#भारत की राजनीति

bolkar speaker

महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?

Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:35
महात्मा गांधी नेचर के को राष्ट्रवाद का प्रतीक योजना सूत काटने का काम ग्रामीण क्षेत्र पर लोग अपने वस्त्र बनाते थे क्योंकि आप जानते हैं कि कपास की खेती भारत में बेहतर और घर-घर में महिलाएं पुरुष पहले आज के जमाने में आधुनिकता में हो सके उतनी गांधी भी जब थे उससे पहले की स्थिति देखी है इनके पास फुल को शुद्ध करते हुए से अपने कपड़े बनाते थे और कहीं ना कहीं उद्योग जब हमारी औद्योगिक क्रांति अंग्रेजों के कारण से आई दोनों ने सबसे पहला अटैक हमारी इसी उद्योग पर किया गांधीजी को याद आया कि भैया यह तो हमारा अपना है हमारी जन जन की है जिसमें हम जुड़े हुए हैं और कहीं न कहीं हमारा एक प्रतीक है हमारी पहचान है हमारे देश भारत की शान है पर यही कारण था कि उन्होंने इसे राष्ट्रवाद से जोड़ा और भारत की एकता अखंडता को बांटने का काम जब कहते हैं कि आ जाता है जुनून जज्बा जाता है कि हमें देश में हमको मिल जुल कर रहना है तो उस समय शायद लोगों की नस पकड़ लिए गांधीजी और कहा कि भाई पुराने अपने उद्योगों को याद करो अपने उसको याद करो और तुम्हारी और भारतीयता की पहचान और कितना स्वास्थ्य आप रहोगे और यही कारण था इन्होंने चरके को सार्वजनिक तौर पर बोला यह हमारा है हमारी हमारी हिंदुत्व की पहचान है हमारे हिंदुस्तान की पहचान है और आज भी चल रहा है मोदी जी भी जब से ही अंडे की सरकार मोदी की चाय बहुत तेजी से हमारे जो पुराने खादी उद्योग था कितनी तेजी से बढ़ा और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनेगी हमारी पहचान है हमारी शान है इसलिए वहां का राष्ट्रपति कौन
Mahaatma gaandhee nechar ke ko raashtravaad ka prateek yojana soot kaatane ka kaam graameen kshetr par log apane vastr banaate the kyonki aap jaanate hain ki kapaas kee khetee bhaarat mein behatar aur ghar-ghar mein mahilaen purush pahale aaj ke jamaane mein aadhunikata mein ho sake utanee gaandhee bhee jab the usase pahale kee sthiti dekhee hai inake paas phul ko shuddh karate hue se apane kapade banaate the aur kaheen na kaheen udyog jab hamaaree audyogik kraanti angrejon ke kaaran se aaee donon ne sabase pahala ataik hamaaree isee udyog par kiya gaandheejee ko yaad aaya ki bhaiya yah to hamaara apana hai hamaaree jan jan kee hai jisamen ham jude hue hain aur kaheen na kaheen hamaara ek prateek hai hamaaree pahachaan hai hamaare desh bhaarat kee shaan hai par yahee kaaran tha ki unhonne ise raashtravaad se joda aur bhaarat kee ekata akhandata ko baantane ka kaam jab kahate hain ki aa jaata hai junoon jajba jaata hai ki hamen desh mein hamako mil jul kar rahana hai to us samay shaayad logon kee nas pakad lie gaandheejee aur kaha ki bhaee puraane apane udyogon ko yaad karo apane usako yaad karo aur tumhaaree aur bhaarateeyata kee pahachaan aur kitana svaasthy aap rahoge aur yahee kaaran tha inhonne charake ko saarvajanik taur par bola yah hamaara hai hamaaree hamaaree hindutv kee pahachaan hai hamaare hindustaan kee pahachaan hai aur aaj bhee chal raha hai modee jee bhee jab se hee ande kee sarakaar modee kee chaay bahut tejee se hamaare jo puraane khaadee udyog tha kitanee tejee se badha aur antararaashtreey star par pahachaan banegee hamaaree pahachaan hai hamaaree shaan hai isalie vahaan ka raashtrapati kaun

और जवाब सुनें

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Laxmi Ahirwar  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Unknown
1:20
महात्मा गांधी चरके को एक राष्ट्र के प्रति के इसलिए मानते थे क्योंकि महात्मा गांधी चरके को एक आदर्श समाज के प्रतीक के रूप में देखते थे प्रतिदिन अपना कुछ समय चरखा चलाने में व्यतीत करते थे उनका विचार था कि चरखा गरीबों को पूरा काम देने प्रदान करके उन्हें आर्थिक दृष्टि से स्वावलंबी बना सकता है उनके अनुसार भारत एक गरीब देश है चरखा गरीबों की पूरा काम धनी प्रदान करेगा जिससे वे स्वावलंबी बनेंगे सरकार ने बेरोजगारी और गरीबी से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा वास्तव में सड़के के साथ गांधीजी भारतीय राष्ट्रवाद की सर्वाधिक स्थाई पहचान बनाए गए थे अन्य राष्ट्र वादियों को भी चरखा चलाने के लिए प्रोत्साहित करते थे चरका जनसामान्य संबंधित था और आर्थिक प्रगति का प्रतीक माना जाता है इसलिए इसे राष्ट्रवाद के प्रतीक के रूप में महात्मा गांधी जी ने चुना था धन्यवाद
Mahaatma gaandhee charake ko ek raashtr ke prati ke isalie maanate the kyonki mahaatma gaandhee charake ko ek aadarsh samaaj ke prateek ke roop mein dekhate the pratidin apana kuchh samay charakha chalaane mein vyateet karate the unaka vichaar tha ki charakha gareebon ko poora kaam dene pradaan karake unhen aarthik drshti se svaavalambee bana sakata hai unake anusaar bhaarat ek gareeb desh hai charakha gareebon kee poora kaam dhanee pradaan karega jisase ve svaavalambee banenge sarakaar ne berojagaaree aur gareebee se chhutakaara dilaane mein madad karega vaastav mein sadake ke saath gaandheejee bhaarateey raashtravaad kee sarvaadhik sthaee pahachaan banae gae the any raashtr vaadiyon ko bhee charakha chalaane ke lie protsaahit karate the charaka janasaamaany sambandhit tha aur aarthik pragati ka prateek maana jaata hai isalie ise raashtravaad ke prateek ke roop mein mahaatma gaandhee jee ne chuna tha dhanyavaad

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:24
अग्नि चक्र को राष्ट्रवाद प्रतीत होता ना तो देखें जब हमारा देश गुलामी के दौर के अंदर देश के अंदर कुछ भी ऐसी चीज है जो हमारे पास नहीं है जिसे हम राष्ट्रवाद का प्रतीक के रूप में चुन सकें परंतु चरखा जो होता है दोस्तों हमारे देश की यह पैदाइश रखा और हम जानते हैं कि हमारे अंदर जो भी जो भी होते देखने जाते थे और सब देसी वस्तु अपनाओ विदेशी होली जल और दूध अखाड़ा मार्गदर्शन के तौर पर उनके आने के कारण अंग्रेजों को बैन करने की भी घोषणा की थी अंग्रेजों ने
Agni chakr ko raashtravaad prateet hota na to dekhen jab hamaara desh gulaamee ke daur ke andar desh ke andar kuchh bhee aisee cheej hai jo hamaare paas nahin hai jise ham raashtravaad ka prateek ke roop mein chun saken parantu charakha jo hota hai doston hamaare desh kee yah paidaish rakha aur ham jaanate hain ki hamaare andar jo bhee jo bhee hote dekhane jaate the aur sab desee vastu apanao videshee holee jal aur doodh akhaada maargadarshan ke taur par unake aane ke kaaran angrejon ko bain karane kee bhee ghoshana kee thee angrejon ne

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
गोविन्द नाथ गोस्वामी Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए गोविन्द जी का जवाब
Unknown
0:57
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है महात्मा गांधी ने चरके को राष्ट्रवाद का प्रत्येक क्यों चुना दोस्तों इस प्रश्न का सही जवाब ध्यान से सुने महात्मा गांधी ने चरके को राष्ट्रवाद का प्रत्येक इसलिए चुना गया क्योंकि यह जन सामान्य से संबंधित था और स्वदेशी वह आर्थिक प्रगति का प्रतीक था गांधी जी स्वयं प्रतिदिन अपना कुछ समय चरखा चलाने में व्यतीत किया करते थे वह अन्य सहयोगियों को भी चरखा चलाने के लिए प्रोत्साहित करते थे धन्यवाद दोस्तों
Namaskaar doston aapaka prashn hai mahaatma gaandhee ne charake ko raashtravaad ka pratyek kyon chuna doston is prashn ka sahee javaab dhyaan se sune mahaatma gaandhee ne charake ko raashtravaad ka pratyek isalie chuna gaya kyonki yah jan saamaany se sambandhit tha aur svadeshee vah aarthik pragati ka prateek tha gaandhee jee svayan pratidin apana kuchh samay charakha chalaane mein vyateet kiya karate the vah any sahayogiyon ko bhee charakha chalaane ke lie protsaahit karate the dhanyavaad doston

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:13
अभी आप ने सवाल किया है कि महात्मा गांधी ने चक्र को राष्ट्रीय का प्रतीक क्यों चुनाव तो गांधीजी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक इसलिए चुना गया क्योंकि वह जन सामान्य से संबंधित है और विदेशी तथा आर्थिक प्रगति का प्रतीक था गांधीजी श्याम प्रतिदिन अपना कुछ न कुछ समय चक्र चलाने में व्यस्त किया करते थे वे अन्य सहयोगियों को भी चक्कर चलाने के प्रति प्रतिबंधित करने पर गांधीजी का मानना था कि आधुनिक युग में मशीनों ने मानव को गुलाम बनाकर श्रम को हटा दी है इसके गरीबों का रोजगार छिन जाएगा गांधीजी का विश्वास था कि चरखा मानव श्रम के लिए गौरव को फिर से जीवित करेगा और जनता को स्वावलंबी बनाएगा वास्तु में चरखा स्वदेशी तथा राष्ट्रवाद का प्रतीक बन गया परम पारंपारिक भारतीय समाज में सूत काटने के काम को अच्छा नहीं शंकरपुर का गांधी जी द्वारा सूट काटने के गाने मानसिक शर्मा शारीरिक श्रम की खाई को कम करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी धन्यवाद
Abhee aap ne savaal kiya hai ki mahaatma gaandhee ne chakr ko raashtreey ka prateek kyon chunaav to gaandheejee ne charakhe ko raashtravaad ka prateek isalie chuna gaya kyonki vah jan saamaany se sambandhit hai aur videshee tatha aarthik pragati ka prateek tha gaandheejee shyaam pratidin apana kuchh na kuchh samay chakr chalaane mein vyast kiya karate the ve any sahayogiyon ko bhee chakkar chalaane ke prati pratibandhit karane par gaandheejee ka maanana tha ki aadhunik yug mein masheenon ne maanav ko gulaam banaakar shram ko hata dee hai isake gareebon ka rojagaar chhin jaega gaandheejee ka vishvaas tha ki charakha maanav shram ke lie gaurav ko phir se jeevit karega aur janata ko svaavalambee banaega vaastu mein charakha svadeshee tatha raashtravaad ka prateek ban gaya param paarampaarik bhaarateey samaaj mein soot kaatane ke kaam ko achchha nahin shankarapur ka gaandhee jee dvaara soot kaatane ke gaane maanasik sharma shaareerik shram kee khaee ko kam karane ke lie mahatvapoorn bhoomika nibhaee thee dhanyavaad

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:17
उसने पूछा गया है कि महात्मा गांधी ने चरके को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना पिक्चर के को राष्ट्रवाद का प्रतीक इसलिए चुना गया क्योंकि यह जन सामान सिद्दीकी संबंधित था और स्वदेशी और आर्थिक प्रगति का प्रतीक था गांधी जी स्वयं प्रतिदिन देखिए अपना कुछ समय चरखा चलाने में व्यतीत किया करते थे वह अन्य सहयोगियों को भी दिखे चरखा चलाने के लिए प्रोत्साहित करते थे गांधी जी का मानना था कि आधुनिक युग में मशीनों ने मानव को गुलाम बनाकर और श्रम को हटा दिया है तो इससे गरीबों का रोजगार उनसे छिन गया है गांधी जी का विश्वास था कि चरखा मानव श्रम के लिए गौरव को फिर से जीवित करेगा और जनता को सो लंबी बनाएगा चरखा स्वदेशी और राष्ट्रवाद का प्रतीक बन गया तो पारंपरिक विकी भारतीय समाज में सूट काटने के काम देखिए अच्छा नहीं समझा जाता था तो गांधीजी धारा सूट काटने के काम में मानसिक और शारीरिक संघ की खाई को कम करने में भी देखिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी यही कारण है महात्मा गांधी नेचर के को राष्ट्रवाद का प्रतीक सुना जय हिंद जय भारत
Usane poochha gaya hai ki mahaatma gaandhee ne charake ko raashtravaad ka prateek kyon chuna pikchar ke ko raashtravaad ka prateek isalie chuna gaya kyonki yah jan saamaan siddeekee sambandhit tha aur svadeshee aur aarthik pragati ka prateek tha gaandhee jee svayan pratidin dekhie apana kuchh samay charakha chalaane mein vyateet kiya karate the vah any sahayogiyon ko bhee dikhe charakha chalaane ke lie protsaahit karate the gaandhee jee ka maanana tha ki aadhunik yug mein masheenon ne maanav ko gulaam banaakar aur shram ko hata diya hai to isase gareebon ka rojagaar unase chhin gaya hai gaandhee jee ka vishvaas tha ki charakha maanav shram ke lie gaurav ko phir se jeevit karega aur janata ko so lambee banaega charakha svadeshee aur raashtravaad ka prateek ban gaya to paaramparik vikee bhaarateey samaaj mein soot kaatane ke kaam dekhie achchha nahin samajha jaata tha to gaandheejee dhaara soot kaatane ke kaam mein maanasik aur shaareerik sangh kee khaee ko kam karane mein bhee dekhie mahatvapoorn bhoomika nibhaee thee yahee kaaran hai mahaatma gaandhee nechar ke ko raashtravaad ka prateek suna jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:07
मत कर मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक योजना जी मित्र क्योंकि महात्मा गांधी ने चरखी को राष्ट्रवाद का प्रतीक इसलिए चुना था क्योंकि चरखा अपनी कंटीन्यूटी यानी लगातार उद्यम करता रहता है और उस उद्यम यानी लगातार चलने से रूस के सूत का निर्माण होता है और उस सूट पर ही कपड़े का निर्माण किया जाता है इस प्रकार चरखा अपनी गति से रुई से धारा और धागे से कपड़े का निर्माण करता है उसी तरह हमारा जो व्यक्तित्व व्यक्ति है इस समाज के साथ मिलकर इस चरखे रूपी अपनी गति के द्वारा एक स्वच्छ समाज स्वच्छ देश का निर्माण करते हुए एक विकसित राष्ट्र का निर्माण कर पाने में सक्षम हो सकता है तो इस प्रति के कारण ही महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक चिन्ह मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करना ना भूलें धन्यवाद
Mat kar main braham prakaash mishr aapaka bol kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai mahaatma gaandhee ne charakhe ko raashtravaad ka prateek yojana jee mitr kyonki mahaatma gaandhee ne charakhee ko raashtravaad ka prateek isalie chuna tha kyonki charakha apanee kanteenyootee yaanee lagaataar udyam karata rahata hai aur us udyam yaanee lagaataar chalane se roos ke soot ka nirmaan hota hai aur us soot par hee kapade ka nirmaan kiya jaata hai is prakaar charakha apanee gati se ruee se dhaara aur dhaage se kapade ka nirmaan karata hai usee tarah hamaara jo vyaktitv vyakti hai is samaaj ke saath milakar is charakhe roopee apanee gati ke dvaara ek svachchh samaaj svachchh desh ka nirmaan karate hue ek vikasit raashtr ka nirmaan kar paane mein saksham ho sakata hai to is prati ke kaaran hee mahaatma gaandhee ne charakhe ko raashtravaad ka prateek chinh mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karana na bhoolen dhanyavaad

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
0:48
उसने कि महात्मा गांधी ने तड़के को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चला दीजिए महात्मा गांधी चाहते थे कि लोग खुद का बिजनेस करें कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने सरकार को राष्ट्रपति चुना क्योंकि अंग्रेजी कंपनियां जो है भारत से कच्चा माल आया तो फिर उसे कपड़ा हो जाए कोई होगा तो सोचे दमोह में भेज दिया कर देते तो ज्यादा देखी चलेगी मन से लोग खुद का कपड़ा बनाने को इस बात का प्रतीक माना मां के कुटीर उद्योगों को जीवन देने के लिए चलकर का राष्ट्रपति चुना
Usane ki mahaatma gaandhee ne tadake ko raashtravaad ka prateek kyon chala deejie mahaatma gaandhee chaahate the ki log khud ka bijanes karen kuteer udyogon ko badhaava dene ke lie unhonne sarakaar ko raashtrapati chuna kyonki angrejee kampaniyaan jo hai bhaarat se kachcha maal aaya to phir use kapada ho jae koee hoga to soche damoh mein bhej diya kar dete to jyaada dekhee chalegee man se log khud ka kapada banaane ko is baat ka prateek maana maan ke kuteer udyogon ko jeevan dene ke lie chalakar ka raashtrapati chuna

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:53
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना महात्मा गांधी एक बहुत बुद्धिमान आदमी थे अगर उनको स्कूली जीवन में या उनके भरी स्टोरी करते समय बहुत देर लगा हो या कब मिलते हो या उनका अक्षर अच्छा नहीं है सुनो एक बुद्धिमान व्यक्ति जरूर जीनियस कहलाने के योग्य भी है उन्होंने भारतीय लोगों का पहले आकर भारत में सब भारत वह घूमे दक्षिण अफ्रीका से आने के बाद और भारतीय लोगों को उन्होंने अच्छा समझा इस अच्छी तरह से समझा और उनको मालूम पड़ा की झांकी किस तरह से राष्ट्रवाद हम पैदा कर सके ताकि सब लोग इकट्ठा है और अंग्रेजो के खिलाफ एक आंदोलन शुरू किया जाए तो उनके लिए पहले उन्होंने जो गरीब से गरीब भारतीय है उसकी तरह रहना शुरु किया उसी पर एक पंचा पहनती थी और अध्यात्मिक साधना भी करते क्या करते साबरमती आश्रम उन्होंने बनाया अफजल कैसे परंपरागत रूप से हमारे भारतीय धोखे से सुखविंदर जी के धागे होते कपाशी के स्कोर कापूस कहते हैं पेड़ से वह जो बुक कराते हैं तो उसको चरके पर उसकी कटाई करते थे चरखा एक यंत्र है और उससे सूट निकालकर कापड बनाते थे तो यह हमारी पारंपरिक प्रकृति है और यह हर गांव का हर हर गरीब से गरीब आदमी का एक प्रतीक था और पूरे राष्ट्र को आकर एक कॉमन में प्रतिक जैन आया एक उनकी लीडरशिप करने के लिए एक खुद को प्रोजेक्ट करना और वह सही भी था उसके लिए गांधी जी ने बहुत सारे इस तरह के प्रयास किए उनमें से एक जो है वह खुद अपने चके से सूत कताई करते थे सीधा सादा जीवन जीते थे और उसी से बड़े हुए कपूर कब मालूम लोग लेटे थे और उनके ऊपर जीविका चलती थी केसाराम यह मैसेज जो एक पूरे भारत में जाता था और उसके कारण लोगों ने उन्हें भारत ना कहना शुरू किया क्योंकि भारत की परंपरा में जो चेक करता है उसे महान कहते हैं जो सिया स्वार्थ करता है या करोड़पति या इंडस्ट्रियलिस्ट है उसको मार नहीं कहा जाता राजा लोग भी संत लोगों के पैर छुआ करते हैं संत लोग राजाभाऊ महाराजाओ बादशाहो इनके पेट नहीं सकते हैं तो की भौतिक चीजों को इतना महत्व नहीं देते भारतीय संस्कृति में तू कुमकुम को ज्ञान को और क्या को वैराग्य को सन्यासी सन्यासी सन्यासी को लोग पूछते हैं यहां पर तो इसलिए महात्मा गांधी के चरखा चरखा जो चाहो राष्ट्रवाद का प्रतीक बना उसके बाद बहुत जल्द से स्वतंत्रता आंदोलन का फैला हुआ और पहली बार भारत में भारतीय नागरिक जो है वो देशभक्त बता और कुछ साल बाद अंग्रेजों को भारत छोड़ना पड़ा धन्यवाद आपको मेरा यह सवाल अच्छा लगा तो कृपया लाइक कीजिए धन्यवाद
Mahaatma gaandhee ne charakhe ko raashtravaad ka prateek kyon chuna mahaatma gaandhee ek bahut buddhimaan aadamee the agar unako skoolee jeevan mein ya unake bharee storee karate samay bahut der laga ho ya kab milate ho ya unaka akshar achchha nahin hai suno ek buddhimaan vyakti jaroor jeeniyas kahalaane ke yogy bhee hai unhonne bhaarateey logon ka pahale aakar bhaarat mein sab bhaarat vah ghoome dakshin aphreeka se aane ke baad aur bhaarateey logon ko unhonne achchha samajha is achchhee tarah se samajha aur unako maaloom pada kee jhaankee kis tarah se raashtravaad ham paida kar sake taaki sab log ikattha hai aur angrejo ke khilaaph ek aandolan shuroo kiya jae to unake lie pahale unhonne jo gareeb se gareeb bhaarateey hai usakee tarah rahana shuru kiya usee par ek pancha pahanatee thee aur adhyaatmik saadhana bhee karate kya karate saabaramatee aashram unhonne banaaya aphajal kaise paramparaagat roop se hamaare bhaarateey dhokhe se sukhavindar jee ke dhaage hote kapaashee ke skor kaapoos kahate hain ped se vah jo buk karaate hain to usako charake par usakee kataee karate the charakha ek yantr hai aur usase soot nikaalakar kaapad banaate the to yah hamaaree paaramparik prakrti hai aur yah har gaanv ka har har gareeb se gareeb aadamee ka ek prateek tha aur poore raashtr ko aakar ek koman mein pratik jain aaya ek unakee leedaraship karane ke lie ek khud ko projekt karana aur vah sahee bhee tha usake lie gaandhee jee ne bahut saare is tarah ke prayaas kie unamen se ek jo hai vah khud apane chake se soot kataee karate the seedha saada jeevan jeete the aur usee se bade hue kapoor kab maaloom log lete the aur unake oopar jeevika chalatee thee kesaaraam yah maisej jo ek poore bhaarat mein jaata tha aur usake kaaran logon ne unhen bhaarat na kahana shuroo kiya kyonki bhaarat kee parampara mein jo chek karata hai use mahaan kahate hain jo siya svaarth karata hai ya karodapati ya indastriyalist hai usako maar nahin kaha jaata raaja log bhee sant logon ke pair chhua karate hain sant log raajaabhaoo mahaaraajao baadashaaho inake pet nahin sakate hain to kee bhautik cheejon ko itana mahatv nahin dete bhaarateey sanskrti mein too kumakum ko gyaan ko aur kya ko vairaagy ko sanyaasee sanyaasee sanyaasee ko log poochhate hain yahaan par to isalie mahaatma gaandhee ke charakha charakha jo chaaho raashtravaad ka prateek bana usake baad bahut jald se svatantrata aandolan ka phaila hua aur pahalee baar bhaarat mein bhaarateey naagarik jo hai vo deshabhakt bata aur kuchh saal baad angrejon ko bhaarat chhodana pada dhanyavaad aapako mera yah savaal achchha laga to krpaya laik keejie dhanyavaad

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:52
महात्मा गांधी जी ने राखी को राष्ट्रवाद का प्रतीक मांगने का बड़ा रीजन था कि एक आम आदमी से जुड़ा जहां तक हम देखते हैं कि चरखा जो है उस जमाने में जो गांव के लोग और जो बिल्कुल नॉर्मल और गरीब तबके के लोग थे वह लोगों का एक आय का साधन होता था और उन लोगों को प्रमोट करने के लिए गांधी को गांधी जी ने इन चीजों का सहारा दिया ताकि लोग जो है उस चरखे की पीछे छुपी हुई महत्वता को और उसके पीछे छुपे हुए आर्थिक को और उसके पीछे छुपे हुए लोगों के एक रिस्पेक्ट को या फिर मोनू भावनाओं को समझें और उसके अनुसार जो है निर्णय लें और आने वाली सरकारी नीचे है उसके अनुसार कार्य करने के लिए उसके ऊपर बंदे चरखी को जो है राष्ट्रवाद का एक प्रतीक घोषित करती है थैंक यू
Mahaatma gaandhee jee ne raakhee ko raashtravaad ka prateek maangane ka bada reejan tha ki ek aam aadamee se juda jahaan tak ham dekhate hain ki charakha jo hai us jamaane mein jo gaanv ke log aur jo bilkul normal aur gareeb tabake ke log the vah logon ka ek aay ka saadhan hota tha aur un logon ko pramot karane ke lie gaandhee ko gaandhee jee ne in cheejon ka sahaara diya taaki log jo hai us charakhe kee peechhe chhupee huee mahatvata ko aur usake peechhe chhupe hue aarthik ko aur usake peechhe chhupe hue logon ke ek rispekt ko ya phir monoo bhaavanaon ko samajhen aur usake anusaar jo hai nirnay len aur aane vaalee sarakaaree neeche hai usake anusaar kaary karane ke lie usake oopar bande charakhee ko jo hai raashtravaad ka ek prateek ghoshit karatee hai thaink yoo

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Isha Rawat Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Isha जी का जवाब
Student
0:49
चरखी को राष्ट्रवाद का प्रतीक इसलिए चुना गया है क्योंकि यह जन सामान्य से संबंधित था और स्वदेशी व आर्थिक प्रगति का प्रति गांधी जी सर प्रतिदिन अपना कुछ चरखा चलाने में व्यतीत किया करते थे वे अन्य सहयोग को भी चरखा चलाने के लिए प्रोत्साहित करते थे गांधी जी का विश्वास था कि चरखा मानव श्रम के लिए गौरव को फिर से जीवित करेगा और जनता का स्वावलंबी बने चरखा स्वदेशी तथा राष्ट्रवाद का प्रतीक बन गया पारंपरिक भारतीय समाज में सूट काटने के काम को अच्छा नहीं समझा जाता है लेकिन गांधी जी द्वारा सूट काटने के काम में मानसिक श्रम एवं साहित्य की खाई को कम करने में भी भूमिका निभाई और इस तरीके से महात्मा गांधी का चरखा राष्ट्रवादी का प्रतीक
Charakhee ko raashtravaad ka prateek isalie chuna gaya hai kyonki yah jan saamaany se sambandhit tha aur svadeshee va aarthik pragati ka prati gaandhee jee sar pratidin apana kuchh charakha chalaane mein vyateet kiya karate the ve any sahayog ko bhee charakha chalaane ke lie protsaahit karate the gaandhee jee ka vishvaas tha ki charakha maanav shram ke lie gaurav ko phir se jeevit karega aur janata ka svaavalambee bane charakha svadeshee tatha raashtravaad ka prateek ban gaya paaramparik bhaarateey samaaj mein soot kaatane ke kaam ko achchha nahin samajha jaata hai lekin gaandhee jee dvaara soot kaatane ke kaam mein maanasik shram evan saahity kee khaee ko kam karane mein bhee bhoomika nibhaee aur is tareeke se mahaatma gaandhee ka charakha raashtravaadee ka prateek

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:55
महात्मा गांधी ने चर्चित को इसलिए अपना एक राष्ट्रवाद बनाया था कि उन्होंने कहा था चरखे के माध्यम से हम गरीबों ग्रामीणों तक उनके द्वारा उगाए गए कपास को कपड़े में बदल सकते हैं उन्होंने बुनकरों को कपड़ा बनना सिखाया चरखे से उन्होंने सूट काटना सिखाएं घर घर में उन्होंने बेरोजगार की अलग जगह ग्रामीण रोजगार व्यवस्था के बिल्कुल संपादन करते थे और वह चाहते थे और कपड़ा पहनते भी लेने को जानते थे कि भारत जो गरीब है आप मुझको देख लीजिए जो स्टेशनरी है वही स्टेट भारत की है तो भारत के गरीबों को और सबको समान दृष्टि से उनको समानता लाने के लिए उन्होंने जो कार्य किया है आजकल जो हमारे घर सांस्कृतिक लोग हैं उनकी बुराई जरूर करते हैं लेकिन गांधी जैसा नेक और राष्ट्रवादी आदमी आज तक देश में कभी नहीं हुआ है
Mahaatma gaandhee ne charchit ko isalie apana ek raashtravaad banaaya tha ki unhonne kaha tha charakhe ke maadhyam se ham gareebon graameenon tak unake dvaara ugae gae kapaas ko kapade mein badal sakate hain unhonne bunakaron ko kapada banana sikhaaya charakhe se unhonne soot kaatana sikhaen ghar ghar mein unhonne berojagaar kee alag jagah graameen rojagaar vyavastha ke bilkul sampaadan karate the aur vah chaahate the aur kapada pahanate bhee lene ko jaanate the ki bhaarat jo gareeb hai aap mujhako dekh leejie jo steshanaree hai vahee stet bhaarat kee hai to bhaarat ke gareebon ko aur sabako samaan drshti se unako samaanata laane ke lie unhonne jo kaary kiya hai aajakal jo hamaare ghar saanskrtik log hain unakee buraee jaroor karate hain lekin gaandhee jaisa nek aur raashtravaadee aadamee aaj tak desh mein kabhee nahin hua hai

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:39
महात्मा गांधी ने चार के को राज्यपाल का प्रतीक इसलिए माना कि चरखा जन सामान्य का प्रतीक था तथा सामान्य से संबंधित भी था और और यह सामाजिक एवं आर्थिक का भी प्रतीक है और गांधीजी भी खुद ही चरखा का उपयोग करते थे जिसके साथ साथ कई लोग भी करने लगे जईहा महात्मा गांधी के चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक चिन्ह
Mahaatma gaandhee ne chaar ke ko raajyapaal ka prateek isalie maana ki charakha jan saamaany ka prateek tha tatha saamaany se sambandhit bhee tha aur aur yah saamaajik evan aarthik ka bhee prateek hai aur gaandheejee bhee khud hee charakha ka upayog karate the jisake saath saath kaee log bhee karane lage jaeeha mahaatma gaandhee ke charakhe ko raashtravaad ka prateek chinh

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:50
दिखी महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक इसलिए चुना क्योंकि आजादी से पहले चरखे पर ही कपड़े का निर्माण होता था जो खादी का कपड़े का निर्माण होता तो बताता और कपड़ा पहनना तो मनुष्य का इतिहास फर्स्ट ड्यूटी है ना आपकी पहचाना तो आपके कपड़ो से होती है ब्रांडेड कपड़े जरूरी नहीं है लेकिन कपड़े तो होनी चाहिए अच्छे तू चरखी पर ही जब सारे कपड़ों का निर्माण होता था टुबमेट चीज को क्यों नहीं राष्ट्रवाद का प्रतीक वार्ड बंदी बनाया जाए इसलिए गांधी जी ने चर्चे को ही राष्ट्रवाद का प्रतीक बना है उसी के बनाए कपड़े को तो हम लोग पहन के समाज में घूम रहे हैं समाज में काम कर रहे हैं तो वह प्रतीक है और कुछ पूछना क्या थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Dikhee mahaatma gaandhee ne charakhe ko raashtravaad ka prateek isalie chuna kyonki aajaadee se pahale charakhe par hee kapade ka nirmaan hota tha jo khaadee ka kapade ka nirmaan hota to bataata aur kapada pahanana to manushy ka itihaas pharst dyootee hai na aapakee pahachaana to aapake kapado se hotee hai braanded kapade jarooree nahin hai lekin kapade to honee chaahie achchhe too charakhee par hee jab saare kapadon ka nirmaan hota tha tubamet cheej ko kyon nahin raashtravaad ka prateek vaard bandee banaaya jae isalie gaandhee jee ne charche ko hee raashtravaad ka prateek bana hai usee ke banae kapade ko to ham log pahan ke samaaj mein ghoom rahe hain samaaj mein kaam kar rahe hain to vah prateek hai aur kuchh poochhana kya thaink yoo thaink yoo veree mach

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • महात्मा गांधी चरखा, महात्मा गांधी और चरखा, गांधी जी चरखा
URL copied to clipboard