#undefined

bolkar speaker

क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?

Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
2:10

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:16

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
G Dewasi Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए G जी का जवाब
Unknown
1:38

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:42

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:21
जी हां भारत चीन को पीछे छोड़ देगा क्योंकि भारत में सुनामी सेना की तरफ से हथियार तो पर हैं जो कि हमारे देश की रक्षा कर रही हैं तथा साथ ही कई मिसाइलों का उपयोग भी कर सकते हैं मिसाइलें भी बहुत हैं जिससे आम देश की रक्षा भी कर सकते हैं और जिनको हम युद्ध से खराबी सकते हैं जिससे हमारा देश अब मजबूत बन गया है ओके अब भारतीय लोग इनको युद्ध के लिए भविष्य में ललकारेगा जिससे चीन के काफी लोग मारे जाएंगे और चीन हमसे क्षमा याचना भी करेगा यह मेरे मत के अनुसार एवं मन के अनुसार है
Jee haan bhaarat cheen ko peechhe chhod dega kyonki bhaarat mein sunaamee sena kee taraph se hathiyaar to par hain jo ki hamaare desh kee raksha kar rahee hain tatha saath hee kaee misailon ka upayog bhee kar sakate hain misailen bhee bahut hain jisase aam desh kee raksha bhee kar sakate hain aur jinako ham yuddh se kharaabee sakate hain jisase hamaara desh ab majaboot ban gaya hai oke ab bhaarateey log inako yuddh ke lie bhavishy mein lalakaarega jisase cheen ke kaaphee log maare jaenge aur cheen hamase kshama yaachana bhee karega yah mere mat ke anusaar evan man ke anusaar hai

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:30
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा जरूर देगा लेकिन लोकसंख्या के मामले में अभी भारत की 140 कोटी जनसंख्या है चाइना की 160 करोड 20 जनता जनसंख्या हरदीप जिस तरीके से हमारे हमारे देश के लोगों का इंटेंशन हम देखते हैं उसको देख कर कोई भी बता सकता है कि जनसंख्या के मामले में हम चाइना को पीठ पीछे हटा कर ही रहेंगे तब तक लोगों को इस देश के लोगों को नींद तक नहीं आएगा आती है कि कब वह जनसंख्या के मामले में चीन को पीछे हटा दें क्योंकि शादी जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण दिवस माना गए माना जाता है कई लोग शादी करने के लिए हर तरह के कष्ट करके पैसे जमा करते हैं और शादी होने हो जाने के बाद एक 2 महीने के अंदर ही पुलिस स्टेशन में कंप्लीट सैलून देने के लिए पाए जाते हैं मैंने देखा है मैं पत्रकारिता करता हूं तब मैं ऐसे उदाहरण बहुत सारे देखता हूं तो थोड़ी मजाक वाली बात है लेकिन जो इच्छा शक्ति चाइना के लोगों में है वह भारत में नहीं है जो किलर इंस्टिंक्ट चाइना में है वह भारत भारत भारत में टुकड़ों टुकड़ों में समाज बटा हुआ है और विचार भी बैठे हुए हैं और काम में बैठे हुए हैं यहां की समाज व्यवस्था और चाइना की समाज व्यवस्था बिल्कुल अलग है यहां का राष्ट्रवाद और चाइना का राष्ट्रवाद तो चाइना को पीछे छोड़ने का प्रयास कुछ लोग करते हैं वह बहुत अच्छी बात है कुछ लोगों के मन में मेरे भी मन में आता है कि चाइना के पीछे जनों को पीछे छोड़कर भारत में आगे बढ़ना चाहिए लेकिन जिस हालात से हम परिचित हो रहा है और चाइना जिस तरह से दुर्गति से फैल रहा है उसने गलती से हम पीछे फिर पिक्चर जा रहे हैं और कुछ साहस वाली निर्णय जैसे उनका अपना फेसबुक व्हाट्सएप अगर इस तरह का जो मेरे सोशल मीडिया और उनका अपना लहंगा अपनी ही लैंग्वेज में सब शिक्षा पद्धति से है वह चीज भारत में नहीं दिखाई देती है भारत का शासक वर्ग और चाइना का शासक वर्ग में अंतर है चाइना के जो अभी शी जिनपिंग जो है को एक महापुरुष माने जाते हैं चाइना में और भारत के प्रधानमंत्री के लिए लोग चौकीदार चोर है ऐसा भी कहते हैं कुछ प्रशंसक भी है लेकिन वह सारे विचारों का जरूर कर कर के हम देखते हैं तो वह उसकी गति बहुत ज्यादा है और हमारी गति कम है और उन्होंने उसने चेक भी किया है कि जब अमेरिका भारत और ऑस्ट्रेलिया जैसे राष्ट्र और जापान उसके खिलाफ में एकत्र आए थे तो उसने उसे भी नहीं उसके मन में पैदा हुआ सब के साथ लड़ने की तैयारी उसकी जो है उसका उसने प्रदर्शन किया तो इस तरह के बहुत सारे फर्क भारत और चाइना के लोगों में है इसके कारण मुझे तो नहीं लगता कि भारत चीन को पीछे छोड़ेगा धन्यवाद
Kya bhaarat cheen ko peechhe chhod dega jaroor dega lekin lokasankhya ke maamale mein abhee bhaarat kee 140 kotee janasankhya hai chaina kee 160 karod 20 janata janasankhya haradeep jis tareeke se hamaare hamaare desh ke logon ka intenshan ham dekhate hain usako dekh kar koee bhee bata sakata hai ki janasankhya ke maamale mein ham chaina ko peeth peechhe hata kar hee rahenge tab tak logon ko is desh ke logon ko neend tak nahin aaega aatee hai ki kab vah janasankhya ke maamale mein cheen ko peechhe hata den kyonki shaadee jindagee ka sabase mahatvapoorn divas maana gae maana jaata hai kaee log shaadee karane ke lie har tarah ke kasht karake paise jama karate hain aur shaadee hone ho jaane ke baad ek 2 maheene ke andar hee pulis steshan mein kampleet sailoon dene ke lie pae jaate hain mainne dekha hai main patrakaarita karata hoon tab main aise udaaharan bahut saare dekhata hoon to thodee majaak vaalee baat hai lekin jo ichchha shakti chaina ke logon mein hai vah bhaarat mein nahin hai jo kilar instinkt chaina mein hai vah bhaarat bhaarat bhaarat mein tukadon tukadon mein samaaj bata hua hai aur vichaar bhee baithe hue hain aur kaam mein baithe hue hain yahaan kee samaaj vyavastha aur chaina kee samaaj vyavastha bilkul alag hai yahaan ka raashtravaad aur chaina ka raashtravaad to chaina ko peechhe chhodane ka prayaas kuchh log karate hain vah bahut achchhee baat hai kuchh logon ke man mein mere bhee man mein aata hai ki chaina ke peechhe janon ko peechhe chhodakar bhaarat mein aage badhana chaahie lekin jis haalaat se ham parichit ho raha hai aur chaina jis tarah se durgati se phail raha hai usane galatee se ham peechhe phir pikchar ja rahe hain aur kuchh saahas vaalee nirnay jaise unaka apana phesabuk vhaatsep agar is tarah ka jo mere soshal meediya aur unaka apana lahanga apanee hee laingvej mein sab shiksha paddhati se hai vah cheej bhaarat mein nahin dikhaee detee hai bhaarat ka shaasak varg aur chaina ka shaasak varg mein antar hai chaina ke jo abhee shee jinaping jo hai ko ek mahaapurush maane jaate hain chaina mein aur bhaarat ke pradhaanamantree ke lie log chaukeedaar chor hai aisa bhee kahate hain kuchh prashansak bhee hai lekin vah saare vichaaron ka jaroor kar kar ke ham dekhate hain to vah usakee gati bahut jyaada hai aur hamaaree gati kam hai aur unhonne usane chek bhee kiya hai ki jab amerika bhaarat aur ostreliya jaise raashtr aur jaapaan usake khilaaph mein ekatr aae the to usane use bhee nahin usake man mein paida hua sab ke saath ladane kee taiyaaree usakee jo hai usaka usane pradarshan kiya to is tarah ke bahut saare phark bhaarat aur chaina ke logon mein hai isake kaaran mujhe to nahin lagata ki bhaarat cheen ko peechhe chhodega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:57
देखो अगर वर्तमान परिपेक्ष देखते हैं तो वह चीन को पीछे छोड़ना बहुत मुश्किल है क्योंकि चीन जाओ लेडी भारत से 10 से 15 साल आगे सोचा कि जब हम 10 पंधरा साल बाद जहां पर होंगे तो चीन जो है कहां पर हो सकता है और दूसरा मैं यही कहूंगा कि चीन को पीछे छोड़ने के लिए बहुत हाई लेवल की टेक्नोलॉजी हाई लेवल की है मैंने सीसीएमसी स्किल्ड एजुकेशन रिसर्च इनोवेशन और इंटेलेक्चुअल पावर जो है उसको चाहिए और अगर यह चीजें हम मेंटेन करने में सबसे फ्रैंकलीन को बड़ी आसानी से पीछा छोड़ा जा सकता है क्योंकि भारत की जो जनसंख्या है वह मैच और जनसंख्या है 2050 तक भारत के लिए एक बड़ी जनसंख्या रहेगी और 2050 तक हमारे पास काफी संभावनाएं हैं बहुत ज्यादा संभावना है तो अगर इन 30 साल में भारत कुछ कर सकता है तो चीन को पीछे छोड़ने में कामयाब हो सकता है
Dekho agar vartamaan paripeksh dekhate hain to vah cheen ko peechhe chhodana bahut mushkil hai kyonki cheen jao ledee bhaarat se 10 se 15 saal aage socha ki jab ham 10 pandhara saal baad jahaan par honge to cheen jo hai kahaan par ho sakata hai aur doosara main yahee kahoonga ki cheen ko peechhe chhodane ke lie bahut haee leval kee teknolojee haee leval kee hai mainne seeseeemasee skild ejukeshan risarch inoveshan aur intelekchual paavar jo hai usako chaahie aur agar yah cheejen ham menten karane mein sabase phrainkaleen ko badee aasaanee se peechha chhoda ja sakata hai kyonki bhaarat kee jo janasankhya hai vah maich aur janasankhya hai 2050 tak bhaarat ke lie ek badee janasankhya rahegee aur 2050 tak hamaare paas kaaphee sambhaavanaen hain bahut jyaada sambhaavana hai to agar in 30 saal mein bhaarat kuchh kar sakata hai to cheen ko peechhe chhodane mein kaamayaab ho sakata hai

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
StayInspire.Com Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए StayInspire.Com जी का जवाब
स्वनिर्माण
2:40
सवाल है कि क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा तो देखिए यह तरस मैं कहूं तो नामुमकिन जैसा है चीन का रवैया है या उसकी नीति है वह भारत से कहीं भी मैच नहीं काटी आना भारत उससे कहीं भी मेल खाता है उसकी एग्रेसिव नीति और कठोर ना जी की तरह जिस प्रकार से उनकी नीतियां होती है उनकी नियम होते हैं और वह कहां जाए तो एक धर्म के दृष्टिकोण से चलते अपना एक प्रोपेगेंडा उनका है वहां भी विजेता नहीं है वहां एक नियम है एक देश है एक धर्म को वहां अहमियत दी जाती है और वहां सिर्फ चाइना फर्स्ट ही रहता है और वही भारत में बात करें तो यहां कोई भी आकर कुछ भी कर सकता है यहां विविध तरह के लोग हैं भाषा के है धर्म के लोग हैं सब के अलग-अलग सोच है यहां अनेकों पार्टियां है उनकी अलग-अलग विचार धाराएं हैं और यहां के लोग भी चाइना के मुकाबले बहुत ज्यादा आलसी होते हैं तो बहुत ऐसी फैक्टर्स है जिनके मुकाबले में जाने से बहुत पीछे हैं और उसे रिकवर करना एकदम से नामुमकिन सा है तो हम यह नहीं कहते कि उसे पीछा नहीं छोड़ सकते लेकिन जो हमारे मनोज दृष्टि है जो हमारे मानसिक जो एक बन चुका है समझना वह कहीं ना कहीं चाइना से बहुत पीछे है तो सबसे पहले तो हमारे जो मानसिक संतुलन है जो हमारी मानसिकता है उसमें बदलाव और बड़े पैमाने पर बदलाव बहुत जरूरी है अपने कि हम इटली क्या बोलते हैं उसको सऊदी जैसा एक और मतलब वहां जैसे सुरक्षा यहां पर चाहते हैं अगर वहां जैसा अगर थोड़ा भी अगर यहां कानून को इंप्लीमेंट किया जाता है हार्ड कर लिया जाता तो क्या होता है लोगों को तराश होने लगता है जैसे की गाड़ी के चालान के समय में देखा गया जब गाड़ी जो परिवहन पर जब इतने ठीक तरीके से रूस लाए गए तो लोगों को बहुत ज्यादा दिक्कत होने लगी और यही लोग जो कहते थे कि सऊदी अरेबिया से में कुछ सीखना चाहिए वही लोग चिल्लाने लगे कि यह सही नहीं है यह लोगों को परेशान करने का एक तरीका सरकार द्वारा तो कहीं ना कहीं हमारी जो मनु दृष्टि है ना बहुत ही कमजोर है और हम पहले की अपेक्षा बहुत ज्यादा ऑल से भी हैं तो सबसे पहले तो हमको खुद को बदलना होगा फिर यह सवाल आएगा कि क्या भारत हैं चीन को पीछे छोड़ पाएगा
Savaal hai ki kya bhaarat cheen ko peechhe chhod dega to dekhie yah taras main kahoon to naamumakin jaisa hai cheen ka ravaiya hai ya usakee neeti hai vah bhaarat se kaheen bhee maich nahin kaatee aana bhaarat usase kaheen bhee mel khaata hai usakee egresiv neeti aur kathor na jee kee tarah jis prakaar se unakee neetiyaan hotee hai unakee niyam hote hain aur vah kahaan jae to ek dharm ke drshtikon se chalate apana ek propegenda unaka hai vahaan bhee vijeta nahin hai vahaan ek niyam hai ek desh hai ek dharm ko vahaan ahamiyat dee jaatee hai aur vahaan sirph chaina pharst hee rahata hai aur vahee bhaarat mein baat karen to yahaan koee bhee aakar kuchh bhee kar sakata hai yahaan vividh tarah ke log hain bhaasha ke hai dharm ke log hain sab ke alag-alag soch hai yahaan anekon paartiyaan hai unakee alag-alag vichaar dhaaraen hain aur yahaan ke log bhee chaina ke mukaabale bahut jyaada aalasee hote hain to bahut aisee phaiktars hai jinake mukaabale mein jaane se bahut peechhe hain aur use rikavar karana ekadam se naamumakin sa hai to ham yah nahin kahate ki use peechha nahin chhod sakate lekin jo hamaare manoj drshti hai jo hamaare maanasik jo ek ban chuka hai samajhana vah kaheen na kaheen chaina se bahut peechhe hai to sabase pahale to hamaare jo maanasik santulan hai jo hamaaree maanasikata hai usamen badalaav aur bade paimaane par badalaav bahut jarooree hai apane ki ham italee kya bolate hain usako saoodee jaisa ek aur matalab vahaan jaise suraksha yahaan par chaahate hain agar vahaan jaisa agar thoda bhee agar yahaan kaanoon ko impleement kiya jaata hai haard kar liya jaata to kya hota hai logon ko taraash hone lagata hai jaise kee gaadee ke chaalaan ke samay mein dekha gaya jab gaadee jo parivahan par jab itane theek tareeke se roos lae gae to logon ko bahut jyaada dikkat hone lagee aur yahee log jo kahate the ki saoodee arebiya se mein kuchh seekhana chaahie vahee log chillaane lage ki yah sahee nahin hai yah logon ko pareshaan karane ka ek tareeka sarakaar dvaara to kaheen na kaheen hamaaree jo manu drshti hai na bahut hee kamajor hai aur ham pahale kee apeksha bahut jyaada ol se bhee hain to sabase pahale to hamako khud ko badalana hoga phir yah savaal aaega ki kya bhaarat hain cheen ko peechhe chhod paega

bolkar speaker
क्या भारत चीन को पीछे छोड़ देगा?Kya Bharat China Ko Peche Chod Dega
Saloni vishwkarma   Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Saloni जी का जवाब
Unknown
0:17

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत चीन युद्ध, भारत चीन मे कौन शक्तिशाली है
URL copied to clipboard