाई धर्म की जो है वह खुद एक औरत या पर हो ससुराल हो गए वो केरला करी थी बात करें मेरी खुद की मामी जी मेरी मामी जो है वह खुद मुस्लिम कम्युनिटी से थी उनसे हमारे मामा जी ने भगा किया था और रही बात मेरी फैमिली की दोस्ती जो है वही काम तो जाती चाहिए परंतु यदि एक सिस्टम चलता है यदि करता हूं कि मुझे मेरी सोसाइटी के अंदर मेरी जात के अंदर पानी करना है मैं किसी अन्य जाति में करूंगी किसी लड़की को पसंद करता हूं तो उसके लिए मेरी फैमिली मुझ को बिल्कुल भी मना नहीं करेगी यह हमारी गांव की बातें शहर कि नहीं गांव की बात और रही बात रिलेशन की लड़के के साथ लड़की के साथ इसके लिए कानूनी आपको जो है इजाजत देता है इसमें असामाजिक तत्व दोस्तों समाज की बात अलग होती है पर कानून और संविधान है जो आपको इस चीज की छूट देते हैं और आप चाहो जिस महिला के साथ विवाह कर सकते हो इसमें आपको कोई नहीं रोक सकता बल्कि कानून जो है आपको चीज के लिए सपोर्ट करेगा मदद देगा देवा जो होता है दोस्तों विवाह की जो रस में होती है वह किसी धर्म में अलग होते थे इसी में खुश होती है और इस चीज का भी ध्यान रखना कि संविधान की प्रस्तावना किधर यानी कि राज्य में कोई धर्म नहीं है धर्म इंसान का स्वयं का पर्सनली है जितने भी समाज का बहाना कर लेता है इसके लिए कानून है ना बस किसी का शोषण कर रहे हैं तो उसके लिए भी कानून बना हुआ है आप कानून की मदद ले सकते हैं और हमने देखा है कि आप सबसे भारत जैसे देशों के अंदर जाति बंधन इतिहास में होती है और इसी के चलते जो पुरुष होता है यह महिला एक दूसरे को छोड़ देते हैं कि वह समाज का बहाना बना लेते हैं और उसके पीछे कारण है कि मैं यह मानता हूं दोस्तों जो चीजें कानून कानून ने आपको दिए जो संविधान ने आपको दिए जो चीजें और तंत्र तंत्र खुद श्रम निष्पक्ष तथा निर्णय ले सकते हैं इसमें आपको समाज कोई भी आड़े नहीं आएगा कानून से ऊपर कोई समाज नहीं है कानून सर्वोच्च संविधान सर्वोच्च और आपकी स्वतंत्र को मारने रखिए रिलेशंस बनाइए परंतु से विवाद की दोनों की हत्या कानून कानून इसके लिए है आप कानून को पढ़ लीजिए और बात रही लव जिहाद की याद कुछ अलग मैटर है
Namaskaar doston savaal kiya gaya hai jis jaati aur samaaj mein apanee hee jaati mein shaadee karana hotee hai yah jaanate hue bhee koee rileshanaship banaate hain aur ant mein samaaj ka bahaana karake chhod deta hai kya karana chaahie doston yadi baat karen bhaarat kee to bhaarat mein jo rileshans hai vah badee taadaad mein aajakal chal rahe hain ya kaatiya kee shaadee se pahale hee jo hai premee joda mil leta hai aur bahut kuchh ho jaate hain kaee mahilaen pregnent ho jaatee hai shaadee se pahale bhee to sanskrti hamaaree sabhyata aur sanskrti donon alag samaaj detee hai kuchh bhee dekhen aap is vajah se jo bhee baat karoon main apane yahaan ke sosaitee to hamaare yahaan par jo ham kar sakate hain parantu hamaare ko tanaav aur rahee hamaare vansh jaati aur dharm kee mere khud ke gaanv ke andar aapako mat dikha sakata hoon ki hamaare yahaan par jo eesaee dharm kee jo hai vah khud ek aurat ya par ho sasuraal ho gae vo kerala karee thee baat karen meree khud kee maamee jee meree maamee jo hai vah khud muslim kamyunitee se thee unase hamaare maama jee ne bhaga kiya tha aur rahee baat meree phaimilee kee dostee jo hai vahee kaam to jaatee chaahie parantu yadi ek sistam chalata hai yadi karata hoon ki mujhe meree sosaitee ke andar meree jaat ke andar paanee karana hai main kisee any jaati mein karoongee kisee ladakee ko pasand karata hoon to usake lie meree phaimilee mujh ko bilkul bhee mana nahin karegee yah hamaaree gaanv kee baaten shahar ki nahin gaanv kee baat aur rahee baat rileshan kee ladake ke saath ladakee ke saath isake lie kaanoonee aapako jo hai ijaajat deta hai isamen asaamaajik tatv doston samaaj kee baat alag hotee hai par kaanoon aur sanvidhaan hai jo aapako is cheej kee chhoot dete hain aur aap chaaho jis mahila ke saath vivaah kar sakate ho isamen aapako koee nahin rok sakata balki kaanoon jo hai aapako cheej ke lie saport karega madad dega deva jo hota hai doston vivaah kee jo ras mein hotee hai vah kisee dharm mein alag hote the isee mein khush hotee hai aur is cheej ka bhee dhyaan rakhana ki sanvidhaan kee prastaavana kidhar yaanee ki raajy mein koee dharm nahin hai dharm insaan ka svayan ka parsanalee hai jitane bhee samaaj ka bahaana kar leta hai isake lie kaanoon hai na bas kisee ka shoshan kar rahe hain to usake lie bhee kaanoon bana hua hai aap kaanoon kee madad le sakate hain aur hamane dekha hai ki aap sabase bhaarat jaise deshon ke andar jaati bandhan itihaas mein hotee hai aur isee ke chalate jo purush hota hai yah mahila ek doosare ko chhod dete hain ki vah samaaj ka bahaana bana lete hain aur usake peechhe kaaran hai ki main yah maanata hoon doston jo cheejen kaanoon kaanoon ne aapako die jo sanvidhaan ne aapako die jo cheejen aur tantr tantr khud shram nishpaksh tatha nirnay le sakate hain isamen aapako samaaj koee bhee aade nahin aaega kaanoon se oopar koee samaaj nahin hai kaanoon sarvochch sanvidhaan sarvochch aur aapakee svatantr ko maarane rakhie rileshans banaie parantu se vivaad kee donon kee hatya kaanoon kaanoon isake lie hai aap kaanoon ko padh leejie aur baat rahee lav jihaad kee yaad kuchh alag maitar hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जाति और समाज समाज के बारे में जानकारी
URL copied to clipboard