#धर्म और ज्योतिषी

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
1:02
नमस्कार आपका फास्ट है तुलसी लगभग हर हिंदू के घर में पाया जाता है एवं तुलसी की पूजा की जाती है धार्मिक एवं वैज्ञानिक दृष्टिकोण से दोनों से लाभकारी है लेकिन जिस प्रकार क्रिसमस डे मनाया जाता है उसी प्रकार तुलसी डे क्यों नहीं मनाया जाता लोगों को तुलसी पूजन के बारे में पता ही नहीं है वह उसका जो सेलिब्रेशन है जो उसका मोटे है सेलिब्रेशन का टारगेट है वह क्रिसमस ट्री पर बेस्ट नहीं है वह है जीसस क्राइस्ट के बर्थ परवेज ठीक है लेकिन जो क्रिसमस ट्री है वह एक पाठ है क्रिसमस सेलिब्रेशन कान्हा की क्रिसमस पर और भी उत्तेजित है ठीक है तो इसी तरह से तुलसी जो है ऐसा नहीं है कि लोगों को पता नहीं है काफी लोगों को पता है और काफी लोग जिनके घर में है वहां पर तुलसी पूजन जो है काफी अच्छे से किया भी जाता है इंसान रोज लोग उसकी पूजा भी करते हैं शुक्रिया
Namaskaar aapaka phaast hai tulasee lagabhag har hindoo ke ghar mein paaya jaata hai evan tulasee kee pooja kee jaatee hai dhaarmik evan vaigyaanik drshtikon se donon se laabhakaaree hai lekin jis prakaar krisamas de manaaya jaata hai usee prakaar tulasee de kyon nahin manaaya jaata logon ko tulasee poojan ke baare mein pata hee nahin hai vah usaka jo selibreshan hai jo usaka mote hai selibreshan ka taaraget hai vah krisamas tree par best nahin hai vah hai jeesas kraist ke barth paravej theek hai lekin jo krisamas tree hai vah ek paath hai krisamas selibreshan kaanha kee krisamas par aur bhee uttejit hai theek hai to isee tarah se tulasee jo hai aisa nahin hai ki logon ko pata nahin hai kaaphee logon ko pata hai aur kaaphee log jinake ghar mein hai vahaan par tulasee poojan jo hai kaaphee achchhe se kiya bhee jaata hai insaan roj log usakee pooja bhee karate hain shukriya

और जवाब सुनें

murari lal meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए murari जी का जवाब
Unknown
0:38

Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
3:00
बिल्कुल सही सवाल है जी आपका आपका कहने का मतलब है कि जैसे क्रिसमस ट्री आता है वैसे तुलसी दिवस भी होना चाहिए ठीक है लोगों कब आता है लोगों को पता नहीं ठीक है तू बिल्कुल सही बात है जी क्यों नहीं पता क्योंकि देखो जी आजकल के और मैं तो मानता हूं कि आजकल पढ़ाई क्या हो गई है कुछ भी नहीं है ठीक है देखा जाए तो कुछ भी नहीं है लोगों को अच्छा आज कल जो है अपने बच्चों को इंग्लिश मीडियम में पढ़ा रहे हैं मां-बाप की के क्या सीख रहे हैं वह कुछ भी नहीं ठीक है तो उनको यह भी नहीं पता पूछेंगे कि हमारे महीनों के नाम बताओ वो कहेंगे जनवरी फरवरी-मार्च अप्रैल तो उन्हें नाम सुने भी नहीं होंगे चैत्र मास पौष मास ठीक है माघ मास अब किसी से आप पूछेंगे तो कि कौन सा महीना चल रहा है भाई जनवरी का चल रहा है यार कौन-कौन चल रहा है तो पोस्ट मास यह नाम से उन्होंने कहीं नहीं सुना क्यों नहीं सुना है कि क्या मैं बताया ही नहीं गया हमें बताया नहीं जाता हम भी कहते हैं बताया नहीं गया हम तो अपने मां बाप से सुना है जितना उतना ज्ञान है उतना बता देते हैं ठीक है हमें भी नहीं पता नहीं क्या होता है अब हैप्पी न्यू ईयर हैप्पी न्यू ईयर लोग सब करते हैं ठीक है तू सनी रामधारी सिंह दिनकर जी मेरे हिसाब से हुई थी जिन्होंने कविता लिखी जी की नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं है अपना यह त्यौहार नहीं है यह हमारी जीत नहीं ठीक है ऐसे इसमें लाइनें थी तो सही कहते हैं वह आज क्या हम लोग हैप्पी न्यू ईयर हैप्पी न्यू ईयर हैप्पी न्यू ईयर की शुभकामनाएं मगर उनको यह नहीं पता हमारा हम हिंदुओं का हम हिंदू लोग हिंदुस्तान में रहते हैं अंग्रेजी इंग्लैंड में नहीं रहते हैं उनको यह नहीं पता कि हम हिंदुओं का नया साल कब कब आता है चमक 2070 चल रहा है ठीक है उनको यह नहीं पता नहीं चल रहा है यह आजकल के बच्चों को बताया ही नहीं जाता ठीक है तुमको क्या पता लगेगा कि तुलसी दिवस या तुलसी में कब आता है कहीं नहीं पता आजकल के बच्चे का पूछ कर देख लीजिए चलिए मैं क्या कहता हूं आप बच्चों को पूछ कर देख लीजिए बच्चे को 49 कितना होता है वह नहीं पता नहीं क्यों नहीं चला रहे हैं हम कैसे बात हो गई तो शर्म की बात है यार कितने आजकल के पढ़े लिखे बच्चों को यह नहीं पता बस ज्यादा ना कहते अपनी वाणी को भी
Bilkul sahee savaal hai jee aapaka aapaka kahane ka matalab hai ki jaise krisamas tree aata hai vaise tulasee divas bhee hona chaahie theek hai logon kab aata hai logon ko pata nahin theek hai too bilkul sahee baat hai jee kyon nahin pata kyonki dekho jee aajakal ke aur main to maanata hoon ki aajakal padhaee kya ho gaee hai kuchh bhee nahin hai theek hai dekha jae to kuchh bhee nahin hai logon ko achchha aaj kal jo hai apane bachchon ko inglish meediyam mein padha rahe hain maan-baap kee ke kya seekh rahe hain vah kuchh bhee nahin theek hai to unako yah bhee nahin pata poochhenge ki hamaare maheenon ke naam batao vo kahenge janavaree pharavaree-maarch aprail to unhen naam sune bhee nahin honge chaitr maas paush maas theek hai maagh maas ab kisee se aap poochhenge to ki kaun sa maheena chal raha hai bhaee janavaree ka chal raha hai yaar kaun-kaun chal raha hai to post maas yah naam se unhonne kaheen nahin suna kyon nahin suna hai ki kya main bataaya hee nahin gaya hamen bataaya nahin jaata ham bhee kahate hain bataaya nahin gaya ham to apane maan baap se suna hai jitana utana gyaan hai utana bata dete hain theek hai hamen bhee nahin pata nahin kya hota hai ab haippee nyoo eeyar haippee nyoo eeyar log sab karate hain theek hai too sanee raamadhaaree sinh dinakar jee mere hisaab se huee thee jinhonne kavita likhee jee kee nav varsh hamen sveekaar nahin hai apana yah tyauhaar nahin hai yah hamaaree jeet nahin theek hai aise isamen lainen thee to sahee kahate hain vah aaj kya ham log haippee nyoo eeyar haippee nyoo eeyar haippee nyoo eeyar kee shubhakaamanaen magar unako yah nahin pata hamaara ham hinduon ka ham hindoo log hindustaan mein rahate hain angrejee inglaind mein nahin rahate hain unako yah nahin pata ki ham hinduon ka naya saal kab kab aata hai chamak 2070 chal raha hai theek hai unako yah nahin pata nahin chal raha hai yah aajakal ke bachchon ko bataaya hee nahin jaata theek hai tumako kya pata lagega ki tulasee divas ya tulasee mein kab aata hai kaheen nahin pata aajakal ke bachche ka poochh kar dekh leejie chalie main kya kahata hoon aap bachchon ko poochh kar dekh leejie bachche ko 49 kitana hota hai vah nahin pata nahin kyon nahin chala rahe hain ham kaise baat ho gaee to sharm kee baat hai yaar kitane aajakal ke padhe likhe bachchon ko yah nahin pata bas jyaada na kahate apanee vaanee ko bhee

Abdul_Ahad  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abdul_Ahad जी का जवाब
Unknown
1:27
मेरे अजीज मैं आपसे बात करना चाहूंगा यहां पर कि आपने जो बात यहां पर लिखी है उसमें कहीं पर भी सवाल नजर नहीं आ रहा है इसमें आप लिख रहे हैं कि तुलसी लगभग हर हिंदू के घर में पाया जाता है एवं इसके बाद आपने क्वेश्चन मार्क नहीं लगा है पता नहीं चल पा रहा है कि आप कहना क्या चाह रहे दूसरी बातें तुलसी की पूजा की जाती है सही बातें धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से दोनों से लाभकारी है पार्टी के पास है और एक बात और बता दें कि मतलब नहीं है यह हर घर में मतलब पाया जाता है हिंदू धर्म में तो आ ही जाता है लेकिन मुस्लिम सभी को अपने आप पर लगाते हैं क्योंकि वह पूजा नहीं करते हैं लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण से आयुर्वेद के नजरिए से यूनानी के नजरिए से उसका इस्तेमाल करते हैं ठीक है तो यह एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और एक और चीज आपको बता दें कि जो तुलसी है विभिन्न प्रकार की प्रजाति के अंदर पाई जाती है भाई जी भी तुलसी बहुत ही अच्छी पेड़ पौधा है और इसका इस्तेमाल करना भी चाहिए आपका सवाल और आगे बढ़े
Mere ajeej main aapase baat karana chaahoonga yahaan par ki aapane jo baat yahaan par likhee hai usamen kaheen par bhee savaal najar nahin aa raha hai isamen aap likh rahe hain ki tulasee lagabhag har hindoo ke ghar mein paaya jaata hai evan isake baad aapane kveshchan maark nahin laga hai pata nahin chal pa raha hai ki aap kahana kya chaah rahe doosaree baaten tulasee kee pooja kee jaatee hai sahee baaten dhaarmik aur vaigyaanik drshtikon se donon se laabhakaaree hai paartee ke paas hai aur ek baat aur bata den ki matalab nahin hai yah har ghar mein matalab paaya jaata hai hindoo dharm mein to aa hee jaata hai lekin muslim sabhee ko apane aap par lagaate hain kyonki vah pooja nahin karate hain lekin vaigyaanik drshtikon se aayurved ke najarie se yoonaanee ke najarie se usaka istemaal karate hain theek hai to yah ek aayurvedik jadee bootee hai aur ek aur cheej aapako bata den ki jo tulasee hai vibhinn prakaar kee prajaati ke andar paee jaatee hai bhaee jee bhee tulasee bahut hee achchhee ped paudha hai aur isaka istemaal karana bhee chaahie aapaka savaal aur aage badhe

neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
Medical care
2:26
नमस्कार दोस्तों एक मित्र ने कहा है कि तुलसी लगभग हर हिंदू के घर में पाया जाता है एवं तुलसी की पूजा की जाती है धार्मिक और वैज्ञानिक डिस्को दोनों से लाभकारी है जी बिल्कुल दोस्त मेरे कि तुलसी हर घर हिंदू घर में पाई जाती है और हिंदुओं के साथ और वेदों के अनुसार तुलसी की पूजा की जाती है और दोस्तों इसे इसकी पूजा इतना यह पवित्र मानी जाती है कि इसे भगवान के लिए जब भी कथा पूजा पाठ घर में कोई कार्य होता है तो उसमें हरप्रसाद में तुलसी डाली जाती है किसी भी चीज को अपवित्र ना हो उसके लिए तुलसी को पवित्र मान के उस चीज में डाल दिया जाता है तो कहां जाता है वह चीज पवित्र हो गई है और भगवान विष्णु के परम प्रिय भगवान विष्णु को तुलसी का पत्ता बहुत प्रिय है और इसीलिए हिंदू धर्म में और हिंदू के घर घर में इसकी पूजा की जाती है और वैज्ञानिकों से लाभकारी इसलिए कि दोस्तों तुलसी की जो पौधा होता है उसमें ऑक्सीजन ज्यादा मात्रा में पाया जाता है और वह छोटा होने के कारण बहुत बड़ा पेड़ नहीं होता उसका छोटा होने के नाते आया आज बिजली आसानी से घर के अंदर लगाई जा सकती तो और उसमें ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और दोस्तों बहुत सारे रोग में इसका औषधीय गुण भी इसके अंदर बहुत सारे पे जाते हैं तो छोटे मोटे लोग से घर के अंदर जैसे अगर इसका काढ़ा बनाकर पीने से गले की खराश और इन्फेक्शन दूर हो जाता है चेहरे पर कुछ अगर किसी प्रकार का समस्या है तो उसे किया जाता है तो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी इसमें ऑक्सीजन मिलता है और जिसकी वजह से घर का वातावरण शुद्ध रहता है और घर के अंदर भी ऑक्सीजन की पूर्ति होती रहती है तो बिल्कुल दोस्ती यह दोनों तरफ से लाभकारी होता है मैं गाने को धार्मिक दृष्टि से धार्मिक दृष्टि से भगवान की परम प्रिय भगवान विष्णु की परम प्रिय चीजें और हर चीज में किसी भी चीज को पवित्र रखने के लिए उसका प्रयोग किया जाता है और की पूजा अर्चना की जाती है और वैज्ञानिक दृष्टि से इस में ऑक्सीजन प्रचुर मात्रा में पानी की वजह से घर के अंदर लगाया जाता है कि घर के अंदर भी वेंटीलेशन और जो खुदाया सीजन अच्छे से और घर की औरतों को मिलता रहेगा तो यही इसका दृष्टिकोण है दोनों और बहुत लाभकारी है और दोस्तों ऐसे ही खुश रहिए मस्त रहिए और
Namaskaar doston ek mitr ne kaha hai ki tulasee lagabhag har hindoo ke ghar mein paaya jaata hai evan tulasee kee pooja kee jaatee hai dhaarmik aur vaigyaanik disko donon se laabhakaaree hai jee bilkul dost mere ki tulasee har ghar hindoo ghar mein paee jaatee hai aur hinduon ke saath aur vedon ke anusaar tulasee kee pooja kee jaatee hai aur doston ise isakee pooja itana yah pavitr maanee jaatee hai ki ise bhagavaan ke lie jab bhee katha pooja paath ghar mein koee kaary hota hai to usamen haraprasaad mein tulasee daalee jaatee hai kisee bhee cheej ko apavitr na ho usake lie tulasee ko pavitr maan ke us cheej mein daal diya jaata hai to kahaan jaata hai vah cheej pavitr ho gaee hai aur bhagavaan vishnu ke param priy bhagavaan vishnu ko tulasee ka patta bahut priy hai aur iseelie hindoo dharm mein aur hindoo ke ghar ghar mein isakee pooja kee jaatee hai aur vaigyaanikon se laabhakaaree isalie ki doston tulasee kee jo paudha hota hai usamen okseejan jyaada maatra mein paaya jaata hai aur vah chhota hone ke kaaran bahut bada ped nahin hota usaka chhota hone ke naate aaya aaj bijalee aasaanee se ghar ke andar lagaee ja sakatee to aur usamen okseejan kee prachur maatra mein paaya jaata hai aur doston bahut saare rog mein isaka aushadheey gun bhee isake andar bahut saare pe jaate hain to chhote mote log se ghar ke andar jaise agar isaka kaadha banaakar peene se gale kee kharaash aur inphekshan door ho jaata hai chehare par kuchh agar kisee prakaar ka samasya hai to use kiya jaata hai to vaigyaanik drshtikon se bhee isamen okseejan milata hai aur jisakee vajah se ghar ka vaataavaran shuddh rahata hai aur ghar ke andar bhee okseejan kee poorti hotee rahatee hai to bilkul dostee yah donon taraph se laabhakaaree hota hai main gaane ko dhaarmik drshti se dhaarmik drshti se bhagavaan kee param priy bhagavaan vishnu kee param priy cheejen aur har cheej mein kisee bhee cheej ko pavitr rakhane ke lie usaka prayog kiya jaata hai aur kee pooja archana kee jaatee hai aur vaigyaanik drshti se is mein okseejan prachur maatra mein paanee kee vajah se ghar ke andar lagaaya jaata hai ki ghar ke andar bhee venteeleshan aur jo khudaaya seejan achchhe se aur ghar kee auraton ko milata rahega to yahee isaka drshtikon hai donon aur bahut laabhakaaree hai aur doston aise hee khush rahie mast rahie aur

Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:58
तुलसी जो है हिंदू के घर में पाया जाता है ऐसा वो है तुलसी विष्णुप्रिया भी कही जाती है क्योंकि विष्णु जालंधर पत्नी होने के कारण तेजी के साथ भगवान विष्णु ने खेल किया था खबर नहीं हुआ था इसलिए तुलसी भगवान की साली भी है और खुशी के साथ छल किया था तो उसी लिए बाबू इंसान है भगवान को श्राप दिया था कि काले हो जाओ तो ठाकुर बाबा भगवान का भागना पड़ गया तो तुलसा की बुराई मांगना पड़ता है क्योंकि मित्रता थी वह पति वेतन आई थी और जब तक पहुंचाकर पतिव्रत बहाना नहीं होता तो उसके पति का बाद भी नहीं हो सकता था तभी भगवान विष्णु को छल करना पड़ा तो अलग-अलग कथाएं तुलसा जी दिन और रात दोनों में आज की हिंदी तिथि रोगों में काम ही आती है तुलसी पत्ती जो है चाय के रूप में भी एमपी सकते हैं बुखार कोई कम करती है सर्दी जुकाम में भी कम आती है तुलसा में बहुत ही और भी गुण है इसलिए तो सहारा में पाई जाती है और ऑक्सीजन देने के कारण त्वचा के महत्व और बढ़ जाती है पैसे दो ही वृक्ष है सुनने में आए हैं कि तुलसा और पीपल है दिन-रात अखियन देती है और दोनों की अत्याधिक पूजा भी की जाती है और माना जाता है जिन्हें हम सब सो गए जूते हैं नहीं तो उसमें भी कई बीमारियां सही में आ जाती हैं जो तुलसा है वह चर्म रोग के लिए भी काम आती है शरीर में भी दाग हो जाते हैं तो उसका पानी लगाए थे तुलसा काले दाग भी खत्म हो जाते हैं तो शक्ल बहुत पवित्र माना गया है और विष्णु प्रिया जो है इसका बिना दोस्त आगे तो हम पूजा ही भी नहीं कर सकते हैं तो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से तू अवस्थी पौधा है तो कहीं भी लगाया जा सकता है कोई बड़ा नहीं है छोटा है और उसके बीच जो हैं वह भी बहुत कीमती होते हैं दिल भी निकाला जाता है तो विष्णु प्रिया तुलसा को हाय गाना लगाना चाहिए
Tulasee jo hai hindoo ke ghar mein paaya jaata hai aisa vo hai tulasee vishnupriya bhee kahee jaatee hai kyonki vishnu jaalandhar patnee hone ke kaaran tejee ke saath bhagavaan vishnu ne khel kiya tha khabar nahin hua tha isalie tulasee bhagavaan kee saalee bhee hai aur khushee ke saath chhal kiya tha to usee lie baaboo insaan hai bhagavaan ko shraap diya tha ki kaale ho jao to thaakur baaba bhagavaan ka bhaagana pad gaya to tulasa kee buraee maangana padata hai kyonki mitrata thee vah pati vetan aaee thee aur jab tak pahunchaakar pativrat bahaana nahin hota to usake pati ka baad bhee nahin ho sakata tha tabhee bhagavaan vishnu ko chhal karana pada to alag-alag kathaen tulasa jee din aur raat donon mein aaj kee hindee tithi rogon mein kaam hee aatee hai tulasee pattee jo hai chaay ke roop mein bhee emapee sakate hain bukhaar koee kam karatee hai sardee jukaam mein bhee kam aatee hai tulasa mein bahut hee aur bhee gun hai isalie to sahaara mein paee jaatee hai aur okseejan dene ke kaaran tvacha ke mahatv aur badh jaatee hai paise do hee vrksh hai sunane mein aae hain ki tulasa aur peepal hai din-raat akhiyan detee hai aur donon kee atyaadhik pooja bhee kee jaatee hai aur maana jaata hai jinhen ham sab so gae joote hain nahin to usamen bhee kaee beemaariyaan sahee mein aa jaatee hain jo tulasa hai vah charm rog ke lie bhee kaam aatee hai shareer mein bhee daag ho jaate hain to usaka paanee lagae the tulasa kaale daag bhee khatm ho jaate hain to shakl bahut pavitr maana gaya hai aur vishnu priya jo hai isaka bina dost aage to ham pooja hee bhee nahin kar sakate hain to vaigyaanik drshtikon se too avasthee paudha hai to kaheen bhee lagaaya ja sakata hai koee bada nahin hai chhota hai aur usake beech jo hain vah bhee bahut keematee hote hain dil bhee nikaala jaata hai to vishnu priya tulasa ko haay gaana lagaana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तुलसी पूजन कब है तुलसी पूजन
URL copied to clipboard